भारत के टॉप सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस कौन से है? | Supermarket franchise in India in Hindi

|| भारत के टॉप सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस | Supermarket franchise in India in Hindi | भारत के टॉप सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस कौन से है? | सुपर मार्केट की फ्रेंचाइजी कैसे लें? | Which supermarket franchise best in India in Hindi ||

Supermarket franchise in India in Hindi :- एक समय था जब हमारे आस पास कई तरह की किराने की दुकान हुआ करती थी। हम उन दुकान पर जाते थे और जो सामान हमें चाहिए होता था, उस सामान को किराने वाले भईया से मांगते थे और वो हमें वह सामान निकाल कर दे देता (Top supermarket franchise in india in Hindi) था। किंतु समय के साथ साथ खरीदारी का दौर बदला और अब हम दुकानदार से सामान मांगने की बजाए खुद उसे चुनना पसंद करते हैं। हालाँकि इसके पीछे एक नहीं बल्कि कई कारण है जिसमें एक कारण सामान को बनाने वाली कंपनियों के बीच प्रतिस्पर्धा है।

पहले किसी उत्पाद में कुछ एक ही कंपनियों के थोड़ी बहुत वैराइटी दिखने को मिलती थी जबकि आज के समय में उसमे ना केवल कई तरह की कंपनियां है बल्कि उन कंपनियों के द्वारा भी कई तरह की वैराइटी के उत्पादों का निर्माण कार्य किया जा (Supermarket franchise business in India) रहा है। ऐसे में लोगों ने किराने की दुकान पर ना जाकर ऐसी दुकानों को चुना जो आकार में बड़ी हो और जहाँ वे अपनी पसंद के अनुसार सामान को चुन कर खरीदारी कर सके। तो उसी में ही सुपरमार्केट का चलन आया जहाँ एक ही छत के नीचे बहुत कुछ मिल जाया करता था।

इन सुपरमार्केट में ना केवल खाने पीने की आइटम बल्कि फैशन, ब्यूटी, इलेक्ट्रॉनिक्स, कपड़े इत्यादि कई भान्त का सामान मिल जाता है। ऐसे में उपभोक्ता को जब एक ही दुकान में सब कुछ मिल रहा है और वो भी उसे घूम घूम कर सामान को चुनने की आजादी है तो फिर वह क्यों ही एक छोटी सी किराने की दुकान पर जाना पसंद (Which supermarket franchise best in India in Hindi) करेगा। यही कारण है कि हम छोटे से लेकर बड़े शहर में तेजी से पाँव पसारते सुपरमार्केट के बिज़नेस को देख रहे हैं। वर्तमान समय में एक ही नहीं बल्कि कई सुपरमार्केट की कंपनियां भारत में तेजी से फैल रही है और साथ ही न्यु न्यु कंपनियां भी इसमें खुल रही है।

तो आज के इस लेख में हम आपके साथ भारत की टॉप सुपरमार्केट की फ्रैंचाइज़ी का बिज़नेस मॉडल चलाने वाली कंपनियों के बारे में ही बताने जा रहे हैं। आपको इनके बारे में मूलभूत जानकारी तो मिलेगी ही मिलेगी, साथ में कुछ अन्य रोचक जानकारी भी जानने को मिलेगी। आइए जाने भारत के टॉप सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस के बारे में।

भारत के टॉप सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस (Supermarket franchise in India in Hindi)

आपने बिग बाजार, जिओमार्ट, रिलायंस ट्रेंड इत्यादि कई सुपरमार्केट के नाम अवश्य सुने होंगे और शायद ये आपके शहर में भी खुल चुके हो। यदि वे नहीं भी खुले है तो इन पर तेजी के साथ काम चल रहा होगा और आपको आने वाले वर्षों में यह सब अपने शहर में भी खुले हुए दिख जाएंगे। आगे जाकर इन्हीं का जमाना है और यह तेजी के साथ फैल भी रहा है।

भारत के टॉप सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस कौन से है Supermarket franchise in India in Hindi

तो ऐसे में आपका भी यह जानने का अधिकार है कि सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस में ऐसे कौन कौन से बिज़नेस है जो बड़े है और तेजी के साथ फैल भी रहे हैं। अब हम एक एक करके उन सभी सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस के बारे में जानने वाले है जो इस क्षेत्र में टॉप पर है और सर्वाधिक महत्ता रखते हैं।

बिग बाजार (Big bazaar franchise)

यदि भारत देश में सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस की बात हो रही है तो उसमे बिग बाजार का नाम सबसे ऊपर आता है। वह इसलिए क्योंकि भारत देश में पहली बार सुपरमार्केट बिज़नेस का कांसेप्ट बिग बाजार ही लेकर आया था और उसी के ही आउटलेट सबसे पहले खोले गए थे। यह देश का सबसे पुराना और विशाल सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस है जो लगभग हर शहर में फैला हुआ है। जिन भी शहरों में बिग बाजार की सुपरमार्केट नहीं है तो वहां भी इस दिशा में तेजी के साथ काम चल रहा है।

वही यदि हम बिग बाजार के स्थापना वर्ष की बात करें तो वह 21 वर्ष पहले सन 2001 में शुरू हुआ था। यह एक प्राइवेट रिटेल इंडस्ट्री बिज़नेस है जिसकी स्थापना किशोर बियानी जी ने की थी। बिग बाजार का हेड ऑफिस महाराष्ट्र राज्य के मुंबई शहर में स्थित है। इनकी सुपरमार्केट में आपको खाने पीने की सभी आइटम सहित ब्यूटी, फैशन, इलेक्ट्रॉनिक्स इत्यादि के सामान भी मिल जाएंगे। एक तरह से बिग बाजार की सुपरमार्केट अपने आप में सभी तरह के सामान को समेटे हुए हैं जहाँ आपको एक ही छत के नीचे सब कुछ मिल जाएगा।

इसकी पैरेंट कंपनी का नाम फ्यूचर ग्रुप्स है और यह देश के 80 से अधिक शहरों में फैला हुआ है। हालाँकि वर्ष 2020 में बिग बाजार को देश के प्रसिद्ध उद्योगपति श्री मुकेश अम्बानी जी के द्वारा खरीद लिया गया और इसे रिलायंस रिटेल में बदल दिया गया। तो अब एक तरह से बिग बाजार रिलायंस रिटेल के अधीन हो चुका है जिसका संचालन मुकेश अंबानी जी करते हैं।

डी मार्ट (D mart)

सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस मॉडल में जो दूसरा सबसे बड़ा नाम आता है वह है डी मार्ट का नाम। चूँकि अब बिग बाजार रिलायंस रिटेल के अधीन हो चुका है तो एक तरह से डी मार्ट को हम पहले स्थान पर मान सकते हैं। डी मार्ट की स्थापना बिग बाजार के ठीक एक वर्ष के बाद ही वर्ष 2002 में हो गयी थी क्योंकि उस समय पूरे विश्व में सुपरमार्केट का दौर चलना शुरू हो गया था। इसी को देखते हुए भारत में भी कुछ ऐसी ही तैयारी चल रही थी। उसी कड़ी में बिग बाजार के बाद दूसरा रिटेल स्टोर खुला डी मार्ट का जिसने बिग बाजार को इस क्षेत्र में कड़ी टक्कर दी।

तो यह सार्वजनिक क्षेत्र की रिटेल कंपनी है जो शेयर बाजार में भी पंजीकृत है। डी मार्ट की स्थापना 15 मई 2002 को राधाकृष्ण दमानी जी ने की थी। वर्ष 2020 तक इसकी देशभर में 250 से भी ज्यादा शाखाएं खुल चुकी थी जो अब बढ़ कर 300 से ज्यादा हो चुकी होंगी। डी मार्ट के अंतर्गत भी हर तरह का सामान मिलता है जिन्हें हम दैनिक जीवन में इस्तेमाल में लाते हैं या फिर कभी कभार।

इसमें आपको ग्रोसरी, फ्रोजन फ़ूड, फुटवियर, कपड़े, फल, सब्जियां इत्यादि सब सामान खरीदने को मिल जाएगा। डी मार्ट का पिछले वर्ष का रेवेन्यु 31 हज़ार करोड़ से भी अधिक था जो अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है। इसके अंतर्गत 10 हज़ार से भी ज्यादा परमानेंट कर्मचारी काम करते हैं और 40 हज़ार के आसपास कर्मचारी कांटेक्ट बेस पर है।

जिओमार्ट (Jiomart franchise)

भारत देश में जिओ व मुकेश अंबानी का नाम कौन नहीं जानता है। एक दौर था जब हमें अन्य नेटवर्क कंपनियां एक हज़ार से भी ज्यादा रूपए में एक जीबी 4 जी का डाटा दे रही थी। फिर एक दम से मुकेश अंबानी जी ने देश की जनता को संबोधित किया और पूरे तीन महीने तक जिओ की सिम पर 4 जी का डाटा फ्री में उपलब्ध करवा दिया। इसके बाद इसकी वैधता को 3 महीने और बढ़ा कर पूरे 6 माह के लिए कर दिया गया। तो इस तरह से देश ने 6 महीने तक 4 जी सेवा का फ्री में आनंद उठाया था।

उन्हीं मुकेश अंबानी जी ने सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी के बिज़नेस में उतरते हुए जिओमार्ट की स्थापना आज से तीन वर्ष पहले सन 2019 में की और तब से लेकर आज तक यह देश का तेजी से बढ़ता हुआ रिटेल फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस बन गया है। कुछ ही वर्षों में यह भारत के अन्य रिटेल व सुपरमार्केट बिज़नेस को पीछे छोड़ देने वाला है। यह मुख्य तौर पर ई कॉमर्स की वेबसाइट है जहाँ पर आप ऑनलाइन कुछ भी खरीद सकते हैं। साथ ही अब शहर शहर में इसके रिटेल स्टोर भी खुलने लगे हैं जहाँ आपको एक ही छत के नीचे बहुत कुछ खरीदने को मिल जाएगा।

जिओ मार्ट के फाउंडर व चेयरपर्सन श्री मुकेश अंबानी जी ही है। इसके अंतर्गत 15 हज़ार से भी अधिक कर्मचारी काम करते हैं और इसका कुल लाभ अरबों रुपए से भी ज्यादा है। वह इसलिए क्योंकि इसकी सप्लाई चैन बहुत मजबूत है और जितना बिज़नेस इनका सुपरमार्केट स्टोर से नहीं होता है, उससे कहीं अधिक तो ये ऑनलाइन सेलिंग के द्वारा कमा लेते हैं।

रिलायंस रिटेल (Reliance retail)

हमने आपको ऊपर ही बताया कि 2 वर्ष पहले ही मुकेश अंबानी जी ने देश के सबसे बड़े सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस को खरीद लिया है जिसका नाम बिग बाजार है। अब बिग बाजार का रिलायंस रिटेल में विलय कर दिया गया है जिस कारण रिलायंस रिटेल सुपरमार्केट बिज़नेस मॉडल में शीर्ष पर पहुँच गया है। इसी के साथ यह रिलायंस रिटेल जिओ मार्ट की भी पैरेंट कंपनी है और जिओ मार्ट इसी के नीचे ही संचालित किया जाता है। हालाँकि दोनों की सुपरमार्केट अलग अलग खुलती है।

तो ऐसे में रिलायंस रिटेल की शुरुआत आज से 16 वर्ष पहले सन 2006 में हो गयी थी। वर्तमान में 15 हज़ार से भी अधिक जगह पर रिलायंस रिटेल के स्टोर खुल चुके हैं जिनके अंतर्गत देश में लाख से भी ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं। आप इसी से ही रिलायंस रिटेल की प्रसिद्धि का अनुमान लगा सकते हैं कि यह देश में कितना बड़ा सुपरमार्केट बिज़नेस बन गया है।

इसके अंतर्गत कई कंपनियां व फ्रैंचाइज़ी मॉडल आते हैं जिनमे कुछ के नाम जिओ मार्ट, अजिओ, रिलायंस फ्रेश, रिलायंस डिजिटल, रिलायंस फुटप्रिंट, जस्टडायल, नेटमेड्स इत्यादि है। यह सभी कंपनियां देश की जानी मानी कंपनियां है जिनके अंतर्गत करोड़ो का व्यापार किया जाता है।

मोर रिटेल (More retail)

मोर रिटेल को केवल मोर के नाम से भी जाना जाता है जिसके अध्यक्ष आदित्य बिरला जी है। जब देश में सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी का बिज़नेस तेजी से पाँव पसार रहा था तो उसे देश के एक अन्य जानेमाने उद्योगपति आदित्य बिरला जी ने भांप लिया था और उन्होंने तुरंत इस बिज़नेस में कदम रखने का निर्णय ले लिया। उनके द्वारा देश के एक अन्य बड़े सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस मॉडल की शुरुआत की गयी जिसका नाम मोर रिटेल या मोर रखा गया। इसे हम अंग्रेजी भाषा में More रिटेल का बिज़नेस कह सकते हैं।

इसकी स्थापना वर्ष 2007 में की गयी थी और तब से लेकर अभी तक इसके एक हज़ार से भी अधिक आउटलेट खुल चुके हैं। मोर रिटेल के अंतर्गत 11 हज़ार से भी अधिक कर्मचारी काम करते हैं और इसका बिज़नेस भी करोड़ो में होता है। इसके अंतर्गत तीन तरह के बिज़नेस मॉडल काम करते हैं जिन्हें हम मोर सुपरमार्केट, मोर हाइपरमार्ट व मोर मेगा स्टोर के नाम से जानते हैं।

हाइपर (Hyper supermarket franchise)

हाइपर सुपरमार्केट का बिज़नेस मॉडल एकदम नया है और इसके अंतर्गत एक से अधिक श्रेणी की चीज़ों को एक ही छत के नीचे बेचने का काम किया जाता है। कहने का मतलब यह हुआ कि हाइपर सुपरमार्केट के स्टोर में आपको केवल खाने पीने की आइटम ही नही मिलेगी बल्कि यहाँ पर आपको इलेक्ट्रॉनिक्स, ब्यूटी, फैशन, कपड़े, सब्जियां, फल, फर्नीचर इत्यादि कई तरह का सामान मिल जाएगा। एक तरह से कहा जाए तो यह एक मॉल की तरह काम करता है जहाँ पर एक ही दुकान पर सब कुछ खरीदने को मिल जाएगा।

हालाँकि बाकि सुपरमार्केट के बिज़नेस की तरह यह इतना सफल नहीं हो पाया है और यह धीरे धीरे ही आगे बढ़ रहा है। वह इसलिए क्योंकि हाइपर सुपरमार्केट की फ्रैंचाइज़ी लेना बहुत ही महंगा पड़ता है और इन्हें संभालना भी एक व्यक्ति के लिए मुश्किल होता है।

वी मार्ट (V mart franchise)

जब देश में सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी का बिज़नेस शुरू हो रहा था तभी वि मार्ट की भी स्थापना कर दी गयी थी जिसका श्रेय ललित अग्रवाल जी को जाता है। हालाँकि इसके सुपरमार्केट केवल छोटे ही रहते थे और यहाँ पर कुछ ही सामान मिल पाता था। कहने का अर्थ यह हुआ कि वी मार्ट के सुपरमार्केट में आपको कम कंपनियों का कम सामान ही देखने को मिलता था जिस कारण यह बाकियों से पिछड़ता चला गया।

हालाँकि वर्तमान समय में वी मार्ट की फ्रैंचाइज़ी को छोटे शहरों में बहुत पसंद किया जा रहा है और यह वहां तेजी के साथ खुल भी रहे हैं। वी मार्ट की स्थापना 24 जुलाई 2002 को की गयी थी और इसने 20 सालो में अपने कई स्टोर खोल लिए हैं।

विशाल मेगा मार्ट (Vishal mega mart franchise)

आपने अपने शहर में या किसी अन्य शहर में अवश्य ही विशाल मेगा मार्ट से शॉपिंग की होगी। यहाँ पर आपको खाने पीने की आइटम नहीं बल्कि कपड़ों और ऐसी ही आइटम की श्रेणियां खरीदने को मिलेंगी। तो एक तरह से कहा जाए तो यह विशाल मेगा मार्ट खाने पीने या ग्रोसरी की आइटम में सुपरमार्केट नहीं है बल्कि यह कपड़ों की आइटम को बेचने में महारत रखता है।

यहाँ पर आपको हर तरह की वैराइटी के हर उम्र व लिंग के लोगों के कपड़े खरीदने को मिल जाएंगे। विशाल मेगा मार्ट से मिलने वाले कपड़ो का मूल्य भी ज्यादा नहीं होता है और इसे देश का मध्यम वर्ग आसानी से खरीद सकता है। विशाल मेगा मार्ट की स्थापना 31 मई 2010 को हुई थी और तब से लेकर आज तक इसकी शाखाएं देशभर में फैल चुकी है।

स्पेंसर रिटेल (Spencer retail)

यह एक बहुत ही पुराना सुपरमार्केट का स्टोर है जिसकी स्थापना देश में नहीं बल्कि विदेश में हुई थी। स्पेंसर रिटेल का नाम भी उसी के नाम पर ही रखा गया था। तो स्पेंसर रिटेल की स्थापना वर्ष 1863 में ही हो गयी थी और इसकी स्थापना करने वाले दो व्यक्तियों का नाम जॉन विलियम स्पेंसर व चार्ल्स दुर्रांत था। विलियम स्पेंसर के नाम पर ही स्पेंसर रिटेल का नाम रखा गया।

उसके बाद इसे संजीव गोयनका ग्रुप ने खरीद लिया और अब इसकी देशभर के 35 से ज्यादा शहरों में 150 से भी ज्यादा शाखाएं खुल चुकी है। इन शाखाओं में लगभग 5 हज़ार से भी ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं। स्पेंसर रिटेल का हेड ऑफिस पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में स्थित है।

7 इलेवन (7eleven franchise)

वैसे तो भारतीय बाजार में भारतीय सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस का ही कब्ज़ा है लेकिन उन्हीं के बीच एक अमेरिकी कंपनी ने भी अपने कई सुपरमार्केट स्टोर भारत देश में खोले हुए हैं और कई भारतीय वहां जाकर उनके स्टोर से खरीदना पसंद करते (7 eleven kya hai) हैं। हालाँकि जब हमारे देश में अपने खुद के इतने रिटेल स्टोर है तो क्यों एक विदेशी कंपनी के रिटेल स्टोर में जाकर खरीदारी करना। फिर भी हम आपको इसके बारे में जानकारी दे देते हैं क्योंकि यह टॉप 10 सुपरमार्केट बिज़नेस मॉडल में आखिरी स्थान पर आता है।

7 इलेवन अमेरिका की रिटेल कंपनी है जिसकी स्थापना 1927 में ही हो गयी थी। इसके फाउंडर थोम्प्सों थे और वर्तमान में इसके सीईओ जोसफ (7 eleven ke bare mein jankari) है। इसका हेड ऑफिस अमेरिका के टेक्सास में स्थित है। इसके आउटलेट दुनियाभर में 80 हज़ार से भी ज्यादा जगहों में खुले हुए हैं जिनके अंतर्गत देश के लाख के आसपास कर्मचारी काम करते हैं।

download app

टॉप 10 सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस – Related FAQs

प्रश्न: सुपर मार्केट की फ्रेंचाइजी कैसे लें?

उत्तर: सुपर मार्केट की फ्रेंचाइजी लेने के लिए आपको संबंधित सुपरमार्केट के स्टोर या वेबसाइट पर जाकर अपना आवेदन देना होगा और उसके बाद निर्धारित प्रक्रिया के तहत आपको उस सुपरमार्केट की फ्रैंचाइज़ी मिल जाएगी।

प्रश्न: हाइपर बिजनेस क्या है?

उत्तर: हाइपर बिजनेस में एक ही छत के नीचे सब तरह की आइटम को बेचने का कम किया जाता है जिसे हम सुपरमार्केट भी कह सकते हैं।

प्रश्न: मिनी मार्ट कैसे खोलें?

उत्तर: मिनी मार्ट खोलने के लिए आपको एक उत्तम जगह का चुनाव करना होगा और अपने यहाँ के सभी होलसेलर से संपर्क साधना होगा।

प्रश्न: भारत की नंबर एक सुपरमार्केट कौन सी है?

उत्तर: भारत की नंबर एक सुपरमार्केट रिलायंस रिटेल बन चुकी है।

तो इस तरह से आज आपने भारत में काम कर रही टॉप 10 सुपरमार्केट फ्रैंचाइज़ी बिज़नेस के बारे में जानकारी ले ली है। तो कैसा लगा आपको यह जानकर? नीचे कमेंट करके हमें अवश्य बताइयेगा।

शेफाली बंसल
शेफाली बंसल
इनको लिखने में काफी रूचि है। इन्होने महिलाओं की सोशल मीडिया ऐप व वेबसाइट आधारित कंपनी शिरोस में कार्य किया। अभी वह स्वतंत्र रूप में लेखन कार्य कर रहीं हैं। इनके लेख कई दैनिक अख़बार और पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं।
WordPress List - Subscription Form
Never miss an update!
Be the first to receive the latest blog post directly to your inbox. 🙂

Leave a Comment