महाराष्ट्र श्रवण बाल सेवा राज्य निवृत्ति वेतन योजना आवेदन, पात्रता, दस्तावेज

श्रावण बाळ योजना माहिती, विधवा महिलांसाठी महाराष्ट्र शासनाच्या विविध योजना, श्रावण बाळ योजना फॉर्म PDF, श्रावण बाळ योजना औरंगाबाद, संजय गांधी निराधार योजना 2020, महाराष्ट्र श्रवण बाल सेवा राज्य निवृत्ति वेतन योजना आवेदन, पात्रता, दस्तावेज, महिलांसाठी महाराष्ट्र शासनाच्या विविध योजना 2020, श्रावण बाळ सेवा योजना, संजय गांधी निराधार योजना फॉर्म online

लगभग 65 साल की उम्र आते आते शरीर जवाब दे जाता है। इस उम्र में शरीर में ताकत बेहद कम रह जाने से लोग बाग काम रोजगार आदि करने में सक्षम नहीं रह जाते। घर-परिवार में उनको बोझ समझ लिया जाता है। ऐसे में उन्हें अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने में समस्या का सामना करना पड़ता है। ऐसे ही बेसहारा वरिष्ठ नागरिको की सहायता के लिए सरकार ने महाराष्ट्र श्रवण बाल सेवा राज्य निवृत्ति वेतन योजना आरंभ की है।

इस योजना के तहत वरिष्ठ नागरिकों को वित्तीय सहायता के रूप में एक निश्चित राशि प्रदान की जाएगी। क्या आपको इस योजना के संबंध में जानकारी है? मसलन यह योजना क्या है? इसका लाभ कौन ले सकता है आदि आदि? यदि आपका जवाब  नहीं में है तो दोस्तों इस post को ध्यान से पढ़िए। आज हम आपको इस योजना के बारे में विस्तार से बताएंगे। आइए, शुरू करते हैं-

महाराष्ट्र श्रवण बाल सेवा राज्य निवृत्ति वेतन योजना क्या है?

दोस्तों, महाराष्ट्र श्रवण बाल सेवा राज्य निवृत्ति वेतन योजना के तहत राज्य सरकार लाभार्थी को 600 रुपए प्रति महीना की पेंशन राशि देती है। दूसरे शब्दों में आप यह कह सकते हैं कि महाराष्ट्र श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना का उद्देश्य राज्य के निराश्रित वृद्ध व्यक्तियों को मासिक पेंशन प्रदान करना है, ताकि वह आत्म निर्भर बन सकें। बहुत से वरिष्ठ नागरिकों के लिए दवा का खर्च निकालने में यह राशि मददगार साबित हो सकती है।

क्योंकि ऐसे बुजुर्गों की संख्या भी कम नहीं, जो अपने मामूली खर्च भी ठीक से नहीं निकाल पाते। वह पाई पाई के लिए दूसरे के मोहताज हो जाते हैं। उनके पास की जमा पूंजी बच्चों की जरूरत पूरी करने में और परिवार का पेट पालने में ही लग जाती है। ऐसे लोगों के लिए यह कदम बेहतर है।

महाराष्ट्र श्रवण बाल सेवा राज्य निवृत्ति वेतन योजना आवेदन, पात्रता, दस्तावेज

केंद्र और राज्य का हिस्सा मिलाकर मिलती है राशि –

मित्रों, आपको बता दें कि महाराष्ट्र श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना के तहत मिलने वाली 600 रुपए की राशि केंद्र और राज्य का हिस्सा मिलाकर मिलती है। दरअसल, दोस्तों, महाराष्ट्र श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना राज्य सरकार की योजना है, जो इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना के तहत लाभ देती है। इसे केंद्र सरकार की ओर से वित्त पोषित किया जाता है। इस योजना के तहत वृद्धावस्था में ऐसे लोगों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है, जो गरीबी की रेखा से नीचे यानी BPL (Below Poverty Line) हैं।

आपको बता दें कि लाभार्थियों को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना के तहत 200 रुपये प्रति महीना के हिसाब से पेंशन मिलती थी और महाराष्ट्र राज्य सरकार लाभार्थी को 400 रुपये प्रति महीना की पेंशन राशि देती है। इस तरह अब लाभार्थी को 600 रुपये प्रति माह की दर से पेंशन राशि मिलती है।

सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में भेजी जाएगी सहायता राशि-

साथियों, आपको बता दें कि महाराष्ट्र बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना केवल महाराष्ट्र राज्य के नागरिकों पर लागू होगी। यह योजना जरूरतमंद बुजुर्ग लोगों की मदद के लिए लागू की गई है। खास बात यह है कि इस योजना के तहत दी जाने वाली पेंशन राशि सीधे सीधे लाभार्थी व्यक्ति के बैंक खाते में ही भेज दी जाएगी। ऐसा इसलिए किया गया है, ताकि कोई अन्य इस राशि का दुरुपयोग न कर सके। जिस व्यक्ति के लिए यह राशि निर्गत की गई है, उसी को मिले।

दोस्तों, बैंक खातों को आधार से भी जोड़ा गया है। जैसे ही यह राशि खाते में पहुंचती है, वैसे ही खाताधारक के मोबाइल फोन में राशि बैंक में क्रेडिट हो जाने का एसएमएस अलर्ट पहुंच जाता है। यह राशि बेशक बहुत ज्यादा नहीं, लेकिन इस राशि का उपयोग एक वरिष्ठ नागरिक अपने जीवन में आने वाली आर्थिक समस्या को दूर करने के लिए कर सकता है।

महाराष्ट्र श्रवण बाल सेवा राज्य निवृत्ति वेतन योजना के लिए आवश्यक पात्रता/शर्तें

महाराष्ट्र श्रवण बाल सेवा राज्य निवृत्ति वेतन योजना के तहत आवेदन करने के लिए आवेदक को कुछ शर्तें पूरी करनी होंगी, जो कि इस प्रकार से हैं-

  • इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए केवल वरिष्ठ नागरिक पात्र होंगे।
  • यह आवश्यक है कि आवेदक 15 साल से महाराष्ट्र राज्य का निवासी हो।
  • वरिष्ठ नागरिक की आयु 65 वर्ष या इससे अधिक होनी चाहिए।
  • योजना के तहत आवेदन करने के लिए आवेदक की वार्षिक आय 21 हजार रुपये या उससे कम होनी चाहिए।
  • आवेदक का संबंध बीपीएल वर्ग से होना चाहिए।

इस तरह आपने देखा कि योजना के तहत आवेदन करने की पात्रता क्या है। आपको बता दें दोस्तों कि यदि कोई इन शर्तों को पूरा नहीं करता तो वह योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन करने को अर्ह नहीं होगा। आपको आगाह कर दें कि कई ठग योजना का लाभ दिलाने के नाम पर लोगों से पैसे ऐंठ जाते हैं। कृपया ऐसे लोगों का शिकार बनने से बचें। योजना के संबंध में कोई भी जानकारी हो तो संबंधित कार्यालय या अधिकारी से ही संपर्क करें।

महाराष्ट्र श्रवण बाल सेवा राज्य निवृत्ति वेतन योजना में आवेदन कहाँ करें?

यदि आप भी इस महाराष्ट्र श्रवण बाल सेवा राज्य निवृत्ति वेतन योजना के तहत लाभ लेने के लिए पात्रता रखते हैं और इसके लिए आवेदन करना चाहते है तो इसका आवेदन फार्म कलेक्टर ऑफिस / तहसीलदार / तलाठी (ग्रामीण लेखाकार) से लिया जा सकता है और फार्म को भरकर वहीं, इसे जमा भी कराया जा सकता है। दोस्तों, आपको बता दें कि यदि आवेदन फार्म में किसी तरह की कोई चूक या विसंगति है तो उम्मीदवार कलेक्टर / तहसीलदार / तलाठी से संपर्क कर सकते हैं। गड़बड़ी को दूर करा सकते हैं। यह प्रक्रिया आसान है।

अधिकारियों का रवैया भी इस योजना का लेकर संतोषजनक बताया जाता है। कई बार अधिकारी प्रोटोकॉल तोड़कर भी जरूरतमंदों की सहायता करते देखे गए हैं। दोस्तों, जरूरतमंद तक मदद पहुंचना बेहद आवश्यक होता है। इसके लिए जरूरत इस बात की भी होती है कि सरकार की जनहित की योजनाओं का अधिक से अधिक प्रचार हो, ताकि अधिक से अधिक लोगों को इनका लाभ पहुंचाया जा सके।

महाराष्ट्र श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज-

जिस प्रकार केंद्र या राज्य सरकार की ओर से चलाई जा रही किसी भी योजना के लिए विभिन्न दस्तावेजों की आवश्यकता पड़ती है उसी प्रकार इस महाराष्ट्र श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना के लिए आवेदन को भी कुछ दस्तावेज आवश्यक किए गए हैं, जो कि इस प्रकार से हैं- 

  • आवेदक का आवेदन पत्र
  • आवेदक का निवास प्रमाण पत्र
  • औरआवेदक का आयु प्रमाण पत्र
  • आवेदक का आय प्रमाण पत्र
  • आवेदक के परिवार का गरीबी रेखा के नीचे (बीपीएल) होने का प्रमाण पत्र

यदि आप इनमें से कोई भी प्रमाण पत्र संलग्न करने से चूक जाते हैं तो आपका फार्म निरस्त हो जाएगा। इसलिए फार्म में जो भी जानकारी भरें, बिल्कुल सही सही भरें। फार्म भरने के बाद दो बार ठीक से चेक कर लें। साथ ही संलग्न किए गए प्रमाण पत्रों को भी एकबारगी जांच लें। किसी भी प्रकार की कोताही इस कार्य में न बरतें। यह आपके लिए योजना का फायदा उठाने में परेशानी खड़ी कर सकता है।

महाराष्ट्र में भी बड़ी संख्या में हैं लाभ चाहने वाले बुजुर्ग

न्य तमाम शहरों की तरह महाराष्ट्र के शहरों में भी बूढ़े-बुजुर्ग लोगों की दास्तान उम्र के एक पड़ाव के बाद मुसीबत और गुरबत की कहानी कहती है। इनमें से ढेरों लोग ऐसे हैं जिन्हें उनके अपने नहीं पूछते। बेटे-बहुएं अलग रहने लगे हैं या फिर साथ ही रहते हुए उन पर कोई ध्यान नहीं देते।

ऐसा भी होता है कि उनके अपने ही खर्च कई बार इतने हो जाते हैं कि अक्सर वह चाहते हुए भी अपने बड़े बुजुर्गो की पैसे धेले से सहायता नहीं कर पाते। ऐसे ही लोगों के लिए महाराष्ट्र सरकार यह योजना लेकर आई है। इसमें सहायता के रूप में दिया जाने पैसा बेशक कम है, लेकिन इससे ऐसे लोगों की कुछ न कुछ सहायता अवश्य होगी। ऐसा माना जा सकता है।

अन्य राज्यों में भी वरिष्ठ नागरिकों को पेंशन की सुविधा

वरिष्ठ नागरिकों की पेंशन, वित्तीय और अन्य मदद के लिए विभिन्न राज्य सरकारों ने योजनाएं चलाई हैं। जैसे उत्तराखंड में ही 60 साल की उम्र के बाद वरिष्ठ नागरिकों को पेंशन को ही लें। यहां 60 साल की उम्र के बाद वरिष्ठ नागरिकों को पेंशन दिए जाने का प्रावधान किया गया है। इसके तहत उन्हें ₹1000 की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है लोगों को तीन-तीन माह के बाद उनके बैंक खाते में राशि स्थानांतरित कर दी जाती है। यह राशि तीन हजार रुपए हो जाती है हाल ही में लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनधन खातों में ₹500 दिए जाने की घोषणा की थी। इससे भी ढेरों वरिष्ठ नागरिकों को राहत मिली। उनके खाते में पेंशन के साथ यह राशि भी क्रेडिट हुई है।

अलबत्ता, इस राशि का पेंशन से कोई लेना-देना नहीं। दोस्तों, इसके साथ ही आपको लगे हाथ यह भी बता दें कि उत्तराखंड राज्य के भीतर ही सरकार ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए रोडवेज बस सेवाओं में आने जाने की मुफ्त सुविधा दी हुई है। इसी हरियाणा, राजस्थान आदि राज्यों में भी वरिष्ठ नागरिकों के लिए पेंशन का प्रावधान किया गया है। दोस्तों, आपको बता दें कि अलग-अलग राज्यों के हिसाब से यह राशि अलग अलग है।

लेकिन एक बात जरूर है कि सभी ने अपने वरिष्ठ नागरिकों को कुछ ना कुछ सुविधाएं अवश्य दे रखी हैं। किसी ने बस, ट्रेन आदि में आने जाने में किराए में छूट दी है तो किसी ने चिकित्सा व्यय में छूट का प्रावधान किया है। इसके अलावा केंद्र सरकार की ओर से भी वरिष्ठ नागरिकों के लिए कई तरह की रियायत और सुविधाएं प्रदान की जा रहे हैं। इन सब योजनाओं के पीछे मुख्य मंशा वरिष्ठ नागरिकों की सहायता और उन्हें सहारा प्रदान करना ही है।

महाराष्ट्र सरकार की वेबसाइट से भी ले सकते हैं योजना की जानकारी

यदि आप महाराष्ट्र श्रवण बाल सेवा राज्य निवृत्ति वेतन योजना के तहत लाभ लेने के इच्छुक हैं और इस संबंध में अधिक जानकारी चाहते हैं तो महाराष्ट्र सरकार की आधिकारिक वेबसाइट http://aaplesarkar.mahaonline.gov.in पर जा सकते हैं।

मित्रों, यह थी महाराष्ट्र श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना के संबंध में जानकारी। यह जानकारी आपको कैसी लगी? आप हमको बताइएगा जरूर। इसके लिए आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं। अगर आप किसी विशेष योजना के बारे में हम से जानना चाहते हैं तो उस योजना का नाम लिखकर हमें भेज सकते हैं। आपकी प्रतिक्रियाओं और सुझावों का हमेशा की तरह हमको इंतजार है। ।।धन्यवाद।।

Spread the love

अनुक्रम

Leave a Comment