Sensex क्या होता है ? Sensex की गणना कैसे की जाती है ? Sensex in Hindi

अक्सर हम अखबार टीवी और लोगों से Sensex के बारे में बात करते हुए सुनते और देखते हैं | कभी Sensex ऊपर चला जाता है | तो कभी काफी डाउन हो जाता है | आखिर Sensex कौन सी बला है | हम में से बहुत से ऐसे लोग हैं | जिन्हें या पता नहीं होगा | कि वास्तव में Sensex क्या होता है ? और इसकी गणना कैसे की जाती है ?

Sensex क्या होता है ? Sensex की गणना कैसे की जाती है ? Sensex in Hindi

इसके साथ ही जब भी कोई व्यक्ति शेयर मार्केट में निवेश करने के बारे में सोचता होगा | तो उसके मन में भी Sensex के बारे में सवाल जरूर उठता होगा | इसलिए आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने वाले हैं | कि Sensex से क्या होता है ? इसका उपयोग कहां किया जाता है ? तथा इसकी गणना कैसे की जाती है ?इसकी पूरी जानकारी हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से प्रदान करने जा रहे हैं |

Sensex क्या होता है –

स्टॉक मार्केट में Sensex का बहुत महत्व होता है | सेंसेक्स का पूरा नाम The Bombay Stock Exchange Sensitive Index है | सेंसेक्स एक एक इंडियन स्टॉक मार्केट का बेंच मार्क इंडेक्स है | जो BOMBEY STOCK EXCHANGE (BSE)  में लिस्टेड कम्पनियों शेयर के भाव में होने वाली तेजी और मंदी के बारे में हमें जानकारी प्रदान करता है | हम इसके माध्यम से सूचीबद्ध 30 बड़ी कंपनियों के प्रदर्शन की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |

BSE भारत का सबसे पुराना स्टॉक मार्केट इंडेक्स है | और इसकी शुरुआत 1986 में की गई थी|  Sensex का सबसे महत्वपूर्ण कार्य यह है कि यह स्टॉक मार्केट में सूचीबद्ध सभी कंपनियों के शेयर के भाव को देखता रहे और फिर दिन भर के काम के बाद वह इन सभी को एक औसत मूल्य दें | जिससे कि हम स्टॉक मार्केट से रिलेटेड कंपनियों के शेयर भाव के बारे में में होने वाली मंदी और तेजी की जानकारी प्राप्त कर सके |

1 जनवरी 1986 के बाद से प्रकाशित, एस एंड पी बीएसई सेंसेक्स भारत में घरेलू शेयर बाजारों की नाड़ी के रूप में माना जाता है | एस एंड पी बीएसई सेंसेक्स का आधार मूल्य 1 अप्रैल 1979 से 100 के रूप में लिया गया और 1978-1979 इसका आधार वर्ष है |

BOMBEY STOCK EXCHANGE (BSE) भारत का सबसे पुराना बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है | और इसके अंतर्गत प्रमुख भारतीय कंपनियां सूची बद्ध है | इन कंपनियों की मार्केटिंग कैपिटलाइजेशन के हिसाब से काफी बड़ी होती है | और मौजूदा समय में भारतीय जीडीपी का कुल 37% है | आसान शब्दों में कहा जाए तो जो भारत की बड़ी कंपनियों के शेयरों की कीमतों को आंकने के लिए बनाये गए सूचकांक और  इन कंपनियों के शेयरों की बढ़ती घटती कीमतों पर नजर रखता है | उसे ही Sensex कहा जाता है|

Sensex से हमें क्या जानकारी प्राप्त होती है  –

सेंसेक्स के बारे में जानने के पश्चात सबसे महत्वपूर्ण सवाल यह उठता है | कि Sensex से हमें जानकारी क्या प्राप्त होती है | सेंसेक्स के माध्यम से हमें पता चलता है | जिन कंपनियों के शेयर BOMBEY STOCK EXCHANGE (BSE) में लिस्टेड है | वह कंपनी किस तरह से काम कर रही है | यदि कोई कंपनी अच्छा काम करके अच्छा लाभ प्राप्त कर रही है | तो उसका असर कंपनी के शेयर भाव में भी पड़ता है | जिससे उसके शेयर के भाव बढ़ जाते हैं | शेयर के भाव बढ़ने से Sensex में भी तेजी आती है | इसके विपरीत यदि किसी कंपनी का लाभ कम होता है | या हानि होती है | तो उसके शेयर्स के भाव भी कम होते हैं | और शेयर्स के भाव में कमी आने से Sensex में भी कमी देखने को मिलते हैं |
Sensex का ऊपर जाना या तेजी –  यदि किसी कंपनी का Sensex ऊपर जाता है | तो इसका सीधा सा मतलब है | कि कंपनी अच्छा काम कर रही है | और उसे अच्छा लाभ प्राप्त हो रहा है |

सेंसेक्स का नीचे जाना या मंदी – यदि किसी कंपनी का Sensex नीचे जा रहा है | तो इसका मतलब कंपनी को कम लाभ प्राप्त हो रहा है |

Sensex में सूचीबद्ध 30 बड़ी कंपनियां कौन सी है –

जैसा की हमने आपको ऊपर बताया कि सेंसेक्स के की गणना BOMBEY STOCK EXCHANGE (BSE) में सूचीबद्ध सभी कंपनियों में से 30 सबसे बड़ी कंपनियों के शेयर्स से की जाती है | इन 30 बड़ी कंपनियों को 1986 में पहली बार शामिल किया गया था | इन कंपनियों के शेयरों की मांग स्टॉक मार्केट में हमेशा बनी रहती है | इसलिए ऐसी कंपनियों को ” ब्लूचिप कंपनियां “ भी कहा जाता है | वैसे तो BOMBEY STOCK EXCHANGE (BSE) में 6000 से भी अधिक कंपनियां रजिस्टर्ड है | लेकिन इन कंपनियों में से 30 बड़ी कंपनियों के शेयर की वैल्यू आधे से अधिक है | इसलिए इन बड़ी कंपनियों के शेयर के आधार पर Sensex की गणना की जाती है | यह 30 बड़ी कंपनियां कुछ इस प्रकार हैं –

1 – Adani Ports and Special Economic Zone Ltd.
2 – Asian Paints
3 – Axis Bank Ltd.
4 – Bajaj Auto Ltd.
5 – Bharti Airtel Ltd.
6 – Cipla
7 – Coal India Ltd.
8 – Dr. Reddys Laboratories Ltd.
9 – HDFC Bank Ltd
10 – Hero MotoCorp Ltd.
11 – Hindustan Unilever Ltd.
12 – Housing Development Finance Corporation Ltd.
13 – ICICI Bank Ltd.
14 – ITC
15 – Infosys Ltd.
16 – Kotak Mahindra Bank Ltd.
17 – Larsen & Toubro Ltd.
18 – Lupin Ltd.
19 – Mahindra & Mahindra Ltd.
20 – Maruti Suzuki India Ltd.
21 – NTPC Ltd.
22 – Oil & Natural Gas Corporation Ltd.
23 – Power Grid Corporation Of India Ltd.
24 – Reliance Industries Ltd.
25 – State Bank Of India
26 – Sun Pharmaceutical Industries Ltd.
27 – Tata Consultancy Services Ltd.
28 – Tata Motors
29 – Tata Motors – DVR Ordinary
30 – Tata Steel Ltd.
31 – Wipro Ltd.

30 बड़ी कंपनियों का चुनाव कैसे और कौन करता है –

टॉप 30 बड़ी कंपनियों का चुनाव BOMBEY STOCK EXCHANGE (BSE) की इंडेक्स कमेटी द्वारा किया जाता है | इस कमेटी के अंतर्गत सरकार , बैंक और बड़े अर्थशास्त्रियों को शामिल किया जाता है | यह कमेटी 30 बड़ी कंपनियों का चुनाव निम्नलिखित आधार पर करती है |

  • शेयर्स कम से कम 1 या उससे ज्यादा समय से BOMBEY STOCK EXCHANGE (BSE) पर सूचीबद्ध होना चाहिए |
  • पिछले वर्ष जितने दिन भी स्टॉक मार्केट ओपन होता है | उसी दिन उस कंपनी का स्टॉक खरीदा और बेचा जाना चाहिए |
  • डेली औसत ट्रेड की संख्या और वैल्यू के हिसाब से ये कंपनीज TOP 150 कंपनियों में होनी चाहिए |
  • ये 30 कंपनियों को अलग-अलग 13 प्रमुख इंडस्ट्रीज और सेक्टर से भी होना चाहिए |

30 बड़ी कंपनियों के शेयर के भाव से ही क्यों Sensex की गणना की जाती है –

हमारे और आपके मन में यह सवाल जरूर उठता है | कि Sensex की गणना केवल 30 बड़ी कंपनियों के शेयर के भाव से ही क्यों की जाती है | जबकि 6 हजार से अधिक कम्पनीज रजिस्ट्रेड हैं | सेंसेक्स की गणना केवल 30 कंपनी के सेल्स के भाव से की जाने के पीछे निम्नलिखित कारण है –

  • क्योंकि इन कंपनियों के शेयर सबसे ज्यादा बेचे और खरीदे जाते हैं | साथ ही ये कंपनियां ऐसी सबसे बड़ी कंपनियां होती है | जिनका मार्केट कैपिटलाइजेशन BOMBEY STOCK EXCHANGE (BSE) में लिस्टेड सभी शेयर कंपनियों के लगभग आधा होता है |
  • इन 30 बड़ी कंपनियों में भी 13 अलग-अलग इंडस्ट्रीज़ और SECTOR से होती है | और यह कंपनी अपने सेक्टर की सबसे बड़ी कंपनियां होती है |

Sensex की गणना कैसे की जाती है –

BOMBEY STOCK EXCHANGE (BSE) के द्वारा Sensex की सर्वप्रथम गणना 1986 में की गई थी | मार्केट कैपिटलाइजेशन के माध्यम से इन 30 बड़ी कंपनियों शेयर्स के द्वारा Sensex की गणना की गई | इसके बाद 1 सितंबर 2003 से  Free-Float Market-Weighted Stock Market Index के माध्यम से Sensex की गणना की जाने लगी | Free-Float Market-Weighted Stock Market Index का मतलब यह होता है | कि जिस कंपनी का बाजार पूंजीकरण का वह हिस्सा जो मार्केट में खरीदने और बेचने के लिए उपलब्ध होता है |  मतलब कि यदि प्रमोटरों का हिस्सा अथवा सरकार का हिस्सा निकाल देने के बाद जो पूंजी बाजार में बिकने के लिए उपलब्ध होती है | उसे ही Free-Float Market-Weighted Stock Market Index कहा जाता है |

तो दोस्तों इस तरह से आज आपने Sensex क्या होता है ? इसकी गणना कैसे की जाती है ?  की जानकारी प्राप्त की | यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगे | तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें | साथ ही यदि आपका किसी प्रकार का कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें |

3 thoughts on “Sensex क्या होता है ? Sensex की गणना कैसे की जाती है ? Sensex in Hindi”

  1. hello sir maine apne blog par 18-20 post kie hai . custom domauin buy kiya hai . theme bhi achcha lagaya hai .
    kuch post 800-1500 words ki bhi hai lekin fir bhi adsense muze approval nahi de raha . plz reply aur iska solution batae.

Leave a Comment

0 Shares
+1
Share
Tweet
Pin