सिलाई का बिज़नेस कैसे करे? सिलाई सीखने का कोर्स, निवेस, योग्यता, कमाई

|| Silai ka buisness kaise kare, सिलाई का प्रोजेक्ट, घर बैठे सिलाई का काम चाहिए 2023, मुझे सिलाई का काम चाहिए, एक्सपोर्ट सिलाई का काम, सिलाई का काम चाहिए घर बैठे, रेडीमेड सिलाई का काम, सिलाई सीखने का कोर्स, सिलाई के क्षेत्र में रोजगार के अवसर ||

भारत देश में बिज़नेस करने की कोई कमी नही है और आप चाहे तो अपनी इच्छा अनुसार किसी भी बिज़नेस को शुरू कर सकते हैं या उसमे निवेश कर सकते हैं। बढ़ते ज़माने के साथ साथ हर तरह के बिज़नेस में उछाल आया है और कई नए तरह के बिज़नेस भी खुलने लगे हैं लेकिन एक ऐसा बिज़नेस है जो पहले भी उतना ही चलता था और आज भी चलता है और आगे भी (Silai ka buisness kaise shuru kare) चलता रहेगा। वह बिज़नेस है सिलाई का बिज़नेस जिसे हम टेलरिंग का काम भी कह देते हैं।

अब मनुष्य चाहे कितना ही आगे क्यों ना बढ़ जाए, वह कपड़े पहनना तो छोड़ेगा नही। जब मनुष्य इस धरती पर आया ही था और आदिमानव था तब भी वह अपने शरीर को घास फूस से ढककर रखता था। अब तो उसे कई तरह के कपड़े पहनने को चाहिए (Silai ka kaam kaise shuru kare) होते है। तभी तो हमने कहा कि बदलते ज़माने के साथ साथ सिलाई के बिज़नेस में उतार आने की बजाए चढाव देखने को ही मिला है। अब किसी को कपड़े सिलवाने होते है तो किसी को पहले से लिए हुए कपड़े सही करवाने होते है।

तो इसी कारण भारत में जगह जगह सिलाई का बिज़नेस शुरू हो गया है। पहले जो काम घर से ही हुआ करता था, वह अब प्रोफेशनल दुनिया में भी जगह बना (Tailoring buisness plan in Hindi) रहा है। अब किसी सिलाई की दुकान पर हर तरह के कपड़े सील कर या उन्हें अल्टर करके दिया जाता है। तो यदि आप भी सिलाई का बिज़नेस शुरू करने का सोच रहे हैं तो आज हम आपके साथ इसी विषय पर ही चर्चा करने वाले हैं। आज के इस लेख में आप यह जान पाएंगे कि किस तरह से आप अपना खुद का सिलाई का बिज़नेस शुरू कर लाखों रुपए कमा सकते हैं।

Contents show

सिलाई का बिज़नेस कैसे करे? (Silai ka buisness kaise kare)

किसी भी बिज़नेस को शुरू करने से पहले उसके बारे में शुरू से लेकर अंत तक सब जानना जरुरी होता है। तभी आप उस बिज़नेस को सही से शुरू कर पाते हैं और उसमे अपना धन निवेश कर (Tailoring buisness kaise kare) पाते हैं। अब यदि बात सिलाई के बिज़नेस की हो रही है तो उसमे भी यही नियम लागू होता है। कहने का अर्थ यह हुआ कि सिलाई का काम कोई छोटा मोटा काम नही होता है और ना ही यह कुछ दिनों में ही शुरू करके सफल होने वाला बिज़नेस (Sewing related buisness ideas in Hindi) होता है। इसके लिए आपको पूरी मेहनत करने की आवश्यकता होती है।

तो यदि आप अपने शहर में या कही और सिलाई का बिज़नेस शुरू करने का सोच ही रहे हैं तो आज हम आपके साथ इस बिज़नेस के बारे में शुरू से लेकर अंत तक संपूर्ण जानकारी साँझा करने वाले हैं। इसको जानने के बाद आप जल्द से जल्द अपना सिलाई का बिज़नेस शुरू कर पाएंगे और उसके जरिये बहुत सारा पैसा कमाना शुरू कर पाएंगे।

सिलाई का बिज़नेस कैसे करे? सिलाई सीखने का कोर्स, निवेस, योग्यता, कमाई

सिलाई का बिज़नेस क्या होता है? (Silai ka buisness kya hota hai)

तो सबसे पहले तो आप यह जान ले कि आखिरकार यह सिलाई का बिज़नेस होता क्या है और इसमें क्या कुछ किया जाता है। यदि आप इसे घर से सिलाई का काम करने वाली महिलाओं से जोड़कर देख रहे हैं तो आप गलत कर (Silai ka business kya hota h) रहे हैं। दरअसल जो महिलाएं अपने घर पर सिलाई का काम करती हैं उनके द्वारा मुख्यतया कपड़ों को अल्टर करना, उसमे कुछ कांट छांट करना या कुछ सामान्य छोटे मोटे कपड़ों को बनाना शामिल होता है।

जबकि जो काम सिलाई के बिज़नेस में किया जाता है वह बिल्कुल ही अलग होता है। यह एक प्रोफेशनल या पेशेवर काम होता है जिसमे हर तरह के कपड़ों का निर्माण या यूँ कहे कि सिलाई का काम किया (Tailoring buisness in Hindi) जाता है। अब आपको अपना कुर्ता पायजामा सिलवाना हो या कोई पेंट शर्ट, आप उसके लिए दर्जी की दुकान पर जाते हैं। तो उस दर्जी के द्वारा जो काम किया जा रहा है उसे ही सिलाई का बिज़नेस कहते है। वह एक पेशेवर बिज़नेस हो जाता है जहाँ पर आपके किसी भी कपड़े को सील कर दिया जाता है।

सिलाई के बिज़नेस में काम क्या होता है? (Silai ke buisness me kya kaam hota hai)

अब जब आपने यह जान लिया है कि घर पर किया जाने वाला सिलाई का काम और पेशेवर तरीके से किया गया सिलाई का बिज़नेस अलग अलग होता है तो आपको यह भी जानना चाहिए कि इस सिलाई के बिज़नेस में क्या कुछ काम होता है। अब जो सिलाई का काम घर पर बैठकर महिलाएं करती हैं वह सब तो इसमें आता ही है किंतु इसके साथ साथ इसमें और भी सब काम आ जाता है। इसके कुछ उदाहरण या काम इस प्रकार हैं:

  • आपको कोई नया कपड़ा सिलवाना हो फिर चाहे वह पेंट शर्ट हो या कुर्ता पायजामा या कोट पेंट या लहंगा, वह सब सिलाई के बिज़नेस से किया जा सकता है।
  • सिलाई के बिज़नेस में शादियों तक के कपड़े सीलकर दिए जाते हैं जैसे कि दुल्हन का लहंगा, दुल्हे के लिए सूट इत्यादि।
  • इसमें किसी कपड़े को अपने साइज़ के अनुसार फिट करवाना हो या उसमे कुछ बदलाव करवाना हो तो वह भी सिलाई के बिज़नेस में किया जाता है।
  • कपड़ो को अल्टर करना या उसमे काट छांट करना भी सिलाई के बिज़नेस में ही किया जाता है।
  • कपड़ों की सिलाई से जुड़ा कोई भी अन्य काम इन सिलाई की दुकानों पर ही किया जाता है।

सिलाई का बिज़नेस शुरू करने से पहले मार्किट रिसर्च (Silai ke buisness ke liye market research kaise kare)

अब जब आप अपना खुद का सिलाई का बिज़नेस शुरू करने जा रहे हैं तो उससे पहले मार्किट रिसर्च करना आवश्यक हो जाता है। बिना इसके यदि आप सिलाई का काम शुरू करेंगे तो आपको ही नुकसान होने की संभावना है। तो सिलाई का बिज़नेस शुरू करने से पहले आप यह देखे कि आपके शहर में पहले से कितने लोग इस तरह के बिज़नेस में हैं और उनके द्वारा कितना लाभ कमाया जा रहा है। आपको उनकी स्ट्रेटेजी को देखना होगा और उसके बिज़नेस मॉडल को समझना होगा।

साथ ही आपको यह भी देखना होगा कि आपके शहर में लोगों को किस तरह के कपड़े ज्यादा पसंद आते हैं और उनके द्वारा किस समय पर किस तरह के कपड़ो की मांग ज्यादा रहती हैं। उसके लिए वे किस तरह की दुकान पर जाना पसंद करते हैं या फिर कहां से उन कपड़ो को सिलवाना पसंद करते हैं इत्यादि। इसलिए आप सिलाई का बिज़नेस शुरू करने से पहले बाजार की स्थिति का सही से आंकलन कर लेंगे तो आपको ही आगे बिज़नेस करने में आसानी होगी।

सिलाई का बिज़नेस शुरू करने की स्ट्रेटेजी बनाना (Silai ke buisness ke liye strategies in Hindi)

मार्किट रिसर्च तो कर ली और उससे आपको बाजार की स्थिति का भी आंकलन हो गया लेकिन आपने इसके लिए किस तरह की कार्य योजना को बनाया है, यह भी तो बहुत महत्वपूर्ण योगदान रखता है। आप चाहे किसी भी तरह का बिज़नेस करे लेकिन यदि आप एक सही कार्य योजना को नही बनायेंगे तो फिर आपका बिज़नेस धरा का धरा रह जाएगा। इसलिए किसी भी बिज़नेस को शुरू करने से पहले उसके लिए एक सही स्ट्रेटेजी का बनाया जाना बहुत आवश्यक हो जाता है।

सिलाई के बिज़नेस में आप कहां से कच्चा माल और मशीन को खरीदने वाले हैं, उसकी गुणवत्ता कैसी होगी, उसके लिए आपने कितने पैसा निवेश करने का सोचा हुआ है, आप उसके लिए सही दर्जियों का चुनाव कैसे करेंगे और आपके द्वारा कपड़ो को सिलने का क्या दाम निर्धारित किया गया है इत्यादि। ऐसे ही सभी बातों को ध्यान में रखकर अपनी स्ट्रेटेजी बनायेंगे और उसके अनुसार आगे बढ़ेंगे तो आपको ही आसानी होगी।

सिलाई का बिज़नेस करने के लिए जगह का चुनाव

अब आती है सिलाई का बिज़नेस शुरू करने के लिए सही जगह का चुनाव करने की। आपके सिलाई के बिज़नेस में जो कमाई होगी वो सही जगह के चुनाव पर ही निर्भर करेगी। आप अपने शहर में किस जगह पर सिलाई के बिज़नेस की दुकान खोलने जा रहे हैं यह बहुत ही महत्वपूर्ण कदम होता है। आपने अक्सर देखा होगा कि जिन सिलाई के बिज़नेस का काम बहुत अच्छा चलता है उनकी दुकान मुख्य रूप से आपके शहर में किसी ऐसी जगह पर होती है जहाँ पर कपड़ो की दुकान अधिक हो या जहाँ इससे जुड़ा काम ज्यादा मात्रा में होता हो।

अब अपने शहर के बाजार में या कपड़ा मार्केट में इसकी दुकान खोलना तो एक अच्छा कदम ही माना जाएगा किंतु यदि आपके पास ऐसी किसी जगह पर जमीन नही हैं तो भी चिंता करने की जरुरत नही है। आप किसी अन्य मुख्य जगह जहाँ पर लोगों का आना जाना लगा रहता हो या जहाँ पर अन्य ऐसी ही दुकाने खुलती हो और वहां पर अच्छा बिज़नेस होता हो, वहां भी आप अपनी सिलाई की दुकान खोल कर अच्छा लाभ कमा सकते हैं। इसलिए आप पहले एक सही जगह का चुनाव कीजिए और उसके बाद ही आगे की योजना बनाए।

सिलाई का बिज़नेस करने के लिए आवश्यक कच्चे माल की व्यवस्था करना

अब जब आपने दुकान की जगह का चुनाव कर लिया है तो उसके लिए सभी कच्चे माल की भी तो जरुरत होगी। सिलाई के बिज़नेस में कई तरह के कच्चे माल की जरुरत होती हैं जैसे कि आप उसके लिए धागा कहां से लेंगे, लगाने के लिए कपड़ा और बटन। अब इसमें भी आपके पास विविधता होनी चाहिए क्योंकि आपको कई तरह के कपड़ों की सिलाई करनी होगी।

इसी के साथ आपको मुख्य तरह के कपड़े भी अपना यहाँ रखने पड़ सकते हैं क्योंकि बहुत से लोग बिना कपड़े के भी आपसे सिलाई का काम करवाने आएंगे और आपको ऑर्डर देकर चले जाएंगे। ऐसे में यदि आपके पास आवश्यक कच्चा माल ही नही है या इसकी कमी है तो अवश्य ही आपका काम सही होते हुए भी नही चल पायेगा और ग्राहक किसी अन्य सिलाई की दुकान पर अपने कपड़े सिलवाने का ऑर्डर दे देंगे। इसलिए पहले से ही उसकी उचित व्यवस्था कर रख लीजिए।

सिलाई का बिज़नेस करने के लिए मशीनरी की व्यवस्था करना (Machinary for tailoring Buisness in Hindi)

अब यदि आप चाहते हैं कि आपका सिलाई का बिज़नेस अच्छा चले और वह तेज गति से भी चले तो इसके लिए आपको आधुनिक मशीनो की खरीदारी करनी होगी। पहले के ज़माने में सामान्य सिलाई मशीन से भी काम चल जाता था और यदि यह काम घर से किया जा रहा है तो उसमे भी सामान्य सिलाई मशीन ही काम आती है जो हाथ से (Tailoring equipment list in Hindi) चलती है। वही यदि आप इसका बिज़नेस करने जा रहे हैं तो आपको बड़ी और आधुनिक सिलाई मशीन खरीदनी होगी।

यह मशीन पैरों से चलने वाली होती है और बदलते ज़माने के साथ साथ इसमें भी कई तरह की वैराइटी आने लगी हैं जिनका ध्यान आपको रखना होगा। यह एक बार का ही निवेश होगा और इसमें आपको शुरुआत से ही ध्यान रखना होगा। यदि आपने शुरू में ही कुछ अच्छी सिलाई की मशीन खरीद ली तो आगे चलकर यह बहुत लाभ कमाकर देंगी।

सिलाई के बिज़नेस में निवेश करना (Investment for tailoring Buisness plan in Hindi)

हर किसी बिज़नेस को शुरू करने में धन की आवश्यकता तो होती ही है। अब यह धन कितना होगा और आप कितना तक निवेश कर सकते हैं, यह भी मायने रखता है। इसलिए आपको अपना एक बजट बनाकर चलना चाहिए क्योंकि बाद में चलकर पैसों की दिक्कत आपके पूरे बिज़नेस को ठप करवा सकती है। सामान्य तौर पर सिलाई का बिज़नेस शुरू करने के लिए आने वाल खर्चा 10 से 20 लाख तक का हो सकता है। हालाँकि इसमें जगह की खरीद का खर्चा शामिल नही है।

इन रुपयों में आपको सिलाई की तरह तरह की मशीन और आवश्यक कच्चा माल खरीदना होगा। साथ ही आप जिन लोगों को वहां काम करने के लिए रख रहे हैं, उन्हें भी तो आपको भुगतान करना होगा। तो इतना पैसा तो हाथ में लेकर ही चलिए। अब यह आपको देखना होगा कि आप किस स्तर पर सिलाई का बिज़नेस शुरू करने जा रहे हैं क्योंकि लगने वाला पैसा उसी पर ही निर्भर करेगा।

सिलाई का बिज़नेस करने के लिए दर्जी का चुनाव

सब चीजों की व्यवस्था करने के बाद आको काम करने के लिए कुछ लोगों को रखना होगा। आप जिस भी सिलाई की दुकान पर जाते होंगे वहां पर आपको 2 या 2 से अधिक दर्जी काम करते हुए दिख जाएंगे। इसलिए आपको भी कम से कम 2 दर्जी की व्यवस्था तो करनी ही होगी। सिलाई का बिज़नेस कोई छोटा मोटा बिज़नेस नही होता है और यदि आपके पास ग्राहक आने लग जाए तो आपके पास काम की कभी कमी नही होगी। किंतु यदि आप समय पर उनका काम नही करके दे पा रहे हैं या उसमे देर हो रही हैं तो इससे सामने वाले पर आपका गलत इम्प्रैशन पड़ता है।

इसलिए आप अपनी दुकान पर काम और गति के अनुसार दर्जी का चुनाव कीजिए। इनकी संख्या कम से कम दो तो हो और आप अधिकतम कितने भी लोग अपने यहाँ रख सकते हैं। यह दर्जी भी ऐसे होने चाहिए जो अपना काम सफाई से और तेज गति के साथ कर सके। ये दर्जी जो काम करके देंगे वही आपकी ग्राहकी को बढ़ाने के जिम्मेदार होंगे। इसलिए पूरी जांच परख करके ही आप दर्जियों का चुनाव अपना सिलाई का बिज़नेस चलाने के लिए करे।

सिलाई का बिज़नेस शुरू करने के लिए लोन लेना (Tailoring buisness loan in Hindi)

आपने अपना बजट तो बना लिया लेकिन कई बार यह आपके बजट से ऊपर चला जाता है या फिर आपके पास लगाने के लिए इतना पैसा नही (Buisness start krne ke liye loan kaise le) होता है। इस स्थिति में आपको सरकारी बैंक या प्राइवेट बैंक या अन्य किसी जगह से लोन लेने की आवश्यकता महसूस होती है। तो इसके बारे में भी प्लानिंग पहले से ही करके रखनी होगी अन्यथा आखिरी समय में बहुत दिक्कते आ सकती हैं।

तो आप पैसों की व्यवस्था कहां से करेंगे और उसके लिए लोन किधर से लेने वाले हैं, यह सब पहले से ही सोच कर रख ले। भारत सरकार के द्वारा भी अपना खुद का बिज़नेस शुरू करने वालो के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना और कौशल विकास योजना के तहत कई तरह के लोन दिए जाते हैं। आप उनके तहत भी इसके लिए आवेदन कर सकते हैं और कम ब्याज दर पर लोन हासिल कर सकते हैं।

सिलाई का बिज़नेस शुरू करना (How to start Tailoring buisness in Hindi)

अब सभी चीजों की व्यवस्था हो चुकी है तो आप सिलाई का बिज़नेस शुरू कर सकते हैं। इसके लिए आप शुरूआती तौर पर अपने दाम कुछ कम रखे या फिर अच्छी गुणवत्ता की सिलाई करके दे। आपके पास शुरूआती तौर पर जो भी ग्राहक आये, आप उनके साथ बहुत अच्छे से पेश आये और उन्हें अपने यहाँ से सिलवाई करने के फायदे (Tailoring startup buisness plan in Hindi) बताये। यदि उनके द्वारा किसी अन्य ग्राहक को भी आपकी दुकान पर लाया जा रहा है या उनके द्वारा रेफरल किया जा रहा है तो आप उन्हें स्पेशल डिस्काउंट या ऑफर दे सकते हैं।

तो इस तरह से आप अपना सिलाई का बिज़नेस शुरू कर सकते हैं। अब आप अलग अलग काम के लिए अलग अलग दाम भी निर्धारित कर लेंगे तो बेहतर (Silai ka buisness kaise start kare) रहेगा। जैसे कि कुर्ता पायजामा सिलवाने के लिए यह दाम तो लहंगा सिलवाने के लिए यह दाम, किसी कपड़े को अल्टर करवाना है तो वह दाम इत्यादि। आप एक निश्चित दाम रखेंगे तो लोगों का भी आपके प्रति भरोसा मजबूत होगा और वे सिलाई के काम के लिए आपके पास ही आया करेंगे।

सिलाई के बिज़नेस के में होने वाला फायदा (Profit in Tailoring buisness plan in Hindi)

चूँकि इसके बारे में हमने आपको पहले ही थोड़ा बहुत बता दिया है कि सिलाई के बिज़नेस में आपको बहुत फायदा देखने को मिल सकता है। वह इसलिए क्योंकि लोगों के कपड़ो में वैराइटी बढ़ते ही जा रही है। इसके लिए वे अलग अलग तरह के कपड़े सिलवाने लगे हैं या उन्हें अल्टर करवाने (Tailoring buisness me profit kitna hota hai) लगे हैं। कपड़ो की दुकान पर जो कपड़े मिलते हैं, वे जरुरी नही कि सभी तरह के नाप के हो। ऐसे में उनके द्वारा इसको अल्टरेशन के लिए दिया जाता है।

तो यदि आप अपने शहर में एक सही जगह पर सिलाई की दुकान खोल लेंगे तो दिन प्रतिदिन आपकी आय में बढ़ोत्तरी देखने को मिलेगी। इसी के साथ यदि आपके द्वारा चुने गए दर्जी अपना काम अच्छे से करके देते हैं तो आपका काम ओर तेज गति के साथ आगे बढ़ने (Silai buisness me profit kitna hota hai) वाला है। लोगों को आपका काम पसंद आने लगा तो वे अपने सिलाई के काम के लिए आपके पास ही आया करेंगे और साथ ही वे अपने जानने वाले लोगों को भी आपके यहाँ आने के लिए ही कहेंगे।

तो इस तरह से सिलाई के बिज़नेस में आपका काम ही होगा जो आपकी उन्नति करवाएगा। आपको हमेशा अपना काम गुणवत्ता पूर्वक करना होगा और वो भी सही दाम पर। यदि आपका काम चल जाता हैं तो आप महीने का 30 हज़ार से भी अधिक कमाने लग सकते हैं। फिर आप इस काम को और बढ़ा सकते हैं जिसके साथ साथ आपकी आमदनी भी बढ़ती ही चली जाएगी।

सिलाई के बिज़नेस में होने वाले नुकसान (Silai ke business me nuksan kya hota hai)

सिलाई के बिज़नेस में होने वाले फायदों के साथ साथ यदि इसमें होने वाले नुकसान पर भी एक नज़र डाल ली जाए तो यह उचित होता है। वह इसलिए क्योंकि किसी भी बिज़नेस को शुरू करने से पहले उसके फायदे और नुकसान दोनों का ही आंकलन करना उचित (Silai ke buisness me hone vale nuksan) रहता है। ऐसे में सिलाई के बिज़नेस में भी कई तरह के नुकसान देखने को मिल सकते हैं। उदाहरण के रूप में आपके द्वारा सिला गया कपड़ा हमेशा ग्राहक को फिट आये, ऐसा नही होगा।

कई बार ऐसा देखने को मिलेगा कि वह कपड़ा उसके लिए छोटा या बड़ा रह गया है। तो ऐसे में आपको वही काम फिर से करना होगा लेकिन इस बार बिना किसी (Loss in Tailoring buisness in Hindi) दाम के। कहने का अर्थ यह हुआ कि यदि आप उसके मन मुताबिक या साइज़ के अन्जुसर कपड़ा सील कर नही देते हैं तो आपको उसे सही करके देना होगा और वो भी बिना उनसे एक्स्ट्रा चार्ज लिए।

download app

इसी के साथ यदि किसी कारणवश आपके ग्राहक को आपकी सिलाई का काम पसंद नही आता है तो इससे उसके मन में आपके लिए गलत छवि बन जाएगी जो आपके सिलाई के बिज़नेस को कम करने का ही काम करेगी। इसलिए आपको बहुत ही मन लगाकर और सावधानी से इस बिज़नेस को करना होगा ताकि किसी तरह का कोई नुकसान ना होने पाए।

सिलाई का बिज़नेस कैसे करे – Related FAQs

प्रश्न: सिलाई में अपना करियर कैसे बनाएं?

उत्तर: सिलाई में अपना करियर बनाने के लिए पहले आपको सिलाई का कोर्स करना होगा जिसमे आपको 2 से 3 महीने का ही समय लगेगा। उसके बाद आप सिलाई का काम शुरू कर सकते हैं।

प्रश्न: अपना खुद का बिजनेस कैसे शुरू करें?

उत्तर: अपना खुद का बिज़नेस शुरू करने के लिए पहले आपको एक प्रॉपर प्लानिंग और कार्य योजना को बनाने की आवश्यकता है। उसके बाद आप उसकी दिशा में आगे बढ़े।

प्रश्न: सिलाई का कोई कोर्स है क्या?

उत्तर: हां, सिलाई करने के कई तरह के कोर्स होते हैं जिन्हें आप कर सकते हैं।

प्रश्न: सिलाई कोर्स कितने महीने का होता है?

उत्तर: सिलाई कोर्स 3 महीने तक का होता है।

तो कुछ इस तरह से आप अपना सिलाई का बिज़नेस शुरू कर सकते हैं और उसके जरिये बहुत सारा पैसा कमाना शुरू कर सकते हैं। आज के इस लेख में आपने अपना सिलाई का बिज़नेस शुरू करने के ऊपर संपूर्ण जानकारी ले ली हैं। आशा हैं कि आप जल्द से जल्द अपना खुद का सिलाई का बिज़नेस शुरू कर पाएंगे।

शेफाली बंसल
शेफाली बंसल
इनको लिखने में काफी रूचि है। इन्होने महिलाओं की सोशल मीडिया ऐप व वेबसाइट आधारित कंपनी शिरोस में कार्य किया। अभी वह स्वतंत्र रूप में लेखन कार्य कर रहीं हैं। इनके लेख कई दैनिक अख़बार और पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं।
WordPress List - Subscription Form
Never miss an update!
Be the first to receive the latest blog post directly to your inbox. 🙂

Leave a Comment