पटवारी कैसे बनें? योग्यता, कोर्स, जॉब, सैलरी, करियर | Patwari kaise bane

|| Patwari kaise bane, एमपी पटवारी कैसे बनें? राजस्थान पटवारी कैसे बने, पटवारी के लिए योग्यता 2023, पटवारी कोर्स, पटवारी की सैलरी, पटवारी की तैयारी के लिए बेस्ट बुक, पटवारी का इंटरव्यू कैसे होता है, CG पटवारी की जानकारी ||

पटवारी को ‘लेखपाल’ के नाम से भी जाना जाता है, यह राजस्व विभाग का एक अधिकारी होता हैं। पटवारी की नियुक्ति अलग-अलग गांवों में (Patwari banne ke liye kya karen) की जाती है। पटवारी के कार्य अधिकार में एक से अधिक गांव भी हो सकते है l कई बार देखा गया है कि जब पटवारी की भर्तियां आती है तो बहुत से लोग उसके लिए आवेदन करते (Lekhpal kaise bane) हैं और यह संख्या लाखों में होती है l हालांकि सभी को सफलता हाथ नहीं लगती, कड़ी मेहनत के बाद कुछ ही लोग सफल हो पाते है।

आज के लेख में हम जानेंगे की पटवारी बनने के लिए क्या करे? क्योंकि आज की युवा पीढ़ी में सरकारी नौकरी (Patwari banne ke liye yogyata) के तरफ रुझान बढ़ गया है। जिसमे पटवारी की परीक्षा देना और उसमें सफल होना हर किसी का सपना है। आइए जानते है कि भारत में पटवारी पद का इतिहास, कैसे बने, उसकी जिम्मेदारियां, योग्यता, आय, कौशल, चयन प्रक्रिया से जुड़े हुए अन्य सवालों के उत्तर ।

Contents show

भारत में पटवारी पद का इतिहास (Patwari history in Hindi)

शेरशाह सूरी के शासन के दौरान भारतीय उपमहाद्वीप में शुरू की गई पटवार प्रणाली को बादशाह अकबर ने और आगे बढ़ाया। ब्रिटिश उपनिवेशवादियों ने इसमें मामूली संशोधन किए, लेकिन व्यवस्था को बनाए रखा। उत्तर प्रदेश में इसे लेखपाल के रूप में जाना जाता है, यह शब्द संस्कृत मूल शब्द ताल (एक व्रत को पूरा करने के लिए, स्थापित करने या ठीक करने के लिए) से लिया गया है और मराठी में इसका एक ही अर्थ है ।

यह ग्रामीण गुजरात,महाराष्ट्र और कर्नाटक में तलाटी के कार्यालय को दर्शाता है। कार्यालय और उसके धारक को तलाटिस के रूप में जाना जाता है, और कार्यालय के धारकों ने इसे अपने परिवार के नाम के रूप में अपनाया है।

एक तलाती के कर्तव्यों में गांव की फसल और भूमि के रिकॉर्ड को बनाए रखना और करों और सिंचाई बकाया राशि एकत्र करना शामिल है। तलाती ने गुजरात और महाराष्ट्र में कुलकर्णी की जगह ली। एक तलाती के कर्तव्यों को अन्य भारतीय राज्यों में अलग-अलग शीर्षक के तहत जाना जाता है। एक तलाटी को तेलंगाना में पटवारी के रूप में जाना जाता है।

पटवारी कैसे बनें? योग्यता, कोर्स, जॉब, सैलरी, करियर | Patwari kaise bane

मूल रूप से एक भूमि-धारक क्लर्क, तलाटी अब एक वेतनभोगी, सरकार द्वारा नियुक्त अधिकारी बन गया था। एक पाटिल (गुजरात में पटेल) एक बाहरी व्यक्ति, जो राजस्व एकत्र करने में तलाटी की सहायता करता था। यह आरोप लगाया गया कि तलाटी द्वारा बनाए गए रिकॉर्ड वास्तविक स्थिति को नहीं दर्शाते हैं, क्योंकि तलाटी ने भूमि के कब्जे के लिए वयस्क पुरुष परिवार के सदस्य के नाम का उपयोग करने के आदिवासी रिवाज को ध्यान में नहीं रखा।

माना जाता है कि पटवारी प्रणाली भारत में मुगल काल के दौरान उत्पन्न हुई थी। पटवारी शब्द रिकॉर्डर या एकाउंटेंट के लिए फारसी शब्द से आया है। पटवारी भूमि अभिलेखों को बनाए रखने और गांवों से राजस्व एकत्र करने के लिए जिम्मेदार थे। ब्रिटिश भारत में,पटवारी व्यवस्था को जारी रखा और विस्तारित किया गया। पटवारियों को अधिक कर्तव्य दिए गए, जैसे आपराधिक रिकॉर्ड और जन्म/मृत्यु रिकॉर्ड रखना। 

उन्होंने ग्राम अधिकारियों के रूप में भी काम किया, विवादों की मध्यस्थता और व्यवस्था बनाए रखी। 1947 में भारतीय स्वतंत्रता के बाद, नई सरकार द्वारा पटवारी प्रणाली को जारी रखा गया था। आज भी पटवारी ग्रामीण भारत के कई हिस्सों में भूमि रिकॉर्ड बनाए रखने और राजस्व एकत्र करने के लिए जिम्मेदार हैं।

कुछ समय बाद, तलाटी को बंगाल में पटवारी के नाम से जाना जानें लगा, आंध्र प्रदेश, उत्तर भारत में, और तमिल गांवों में कनक्कू पिल्लई के नाम से जाना जाने लगा। इस तरह से भारत में तलाटी का नाम बदलकर हर जगह धीरे-धीरे पटवारी के नाम से जाना जाने लगा। इस पद का महत्व समय के साथ बढ़ने लगा।

पटवारियों को कुछ संदर्भों में राजस्व अधिकारी भी कहा जाता है। अंग्रेजों ने इस क्षेत्र पर अपने शासन के दौरान पटवारियों की भर्ती की प्रणाली शुरू की और यह वर्तमान संरचना में विकसित हुई। वर्तमान में एक पटवारी या ग्राम लेखाकार को देश भर के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न नामों से जाना जाता है, जैसे तलाटी, कर्णम, पटेल, पटनायक अधिकारी आदि।

पटवारी कैसे बनें (Patwari kaise bane)

पटवारी बनने के लिए आपके पास संबंधित क्षेत्र में डिग्री होनी चाहिए। आपके पास अच्छा लेखन कौशल होना चाहिए और हिंदी में पढ़ने और लिखने में सक्षम होना चाहिए। एक पटवारी का कार्य महत्वपूर्ण है क्योंकि वे सरकार को संगठित और कुशल बनाए रखने में मदद करते हैं।

पटवारी बनने के लिए आवेदकों के पास हिंदी टाइपिंग और कंप्यूटर प्रवीणता के साथ सीपीसीटी (कंप्यूटर प्रवीणता प्रमाणन परीक्षा) का सर्टिफिकेट होना चाहिए। एक उम्मीदवार की आयु कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए, जबकि अधिकतम आयु सीमा 40 वर्ष होनी चाहिए।

प्रत्येक राज्य में पटवारी के पद पर चयन एक परीक्षा के द्वारा किया जाता है। यह एक लिखित परीक्षा होती है, जो या तो ऑफलाइन मोड में या तो स्थान, समय, परिस्थिति के हिसाब से कंप्यूटर पर ऑनलाइन मोड में भी आयोजित की जाती है।

लिखित परीक्षा में 5 विषय से संबंधित सवाल होते हैं जो सामान्य ज्ञान, मात्रात्मक योग्यता, हिंदी, पंचायती राज प्रणाली और कंप्यूटर आदि से जुड़े हो सकते है। पूरी परीक्षा100 अंको तक की होती है। समय समय पर पटवारी की भर्तियां ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड में विज्ञापन में निकाली जाती है जिसमे आप आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते है।

लिखित परीक्षा में विद्यार्थी द्वारा प्राप्त अंकों के आधार पर एक मेरिट सूची तैयार की जाती है और फिर राज्य की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध की जाती है। जिन विद्यार्थियों का नाम मेरिट सूची में आता है, उन्हें दस्तावेज परीक्षण के बाद प्रशिक्षण के लिए भेजा जाता है। जिसमे पटवारी के कर्तव्यों के बारे में उन्हें सिखाया जाता है।

पटवारी के काम (Patwari ke kam)

पटवारी की नौकरी की भूमिका अपने में ही काफी महत्वपूर्ण जान पड़ती है, जिसके बारे में हम विस्तार से चर्चा करने जा रहे है।पटवारी का अलग अलग (Patwari ke karya) काम कुछ इस प्रकार है:

  • ज़मीन के मानचित्र का लेखा-जोखा रखना।
  • आय प्रमाण पत्र और जाति प्रमाण पत्र से संबंधित कार्य।
  • भूमि का नामांकन और हस्तांतरण करना या करवाना।
  • किसी भी भूमि संबंधी समस्या के बारे में सरकार को जल्द से जल्द सूचित करना।
  • विवाद की स्थिति में भूमि की उचित लेखा जोखा कर, माप देखना समस्या को प्राथमिक स्तर पर निपटाना। 
  • भूमि के बिकने और खरीदे जाने का संपूर्ण विवरण रखना।
  • वृद्धों और दिव्यांगो की पेंशन शुरू करवाना।
  • पटवारी सरकार को अपने क्षेत्र में उगाई जाने वाली फसलों के बारे में जानकारी प्रदान करता है।
  • वे इस बात पर नज़र रखते हैं कि किसके पास कौन सी ज़मीन है और कितना टैक्स बकाया है।

पटवारी बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता (Patwari banane ke liye qualification)

  • पटवारी पर आवेदन करने के लिए विद्यार्थियों को किसी भी मान्यता प्राप्त स्कूल से इंटर की परीक्षा पास होना चाहिए।
  • उम्मीदवार ने सीपीसीटी (कंप्यूटर प्रवीणता प्रमाणन परीक्षा) या (कंप्यूटर डिप्लोमा) किया हो तभी आप पटवारी के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • कई राज्यों में अब शैक्षिक योग्यता इंटर हटा कर स्नातक स्तर की कर दी गई है।
  • पटवारी बनने के लिए आपके पास 10वीं, 12वीं और कहीं कहीं स्नातक की मार्कशीट होनी चाहिए।
  • पटवारी बनने के लिए कहीं कहीं आपसे आवेदन के लिए स्नातक की डिग्री भी मांगते है।
  • आपके पास किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से एक साल का कंप्यूटर डिप्लोमा (DCA,PGDCA) और CPCT सर्टिफिकेट भी होना चाहिए।
  • हालांकि अगर छात्र के पास तुरंत दस्तावेज नहीं है, तो वे इसे चयनित होने के दो साल के अंदर जमा कर सकते हैं।
  • आवेदनकर्ता भारत का नागरिक होना चाहिए और उसी राज्य का निवासी होना चाहिए जिस राज्य लिए आप पटवारी के पद के लिए आवेदन कर रहे हैं।

पटवारी बनने की आयु सीमा (Patwari age limit)

पटवारी बनने के लिए उम्मीदवारों को पात्रता मानदंड को पूरा करना होगा, आवेदन करने की न्यूनतम और अधिकतम आयु सीमा 18-40 वर्ष के बीच है। हालांकि पुरुषों के लिए आयु में छूट 40 वर्ष है और महिलाओं, सरकारी कर्मचारियों, एससी/एसटी/ ओबीसी, पीडब्ल्यूडी के लिए 45 वर्ष है। साथ ही, आवेदन करने वाले उम्मीदवारों के पास स्नातक की डिग्री होनी चाहिए।

पटवारी के पद के लिए चयन प्रक्रिया (Patwari selection process)

  • पटवारी बनने के लिए स्नातक स्तर की डिग्री के साथ साथ कंप्यूटर का सर्टिफिकेट कोर्स भी करना आवश्यक होता है।
  • पटवारी बनने के लिए किसी-किसी राज्य में कंप्यूटर डिप्लोमा (DCA या PGDCA) भी जरूरी है। 
  • इसके अलावा अगर आपने BCA, BSC, कंप्यूटर साइंस में डिग्री या BE किया है तो आपको कंप्यूटर डिप्लोमा की जरूरत नहीं पड़ेगी। ये अलग-अलग राज्यों में अपनी सुविधा के अनुसार अलग अलग हो सकती हैं।

पटवारी पद के लिए दो चरण की चयन प्रक्रिया होती है, जिसके आधार पर पटवारी पद के लिए उपयुक्त उम्मीदवारों का चयन किया जाता है:

  • लिखित परीक्षा
  • साक्षात्कार

लिखित परीक्षा

पटवारी लिखित परीक्षा का पेपर 100 अंकों का निर्धारित किया गया है जिसमें कंप्यूटर आधारित बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते हैं। पटवारी चयन परीक्षा में हिंदी, गणित और तर्क, सामान्य ज्ञान, पंचायती राज, कंप्यूटर सहित कुल 5 विषयों या वर्गों में बांटा गया है। जिसे हल करने के लिए उम्मीदवारों को 2 घंटे का समय दिया जाता है।

साक्षात्कार

पटवारी के पद के लिए सर्वप्रथम लिखित परीक्षा आयोजित की जाती है जिसमें आवेदन करने वाले सभी उम्मीदवार भाग लेते हैं और उसके बाद लिखित परीक्षा में पास होने वाले उम्मीदवारों को साक्षात्कार में शामिल किया जाता है और उनसे कुछ सामान्य ज्ञान के प्रश्न और कुछ प्राप्त अंकों के आधार पर अधिकारियों द्वारा पूछे जाते हैं। इसमें उम्मीदवारों का चयन पटवारी के पद के लिए सुनिश्चित किया जाता है। इन दोनों परीक्षाओं को पास करने के बाद आप पटवारी की नौकरी के लिए चुने जा सकते है।

पटवारी परीक्षा का सिलेबस (Patwari exam ka syllabus)

आइए जानते है पटवारी की परीक्षा पास करने के लिए क्या पाठ्यक्रम है। इसमें कौन कौन से विषय सम्मिलित हैं और किस खंड से कैसे प्रश्न पूछे जाते है:

  • हिन्दी व्याकरण: पटवारी परीक्षा में हिन्दी विषय से प्रश्न पूछे जायेंगे जैसे संधि, काल, मुहावरा, क्रिया, विशेषण, त्रुटि का पता लगाना आदि।
  • पंचायत व्यवस्था: पटवारी की परीक्षा में, पंचायती राज के विषय में जैसे की भारत में पंचायती राज व्यवस्था की शुरूआत, लेख आदि से संबंधित प्रश्न भी पूछे जाते है।
  • गणित और तार्किकता: पटवारी परीक्षा के लिए गणित और तार्किकता पर आपकी अच्छी पकड़ होनी चाहिए, जिसमें दशमलव, औसत, अनुपात, तार्किक तर्क, संख्या प्रणाली, समय और कार्य आदि से सबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।
  • कंप्यूटर और विज्ञान: पटवारी परीक्षा में कंप्यूटर और विज्ञान दोनो बहुत महत्वपूर्ण विषय होता है, जिसमें आपसे कंप्यूटर बेसिक्स, इनपुट और आउटपुट डिवाइसेस, एमएस वर्ड, एमएस एक्सेल, ऑपरेटिंग सिस्टम आदि से संबंधित प्रश्न पूछे और विज्ञान में रसायन विज्ञान, भौतिक विज्ञान, जीव विज्ञान से जुड़े प्रश्न आते है।
  • सामान्य ज्ञान और सामयिकी: यह विषय ज्यादातर सभी परीक्षाओं में पूछे जाते है और पटवारी के लिए इसमें संबंधित राज्य का सामान्य ज्ञान, भारत का इतिहास, भारतीय संविधान, खेल, महत्वपूर्ण दिन, सामयिकी आदि विषय शामिल होते हैं।

पटवारी का औसत वेतन (Patwari ki salary)

एक पटवारी का वेतन बहुत अधिक नहीं है लेकिन यह एक स्थिर आय है जो एक परिवार का समर्थन कर सकती है। सातवें वेतन आयोग के अनुसार, एक पटवारी या एक लेखाकार का मूल प्रारंभिक वेतन INR 5200/- है और इसे INR 2400/- के ग्रेड वेतन के साथ INR 20,200/- तक बढ़ाया जाता है। वेतन के साथ-साथ राजस्व विभाग अन्य भत्ते और लाभ भी प्रदान करता है।

पटवारी की परीक्षा की तैयारी कैसे करे (Patwari ki padhai kaise kare)

#1. अनुशासन

किसी भी सरकारी परीक्षा को पास करने के लिए सबसे पहले अनुशासित होना जरूरी है। छात्रों को अपने लिए एक टाइम टेबल बनाकर अपनी दिनचर्या में अनुशासन को आत्मसात करना चाहिए। एक टाइम टेबल तैयार करने से उन्हें अपनी अध्ययन योजना को व्यवस्थित करने और परीक्षा के लिए रणनीति बनाने में मदद मिलेगी। इस तरह वे हर विषय को उचित समय दे सकते हैं ताकि प्रत्येक विषय के सभी विषयों को कवर किया जा सके जिससे परीक्षा में उत्तीर्ण होने की उनकी संभावना बहुत बढ़ जाएगी।

छात्रों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे प्रत्येक विषय को उचित समय दें। कमजोर विषयों को अतिरिक्त समय दिया जाना चाहिए, जहां छात्र को अतिरिक्त तैयारी की आवश्यकता होती है। सुनिश्चित करें कि आप अपने आप को हर विषय के बीच उचित विराम दें ताकि आप खुद पर अधिक तनाव न डालें।

#2. जानें कि क्या पढ़ना है

कुछ उम्मीदवार सोचते हैं कि जितना अधिक समय वे पढ़ाई में बिताएंगे, उनके सफल होने की संभावना उतनी ही अधिक होगी। वैसे यह सत्य नहीं है। उम्मीदवारों को न केवल कड़ी मेहनत करनी चाहिए बल्कि स्मार्ट तरीके से काम करना चाहिए।

किसी विषय पर दिन रात बिताने की बजाय हर विषय के लिए हर दिन एक निर्धारित समय निकालने का प्रयास करें। पूरे दिन एक ही विषय काअध्ययन करना या बिना रुके लंबे समय तक अध्ययन करना आपके मस्तिष्क पर दबाव डाल सकता है और लगातार आपकी सीखने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है।

#3. सही अध्ययन सामग्री प्राप्त करें

सही अध्ययन सामग्री प्राप्त करना पटवारी परीक्षा की तैयारी के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है। बाजार में कई किताबें और नोट्स उपलब्ध हैं लेकिन उम्मीदवारों को उन्हें बहुत समझदारी से चुनना चाहिए।

छात्र कई अच्छी गुणवत्ता वाली पटवारी पुस्तकें ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं । सही अध्ययन सामग्री आपको बहुत समय और प्रयास बचा सकती है और पटवारी बनने के अपने सपने को प्राप्त करने में एक कदम आगे बढ़ाने में आपकी मदद कर सकती है।

#4. पटवारी परीक्षा पाठ्यक्रम से अपडेट रहें

पटवारी परीक्षा में सफल होने के इच्छुक उम्मीदवारों को पटवारी परीक्षा के पैटर्न और पाठ्यक्रम के साथ अद्यतन किया जाना चाहिए। परीक्षा पाठ्यक्रम छात्रों को टेस्ट पेपर के विभिन्न पहलुओं जैसे प्रश्नों की संख्या, अंक योजना, प्रश्नों के प्रकार, पेपर की अवधि आदि के बारे में जानने में मदद करता है।

इससे छात्र को परीक्षा के लिए मानसिक रूप से तैयार होने में मदद मिलती है। ताकि छात्र अपने हिसाब से तैयारी कर सकें। इसी तरह पाठ्यक्रम जानने से छात्रों को उन विषयों और उप-विषयों से अवगत कराया जाता है जिनसे परीक्षा में प्रश्न बनेंगे।

#5. उचित संशोधन

पटवारी परीक्षा का पाठ्यक्रम बहुत लंबा है और आपने जो पढ़ा है उसे भूल जाना स्वाभाविक है। समय पर रिवीजन करने से उम्मीदवारों को यह याद रखने में मदद मिलती है कि उन्होंने क्या पढ़ा है। उम्मीदवारों को हर हफ्ते विषयों को संशोधित करना चाहिए ताकि उन्होंने जो पढ़ा है वह उनके दिमाग में बना रहे।

परीक्षा के कुछ दिनों से पहले, उम्मीदवारों को नए विषयों को लेने से बचना चाहिए और उन विषयों को संशोधित करना चाहिए जिन्हें उन्होंने पहले ही पढ़ा है ताकि उन्हें याद रहे कि उन्होंने पहले क्या कवर किया है। नए विषय लेने से छात्र भ्रमित हो सकते हैं और परीक्षा में उनके प्रदर्शन में बाधा आ सकती है।

#6. संतुलित आहार लें

परीक्षा की तैयारी के लिए उचित आहार लेना बहुत जरूरी है। अपने आहार में ताजे फल, सब्जियां और दालें शामिल करने से आपको अध्ययन के लिए आवश्यक ऊर्जा मिलेगी। भारी भोजन करने से बचें। अपने आहार में नट्स और फलों को शामिल करने से आपकी सीखने की क्षमता को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

#7.योग और ध्यान का अभ्यास करें

योग और ध्यान जैसी गतिविधियों में खुद को शामिल करने से आपको खुद को आराम देने में मदद मिलेगी जो बदले में आपको तनाव कम करने और बेहतर अध्ययन करने में मदद करेगी।

ये शारीरिक गतिविधियाँ आपकी एकाग्रता शक्ति को बढ़ाने के लिए भी सिद्ध होती हैं जो पटवारी परीक्षा की तैयारी करते समय एक बहुत बड़ा लाभ हो सकता है। अपने स्क्रीन समय को कम करने का प्रयास करें क्योंकि यह मानसिक तनाव को बढ़ा सकता है और आपकी सीखने की क्षमता पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

पटवारी कैसे बने – Related FAQs

प्रश्न: क्या पटवारी परीक्षा में कोई नकारात्मक अंकन है?

उत्तर: हां, इस परीक्षा में नकारात्मक अंकन का प्रावधान होता है।

प्रश्न: क्या पटवारी के लिए 12वीं पास अप्लाई कर सकते हैं?

उत्तर: कुछ राज्यों में पटवारी बनने के लिए अब अभ्यर्थियों का स्नातक होना जरूरी होगा। साथ ही उम्मीदवार के पास हिंदी टाइपिंग और कंप्यूटर दक्षता के साथ सीपीसीटी सर्टिफिकेट होना चाहिए।

प्रश्न :क्या पटवारी की परीक्षा कठिन है?

उत्तर: पटवारी की परीक्षा न ज्यादा कठिन होती है और न ही ज्यादा आसान। परीक्षा को पास करने के लिए आपको सभी महत्वपूर्ण चीजों से गुजरना होगा। अपनी ताकत और कमजोरियों को समझने के लिए ऑनलाइन मॉक टेस्ट भी दे।

प्रश्न: पटवारी को अन्य किन किन नामों से जाना जाता है?

उत्तर: पटवारी को तलाटी, कर्णम, पटेल, पटनायक अधिकारी आदि नामों से जाना जाता है।

प्रश्न: पटवारी में आवेदन करने की उम्र क्या है ? 

उत्तर: पटवारी में आवेदन करने की उम्र 18 से 40 वर्ष तक है।

प्रश्न: पटवारी की परीक्षा पूरी करने के लिए कितना समय मिलेगा?

उत्तर: परीक्षा की कुल अवधि 2 घंटे या 120 मिनट है। अगर आप अच्छी तरह से अभ्यास करें तो आप समय से पहले परीक्षा समाप्त कर सकते हैं और उत्तरों को संशोधित करने के लिए आपके पास समय भी बच सकता है।

भारत में सबसे अधिक लोकप्रिय परीक्षाओं में से एक पटवारी की परीक्षा होती है, हर साल लाखों विद्यार्थी इसका आवेदन करते है, जिसमे से कुछ को ही सफलता प्राप्त होती है प्रस्तुत लेख में हमने पटवारी पद और उसकी परीक्षा से संबंधित सभी पहेलू और प्रश्नों पर विस्तार से चर्चा की है। हम आशा करते है कि आपके लिए यह लेख उपयोगी सिद्ध हो।

1 thought on “पटवारी कैसे बनें? योग्यता, कोर्स, जॉब, सैलरी, करियर | Patwari kaise bane”

Leave a Comment

कंपार्टमेंट के लिए आवेदन कैसे करें? प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना 2023 एमटीपी एक्ट 2021 क्या है? डेट फंड का क्या मतलब होता है? रिकरिंग डिपॉजिट क्या होता है?