जेड प्लस सिक्योरिटी क्या होती है ? Z Plus Security किसे दी जाती है ? Z Plus Security In Hindi

Z Plus Security In Hindi  – अव्वल नंबर का दर्जा रखने वाली Z प्लस सिक्योरिटी जो हर समय देश में एक चर्चा का विषय बनी रहती है | सुरक्षा के नजरिये से दी जाने वाली इस सेवा से संबंधित लोगों में अधिकतर सवाल रहते हैं | जैसे यह सिक्योरिटी होती क्या है | इसकी क्या कीमत है | सिक्योरिटी किस कारणों से प्रदान की जाती है | यह कितनी श्रेणियों में विभाजित है | अगर यह महत्वपूर्ण जानकारी से आप रु-ब-रु हैं ,आप इसके बारे में जानकारी रखते हैं ? तो अच्छा है ,परन्तु नहीं भी जानते तो हम आपको महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली सिक्योरिटी Z Plus Security के बारे में बताएंगे | जिसे हम जेड प्लस सिक्योरिटी से पुकारते हैं |

जेड प्लस सिक्योरिटी क्या होती है ? Z Plus Security किसे दी जाती है ? Z Plus Security In Hindi

Z Plus Security क्या है –

जब भी किसी भी तरह की सुरक्षा की बात आती है ,तो हमें विभिन्न तरह की सुरक्षा कंपनी का नाम सुनने में आता है | अगर देश की सुरक्षा की बात है | तो हमारे देश में BSF,CRPF, एयर फोर्स इस तरह के नाम सुनने को मिलते हैं | और इसी तरह से अगर किसी सामान्य व्यक्ति की सुरक्षा की बात आती है | तो उसके लिए पुलिस होती है | व इसी तरह से अगर किसी नेता या अभिनेता हो उसकी सुरक्षा की बात आती है | तो उसके लिए आपने बहुत सी कैटेगरी का नाम सुना होगा जैसे Z सिक्योरिटी, Z+ सिक्योरिटी, Y सिक्योरिटी, x सिक्योरिटी आदि होती है |

Z Plus Security भारत की सबसे बड़ी वी-वी-आई-पी सुरक्षा सेवा है | इस सुरक्षा के तहत व्यक्ति के साथ कुल 36 लोगों का एक बल होता है | जिसमे से एनएसजी और एसपीजी के 10 कमांडों होते हैं | व साथ ही 10 लोग पुलिस बल से भी लिए जाते हैं |

यह सुरक्षा सबसे सख्त व कड़ी सुरक्षा की श्रेणी में आती है | इस सिक्योरिटी के अंतर्गत आने वाले जवान किसी भी गंभीर परिस्थिति में अपने आप को ढाल कर अपने कार्यों को अंजाम देते हैं | व जिसकी रक्षा के लिए यह तैनात किये जाते हैं | उसको हर समस्या से निकाल कर, अपनी जान जोखिम में डाल कर व्यक्ति की जान बचाने के लिए हर दम तैयार रहते हैं |

Z Plus Security इन श्रेणियों में होते हैं जवान तैनात –

Z प्लस सिक्योरिटी से उपयुक्त व्यक्ति के साथ चलते वक्त पहले घेरे में एनएसजी के अधिकारी होते हैं | जो चारों दिशाओं की गतिविधियों को बारीकी से देखते हैं | और किसी अन्य व्यक्ति को घेरे में घुसने नहीं देते हैं | वही दूसरे घेरे के अंतर्गत एसपीजी और आईटीबीपी, सीआरपीएफ के जवान होते हैं | जो किसी भी प्रकार की अंदरूनी कार्यवाही की देख रेख करते हैं |

महत्वपूर्ण बात यह है कि जेड प्लस सिक्योरिटी कैसे मिलती है ? यानि किस नागरिक को यह महत्वपूर्ण अधिकार प्राप्त है –

भारत में Z प्लस सिक्योरिटी की मांग को लेकर कई मशहूर लोग देखे जाते हैं | लेकिन बता दें यह सुरक्षा राजनितिक लोग जिनको अपने ऊपर किसी भी प्रकार के हमले की आशंका होती हैं | उन्हें दी जाती है | इसके बाद देश में रह रहे अन्य वीआईपी या वीवीआईपी लोगों को भी यह सुरक्षा प्रदान की जाती है | जो इसके लिए सरकार से आवेदन करते हैं | इस के उपरांत जब सरकारी ख़ुफ़िया एजेंसियां यह परख लेती हैं | की इस व्यक्ति को Z प्लस सुरक्षा दी जानी चाहिए या नहीं | इसके बाद ही यह सुनिश्चित किया जाता है | की व्यक्ति किस श्रेणी की सुरक्षा के लिए उपयुक्त है |

साथ ही भारत में मुख्य सचिव और गृह सचिव का समुदाय यह निर्णय लेता है | कि दावा करने वाले व्यक्ति को किस प्रकार की सुरक्षा की आवश्यकता है | व किस प्रकार की सिक्योरिटी प्रदान करनी चाहिए |

Z Plus Security किसे दी जाती है –

जेड प्लस सिक्योरिटी राष्ट्रपति, प्रधान मंत्री, सर्वोच्च और उच्च न्यायालय के न्यायाधीश, राज्यपाल, मुख्यमंत्री और कैबिनेट मंत्री डिफ़ॉल्ट रूप से इस प्रकार की सुरक्षा सेवा दे सकते हैं | और वे स्वयं भी इस सेवा के पात्र हो जाते हैं | यह सेवा (सुरक्षा) उनके लिए मान्य है | व पूर्व प्रधानमंत्री को भी सुरक्षा प्रदान की जाती है | जेड प्लस सिक्योरिटी निम्न व्यक्तियों को दी जा सकती है –

  • राष्ट्रपति
  • उपराष्ट्रपति
  • प्रधानमंत्री
  • सुप्रीम कोर्ट या हाई कोर्ट जज
  • राज्यपाल
  • मुख्यमंत्री
  • प्रमुख नेता
  • प्रसिद्ध कलाकार
  • कोई खिलाड़ी
  • देश का कोई प्रसिद्ध तथा महत्वपूर्ण नागरिक

Z Plus Security का गठन –

आज़ादी के बाद अनेक फोर्स भारत में आई पर जब लोगों को अपनी जान का खतरा सताने लगा तो अनेक अन्य बलों को गठन किया गया था | इसी कड़ी में Z Plus Security भी सामने आई जिस का गठन 8 अप्रैल 1985 में किया गया था | इसमें शामिल किये जाने वाले जवानों को एक विशेष रूप की ट्रेनिंग दी जाती है | जिसके बाद ही भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री और पूर्व प्रधानमंत्री उस जवान को SPG कमांडों का सुरक्षा कवच देते हैं | एक अन्य बात यह भी जाननी जरूरी है | की केवल 15 लोगों को ही यह सुरक्षा दी गयी है |

Z Plus Security के मुख्य हथियार –

मौके वारदात को अंजाम देने के लिए इनके पास German Heckler & Koch MP5 submachine guns, Koch PSG1 sniper rifles, Austrian Glock-17 pistols और Swiss SIG SG 551 assault rifles होते हैं | साथ ही यह अपनी ड्यूटी के दौरान हाई ग्रेड बुलेट प्रूफ वेस्ट पहनते हैं | जिसका वजन 2. 2 किलोग्राम का होता है | इन खतरनाक हत्यारों को इस्तेमाल में लाने के लिए इन जवानों को कई नियम कायदों का पालन करना पड़ता है | परिस्थिति की गंभीरता को ध्यान में रख कर ही यह जवान इन असलों का प्रयोग कर पाने में सक्षम हो पाते हैं |

भारत में जेड प्लस सिक्योरिटी की कीमत क्या है –

सुरक्षा कीमत एन-एस-जी कमांडो की संख्या पर निर्भर करती है , लेकिन मुख्य रूप से Z Plus Security 7 लाख से 25 लाख तक है ,लेकिन स्तिथि के अनुसार कीमत में विवधता हो सकती है | केवल अगर इस सिक्योरिटी के बजट की बात की जाये तो बता दें इसका साल भर का बजट तकरीबन 300 करोड़ के आस पास पहुंचता है | इस सुरक्षा को देश की सबसे महंगी सुरक्षा में दर्जा प्राप्त है |

जेड प्लस सिक्योरिटी के लाभ –

जेड प्लस सिक्योरिटी एक ऐसे सुरक्षा प्रदान करती है | जिस से उनके दायरे में कोई पंछी भी पर नहीं मार पाता है | व्यक्ति जिसने भी इस सेवा का लाभ लिया वह समाज में जिस भी सफल कार्य को करने में लगा है | वह बिना किसी भय के अपने काम को कर सकता है | जिस से समाज के विकास में आने वाली किसी भी रुकावट को मौके पर ही रोक दिया जाता है |
छवि निर्माण:- जेड प्लस सिक्योरिटी का एक लाभ यह भी है | की यह विशेष व्यक्ति की समाज में एक अलग ही छवि का निर्माण करती है | क्योंकि यह सुरक्षा केवल चुनिंदा लोगों को ही मिलती है |

Z Plus Security और अन्य सिक्योरिटीज से भिन्न कैसे है –

खतरे के स्तर के आधार पर सिक्योरिटी को 4 मुख्य भागों में बांटा है –  X,Y,Z,Z+

जेड प्लस को सबसे उच्चतम स्तर प्राप्त है | क्योंकि इसमें केवल वे ही जवान शामिल हो पाते हैं | जो मानसिक और शारारिक रूप से अन्य जवानों से मजबूत होते हैं | अपनी सख्त ट्रेनिंग में सभी चरणों में पास होकर ही इन्हे इस सिक्योरिटी में शामिल किया जाता है | यह अन्य सिक्योरिटी से भिन्न इस लिए भी है | क्योंकि देश में लगभग 450 लोगों को सुरक्षा दी जा रही है | परन्तु Z प्लस मात्र 15 लोगों को दी जा रही है | इसमें जो जवान शामिल होते है | उनके पास अन्य सिक्योरिटी से ज्यादा अधिकार प्राप्त हैं | जिनका वह लोग कभी भी इस्तेमाल कर सकते हैं |

दोस्तों, इस लेख में आपको देश की सर्वश्रेष्ट सुरक्षा Z Plus Security से जुडी सभी बातों की जानकारी दी गयी है | यह देश की सुरक्षा बल का प्रतिनिधित्व तो करती ही है | साथ ही दुश्मन के नियहते कारनामों को विफल भी करती है | अगर आप Z प्लस सिक्योरिटी से जुड़े अन्य सवालों की जानकारी चाहते हैं | तो आप हमे नीचे कमेंट कर सकते हैं | साथ ही अगर यह जानकारी आप को पसंद आती है | तो आप इसे आसानी से शेयर भी कर सकते हैं ||धन्यवाद ||

Rate this post
Spread the love

Leave a Comment