प्रीपेड स्मार्ट मीटर क्या है? ये कैसे काम करते हैं? प्रीपेड स्मार्ट मीटर के क्या फायदे हैं?

Prepaid Smart Meter Yojana In Hindi – अगले 3 साल में सरकार का लक्ष्य सभी के घरों में प्रीपेड स्मार्ट मीटर लगाने का है। इसके लिए प्रीपेड स्मार्ट मीटर योजना लाई जा रही है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने हाल ही में इस बजट के संबंध में घोषणा भी की है। इसके बाद से हर किसी के मन में यह सवाल जरूर उठा है कि यह Prepaid Smart Meter Yojana क्या है? यह कैसे काम करेंगे। इनके क्या फायदे होंगे साथ ही प्रीपेड बिजली मीटर की कीमतों, प्रीपेड मीटर के फायदे, प्रीपेड मीटर रिचार्ज, प्रीपेड मीटर कनेक्शन, स्मार्ट मीटर कैसे काम करता है, प्रीपेड मीटर इन बिहार आदि आदि। आज इस post के जरिए हम आपको प्रीपेड स्मार्ट मीटर से जुड़े हर बिंदु की जानकारी देने की कोशिश करेंगे। आइए शुरू करते हैं –

प्रीपेड स्मार्ट मीटर क्या है? What Is Prepaid Smart Meter Yojana?

Prepaid Smart Meter Yojana क्या है? स्मार्ट मीटर कैसे काम करता है? प्रीपेड स्मार्ट बिजली मीटर योजना 2020

दोस्तों, सबसे पहले हम आपको यह बताएंगे कि Prepaid Smart Meter Yojana क्या है? दरअसल, दोस्तों यह मीटर जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है प्रीपेड होगा। यानी कि पैसे पहले चुकाने होंगे। और यह होगा रिचार्ज के जरिए। जी हां, इसे बिल्कुल मोबाइल फोन की तरह रिचार्ज करना होगा। जैसे ही रिचार्ज खत्म होगा, संबंधित आवास की बिजली अपने आप ठप हो जाएगी। ऐसा होते ही तुरंत एक मैसेज बिजली उपभोक्ता के पास जाएगा, ताकि वह दोबारा से अपने मीटर को रिचार्ज करा सके और बिजली को पुनः चालू किया जा सके।

प्रीपेड स्मार्ट मीटर के फायदे क्या है?

Prepaid Smart Meter Yojana के कई फायदे हैं। इन फायदों को हम आपको विस्तार से बताएंगे। यह इस तरह से हैं-

  • उपभोक्ता को बिजली के लिए अपनी पसंदीदा कंपनी के चुनाव का हक होगा। यानी कि उसके लिए कोई बाध्यता नहीं होगी, वह किसी भी कंपनी की बिजली सुविधा लेने को स्वतंत्र होगा।
  • उपभोक्ता जितना रिचार्ज कराएगा, वह उतनी ही बिजली खर्च सकेगा। पहले की तरह बिजली बकायादार कहलाने की नौबत ही नहीं आएगी। उसे उसके रिचार्ज के आधार पर 24 घंटे बिजली का सुख मुहैया होगा।
  • प्रीपेड स्मार्ट मीटर के साथ किसी भी तरह की छेड़छाड़ की समस्या भी खत्म हो जाती है। ऐसा यदि कोई करता है तो विभाग के पास एक अलर्ट मैसेज जाता है और संबंधित उपभोक्ता के खिलाफ कार्रवाई हो जाती है।
  • उपभोक्ता के पास बिजली का बिल नहीं आएगा, क्योंकि रिचार्ज करने के नाते उसकी जरूरत ही नहीं पड़ेगी। बिजली का बिल नहीं आएगा तो उसे भरने के लिए बिजली केंद्र के चक्कर काटने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी।
  • मैनुअल मीटर रीडिंग की आवश्यकता नहीं रह जाएगी। यानी बिजली कर्मचारी को रीडिंग लेने घर पर आने की जरूरत नहीं रह जाएगी। इस तरह मैनपावर और टाइम दोनों की बचत होगी। कर्मचारी स्टेशन से ही साफ्टवेयर के जरिए आसानी से प्रत्येक घर की बिजली की खपत की गणना कर सकते हैं।
  • किसी भी तरह की गड़बड़ी की संभावना भी कम हो जाएगी जैसे कि लोग बिजली के तारों पर कटिया डालकर अपने घरों में सीधे बिजली का उपभोग नहीं कर सकेंगे। इसके साथ ही मीटर रीडिंग के दौरान होने वाली चूक, बिल बढ़ाकर भेज दिए जाने की समस्या जैसी मुसीबत से भी छुटकारा मिल जाएगा।
  • स्मार्ट मीटर बिजली के खर्चों को बचाते हैं। उपभोक्ता जितना रिचार्ज करता है, उतनी ही बिजली खर्च करता है। ऐसे में बेतहाशा बिजली खर्च की गुंजाइश भी नहीं रहती।

Benefits Of Prepaid Smart Meter Yojana –

  • उपभोक्ताओं को स्मार्ट मीटर पर लगी डिस्प्ले स्क्रीन के माध्यम से वर्तमान शेष बिजली बिल, बिजली की वर्तमान शेष राशि, और पिछले महीने खपत बिजली की मात्रा के माध्यम से पता चल सकता है, जिससे उन्हें अपने स्वयं के बिजली की खपत के बारे में पता चल जाएगा।
  • स्मार्ट मीटर स्वचालित रूप से अलार्म का उपयोग करता है। जब बिजली का उपयोग किया जाता है। जब निवासी के घर में बिजली का लोड अधिक होता है या शेष बैटरी अपर्याप्त होती है, तो यह स्वचालित रूप से अलार्म होगा, जो निवासियों को बिजली लोड या समय पर रिचार्ज को कम करने के लिए याद दिलाएगा।
  • स्मार्ट मीटर का रिचार्ज यानी बिजली के लिए भुगतान त्वरित और आसान है। कई सुपरमार्केट सुविधा स्टोर बिजली रिचार्जिंग और भुगतान सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। इसके अलावा कई ऑनलाइन भुगतान प्लेटफार्मों ने बिजली भुगतान सेवाएं भी खोली हैं।
  • बिजली रिचार्ज की वजह से बिजली विभाग पर बकाया का भार नहीं रहेगा। न ही वसूली की नौबत आएगी। न अभियान की जरूरत पड़ेगी। कुल मिलाकर ‘सब कुछ चंगा सी’ होगा।
  • माना जा रहा है कि बिजली के क्षेत्र में कई कंपनियों के आ जाने से हर बिजली कंपनी पर परफॉर्मेंस के लिए दबाव रहेगा। उनके बीच किफायती दरों पर अच्छी सेवा उपलब्ध कराने की प्रतिस्पर्धा रहेगी, जिसका सीधा फायदा ग्राहकों को होगा। उन्हें बेहतर सेवा उपलब्ध हो पाएगी।
  • इससे जहां ऊर्जा की बचत होगी, वहीं उन तमाम गरीब लोगों को भी सुविधा होगी, जो एक बार में अपना सारा बिजली का बिल जमा नहीं कर सकते हैं।
  • जैसा कि हम बता चुके हैं कि प्रीपेड स्मार्ट मीटर में रिचार्ज की सुविधा की वजह से बिल भेजने की झंझट से मुक्ति मिल जाती है। उसी तरह इसका एक पक्ष यह भी है कि यह पर्यावरण के अनुकूल भी है। क्योंकि इसमें बिल के लिए कागज की जरूरत नहीं पड़ती है। दोस्तों, लगे हाथ आपको यह भी बता दें कि ताजा बजट में ऊर्जा नवीकरणीय मद के तहत इसके लिए 22000 करोड़ का प्रावधान किया गया है

प्रीपेड स्मार्ट मीटर लगाने कुछ नुकसान क्या हैं?

जैसा कि हमने आपको बताया कि Prepaid Smart Meter Yojana के जहां कई फायदे हैं। वहीं कई नुकसान भी हैं । जैसे कि उदाहरण के लिए रिचार्ज करने पर ही बिजली मिलने की वजह से ढेरों ऐसे लोग भी बिजली से वंचित हो जाएंगे, जिनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। उनके पास अगर बिजली रिचार्ज करने को पैसे न हुए तो एक बड़े तबके को अंधेरे में गुजर बसर करने को मजबूर होना पड़ेगा। कुछ लोगों का तर्क यह भी है कि इस क्षेत्र में निजी कंपनियों के उतरने से सेवा बेशक सुधरे, लेकिन इससे उनकी मनमानी को भी बढ़ावा मिलेगा।

दोस्तों, कुल मिलाकर जिस तरह हर चीज के दो पहलू होते हैं, एक अच्छा और एक बुरा, इसी तरह प्रीपेड स्मार्ट मीटर के संबंध में भी यही पहलू लागू होते हैं। थोड़े बहुत नुकसान के साथ यह बहुत हद तक एक अच्छा कदम है।

प्रीपेड स्मार्ट मीटर कैसे काम करते हैं?

Prepaid Smart Meter में एक ऐसा डिवाइस लगा रहता है, जो हमारे आसपास के मोबाइल टावर्स के माध्यम से सिग्नल बिजली कंपनियों में लगने वाले रिसीवर तक पहुंचाता है। इससे बिजली कंपनियों के दफ्तरों से मीटर की रीडिंग की निगरानी संभव हो जाती है।

प्रीपेड, पोस्ट पेड दोनों पर लग सकते हैं स्मार्ट मीटर

साथियों, आपको यह भी बता दें कि स्मार्ट मीटर दोनों कनेक्शनों प्रीपेड या पोस्टपेड पर लगाया जा सकता है। और जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं कि अगर बिजली मीटर से किसी भी तरह की छेड़छाड़ होती है तो एक alert message विभाग को चला जाएगा। कोई भी अधिकारी कहीं से भी किसी उपभोक्ता की बिजली की खपत और मीटर की रीडिंग जान सकेगा।

नेशनल लॉजिस्टिक्स पॉलिसी क्या है? National Logistics Policy In Hindi

Prepaid Smart Meter को एप से कनेक्ट होने की भी सुविधा –

इतना ही नहीं। आपके पास प्रीपेड स्मार्ट मीटर के एप से कनेक्ट होने भी सुविधा रहेगी। आपको बस यह एक एप डाउनलोड करना होगा, जो कि Google play store पर आसानी से उपलब्ध है। इस एप के जरिए आपके लिए मोबाइल से ही मीटर की निगरानी संभव हो सकेगी। एप पर बिजली के उपभोग की रीडिंग आ सकती है। आप जान सकते हैं कि आपका मीटर तेज चल रहा या धीमे। जब चाहे आप रीडिंग जानकर मीटर सही है या गलत यह जान सकते हैं।

इसके साथ ही एप आपको एलर्ट भी करता रहेगा कि मीटर तेज चल रहा या धीमे। यदि कहीं कोई fault हो तो भी आसानी से उसकी जानकारी मिल सकेगी। इसके साथ ही उस fault को दूर किया जाना संभव होगा। इसी के साथ बिजली विभाग भी बिजली चोरी पर नजर रख सकेगा।

Prepaid Smart Meter Yojana से बिजली क्षेत्र में क्रांति की उम्मीद

दोस्तों, प्रीपेड स्मार्ट मीटर के जरिए बिजली क्षेत्र में क्रांति की उम्मीद की जा रही है।हाल ही में बिजली मंत्री आरके सिंह ने मीटर निर्माताओं को स्मार्ट प्री-पेड मीटरों का उत्पादन बढ़ाने का सुझाव दिया है। उन्होंने निर्माताओं से कहा है कि आने वाले दिनों में इनकी बड़ी मांग होगी। उन्होंने बजट घोषणा के अनुसार ही आने वाले तीन साल में सभी मीटर स्मार्ट प्री-पेड होने की संभावना जताई है। उनके मुताबिक और जैसा कि हम ऊपर जिक्र कर चुके हैं कि इसके कई फायदे होंगे, मसलन बिजली उपभोक्ताओं को बिल भेजे जाने की कवायद खत्म होगी।

इसके साथ ही बिजली कंपनियों पर बकाया का भार नहीं रहेगा। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि स्मार्ट मीटर के तमाम फायदों को ध्यान में रखते हुए इसके निर्माण को अनिवार्य करने पर विचार करें। इससे बिजली क्षेत्र में क्रांति आएगी, नुकसान भी कम होंगे और बिजली वितरण कंपनियों की स्थिति सुधरेगी।

2022 के बाद बगैर रिचार्ज कराए नहीं होगी सप्लाई –

आपको बता दें कि बजट घोषणा के अनुसार बिजली की चोरी रोकने के लिए आने वाली 1 अप्रैल से प्रत्येक घर में प्रीपेड मीटर लगाना अनिवार्य हो जायेगा । केंद्र सरकार ने 2022 का लक्ष्य रखा है, जिसके बाद लोगों को बिना मीटर को रिचार्ज कराए घर में बिजली की सप्लाई नहीं मिलेगी। यह भी माना जा रहा है कि एक मीटर के लिए उपभोक्ता को करीब दो हजार रुपए का भुगतान करना होगा।

उपभोक्ता की आवश्यकता के अनुसार सिंगल फेज से लेकर थ्री फेज मीटर लगाए जाएंगे। दोस्तों, आपको यह भी बता दें कि पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर ट्रायल के तहत चार साल पहले प्रीपेड बिजली मीटर लगाए गए थे। अब सबको बदलकर स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाए जाएंगे।

तो दोस्तों, यह थी प्रीपेड स्मार्ट मीटर के बारे में जानकारी। प्रीपेड स्मार्ट मीटर क्या है? ये कैसे काम करते हैं? प्रीपेड स्मार्ट मीटर के क्या फायदे हैं? आदि बिंदुओं पर हमने आपको इस post के जरिए विस्तार से जानकारी देने की कोशिश की है। उम्मीद है कि यह post आपको पसंद आई होगी। अगर आप प्रीपेड स्मार्ट मीटर से जुड़ी कोई अन्य जानकारी हमसे पाना चाहते हैं तो हमें नीचे दिए गए comment box में comment करके हम तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं। हम आपको इस विषय से जुड़ी आपकी चाही गई जानकारी देने की पूरी पूरी कोशिश करेंगे।

इसके अलावा यदि आप किसी दूसरे विषय पर हमसे जानकारी चाहते हैं तो हमें बता सकते हैं। इसके लिए भी तरीका वही होगा-आपको नीचे दिए गए comment box में comment करना होगा, ताकि हम आपको संबंधित जानकारी उपलब्ध करा सकें। तो दोस्तों, हमें आपकी प्रतिक्रिया का इंतजार है। पढ़ते रहिए। Comment करते रहिए। ।। धन्यवाद।।

Spread the love

Leave a Comment