सरकारी वकील क्या करता है? सरकारी वकील कैसे बनें? वेतन, कार्य, अधिकार व फ़ीस

काला कोट पहने जज के सामने अदालत में जिरह करने का अरमान लिए देश में हजारों युवा हर साल लॉ की डिग्री हासिल करते हैं । इसमें से कई ऐसे होते हैं जो अपनी प्राइवेट प्रैक्टिस करके नामी गिरामी वकील बनना चाहते हैं तो कई गरीबों और वंचितों को न्याय दिलाना चाहते हैं। कई का सपना सरकारी वकील बनना होता है। अच्छे पढ़े-लिखे युवा परीक्षा में बैठकर सरकारी वकील बनना पसंद करते हैं। आज हम आपको इस post के जरिए जानकारी देंगे कि सरकारी वकील कैसे बनते हैं? इसके लिए शैक्षिक योग्यता क्या है? उम्र संबंधी योग्यता क्या है? कुल मिलाकर सरकारी वकील बनने की पूरी प्रक्रिया क्या है? आइए, बिंदुवार शुरू करते हैं-

सरकारी वकील की जरूरत क्यों, क्या करता है सरकारी वकील –

इससे पहले कि हम आगे बढ़ें, सबसे पहले यह जान लीजिए कि सरकारी वकील का काम क्या होता है? वह क्या करता है? तो आपको बता दें कि एक सरकारी वकील राज्य सरकार के मुकदमों की पैरवी करता है। वह कोर्ट में सरकार के आदेश के अनुसार मुकदमे की कार्रवाई में प्रतिभाग करता है। अगर पीड़ित वकील के खर्च को वहन नहीं कर सकता तो कोर्ट उसे वकील की सुविधा देता है यानी कि यही पब्लिक प्रॉसीक्यूटर / सरकारी वकील बिना कोई शुल्क लिए उस पीड़ित का केस लड़ता है।

इसके अलावा सरकार की ओर से अपील, किसी भी मुकदमे में सुनवाई या न्याय संबंधी प्रक्रिया में हिस्सेदारी लेकर वह राज्य सरकार का पक्ष प्रस्तुत करता है। सुबूत यानी साक्ष्य जुटाने और उन्हें कोर्ट के सामने पेश करता है। न्याय के लिए जिरह करता है। आपको यह भी बता दें कि प्रोविजन आफ सेक्शन 24 (सीआरपीसी 1972) पब्लिक प्रॉसीक्यूटर का चयन हर जिले में जरूरी है। सरकार चाहे तो एक या एक से अधिक वकीलों की नियुक्ति कर सकती है।

सरकारी वकील कैसे बनें?

जैसा कि आप जानते हैं कि एक सरकारी वकील को अपने तर्कों से प्रतिद्वंद्वी पक्ष को परास्त करना होता है। अपने कानूनी ज्ञान के दम पर मुकदमे की बेहतर पैरवी करनी होती है। कानूनी मामलों में मदद करनी होती है। अब हम आपको बताएंगे कि आप यह अहम व्यक्ति यानी सरकारी वकील किस तरह से बन सकते हैं।

अनुभव आधारित – वकील बनने का पहला तरीका –

सरकारी वकील बनने का पहला तरीका है अनुभव आधारित। अगर आप यह योग्यता रखते हैं तो सरकार आपको सरकारी वकील नियुक्त कर सकती है-

  • आप भारत के नागरिक हों।
  • आप की आयु 35 वर्ष से अधिक हो।
  • आपके पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ला की डिग्री हो।
  • आपको किसी कोर्ट में वकालत का साथ साल का अनुभव हो।

इस तरीके से नियुक्त होने के लिए जहां अनुभव जरूरी है, वहीं आपका नाम और सियासतदानों के साथ संबंध भी काम आते हैं। चुनिंदा वकीलों के नामों का एक पैनल बनाकर सरकार को भेजा जाता है। जहां से सरकार पर्याप्त विचार विमर्श के बाद सरकारी वकील के बतौर नाम पर मुहर लगाती है।

परीक्षा के जरिए – सरकारी वकील बनने का दूसरा

अब आपको बताएंगे कि सरकारी वकील बनने का दूसरा और लोकप्रिय तरीका क्या है। दोस्तों, यह रास्ता है परीक्षा के जरिए। यानी कि आप एग्जाम देकर सरकारी वकील बन सकते हैं। यह परीक्षा विभिन्न राज्यों में लोक सेवा आयोग आयोजित कराता है। इस परीक्षा के लिए आनलाइन आवेदन की सुविधा अभ्यर्थियों को दी गई है। अलग-अलग राज्यों में सरकारी वकील के लिए अलग-अलग नाम दिए गए हैं। इन पदों पर नियुक्ति परीक्षा के जरिए होती है।

जैसे उत्तर प्रदेश में एपीओ यानी असिस्टेंट प्रासीक्यूशन ऑफिसर का पद होता है। वहीं, मध्यप्रदेश में एडीपीओ यानी असिस्टेंट डिस्ट्रिक्ट प्रासीक्यूशन ऑफिसर की परीक्षा होती है। इसी तरह राजस्थान में पब्लिक प्रॉसिक्यूटर पद के लिए परीक्षा होती है। अगर आप परीक्षा में बैठना चाहते हैं तो उसके लिए आपके पास निम्न योग्यता होनी चाहिए-

  • अभ्यर्थी की उम्र 21 से 35 साल के बीच होनी चाहिए।
  • अभ्यर्थी को भारतीय नागरिक होना चाहिए।
  • साथ ही अभ्यर्थी के पास किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से लॉ की डिग्री होनी जरूरी है।

दो भागों में होती है परीक्षा

अगर उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां सरकारी वकील यानी एपीओ बनने के लिए परीक्षा यूपीएससी कराता है। आवेदन के लिए अलग-अलग राज्यों में अलग अलग शुल्क निर्धारित है। सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों से लिए जाने वाले शुल्क अलग होते हैं। आरक्षित वर्ग के आवेदकों को आवेदन के लिए शुल्क में छूट प्रदान की जाती है। दोस्तों, आपको जानकारी दे दें कि यह परीक्षा तीन भागों में होती है। एक होती है प्रारंभिक परीक्षा और एक मुख्य परीक्षा। इसके बाद इंटरव्यू की बारी आती है। पहले बात प्रारंभिक परीक्षा की-

प्रारंभिक परीक्षा-

इस परीक्षा में दो भाग होते हैं। पहला भाग सामान्य ज्ञान का होता है। इस भाग में यह विषय कवर होते हैं-

  • राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय वर्तमान घटनाएं।
  • भारतीय राजनीति और अर्थव्यवस्था
  • सामान्य विज्ञान
  • भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन
  • विश्व भूगोल और प्रदूषण
  • भारत का इतिहास यह सामान्य ज्ञान का भाग है

प्रारंभिक परीक्षा के भाग 2 में यह विषय कवर होते हैं-

  • भारतीय साक्ष्य कानून
  • यूपी पुलिस एक्ट
  • भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता

मुख्य परीक्षा-

अब आएं मुख्य परीक्षा पर। जो अभ्यर्थी प्रारंभिक परीक्षा की नदी पार कर लेते हैं, उन्हें मुख्य परीक्षा में शामिल होने को बुलाया जाता है। मुख्य परीक्षा में अंग्रेजी, हिंदी और सामान्य ज्ञान के साथ ही आपराधिक कानून और प्रक्रिया और भारतीय साक्ष्य कानून पर आधारित प्रश्न पूछे जाते हैं। यह मुख्य परीक्षा 400 अंकों की होती है।

इंटरव्यू-

मुख्य परीक्षा में पास होने पर अभ्यर्थी को इंटरव्यू यानी साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है। इसके लिए 50 अंक निर्धारित किए गए हैं। इसमें उत्तीर्ण होने पर अभ्यर्थी को नियुक्ति पत्र भेज दिया जाता है। आपको बता दें कि हर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में एक सरकारी वकील की नियुक्ति आवश्यक है। लेकिन सरकार चाहे तो एक से अधिक वकील भी नियुक्त कर सकती है।

इस तरह करें परीक्षा की तैयारी

  • एपीओ बनने के लिए आपको लगातार प्रैक्टिस करनी होगी।
  • जरूरी है कि आप इस परीक्षा के पुराने प्रश्न पत्रों को हल करें। कोशिश करें कि आप निर्धारित अवधि के अंदर सभी सवालों के जवाब दे दें।
  • सामान्य ज्ञान पर अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए आप नियमित समाचार देख सकते हैं और समाचार पत्रों का अध्ययन कर सकते हैं।
  • इसके अलावा इंटरनेट और यूट्यूब की भी मदद ले सकते हैं।
  • आप अन्य सरकारी वकीलों से मिलकर भी परीक्षा की बारीकियां जान सकते हैं।
  • अगर आप कोचिंग करना चाहते हैं तो वह भी एक अच्छा उपाय है। कोचिंग के जरिए आपको नियमित रूप से निर्धारित अवधि के भीतर इस पत्र को हल करने का अभ्यास कराया जाएगा, जो कि परीक्षा के दौरान आपके लिए मददगार साबित होगा।
  • इंटरव्यू के दौरान आपसे कानून से जुड़े सवाल किए जा सकते हैं। इसलिए जो भी आप का पाठ्यक्रम रहा है उसको आप अच्छी तरह से तैयार करें। और कानून, अधिनियम के बारे में जानकारी रखें।
  • आप सफल अभ्यर्थियों के इंटरव्यू देख सकते हैं। उनके दिए टिप्स पर अमल कर सकते हैं।

वेतन आयोग के अनुसार निर्धारित होती है सैलरी

साथियों, अब आपको सरकारी वकील की सैलरी के बारे में बताते हैं। इनकी सैलरी वेतन आयोग के अनुसार निर्धारित होती है। सातवें वेतन आयोग की बात करें तो इनकी सैलरी 9300/- लेकर 39500/- के बीच होती हैं। जैसे-जैसे नए वेतन आयोग आते हैं तो उन्हीं के मुताबिक सरकारी वकील की सैलरी भी बढ़ती जाती है।

दोनों तरीकों में यह है अंतर

अनुभव के आधार पर सरकार द्वारा सरकारी वकील चुने जाने में यह नुकसान है कि सरकार जब तक रहेगी, तभी तक आपका पद भी रहेगा, जब सरकार जाएगी तब आपका पद स्वत: समाप्त माना जाएगा। लेकिन अगर आप एग्जाम के जरिए चुने जाते हैं तो राज्य में किसी भी सरकार के आने जाने से आपकी नियुक्ति पर कोई भी फर्क पड़ने वाला नहीं है। आप आराम से अपना काम करते रह सकते हैं।

यह हैं एक अच्छे सरकारी वकील के गुण

एक अच्छा सरकारी वकील बनने के लिए कुछ गुण बेहद आवश्यक हैं। जैसे लोगों से संवाद करना उसे बेहतर तरीके से आता हो। उसमें तर्क वितर्क करने की अच्छी क्षमता हो। मूल रूप से उसके भीतर उसके कार्य को देखते हुए कौन से खास गुण होने चाहिए। ये क्या क्या हैं? आइए इन पर एक नजर डालते हैं-

  • तार्किक विश्लेषण करने की क्षमता।
  • बेहतरीन कम्युनिकेशन स्किल्स।
  • लोगों की बात समझने और अपने काम की बात निकालने की कला।
  • किसी के जरिए मिली सूचना से अपने काम की जानकारी निकाल लेना।
  • अन्य लोगों के साथ मिलकर काम करने की आदत
  • अपनी बात और अपने तर्क पर दृढ रहने की क्षमता।
  • काम को डेडलाइन पर पूरा करना।
  • कोर्ट में तय तारीख पर उपलब्ध होना।
  • तमाम दबावों के बावजूद इमोशनली मजबूत पर्सनैलिटी।
  • रिसर्च और एनालिसिस पर खास फोकस।
  • दूसरों पर निर्भर रहने की जगह स्वतंत्र होकर सोचना।
  • सही समय पर सही फैसले लेना।
  • अपने तर्कों को आत्म विश्वास से प्रस्तुत करना।

अंतिम शब्द…

इस प्रोफेशन के प्रति आकर्षण का एक बहुत बड़ा माध्यम बॉलीवुड की फिल्में भी हैं। इनमें वकील की भूमिका को जबरदस्त प्रशंसा मिली। आप दामिनी फिल्म में वकील के रूप में सनी देओल की भूमिका देख लें या फिर मेरी जंग फिल्म में वकील के रूप में अनिल कपूर की भूमिका। इन्हें देखकर बड़े पैमाने पर युवा इनके प्रशंसक हो गए। विशुद्ध रूप से अदालती कार्यवाही पर आधारित अदालत और अंधा कानून जैसी फिल्मों ने युवाओं को वकालत के प्रति प्रेरित किया। टीचर, इंजीनियर और डॉक्टर की तरह वकील बनने के लिए भी छात्र बड़ी संख्या में आवेदन करते हैं। आपको लगे हाथ यह भी बता दें कि देश की टाप ला यूनिवर्सिटी में दाखिले के लिए आल इंडिया लेवल पर क्लैट परीक्षा भी आयोजित की जाती है।

तो दोस्तों, यह थी सरकारी वकील क्या करता है? सरकारी वकील कैसे बनें? वेतन, कार्य, अधिकार व फ़ीस के संबंध में सारी जानकारी। हम आशा करते हैं कि आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी। अगर आप सरकारी वकील बनना चाहते हैं और इस विषय के संबंध में कुछ और जानना चाहते हैं तो उसके लिए आप हमसे संपर्क कर सकते हैं। इसके लिए आपको नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करना होगा। हम आपकी जिज्ञासा को दूर करने का पूरा पूरा प्रयास करेंगे।

अगर आप किसी और विषय के बारे में हम से जानना चाहते हैं तो उसके लिए भी नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से हमसे अपनी बात साझा कर सकते हैं। हमारी पूरी कोशिश रहेगी कि हम आपको उस विषय के बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध करा सकें। अगर आप हमें कोई सुझाव देना चाहते हैं, तो उसके लिए भी नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हम तक पहुंच सकते हैं। तो दोस्तों, हमें आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा। ।। शुक्रिया।।

Spread the love

3 thoughts on “सरकारी वकील क्या करता है? सरकारी वकील कैसे बनें? वेतन, कार्य, अधिकार व फ़ीस”

Leave a Comment