TDS क्या होता है ? टी डी एस रिफंड पाने के लिए क्लेम कैसे करें ? पूरी जानकारी

यदि आप किसी अच्छी कंपनी में काम करते होंगे | तो आप की सैलरी से TDS जरूर कटता होगा | आयकर अधिनियम 1961 के अंतर्गत TDS भारतीय नागरिकों के द्वारा अप्रत्यक्ष कर जमा करने का एक महत्वपूर्ण साधन है | टीडीएस का कलेक्शन सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्स (सीबीडीटी) द्वारा किया जाता है | जो भारतीय राजस्व सेवा के अंतर्गत आता है | लेकिन क्या आप जानते हैं | कि आप टीडीएस की कटौती को कम भी कर सकते हैं |

TDS क्या होता है ? टी डी एस रिफंड पाने के लिए क्लेम कैसे करें ? पूरी जानकारी

इसके साथ ही यदि आप आयकर के दायरे में नहीं आते हैं | या आपका आयकर से ज्यादा TDS काटा गया है , तो आप TDS वापस भी पा सकते हैं | TDSकटौती के नियम क्या है ? आपके अकाउंट में वित्तीय वर्ष में कितना टीडीएस काटा गया है ? आप टीडीएस कैसे वापस पा सकते हैं ? इन सभी जानकारी को प्राप्त करने के लिए आपको यह पोस्ट लास्ट तक पढ़ना होगा | यहां पर हम आपको पूरी जानकारी प्रदान कर रहे हैं |

TDS क्या होता है –

टीडीएस की कटौती और रिफंड पाने के बारे में जानकारी प्राप्त करने से पहले हमें यह जानना बेहद आवश्यक है | कि TDS वास्तव में होता क्या है ? बात करें – टीडीएस की तो टीडीएस का फुल फॉर्म Tax Deducted at Source होता है | जिसको हम हिंदी में स्रोत पर टैक्स कटौती कह सकते हैं | टीडीएस आपके कमाई के स्रोत जैसे – सैलरी , ब्याज , लाटरी आदि पर काटा जाता है | इसके साथ ही कांट्रेक्टर . कमीशन और ब्रोकरेज से प्राप्त हुए पेमेंट पर भी एवं प्रोफेशनल तकनीकी सेवा , इंश्योरेंस , किराए के भुगतान पर भी टीडीएस काटा जाता है |

TDS कटने के पश्चात भी यदि किसी प्रकार का टैक्स बकाया रह जाता है | तो उसे भी भुगतान करना चाहिए | और यदि एक वित्तीय वर्ष में आप की कुल कर योग्य आय से ज्यादा TDS काटा गया है | तो आप इनकम फाइल रिटर्न करके टीडीएस को वापस भी प्राप्त कर सकते हैं |

TDS कटौती के फायदे –

  • टीडीएस कटौती से सरकार और नागरिक दोनों को फायदे होते हैं | एक तरफ जहां टैक्स चोरी में गुंजाइश ना के बराबर बचती है | जिससे सरकार को फायदा होता है | वहीं दूसरी तरफ करदाता को भी टैक्स भरने में आसानी रहती है | क्योंकि धीरे-धीरे उसके अकाउंट से टीडीएस कटता रहता है | जिससे उस पर अचानक बोझ नहीं पड़ता है |
  • TDSकाटने की जिम्मेदारी सरकार ने कंपनियों को दे दी है | जिससे आयकर विभाग को टैक्स इकट्ठा करने में आसानी होती है |
  • टीडीएस कटौती से अब टैक्स चोरी की गुंजाइश ना के बराबर रह गई है | क्योंकि टीडीएस व्यक्ति के अकाउंट से पहले ही काट लिया जाता है | जिससे व्यक्ति को आयकर रिटर्न फाइल करना ही पड़ता है |
  • TDS कटौती से काफी संख्या में कमाई करने वाले टैक्स के दायरे में आ जाते हैं | जिससे सरकार की आमदनी में वृद्धि होती है |
  • टीडीएस कटौती से करदाता को आसानी रहती है | जिससे उसे एडवांस टैक्स भरने का झंझट नहीं करना पड़ता है |

TDS कटौती के नियम –

टीडीएस कटौती के इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा कुछ नियम भी निर्धारित किए गए हैं | जिनका पालन करना अनिवार्य है |

  • पेमेंट देने की अंतिम तिथि या वास्तविक पेमेंट , जो भी पहले हो उस समय तक TDS काट लेना चाहिए | यदि ऐसा नहीं किया जाता है | तो 1% प्रति माह की दर से ब्याज का भुगतान करना पड़ता है |
  • TDS काटने  के पश्चात कलेक्ट की गई धन राशि को अगले महीने की 7 तारीख तक सरकार के पास जमा करना अनिवार्य है | यदि ऐसा नहीं किया जाता है | तो हर महीने 1.5% की दर से अलग ब्याज देना पड़ सकता है |
  • हर महीने टीडीएस काटा जाता है | जिसका रिटर्न हर तिमाही के अगले महीने की अंतिम तारीख तक दाखिल किया जाना चाहिए | अर्थात एक 31 जुलाई , 31 अक्टूबर , 31 जनवरी और 31 मई तक जमा करना चाहिए |

आपके अकाउंट से कितना TDS काटा गया है ? कैसे पता करें –

यदि आप जानना चाहते हैं कि आपके अकाउंट से कितना TDS काटा गया है | तो इसकी जानकारी प्राप्त करने के लिए आप नीचे बताए जा रहे आसान से स्टेप्स को फॉलो कर सकते हैं | और पता कर सकते हैं –

TDS क्या होता है ? टी डी एस रिफंड पाने के लिए क्लेम कैसे करें ? पूरी जानकारी

  • वेबसाइट पर पहुंचने के पश्चात आपको अपने अकाउंट में लॉग इन करना होगा | यदि आपका अकाउंट नहीं है | तो यहां पर आप रजिस्टर योर सेल्फ बटन पर क्लिक करके रजिस्टर कर सकते हैं | और फिर अपने अकाउंट में लॉगिन कर सकते हैं |
  • अकाउंट में लॉग इन करने के पश्चात आपको माय अकाउंट ड्रॉप डाउन मेनू में View Tax Credit (Form 26AS) पर क्लिक करना होगा |

TDS क्या होता है ? टी डी एस रिफंड पाने के लिए क्लेम कैसे करें ? पूरी जानकारी

  • जैसे ही आप क्लिक करेंगे | आपसे कुछ चेतावनी दिखाई जाएगी | जिसे आपको कंफर्म बटन पर क्लिक करना होगा |
  • आप कंफर्म बटन पर क्लिक करेंगे | आपके सामने एक नया पेज ओपन होगा | यहां पर आपको Click View Tax Credit (Form 26AS) to view your Form 26AS. क्लिक करना होगा |

TDS क्या होता है ? टी डी एस रिफंड पाने के लिए क्लेम कैसे करें ? पूरी जानकारी

  • जैसे ही आप यहां क्लिक करेंगे | आपको फाइनेंसियल ईयर को सेलेक्ट करना होगा | और उसके पश्चात आपको टेक्स्ट या HTML जिस फॉर्मेट में जानकारी चाहिए | उसको सेलेक्ट करना होगा | आप चाहे तो पीडीऍफ़ में भी फाइल डाउनलोड कर सकते हैं | पीडीऍफ़ फाइल ज्यादा सही रहता है |
  • फाइनेंसियल ईयर सेट करने के पश्चात एक्सपोर्ट पीडीऍफ़ पर क्लिक करें |
  • जैसे आप उस पर क्लिक करेंगे | एक PDF फाइल डाउनलोड हो जाएगी |
  • फाइल डाउनलोड होने के पश्चात आपको इसे ओपन करना होगा | ओपन करने के लिए आपसे एक पासवर्ड मांगा जाएगा | आपका पासवर्ड यहां पर आपकी जन्म तिथि है | जिसे आप को 01/01/1992 है तो आपको फॉर्मेट में लिखना है |
  • जैसे आप और पासवर्ड डालेंगे | आप की PDF फाइल ओपन हो जाएगी | और यहां पर आपको अपने अकाउंट से रिलेटेड पूरी जानकारी मिल जाएगी |
  • यहां पर आपको वित्तीय वर्ष में काटे गए सभी TDS की पूरी जानकारी मिल जाएगी | जो आपको इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने में काफी सहायता करेगी |

TDS वापस पाने के नियम –

अब आपने अपने टीडीएस के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर ली है | और यदि आपका TDS आपके आयकर से ज्यादा कटौती की गई है | तो आप TDS द्वारा कटौती की गई धनराशि को वापस पाने के लिए क्लेम कर सकते हैं | इसे आप इस तरह समझ सकते हैं | मान लीजिए आप की कुल कर योग्य आय ₹50000 है | और आपका एक वित्तीय वर्ष में ₹70000 टीडीएस काटा गया है | तो आप आईटीआर भरने में अतिरिक्त काटे गए 20000 टीडीएस को वापस पाने के लिए क्लेम कर सकते हैं | क्लेम करने के कुछ समय पश्चात आपके अकाउंट में धनराशि वापस कर दी जाएगी |

इसके साथ ही यदि आपका कम TDS काटा गया है | तो आप इनकम टैक्स आईटीआर भरते समय टीडीएस में जमा की गई धनराशि को कम करके अपना आईटीआर भर सकते हैं | इसे आप इस तरह से समझ सकते हैं | मान लीजिए आप की कर योग्य आय ₹50000 है | और आप का टीडीएस मात्र ₹40000 काटा गया है | तो आप बचे हुए ₹10000 आईटीआर भरते समय जमा करने होंगे |

TDS वापस पाने के लिए क्लेम कैसे करें –

यदि आप आयकर से ज्यादा TDS काटा गया है | तो आप इसे वापस पाने के लिए क्लेम कर सकते हैं | इसके लिए आप जब इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करेंगे | तो वहां पर आपको एक TDS का भी कॉलम दिया जाता है | जहां पर आप अपने TDS के बारे में सभी जानकारी दे सकते हैं | और अपने अतिरिक्त काटे गए टीडीएस को रिफंड प्राप्त कर सकते हैं | आपके अकाउंट से 10% TDS काटा जाता है | और जब आपको रिफंड प्रदान किया जाएगा | तो आपको 6% का ब्याज भी मिलेगा |

तो दोस्तों अब आपको पता चल गया होगा | कि TDS क्या होता है | और आपके अकाउंट से ज्यादा कटे गए टीडीएस को आप वापस कैसे प्राप्त कर सकते हैं | यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें | साथ ही यदि आपका किसी भी प्रकार का सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें | और जल्द ही आपके सवालों का जवाब देंगे || धन्यवाद ||

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here