प्रधानमंत्री डिजिटल साक्षरता अभियान आवेदन, उद्देश्य, पात्रता, दस्तावेज, हेल्पलाइन नम्बर

PMGDISHA Online Apply, ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान प्रधानमंत्री आवेदन फॉर्म, ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान प्रधानमंत्री ऑनलाइन आवेदन, Pradhanmantri Gramin Digital Saksharta Abhiyan In Hindi.

केंद्र और राज्य सरकारों ने ग्रामीणों के लिए कई योजनाएं चलाई हैं। इनमें से कई योजनाओं के लिए आवेदक की सुविधा को देखते हुए Online आवेदन की सुविधा भी दी गई है। लेकिन कई आवेदक डिजिटल अज्ञानता यानी कंप्यूटर, स्मार्टफोन आदि का इस्तेमाल न जानने की वजह से या तो आवेदन से वंचित रह जाते हैं या फिर फाॅर्म भरने या आवेदन करने में कठिनाई महसूस करते हैं।

इसी तरह से कई छात्र छात्राएं, जो कंप्यूटर, स्मार्टफोन आदि का इस्तेमाल नहीं जानते या ईमेल आदि नहीं भेज पाते वह जमाने के कदम से कदम नहीं मिला पाते। इनके परिवार में कोई भी व्यक्ति ऐसा नहीं होता, जो डिजिटल साक्षर हो। ऐसे ग्रामीणों की सहायता के लिए केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री डिजिटिल साक्षरता अभियान चलाया है। आज इस पोस्ट के जरिये हम आपको इसी अभियान के संबंध में विस्तार से जानकारी देंगे। आइए शुरू करते हैं-

प्रधानमंत्री डिजिटल साक्षरता अभियान (PMGDISHA) क्या है?

साथियों, जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है यह अभियान डिजिटल साक्षरता से संबंधित है। इसका उद्देश्य भारत के ग्रामीण इलाकों में लोगों को डिजिटल साक्षर बनाना है, ताकि वह सरकार की ओर से चलाई जा रही किसी भी योजना का लाभ स्वयं से उठाने, छात्र स्वयं online फाॅर्म भरने, फीस आदि के online पेमेंट में सक्षम हो सकें। मसलन वह कंप्यूटर, टेबलेट, स्मार्टफोन और इंटरनेट समेत अन्य कम्युनिकेशन डिवाइस का इस्तेमाल सीख सकें।

आपको बता दें कि इसके लिए प्रत्येक परिवार से एक सदस्य इस अभियान के तहत आवेदन कर training हासिल कर सकता है और डिजिटल साक्षरता प्राप्त कर सकता है। परिवार में घर का मुखिया, उसकी पत्नी, बच्चे और उसके माता-पिता को शामिल किया गया है।

इसके तहत आवेदक को डिजिटल उपकरण चलाने की ट्रेनिंग दी जाएगी, ईमेल भेजना और रिसीव करना सिखाया जाएगा। इंटरनेट चलाना और इंटरनेट से सरकारी सुविधाओं की जानकारी जुटाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा। साथ ही आनलाइन फाॅर्म भरना, पेमेंट करना आदि की जानकारी दी जाएगी।

प्रधानमंत्री डिजिटल साक्षरता अभियान का उद्देश्य –

मित्रों, हम आपको बता ही चुके हैं कि अभियान का मुख्य उद्देशय भारत के ग्रामीण इलाकों में लोगों डिजिटल साक्षरता को बढ़ावा देना है, इसके तहत देश के करीब छह करोड़ लोगों को डिजिटिल रूप से साक्षर बनाए जाने का लक्ष्य है। इस वर्ष 2020 के अंत तक करीब साढ़े 52 लाख लोगों को आईटी ट्रेनिंग देने का भी लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

आपको बता दें कि योजना के लिए लाभार्थियों का चयन डिस्ट्रिक्ट ई गवर्नेंस सोसायटी, ग्राम पंचायतें और बीडीओ एक साथ मिलकर करेंगे। प्रधानमंत्री की महत्त्वाकांक्षी योजना होने की वजह से इस अभियान का जोर शोर से प्रचार प्रसार किया भी जा रहा है।

प्रधानमंत्री डिजिटल साक्षरता अभियान आवेदन, उद्देश्य, पात्रता, दस्तावेज, हेल्पलाइन नम्बर

प्रधानमंत्री डिजिटल साक्षरता अभियान डिटेल्स –

आयु वर्ग 14 – 60 वर्ष
ट्रेनिंग फ़ीस शुन्य
ट्रेनिंग अवधि 20 घंटे (न्यूनतम अवधि 10 दिन, अधिकतम अवधि 30 दिन)
ट्रेनिंग स्थान मान्य कॉमन सर्विस सेंटर (CSC)
ट्रेनिंग की भाषा भारत की सभी आधिकारिक भाषाएँ
ईमेल helpdesk@pmgdisha.in
फ़ोन 1800 3000 3468

प्रधानमंत्री डिजिटल साक्षरता अभियान के तहत आवेदन की पात्रता, आवश्यक दस्तावेज

दोस्तों, आपको बता दें कि प्रधानमंत्री डिजिटल साक्षरता अभियान के तहत आवेदन करने के लिए सरकार ने कुछ शर्तें रखी हैं। साथ ही कुछ दस्तावेजों को आवेदन करते वक्त संलग्न करना होगा। आवेदक के पास यह दस्तावेज होने आवश्यक हैं-

  • सबसे पहली शर्त यह है कि आवेदक को भारत का निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक के परिवार में किसी को कंप्यूटर आदि की जानकारी न हो, यानी वह डिजिटल साक्षर न हों।
  • आवेदक की आयु 18 वर्ष से कम और 60 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • एंव आवेदक का आधार कार्ड।
  • आवेदक की फोटो आईडी या पहचान पत्र।
  • आवेदक का आयु प्रमाण पत्र।
  • और आवेदक का पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ।
  • आवेदक का मोबाइल नंबर।

अभियान के तहत आवेदन के लिए आपके पास उपरोक्त दस्तावेज आवश्यक रूप से होने चाहिए। दोस्तों, आवेदन करते वक्त एक बात का हमेशा ध्यान रखें कि आप जो मोबाइल नंबर दे, वह चालू हो और सही हो। यदि ऐसा नहीं हुआ तो ओटीपी (OTP) सही और आपके पास मौजूद नंबर पर नहीं जा पाएगा और आप आवेदन नहीं कर सकेंगे। लिहाजा, दस्तावेज जुटाते वक्त इस तरह की सावधानी जरूर रखें।

प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान के लिए आवेदन कैसे करें?

दोस्तों, प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान के तहत ट्रेनिंग लेने के लिए आवेदन प्रक्रिया क्या है, अब हम आपको इसकी जानकारी देंगे। यह एक बेहद आसान सी प्रक्रिया है। आपको बस इन कदमों को फाॅलो करना होगा-

  • सबसे पहले आवेदक को योजना की आधिकारिक वेबसाइट https://www.pmgdisha.in/ पर जाना होगा। इस वेबसाइट पर जाने के बाद आवेदक के सामने होम पेज खुल जाएगा।
  • यहां आवेदक को Direct candidate का option दिखाई देगा। आवेदक को इस option पर क्लिक करना होगा।
    option पर क्लिक करने के बाद आगे का पेज खुल जाएगा।
  • इस पेज पर आवेदक को लाॅगिन फाॅर्म नजर आएगा। लाॅगिन फाॅर्म के नीचे आवेदक को रजिस्टर का आॅप्शन दिखाई देगा।
  • आवेदक को इस option पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आवेदक के सामने registration फाॅर्म खुल जाएगा।
  • आवेदक को इस registration फाॅर्म में पूछी गई सभी जानकारी मसलन UIDAI नंबर, नाम, लिंग, जन्म तिथि आदि का ब्योरा भरना होगा।
  • इसके बाद नीचे दिए निर्देशों के अनुसार क्लिक करना होगा। इसके बाद एड पर क्लिक करना होगा। आगे के पेज पर अगला चरण ई-केवाईसी का होगा।
  • इसमें या तो फिंगरप्रिंट और या फिर आई स्कैनर से वेरिफिकेशन करना होगा। जिनके पास फिंगरप्रिंट या रेटीना स्कैनर न हो वह तीसरे option मोबाइल ओटीपी को चुन सकते हैं।
  • वैलिडेट ओटीपी के option पर क्लिक करना होगा। आपका सत्यापन हो जाएगा। एक बार registration हो जाने के बाद यूजर आईडी और पासवर्ड जनरेट करके नया एकाउंट खोला जा सकता है।

तो दोस्तों, आपने देखा कि कितनी आसानी से आप पीएमजीदिशा के तहत अपना Registration करा सकते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में डिजिटल साक्षरता की बुरी स्थिति को देखते हुए यह अभियान बेहद महत्वपूर्ण कहा जा सकता है। यह अभियान देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का महत्वाकांक्षी अभियान भी है। इसे देखते हुए इसे सफल बनाने के लिए सभी पक्ष जी जान से जुटे हैं।

Training पूरी करने के बाद मिलता है सर्टिफिकेट

डिजिटल साक्षरता अभियान के तहत training पूरी करने के बाद ट्रेनी आवेदक को एक प्रमाण पत्र यानी सर्टिफिकेट भी दिया जाता है। इसके लिए उसे ट्रेनिंग के बाद एक online टेस्ट से गुजरना पड़ता है। इस टेस्ट में 25 प्रश्न पूछे जाते हैं। इनमें से सात का सही उत्तर देने पर आवेदक को उत्तीर्ण मान लिया जाता है और उसे सर्टिफिकेट प्रदान कर दिया जाता है।

प्रधानमंत्री डिजिटल साक्षरता अभियान आवेदन, उद्देश्य, पात्रता, दस्तावेज, हेल्पलाइन नम्बर

प्रशिक्षण के बाद लाभार्थी अपना training सेंटर भी खोल सकते हैं

साथियों, आपको बता दें कि सर्टिफिकेट पाकर इच्छुक लाभार्थी training के बाद अपना ट्रेनिंग सेंटर भी खोल सकते हैं। इसके लिए उन्हें सबसे पहले सीएससी-एसपीवी यानी कामन सर्विस सेंटर-स्पेशल परपज व्हीकल ट्रेनिंग पार्टनर बनना पड़ता है। यह पार्टनर कोई भी एनजीओ, संस्थान या कंपनी हो सकती है। दोस्तों, आपको बता दें कि इसके लिए कुछ मानक भी निर्धारित किए गए हैं, जो कि इस प्रकार से हैं-

  • ट्रेनिंग पार्टनर को भारत में रजिस्टर्ड एक संगठन होना चाहिए।
  • उसे तीन साल से अधिक समय तक शिक्षा या आईटी साक्षरता के क्षेत्र में व्यवसाय संचालन का अनुभव होना चाहिए।
  • उसके पास परमानेंट एकाउंट नंबर यानी पैन कार्ड होना चाहिएि।
  • पिछले तीन साल के खातों का आडिट होना जरूरी है

Read More –

PMGDISHA एप डाउनलोड करके भी रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं

मित्रों, आपको बता दें कि आप अपना रजिस्ट्रेशन अभियान के एप PMGDISHA एप को डाउनलोड करके भी कर सकते हैं। आइए, अब आपको इस एप को डाउनलोड करने की प्रक्रिया बता दें-

  • सबसे पहले आपको प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
  • यहां आपको ट्रेनिंग के लिंक पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आपको दिशा रजिस्ट्रेशन एप के लिंक के पर क्लिक करना होगा।
  • इस लिंक पर क्लिक करते ही पीएमजीदिशा एप डाउनलोड करना शुरू कर देगा। एप डाउनलोड करने के बाद आप इसे इंस्टाॅल कर सकते हैं और अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

PMGDISHA लर्निंग एप भी डाउनलोड कर सकते हैं

  • आप PMGDISHA लर्निंग ऐप भी डाउनलोड कर सकते हैं। इसके लिए आपको सबसे पहले प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान की आधिकारिक वेबसाइट https://www.pmgdisha.in/ पर जाना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
  • इस होम पेज पर आपको ट्रेनिंग के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको PMGDISHA लर्निंग एप के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इस लिंक पर क्लिक करते ही यह एप डाउनलोड करना शुरू कर देगा।
  • एप डाउनलोड हो जाने के बाद इसे इंस्टाॅल कर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

अभियान को लेकर कोई समस्या है तो हेल्पलाइन की मदद ले सकते हैं

मित्रों, यदि आपके सामने प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान को लेकर किसी तरह की समस्या है तो आप इसकी हेल्पलाइन पर संपर्क कर सकते हैं। हेल्पलाइन का नंबर-180030003468 है। इस पर काल करके आप इस अभियान के संबंध में अपनी किसी भी तरह की जिज्ञासा को शांत कर सकते हैं। आप चाहेें तो अपनी समस्या को ईमेल के जरिये इस पते पर लिखकर भी भेज सकते हैं। ईमेल का पता है-helpdesk@pmgdisha.in। इस ईमेल पर आपको आपके सवालों का जवाब अभियान से जुड़े पदाधिकारी लिखकर भेज देंगे। यह आपसी संवाद का एक बेहतर जरिया है।

अंतिम शब्द –

साथियों, आपको बता दें कि आज से छह साल पहले 2014 में नेशनल सैंपल सर्वे आर्गेनाइजेशना यानी एनएसएसओ (NSSO) ने एक सर्वेक्षण (survey) कराया था। इसमें सामने आया था कि हमारे देश भारत के केवल छह प्रतिशत ग्रामीण परिवारों के पास घर में एक कंप्यूटर है। इसका अर्थ यह निकलता है कि हमारे देश की 15 करोड़ से अधिक जनसंख्या के पास कंप्यूटर नहीं है।

यह देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा डिजिटल साक्षरता अभियान की शुरूआत की गई, ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में डिजिटल जागरूकता का प्रसार किया जा सके। इसका मकसद ग्रामीण परिवारों को डिजिटल रूप से सुदृढ़ करना और ग्रामीणों को आत्मनिर्भर बनाना है। इस कदम के बाद से ग्रामीण भारत की तस्वीर बदलने की संभावना है। जैसा कि हम पहले भी बता चुके हैं कि ग्रामीण भारत में अभी भी कंप्यूटर शिक्षा के प्रति जागरूकता बेहद कम है।

ज्यादातर लोग परंपरागत स्कूली ज्ञान को ही शिक्षा समझते हैं। इसके अलावा देश के ग्रामीण क्षेत्रों में संसाधनों का भी अभाव है। ऐसे में सरकार की तरफ से डिजिटल साक्षरता के लिए दी जा रही यह ट्रेनिंग ग्रामीण भारत में डिजिटल उजाला फैलाने की तरफ एक कदम होगा, इसमें कोई दो राय नहीं है।

दोस्तों, यह थी प्रधानमंत्री डिजिटल साक्षरता अभियान के संबंध में जानकारी। यदि आप इसी तरह की अन्य रोचक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमें नीचे दिए गए कमेंट बाक्स में कमेंट करके अपनी बात से अवगत करा सकते हैं। आपकी प्रतिक्रियाओं और सुझावों का हमें हमेशा की तरह इंतजार है। ।।धन्यवाद।।

Spread the love

Leave a Comment