महिला पर्सनल लोन कैसे ले? | पात्रता, दस्तावेज, नियम, व अप्लाई प्रक्रिया | Personal loan for women in Hindi

|| महिला पर्सनल लोन कैसे ले? | Personal loan for women in Hindi | महिला पर्सनल लोन लेने के क्या फायदे हैं? | महिला पर्सनल लोन कहाँ से ले सकती है? | पर्सनल लोन लेने के लिए जरुरी डाक्यूमेंट्स | महिला पर्सनल लोन की आवेदन प्रक्रिया ||

Personal loan for women in Hindi :- वर्तमान समय में भारत सरकार सहित सभी तरह की वितीय संस्थाओं ने कई तरह की योजनाएं चला रखी है जिनके तहत महिलाओं को पर्सनल लोन दिया जा रहा है। अब महिलाओं को भी लोन लेने की जरुरत पड़ जाती है और इसके लिए कई तरह के कारण हो सकते हैं। एक महिला लोन में मिली इस राशि का उपयोग अपनी भलाई और आगे बढ़ने के लिए करती है। ऐसे में आज हम इसी महिला पर्सनल लोन के बारे में बात करने जा रहे (Personal loan for housewives in Hindi) हैं।

अब एक महिला को लोन चाहे किसी भी कारण से चाहिए हो, लोन तो लोन होता है। महिला को भी पुरुष की तरह ही किसी भी वित्तीय संस्था जो लोन देने का काम कर रही है, वहां से लोन मिल सकता है। ऐसे में यदि आप भी एक महिला हैं और आपको लोन चाहिए तो आपको क्या कुछ करना होगा, किन किन चीज़ों की जरुरत आपको पड़ेगी और किस तरह से आपको लोन कहाँ से मिलेगा, इसके बारे में शुरू से लेकर अंत तक हरेक जानकारी इस लेख के माध्यम से मिलने वाली (Mahila personal loan 2024) है।

महिला पर्सनल लोन कैसे ले? (Personal loan for women in Hindi)

यदि किसी महिला को पर्सनल लोन चाहिए तो इसके लिए उसे जगह जगह धक्के खाने की कोई जरुरत नहीं है क्योंकि आज हम आपको महिला पर्सनल लोन लेने से संबंधित हरेक जानकारी इस लेख के माध्यम से देने वाले हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि जो भी महिला पर्सनल लोन लेने के लिए आवेदन करने वाली है तो वह किस तरह से इसे ले सकती है और कहाँ से ले सकती है, उसे इसके बारे में इस लेख में जानने को (Mahila personal loan kaise le) मिलेगा।

Personal loan for women in Hindi

तो सबसे पहले तो आप यह जान लें कि महिला पर्सनल लोन होता क्या है। तो इस शब्द में महिला जुड़ा हुआ है तो इसका अर्थ हुआ कि यह कोई भी महिला ले सकती है, फिर चाहे वह बच्ची हो, युवा हो, विवाहित हो या बुजुर्ग। महिला का अर्थ सीधे तौर पर लिंग से हो गया जो किसी भी तरह की महिला हो सकती है। एक महिला के द्वारा जो लोन लिया जा रहा है, वह कई तरह का हो सकता है, जैसे कि होम लोन, एजुकेशन लोन या पर्सनल लोन। अब लोन की कई तरह की श्रेणियां होती है जिसमें से एक श्रेणी पर्सनल लोन की (Mahila personal loan in India in Hindi) भी है।

ऐसे में यह पर्सनल लोन वह लोन होता है जो महिला अपने निजी हित के लिए ले रही होती है। अब इसका संबंध शिक्षा या घर से भी हो सकता है लेकिन वह इसे पर्सनल लोन के रूप में ले रही होती है। साथ ही इसका संबंध उसके स्वास्थ्य, बच्चों की पढ़ाई, बिज़नेस शुरू करना, घर की मरम्मत करवाना इत्यादि से भी हो सकता है। इसी के साथ ही वह लोन किसी भी सरकारी या निजी क्षेत्र के बैंक से ले सकती है और इसमें कोई दो राय नहीं है।

महिला के द्वारा जो पर्सनल लोन लिया जाता है, उस पर लगने वाली ब्याज दर भी पुरुषों की तुलना में लगने वाली ब्याज दर से कम होती है। साथ ही वह भारत सरकार के द्वारा महिलाओं की उन्नति के लिए चलायी जा रही ऋण योजनाओं का भी लाभ उठा सकती है। ऐसे में आपको महिला पर्सनल लोन से संबंधित क्या कुछ पता होना चाहिए, आइये उसके बारे में जान लेते (Women’s personal loan in India in Hindi) हैं।

महिला पर्सनल लोन कहाँ से ले सकती है? (Mahila personal loan kaha se le)

अब यदि किसी महिला को पर्सनल लोन चाहिए तो जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया, वह इसके लिए कहीं पर भी आवेदन कर सकती है। अब जो भी वित्तीय संस्था है और यदि वह लोन देने का काम करती है तो अवश्य ही वह महिला पर्सनल लोन देने का भी कार्य करती है। ऐसे में महिला के द्वारा पर्सनल लोन लेने के एक नहीं बल्कि कई तरह के विकल्प होते हैं जिनमें से कुछ प्रमुख श्रेणियां हैं:

  • सरकारी बैंक
  • प्राइवेट बैंक
  • ग्रामीण बैंक
  • महिला संस्थाएं
  • NGO
  • सामाजिक संगठन
  • कॉर्पोरेट व बिज़नेस कंपनियां
  • ऑनलाइन वेबसाइट या ऐप से इत्यादि।

इस तरह से एक महिला के द्वारा पर्सनल लोन लेने के एक नहीं बल्कि कई तरह के विकल्प होते हैं जहाँ से वह इसके लिए आवेदन कर सकती है। हालाँकि जिस भी जगह से आप पर्सनल लोन लेने का सोच रही हैं, वह भरोसेमंद होनी चाहिए और उसकी शर्तें भी महिलाओं के अनुरूप होनी चाहिए। तो आप पहले उसके बारे में अच्छे से पता कर लें और उसके बाद ही वहां से लोन के लिए अपना आवेदन करें।

महिला पर्सनल लोन क्यों लेती है?

अब आपको यह भी जान लेना चाहिए कि किसी महिला के द्वारा आखिरकार किस कारण से पर्सनल लोन लिया जाता है या इसके पीछे क्या कुछ कारण हो सकते हैं। तो महिलाओं के द्वारा पर्सनल लोन लेने के पीछे एक नहीं बल्कि कई तरह के कारण होते हैं जो उन्हें निजी रूप से प्रभावित करते हैं। ऐसे में आइये जाने महिला के द्वारा पर्सनल लोन लेने के कुछ प्रमुख कारणों के बारे में।

  • वह अपनी उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए पर्सनल लोन ले सकती है। अब यह शिक्षा किसी कोर्स से जुड़ी हो सकती है या किसी चीज़ में सर्टिफिकेट हासिल करने से जुड़ी हो सकती है।
  • उसे स्वास्थ्य से जुड़ी कोई गंभीर समस्या हो या परिवार के किसी अन्य सदस्य का उपचार करवाने के लिए भी लोन लिया जा सकता है।
  • महिला के द्वारा खुद का स्टार्ट अप या बिज़नेस शुरू करने के लिए भी लोन लिया जा सकता है। इसके लिए वह उद्यमी के रूप में पर्सनल लोन लेती है।
  • महिला यदि खुद का घर बनवाना चाहे या अपने अभी के घर में मरम्मत करवाना चाहे तो उसके लिए भी पर्सनल लोन लिया जा सकता है।
  • एक महिला के द्वारा अपने बच्चों की पढ़ाई या बेहतर भविष्य के लिए भी लोन लिया जा सकता है। ज्यादातर ऐसा विधवा या तलाकशुदा महिलाओं के द्वारा किया जाता है।
  • महिला के द्वारा अपना कोई निजी वाहन खरीदने के लिए भी लोन लिया जा सकता है जैसे कि कार, स्कूटी या ऐसा ही कुछ।
  • महिला अपने विवाह के लिए भी पर्सनल लोन सकती है। यदि किसी कारणवश उसके परिवार वाले उसका विवाह करवाने में अक्षम हो तो वह अपने नाम से लोन ले सकती है।

इस तरह से हर महिला के अपने अलग अलग कारण होते हैं जिसके लिए वह पर्सनल लोन लेती है। यह जरुरी नहीं है कि महिला वित्तीय संस्था को उस कारण के बारे में बताये कि वह पर्सनल लोन क्यों लेने जा रही है। वह बिना कारण बताये भी पर्सनल लोन ले सकती है।

पर्सनल लोन लेने के लिए जरुरी डाक्यूमेंट्स

अब यदि किसी महिला को पर्सनल लोन चाहिए तो इसके लिए उसे कुछ जरुरी दस्तावेज दिखाने होते हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि किसी भी महिला को यूँ ही पर्सनल लोन नहीं मिल जाता है क्योंकि उस वित्तीय संस्था को अपना लोन ब्याज सहित वापस भी चाहिए होता है। ऐसे में यदि महिला अपने लिए पर्सनल लोन लेने जा रही है तो उसे अपने साथ निम्नलिखित डाक्यूमेंट्स को तैयार करके रखना होगा:

  • पैन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • पासपोर्ट साइज़ फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी
  • बैंक खाता
  • आवास प्रमाण पत्र इत्यादि।

यह सब डाक्यूमेंट्स तो महिला पर्सनल लोन के लिए जरुरी होते ही है, इनके अलावा भी बैंकों के द्वारा कुछ शर्तें व नियम रखे गए हैं जो लोन लेने के लिए जरुरी होते हैं। आइये उनके बारे में भी जान लेते हैं।

महिला पर्सनल लोन लेने के लिए जरुरी नियम (Women personal loan rules in Hindi)

अब जब आपने ऊपर यह जान लिया है कि किसी महिला को पर्सनल लोन लेने के लिए किन किन डाक्यूमेंट्स की जरुरत पड़ सकती है तो उसके साथ साथ आपका यह भी जानना जरुरी है कि इसके तहत किन किन नियमों या शर्तों का पालन किया जाना चाहिए, तो आइये जाने उनके बारे में।

  • यदि महिला नाबालिग है अर्थात 18 वर्ष से कम की है तो उसके लिए उसके माता पिता या जो भी उसका पालन पोषण कर रहा है या फिर कोई भी अन्य बालिग व्यक्ति को उसके नाम पर गारंटी लेनी होगी।
  • यदि महिला बालिग भी है तो भी उसे एक व्यक्ति को गारंटी के तौर पर रखना होगा ताकि उसके द्वारा लोन की राशि नहीं चुका पाने की स्थिति में दूसरे व्यक्ति से वह राशि ली जा सके।
  • जो भी महिला अपने नाम पर पर्सनल लोन लेने जा रही है, उसकी आर्थिक स्थिति या तो सही होनी चाहिए या फिर वह कमाती हुई होनी चाहिए क्योंकि यदि वह कमाती ही नहीं है तो लोन की किश्त को कैसे चुकाएगी।
  • पर्सनल लोन देने के लिए बैंक के द्वारा एक समय सीमा और ब्याज दर निर्धारित की जाएगी जो महिला की स्थिति और अन्य कारकों पर निर्भर करेगी। महिला को यह पहले ही बता दिया जाएगा।
  • किन्हीं विशेष परिस्थितियों में महिला से यह पूछा जा सकता है कि वह पर्सनल लोन में मिली इस राशि का उपयोग किस तरह से करने वाली है।

इस तरह से हर बैंक और वित्तीय संस्था के द्वारा महिला पर्सनल लोन देने के अपने अलग अलग नियम व शर्तें हो सकती है। आप जिस भी जगह पर्सनल लोन लेने के लिए जाएँगी, वहां पर पहले ही आपको सभी तरह के नियम व शर्तें बता दी जाएँगी और यदि नहीं बताई जाती है तो आप स्वयं से ही उनसे पूछ लें।

महिला पर्सनल लोन की आवेदन प्रक्रिया

अब यदि किसी महिला को अपने लिए पर्सनल लोन चाहिए तो उसकी आवेदन प्रक्रिया के बारे में जाना जाना भी बहुत जरुरी है। इसके लिए ज्यादा कुछ नहीं करना है क्योंकि जो सभी बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थाओं की आवेदन प्रक्रिया होती है, कुछ वैसी ही प्रक्रिया महिला पर्सनल लोन के लिए भी होती है। हालाँकि महिलाओं के लिए यह प्रक्रिया थोड़ी सरल और स्पष्ट होती है ताकि वे बिना किसी दुविधा के पर्सनल लोन के लिए आवेदन दे सके।

ऐसे में यदि आप महिला हैं और खुद के लिए पर्सनल लोन लेने जा रही हैं तो आपको निम्नलिखित प्रक्रिया से गुजरना होगा जो कि इस प्रकार है:

  • सबसे पहले तो आपको एक बैंक या किसी वित्तीय संस्था का चुनाव करना होगा जहाँ से आप महिला पर्सनल लोन लेना चाहती हैं।
  • इसके बाद आपको उस बैंक में व्यक्तिगत रूप से जाना होगा और वहां के अधिकारियों से बात कर पूरी प्रक्रिया के बारे में जानना होगा।
  • वे आपको पर्सनल लोन देने के लिए एक फॉर्म देंगे जिसे आपको बहुत ही ध्यान से भरना होगा। इसमें आपसे आपकी सभी तरह की निजी जानकारी मांगी गयी होगी जो पर्सनल लोन देने के लिए जरूरी होती है।
  • इसी के साथ ही आपको KYC के लिए अपने आधिकारिक डाक्यूमेंट्स को जमा करवाने को कहा जाएगा या उनकी प्रतिलिपि दिखाने को कहा जाएगा। यह वही डाक्यूमेंट्स होंगे जिनकी सूची हमने आपको ऊपर दी है।
  • लोन की राशि के अनुसार उसके नियम भिन्न भिन्न हो सकते हैं जिनके बारे में आपको बैंक के अधिकारी के द्वारा बता दिया जाएगा।
  • अंत में आपको उस बैंक के मैनेजर या पीओ से बात करनी होगी जो उस लोन को अनुमति देगा। ऐसे में उसके साथ एक मीटिंग निर्धारित की जाएगी और वह आपके पर्सनल लोन पर अंतिम मुहर लगा देगा।

तो इस प्रक्रिया के तहत आप किसी भी बैंक या अन्य वित्तीय संस्थान से पर्सनल लोन ले सकते हैं और उसका इस्तेमाल अपने निजी हित में कर सकते हैं। यह ध्यान रखें कि महिला पर्सनल लोन लेने के लिए यह एक सामान्य प्रक्रिया है। यह प्रक्रिया बैंक के द्वारा अपने नियमों के तहत थोड़ी बदल सकती है जिसके बारे में शुरू में ही आपको बता दिया जाएगा।

महिला पर्सनल लोन लेने के फायदे (Women personal loan benefits in Hindi)

अब यदि किसी महिला के द्वारा अपने नाम पर पर्सनल लोन लिया जा रहा है तो उसके पीछे जुड़े क्या कुछ फायदे हो सकते हैं, इनके बारे में जानना भी तो आपके लिए उतना ही जरुरी हो जाता है। बहुत से घरों में महिला के नाम पर पर्सनल लोन लिया जाता है तो इसके पीछे क्या कुछ कारण हैं और ऐसा क्यों किया जाता है, आइये उनके बारे में जान लेते हैं।

download app
  • भारत सरकार के द्वारा महिलाओं को पर्सनल लोन देने के लिए कई तरह की योजनाएं चलायी गयी होती है जिनके तहत उन्हें लाभ दिया गया होता है। ऐसे में महिलाओं के नाम पर पर्सनल लोन लेने का चलन आज के समय में बहुत बढ़ गया है।
  • बैंकों के द्वारा महिला को पर्सनल लोन देने पर उसकी ब्याज दर को सामान्य तौर पर कम रखा जाता है। उदाहरण के तौर पर यदि कोई बैंक 7.5 प्रतिशत की दर से पर्सनल लोन पर ब्याज ले रहा है तो वह महिला से 7 प्रतिशत तक का ब्याज लेता होगा।
  • महिलाओं को पर्सनल लोन देने के लिए बैंकों के द्वारा जो नियम व शर्तें बनायी गयी होती है, वह भी इतनी कठोर नहीं होती है जितनी पुरुषों के लिए होती है। ऐसे में महिला को कम शर्तों का पालन करके ही पर्सनल लोन मिल जाता है।
  • महिला को उसकी स्थिति के अनुसार भी पर्सनल लोन लेने का लाभ मिलता है। जैसे कि यदि कोई महिला या तलाकशुदा है तो उसे कम ब्याज दर पर लोन मिल सकता है। वहीं कोई महिला विकलांग या आरक्षित वर्ग की है तो भी उसे कम ब्याज दर पर लोन मिल सकता है।
  • बैंक के द्वारा महिला को पर्सनल लोन दिए जाने पर उसके द्वारा चुकाई जाने वाली किश्तों में भी ढील बरती जाती है और उसे लगभग सभी तरह की छूट दी जाती है।

इस तरह से महिला के द्वारा पर्सनल लोन लिए जाने पर उसे एक नहीं बल्कि कई तरह के लाभ देखने को मिलते हैं। भारत सरकार व बैंकों के द्वारा महिलाओं को आर्थिक रूप से सक्षम बनाने और उन्हें आगे बढ़ाने के लिए पर्सनल लोन देने के नियमों में कई तरह के बदलाव किये जाते रहते हैं ताकि महिला भी अपने निजी हित साध सके और आगे बढ़ सके।

महिला पर्सनल लोन कैसे ले – Related FAQs 

प्रश्न: महिलाओं को बैंक से लोन कैसे मिल सकता है?

उत्तर: इसके लिए जानकारी हमने ऊपर के लेख में विस्तार से दी है जो आपको पढ़ना चाहिए।

प्रश्न: क्या महिलाओं को पर्सनल लोन मिल सकता है?

उत्तर: हां, महिलाएं पर्सनल लोन ले सकती हैं बाकि सब जानकारी आप ऊपर का लेख पढ़ कर प्राप्त कर सकते हो।

प्रश्न: महिला पर्सनल लोन लेने के क्या फायदे हैं?

उत्तर: महिला पर्सनल लोन लेने के फायदे हमने ऊपर के लेख में लिखे हैं जो आपको पढ़ने चाहिए।

तो इस तरह से इस लेख को पढ़ कर आपने जाना कि महिला पर्सनल लोन कैसे ले सकती है। साथ ही आपने महिला पर्सनल लोन से संबंधित अन्य जानकारी भी इस लेख से प्राप्त कर ली है जैसे कि महिला पर्सनल लोन कहां से ले सकती है महिला पर्सनल लोन लेने के लिए ज़रूरी नियम, डॉक्यूमेंट्स और आवेदन प्रक्रिया क्या है इत्यादि। आशा है कि जो जानकारी लेने के लिए आप इस लेख पर आए थे वह आपको मिल गई होगी। फिर भी यदि कोई प्रश्न आपके मन में शेष है तो आप हम से नीचे कॉमेंट करके पूछ सकते हैं।

लविश बंसल
लविश बंसल
लविश बंसल वर्ष 2010 में लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में प्रवेश लिया और वहां से वर्ष 2014 में बीटेक की डिग्री ली। शुरुआत से ही इन्हें वाद विवाद प्रतियोगिता में भाग लेना या इससे संबंधित क्षेत्रों में भाग लेना अच्छा लगता था। इसलिए ये काफी समय से लेखन कार्य कर रहें हैं। इनके लेख की विशेषता में लेख की योजना बनाना, ग्राफ़िक्स का कंटेंट देखना, विडियो की स्क्रिप्ट लिखना, तरह तरह के विषयों पर लेख लिखना, सोशल मीडिया कंटेंट लिखना इत्यादि शामिल है।
WordPress List - Subscription Form
Never miss an update!
Be the first to receive the latest blog post directly to your inbox. 🙂

Leave a Comment