दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेना किस देश की है? सबसे ताकतवर सेना वाले टॉप 10 देश कौन से है? इसमें भारत कौन से स्थान पर है?

किसी भी देश की सीमाओं की दुश्मन से सुरक्षा का जिम्मा वहां की सेनाओं पर होता है। हर देश के नागरिकों को अपनी सेनाओं और सैनिकों पर गर्व होता है, क्योंकि ये सैनिक उनकी सुरक्षा के लिए अपनी जान पर खेल जाते हैं। किसी भी देश की सेना की पहचान वहां के वीर, बहादुर, ताकतवर सैनिक होते हैं।

लेकिन यदि आप यह जानना चाहते हैं कि किस देश की सेना दुनिया में सबसे ताकतवर यानी शक्तिशाली है? तो इसके लिए आज आपको इस पोस्ट को गौर से पढ़ना होगा। इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेना किस देश की है? सबसे ताकतवर सेना वाले टॉप-10 देश कौन से है? इसमें भारत कौन से स्थान पर है? आइए, शुरू करते हैं –

Contents show

दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेना किस देश की है? (Which country’s millitary is most powerful in the world?)

दोस्तों, आइए आपको बता दें कि दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेना किस देश की है? जी नहीं, वह विश्व की महाशक्ति माना जाने वाला चीन नहीं है। बल्कि मिलिट्री ताकत के नजरिए से शक्तिशाली देशों की इस सूची में अमेरिका (America) टॉप पर है। रूस (Russia) दूसरे व चीन (China) तीसरे स्थान पर है।

दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेना किस देश की है

दुनिया भर के देशों की मिलिट्री ताकत के अनुसार रैंकिंग किसके द्वारा जारी की गई है? (Who has issued this ranking of different countries of the world according to their military power?)

दोस्तों, आपको बता दें कि दुनिया भर के देशों की मिलिट्री ताकत के अनुसार रैंकिंग ग्लोबल फायरपावर (Global Firepower) द्वारा की गई है। इस सर्वमान्य संस्था ग्लोबल फायरपावर द्वारा करीब 17 वर्ष पूर्व यानी सन् 2006 से इस वैश्विक रैंकिंग को अंजाम दिया रहा है। आपको बता दें दोस्तों कि नौ जनवरी, 2024 को उसके द्वारा इस साल की नई मिलिट्री स्ट्रेंथ इंडेक्स रैंकिंग (Military Strength index Ranking) जारी की गई है।

भारत इस सूची में कौन से पायदान पर है? (India is on which rank in this list?)

दोस्तों, आइए अब अपने देश भारत की बात कर लेते हैं और जानते हैं कि भारत इस रैंकिंग (ranking) में किस पायदान पर है। दोस्तों, हमारे देश के सैनिकों के जज्बे का बेशक कोई जवाब न हो, लेकिन यदि मिलिट्री पावर (military power) की बात करें तो इस मामले में भारत (India) चौथे स्थान पर है। इससे ऊपर के देश हम आपको पहले ही बता चुके हैं। वे अमेरिका, रूस और चीन हैं।

रैंकिंग लिस्ट में दुनिया के कितने देशों को शामिल किया गया है? (How many countries of the world have been included in this list?)

दोस्तों, आपको बता दें कि ग्लोबल फायरपावर द्वारा इस लिस्ट में दुनिया के कुल 145 देशों को शामिल किया गया है। इन देशों में विश्व को सभी प्रमुख देशों को उनकी मिलिट्री पावर (millitary power) के आधार पर रैंक (rank) किया गया है।

ग्लोबल फायरपावर द्वारा इस रैंकिंग को तय करते हुए किन बिंदुओं को आधार बनाया गया है? (What points have been taken in to consideration by global firepower while deciding the ranking?)

दोस्तों, आपको बता दें कि ग्लोबल फायरपावर द्वारा इस रैंकिंग को तय करते समय 60 अलग-अलग बिंदुओं यानी प्वॉइंट्स (points) को आधार बनाया गया। इसी के आधार पर अमेरिकी मिलिट्री को दुनिया की सबसे ताकतवर एवं भूटान की सेना को सबसे कमजोर करार दिया गया।

दोस्तों, आपको बता दें कि इन 60 प्वॉइंट्स में विभिन्न देशों की युद्ध की क्षमता (war making capability), उनके सैनिकों की संख्या (number of soldiers), मिलिट्री इक्विपमेंट्स (millitary equipments), देशों की आर्थिक स्थिरता (economic stability) एवं वहां की भौगोलिक स्थिति यानी जियोग्राफिक लोकेशन (geographical location) आदि प्वॉइंट्स को मुख्य रूप से शामिल किया गया है।

मिलिट्री ताकत के हिसाब से टॉप 10 देश कौन से हैं? (Which are top 10 countries in relation to military power?)

दोस्तों, आइए अब आपको उन देशों के नाम बताते हैं, जो कि ग्लोबल फायरपावर की रैंकिंग लिस्ट में टॉप 10 में शामिल हैं। ये इस प्रकार से हैं-

  1. अमेरिका (America)
  2. रूस (Russia)
  3. चीन (China)
  4. भारत (India)
  5. दक्षिण कोरिया (South Korea)
  6. यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom)
  7. जापान (Japan)
  8. तुर्किए (Turkiye)
  9. पाकिस्तान (Pakistan)
  10. इटली (Italy)

टॉप 10 देशों का पावर इंडेक्स स्कोर क्या है? (What is the power index score of top 10 countries?)

दोस्तों यदि ग्लोबल फायर पावर की बात करें तो उसके द्वारा रैंकिंग में 0.0000 को सबसे बेहतर माना जाता है। यहां यदि हम मिलिट्री ताकत के नजरिए से दुनिया के सबसे ताकतवर टॉप 4 देश की बात करें तो उनका स्कोर इस प्रकार से है-

  • अमेरिका—0.0699
  • रूस —-0.0702
  • चीन—-0.0706
  • भारत —0.1023

मिलिट्री ताकत के हिसाब से सबसे कमजोर 10 देश कौन से हैं? (What are the 10 weakest countries in )

मित्रों, दुनिया की सबसे ताकतवर मिलिट्री वाले देशों के बाद आइए अब सबसे कम मिलिट्री ताकत वाले देशों के नाम जान लेते हैं। इनकी सूची इस प्रकार से है –

  1. भूटान (Bhutan)
  2. माल्दोवा (Maldova)
  3. सूरीनाम (Suriname)
  4. सोमालिया (Somaliya)
  5. बेनिन (Benin)
  6. लाइबेरिया (Liberia)
  7. बेलीज (belleys)
  8. सियेरा लियोन (siera liyon)
  9. सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक (Central African Republic)
  10. आइसलैंड (Iceland)

रैंकिंग में दुनिया के टॉप –3 देशों की सैन्य ताकत क्या है? (What is the military power of ranking’s top 3 countries?)

मित्रों, आइए अब जान लेते हैं कि रैंकिंग में दुनिया के टॉप –3 देशों की सैन्य ताकत क्या है-

संयुक्त राज्य अमेरिका (United States of America)

दोस्तों, सबसे पहले रैंकिंग में टॉप पर शुमार अमेरिका की बात कर लेते हैं। आपको बता दें कि इसकी सेना की वर्तमान मैनपावर (manpower) 14.94 करोड़ से भी अधिक है। अमेरिका के पास, सर्विस के लिए फिट मैनपावर 12.39 करोड़ से भी अधिक है। इसके कुल सैन्य कर्मियों की तादाद 21.27 लाख से भी अधिक है। इसकी सक्रिय सैन्य क्षमता‌ 13.28 लाख से भी अधिक है। दोस्तों, यदि वायुसेना की बात करें तो इसके पास कुल 7 लाख से अधिक मैनपावर है। वहीं, थल सेना में 14 लाख से अधिक एवं नौसेना में मैनपावर 6.67 लाख से भी अधिक है।

दोस्तों, आपको सुनकर हैरत होगी कि अमेरिका के पास कुल 1854 फाइटर प्लेन हैं। इनमें से भी 896 अटैक फाइटर जेट हैं। उसके पास कुल 957 ट्रांसपोर्ट विमान हैं। इसके अतिरिक्त 2648 ट्रेनर्स एवं 606 टैंकर्स फ्लीट हैं। मित्रों , अमेरिका के पास कोई हजार, दो हजार नहीं, बल्कि 5737 हेलिकॉप्टर्स हैं। उसके पास एक हजार तो अटैक हेलिकॉप्टर्स ही हैं।

उसकी थल सेना की बात करें तो उसके पास 4657 टैंक हैं। 3.60 लाख से ज्यादा वाहन एवं 1595 सेल्फ प्रोपेल्ड आर्टिलरी है। अमेरिका के पास टोड आर्टिलरी 1267, जबकि एमएलआरएस (MLRS) रॉकेट आर्टिलरी 694 हैं।

मित्रों, अब आते हैं अमेरिकी नौसेना यानी SEAL पर। आपको बता दें कि अमेरिका के पास 11 एयरक्राफ्ट कैरियर (America carrier) हैं। 9 हेलिकॉप्टर कैरियर हैं। इसके अलावा 75 डिस्ट्रॉयर यानी विध्वंसक एवं 23 कॉर्वेट हैं। पनडुब्बी की बात करें तो वे 64 हैं। उसके पास 8 माइन वॉरफेयर के साथ ही 5 पेट्रोल वेसल हैं।

रूस (Russia)

अब रूस की बात कर लेते हैं। रूस के पास मिलिट्री की 6.94 करोड़ से भी अधिक मौजूदा मैनपावर है। इसके अलावा उसके पास सर्विस के लिए फिट 4.64 करोड़ से ज्यादा मैनपावर है। रूस के कुल सैन्य कर्मियों की संख्या कुल 35.70 लाख से भी अधिक है, जबकि उसकी सक्रिय सैन्य क्षमता 13.20 लाख की है।

रूस के पास पैरामिलिट्री (paramilitary) में 2.50 लाख की मैनपावर है। जबकि रिजर्व पर्सनल (reserve personal) 20 लाख हैं। उसकी वायु सेना में 1.65 लाख, जबकि थल सेना में 5.50 लाख एवं नौसेना में 1.60 लाख लोग हैं। दोस्तों, जान लीजिए कि रूस के पास कुल 809 फाइटर्स हैं।

इनमें भी अटैक फाइटर जेट की संख्या 730 है। रूस के पास 453 ट्रांसपोर्ट विमान हैं। 552 ट्रेनर्स के साथ ही 145 स्पेशल मिशन एयरक्राफ्ट (special mission aircraft) उसकी सैन्य क्षमता को चार चांद लगाते हैं। दोस्तों, रूस के पास 19 टैंकर्स फ्लीट है।

यदि हेलिकॉप्टर की बात करें तो रूस के पास 1547 हेलिकॉप्टर्स हैं, जिनमें से 559 अटैक हेलिकॉप्टर्स हैं। दोस्तों, रूस की थल सेना के पास कुल 14,777 टैंक हैं। इसके साथ ही उसके पास 1.61 लाख से अधिक वाहन एवं 6208 सेल्फ प्रोपेल्ड आर्टिलरी है। 3065 एमएलआरएस (MLRS) रॉकेट आर्टिलरी के साथ ही उसके पास 8356 टोड आर्टिलरी है। दोस्तों, यदि रूसी नौसेना की बात करें तो

रूसी नौसेना के पास एक एयरक्राफ्ट कैरियर, 14 डिस्ट्रॉयर 12 फ्रिगेट, 83 कॉर्वेट एवं 65 पनडुब्बियां हैं। इसके अलावा रूस के पास 122 पेट्रोल वेसल एवं 47 माइन वॉरफेयर हैं।

चीन (China)

दोस्तों, अब आते हैं अनकन्वेंशनल वार के लिए कुख्यात चीन पर। दोस्तों, चीन के पास मौजूदा मिलिट्री मैनपावर 76.30 करोड़ से भी अधिक है। यही नहीं, उसके सर्विस के लिए फिट लोगों की संख्या 62.60 करोड़ से भी अधिक है। चीन के कुल सैन्य कर्मियों की संख्या 31.70 लाख है। वहीं, उसकी सक्रिय सैन्य क्षमता (active military power) 20.03 लाख से भी अधिक है।

दोस्तों, चीन के पास पैरामिलिट्री में 6.25 लाख जवान हैं, जबकि रिजर्व पर्सनल की संख्या भी 5.10 लाख है। चीन की वायुसेना में 4 लाख, जबकि थल सेना में 25.45 लाख एवं नौसेना में 3.80 लाख मैनपावर है। दोस्तों, यदि लड़ाकू क्षमता की बात करें तो चीन के पास 1207 फाइटर्स हैं।

इनमें अटैक फाइटर जेट की संख्या 371 है। उसके पास 289 ट्रांसपोर्ट विमान, जबकि 402 ट्रेनर्स हैं। 112 स्पेशल मिशन एयरक्राफ्ट के जरिए वह किसी से भी लोहा लेने में सक्षम है। उसके पास 10 टैंकर्स फ्लीट एवं 913 हेलिकॉप्टर्स हैं। इनमें 281अटैक हेलिकॉप्टर्स हैं। दोस्तों, चीन की थल सेना के पास कुल 5 हजार टैंक हैं। 1.74 लाख से ज्यादा वाहनों के साथ ही उसके पास 3850 सेल्फ प्रोपेल्ड आर्टिलरी है।

चीन के पास 1434 टोड आर्टिलरी के साथ ही 3180 एमएलआरएस (MLRS) रॉकेट आर्टिलरी भी है। अब यदि चीनी नौसेना की बात करें तो उसके पास दो एयरक्राफ्ट कैरियर एवं 3 हेलिकॉप्टर कैरियर्स हैं। इसके अलावा चीन के पास 49 विध्वंसक,. 42 फ्रिगेट एवं 72 कॉर्वेट हैं। उसकी सैन्य क्षमता को बढ़ाती 61 पनडुब्बियां हैं। साथ ही 150 पेट्रोल वेसल एवं 36 माइन वॉरफेयर है।

भारत की मिलिट्री ताकत क्या है? (What is the millitary power of India?)

दोस्तों, भारतीय सैनिकों में जो जज्बा देखने को मिलता है वह विश्व के किसी भी सैनिक में नहीं मिलता। आपको बता दें कि भारत के पास मौजूदा मिलिट्री मैनपावर 65.76 करोड़ से भी अधिक है। इसके अतिरिक्त उसके पास सर्विस के लिए 51.90 करोड़ से भी अधिक फिट लोग हैं। भारत के पास कुल सैन्य कर्मी 51.37 लाख से भी अधिक हैं।

और यदि भारत की सक्रिय सैन्य क्षमता की बात करें तो यह 14.55 लाख से भी ज्यादा। दोस्तों, भारत के पास पैरामिलिट्री में 25.27 लाख, जबकि रिजर्व पर्सनल के बतौर 11.55 लाख की मैन पावर है। आपको बता दें कि भारतीय वायुसेना में 3.10 लाख, थल सेना में 21.97 लाख, जबकि नौसेना में 1.42 लाख से भी अधिक मैनपावर है। दोस्तों, लड़ाकू क्षमता की बात करें तो हमारे देश भारत के पास 606 फाइटर्स हैं। इनमें 130 अटैक फाइटर जेट हैं।

इसके पास 264 ट्रांसपोर्ट विमान, जबकि 351 ट्रेनर्स हैं। 70 स्पेशल मिशन एयरक्राफ्ट के साथ ही भारत पास 6 टैंकर्स फ्लीट है। दोस्तों, 869 हेलिकॉप्टर्स एवं 40 अटैक हेलिकॉप्टर्स के साथ भारत किसी से भी निपटने में सक्षम है। हमारी थल सेना के पास 4614 टैंक के साथ ही 1.51 लाख से ज्यादा गाड़ियां हैं।

इसके अलावा 140 सेल्फ प्रोपेल्ड आर्टिलरी, 3243 टोड आर्टिलरी एवं 702 एमएलआरएस (MLRS) रॉकेट आर्टिलरी है। दोस्तों, भारतीय नौसेना यानी इंडियन नेवी की बात करें तो उसके पास दो एयरक्राफ्ट कैरियर हैं। वहीं, 12 विध्वंसक, 12 फ्रिगेट एवं 18-18 कॉर्वेट तथा पनडुब्बियां हैं। उसके पास 137 पेट्रोल वेसल हैं।

FaQ

मिलिट्री ताकत के नजरिए से दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश कौन सा है?

इस नजरिए से अमेरिका दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश है।

मिलिट्री पावर के लिहाज से दुनिया के सबसे शक्तिशाली देशों की रैंकिंग किसके द्वारा की गई है?

मिलिट्री पावर के लिहाज से दुनिया के सबसे शक्तिशाली देशों की रैंकिंग ग्लोबल फायर पावर की ओर से की गई है।

ग्लोबल फायरपावर के द्वारा नई सूची कब जारी की गई है?

ग्लोबल फायरपावर के द्वारा नई सूची 9 जनवरी, 2024 को जारी की गई है।

मिलिट्री पावर के लिहाज से दुनिया के टॉप -3 देश कौन-कौन से हैं?

इस नजरिए से दुनिया के टॉप-3 देशों में अमेरिका, रूस एवं चीन क्रमशः पहले, दूसरे एवं तीसरे स्थान पर हैं।

ग्लोबल फायरपावर रैंकिंग में भारत किस रैंक पर है?

इस लिस्ट में भारत चौथी रैंक पर है।

मिलिट्री ताकत के लिहाज से शक्तिशाली टॉप -3 देशों की सैन्य क्षमता क्या है?

इस संबंध में हमने आपको ऊपर पोस्ट में विस्तार से बताया है। आप वहां से देख सकते हैं।

download app

रैंकिंग में सैन्य शक्ति के लिहाज से सबसे कमजोर मुल्क कौन सा है?

रैंकिंग में सैन्य शक्ति के लिहाज से सबसे कमजोर मुल्क भूटान है।

ग्लोबल फायरपावर द्वारा यह रैंकिंग करने में किन पॉइंट्स को ध्यान में रखा गया है?

ग्लोबल फायर पावर द्वारा यह रैंकिंग करने में कुछ 60 पॉइंट्स को ध्यान में रखा गया है। इनमें से कुछ की जानकारी ऊपर पोस्ट में है। आप वहां से देख सकते हैं।

रैंकिंग में भारत का दुश्मन देश पाकिस्तान किस स्थान पर है?

रैंकिंग में भारत का दुश्मन देश पाकिस्तान 9वें स्थान पर है।

रैंकिंग में ग्लोबल फायरपावर द्वारा कुल कितने देशों को शामिल किया गया है?

रैंकिंग में ग्लोबल फायरपावर द्वारा कुल 145 देशों को शामिल किया गया है।

मिलिट्री ताकत के लिहाज से दुनिया के टॉप -10 देश कौन से हैं?

इस लिहाज से दुनिया के टॉप 10 देश अमेरिका, रूस, चीन, भारत, दक्षिण कोरिया, यूनाइटेड किंगडम, जापान, तुर्किए, पाकिस्तान, इटली हैं।

दोस्तों, इस पोस्ट (post) में हमने आपको बताया कि दुनिया की सबसे शक्तिशाली सेना किस देश की है? सबसे ताकतवर सेना वाले टॉप 10 देश कौन से है? इसमें भारत कौन से स्थान पर है? उम्मीद करते हैं कि इस पोस्ट से आपकी जानकारी में इजाफा हुआ होगा। इसी प्रकार की जानकारीपरक पोस्ट पाने के लिए हमें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स (comment box) में कमेंट (comment) करके बताएं। ।।धन्यवाद।।

प्रवेश
प्रवेश
मास मीडिया क्षेत्र में अपनी 15+ लंबी यात्रा में प्रवेश कुमारी कई प्रकाशनों से जुड़ी हैं। उनके पास जनसंचार और पत्रकारिता में मास्टर डिग्री है। वह गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्रीनगर से वाणिज्य में मास्टर भी हैं। उन्होंने गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय से व्यक्तिगत प्रबंधन और औद्योगिक संबंधों में डिप्लोमा भी किया है। उन्हें यात्रा और ट्रेकिंग में बहुत रुचि है। वह वाणिज्य, व्यापार, कर, वित्त और शैक्षिक मुद्दों और अपडेट पर लिखना पसंद करती हैं। अब तक उनके नाम से 6 हजार से अधिक लेख प्रकाशित हो चुके हैं।
WordPress List - Subscription Form
Never miss an update!
Be the first to receive the latest blog post directly to your inbox. 🙂

Leave a Comment