योगी आदित्यनाथ से कैसे संपर्क करें ? Yogi Adityanath Mobile Number Whats App Number In Hindi | योगी आदित्यनाथ जी का जीवन परिचय

Yogi Adityanath Se Contact Kaise Kare – उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, गोरखपुर से पूर्व सांसद और हिन्दू युवा वाहिनी के संस्थापक योगी आदित्यनाथ के जीवन का वर्णन करना कोई आसान काम नहीं है | इसमें कई पहलू हैं, पक्ष हैं, आरोप हैं, श्रेय हैं, व उपलब्धियां हैं |

योगी आदित्यनाथ से कैसे संपर्क करें ? Yogi Adityanath Mobile Number Whats App Number In Hindi | योगी आदित्यनाथ जी का जीवन परिचय

योगी आदित्यनाथ जी का व्यक्तिगत जीवन –

योगी आदित्यनाथ का जन्म 5 जून 1972 को उत्तराखंड में हुआ था | परिवार ने इनका नाम अजय सिंह बिष्ट रखा था | कॉलेज की शिक्षा पूरी इनकी एच. एन. बी गढ़वाल विश्वविद्यालय से हुई | वहां से इन्होंने विज्ञान में स्नातक की शिक्षा प्राप्त की | योगी के पिता आनंद सिंह बिष्ट फारेस्ट रेंजर थे | योगी कुल मिलाकर 7 भाई-बहन है | जिस में से योगी जी अपने परिवार के सभी बच्चों में से सातवें स्थान पर आते हैं |

1990 में आदित्यनाथ अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े थे | 1992 में बी.एस. सी की परीक्षा पास करने के बाद योगी 1993 में गणित में एम. एस. सी की पढ़ाई करने के दौरान गोरखपुर भ्रमण पर गए थे | यहां यह महंत अवैद्यनाथ के सम्पर्क में आये | महंत जी का उनके जीवन पर ऐसा प्रभाव पड़ा की उन्होंने ने सन्यासी जीवन व्यतीत करने का निर्णय ले लिया और महंत जी की शरण में चले गए | इसी के चलते 1994 में यह पूर्ण रूप से सन्यासी बन गए और तब इनका नाम योगी आदित्यनाथ हो गया था व बाद में यह इसी नाम से प्रसिद्ध भी हुए |

योगी आदित्यनाथ जी का राजनैतिक जीवन –

गोरखपुर लोकसभा सीट व उस क्षेत्र पर लम्बे समय से गोरखनाथ मठ का बड़ा प्रभाव रहा है | यहां की लोकसभा सीट ने इस मठ के कई महंतों को संसद भेजा है | इसी मठ के महंत दिग्विजय नाथ स्वतंत्रता संग्राम के प्रसिद्ध चौरी-चौरा कांड में गिरफ्तार हुए थे | जिसके बाद वह कांग्रेस छोड़ कर हिन्दू महासभा में चले गए थे | फिर आजादी के बाद 1967 में वह पहली बार गोरखपुर से ही सांसद चुने गये | उनके बाद महंत अवैद्यनाथ 1970 और 1989 में सांसद बने और मणिराम से पांच बार विधायक भी रहे |

फिर 1991 व 1996 में भाजपा के टिकट पर एक बार फिर सांसद चुने गए | 1998 के चुनावों से योगी आदित्यनाथ का राजनीति में पदार्पण हुआ | योगी जी ने गोरखपुर क्षेत्र में हिन्दू वोटों को जातिगत मतभेद से ऊपर उठ कर एक किया | यहां उन्होंने हिन्दू युवा वाहिनी की भी स्थापना की |

यह समूह शूरु से ही काफी बदनाम रहा है | अक्टूबर 2005 के मऊ दंगों में इस संगठन पर आरोप लगे | तब भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या के आरोपी मुख्तार अंसारी के खिलाफ दंगे भड़के थे | इसके बाद जनवरी 2007 में हुए गोरखपुर दंगों में भी संलिप्त होने के आरोपों में हिन्दू युवा वाहिनी घिरी रही |

योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में यह संगठन इतना मजबूत हो गया कि यह हिन्दू महासभा के बैनर तले स्वतन्त्र चुनाव लड़ने का विचार कर रहा था | हालांकि बाद में भाजपा के साथ इनका समझौता हो गया |

योगी जब 1998 में चुनाव जीते थे तब वो बारहवीं लोकसभा के सबसे युवा सांसद थे | तब उनकी उम्र महज 26 वर्ष थी | सन 1999 में दुबारा गोरखपुर से योगी आदित्यनाथ चुन कर लोकसभा भेजे गए | फिर 2004 और 2009 में देश भर में भाजपा की हार के बावजूद योगी आदित्यनाथ विजयी हुए |

2007 दंगों के बाद तत्कालीन सरकार ने योगी आदित्यनाथ के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा एक्ट के तहत केस दर्ज करवाया था |

उनपर भड़काऊ भाषण देकर भीड़ को उकसाने का आरोप लगा था | इसे लेकर लम्बा विवाद छिड़ा था | योगी आदित्यनाथ ने इस मुद्दे पर लोकसभा में देश के सामने अपनी बात रखी थी | कि कैसे उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है | लोकसभा में उस संबोधन के दौरान योगी आदित्यनाथ भावुक हो गए थे | और फूट-फूट कर रोने लगे थे | हालांकि इसके बाद भी उनके केस पर कोई असर नहीं हुआ था |

योगी आदित्यनाथ जी की कट्टर छवि –

योगी आदित्यनाथ की छवि कट्टर हिन्दू नेता की है | भाषण में भी वह कड़े शब्दों का प्रयोग करते हैं व हिन्दू युवा वाहिनी के कारनामे उनकी इस छवि का और अधिक समर्थन करते हैं | उनपर कई बार भड़काऊ भाषण देने के आरोप लगे हैं | भाजपा भी पूरी तरह उनकी छवि का इस्तेमाल करती है | 2017 चुनाव में भाजपा नेतृत्व ने उनसे पूरे उत्तर प्रदेश में प्रचार करवाये | उन्हें अपना एक हेलीकॉप्टर दे दिया गया था | उत्तरप्रदेश में इतना बड़ा बहुमत आने के पीछे जमीन पर उनके कार्य को भी श्रेय दिया जाता है |इसीलिए चुनाव के बाद विधायक दल का नेता चुनकर उन्हें मुख्यमंत्री बनाया गया |

मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ जी –

मुख्यमंत्री बनने के बाद भी योगी की वह कट्टर छवि कमोबेश बरकरार रही है | अपराधियों के खिलाफ उन्होंने कड़ी कार्रवाई का आदेश देकर कम समय मे ही राज्य को करीब करीब अपराधी-मुक्त कर दिया है | पर योगी आदित्यनाथ का कोई कार्य बिना सवालों में घिरे पूरा नहीं होता है | यहां भी उनपर अनावश्यक व नकली मुठभेड़ में अपराधियों को मरवाने के आरोप लगे |

कुछ लोगों ने उनपर एक खास समुदाय विशेष के अपराधियों को मरवाने के आरोप लगाए | उनपर यह आरोप भी लगे कि 2007 में उनपर दर्ज केसों को उन्होंने मुख्यमंत्री बनने के बाद हटवाने की कोशिश की है | सुप्रीम कोर्ट ने इस कदम के संदर्भ में आई याचिकाओं की सुनवाई में यूपी पुलिस से इसपर जवाब भी मांगा था | हालांकि योगी आदित्यनाथ इन आरोपों से परे लखनऊ में बेफिक्र राज्य  की सत्ता सम्भाल रहे हैं |

योगी आदित्यनाथ जी की 2019 की तैयारी –

योगी आदित्यनाथ राजनीति के लंबे खिलाड़ी हैं | अभी उनके राजनैतिक जीवन का बड़ा हिस्सा बाकी है | ऐसे में 2019 में उत्तर प्रदेश के लोकसभा परिणाम उनकी क्षमताओं को सिद्ध करने का काम करेंगे | हालांकि झटका तब लगा जब गोरखपुर की सुरक्षित सीट भाजपा योगी आदित्यनाथ के खाली करने के बाद हुए उपचुनावों में हार गई थी |

ऐसी अटकलें लगने लगी थी कि योगी का प्रभाव गोरखपुर से खत्म हो गया है | योगी आदित्यनाथ कम उम्र के मुख्यमंत्रियों में से एक हैं | विवादों में घिरे रहने के बावजूद उन्हें एक अच्छा नेता माना जाता है | आगे योगी उत्तर प्रदेश को और  भाजपा को कितना आगे लेकर जाते हैं उससे तय होगा कि योगी अपने राजनैतिक जीवन में कितना आगे जाएंगे |

योगी आदित्यनाथ जी की निजी रूचि –

सन्यासी होने के कारण योगी आदित्यनाथ का कोई व्यक्तिगत जीवन नहीं है | 2017 से पहले तक वह मठ में ही रहते थे | उन्हें जानवरों से बहुत प्यार है | इसीलिए उन्होंने मुख्यमंत्री बनते ही सभी यूपी में चल रहे सभी अवैद्य बूचड़खाने बन्द करवा दिये थे | इंटरनेट पर बंदरों, मोरों, गायों आदि को प्यार करते या उन्हें खाना खिलाते हुए योगी जी की कई तस्वीरें मौजूद हैं |

उनके व्यक्तिगत जीवन की एक मजेदार घटना यह है कि एक महिला ने दावा किया था कि योगी आदित्यनाथ उनके पति हैं क्योंकि उस महिला ने योगी जी की फ़ोटो के साथ विधि-पूर्वक शादी की थी |

Yogi Se Sampark Kaise Kare –

गोरखपुर
पता – श्री गोरखनाथ मन्दिर, गोरखपुर (उत्तर प्रदेश) 273015
फोन – (0551) 2255453, 2255454
फैक्स – (0551) 2255455

दिल्ली
19 गुरुद्वारा रकाबगंज रोड नई दिल्ली 110011
फोन – (011) 23092633
E-mail – yogiadityanath72@gmail.com

संपर्क के अन्य नंबर

मुख्यमंत्री आवास : 0522 – 2236838, 2235599, 2236985
फैक्स : 2239573
शास्त्री भवन: 2236167, 2236119, 2239296
फैक्स : 2239934
विधान भवन : 2628759, 2616800, 221307
लोक भवन : 2236181, 2236841, 2236842, 2236843
फैक्स : 2236846

Yogi Adityanath Se Online Samprk kaise kare-

आप नीचे दी गई डिटेल्स से योगी आदित्यनाथ जी से ऑनलाइन सम्पर्क भी कर सकतें हैं –

Yogi Adityanath Official Website : www.yogiadityanath.in

email address : yogiadityanath72@gmail.com / contact@yogiadityanath.in

office email address : upinformation@nic.in

UP CM Yogi Adityanath Social And Media Account –

Yogi adityanath Facebook Id : https://www.facebook.com/YogiAdityanath

Yogi adityanath Twitter Id : twitter.com/yogi_adityanath

Yogi adityanath Linkedin Id : https://in.linkedin.com/in/yogi-adityanath-40a28a25

Yogi adityanath Instagram Id : www.instagram.com/yogiadityanath

दोस्तों, इस लेख के जरिये आप को उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का जीवन परिचय करवाया गया है | किस तरह एक आम परिवार में जन्मा बालक राजनितिक में आकर अपना जलवा बिखेरने में कामयाब हुआ | अगर आप को योगी जी के जीवन से जुडी अन्य कोई जानकारी है तो आप हमे नीचे कमेंट लिख के बता सकते हैं व इसके साथ ही अगर आप को यह जानकारी पसंद आती है तो आप इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ शेयर भी कर सकते हैं || धन्यवाद ||

Spread the love

10 thoughts on “योगी आदित्यनाथ से कैसे संपर्क करें ? Yogi Adityanath Mobile Number Whats App Number In Hindi | योगी आदित्यनाथ जी का जीवन परिचय”

    • गिरीश कुमार
      सर मैं ग्राम मोलनापुर गोरारी पोस्ट सगड़ी तहसील सगड़ी जिला आजमगढ़ का मूल निवासी हूं अनुसूचित जाति से हूं
      मैं बहुत गरीब परिवार से हूं गरीबी बता कर प्रधानमंत्री जी से मदद मांगी थी किंतु आपके अधिकारी ने दलित जानकर मेरा केस ही बंद कर दिया जिसका संदर्भ संख्या60000190008727 मो0 नं0 7355719882 सब दलित विरोधी थे

  1. Jai guru maharaj ki jay. Mananiya CM mahoday pranam . mai ek social worker hone ke sath sadhu sevak hu jaha bhi bridha sadhu mahatma ko koe bhi kast ho mai aashanvit rup se gurujano ke pas pahuchne ka kosis karta hu.mahoday mai aap se prarthna karta hu ki aap mujhe apna aasirbad pradan kare a vam mujhe kuch aesi jimedari de ki mai aap ke saran me rah ker gurujano/ vridho/ jo bimar ho jinko koe dekhnewala na ho / garib jarurat mand log jo ki bhayanak thand me jare se ya bhayanak garmi me garmi ya bhuk se paresan ho aese manusyo ki sewa ker ke apna jiwan ko dhanya bana saku / aapke saran me rah ker es sewa ker shaku .Aap muje ye aasirbad de ki iswar muje manobal avam safalta de. Sri guru saranam mam.

  2. Jai Hind CM yogi Sir mai ek Fauji Hu Ravi Singh Kharagpur Azamgarh ka rahne vala hu mere Ghar per mere Padosi aur Gav ka Pradhan jabadasti mere Ghar ke pichhe meri jameen me Naliku Aur Bathroom banana chahte hai mai is samay Bangalore me Posted hu aur aapse nivedan hai ki uchit karvai karne ka aadesh dijiye mai kisi dusre ka nahi lena chahta aur nahi apna kisi ko dena chahta hu agar ye log nahi mane to Sir mai Chhutti lekar jaunga aur sahi bata raha hu jitne milenge sab ko mar dalunga bahut pareshan kar rakha hai hamare gavaahi ke pradhna aur padosi ne sabhi Yadav hi hai isiliye aapse mai prathna karta hu sir aap uchit karvayi aur sahi se jameen paimaish ka aap aadesh dijiye aur jo bhi kharch aayega mai vahan karne ko tyar hu mer a Mehnagar Thana aur Gav Kharagpur Azamgarh hai mera Mob No hai 8948681130

Leave a Comment