स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना रजिस्ट्रेशन, उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं | Startup Seed Funding India in Hindi

|| Seed Funding India in Hindi, स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना रजिस्ट्रेशन, स्टार्टअप इंडिया स्कीम, स्टार्टअप इंडिया रजिस्ट्रेशन फीस, स्टार्ट-अप इंडिया स्कीम drishti ias, startup india seed fund scheme, स्टार्टअप उद्योग, महिला उद्यमियों के लिए स्टार्ट-अप इंडिया योजना, स्टार्टअप इंडिया मराठी ||

उद्यमियों के लिए उनके व्यवसाय को विकसित करने के लिए पूंजी की आसान तरीके से उपलब्धता एक बहुत ही महत्वपूर्ण कारक है। कई व्यवसायिक स्टार्टअप हैं जो पूंजी की कमी के कारण शुरू नहीं हो पाते हैं। इसलिए इस प्रकार की स्थिति पर रोक लगाने के लिए भारत सरकार ने स्टार्टअप इंडिया सीड फंड नामक योजना की शुरुआत की (Startup India Seed Fund ke saath shuru kare apna business) है। इस योजना के माध्यम से सरकार उद्यमियों को वित्तीय सहायता प्रदान करती है। जो उनके व्यवसाय को स्थापित करने में सहायक होती है।

एक मजबूत स्टार्टअप इकोसिस्टम तैयार करने के लिए भारत सरकार ने 16 जनवरी 2016 को स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना शुरू की ताकि नए उद्यमियों को अपने व्यवसाय को विकसित करने के अवसर प्रदान किए जा सकें। इस योजना को शुरू करने की घोषणा हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने की (Startup India Seed Fund Scheme in Hindi) थी। इस योजना के माध्यम से स्टार्टअप्स को शुरुआती चरण में इन्क्यूबेटरों के माध्यम से 50 लाख रुपए तक की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।

सरकार ने इस योजना के लिए 945 करोड़ रुपए का बजट आवंटित किया है। यह फंड अवधारणा के प्रमाण, प्रोटोटाइप विकास, उत्पाद परीक्षण, बाजार में प्रवेश और व्यावसायीकरण के लिए उपयोग करेगा। इस योजना के तहत सरकार इन्क्यूबेटरों को फंड मुहैया कराने जा रही  (Procedure To Apply For Startup India Seed Fund Scheme in Hindi) है। इनक्यूबेटर इन फंडों को स्टार्टअप्स को गति प्रदान करने के लिए जिम्मेदार होगा। अगले 4 वर्षों में स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना से 300 इन्क्यूबेटरों के माध्यम से 3600 उद्यमियों को लाभ प्राप्त होगा।

Contents show

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड के साथ शुरू करे अपना बिजनेस (Seed Funding India in Hindi)

इनक्यूबेटर वह संगठन हैं जो नागरिकों के बीच इनोवेशन और उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए काम करते हैं। वह मूल रूप से नए स्टार्टअप्स को फंड और उनका इंफ्रास्ट्रक्चर प्रदान करते हैं ताकि वह विकास, उत्पाद परीक्षण, बाजार में प्रवेश, व्यावसायीकरण आदि की अपनी व्यावसायिक गतिविधियों को अंजाम दे सकें। सरकार इन्क्यूबेटरों को प्रोत्साहन प्रदान करती है और इन्क्यूबेटर्स स्टार्टअप्स को आगे फंड प्रदान करेंगे। स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना 2023 के तहत सरकार 300 इन्क्यूबेटरों को अनुदान देने जा रही है।

इस योजना के तहत स्टार्टअप को प्रदान की जाने वाली धनराशि 50 लाख रुपए तक होगी। इनक्यूबेटर आधिकारिक पोर्टल के माध्यम से स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं। उनके आवेदन का सत्यापन करने के बाद सरकार उन्हें सीड निधि प्रदान करेगी। स्टार्टअप भी इस योजना के तहत सीधे पोर्टल से आवेदन कर सकते हैं और वहां से वे अपनी पसंद के इनक्यूबेटर का चयन कर सकते हैं।

आज इस लेख के माध्यम से हम आपको इस योजना के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं जैसे स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना क्या है। इसके लाभ, उद्देश्य, विशेषताएं, पात्रता मानदंड, आवश्यक दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया, आदि। इसलिए यदि आप इस योजना के बारे में हर एक विवरण को प्राप्त करने के इच्छुक हैं तो आपको इस लेख को अंत तक बहुत ध्यान से पढ़ना होगा।

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना रजिस्ट्रेशन, उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं | Startup Seed Funding India in Hindi

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना का उद्देश्य (Objective of Startup India Seed Fund Scheme in Hindi)

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड का मुख्य उद्देश्य उद्यमियों को उनके स्टार्टअप के लिए धन राशि उपलब्ध कराना है ताकि वह अपने व्यवसायों का अच्छी तरह से विकास कर सकें। इस योजना के माध्यम से अब उद्यमियों को अपने व्यावसायिक विचार के लिए धन प्राप्त करने के लिए बैंकों और वित्तीय संस्थानों पर जाने की आवश्यकता भी है।

वह बस इस योजना के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं और सीधे सरकार से अपने व्यवसाय के लिए धन राशि प्राप्त कर सकते हैं। स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना सही समय पर आपकी पूंजी की जरूरत को पूरा करेगी। ताकि उत्पाद विकास, परीक्षण, बाजार में प्रवेश आदि सही समय पर हो सके। यह योजना बहुत सारे रोजगार भी पैदा करेगी और स्टार्टअप्स के व्यावसायिक विचारों को मान्य करेगी।

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के लाभ और विशेषताएं (Benefits And Features Of Startup India Seed Fund Scheme in Hindi)

स्टार्टअप इकोसिस्टम बनाने के लिए भारत सरकार ने स्टार्टअप इंडिया सीड फंड स्कीम 2023 शुरू की है

उद्यमियों को अपना उद्यम विकसित करने के अवसर प्रदान करने के लिए यह योजना 16 जनवरी 2016 को शुरू की गई थी। इस योजना को शुरू करने की घोषणा हमारे माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने की थी। इस योजना के कई लाभ और विशेषताएं हैं जो कि निम्न प्रकार से हैं।

  • इस योजना के तहत स्टार्टअप्स को शुरुआती चरण में इन्क्यूबेटरों के माध्यम से 50 लाख रुपये तक की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।
  • सरकार ने इस योजना के लिए 945 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है।
  • इस फंड का उपयोग अवधारणा के प्रमाण, प्रोटोटाइप विकास, उत्पाद परीक्षण, बाजार में प्रवेश, व्यावसायीकरण, आदि के लिए किया जाएगा।
  • सरकार इन्क्यूबेटरों को फंड मुहैया कराने जा रही है और स्टार्टअप्स को ये फंड मुहैया कराने की जिम्मेदारी इन्क्यूबेटरों की होगी।
  • अगले 4 वर्षों में 300 इन्क्यूबेटरों के माध्यम से 3600 उद्यमियों को इस योजना का लाभ मिलेगा।

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना का कार्यान्वयन (Implementation Of Startup India Seed Fund Scheme in Hindi)

उद्योग और आंतरिक व्यापार को बढ़ावा देने के लिए इस विभाग ने एक विशेषज्ञ सलाहकार समिति (ईएसी) का गठन किया है जो स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के कार्यान्वयन, निष्पादन और निगरानी के लिए जिम्मेदार होगी। उद्योग एवं आंतरिक व्यापार को बढ़ावा देने वाला विभाग इस योजना के क्रियान्वयन के लिए नोडल एजेंसी होगा।

यह समिति सीड कोष की अनुमति देने के लिए इन्क्यूबेटरों और चुनिंदा इन्क्यूबेटरों द्वारा उपलब्ध कराए गए विवरणों का सत्यापन करेगी। यह कमेटी इनक्यूबेटर की प्रगति पर भी नजर रखेगी। विशेषज्ञ सलाहकार समिति के पास सभी आवश्यक कार्रवाई करने की शक्ति है ताकि धन का कुशलतापूर्वक उपयोग किया जा सके। विशेषज्ञ सलाहकार समिति में निम्नलिखित सदस्य होते हैं।

  • अध्यक्ष
  • जैव प्रौद्योगिकी विभाग के प्रतिनिधि
  • अपर सचिव/संयुक्त सचिव/निदेशक/उप सचिव, डीपीआईआईटी
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के प्रतिनिधि
  • वित्तीय सलाहकार, डीपीआईआईटी
  • इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के प्रतिनिधि
  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के प्रतिनिधि
  • सचिव द्वारा मनोनीत कम से कम तीन सदस्य
  • नीति आयोग के प्रतिनिधि

इन्क्यूबेटरों की सहायता के लिए दिशानिर्देश (Guidelines For Assistance To Incubators in Hindi)

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड ने इन्क्यूबेटरों को फंड देने के लिए कुछ दिशानिर्देश जारी किये हैं। जिनका पता एक इन्क्यूबेटर को हून बहुत आवश्यक है। यह दिशानिर्देश कुछ इस प्रकार से है।

  • इनक्यूबेटरों को अनुदान के वितरण के लिए विशेषज्ञ सलाहकार समिति जिम्मेदार होगी।
  • विशेषज्ञ सलाहकार समिति इनक्यूबेटर को 5 करोड़ रुपए तक का अनुदान 3 या अधिक किश्तों में वितरित करेगी।
  • इनक्यूबेटर अनुदान का उपयोग केवल पात्र स्टार्ट-अप को वितरित करने के लिए ही कर सकता है।
  • विशेषज्ञ सलाहकार समिति के पास अनुदान सहायता की राशि तय करने का अधिकार है।
  • इनक्यूबेटर किसी अन्य खर्च के लिए अनुदान का उपयोग नहीं कर सकता है।
  • प्रबंधन शुल्क के लिए इनक्यूबेटर को 5% सीड निधि अनुदान भी प्रदान किया जाएगा।
  • इनक्यूबेटर को प्रदान किए गए अनुदान की पहली किस्त कुल स्वीकृत राशि की 40% तक होगी।
  • अगली किस्त इनक्यूबेटर द्वारा प्राप्त की जाएगी जब हाथ में नकदी कुल प्रतिबद्धता के 10% से कम हो जाएगी
  • विशेषज्ञ सलाहकार समिति प्रमाण प्रस्तुत करने के 30 दिनों के भीतर अगली किश्त की राशि जारी करेगी।
  • पहली किस्त प्राप्त होने की तिथि से तीन वर्ष के भीतर इनक्यूबेटर द्वारा सहायता राशि का उपयोग किया जाना चाहिए।
  • यदि इनक्यूबेटर ने 2 वर्षों के भीतर अनुदान का 50% उपयोग नहीं किया है, तो इनक्यूबेटर को कोई और राशि प्रदान नहीं की जाएगी और इनक्यूबेटर को अप्रयुक्त निधि को ब्याज के साथ वापस करने की आवश्यकता होगी।
  • इस योजना के तहत चयनित स्टार्टअप को किसी भी प्रकार की फीस देने की आवश्यकता नहीं है।

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना की पात्रता मापदंड (Eligibility Criteria Of Startup India Seed Fund Scheme in Hindi)

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड को प्राप्त करने के लिए आपका सरकार द्वारा जारी कुछ मापदंडो को प्राप्त करना होगा। इन मापदंडो को हासिल करने के बाद ही आप स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना का लाभ ले पाएंगे।

  • स्टार्टअप को DPIIT द्वारा मान्यता प्राप्त होनी चाहिए।
  • आवेदन के समय, स्टार्टअप को दो साल से अधिक पहले शामिल नहीं किया जाना चाहिए।
  • शुरुआत के पास एक उत्पाद या सेवा विकसित करने के लिए व्यावसायिक विचार होना चाहिए जो बाजार के लिए उपयुक्त हो, जिसमें स्केलिंग की गुंजाइश हो, और व्यवहार्य व्यावसायीकरण हो।
  • योजना के लिए इनक्यूबेटर में आवेदन के समय, स्टार्टअप में भारतीय प्रमोटर की शेयरधारिता कंपनी अधिनियम 2013 और सेबी विनियमन 2018 के अनुसार कम से कम 51% या अधिक होनी चाहिए।
  • स्टार्टअप को किसी केंद्र या सरकारी योजना के तहत 10 लाख रुपये या उससे अधिक का कोई समर्थन नहीं मिला होना चाहिए।
  • जल प्रबंधन, अपशिष्ट प्रबंधन, शिक्षा, कृषि खाद्य प्रसंस्करण आदि में अभिनव समाधान तैयार करने वाले स्टार्टअप को वरीयता दी जाएगी।
  • लक्षित समस्या को हल करने के लिए स्टार्टअप को अपने मुख्य उत्पाद या सेवा में प्रौद्योगिकी का उपयोग करना चाहिए।

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के लिए आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज (Required Documents To Apply For Startup India Seed Fund Scheme in Hindi)

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना को हासिल करने के लिए आपके पास कुछ दस्तावेजों का होना आवश्यक है। इन दस्तावेजों के बिना आपको इस योजना का लाभ नही मिल पायेगा। यह दस्तावेजों की सूची निम्न प्रकार से है।

  • आधार कार्ड
  • जीएसटी नंबर
  • बैंक के खाते का विवरण
  • लीज़ अग्रीमेंट
  • परियोजना की विस्तृत रिपोर्ट
  • पासपोर्ट के आकार की तस्वीर
  • मोबाइल नंबर

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया (Procedure To Apply For Startup India Seed Fund Scheme in Hindi)

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड लेने की योजना बना रहे हैं तो आपको पता होना चाहिए कि योजना में आवेदन कैसे किया जाता हैं। यह हम आपको आवेदन करने की प्रक्रिया के बारे में बताने जा रहें हैं। इस योजना का लाभ उठाने के लिए आपको कुछ स्टेप्स को फॉलो करने की जरुर होगी, जो कि इस प्रकार से है।

इनक्यूबेटरों के लिए (For Incubators)

  • सबसे पहले स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना की आधिकारिक वेबसाइट https://www.startupindia.gov.in/ पर जाएं।
स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया (Procedure To Apply For Startup India Seed Fund Scheme in Hindi)
  • जिसके बाद आपके सामने होम पेज खुलेगा। होमपेज पर आपको अप्लाई नाउ पर क्लिक करना होगा। उसके बाद, आपको इनक्यूबेटर सेक्शन के लिए अप्लाई नाउ अंडर पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको क्रिएट अ अकाउंट पर क्लिक करना है। आपके सामने एक नया पेज खुलेगा।
स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया (Procedure To Apply For Startup India Seed Fund Scheme in Hindi)
  • इस नए पेज पर आपको अपना नाम, ईमेल आईडी, मोबाइल नंबर और पासवर्ड दर्ज करना होगा।
  • उसके बाद आपको रजिस्टर पर क्लिक करना है, एक ओटीपी आपकी पंजीकृत आईडी पर भेजेगा। आपको इस ओटीपी को ओटीपी बॉक्स में दर्ज करना होगा
स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया (Procedure To Apply For Startup India Seed Fund Scheme in Hindi)
  • अब आपको सबमिट पर क्लिक करना है। इसके बाद आपको लॉगइन ऑप्शन पर क्लिक करना होगा
  • अब आपको अपने देश का चयन करना है और इनपुट लेटरबॉक्स पर क्लिक करना है। अब आपको नेक्स्ट ऑप्शन पर क्लिक करना है। 
  • आवेदन पत्र आपके सामने आ जाएगा। आपको इस आवेदन पत्र में अपनी मूल जानकारी, संपर्क जानकारी, संपर्क जानकारी और सफलता की कहानियां दर्ज करनी होंगी।
  • इसके बाद आपको सेव प्रोफाइल पर क्लिक करना है। अब आप प्रोफ़ाइल हैं अनुमोदन के लिए मॉडरेटर को भेजेंगे
  • आपको फिर से पोर्टल पर लॉग इन करना होगा।
  • अब आपको सीड फंड योजना के तहत अप्लाई नाउ पर क्लिक करना है।
  • आवेदन पत्र आपके सामने आ जाएगा। आपको इस आवेदन पत्र में सभी आवश्यक विवरण जैसे सामान्य विवरण, इनक्यूबेटर टीम विवरण, इनक्यूबेटर समर्थन विवरण, फंड आवश्यकता विवरण आदि दर्ज करना होगा।
  • उसके बाद, आपको सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड करने होंगे। अब आपको सबमिट पर क्लिक करना है।
  • इस प्रक्रिया का पालन करके आप स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं।

स्टार्टअप्स के लिए (For Startups)

  1. स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आपके सामने होम पेज खुलेगा।
  2. होमपेज पर आपको अप्लाई नाउ पर क्लिक करना होगा। उसके बाद आपको स्टार्टअप सेक्शन के तहत अप्लाई नाउ पर क्लिक करना होगा।
  3. उसके बाद आपके सामने आवेदन पत्र दिखाई देगा। इस आवेदन पत्र में सभी आवश्यक विवरण जैसे आपका नाम, ईमेल पता, मोबाइल नंबर, आदि दर्ज करना होगा।
  4. उसके बाद, आपको सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड करने होंगे।
  5. अब आपको सबमिट पर क्लिक करना है।
  6. इस प्रक्रिया का पालन करके आप स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के तहत स्टार्टअप के रूप में आवेदन कर सकते हैं।

पोर्टल पर लॉग इन करने की प्रक्रिया (Procedure To Login On The Portal in Hindi)

  • स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना की आधिकारिक वेबसाइट https://seedfund.startupindia.gov.in/ पर जाएं। अब आपके सामने होम पेज खुलेगा।
  • अब आपको लॉग इन पर क्लिक करना है। पोर्टल पर लॉग इन करें।
  • इसके बाद आपको अपनी कैटेगरी चुननी है जो इस प्रकार है –
  1. इनक्यूबेटर/स्टार्टअप
  2. डीपीआईआईटी/ईएसी
  • अब आपको अपना यूजरनेम और पासवर्ड डालना है।
  • उसके बाद आपको लॉग इन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रक्रिया का पालन करके आप पोर्टल में लॉग इन कर सकते हैं।

स्टार्टअप इंडिया सीड फंड के साथ शुरू करे अपना बिजनेस – Related FAQs

प्रश्न: भारत में स्टार्टअप्स को सीड फंडिंग कैसे मिलती है?

उत्तर: स्टार्टअप इंडिया सीड फंडिंग योजना के सभी आवेदकों को इनक्यूबेटर सीड प्रबंधन समिति नामक एक समिति बनानी होगी। यह समिति सीड फंड के लिए स्टार्टअप्स का चयन और मूल्यांकन करेगी। स्टार्टअप्स को टीम प्रोफाइल, समस्या विवरण और उत्पाद अवलोकन जैसे विवरण प्रस्तुत करने होंगे।

प्रश्न: क्या मुझे स्टार्टअप के लिए सीड फंडिंग मिल सकती है?

उत्तर: स्टार्टअप इंडिया सीड फंड स्कीम (SISFS) स्टार्टअप को अवधारणा के प्रमाण, प्रोटोटाइप विकास, उत्पाद परीक्षण, बाजार में प्रवेश और व्यावसायीकरण के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है। योग्य स्टार्टअप स्टार्टअप इंडिया पोर्टल पर योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।

प्रश्न: भारत में औसत सीड फंडिंग क्या है?

उत्तर: अधिकांश संस्थापक आमतौर पर सीड दौर में 10% से 20% इक्विटी बेचते हैं।

प्रश्न: सीड फंडिंग कौन प्रदान करता है?

उत्तर: सीड फंडिंग निजी निवेशकों द्वारा प्रदान की जाती है – आमतौर पर कंपनी में इक्विटी हिस्सेदारी के बदले या किसी उत्पाद के मुनाफे में हिस्सेदारी के लिए।

हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर आप स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना का लाभ उठा पाएंगे और अपने बिजनेस को शुरू कर पाएंगे और उसे सफल बना पाएंगे। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे अधिक से अधिक शेयर करें।

Leave a Comment