[पंजीकरण] यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना | ऑनलाइन आवेदन | एप्लीकेशन फॉर्म

यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना इन हिंदी – हमारा देश भारत एक बहुत बड़ी जनसँख्या वाला देश है, जिस में का एक बड़ा हिस्सा युवा वर्ग यानि की युवाओं का है। हमारे देश में युवाओं का बड़ी संख्या में होना हमारे लिए अच्छी बात है। क्योंकि यह वर्ग बहुत जूझारू और जोश प्रवृति का होता है। इसके अंदर कुछ कर गुज़रने की बहुत तेज़ भावना होती है। यदी हमने इनकी इस ताक़त का सही इस्तेमाल किया तो यह वर्ग निश्चित ही भारत वर्ष की उन्नति में जबरदस्त तेज़ी ला सकता है। लेकिन हमारे देश में बेरोज़गारी एक बहुत बड़ी समस्या है, जिसके कारन इस वर्ग के लोग परेशान रहते हैं। और प्रायः जब यह लोग सभी प्रकार से रोजगार प्राप्त करने में असफल सिद्ध हो जाते हैं। तो यह लोग गलत रास्तों का चयन करने लगते हैं।

जिसके कारण समाज में होने वाले अपराधों की संख्या बढ़ने लगती है। इस समस्या को दूर करने और हमारे देश की युवा शक्ति का सही इस्तेमाल करने के लिए सरकार द्वारा कई योजनाएँ चलाई जातीं हैं। ” यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना “ उत्तर प्रदेश की सरकार द्वारा बेरोज़गारी को समाप्त करने के लिए चलाई जा रही ऐसी ही एक योजना है।

यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना क्या है? What is UP Chief Minister Yuva Swarozgar Yojana?

यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश के भूत पूर्व मुख्यमंत्री माननीय श्री अखिलेश यादव जी के द्वारा, उत्तर प्रदेश में बढ़ती हुई बेरोज़गारी की समस्या को दूर करने हेतु चलाई गयी एक अत्यंत महत्वाकांक्षी योजना थी, जिसका नाम समाजवादी युवा स्वरोजगार योजना था। वर्ष 2017 में जब राज्य में माननीय श्री योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में भारतिय जनता पार्टी की पूर्ण बहुमत की सरकार बनी तो उन्होंने इसका नाम समाजवादी युवा स्वरोजगार योजना से बदल कर “यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना” कर दिया।

योजना का नाममुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना
योजना का  पुराना नामसमाजवादी युवा स्वरोजगार योजना
राज्यउत्तर प्रदेश
पहले लांच कीअखिलेश यादव
नया रूप लागु किया गयायोगी आदित्यनाथ (2018)
वेबसाइटhttp://www.upkvib.gov.in/
मुख्य लाभार्थीशिक्षित बेरोजगार

इसके साथ ही सरकार ने इसके लिए की जाने वाली आवेदन की प्रक्रिया में भी बदलाव किये हैं। और इस योजना को नए तरीके से अप्रैल 2018 से लागू किया गया है।। शुरुआत में यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना को मात्र 5 साल के लिए ही लागू करने की घोषणा की गयी थी परन्तु फिर कुछ समय के बाद सरकार ने इसकी समय सीमा और बढ़ा दी।

यू पी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना 2020 –

यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना का मुख्य उद्देश्य बेरोज़गारी को समाप्त करना है। उत्तर प्रदेश में इसके लिए मासिक तौर पर बेरोज़गारी भत्ता देने की भी योजना चलाई गयी परन्तु यह बेरोज़गारी की समस्या का स्थायी उपाय नहीं है। इसका स्थायी उपाय यह है। की बेरोज़गारों को कोई न कोई रोज़गार अवश्य प्रदान किया जाए जिससे वे अपना व अपने परिवार की जिंदगी को सुखमय बनाया जा सके और समाज में एक सम्मानजनक जीवन व्यापन कर सकें।

अब यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना के अंतर्गत सरकार बेरोज़गार व्यक्तियों को किसी प्रकार की नौकरी अथवा ट्रेनिंग प्रदान नहीं करेगी, अपितु इसके अंतर्गत सरकार अपना खुद का रोज़गार (स्टार्टअप ) शुरू करने के इच्छुक युवाओं को 25 लाख रूपए तक की आर्थिक सहायता प्रदान करेगी। यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना का लाभ कौन कौन उठा सकता है, और इसके लिए आवेदन कैसे करना होगा इन सभी के लिए सरकार ने कुछ नियम व शर्तें भी लागू की हैं।

यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना की प्रमुख बातें और शर्तें क्या हैं?

इस योजना के तहत यदी कोई सामान्य वर्ग यानी की जनरल केटेगरी का व्यक्ति आवेदन करता है। तो उसे काम (प्रोजेक्ट ) शुरू करने में लगने वाली कुल लागत का 10% स्वयं देना होगा और यदी आवेदक अनुसूचित जाति/ जनजाति या अन्य पिछड़े वर्ग से है। अथवा आवेदक कोई महिला अथवा कोई दिव्यांग है। तो उसे अपने प्रोजेक्ट की कुल लगत का मात्र 5% ही देना होगा।

आवेदकों को उद्योग क्षेत्र के लिए 25 लाख व अन्य क्षेत्र के लिए 10 लाख तक की सहायता राशि ऋण के रूप में प्रदान की जाएगी। सरकार किसी भी प्रोजेक्ट में लगने वाली लागत का 25% हिस्सा सरकार स्वयं करेगी। यदी कोई प्रोजेक्ट लागू होने के दो वर्ष के अंतर्गत सफल साबित ऋण स्वरुप दी गयी धनराशि माफ़ कर देगी। जिन आवेदकों का प्रोजेक्ट कम लागत का वरियता प्रदान की जाएगी।

[आवेदन] यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना। ऑनलाइन आवेदन। एप्लीकेशन फॉर्म

यू पी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना 2020 –

इस योजना से केवल वही लोग लाभान्वित हो सकतें हैं। जो उत्तर प्रदेश के ही निवासी हैं, अन्य राज्यों के लोग यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना का लाभ नहीं उठा सकते हैं। क्यूंकि यह योजना मात्र युवा वर्ग के लिए है। इसलिए केवल वही लोग इसके तहत आवेदन कर सकते हैं। जिनकी आयु 18 से 40 वर्ष के बीच है। इससे काम अथवा अधिक उम्र एक लोग इस योजना में आवेदन नहीं कर सकते हैं। इसके साथ ही सर्कार ने आवेदन करने के लिए शैक्षणिक योग्यता भी निर्धारित की है, जिसके अंतर्गत आवेदक का 10वीं कक्षा पास होना अनिवार्य है। आवेदन करते समय 10वीं कक्षा की मार्कशीट भी प्रस्तुत करनी होगी।

आवेदक के ऊपर बैंक डिफ़ॉल्ट का भी कोई केस नहीं होना चाहिए, यदि ऐसा है। तो वह व्यक्ति आवेदन नहीं कर सकता है। यदि आवेदक सरकार द्वारा चलाये जा रहे रोजगार संबंधी किसी भी अन्य योजना का लाभार्थी है। यानि की वह किसी अन्य का लाभ ले रहा है। तो वह भी यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना के लिए आवेदन नहीं कर सकता है। यह योजना मात्र बेरोज़गारों के लिए है। किसी भी प्रकार का व्यापार करने वाले व्यक्ति को भी इस योजना का लाभ नहीं मिल सकेगा।

यू पी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना 2020 में आवेदन के लिए जरूरी दस्तावेज़ कौन कौन से हैं?

1) आवेदक को अपना उत्तर प्रदेश का निवास प्रमाण पत्र, कक्षा 10 की मार्कशीट, आधार कार्ड और बैंक सम्बंधित जानकारियां भी प्रदान करनी होंगी।

2) यदि आपने प्रोजेक्ट शुरू करने हेतु किसी प्रकार का कमरा, हॉल, मकान, या जमीन खरीदी अथवा किराए पर ली है। तो आपको उसकी जानकारी भी देनी होगी।

3) यदि आपके प्रोजेक्ट में किसी मशीन की आवश्यकता भी होगी तो आपको उसकी लागत सम्बंधित और मशीन सम्बंधित समस्त जानकारी भी फॉर्म के साथ प्रदान करनी होगी।

4) सामान्य वर्ग के अलावा अपना जाति प्रमाण पत्र भी देना पड़ेगा और दिव्यांग आवेदकों को भी डिसेबिलिटी सर्टिफिकेट जमा करना होगा।

यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना में आवेदन कैसे करें? How to apply in UP Chief Minister Yuva Swarozgar Yojana?

इस योजना का लाभ उठाने के लिए आप दो तरीके से आवेदन कर सकते हैं। पहला है। ऑफलाइन और दूसरा है। ऑनलाइन।

  • ऑनलाइन माध्यम से आवेदन करने हेतु योजना की वेबसाइट http://www.upkvib.gov.in/ पर जाना होगा। आप यहाँ क्लीक करके डायरेक्ट वेबसाइट पर जा सकते हैं।
  • वेबसाइट पर आपको इस योजना में आवेदन करने का ऑफिशियल लिंक मिलेगा। आवेदक का फॉर्म सही सही और सावधानी से भरने के बाद इसे ऑनलाइन ही जमा कर दें। इस योजना की पीडीऍफ़ फाइल को डाउनलोड करके पर भी आप सीधा आवेदन कर सकते हैं।
  • ऑफलाइन माध्यम से आवेदन करने हेतु आप इस योजना का आवेदन फॉर्म डिप्टी कमिश्नर ऑफिस अथवा जिला उद्योग केंद्र से प्राप्त कर सकते हैं। जिसे सावधानी पूर्वक भर कर सभी आवश्यक दस्तावेज़ों के साथ आप इसे जमा कर सकते हैं।
  • इसके बाद विभाग आवेदन पत्र और सभी दस्तावेज़ों की जांच करेगा। और सब कुछ सही पाए जाने पर आपका आवेदन स्वीकार कर लिया जायेगा। जिसकी जानकारी आपको मिल जाएगी। और इसके बाद आप इस योजना का लाभ उठा सकेंगे।

यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना से जुड़े कुछ प्रश्न –

लोन सहायता सुविधा किसको मिलेगा?

खादी तथा ग्रामोद्योग द्वारा दी जाने वाली सहायता सुविधा हेतु निम्न पात्र है:-

  • पंजीकृत ग्रामोद्योगी सहकारी समितियाँ।
  • पंजीकृत स्वयं सेवी संस्थाएं।
  • व्यक्तिगत उद्यमियों के साथ-साथ शिक्षित बेरोजगार नवयुवकों, महिलाओं, अनुसूचित जाति व जनजाति के सदस्य एवं परम्परागत कारीगर।

यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना में किन ग्रामीण उद्योगों को लोन मिल सकता है?

खादी ग्रामोद्योग को 7 समूहों में बांटा गया है, जिसके अन्तर्गत निम्नलिखित उद्योग आते है:-

1. खनिज आधारित उघोग – Mineral based industry

  • कुटीर कुम्हारी उद्योग।
  • चूना पत्थर,चूना सीपी और अन्य चूना उत्पाद उद्योग।
  • मन्दिरों एवं भवनों के लिए पत्थर कटाई, पिसाई,नक्काशी तथा खुदाई।
  • पत्थर से बनी हुई उपयोगी वस्तुएं।
  • प्लेट और स्लेट पेंसिल निर्माण।
  • प्लास्टर आफ पेरिस का निर्माण।
  • बर्तन धोने का पाउडर।
  • जलावन के ब्रिकेट्स।
  • सोना चाँदी, पत्थर सीपी और कृत्रिम सामग्रियों से आभूषणों का निर्माण।
  • गुलाल, रंगोली निर्माण।
  • चूड़ी निर्माण।
  • पेंट, रंजक, वार्निश और डिस्टेम्पर निर्माण।
  • काँच के खिलौने का निर्माण।
  • सजावटी शीशे की कटाई, डिजाइनिंग, पालिशिंग।
  • रत्न कटाई।

2. वनाधारित उद्योग – Forested industry

  • हाथ कागज उद्योग।
  • कत्था निर्माण।
  • गोंद और रेजिन निर्माण।
  • लाख निर्माण।
  • कुटीर दियासलाई उद्योग, पटाखे और अगरबत्ती निर्माण।
  • बांस और बेंत कार्य।
  • कागज से प्याले, तश्तरी, झोले ओर कागज के डिब्बे का निर्माण।
  • कापियों का निर्माण, जिल्दसाजी, लिफाफा निर्माण, रजिस्टर निर्माण और कागज से बनाई जाने वाली अन्य लेखन
  • सामग्रियाँ।
  • खस टट्टी और झाडू निर्माण।
  • वनोत्पादों का संग्रह प्रशोधन एवं पैकिंग।
  • फोटो जड़ना।
  • जूट उत्पादों का निर्माण (रेशा उद्योग के अन्तर्गत)।

3. कृषि आधारित और खाद्य उद्योग – Agro based and food industries

  • अनाज दाल, मसाला, चटपटे मसाले आदि का प्रशोधन, पैकिंग और विपणन।
  • ताड़ गुड़ निर्माण और अन्य ताड़ उत्पाद उद्योग।
  • गन्ना गुड़ और खाण्डसारी निर्माण।
  • मधुमक्खी पालन।
  • अचार सहित फल और सब्जी का प्रशोधन, परिरक्षण एवं डिब्बाबन्दी।
  • घानी तेल उघोग।
  • नारियल जटा के अलावा रेशा।
  • औषधीय कार्यो हेतु जड़ी- बूटियों का संग्रह।
  • मकई और रागी का प्रशोधन,
  • मज्जा चटाईयां और हारा आदि का निर्माण।
  • काजू प्रशोधन।
  • दोना बनाना।
  • नूडल निर्माण।
  • विद्युत चलित आटा चक्की।
  • दलिया निर्माण।
  • चावल से छिलका उतारने की छोटी इकाई।
  • भारतीय मिष्ठान निर्माण।
  • रसवन्ती-गन्ना रसपान इकाई।
  • मेन्थाल तेल।
  • दुग्ध उत्पादन निर्माण इकाई।
  • पशु चारा, मुर्गी चारा निर्माण।

4. बहुलक और रसायन आधारित उद्योग – Polymer and chemical based industries

  • शवच्छेदन, चर्मशोधन तथा खाल व त्वचा से सम्बन्धित अन्य सहायक उद्योग एवं कुटीर चर्म उद्योग।
  • कुटीर साबुन उद्योग।
  • रबड़ वस्तुओं का निर्माण(डिप्ड लेटेक्स उत्पाद)।
  • रैक्सीन/पी० वी० सी० के बने उत्पाद।
  • हाथी दाँत समेत सींग और हड्डी उत्पाद।
  • मोमबत्ती, कपूर और मोहर वाली मोम का निर्माण।
  • प्लास्टिक की पैकेजिंग, वस्तुओं का निर्माण।
  • बिन्दी निर्माण।
  • मेंहदी निर्माण।
  • इत्र निर्माण।
  • शैम्पू निर्माण।
  • केश तेल निर्माण।
  • डिटर्जेन्ट और धुलाई पाउडर(अविषाक्त)

5. इंजीनियरिंग और गैर परम्परागत ऊर्जा – Engineering and Non-Conventional Energy

  • बढ़ईगीरी।
  • लोहारी।
  • अल्युमिनियम के घरेलू बर्तनों का उत्पादन।
  • गोबर और अन्य उपशिष्ट उत्पाद जैसे मृत पशु के मांस और मल आदि से खाद और मीथेन(गोबर) गैस का उत्पादन और उपयोग।
  • कागज, क्लिप, सेफ्टी पिन, स्टोव पिन आदि का निर्माण।
  • सजावटी बल्बों बोतलों, ग्लास आदि का निर्माण।
  • छाता उत्पादन।
  • हस्त निर्मित तांबे के बर्तनों का निर्माण।
  • सौर तथा पवन ऊर्जा उपकरण।
  • हस्त निर्मित पीतल के बर्तनों का निर्माण।
  • हस्त निर्मित कांसे के बर्तनों का निर्माण।
  • पीतल, तांबे और कांसे से अन्य वस्तुओं का निर्माण।
  • रेडियो निर्माण।
  • कैसेट प्लेयर का निर्माण चाहे वह रेडियो में लगा हुआ हो या न हो।
  • कैसेट रिकार्डर का निर्माण।
  • वोल्टेज स्टेब्लाईजर का उत्पादन।
  • इलेक्ट्रानिक घड़ियों का निर्माण।
  • लकड़ी पर नक्काशी एवं कलात्मक फर्नीचर निर्माण।
  • टीन कार्य।
  • तार की जाली बनाना।
  • लोहे की झंझरी (ग्रिल) निर्माण।
  • ग्रामीण यातायात वाहन जैसे हाथ गाड़ी, बैलगाड़ी, छोटीनाव, दुपहिया साइकिल/रिक्शा-मोटर युक्त गाडियों का निर्माण।
  • संगीत साजों का निर्माण।
  • केचुआ पालन तथा कचरा निपटारा।

6. इंजीनियरिंग और गैर परम्परागत ऊर्जा – Engineering and Non-Conventional Energy

  • पॉली वस्त्र यानी ऐसे वस्त्र जो भारत में मानव निर्मित रेशे की रूई-रेशम या ऊन के साथ या इसमें से किसी दो या सभी को मिलाकर हाथ से काता गया तथा हथकरघे पर बुना गया हो या भारत में बना ऐसा वस्त्र जो हाथ कते मानव निर्मित रेशा के धागों का सूती, रेशमी या ऊनी धागे या इसमें से किसी दो धागे या सभी धागों से मिलाकर हथकरघे पर बुना गया हो।
  • लाक वस्त्र का निर्माण।
  • होजरी।
  • सिलाई और सिली सिलाई पोशाक तैयार करना।
  • हाथ से मछली मारने वाले नायलॉन/सूती जाल तैयार करना।
  • छींटकारी।
  • खिलौना और गुडियों का निर्माण।
  • कशीदरी।
  • शल्य चिकित्सा पट्टी का निर्माण।
  • स्टोव की बत्तियाँ।
  • धागे का गोला, ऊनी गोला तथा लच्छी निर्माण।
  • पारम्परिक पोशाकें।
  • दरीं बुनाई।

7. इंजीनियरिंग और गैर परम्परागत ऊर्जा – Engineering and Non-Conventional Energy

  • धुलाई।
  • नाई।
  • नलसाजी।
  • बिजली की वायरिंग और घरेलू इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरण की मरम्मत।
  • डीजल इन्जनों , पम्पसेटों आदि की मरम्मत।
  • टायर बल्कनीकरण (रिट्रीडिंग) इकाई।
  • छिड़काव, कीटनाशक, पम्पसेटों आदि के लिए कृषि सेवा कार्य।
  • लाउडस्पीकर, घ्वनि प्रसारक, माइक आदि ध्वनि प्रणालियों को किराये पर देना।
  • बैटरी भरना।
  • कलाफलक चित्रकारी।
  • साइकिल मरम्मत की दुकानें।
  • राजगीर।
  • ढाबा (शराब रहित) ।
  • ढाबा (शराब रहित) ।
  • चाय की दुकान।
  • चिकन इम्ब्रायडरी।
  • बैंड मण्डली।
  • आयोडीन युक्त नमक।

दोस्तों, उपयुक्त लेख के माध्यम से आप को “यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना” उत्तर प्रदेश से जुडी सभी महत्वपूर्ण जानकारियों को साँझा किया गया है। इस के उपरांत भी अगर आप यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना से संबंधित कोई सुझाव या सवाल पूछना चाहते हैं। तो आप हमे नीचे कमेंट बॉक्स में लिख कर पूछ सकते हैं। हम जल्द से जल्द आप के सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे साथ ही आप इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ शेयर भी कर सकते हैं।

Spread the love

अनुक्रम

17 thoughts on “[पंजीकरण] यूपी मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना | ऑनलाइन आवेदन | एप्लीकेशन फॉर्म”

  1. श्रीमान मुख्यमंत्री जी को चरण स्पर्श।
    महोदय जी ये जो लोन है खुद का व्यापार सुरु करने के लिए है या रोजगार आपकी पसंद का होना चाहिए

    Reply
  2. hme modi ji ye yojna bahut hi acchi lagi but kya such me ye sab ho skta h kyuki kuch bhi apply karo kuch milta hi nahi h hum kaise kya kare uska jwab hme de jisse hum bhi iska labh le sake

    Reply
    • Sarkar dvara banai gai sabhi yojnaye janta ke liye hoti hai . Aur sarkar prayas yahi karti hai ki jyada se jyada patra nagrikon ko yojanaon ka labh mile .Lekin kabhi kabhi kuch logo ko pareshani ho jati hai

      Reply
  3. ye post kafi badiya projest hain but jila Udyog kand se pass hone ke baad bhi bank is project ko latka deti hain iske liy bhi sarkaar ko kuch karna chaiye

    Reply
  4. यदि बैंक कर्मचारी लापर्वाही करे, तो क्या करना चाहिये !

    Reply
  5. Sir , i m Nitin Mishra from Lucknow. Kaun se projects h aur kaun se business h jisme hum loan le sakte mukhyamantri yuva swarojgar yojana me. Pls answer asap.

    Reply

Leave a Comment