गेहूं खरीद यूपी किसान पंजीकरण ऑनलाइन कैसे करें? eproc.up.gov.in, ई-क्रय प्रणाली

गेहूं खरीद यूपी किसान पंजीकरण ऑनलाइन, ई-क्रय प्रणाली – हमारा देश कृषि प्रधान देश है, जहां पर कई प्रकार के अनाज की पैदावार होती है जिसमें से गेहूं, चावल, दाल, कपास, सरसों मुख्य हैं। खेती किसानी करके ही हमारे देश के किसान भाई अपने परिवार का पालन पोषण करते हैं। हम सिर्फ अपने व अपने परिवार का पालन पोषण करते हैं पर किसान सारे देश के पालन पोषण का कार्य करते हैं। जब किसानों को किसी विपदा का सामना करना पड़े तो उनकी सारी पैदावार नष्ट हो जाती है। सरकार ने भी किसानों के हित में निर्णय लिए हैं, जिससे उन्हें नुकसान ना उठाना पड़े। देश के हर राज्य सरकार ने आगे आकर किसान भाइयों का साथ दिया है।

यूपी की सरकार ने किसानों के लिए गेहूं खरीद यूपी किसान पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू की है। जैसा कि हम जानते हैं की यूपी की मुख्य फसल गेहूं हैं। राज्य सरकार ने भी इस ओर बडा़ कदम बढ़ाया है।

यूपी किसान पंजीकरण ऑनलाइन पोर्टल क्या है? What is UP Kisan Registration online portal?

गेहूं खरीद यूपी किसान पंजीकरण ऑनलाइन कैसे करें? eproc.up.gov.in, ई-क्रय प्रणाली

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि पूरे देश में 3 मई तक लाॅक डाउन घोषित किया गया है, जहां देश में बहुत सारे व्यवसाय ठप पड़ चुके हैं। वही खेती किसानी के क्षेत्र में भी बड़ा नुकसान हो रहा है। यूपी में समस्या को देखते हुए एक ऑनलाइन पोर्टल लांच किया है। जिसका उद्देश्य राज्य के किसानों के फसल को बेचना है। इसलिए किसान गेहूं बेचनेे के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते हैं। इस कारण यह किसानों के लिए फायदेमंद होगा और उनको पैसे भी मिल जाएंगे, जो इस महामारी में उनके काम ही आ सकेंगे जाएगी। उससे मिलने वाला धन सीधे ही बैंक अकाउंट में जमा हो जाएंगे। इस योजना से उम्मीद की जा सकती है कि किसानों को ज्यादा से ज्यादा लाभ हो सके।

यूपी किसान पंजीकरण ऑनलाइन योजना के बारे में कुछ जरुरी जानकारी –

योजना का नाम यूपी गेहूं खरीद किसान योजना
किसके द्वारा शुरू की गयी उत्तर प्रदेश सरकार
विभाग कृषि विभाग
लाभार्थी राज्य के किसान
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन
ऑफिसियल वेबसाइट https://eproc.up.gov.in/Uparjan/Home_Reg.aspx

यूपी किसान पंजीकरण ऑनलाइन के लिए आवश्यक दस्तावेज – Documents required for Uttar Pradesh online farmer registration

उत्तर प्रदेश किसान पंजीकरण करने के लिए आपको कुछ जरूरी दस्तावेजों की आवश्यकता होगी। इन दस्तावेजों के बिना आप अपना पंजीकरण नहीं कर सकते हैं। यह जरूरी दस्तावेज कुछ इस प्रकार है –

  • कंप्यूटराइज्ड खतौनी
  • फोटोयुक्त पहचान पत्र जैसे आधार कार्ड
  • बैंक पासबुक का प्रथम पृष्ठ की फोटो कॉपी
  • अपने खेत का राजस्व अभिलेख से संबंधित जानकारी
  • किसानों के पास जमीन से संबंधित खसरा संख्या
  • जमीन का रकबा एवं गेहूं का रकबा
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

यूपी किसान पंजीकरण से पहले फॉर्म का प्रारूप चेक करें? Check the format of the form before UP Kisan registration?

उत्तर प्रदेश किसान पंजीकरण करने से पहले आपको पंजीकरण करने का प्रारूप चेक कर लेना चाहिए। ताकि आप जब अपना पंजीकरण कर रहे हो उसमें किसी प्रकार की कोई गलती ना हो सके। हालांकि यदि आप किसी प्रकार की कोई गलत जानकारी भर देते हैं, तो आप उसे बाद में संशोधित कर सकते हैं। लेकिन इस प्रक्रिया में आपका समय बर्बाद होगा जिसके कारण पहले से ही आपको सही रजिस्ट्रेशन करना चाहिए।

ऑनलाइन किसान पंजीकरण का फॉर्मेट ऑफ नीचे दी गई इमेज में चेक कर सकते हैं। साथ ही आप यहां क्लिक करके डायरेक्ट डाउनलोड भी कर सकते हैं।

यूपी किसान पंजीकरण से पहले फॉर्म का प्रारूप चेक करें? Check the format of the form before UP Kisan registration?

यूपी किसान पंजीकरण के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें? How to apply for Uttar Pradesh Kisan Registration online?

गेहूं खरीद यूपी किसान पंजीकरण ऑनलाइन कैसे करें? eproc.up.gov.in, ई-क्रय प्रणाली

  • वेबसाइट पर पहुंचने के पश्चात आपको नीचे दिखाई गई इमेज की तरह पेज ओपन होगा यहां पर आपको “गेहू खरीद हेतु किसान पंजीकरण “ पर क्लिक करना होगा।

गेहूं खरीद यूपी किसान पंजीकरण ऑनलाइन कैसे करें? eproc.up.gov.in, ई-क्रय प्रणाली

  • अगले पेज पर आपको पंजीकरण प्रपत्र दिखाई देगा, उसे क्लिक करना होगा। उसके बाद किसान रजिस्ट्रेशन का फॉर्म खुल जाता है।

गेहूं खरीद यूपी किसान पंजीकरण ऑनलाइन कैसे करें? eproc.up.gov.in, ई-क्रय प्रणाली

  • यहां पर मोबाइल नंबर और कैप्चा कोड भरना होगा। इसके बाद “आगे बढ़े “बटन पर क्लिक करें।
  • अब आगे किसान पंजीकरण प्रपत्र फॉर्म खुल जाएगा जिस पर पूछी गई सारी जानकारी नाम, पता, मोबाइल नंबर, आधार कार्ड नंबर, पिता या पति का नाम, तहसील, जनपद आदि भरना होगा।
  • सभी जानकारी भरने के बाद पंजीकरण के बटन को क्लिक करें। जैसे ही आप पंजीकरण बटन पर क्लीक करेगें। आपका पंजीकरण हो जायेगा अब आप इस पोर्टल का उपयोग अपनी फसल बेचने के लिए कर सकतें हैं।

यूपी किसान पंजीकरण फॉर्म प्रिंट – Farmer Registration Form Print

किसान पंजीकरण करने के पश्चात आप अपने पंजीकरण फॉर्म का प्रिंट आउट भी निकाल सकते हैं। जरूरत पड़ने पर इस फार्म का उपयोग भी आप कर सकते हैं। यदि आपको अपने किसान पंजीकरण का फॉर्म का प्रिंट आउट निकालना है। तो आप प्रिंट पंजीकरण ऑप्शन पर क्लिक करके अपने फार्म का प्रिंट आउट ले सकते हैं। आप यहां क्लिक करके डायरेक्टरी वेबसाइट पर जा सकते हैं।

यूपी किसान पंजीकरण संशोधन प्रपत्र – UP Kisan Registration Amendment Form

कभी-कभी पंजीकरण फॉर्म भरते समय कई प्रकार की गलत जानकारियां भर जाती हैं, जिनके कारण आपको आगे की प्रक्रिया पूरी करने में कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। यदि आपके पंजीकरण फार्म में भी किसी प्रकार की कोई गलत जानकारी भर गई है। और आप ने इसे सबमिट भी कर दिया है। तो आप इस गलत जानकारी को संशोधित करके अपना फॉर्म अपडेट कर सकते हैं। इसकी सुविधा पोर्टल पर उपलब्ध कराई गई है। आप पोर्टल पर जाकर पंजीकरण संशोधन प्रपत्र पर क्लिक करके अपनी गलत जानकारी को संशोधित कर सकते हैं।

टोकन बनाने की प्रक्रिया – Token making process

यदि आपने ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया पूरी कर ली है। तो अगला स्टेप आपको अपने लिए टोकन जनरेट करना है। टोकन जनरेट करने के पश्चात ही आप अपनी फसल को बेच पाएंगे। टोकन जनरेट करने की लिए आप नीचे बताए जा रहे हैं स्टेप्स को फॉलो करें –

  • 1) टोकन इस बात का प्रमाण होता है कि किसान केंद्र किस दिन और कितने बजे फसल को मंडी में लेकर जाएगा। उसके लिए किसान भाइयों को “लाॅक के बाद टोकन बनाएं” पर क्लिक करना होगा।
  • 2) क्लिक करने के बाद किसान पंजीयन आरडी अथवा मोबाइल और कैप्चा अंकित करें। उसे भर कर “आगे बढे़” के बटन पर क्लिक करना है।
  • 3) जिसके बाद रबी फसल (गेहूं) हेतु ऑनलाइन टोकन पंजीकरण फॉर्म खुल जाएगा। यह क्रय हेतु किसान को उसके मोबाइल नंबर पर भी प्राप्त होगा। इसमें उपज को लेकर मंडी जाने का दिन और समय निर्धारित रहेगा।

यूपी गेहूं खरीद से संबंधित कुछ जानकारी – Some information related to purchasing wheat in Uttar Pradesh

  • यूपी सरकार ने गेहूं खरीदी का कार्य की शुरुआत 1 अप्रैल से करने की सोची थी परंतु लॉक डाउन के कारण ऐसा नहीं हो सका। गेहूं खरीद की नई तारीख 15 अप्रैल घोषित कर दी गई है, जिसके माध्यम से आसानी से ऑनलाइन पंजीकरण किया जा सकता है। यह पंजीकरण 27 जून तक करने की तिथि तय की गई है।
  • इस महामारी के दौर में गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य पर ही गेहूं खरीदी की योजना बनाई गई है। यूपी में ₹1925 प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य तय किया गया है।
  • यूपी सरकार ने किसानों से गेहूं खरीदने का लक्ष्य 55 लाख मैट्रिक टन निर्धारित किया है।
  • यूपी सरकार ने पूरे राज्य में लगभग 5500 खरीद केंद्रों को स्थापित किया है। लोगों की वजह से अब तक 4600 खरीद केंद्र ही स्थापित हुए हैं।
  • देश में बढ़ती महामारी से निपटने के लिए यूपी सरकार ने गेहूं खरीदी के लिए टोकन व्यवस्था लागू की है, जिसके तहत दूरी बना कर नियमों का पालन किया जा सकेगा। टोकन का नंबर होने से किसान निश्चित अवधि मंडी में गेहूं बिक्री मंडी जाकर कर सकेंगे।
  • गेहूं खरीदी मामले में महिलाओं को विशेष छूट दी गई है, जिसके अंतर्गत किसी भी तिथि को जाकर महिलाएं गेहूं की बिक्री कर सकती हैं।

100 क्विंटल से अधिक गेहूं बेचने के लिए सत्यापन – Verification to sell more than 100 quintals of wheat

यूपी में किसान पंजीकरण के तहत गेहूं के विक्रय पर पूर्व कृषक पंजीयन की अनिवार्यता रखी गई है। इसके तहत यदि किसान 100 क्विंटल से अधिक विक्रय करता है, तो उसे सत्यापन देने की आवश्यकता होगी। इस बारे में ऑनलाइन की प्रक्रिया अपनाई जाएगी। इस हिसाब से केवल उसी खरीद को मान्यता मिलेगी, जो ऑनलाइन फीड होगी। इस वर्ष खेती लेने वाले कृषकों का पंजीकरण अनिवार्य माना जाएगा।

महामारी की हालत में अच्छा काम –

जब पूरा देश कोरोना वायरस की महामारी से जूझ रहा है। लोग घर से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। ऐसे में लोगों को बहुत ही दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। किसानों को सबसे बड़ी मुसीबत फसल ना बेचने की हो रही है। ऐसे में यूपी सरकार द्वारा टोकन के माध्यम से गेहूं बिक्री का कदम सही माना जा सकता है। टोकन जिस दिन का होगा, उसी दिन जाकर मंडी में गेहूं की बिक्री कर सकेंगे। ऐसी स्थिति में मंडी में भीड़ नहीं हो सकेगी और इस महामारी से बचने में मदद मिल सकेगी। गेहूं की मंडी में दूरी बनाकर ही गेहूं बिक्री करने का निर्देश दिया है, जिससे इस महामारी की समस्या से कुछ हद तक निजात मिल सके। सरकार के इस कदम को सराहनीय कहा जा सकता है।

गेहूं खरीद समर्थन मूल्य में हर साल वृद्धि –

ऐसा देखा जाता है कि गेहूं का समर्थन मूल्य हर वर्ष बढ़ाने की घोषणा होती है। यूपी सरकार ने 5 साल के भीतर ही किसानों की आय को दोगुना करने के मिशन में जोर-शोर से लगी हुई है। प्रत्येक साल गेहूं का समर्थन मूल्य बढ़ता है। पिछले 2 वर्ष की तुलना में अब समर्थन मूल्य ₹1925 प्रति क्विंटल हो गया है। इसके 2 वर्ष पूर्व गेहूं का समर्थन मूल्य ₹1725 प्रति क्विंटल था, जिसे 2019 में ₹105 बढ़ाकर 1840 ₹ प्रति क्विंटल किया गया। इस तरह से गेहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य में ₹190 प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी हो गई है।

यूपी सरकार द्वारा गेहूं खरीद ऑनलाइन पंजीकरण सुविधा देना किसानों के लिए फायदेमंद होगा। ऑनलाइन पंजीकरण घर बैठे ही आसानी से किया जा सकता है और टोकन लिया जा सकता है। किसी भी प्रकार से मंदी का दौर ना आए इसलिए भी यह सुविधा फायदेमंद हो सकती है। इस योजना का लाभ यूपी सरकार ने राज्य के किसानों को दिया है, जिसका फायदा उन्हें जरूर उठाना चाहिए। बीते कुछ दिनों से किसानों को नुकसान हो रहा है लेकिन अब इस योजना के रहते नुकसान की भरपाई हो सकेगी। किसानों को आगे बढ़कर योजना से लाभ अवश्य लेना चाहिए ताकि वे अपनी आजीविका और परिवार का पालन पोषण सही प्रकार से कर सकें।

तो दोस्‍तों यह थी मेरी आज की पोस्‍ट गेहूं खरीद यूपी किसान पंजीकरण ऑनलाइन कैसे करें? eproc.up.gov.in, ई-क्रय प्रणाली यदि आपके मन में UP Kisan Online Panjikaran Kaise Kare से संबंधित कोई अन्‍य प्रश्‍न है। तो आप हमसे बिना किसी झिझक के कमेंट बॉक्‍स के जरिये पूछ सकते हैं। आपके प्रश्‍नों का हर संभव उत्‍तर देने का प्रयास किया जाएगा।

Spread the love

अनुक्रम

1 thought on “गेहूं खरीद यूपी किसान पंजीकरण ऑनलाइन कैसे करें? eproc.up.gov.in, ई-क्रय प्रणाली”

Leave a Comment