श्रमिक कार्ड से डिलीवरी में कितने पैसे मिलते हैं? मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना 2023

|| श्रमिक कार्ड से डिलीवरी में कितने पैसे मिलते हैं? (How much amount is given at the time of delivery through shramik card?) सरकारी हॉस्पिटल में डिलीवरी होने पर कितना पैसा मिलता है 2023, पहली डिलीवरी की योजना, गर्भवती महिलाओं को 16000 कैसे मिलते हैं ||

श्रमिक कार्ड के माध्यम से केंद्र सरकार के साथ ही राज्य सरकारों ने भी अनेकों योजनाओं का लाभ कार्डधारकों तक पहुंचाने का प्रयास किया है। इनमें एक डिलीवरी के वक्त दिए जाने वाली आर्थिक सहायता सुविधा भी है। मध्य प्रदेश सरकार की ओर से भी एमपी प्रसूति सहायता योजना शुरू चलाई जा रही है, जिसके अंतर्गत वह श्रमिक कार्ड धारक गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान आर्थिक सहायता प्रदान करती है।

आज इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि यह सहायता कितनी राशि की होती है? आप यह सहायता कैसे प्राप्त कर सकते हैं? मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना के तहत लाभ लेने के लिए कौन कौन से दस्तावेजों की आवश्यकता होगी? आइए, शुरू करते हैं-

Contents show

मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना क्या है? (What is mp mahila prasuti yojana?)

दोस्तों, सबसे पहले जान लेते हैं कि मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना क्या है? दरअसल, मध्य प्रदेश की श्रमिक महिलाओं को श्रमिक कार्ड के माध्यम से डिलीवरी के दौरान आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए सरकार ने मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना की शुरूआत की है।

इसके अंतर्गत गर्भावस्था के अंतिम 3 माह में श्रमिक महिलाओं को उनके वेतन का 50 प्रतिशत हिस्सा हितलाभ के रूप में प्रदान किया जाता है। प्रसव के पश्चात उन्हें चिकित्सा के दौरान हुए खर्चों को वहन करने के लिए एक हजार रूपए की राशि प्रदान की जाती है। इस प्रकार योजना के तहत कुल 16 हजार रुपए की धनराशि मध्य प्रदेश की लाभार्थी महिलाओं को प्रदान की जाती है.

श्रमिक कार्ड से डिलीवरी में कितने पैसे मिलते हैं? मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना 2023

लाभार्थी को 16 हजार रुपए की सहायता राशि एकमुश्त प्रदान की जाती है अथवा किस्तों में? (Beneficiaries will get this 16 thousand rupees amount one time or in installments?)

मित्रों, अब हम आपको बताएंगे कि योजना के तहत निश्चित की गई 16 हजार रुपए की धनराशि लाभार्थी को किस्तों में मिलती है अथवा एक साथ। तो आपको बता दें कि यह 16 हजार रुपए की राशि लाभार्थी को दो किस्तों (instalments) में प्रदान की जाती है। पहली किस्त 4 हजार रुपए की होती है, जो गर्भावस्था के दौरान निर्धारित समय में अंतिम तिमाही (last quarter) तक डाक्टर अथवा एएनएम (ANM) द्वारा प्रसव की जांच करने पर प्रदा की जाती है।

दूसरी किस्त 12 हजार रुपए पए की होती है, जो नवजात शिशु (infant baby) का संस्थागत वह भी सरकारी अस्पताल (government hospital) में जन्म होने पर रजिस्ट्रेशन (registration) कराने पर मिलेगी। इससे पूर्व शिशु को संक्रमण (infection) से बचाने के लिए एचईपीबी (HepB), जीरो डोज (zero dose), बीसीजी (BCG), ओपीवी (OPV) वैक्सीनेशन (vaccination) कराना आवश्यक होगा।

मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना को लाने का उद्देश्य क्या है? (What is the objective of this scheme?)

मित्रों, आइए अब आपको जानकारी देते हैं कि सरकार का मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना को लाने का क्या उद्देश्य है? साथियों आपने भी देखा होगा कि असंगठित क्षेत्र (unorganised sector) में हजारों महिलाएं अपनी आजीविका (livelihood) के लिए मेहनत मजदूरी करती हैं। श्रमिक के रूप में कार्य करती हैं। लेकिन गर्भावस्था (pregnancy) के दौरान वे काम पर नहीं जा पातीं।

ऐसे में उन्हें अपने जीवन यापन में किसी प्रकार की दिक्कत न हो, वे गर्भावस्था के दौरान अपनी देखभाल ठीक से कर सकें, अपनी और गर्भस्थ शिशु की जांच करा सकें, पोषक आहार (nutritious diet) ले सकें, इसे देखते हुए सरकार ने मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना का शुभारंभ किया है।

योजना का लाभ किन किन महिलाओं को मिलेगा? (Which women will get advantage of this scheme?)

अब आप यह जरूर जानना चाहते होंगे दोस्तों कि मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना का लाभ किन किन महिलाओं को मिलेगा? इसकी लाभार्थियों (beneficiaries) की श्रेणी में निम्न महिलाएं शामिल हैं-

  • आर्थिक रूप से कमजोर अथवा निर्धन महिलाएं।
  • कृषि, मजदूरी का काम करने वाली महिलाएं
  • सिलाई का काम करने वाली महिलाएं।
  • धूप अगरबत्ती बनाने वाले परिवारों की महिलाएं।
  • बढ़ई, फर्नीचर निर्माण करने वाले परिवार की महिलाएं।
  • घरेलू श्रमिक महिलाएं।
  • चमड़े का काम करने वाले परिवार की महिलाएं।
  • लकड़ी का काम करने वाली महिलाएं।
  • पत्थर तोड़ने वाली, कचरा बीनने वाली महिलाएं।
  • बर्तन बनाने वाले, कारीगर परिवार की महिलाएं।
  • तेल के मिल में काम करने वाले मजदूर परिवारों की महिलाएं।
  • ईंट निर्माण में लगीं श्रमिक महिलाएं।
  • मछली पालन करने वाले गरीब घरों की महिलाएं।
  • जूते, माचिस आदि बनाने वाले परिवारों की महिलाएं।
  • ऑटो-रिक्शा चालक के परिवार की महिलाएं।

महिला प्रसूति सहायता योजना के लिए निर्धारित पात्रता क्या है? (What is the eligibility to take the benefit of mahila prasuti sahayata yojana?)

साथियों, आइए अब आपको बता दें कि महिला प्रसूति सहायता योजना के लिए आवश्यक पात्रता क्या है? यह इस प्रकार से है-

  • आवेदक महिला प्रसूता हो।
  • आवेदक महिला मध्य प्रदेश की मूल निवासी हो।
  • आवेदक महिला की उम्र 18 वर्ष से कम न हो।
  • आवेदक महिला का बैंक खाता उसके आधार कार्ड से लिंक हो।
  • आवेदक महिला बीपीएल वर्ग से संबंधित हो।

मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना का लाभ लेने के लिए आवश्यक दस्तावेज कौन कौन से हैं? (What are the necessary documents to avail benefit of this scheme?)

अब आपको जानकारी देंगे कि यदि आप मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको किन किन दस्तावेजों (documents) की आवश्यकता होगी? ये इस प्रकार से हैं-

  • आवेदक महिला का आधार कार्ड।
  • आवेदक महिला की वोटर आईडी।
  • आवेदक महिला का गर्भावस्था प्रमाण पत्र।
  • आवेदक महिला का निवास प्रमाण पत्र।
  • आवेदक महिला का पहचान प्रमाण पत्र।
  • आवेदक महिला का आय प्रमाण पत्र।
  • आवेदक महिला के बैंक खाते का ब्योरा।
  • आवेदक महिला का मोबाइल नंबर।
  • आवेदक महिला की पासपोर्ट साइज फोटो।

योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन की क्या प्रक्रिया है? (What is the process of to get benefit of this scheme?)

अब आप यह जरूर सोच रहे होंगे कि मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना का लाभ लेने के लिए कैसे आवेदन किया जा सकेगा? तो चिंता मत करिए हम आपको इसकी प्रक्रिया यहां कदम दर कदम समझाएंगे, जो कि इस प्रकार से है-

  • महिला को सबसे पहले अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र (health centre) अथवा परिवार कल्याण विभाग (family health department) के कार्यालय में जाना होगा।
  • यहां संबंधित अधिकारी से उसे योजना का फार्म लेना होगा।
  • इस फार्म में पूछी गई सारी जानकारी सही सही भरनी होगी। जैसे आवेदक का नाम, पति का नाम, उम्र, लिंग, गर्भावस्था की तिथि आदि। कोशिश करें कि फार्म में काट छांट न हो।
  • इसके पश्चात ऊपर बताए गए दस्तावेजों की प्रति (copy of documents) इस फार्म के साथ संलग्न करनी होगी।
  • इसके पश्चात आपको फार्म को संबंधित अधिकारी के पास जाकर जमा करना होगा।
  • अधिकारी आपके द्वारा जमा कराए गए फॉर्म एवं दस्तावेजों का सत्यापन (verification) करेंगे।
  • सब कुछ सही पाए जाने पर आपको मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना का लाभ प्रदान कर दिया जाएगा।

मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना से गर्भवती महिलाओं की किस प्रकार सहायता होगी? (How will women get benefitted by this scheme?)

मित्रों, अब हम आपको बताएंगे कि मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना से गर्भवती महिलाओं (pregnant women) को किस प्रकार से लाभ होगा। दरअसल, महिलाएं श्रमिक के बतौर इसलिए काम करती हैं, ताकि परिवार की गुजर बसर में हाथ बंटा सकें। उसमें सहभागिता कर सकें। यदि वे गर्भावस्था के दौरान काम पर जाती हैं तो इससे उनके गर्भस्थ शिशु को नुकसान होने की आशंका रहती है और यदि वे काम पर नहीं जातीं तो उन्हें प्रतिदिन की कमाई का हर्जा होता है।

ऐसे में सरकार ने उनकी स्थिति के बारे में सोचते हुए यह योजना लागू की थी, ताकि उन्हें काम पर भी न जाते हुए आर्थिक रूप से नुकसान न झेलना पड़े। ऐसा नहीं कि सभी महिलाओं के कंधे पर पूरे घर को चलाने की जिम्मेदारी होती है, लेकिन जितने हाथ, उतना काम का सिद्धांत निर्धन परिवारों में आवश्यक रूप से लागू होता है ताकि आजीविका ठीक से चल सके।

महिला प्रसूति सहायता योजना किस सरकार के द्वारा चलाई गई है?

यह योजना मध्य प्रदेश सरकार द्वारा चलाई गई है।

मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना के अंतर्गत श्रमिक कार्ड से डिलीवरी पर कितने पैसे मिलते हैं?

मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना के अंतर्गत श्रमिक कार्ड से डिलीवरी पर 1़6 हजार रुपए की राशि बतौर सहायता मिलती है।

मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना से श्रमिक महिलाओं को क्या लाभ है?

मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना की वजह से गर्भावस्था के दौरान काम पर न जाने वाली महिलाओं को आर्थिक सहायता मिलती है। इससे वे पोषक आहार ले सकती हैं, अस्पताल जाकर अपनी व गर्भस्थ शिशु की जांच करा सकती हैं आदि।

क्या किसी अन्य प्रदेश की महिलाएं भी मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना का लाभ ले सकती हैं?

जी नहीं, यह योजना केवल मध्य प्रदेश की मूल निवासी महिलाओं के लिए है।

योजना के तहत देय राशि कितनी किस्तों में प्रदान की जाएगी?

योजना के तहत देय राशि दो किस्तों में प्रदान की जाएगी।

क्या सहायता राशि लेने के लिए शिशु का टीकाकरण होना आवश्यक है?

जी हां, ऐसा किया जाना अनिवार्य किया गया है।

क्या योजना का लाभ लेने के लिए उम्र संबंधी कोई बाध्यता निर्धारित की गई है?

जी हां, 18 वर्ष से कम उम्र होने पर मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना का लाभ नहीं मिलेगा।

किस वर्ग की महिलाओं को मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा?

बीपीएल वर्ग की महिलाओं को मध्य प्रदेश महिला प्रसूति सहायता योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।

दोस्तों, हमने आपको इस पोस्ट (post) में बताया कि श्रमिक कार्ड से डिलीवरी के लिए कितना पैसा मिलता है? यदि आपको यह पोस्ट जानकारीप्रद लगी हो तो इसे अधिक से अधिक शेयर करें। पोस्ट के संबंध में किसी भी प्रकार की अधिक जानकारी चाहिए तो नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स (comment box) में कमेंट (comment) करके हम तक अपनी बात पहुंचाना न भूलें। ।।धन्यवाद।।

————————

Leave a Comment

सवर्ण 10% आरक्षण लाभ कैसे मिलेगा ? मोबाइल से Slow Motion Video कैसे बनाए? दिल्ली रोजगार बाजार पोर्टल ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन आत्मनिर्भर कृषक समन्वित विकास योजना 2023 मुख्यमंत्री बालक बालिका प्रोत्साहन योजना 2023 ऑनलाइन आवेदन