Social Media , यूथ और जनरिलिज़्म को कैसे बदल रहा है

Social Media की बादशाहत पूरे विश्व के आज सर  चढ़कर बोल रही है।आज हर आयु वर्ग का व्यक्ति  इसकी गिरफ्त में हैं। पिछले दो दशकों में इंटरनेट के कारण संवाद के तरीकों में एक क्रांतिकारी परिवर्तन हुआ है। हमारे विचार और प्रतिक्रिया का आदान प्रदान करने में काफी कुछ बदलाव किया है। आज डिजिटल युग का जमाना है। और डिजिटलिकरन ने हमारे जीवन के लगभग हर पहलू को छुआ है और वैश्विककरण के माध्यम से सभी सीमाओं को पार करते हुए दुनिया को एक छोटी सी जगह बना दिया है । जिसमे Social Media का महत्वपूर्ण योगदान है ।

social media

Social Media और यूथ –

वर्तमान समय में इंटरनेट पर लगभग 3 अरब यूज़र्स है। जिनमे से लगभग 2 अरब एक्टिव Social Media अकॉउंट है। युवा आज ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया पर एक्टिव है। उम्र दराज व्यक्ति भी इससे अछूते नही है। लगातार इसका प्रचार और प्रसार हो रहा है। और सोशल मीडिया आज हमारे जीवन का एक अनिवार्य पहलू बन चुका है। आज हम बिना सोशल मीडिया के जीवन की कल्पना भी नही कर सकते । कही न कही हर व्यक्ति इससे प्रभावित है।

यदि हम इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया द्वारा किये गये एक सर्वे से जारी आंकड़ों की माने तो भारत के शहरी इलाकों में प्रत्येक चार में से तीन व्यक्ति Social Media का यूज किसी न किसी रूप में करते है। यह सर्वे इंडिया के 35प्रमुख शहरो का अध्यन किया गया। इस रिपोर्ट में 35 प्रमुख शहरों के आंकडे इकट्ठा किये गये जिनके आधार पर यह बताया गया कि 77 प्रतिशत उपयोगकर्ता Social Media का इस्तेमाल मोबाइल से करते हैं। आज भारत में 25 साल से ऊपर आयु की आबादी का 50 प्रतिशत और 35 साल से कम आयु का 65 प्रतिशत सोशल मिडिया का यूज कर रहे है।

इसे भी पढ़े –

अमेरिका जैसे विकसित देशों में जहाँ 2005 में मात्र 12% युवा Social Media का उपयोग करते थे। आज यह संख्या बढ़कर 90% के पार हो गई है । और आज अमेरिका अपने बिजिनेस मॉडल को तेजी से बदलने के लिए सोशल मीडिया का यूज़ कर रहा है।

Social Media और जनरिलज़्म –

सोशल मीडिया के उदय ने पत्रकारिता (Journalism) के सिद्धांत को पूरी तरह बदल कर रख दिया है। विकसित और विकास शील दोनों प्रकार के देशों में प्रिंट उद्योग में भारी गिरावट आई है। और इंटरनेट के उपयोग में काफी वृद्धि हुई है ।

पारंपरिक न्यूज़ और प्रिंट मीडिया (जैसे मैगज़ीन वैगरह) की तुलना में आज लोग ऑनलाइन न्यूज़ चैनल, न्यूज़ पेपर , मैगज़ीन, न्यूज़ अग्गरेगटर्स, और ब्लॉग्स अधिक पढ़े जाते है। और व्यापक रूप से लोकप्रिय भी हैं ।
2000 के दशक से वेबसाइट और मोबाइल एप्पलीकेशन में प्रकाशित करना प्रचलित हो गया था। और समाचारों के लिए ये लोकप्रिय स्रोत भी बन गए है। Social Media आज समाचार और अन्य सभी प्रकार की जर्निलिज़्म के लिए प्रमुख Outlet बन चुका है।

आज पत्रकारिता के लिये फेसबुक , व्हाट्सएप और ट्विटर जैसे Social Media लगभग 88% उपयोग किया जाता हैं । एक API Survey के अनुसार, 86% सोशल मीडिया उपयोगकर्ता Breaking news के लिए पारंपरिक मीडिया आउटलेट्स की जगह Twitter को पसंद करते हैं । आज मीडिया के लिये लाइव स्ट्रीम वीडियो और कंटेंट इंडस्ट्री की स्थिरता बढ़ती जा रही है। आज ब्लॉग के साथ vlog भी काफी पसंद किए जा रहे है।
आज Social Media ने प्रिंट मीडिया का पूरा का पूरा परिदृश्य ही बदल दिया है।

Spread the love

4 thoughts on “Social Media , यूथ और जनरिलिज़्म को कैसे बदल रहा है”

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।