संत रविदास शिक्षा सहायता योजना 2022 आवेदन प्रक्रिया व एप्लीकेशन फॉर्म डाउनलोड

उत्तर प्रदेश संत रविदास शिक्षा सहायता योजना, Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana 2022, संत रविदास शिक्षा सहायता योजना एप्लीकेशन फॉर्म, Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana आवेदन प्रक्रिया, यूपी संत रविदास शिक्षा सहायता योजना, Uttar Pradesh Sant Ravidas Shiksha Sahayata Yojana in Hindi

भारत देश में कई राज्य ऐसे भी हैं जहां पर गरीबी और भुखमरी की वजह से बच्चों की शिक्षा पूरी नहीं हो पाती है और उन्हें बीच में ही अपनी पढ़ाई को छोड़ देना पड़ता है। कई बार ऐसा भी होता है कि बच्चे होनहार होने के बावजूद पिछड़ जाते हैं और उन्हें किसी प्रकार की दिशा नहीं मिल पाती है।

ऐसे में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य के उन निर्धन और श्रमिक बच्चों के लिए एक बेहतरीन योजना का विकास किया गया है जिसके माध्यम से वे अपनी शिक्षा को पूर्ण कर सकते हैं। इस बेहतरीन योजना को संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के नाम से जाना जाएगा।

हम आपको यहां पर इस मुख्य योजना से संबंधित सारी जानकारी दे रहे हैं। उम्मीद करते हैं आपको इस योजना के माध्यम से लाभ मिल सकेगा।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना क्या है?

उत्तर प्रदेश के मुख्य रुप से गरीब और श्रमिक बच्चों को पढ़ाई में आगे करने के उद्देश्य से एवं उन्हें मार्गदर्शन देने के उद्देश्य से भी उत्तर प्रदेश सरकार ने एक महत्वपूर्ण योजना संत रविदास शिक्षा सहायता योजना की शुरुआत की गई है, जिसके माध्यम से बच्चे अपनी स्कूली शिक्षा को पूरी कर सकते हैं और उच्च संस्थानों जैसे आईआईटी, मेडिकल और इंजीनियरिंग कोर्स भी कर सकते है।

इस योजना के फलस्वरुप आवेदन करने वालेे सभी पात्र परिवारों के दो बच्चों को आर्थिक सहायता दी जाएगी ताकि वे भी आगे बढ़कर परिवार का नाम रोशन कर सकेे।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना 2022 आवेदन प्रक्रिया व एप्लीकेशन फॉर्म डाउनलोड

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना डिटेल्स –

योजना का नाम संत रविदास शिक्षा सहायता योजना 2022
योजना किसके द्वारा शुरू किएउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा
साल 2022
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन
किस विभाग की योजना हैश्रम विभाग, उत्तर प्रदेश
योजना का लाभ किसे मिलेगायूपी के श्रमिक परिवारों की बालक बालिकाओं को
योजना का उद्देश्यश्रमिक परिवार के बच्चों को शिक्षा में आर्थिक सहायता प्रदान करना
ऑफिशियल वेबसाइटhttps://upbocw.in/

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना का मुख्य लक्ष्य

आज भी हमारे देश में कई सारे ऐसे परिवार हैं, जो रोजी रोटी के लिए एक स्थान से दूसरे स्थान आवागमन करते हैं और कई बार श्रमिक होने की वजह से अपने बच्चों की सही तरीके से शिक्षा नहीं दे पाते हैं। राज्य में किसी भी बच्चे का अशिक्षित होना मतलब देश के विकास में बाधा डालना है।

ऐसे में उत्तर प्रदेश राज्य के सभी श्रमिक छात्र छात्राओं को उनकी शिक्षा पूरी करने के लिए एक बेहतरीन मौका संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के माध्यम से दिया जा रहा है ताकि बच्चे आगे बढ़ सके और उन्हें किसी भी प्रकार की परेशानीी भविष्य में ना होने पाए।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए दी जाने वाली आर्थिक राशि

इस मुख्य योजना का लाभ प्रत्येक बच्चे को दिया जाएगा, जो इस योजना के पात्र होंगे। इसके अनुसार दी जाने वाली धनराशि कक्षा के अनुसार होगी। जिसमें कुछ बदलाव किया गया है जिसकी हम आपको सही जानकारी दे रहे हैं।

  1. इस योजना के अंतर्गत कक्षा 1 से 5 तक पढ़ने वाले छात्र छात्राओं को पहले ₹100 प्रतिमाह आर्थिक राशि दी जाती थी, जो अब बढ़कर ₹150 प्रति माह के आधार पर छमाही ₹900 की आर्थिक राशि भुगतान की जाएगी।
  2. इसी प्रकार से कक्षा 6वीं से 8वीं तक के छात्र एवं छात्राओं के लिए पूर्व में ₹150 प्रतिमाह सहायता राशि निर्धारित की गई थी लेकिन अब इसके लिए छमाही ₹1200 प्रदान किए जाएंगे।
  3. इसी कड़ी में 9वीं से 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए पहले ₹200 प्रतिमाह की राशि निर्धारित की गई थी जो अब बढ़कर 1200 रुपए छमाही दिए जाएंगे।
  4. यदि बच्चा किसी भी शासकीय संस्थान में प्रवेश लेना चाहता हो, तो अब उसे संपूर्ण फीस एक बार में ही देने का प्रावधान रखा गया है ताकि किसी प्रकार की दिक्कत उसे बाद में ना होने पाए।
  5. यदि छात्र /छात्राएं इंजीनियरिंग या इससे संबंधित कोई दूसरे पाठ्यक्रम को करना चाहे तो पहले इसके लिए ₹3000 आर्थिक राशि दी जाती थी लेकिन अब इसे बढ़ाकर ₹12000 प्रतिमाह की आर्थिक राशि कर दिया गया है।
  6. अगर छात्र मेडिकल से संबंधित पाठ्यक्रम में अध्ययन करना चाहे तो पहले इसके लिए ₹5000 प्रतिमाह आर्थिक राशि दी जाती थी जिसे अब बढ़ाकर लगभग ₹12000 की आर्थिक राशि प्रतिमाह दी जाती है, जो छात्र छात्राओं के लिए बहुत ही अच्छे अवसर की तरह है।

इस योजना के अंतर्गत पहले प्रदान की जाने वाली आर्थिक सहायता कुछ इस प्रकार थी –

पाठ्यक्रम का नामसहायता राशि
क्लास 1 से 5 तक₹100 हर महीने
क्लास 6 से 8 तक₹150 हर महीने
क्लास 9 से 10 तक₹200 हर महीने
क्लास 11 और 12₹250 हर महीने
आईटीआई एवं समक्ष परीक्षण से संबंधित पाठ्यक्रम के लिए₹500 हर महीने
पॉलिटेक्निक एवं समक्ष पाठ्यक्रमों के लिए₹800 हर महीने
इंजीनियरिंग एवं समक्ष पाठ्यक्रमों के लिए₹3000 हर महीने
मेडिकल पाठ्यक्रमों के लिए₹5000 हर महीने
संत रविदास शिक्षा सहायता योजना छात्रवृत्ति

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के विशेष लाभ – [Special Benefits of Sant Ravidas Education Assistance Scheme]

यदि आप भी इस मुख्य योजना का लाभ लेना चाहते हैं, तो हम आपको इसके बारे में संपूर्ण जानकारी विस्तार से देंगे ताकि आपके मन में किसी प्रकार की कशमकश ना रहे।

  1. यह योजना मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई है जिसे राज्य के श्रमिक वर्ग के छात्र-छात्राएं आसानी से ही योजना का लाभ ले सकते हैं।
  2. इस योजना के माध्यम से राज्य के श्रमिक परिवार के छात्र-छात्राओं को सरकार के माध्यम से छात्रवृत्ति दी जाएगी जिसकी मदद से वे अपनी पढ़ाई को जारी रख सकते हैं।
  3. अगर राज्य के विद्यार्थी ऐसी योजना का लाभ ले तो भविष्य में आगे बढ़ने का मौका मिलता है साथ ही साथ वे आत्मनिर्भर होकर परिवार के लिए भी ठोस कदम उठा सकते हैं।
  4. इस महत्वपूर्ण योजना के माध्यम से श्रमिक परिवार के दो बच्चों को पढ़ाई के अवसर प्राप्त होंगे ।
  5. इस महत्वपूर्ण योजना का लाभ आप घर बैठे ही ऑनलाइन माध्यम से ले सकते हैं जिसमें आपको ज्यादा परेशान होने की आवश्यकता नहीं होगी।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना हेतु आवश्यक दस्तावेज

अगर आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको इन मुख्य दस्तावेजों की आवश्यकता होगी। बिना इन दस्तावेजों की आप इस योजना का लाभ प्राप्त नहीं कर सकते हैं –

  1. आधार कार्ड [Aadhar card]
  2. निवास प्रमाण पत्र [Address proof]
  3. परिवार का आय प्रमाण पत्र [family income certificate]
  4. माता-पिता का श्रमिक कार्ड [parent’s labor card]
  5. बैंक की पासबुक [bank passbook]
  6. स्कूल का प्रमाण पत्र [school certificate]
  7. पासपोर्ट साइज फोटो [Passport size photo]
  8. मोबाइल नंबर [mobile number]

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया

अगर आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं इसके लिए आवेदन प्रक्रिया भी हम विस्तार से बताएंगे से बताने वाले हैं-

Total Time: 1 day

आवेदन फॉर्म तैयार करें –

लाभार्थी या उसके परिवार के किसी सदस्य की ओर से उक्त सहायता प्राप्त करने हेतु लाभार्थी के पुत्र या पुत्री के संबंधित कक्षा में प्रवेश संबंधी विवरण के अनुसार उत्तीर्ण होने की तिथि से 01 वर्ष के अंदर निकटस्थ श्रम कार्यालय अथवा संबंधित तहसील के तहसीलदार कार्यालय अथवा सम्बन्धित खण्ड के विकास अधिकारी कार्यालय में निर्धारित प्रपत्र पर संबंधित विद्यालय के प्रधानाचार्य से अभिप्रमाणित फोटोयुक्त आवेदन पत्र दो प्रतियों में प्रस्तुत किया जाएगा, जिसकी पावती आवेदक को प्रार्थना पत्र प्राप्त करने वाले अधिकारी ⁄ कर्मचारी द्वारा प्राप्ति तिथि अंकित करते हुए ONLINE उपलब्ध करवाई जाएगी।

आवश्यक प्रमाणित दस्तावेज लगाएं –

आवेदन पत्र के साथ संबंधित पुत्र या पुत्री के संबंधित कक्षा में उत्तीर्ण होने की अंकतालिका की प्रमाणित प्रति संबंधित विद्यालय के प्रधानाचार्य के प्रमाण–पत्र के साथ संलग्न किया जाना अनिवार्य होगा। कक्षा–1 से लेकर कक्षा–8 तक के छात्र ⁄ छात्रा से सम्बन्धित बाऊचर ⁄ विपत्र जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा, कक्षा–9 से लेकर कक्षा–12 तक बाऊचर ⁄ विपत्र जिला विद्यालय निरीक्षण द्वारा, डिग्री कक्षाओं में छात्र ⁄ छात्राओं के बाऊचर ⁄ विपत्र उनके लिये अधिकृत सक्षम अधिकारी (Dean of Student Welfare/ Provost) द्वारा भी प्रति हस्ताक्षरित किये जायेंगे। व्यवसायिक पाठ्यक्रमों में शिक्षारत् छात्र ⁄ छात्रा का बाउचर उनके लिये सक्षम अधिकारी द्वारा प्रतिहस्ताक्षरित किये जायेंगे।

प्रधानाचार्य द्वारा जारी स्पष्टीकरण प्रमाण पत्र संलग्न करें –

आवेदन पत्र के साथ संबंधित पुत्र या पुत्री के आगे भी शिक्षारत् रहने का स्पष्टीकरण प्रमाण–पत्र जो कि संबंधित विद्यालय द्वारा निर्गत तथा प्रधानाचार्य द्वारा अभिप्रमाणित हो मूल रूप में संलग्न किया जाना अनिवार्य होगा।

एडमिशन स्लिप की कॉपी लगाएं-

जहॉ आवेदन आई०टी०आई० अथवा इंजीनियरिंग डिग्री अथवा चिकित्सा में डिग्री के लिए किया जा रहा हो वहॉ प्रवेश के प्रमाण स्वरूप सम्बन्धित कालेज ⁄ आई०टी०आई० में प्रवेश की रसीद की प्रमाणित छायाप्रति भी संलग्न की जाएगी।

फॉर्म जमा करें –

सही सही भरा हुआ आवेदन पत्र एवं जरूरी दस्तावेज संलग्न करके संबंधित कार्यालय में जमा करें। इस तरह से आप की आवेदन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। अधिकारियों द्वारा फॉर्म का पूर्ण सत्यापन हो जाने के बाद ही इस योजना का लाभ उठा सकेंगे।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए आवश्यक पात्रता

अगर आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं, तो आपको इसकी मुख्य पात्रताओं के बारे में जानकारी होनी चाहिए जिसके माध्यम से ही आप आगे बढ़ सकते हैं।

  1. इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक को उत्तर प्रदेश का निवासी होना आवश्यक है।
  2. यह योजना सिर्फ श्रमिक वर्ग के बालक बालिकाओं के लिए ही बनाई गई है जिसके माध्यम से आर्थिक सहायता प्राप्त की जाएगी।
  3. यदि आवेदक के माता पिता श्रमिक बोर्ड से पंजीकृत हो और उनके पास श्रमिक कार्ड उपलब्ध हो ऐसी स्थिति में ही इस योजना के लिए पात्र माना जाएगा।
  4. योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक की आयु 25 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  5. इस योजना के माध्यम से एक परिवार के दो बच्चों को ही लाभ दिया जा सकेगा।
  6. आवेदक छात्र छात्राओं को जो भी आर्थिक राशि दी जाएगी वह सीधे ही बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दी जाएगी।

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के लिए हेल्पलाइन नंबर

अगर आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं और आपको किसी प्रकार की जानकारी चाहिए हो या फिर आप की कोई शिकायत हो तो आप इस योजना की मुख्य हेल्पलाइन नंबर 18001805412 पर कॉल करके समस्याओं का समाधान प्राप्त कर सकते हैं।

इस योजना से संबंधित जुड़े कुछ प्रश्न उत्तर

संत रविदास शिक्षा सहायता योजना किस राज्य के लिए बनाई गई योजना है?

यह योजना मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बनाई गई योजना है ताकि श्रमिक वर्ग को आगे लाते हुए मार्गदर्शन किया जा सके।

क्या इस योजना के माध्यम से श्रमिक परिवार के बच्चों को ही लाभ प्राप्त हो सकता है?

जी हां, यह योजना मुख्य रूप से श्रमिक परिवार के बच्चों के लिए ही बनाई गई है ताकि उन्हें भी आगे आने का अवसर प्राप्त हो सके।

इस योजना के माध्यम से कौन से क्लास के बच्चों को छात्रवृत्ति मिल सकती है ?

यह योजना मुख्य रूप से कक्षा 1 से लेकर ग्रेजुएशन या और कोई कोर्स कर रहे छात्रों को छात्रवृत्ति मिल सकती है।

इस योजना के लिए अधिकतम आयु कितनी होनी चाहिए ?

अगर आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो इसके लिए आप की अधिकतम आयु 25 वर्ष होनी चाहिए।

इस योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या है?

इस योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज के रूप में आधार कार्ड, पासपोर्ट साइज फोटो, मोबाइल नंबर, परिवार का आय प्रमाण पत्र, माता-पिता का श्रमिक कार्ड, स्कूल का प्रमाण पत्र आवश्यक माना गया है।

अंतिम शब्द

इस प्रकार से आज हमने आपको उत्तर प्रदेश सरकार की एक मुख्य योजना संत रविदास शिक्षा सहायता योजना के बारे में जानकारी दी है, जो निश्चित रूप से ही उत्तर प्रदेश के श्रमिक वर्ग के छात्र छात्राओं के लिए कारगर होगी। इस योजनाा के माध्यम से छात्र /छात्रा भी आगे बढ़कर अपने भविष्य को सही दिशा की ओर ले जा सकते हैं एवंं किसी भी प्रकार की दिक्कत होने पर उसका सामना भी किया जा सकता है। उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा इसे अंत तक पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment