उत्तराखंड शादी अनुदान योजना ऑनलाइन आवेदन, आवश्यक दस्तावेज, पात्रता

शादी अनुदान फॉर्म डाउनलोड Uttarakhand, कन्या धन योजना उत्तराखंड, उत्तराखंड शादी अनुदान योजना ऑनलाइन आवेदन, आर्थिक सहायता उत्तराखंड, महिला कल्याण विभाग उत्तराखंड, प्रधानमंत्री कन्या विवाह योजना, शादी अनुदान योजना UK

देश में ऐसे लाखों गरीब परिवार हैं, जिनके लिए भरण पोषण तक एक बड़ी समस्या है। ऐसे लोगों को कन्या के विवाह के समय खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। उत्तराखंड में भी ऐसे बहुत से लोग हैं जो धन अभाव में जीवन व्यतीत करते हैं और कन्या के विवाह के समय मुश्किलात का सामना करते हैं। कई परिवार तो कर्ज लेकर अपनी बेटी का विवाह संपन्न कराते हैं।

ऐसी ही बेटियों की शादी में सहायता के लिए उत्तराखंड सरकार शादी अनुदान योजना चला रही है। यह शादी अनुदान योजना क्या है? इसका उद्देश्य क्या है? इसके तहत कितनी धनराशि की मदद दी जाती है? इसके लिए आवेदन किस प्रकार किया जाए? इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इन्हीं सवालों के जवाब देंगे। आइए शुरू करते हैं-

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना क्या है?

दोस्तों, जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है इस योजना के तहत शादी के लिए अनुदान दिया जाता है। यह अनुदान गरीब परिवारों की कन्याओं को शादी के लिए दिया जाता है। यह योजना अनुसूचित जाति (SC) और अनुसूचित जनजाति (ST) की मदद के लिए चलाई गई है। इस योजना के तहत गरीबी की रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले यानी बीपीएल परिवारों को प्राथमिकता दी जाती है।

योजना के दायरे में सामान्य वर्ग के निर्धनों को भी शामिल किया गया है। आपको बता दें कि अनुदान परिवार की दो लड़कियों की शादी के लिए दिया जाता है और अनुदान के रूप में ₹50,000 की राशि प्रदान की जाती है। सामान्य रूप से देखें तो विवाह के परिप्रेक्ष्य में यह राशि अच्छी खासी बैठती है।

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना ऑनलाइन आवेदन, आवश्यक दस्तावेज, पात्रता

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना ऑनलाइन डिटेल्स –

योजना का नामउत्तराखंड शादी अनुदान योजना
राज्यउत्तराखंड
लाभार्थीप्रदेश के गरीब नागरिक
योजना का लाभगरीबी रेखा से नीचे एपीएल, बीपीएल परिवार की लड़कियों को
सहायता राशिएकमुश्त 50,000 रुपये
टोल-फ्री हेल्पलाइन नंबर1800-180-4094
आधिकारिक वेबसाइटsocialwelfare.uk.gov.in
संबंधित विभागसमाज कल्याण विभाग

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना का लाभ लेने के लिए पात्रता

साथियों, आपको बता दें कि लाभार्थी उत्तराखंड शादी अनुदान योजना का लाभ भी यूं ही नहीं उठा सकेंगे, बल्कि इसके लिए राज्य सरकार की ओर से कुछ पात्रता निर्धारित की गई है, जो कि इस योजना का लाभ उठाने के लिए लाभार्थी पूरी करनी होंगी। यह पात्रता इस प्रकार से है-

  • लाभार्थी इस शादी अनुदान योजना के तहत केवल दो ही बेटियों के लिए योजना का लाभ लेने के लिए पात्र होंगे।
  • शहरी क्षेत्र में आवेदक की सालाना आय 56 हजार, ग्रामीण क्षेत्र के आवेदक की वार्षिक आय 46 हजार से अधिक न हो।
  • आवेदक अनुसूचित जाति/जनजाति या फिर सामान्य श्रेणी के गरीब परिवार से ताल्लुक रखता हो।
  • शादी के वक्त कन्या की आयु 18 वर्ष से कम न हो। साथ ही वर की आयु भी न्यूनतम 21 साल हो।
  • शादी का पंजीकरण अवश्य कराया गया हो। पहले केवल शादी के निमंत्रण पत्र की असल प्रति अनिवार्य थी। अब पंजीकरण प्रमाण भी आवश्यक है।
  • उसी वर्ष आवेदन (1 मार्च से अगले वर्ष 28-29 फरवरी के विवाह) के आवेदन ही उस वर्ष मान्य होते हैं।

Also Read –

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना के तहत लाभ लेने को आवश्यक दस्तावेज

दोस्तों, आइए अब आपको बताते हैं कि आप उत्तराखंड शादी अनुदान योजना का लाभ लेने के लिए आपको किन किन दस्तावेज की आवश्यकता होगी। यह इस प्रकार से हैं-

  • शादी का पंजीकरण प्रमाण पत्र।
  • आवेदक का तहसील से जारी जाति प्रमाण पत्र।
  • आवेदक का तहसील से जारी आय प्रमाण पत्र।
  • एंव आवेदक का आधार कार्ड।
  • आवेदक यदि विधवा है और पेंशन पा रही है तो पेंशन क्रमांक और जारी होने की तिथि।
  • आवेदक की बैंक खाता संख्या, आईएफएससी कोड और पृथम पृष्ठ की प्रति।
  • साथ ही आवेदक का मोबाइल नंबर।
  • कन्या एवं वर का नाम।
  • कन्या एवं वर का जन्म तिथि प्रमाण पत्र।
  • वर एवं उसके माता-पिता का नाम।
  • वर का स्थायी एवं स्थानीय पता (मोहल्ला, गांव, ब्लाक, तहसील, जनपद आदि)।
  • साथ ही वर एवं उसके पिता का मोबाइल नंबर।
  • वर/वधु के पिता के परिवार रजिस्टर की प्रकृति
  • आवेदक का शपथ पत्र कि एक से अधिक पुत्री के विवाह को अनुदान नहीं लिया है।
  • बीपीएल श्रेणी लागू हो तो संबंधित प्रमाण पत्र।
  • शपथ पत्र।

Also Read –

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना ऑनलाइन आवेदन कैसे करें?

दोस्तों, अब हम आपको बताते हैं कि आप इस शादी अनुदान योजना का लाभ किस प्रकार से प्राप्त कर सकते हैं। इसकी प्रक्रिया बेहद आसान है, जो कि प्रकार से है-

अभी ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया बंद है।

  • सबसे पहले योजना की आधिकारिक वेबसाइट socialwelfare.uk.gov.in पर जाएं। आप यहाँ क्लीक करके डायरेक्ट जा सकतें हैं।
  • आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। इसके बाद नागरिक सेवाएं के तहत शादी अनुदान योजना के विकल्प पर click करें। आपके सामने एक फार्म खुल जाएगा।
  • इस फार्म में पूछी गई सभी जानकारी सही सही भरें। इसके बाद संबंधित दस्तावेजों को भी अपलोड कर दें। अब सेव के विकल्प पर क्लिक कर दें।
  • इस तरह से आनलाइन आपका फॉर्म जमा हो जाएगा।

Also Read –

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना ऑफलाइन आवेदन कैसे करें?

यदि आप यह फार्म आफलाइन भरना चाहते हैं तो यह प्रक्रिया फालो करें-

  • सबसे पहले सामाजिक सुरक्षा राज्य पोर्टल https://ssp.uk.gov.in/downloads.aspx पर जाएं। आप यहाँ क्लीक करके डायरेक्ट जा सकतें हैं।
  • आपके सामने होम पेज खुल जाएगा। इसके बाद नागरिक सेवाएं के सेक्शन में शादी अनुदान योजना के विकल्प पर क्लिक करें। क्लिक करते ही आपके सामने फार्म खुल जाएगा।
  • आप यहाँ क्लीक करके डायरेक्ट शादी अनुदान फॉर्म डाउनलोड Uttarakhand कर सकतें हैं।
उत्तराखंड शादी अनुदान योजना ऑफलाइन आवेदन कैसे करें?
  • अब इस फार्म को डाउनलोड कर इसका प्रिंट ले लें। इसके बाद उसमें पूछी गई पूरी जानकारी को सही सही भर दें।
  • इस पर निर्धारित जगह पर पासपोर्ट साइज फोटो लगाने के बाद सारे आवश्यक दस्तावेजों की प्रति अटैच कर दें।
  • समाज कल्याण विभाग में जाकर इस फार्म को जमा कर दें।

Also Read –

शादी अनुदान के लिए विभाग के पास इतने आवेदन पहुंचे

उत्तराखंड के समाज कल्याण विभाग ने विभिन्न पेंशन योजनाओं के साथ ही शादी अनुदान योजना का डाटा अवलोकनार्थ अपनी वेबसाइट पर उपलब्ध कराया है। उत्तराखंड शादी अनुदान योजना के तहत अक्टूबर, 2020 तक कुल 690 आवेदन विभाग के पास पहुंचे। इससे पूर्व सितंबर माह तक 660 आवेदन विभाग के पास पहुंचे थे। अभी इनमें से किसी को मंजूर नहीं किया गया। इस मद में सहायता राशि समाज कल्याण विभाग के पास उपलब्ध बजट पर भी निर्भर करती है।

आपको बता दें दोस्तों कि जो आवेदन उत्तराखंड शादी अनुदान योजना का लाभ लेने के लिए समाज कल्याण विभाग के पास अक्टूबर से पहले तक पहुंचे थे इनमें से सामान्य श्रेणी के 77 आवेदन थे। अनुसूचित जाति के 479 जबकि अनुसूचित जनजाति के 104 आवेदन विभाग के पास पहुंचे। सबसे ज्यादा आवेदन हरिद्वार से 172 पहुंचे।

इसके बाद देहरादून से 157 आवेदन विभाग को प्राप्त हुए। इसके अलावा उधम सिंह नगर से 84, उत्तरकाशी से 49 रुद्रप्रयाग से 47, नैनीताल से 34, पिथौरागढ़ से 25, पौड़ी और चंपावत से 22-22 बागेश्वर से 19, अल्मोड़ा से 17, टिहरी से 12, जबकि चमोली से केवल चार आवेदन विभाग के पास पहुंचे।

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना के आवेदन नियम में 2021 में बदलाव

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना में पिछले साल 2021 में बदलाव किया गया। और योजना का लाभ लेने के लिए शादी का पंजीकरण प्रमाण पत्र अनिवार्य कर दिया गया। इससे पहले केवल शादी का कार्ड जमा करके योजना का लाभ लिया जा सकता था। लेकिन कई तरह की शिकायतें मिलने के बाद सरकार ने नियम बदलाव का फैसला किया।

दरअसल, कई लोग शादी का फर्जी कार्ड लगाकर योजना का लाभ प्राप्त कर ले रहे थे। केवल वैध लाभार्थी को ही योजना का लाभ मिल सके, योजना में बदलाव का फैसला इसी विचार को ध्यान में रखते हुए किया गया।

जिस साल में शादी केवल उसी साल में मिलेगा योजना का लाभ

दोस्तों, आपको बता दें कि उत्तराखंड शादी अनुदान योजना का लाभ केवल उसी साल में लिया जा सकेगा, जिस साल में वर वधु विवाह संपन्न हुआ हो। साल का मतलब वित्तीय वर्ष से है। यानी इसकी गणना एक अप्रैल से 31 मार्च तक की जाएगी। इसका अर्थ यह है कि आप ऐसा नहीं कर सकते कि 2020 में शादी हो और आप अनुदान प्राप्त करने के लिए 2021 में आवेदन करें।

बहुत सारे लोगों का आवेदन इस वजह से निरस्त हो जाता है, क्योंकि वह निर्धारित समय के भीतर आवेदन नहीं करते। या फिर वह फार्म में पूछी गई जानकारी सही सही नहीं भरते। या फिर आवेदन के लिए आवश्यक सभी दस्तावेज फार्म के साथ मुहैया नहीं कराते। आपको बता दें कि यदि एक भी आवश्यक दस्तावेज नत्थी करने से आप वंचित रह जाते हैं तो आपका आवेदन निरस्त माना जाएगा।

कन्या के विवाह में लेन देन का बड़ा दबाव

बेशक दहेज एक अभिशाप है और हमारे देश में दहेज का लेनदेन शारदा एक्ट के तहत निषेध किया गया है, लेकिन समाज में अभी भी इसका चलन बना हुआ है। कन्या के विवाह में लेन देन का बड़ा दबाव रहता है। अभी भी कन्या के विवाह के लिए दान दहेज जुटाना उसके परिवार के लिए मुश्किल कार्य साबित होता है। इसमें उसके परिवार से ज्यादा समाज का दबाव शामिल रहता है। दहेज के सामान के साथ ही वर पक्ष को नगद देने की चलन बड़े पैमाने पर है।

कई जगह तो यह भी है कि पद के लिहाज से दूल्हे के रेट तय होते हैं। बड़े शहरों में धीरे-धीरे यह परंपरा कम होती जा रही है। लेकिन कस्बे और गांव अभी भी इस अभिशाप से जूझ रहे हैं। ऐसे में कई माता-पिता तो कर्ज लेकर पुत्री का विवाह संपन्न कराते हैं। दोस्तों, आपको बता दें कि उत्तराखंड के पहाड़ी जिलों में दान दहेज का प्रचलन बेहद कम था, लेकिन अब वहां भी चौकी, थानों में दहेज प्रताड़ना के मामले दर्ज किए जाने लगे हैं।

यह बुराई धीरे धीरे पैर फैला रही है, जिसकी वजह से जहां कन्या पक्ष के ऊपर दबाव बढ़ता है तो वहीं कन्या के साथ ससुराल में अच्छा बर्ताव नहीं किया जाता। दोस्तों, इस बात से आप भी जरूर इत्तेफाक रखेंगे कि कानून को न केवल और अधिक सख्त होने की आवश्यकता है, बल्कि कानूनके और अधिक सख्ती से पालन के साथ इस स्थिति से निजात संभव है।

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना से जुड़े सवाल जबाब

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना क्या हैं?

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना उत्तराखंड प्रदेश सरकार के द्वारा राज्य की गरीब बेटियों की शादी के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए शुरू की गई है। इस योजना के अंतर्गत प्रदेश सरकार बेटी की शादी के लिए ₹50000 की धनराशि प्रदान करेगी।

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना के अंतर्गत कितनी राशि मिलती है?

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना के अंतर्गत प्रदेश सरकार राज्य के गरीब परिवार से संबंध रखने वाली बेटियों की शादी के लिए ₹50000 की आर्थिक सहायता प्रदान करती हैं।

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना काला परिवार की कितनी बेटियों को दिया जाएगा?

प्रदेश सरकार ने इस योजना में परिवार की दो बेटियों को शामिल किया है। मतलब कि परिवार की दो बेटियां ही उत्तराखंड शादी अनुदान योजना के अंतर्गत ₹50000 की आर्थिक सहायता प्राप्त कर सकती हैं।

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना का लाभ कब दिया जाएगा?

शादी अनुदान योजना का लाभ जब गरीब परिवार से संबंध रखने वाली पुत्री की शादी के योग्य उम्र 18 साल हो जाती है तब इस के अंतर्गत पुत्री की शादी के लिए सरकार की तरफ से यह अनुदान राशि दी जाएगी।

उत्तराखंड शादी अनुदान योजना का लाभ लेनेके लिए कब तक आवेदन कर सकते हैं?

जब आप के परिवार की पुत्री शादी के योग्य हो जाए तब आप कभी भी इस योजना में आवेदन कर के अनुदान राशि प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए सरकार ने आवेदन प्रक्रिया की कोई निर्धारित डेट निश्चित नहीं कि हैं।

उत्तराखंड अनुदान योजना में आवेदन कैसे करें?

इस योजना का लाभ लेने के लिए आप दो प्रकार से आवेदन कर सकते हैं जिसकी पूरी जानकारी आपको ऊपर दी गई है। आप किसी भी तरीके को फॉलो करके इस योजना में आसानी से आवेदन कर सकते हैं।

अंतिम शब्द

उत्तराखंड राज्य में भी कई सारे गरीब, असहाय और निर्धन लोग हैं। खासतौर पर ढेरों विधवा महिलाएं,भी हैं, जिनके पति यानी परिवार के मुखिया की मृत्यु हो जाने पर वह अपना जीवन ठीक से अपन करने में सक्षम नहीं हो पाती। ढेर सारी महिलाएं सिलाई- कढ़ाई आदि करके अपने परिवार का गुजारा करती हैं। तो कई महिलाओं को कोई अन्य कार्य करना पड़ता है। ऐसे में पुत्री का विवाह करना उनके लिए थोड़ा सा मुश्किल हो जाता है।

ऐसे में वह किसी ना किसी प्रकार की आर्थिक सहायता चाहती हैं। उत्तराखंड सरकार की तरफ से दो पुत्रियों के विवाह के लिए 50,000 रुपए की अनुदान राशि इस प्रकार की महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद साबित होती हैं। सामान्य श्रेणी के निर्धन वर्ग के लोगों के लिए भी यह योजना बड़ी लाभदायी है।

दोस्तों, यह थी उत्तराखंड शादी अनुदान योजना के संबंध में जानकारी। यदि आप किसी और विषय के बारे में हम से जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो उसके लिए विषय का नाम नीचे दिए कमेंट बॉक्स में लिखकर हमें भेज सकते हैं। हमको बताइएगा कि यह पोस्ट आपको कैसी लगी। आपकी प्रतिक्रिया और सुझावों के हमेशा की तरह इंतजार में। ।।धन्यवाद।।

Spread the love

अनुक्रम

Leave a Comment