सरकारी राशन की दुकान कैसे प्राप्त करें? राशन की दुकान लेने के नियम 2022

|| राशन की दुकान लेने के नियम 2022, राशन का कोटा कैसे लिया जाता है? कोटेदार का वेतन कितना है? कोटेदार बनने के लिए क्या करना पड़ता है? Rashan की दुकान में कितना फायदा होता है? राशन की दुकान लेने के नियम UP 2022 ||

राशन यानी उचित मूल्य की दुकान (fair price shop) से मिलने वाला राशन आज भी लाखों लोगों की आजीविका का सहारा है। वहीं, बहुत से लोग अतिरिक्त आय के लिए सरकारी राशन की दुकान का लाइसेंस (licence) लेना चाहते हैं। यदि चाहें तो आप भी अपने क्षेत्र में राशन की दुकान लेकर राशन वितरण (ration distribution) का कार्य कर सकते है।

यदि आप राशन की दुकान लेने के नियम नहीं जानते तो भी चिंता की कोई बात नहीं। आज इस पोस्ट (post) में हम आपको राशन की दुकान लेने के नियमों (rules) के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। आइए, शुरू करते हैं-

सरकारी राशन की दुकान का क्या अर्थ है?

सरकारी राशन की दुकान कैसे प्राप्त करें? राशन की दुकान लेने के नियम 2022

इस दुकान को उचित मूल्य अथवा कंट्रोल की दुकान कहकर भी पुकारा जाता है। इन दुकानों से खाद्य सामग्री जैसे- गेहूं, चावल, चीनी, मिट्टी के तेल आदि समेत आवश्यक आवश्यकता की वस्तुएं वाजिब एवं सरकार द्वारा निर्धारित दरों पर बेची जाती हैं।

राशन कार्ड धारक इन दुकानों से सामग्री लेने का हकदार होता है। विशेषकर निर्धन वर्ग के लोगों के लिए ये दुकानें बहुत काम की होती हैं। दामों पर बाजार या दुकानदार की मनमानी नहीं चलती।

राशन की दुकान लेने के नियमों की जानकारी क्यों आवश्यक है?

दोस्तों, आपको बता दें कि सरकारी राशन की दुकान लेने के नियमों को संबंधित राज्य (State) का खाद्य एवं आपूर्ति विभाग (food and supply department) निर्धारित करता है। राशन की दुकान लेने के इच्छुक व्यक्ति को इन नियमों का पालन करना होता है।

इन तमाम नियमों की जानकारी आपके लिए इसलिए आवश्यक है, ताकि आपका आवेदन रद्द अथवा निरस्त (cancel) ना हो। आप सभी अर्हताओं को पूरा करते हुए आवेदन करें, ताकि राशन की दुकान आपको आराम से अलाट हो जाए।

राशन की दुकान लेने के लिए क्या पात्रता निर्धारित की गई है?

दोस्तों, राशन की दुकान लेने के लिए पात्रता (eligibility) अलग अलग निर्धारित की गई है। लेकिन हम आपको बताएंगे कि राशन की दुकान लेने के लिए सामान्य रूप से आवेदक (applicant) को क्या-क्या पात्रता पूरी करनी होंगी। ये इस प्रकार से हैं-

  • आवेदक भारत का नागरिक हो।
  • आवेदक ग्राम प्रधान के परिवार का सदस्य न हो।
  • आवेदक की उम्र न्यूनतम 21 वर्ष हो।
  • आवेदक के पास न्यूनतम ग्रेजुएशन की डिग्री हो।
  • आवेदक के खिलाफ कोर्ट में कोई अपराध दर्ज न हो। न ही उसके खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम-1955 की धारा के तहत कोई मामला दर्ज किया गया हो।
  • कंप्यूटर की जानकारी रखने वाले आवेदकों को चयन में प्राथमिकता दी जाएगी।
  • आवेदक के पास पहले से राशन की कोई दुकान आवंटित न हो।
  • आवेदक आर्थिक रूप से सक्षम हो, उसके बैंक अकाउंट में न्यूनतम 50 हजार की राशि जमा हो।
  • आवेदक उसी स्थान पर राशन की दुकान लेने के लिए आवेदन कर सकता है, जहां का वह निवासी हो।

राशन की दुकान लेने के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या क्या हैं?

दोस्तों, यदि आप राशन की दुकान लेने के इच्छुक हैं तो आवेदन (apply) के लिए आपके पास कुछ दस्तावेज (documents) होने आवश्यक हैं, जो कि इस प्रकार से हैं-

  • आवेदक का आधार कार्ड।
  • आवेदक का निवास प्रमाण पत्र।
  • आवेदक यदि आरक्षित वर्ग से हैं तो संबंधित प्रमाण पत्र।
  • आवेदक की शैक्षणिक योग्यता संबंधी प्रमाण पत्र।
  • आवेदक का आयु प्रमाण पत्र।
  • आवेदक अथवा उसके परिवार के किसी भी सदस्य के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम की धारा 3/7 में मामला दर्ज न होने संबंधी शपथ पत्र।
  • आवेदक अथवा उसके परिवार के किसी सदस्य के नाम कोई राशन की दुकान आबंटित नहीं है, इसका प्रमाण पत्र।
  • आवेदक ग्राम प्रधान का पारिवारिक सदस्य नहीं है, इसका शपथ पत्र।
  • आवेदक के बैंक खाते में न्यूनतम 50 हजार रूपये की राशि जमा होने संबंधी शपथ पत्र।
  • आवेदक का एसपी द्वारा जारी किया गया चरित्र प्रमाण पत्र।
  • आवेदक का संबंधित जिले के डीएम द्वारा जारी कैरेक्टर सर्टिफिकेट।
  • (नोट: इन नियमों में किसी भी प्रकार के संशोधन/बदलाव संबंधित जानकारी आप अपने क्षेत्र में खाद्य विभाग से भी प्राप्त कर सकते हैं।)

राशन की दुकान लेने के लिए आवेदन कैसे करें?

मित्रों, अब हम आपको जानकारी देंगे कि आप राशन की दुकान लेने के लिए आवेदन कैसे कर सकते हैं। सामान्य रूप से इसकी एक निर्धारित प्रक्रिया है, जिसके तहत आपको यह कदम उठाने होंगे-

  • सबसे पहले क्षेत्र के खाद्य विभाग से आवेदन फॉर्म (application form) प्राप्त करें। आप चाहें तो आवेदन पत्र विभाग की वेबसाइट से आनलाइन (online) भी डाउनलोड (download) कर सकते है।
  • इसके पश्चात आवेदक को इस फार्म में पूछी गई सारी जानकारी जैसे-आवेदक का नाम, पिता/पति का नाम, पता, शैक्षणिक योग्यता आदि को पूरी तरह सही सही भरें।
  • इसके पश्चात अपने आवेदन पत्र के साथ सभी आवश्यक दस्तावेज अटैच करें।
  • आवेदन पत्र को पूरी तरह भरकर दस्तावेज संलग्न कर उसे संबंधित बीडीओ कार्यालय में जमा कर दें।
  • यहां राशन की दुकान के लिए प्राप्त सभी आवेदन पत्रों की जांच एक जिलास्तरीय चयन समिति (district level selection committee) करेगी।
  • वह जांच के उपरांत राशन की दुकान लेने के पात्र पाए जाने वाले आवेदकों का नाम संस्तुत कर देगी।

क्या एक बार लाइसेंस निरस्त हो जाने पर व्यक्ति पुनः इसके लिए आवेदन कर सकता है?

दोस्तों, आपको एक महत्वपूर्ण जानकारी दे दें और वो ये कि ऐसे व्यक्ति, जिन्होंने पहले एक बार राशन की दुकान के लिए लाइसेंस प्राप्त कर लिया है, लेकिन किसी कारण से उनका लाइसेंस रद्द कर दिया गया है तो वे पुनः इसके लिए आवेदन नहीं कर सकते।

इसके अतिरिक्त यदि किसी व्यक्ति के पास खाद्यान्न विभाग की ओर से दिया जाने वाला खाने के तेल, चीनी, गेहूं, चावल आदि का लाइसेंस पहले से है, तो वह भी राशन की दुकान लेने के लिए आवेदन की पात्रता नहीं रखता।

राशन की दुकान लेने के कितनी लिए जगह की आवश्यकता है?

मित्रों, अब आपको बताते हैं कि आपको राशन की दुकान लेने के लिए कितनी जगह की आवश्यकता है। हालांकि, इस संबंध में कोई hard and fast रूप नहीं है। लेकिन आपको बता दें कि सामान्य रूप से इस दुकान के लिए ऐसा क्षेत्र होना चाहिए, जिसके सामने कम से कम 15 फीट चौड़ी सड़क हो।

दूसरे दुकान की ऊंचाई एवं चौड़ाई 3 मीटर से 5 मीटर तक होनी चाहिए। एक और बात स्पष्ट कर दें कि चाहे आपकी दुकान रेंट एग्रीमेंट (rent agreement) पर हो अथवा आपकी अपनी हो, आपके पास दुकान से जुड़े सारे पेपर (paper) होने चाहिए।

राशन की दुकान के लिए आवेदन कब मांगे जाते हैं?

ग्रामीण क्षेत्रों में कोटेदार बनने के लिए क्या करना पड़ता है?

मित्रों, शहरों एवं ग्रामीण क्षेत्रों के लिए इन दुकानों की आवश्यकता अलग तरीके से निर्धारित होती है। ग्रामीण क्षेत्रों (rural areas) की बात करें तो अक्सर ग्रामीणों को राशन लेने के लिए काफी दूर तक की दौड़ लगानी पड़ती है। या अक्सर वे अपने राशन वितरक (ration distributor) के व्यवहार से खुश नहीं होते।

ऐसे में वे बैठक कर अपनी बात एडीबीओ (सहायक ब्लाक डेवलपमेंट आफिसर) के सामने रखते हैं। राशन की नई दुकान की आवश्यकता रखी जाती है। सामान्यतः उन्हीं के सामने राशन की दुकान खोलने के इच्छुक लोगों के नाम रखे जाते हैं।

ब्लॉक अधिकारी द्वारा उन्हें एक फॉर्म दिया जाता हैं, जिसे भरकर उन्हें बताए गए दस्तावेजों के साथ जमा करना होता है। सत्यापन के पश्चात सभी आवेदन पत्र पहले बीडीओ एवं उनके वेरिफिकेशन के पश्चात जिला पूर्ति अधिकारी यानी डीएसओ को भेजे जाते हैं। यहां से वेरिफाइड फ़ार्म जिला मजिस्ट्रेट के पास जाते हैं और सिक्योरिटी मनी (security Money) जमा करने के पश्चात लाइसेंस जारी कर दिए जाते हैं।

शहरी क्षेत्रों में राशन का कोटा कैसे लिया जाता है?

अब बात शहरी क्षेत्र (urban areas) की करते हैं। आपको बता दें कि शहर में यदि कोई 4 हजार यूनिट एरिया है, तो वहां सरकार की ओर से राशन की दुकान खोलने के लिए स्थानीय समाचार पत्रों (news papers) एवं विभाग की आफिशियल वेबसाइट (official website) पर अधिसूचना (notification) जारी की जाती है। इच्छुक आवेदक इसके लिए आवेदन फॉर्म भरते हैं।

इसके बाद सर्किल आपूर्ति निरीक्षक (circle supply inspector) द्वारा इसका निरीक्षण किया जाता है। इस रिपोर्ट के आधार पर चयन समिति (selection committee) आवेदकों का चयन करती है। दोस्तों, आपको बता दें कि चयन समिति में जिला आपूर्ति अधिकारी (DSO), जिला मजिस्ट्रेट (DM) या अपर जिला मजिस्ट्रेट (ADM), मुख्य विकास अधिकारी (CDO), राजस्व विभाग (revenue department) का एक चयनित व्यक्ति आदि शामिल होते हैं।

यह समिति अपनी आख्या के साथ आवेदन पत्र डीएसओ को भेजती है। वे आवेदन की जांच के साथ ही आवेदक की योग्यता एवं व्यवहार आदि को भी जांचते हैं।

इसके बाद फाइनल आवेदन जिला मजिस्ट्रेट के पास भेजे जाते हैं। आवेदक सिक्योरिटी मनी (security money) का भुगतान करते हैं एवं उन्हें लाइसेंस जारी कर दिए जाते हैं। आपको यह भी बता दें कि लाइसेंस के नवीनीकरण जैसा कोई प्रावधान नहीं रखा गया है।

राशन की दुकान लेने के लिए आवेदक की न्यूनतम उम्र कितनी होनी चाहिए?

राशन की दुकान लेने के लिए आवेदक की न्यूनतम उम्र 21 वर्ष होनी चाहिए।

राशन की दुकान लेने के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता क्या है?

राशन की दुकान लेने के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता ग्रेजुएशन है।

क्या सभी राज्यों में राशन की दुकान लेने संबंधी पात्रता समान है?

जी नहीं, यह अलग अलग राज्यों में अलग-अलग हो सकती है।

क्या राशन की दुकान लेने के लिए भारत का नागरिक होना अनिवार्य है?

जी हां, राशन की दुकान लेने के लिए भारत का नागरिक होना अनिवार्य है।

क्या किसी व्यक्ति के खिलाफ कोर्ट में मामला दर्ज है तो वह राशन की दुकान के लिए आवेदन कर सकता है?

जी नहीं, ऐसी स्थिति में वह राशन की दुकान लेने के लिए आवेदन नहीं कर सकता।

क्या ग्राम प्रधान का कोई परिवारीजन राशन की दुकान के लिए आवेदन कर सकता है?

जी नहीं, ग्राम प्रधान के परिवार का कोई सदस्य राशन की दुकान लेने के लिए आवेदन नहीं कर सकता।

क्या राशन की दुकान का लाइसेंस नवीकृत कराना होता है?

जी नहीं, इसका प्रावधान नहीं किया गया है।

यदि किसी व्यक्ति के नाम राशन की दुकान का लाइसेंस है तो क्या वह अन्य के लिए आवेदन कर सकता है?

जी नहीं, ऐसी स्थिति में वह एक अन्य दुकान के लिए आवेदन नहीं कर सकता।

दोस्तों, हमने आपको इस पोस्ट के जरिए राशन का कोटा कैसे लिया जाता है? राशन की दुकान लेने संबंधी नियमों की जानकारी दी। उम्मीद है कि यह पोस्ट आपके लिए बेहद काम की साबित होगी। यदि इस पोस्ट के संबंध में आपके मन में कोई सवाल है तो नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके अपनी बात हम तक पहुंचा सकते हैं। ।।धन्यवाद।।

—————-

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment

इनकम टैक्स चोरी की शिकायत कैसे करें? जीएसटी सुविधा केंद्र कैसे खोले? उत्तर प्रदेश सोलर पंप योजना मेडिकल स्टोर कैसे खोले? बिहार हर घर बिजली योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन