पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना क्या है? योग्यता, पात्रता, दस्तावेज, उद्देश्य

What is PM Yashswi scholarship scheme In Hindi – देश में हजारों बच्चे ऐसे हैं, जो उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं, लेकिन आर्थिक रूप से स्थिति अच्छी न होने के कारण पढ़ नहीं पाते। कभी बीच में ही पढ़ाई छोड़ देते हैं तो कभी बेहद बेमन से ऐसे कोर्स में दाखिला ले लेते हैं, जिसमें न के बराबर खर्च आता है। ऐसे वंचित वर्ग के छात्र-छात्राओं के लिए सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय छात्रवृत्ति योजना चलाता है, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना की घोषणा की है, जो उसकी छात्रवृत्ति योजना को अधिग्रहीत कर लेगी।

साथियों, क्या आप जानते हैं पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना क्या है? इससे किस स्तर के छात्र लाभान्वित होंगे? इसमें केंद्र और राज्य का अंश कितना होगा? यदि नहीं भी जानते हैं, तो भी चिंता की बात नहीं। आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इस योजना के संबंध में सारी जानकारी देंगे। आइए,, अधिक समय नष्ट न करते हुए शुरू करते हैं-

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना क्या है? What is PM Yashswi scholarship scheme?

समाज के वंचित तबके के नौंवी से पीजी तक के छात्रों के लिए केंद्र सरकार 7200 करोड़ रुपये की नेशनल स्कालरशिप स्कीम लाने जा रही है। इससे पहले पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना के लिए छह हजार करोड़ का प्रावधान किया गया था, जिसमें बाद में इजाफा किया गया। माना जा रहा है कि पहले साल इससे 85 लाख छात्र लाभान्वित होंगे। इसके साथ ही सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण मंत्रालय की वंचित तबकों के लिए चलाई जा रही सभी स्कालरशिप का स्थान पीएम यशस्वी स्कीम ले लेगी।

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना क्या है? योग्यता, पात्रता, दस्तावेज, उद्देश्य

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना के उद्देश्य – Objectives of PM Yashswi scholarship scheme –

दोस्तों, आपके दिमाग में आ रहा होगा कि जब वंचितों के लिए पहले से ही छात्रवृत्ति योजनाएं चल रही हैं तो अब नई छात्रवृत्ति योजना की आवश्यकता क्यों हुई? तो दोस्तों आपको बता दें कि राज्य स्तर पर स्कालरशिप में होने वाली वित्तीय गड़बड़ियों को रोकना इस स्कीम को लाए जाने का मुख्य उद्देश्य माना जा रहा है। इसीलिए यह एकीकृत योजना लागू की जा रही है, ताकि छात्रों को इसका पूरी तरह से लाभ मिल सके। जैसा कि आप जानते ही हैं कि केंद्र की योजना होने की वजह से पूरे देश के पात्र छात्रों को इस योजना का लाभ मिलेगा।

गड़बड़ियां बनीं एकीकृत योजना की मुख्य वजह –

साथियों, अगर राज्य स्तर की छात्रवृत्ति योजनाओं में गड़बड़ी न होती तो पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना को एकीकृत करने की आवश्यकता कतई न पड़ती। दरअसल, इससे पहले तक छात्रवृत्तियों की 90 प्रतिशत वित्तीय जवाबदेही राज्य सरकारों की निर्धारित की गई थी। ऐसे में राज्य स्तर पर कई गड़बड़झाले हुए। ऐसे में केंद्र ने तमाम योजनाओं को एकीकृत किए जाने का निर्णय लिया।

कई स्थानों पर ऐसा हुआ कि अधिकारियों और कालेज प्रबंधन की मिलीभगत से छात्रों को दी जाने वाली छात्रवृत्ति की बंदरबांट हो गई। करोड़ों के घोटाले हुए। उत्तराखंड का छात्रवृत्ति घोटाला एक ऐसा ही घोटाला है, जिसमें एसटीएफ कई गिरफ्तारियां कर चुकी है। इसमें प्रदेश के बड़े बड़े अफसरों की मिलीभगत सामने आई है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत मिलेगा 3 महीने का राशन, PM Garib Kalyan Yojana 2020 पंजीकरण

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना का लाभ किन छात्रों को मिलेगा? Which students will get the benefit of PM Yashwashi Scholarship Scheme?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस महत्वाकांक्षी योजना से अनुसूचित जाति/जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग और गरीब छात्रों को पढ़ाई करने में मदद मिलेगी। छात्र का भारत का नागरिक होना जरूरी है। जैसा कि अभी तक माना जा रहा है कि इसके साथ ही इस योजना का लाभ लेने के लिए किसी बोर्ड या यूनिवर्सिटी मेरिट आधार नहीं होगा। इन शर्तों में कोई बदलाव होगा तो सरकार की ओर से उस संबंध में निश्चित रूप से अधिसूचित अवश्य किया जाएगा।

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना के लिए टेस्ट कब होगा?

हर साल जून और जुलाई में इस स्कालरशिप को प्राप्त करने के लिए मेरिट टेस्ट का आयोजन किया जाएगा। इसके पश्चात स्कालरशिप के तहत मिलने वाली धनराशि को सीधे लाभार्थी के बैंक में डाल दिया जाएगा। दोस्तों, यह तो स्पष्ट है ही कि इसके लिए लाभार्थी का किसी राष्ट्रीयकृत बैंक में खाता होना आवश्यक है। इस खाते के संबंध में भी जानकारी लाभार्थी को संबंधित विभाग को देनी होगी। बैंक खाता संख्या के साथ ही बैंक का आईएफएससी कोड भी लाभार्थी को बताना होगा, ताकि छात्रवृत्ति की धनराशि के आन लाइन ट्रांसफर में किसी तरह की समस्या सामने न आए।

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना का किस पर कितने फंड का जिम्मा

इस योजना के तहत राज्यों को केवल 40 प्रतिशत ही योगदान करना होगा। इसके अलावा 60 प्रतिशत फंड की व्यवस्था केंद्र सरकार करेगी। जैसा कि हम आपको ऊपर बता ही चुके हैं कि जिस वक्त घोषणा हुई थी, उस वक्त बजट में पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना के लिए छह हजार करोड़ रुपये का आवंटन किया जा चुका था, लेकिन अब इसे बढ़ाकर 7200 करोड़ रुपये कर दिया गया है। माना जा रहा है कि इस फंड से उन छात्रों को बहुत लाभ मिलेगा जो पैसे की वजह से अपनी शिक्षा पूरी नहीं कर पा रहे थे।

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना के लिए जरूरी दस्तावेज सूची – Documents list required for PM Yashwasevi Scholarship Scheme

  • आय प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • स्कूल, कालेज का आईडी कार्ड या फीस की रसीद
  • पते का प्रमाण पत्र जेसे आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, निवास प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता संख्या
  • पासपोर्ट साइज की फोटो

कौन करेगा इस योजना की निगरानी

इस योजना की सबसे अहम बात यह है कि वरिष्ठ नागरिक यानी सीनियर सिटीजन इस योजना की निगरानी करेंगे। सरकार इस संबंध में एक्शन प्लान तैयार कर रही है। इसके लिए प्रशिक्षण कार्यक्रमों का भी आयोजन सरकार की ओर से किया जाएगा। सीनियर सिटीजन छात्रों को पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना का लाभ लेने के लिए प्रशिक्षित भी करेंगे। इससे सीनियर सिटीजन का व्यावहारिक इस्तेमाल भी संभव होगा।

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना की परीक्षा के लिए जारी होगा नोटिफिकेशन –

आपको बता दें कि इस परीक्षा के लिए नोटिफिकेशन जारी होगा। छात्रों को इसका इंतजार है। इसके पश्चात ही छात्रवृत्ति परीक्षा से जुड़ी अन्य शर्तें साफ हो सकेंगी। दोस्तों, चिता की जरूरत नहीं। आपको बता दें कि जैसे ही यह नोटिफिकेशन जारी होगा, हम आपको उसके संबंध में विस्तार से जानकारी देंगे। जनवरी में घोषित हुई इस योजना के साल में दो बार आयोजित होने के पैटर्न से यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि परीक्षा का आयोजन जून में होगा।

फिलहाल कोरोना संक्रमण को देखते हुए कई परीक्षाएं स्थगित हो गई हैं और कुछ की तिथि में बदलाव किया गया है। अभी तक यह परीक्षा जून में होगी, लेकिन यदि इसके आयोजन के वक्त में कोई बदलाव होता है तो उसके बारे में भी आपको अवगत करा दिया जाएगा।

पैसे न होने से हजारों छात्र छोड़ देते हैं पढ़ाई –

पढ़ाई के लिए पैसा न होने से देश में हर साल लाखों छात्रों को अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ने पर मजबूर होना पड़ता है। कोई आठवीं के बाद पढ़ाई छोड़ देता है तो कोई बारहवीं के बाद। बहुत से छात्र परिवार की आर्थिक स्थिति को देखते हुए उनका हाथ बंटाने को छोटे मोटे काम में जुट जाते हैं। उनके दिल में यह खलिश बनी रहती है कि यदि उनको पढ़ने का मौका मिला होता तो वह भी जिंदगी में कुछ बड़ा कर सकते थे। बहुत से अनुसूचित जाति/जनजाति के छात्र ऐसे हैं, जो पिछड़ेपन की वजह से आगे नहीं बढ़ पाए। ऐसे छात्रों के लिए छात्रवृत्ति एक मौका बनकर आती है।

उम्मीद है कि यह प्रधानमंत्री यशस्वी छात्रवृत्ति बहुत से ऐसे ही निर्धन छात्रों को पढ़ाई पूरी करने में मदद करेगी। बस केंद्र सरकार को करना यह होगा कि छात्रवृत्ति वितरण में पारदर्शिता सुनिश्चित करनी होगी। इसके बाद ही छात्रवृत्ति उस छात्र वर्ग तक पहुंच पाएगी, जो इसका वास्तव में हकदार है। केंद्र को हर कदम पर अधिकारियों की जवाबदेही सुनिश्चित करानी होगी, ताकि निर्धारित मापदंडों के अनुसार छात्रवृत्ति का वितरण हो सके।

अच्छे कॉलेजों में कोर्स की फीस हजारों में –

डॉक्टरी, इंजीनियरिंग की पढ़ाई में तो लाखों रुपये का खर्च आता है। यदि कोई छात्र यह न कर बारहवीं के बाद सामान्य रूप से स्नातक और स्नातकोत्तर यानी ग्रेजुएशन और पीजी की पढ़ाई करना चाहता है तो भी उस कोर्स की फीस हजारों में है। दोस्तों, हमारे देश में कई सारे कॉलेज ऐसे भी हैं, जहां पर स्नातक और स्नातकोत्तर के कुछ पाठ्यक्रमों में केवल स्व वित्त पोषित कार्यक्रम चल रहे हैं। ऐसे में इनकी फीस चुका पाना एक सामान्य से अभ्यर्थी के लिए बेहद मुश्किल होता है।

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना के तहत केवल अनुसूचित जाति, जनजाति या अन्य पिछड़ा वर्ग से जुड़े अभ्यर्थी के लिए ही नहीं, बल्कि अनारक्षित वर्ग के गरीब छात्र छात्राओं की मदद के लिए भी छात्रवृत्ति दी जाएगी। ऐसे में इस छात्रवृत्ति का लाभ लेने वाले छात्र छात्राओं का दायरा बहुत विस्तृत होगा। केंद्र सरकार भी इस योजना को लागू करने में कोई गुंजाइश बाकी नहीं रखना चाहती।

क्योंकि यह प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षी योजना है, इसलिए संबंधित विभाग भी अपनी तरफ से पूरी तैयारी में हैं। हाल में ही इस योजना को लागू करने के विषय में प्रधानमंत्री की संबंधित अधिकारियों से बातचीत भी हुई है। इसी से समझा जा सकता है कि योजना को लेकर गंभीरता का क्या स्तर है।

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना से जुड़े अंतिम शब्द –

यदि आप भी ऐसे ही वंचित वर्ग से आने वाले छात्र हैं तो आपको भी इस योजना का लाभ लेने के लिए इससे जुड़े तमाम दस्तावेज अपने साथ रखने होंगे। ऐसे दस्तावेज कौन कौन से हैं, दोस्तों इसके लिए आपको भटकने की जरूरत नहीं। इन दस्तावेजों की सूची हम आपको ऊपर उपलब्ध करा चुके हैं। आप सारे डाक्यूमेंट्स जुटा लीजिए। आपको बता दें दोस्तों कि जरूरतमंदों के लिए यह प्रधानमंत्री यशस्वी छात्रवृत्ति योजना उनका भविष्य बदल देने वाली साबित होने जा रही है। और जो सबसे अच्छी बात, जिसका जिक्र हम पहले भी कर चुके हैं और वो ये कि पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना में गड़बड़ी की आशंका भी न्यूनतम है।

तो दोस्तों, ऐसे में यह उम्मीद की जा सकती है कि इस योजना का लाभ पात्र छात्र छात्राओं को ही मिलेगा। पहले की गड़बड़ियों पर रोक लग सकेगी। इसके लिए अधिकारियों को भी बेहद सतर्क होकर कार्य करना होगा। प्रधानमंत्री की अगुवाई में लांच हो रही इस योजना को लेकर वह सतर्क होंगे, ऐसी आशा तो की ही जा सकती है।

दोस्तों, उम्मीद है कि इस पोस्ट के जरिये प्रधानमंत्री यशस्वी छात्र योजना के बारे में दी गई जानकारी आपके बेहद काम की होगी। यदि आप ऐसी ही अन्य किसी योजना के संबंध में हमसे जानकारी चाहते हैं तो उसके लिए नीचे दिए गए कमेंट बाक्स में उस योजना का नाम लिखकर हमें भेज सकते हैं। हम उसके बारे में जानकारी उपलब्ध कराने का पूरा प्रयास करेंगे। यदि कोई सुझाव आप हमें देना चाहते हैं तो उसके लिए भी अपनी बात कमेंट बाक्स में कमेंट करके हम तक पहुंचा सकते हैं। हमें इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा।। धन्यवाद।।

Spread the love

अनुक्रम

Leave a Comment