पाकिस्तान में हिंदू जनसंख्या कितनी है 2022 में | पाकिस्तान में कितने हिंदू हैं?

|| पाकिस्तान में कितने हिंदू हैं? अथवा पाकिस्तान में हिंदू जनसंख्या कितनी है? पाकिस्तान में हिंदू विधायक कितने हैं पाकिस्तान में हिंदू कैसे रहते हैं, पाकिस्तान में यादव की जनसंख्या, पाकिस्तान में हिंदुओं का रहन-सहन, 1947 में पाकिस्तान की जनसंख्या कितनी थी, पाकिस्तानी हिन्दू एक्टर्स, बलूचिस्तान में हिंदू आबादी कितनी है ||

पाकिस्तान भारत का पड़ोसी देश होने के साथ ही इसका दुश्मन देश भी है। अक्सर भारत-पाकिस्तान के बीच गोला-बारी, पाकिस्तान की वहशियाना हरकतों की खबरें आम रहती हैं। हमें अक्सर पाकिस्तान में हिंदुओं पर अत्याचार की बात भी सुनाई देती है।

ऐसे में यह जानने की इच्छा प्रबल होती है कि पाकिस्तान में हिंदू आबादी कितनी है? (What is the Hindu population in Pakistan?) यदि आपको भी यह सवाल परेशान करता है तो आज इस पोस्ट में हम आपको इसी संबंध में जानकारी देंगे। आपको बताएंगे कि पाकिस्तान में कितने हिदू हैं, यानी वहां की हिंदू जनसंख्या कितनी है? आइए, शुरू करते हैं-

पाकिस्तान में हिंदू जनसंख्या कितनी है? (What is the total Hindu population in Pakistan?)

अब आते हैं मुख्य सवाल पर। पाकिस्तान में हिंदुओं की जनसंख्या कितनी है? (What is the total Hindu population in Pakistan?) आपको बता दें दोस्तों कि 2017 की जनगणना (census) के अनुसार पाकिस्तान की कुल जनसंख्या (total population of Pakistan) 20 करोड़, 77 लाख, 74 हजार 520 है। यानी कि तकरीबन 21 करोड़।

इसमें 96.4 फीसदी इस्लाम धर्म मानने वाले हैं। इसमें हिदू धर्म (Hindu religion) के मानने वालों की संख्या 2.14 प्रतिशत है। इस हिसाब से पाकिस्तान में हिंदुओं की आबादी करीब 44 लाख, 46 हजार, 374 के करीब है।

इसके अतिरिक्त पाकिस्तान की कुल आबादी में 1.27 फीसदी ईसाई, 0.9 प्रतिशत अहमदिया, जबकि 0.02 अन्य हैं। आपको जानकारी दे दें दोस्तों कि 1951 से लेकर 2017 तक पाकिस्तान की आबादी में 6 गुना बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है।

पाकिस्तान में हिंदू की जनसंख्या कितनी है 2022 में | पाकिस्तान में कितने हिंदू हैं?

विभाजन के समय पाकिस्तान की जनसंख्या कितनी थी? उसमें कितने हिंदू थे? (What was the population of Pakistan at the Time of divide? How many Hindus were included in that?)

मित्रों, आपको बता दें कि पाकिस्तान को आधिकारिक रूप से (officially) इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ पाकिस्तान (Islam republic of Pakistan) का दर्जा हासिल है। यह देश दक्षिण एशिया (south asia) में स्थित है। इसके साथ ही यह विश्व का पांचवा सर्वाधिक जनसंख्या वाला देश (fifth most populous country of the world) है।

इसके साथ ही संसार का दूसरा ऐसा देश है, जहां मुस्लिम जनसंख्या (muslim population) सबसे ज्यादा है। इसकी जनसंख्या करीब 227 मिलियन है। यदि बात पाकिस्तान के प्रादुर्भाव के समय की करें तो यह तो आप जानते ही हैं कि 14 अगस्त, 1947 को भारत के पाकिस्तान के नाम पर दो टुकड़े हो गए थे।

विभाजन के वक्त यानी 1947 में पाकिस्तान की कुल जनसंख्या 4 करोड़ थी। इसमें 96 प्रतिशत मुस्लिम आबादी थी। केवल दो प्रतिशत जनसंख्या हिंदुओं (2% population was Hindu) की थी। कमोबेश यही स्थिति आज भी है।

पाकिस्तान में सबसे ज्यादा हिंदू आबादी कहां रहती है? (Where the most Hindu population live in Pakistan?)

दोस्तों, आपको बता दें कि पाकिस्तान के सिंध (Sindh) में सबसे ज्यादा हिंदू निवास करते हैं। सिंध की जनसंख्या का 8.73 प्रतिशत हिस्सा हिंदू धर्म का पालन करता है। हिंदुओं के लिए प्रत्येक वर्ष श्री हिंगलाज माता मंदिर यात्रा का आयोजन किया जाता है। इसमें लगभग ढाई लाख से अधिक लोग हिस्सा लेते हैं।

आपको बता दें हिंगलाज भवानी शक्ति पीठ (hinglaj bhawani Shakti peeth) पाकिस्तान में हिंदुओं का सबसे बड़ा मंदिर है। इसके अतिरिक्त पूरे सिंध में हिंदू मंदिर देखे जा सकते हैं। उमरकोट (umarkot) पाकिस्तान का ऐसा जिला है, जिसमें सबसे ज्यादा हिंदू निवास करते हैं। यहां हिंदू आबादी 52.15 प्रतिशत है।

इसके अतिरिक्त पाकिस्तान के चार जिले ऐसे हैं, जहां पाकिस्तान की कुल हिंदू आबादी के आधे से अधिक हिंदू निवास करते हैं। ये जिले हैं-उमरकोट (umarkot), थारपरकर (tharparkar), मीरपुरखास (Mirpur khas) और संगहार (sanghar)।

पाकिस्तान में सबसे अधिक आबादी कौन सी भाषा बोलती है? (Which is the most spoken language in Pakistan?)

यह एक रोचक जानकारी है। आपको बता दें कि पाकिस्तान में सबसे अधिक 38.78 प्रतिशत आबादी पंजाबी भाषा (punjabi language) बोलती है। अन्य सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषाओं का ब्योरा इस प्रकार से है-

प्रथम भाषाआबादी का प्रतिशत
पंजाबी (punjabi)38.78 प्रतिशत
पश्तो (Pashto)18.24 फीसदी
सिंधी (Sindhi)14.57 प्रतिशत
सरायकी (sarayki)12.19 फीसदी
उर्दू (Urdu)7.08 प्रतिशत
बलोची (balochi)3.02 प्रतिशत
अन्य (others)9.12 प्रतिशत

जनसंख्या के आधार पर पाकिस्तान के 10 सबसे बड़े शहर कौन से हैं? (Which one the biggest cities of Pakistan in terms of population?)

शहरप्रांतजनसंख्या
कराची (Karachi)सिंध (Sindh)14916456
लाहौर (Lahore)पंजाब (punjab)11126285
फैसलाबाद (Faisalabad)पंजाब (punjab)3204726
रावलपिंडी (Rawalpindi)पंजाब (punjab)2098231
गुजरांवाला (Gujranwala)पंजाब (punjab)2027001
पेशावर (Peshawar)खैबर पख्तूनवा (khaibar pakhtunwa)1970042
मुल्तान (Multan)पंजाब (punjab)1871843
इस्लामाबाद (Islamabad)कैपिटल टेरीटरी (capital territory)1009832
हैदराबाद (Hyderabad) सिंध (Sindh)1734309
क्वेटा (Quetta)बलोचिस्तान (Balochistan)1001205

पाकिस्तान में हिंदू किस प्रकार नाम कमा रहे हैं? (How Hindus in Pakistan shining their names?)

अब आपको यह रोचक जानकारी देंगे मित्रों। आपको बता दें कि कई हिंदू ऐसे हैं, जो पाकिस्तान में विभिन्न क्षेत्रों में अपना नाम चमका रहे हैं। सबसे पहले बात सेना की। यहां डॉ. मेजर कैलाश कुमार (Dr Major kailash Kumar)पहले ऐसे हिंदू अफसर हैं, जिन्हें पाकिस्तानी सेना (pakistan army) में बतौर लेफ्टिनेंट कर्नल (Lt col) पदोन्नत किया गया है।

सिंध प्रांत में थारपरकर जिले के रहने वाले कैलाश 2019 में पाकिस्तानी सेना में मेजर बनने वाले पहले हिंदू अधिकारी (first Hindu officer) भी थे। उन्हीं के साथ मेजर अनिल कुमार (Major anil Kumar) को भी लेफ्टिनेंट कर्नल के पद पर पदोन्नत किया गया है। अनिल भी सिंध के ही बादिन के रहने वाले हैं। उन्होंने 2007 में आर्मी ज्वाइन की थी।

पाकिस्तान आर्मी प्रमोशन बोर्ड (pakistan army promotion board) ने इन दोनों के प्रमोशन को मंजूरी दी है। आपको बता दें कि सन 2000 तक हिंदुओं/अल्पसंख्यकों (Hindus/minors) को सेना में भर्ती की छूट नहीं थी। वहीं, अब आपको डॉ. सना रामचंद (Dr Sana ramchand) के बारे में बताते हैं। वह पाकिस्तानी एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (pakistan administrative service) के लिए चुनी गईं पहली हिंदू अल्पसंख्यक अधिकारी हैं।

उन्होंने प्रतिष्ठित सेंट्रल सुपीरियर सर्विस (Central superior service) यानी सीएसएस (CSS) उत्तीर्ण की। एमबीबीएस के बाद डॉ सना रामचंद सिंध प्रांत के शिकारपुर जिले में प्रैक्टिस कर रही थीं। सर्जरी में मास्टर्स के दौरान ही उन्होंने जनसेवा के लिए पब्लिक सर्विस में जाने की सोची और उसे क्लियर भी किया।

इस परीक्षा में कुल 18 हजार, 553 उम्मीदवारों ने शिरकत की थी। इनमें से 221 कामयाब हुए। आपको बता दें कि यह यूपीएससी की ही तरह पाकिस्तान की प्रतिष्ठित प्रशासनिक सेवा है। अब बात करते हैं फैशन जगत की।

आपको बता दें दोस्तों कि यहां भी एक हिंदू दीपक परवानी कमाल कर रहे हैं। दीपक परवानी पाकिस्तान के फैशन जगत का बड़ा नाम है। सिंध के रहने वाले दीपक को दुनिया का सबसे बड़ा कुर्ता डिजाइन करने के लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड (Guinness Book of World records) ने भी जगह दी है।

पाकिस्तानी फिल्म इंडस्ट्री की बड़ी अदाकारा झरना बसाक हिंदू हैं। पाकिस्तान में उन्हें शबनम नाम से भी जाना जाता है। उन्होंने बेहतरीन अदाकारी के लिए तीन बार नेशनल अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है। इसके साथ ही वे 13 बार निगार अवार्ड जीत चुकी हैं।

पाकिस्तान में हिंदुओं की स्थिति क्या है? (What is the situation of Hindus in Pakistan?)

पाकिस्तान में हिंदुओं की स्थिति क्या है? इसे लेकर कोई बात पुख्ता दावे के साथ नहीं कही जा सकती। यद्यपि वहां रहने वाले हिंदुओं ने कई बार उनके साथ धार्मिंक हिंसा (religious violence) की बात उठाई है। उन पर हमले भी हुए हैं।

कई बार मंदिरों को निशाना बनाया गया है। उनमें तोड़ फोड़ की गई है। हिंदू लोग उनकी बेटियों को उठाकर ले जाने एवं जबरन निकाह कराए जाने के आरोप लगाते रहे हैं। यहां तक कि कई हिंदू परिवार हिंसा से परेशान होकर पाकिस्तान से चले जाने को भी मजबूर हुए हैं।

पाकिस्तान की राजनीति में हिंदू नेताओं की क्या स्थिति है? (What is the condition of Hindu leaders in Pakistan?)

अब आपको बताते हैं कि पाकिस्तान में हिंदू नेताओं की क्या स्थिति है। आज से चार वर्ष पूर्व 2018 में पाकिस्तान में हुए चुनाव में सिंध प्रांत से पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (pakistan peoples party) यानी पीपीपी (PPP) के तीन हिंदू निर्वाचित हुए। यह बड़ी कामयाबी इसलिए थीं कि ये जनरल सीट (general seats) थीं।

जीत दर्ज करने वालों में थारपरकर सीट से नेशनल असेंबली के लिए महेश मलानी, प्रांतीय असेंबली की पीएस-147 से हरिराम किश्वरी लाल एवं पीएस-81 से जमशोरो ज्ञानूमल उर्फ ज्ञानचंद असरानी ने जीत हासिल की। यदि मंत्री पद की बात करें तो योगेंद्र नाथ मंडल पाकिस्तान के पहले कानून मंत्री थे।

वहीं, 2017 में बनी पाकिस्तान की अंतरिम सरकार की कैबिनेट में हिंदू मंत्री दर्शन लाल को भी जगह मिली। दरअसल, भ्रष्टाचार के आरोप साबित होने के बाद नवाज शरीफ को देश छोड़ना पड़ा था और उनकी जगह शाहिद खाकन अब्बासी को देश का प्रधानमंत्री बनाया गया।

इसमें पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एन) (pakistan muslim league (N)) यानी पीएमएल(एन) के टिकट पर दूसरी बाद 65 वर्षीय दर्शन लाल (darshan lal) को भी जगह मिली। उन्हें बतौर राज्य मंत्री 4 पाकिस्तानी प्रांतों- पंजाब, सिंध, बलूचिस्तान एवं खैबर पख्तूनवा के बीच समन्वय (coordination) की जिम्मेदारी गई।

इससे पूर्व राणा चंद्र सिंह (Rana Chandra Singh) पाकिस्तान सरकार हिस्सा रहे। वे पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के संस्थापकों में से एक थे। वे नेशनल असेंबली सात बार चुनकर पहुंचे थे। वे हिंदू सोढ़ा राजपूत थे। वे पाकिस्तान सरकार में दो बार मंत्री रहे।

इसके साथ ही पाकिस्तान अल्पसंख्यक कमेटी (pakistan minority committee) के चेयरमैन भी रहे। उन्हें पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो का करीबी माना जाता था। आज से करीब 19 वर्ष पूर्व सन 2003 में उनका देहांत हो गया।

पाकिस्तान में क्या कभी हिंदू पार्टी भी बनी है? (Has there been any Hindu party in Pakistan?)

बहुत से लोग इस संबंध में जानना चाहते हैं मित्रों कि क्या कभी पाकिस्तान में हिंदू पार्टी भी बनी है? तो आपको बता दें कि बेशक ऐसा हुआ है। यह अलग बात है कि यह दल पाकिस्तान चुनाव आयोग में रजिस्टर्ड नहीं है, लेकिन कागजों में जरूर मौजूद है। पाकिस्तान में आज से करीब 32 वर्ष पूर्व सन् 1990 में पाकिस्तान हिंदू पार्टी (pakistan hindu party) का गठन किया गया था।

इसके झंडाबरदार थे पाकिस्तान की उमरकोट पहले (अमरकोट) रियासत के राजा राणा चंद्र सिंह। इसके गठन के पीछे उद्देश्य यह था कि यह रियासत 22 हजार किलोमीटर से भी अधिक में फैली थी एवं एक ताकतवर रियासत थी, लेकिन पाकिस्तान में हिंदुओं की आवाज प्रभावी तरीके से उठाने की आवश्यकता महसूस की जा रही थी।

पार्टी का एकमात्र नारा था-हिंदुओं की मजबूती। यह प्राचीन हिंदू मूल्यों की पैरवी में संलग्न थी। इसका ध्वज भगवा था। इस प्रकार का ध्वज महाराष्ट्र के अप्रतिम योद्धा छत्रपति शिवाजी प्रयोग करते थे। उनके झंडे पर ओम एवं त्रिशूल बने हुए हैं। आपको जानकारी दे दें कि अब राणा चंद्र सिंह के बेटे राणा हमीर सिंह (Rana hamir Singh) इस पार्टी के प्रमुख हैं।

पाकिस्तान में दो महान भारतीय अभिनेताओं के घरों को कौन सा विशेष दर्जा दिया गया है? (What special status has been given to houses of 2 great actors of india in Pakistan?)

मित्रों, इस बात को तो आप भी जानते होंगे कि ऐसे बहुत से हिंदू अभिनेता हैं, जिनका जन्म पाकिस्तान तत्कालीन ब्रिटिश इंडिया में हुआ, लेकिन उन्होंने भारतीय बालीवुड इंडस्ट्री में नाम चमकाया। बालीवुड के शो मैन (show man) राज कपूर (Raj Kapoor) ऐसे ही अभिनेता था।

उनके अलावा ट्रेजेडी किंग (tragedy king) दिलीप कुमार (dileep kumar) उर्फ यूसुफ (Yusuf) का नाम पाकिस्तान में पैदा हुए बड़े अभिनेताओं में शुमार है। इन दोनों अभिनेताओं का जन्म खैबर पख्तूनवा प्रांत में पेशावर के किस्सा ख्वानी बाजार में हुआ था। पाकिस्तान में यह अभिनेता लोकप्रिय भी बहुत रहे।

सरकार ने इन दोनों अभिनेताओं के घरों को संघीय पुरावशेष अधिनियम के अंतर्गत राष्ट्रीय विरासत (national heritage) घोषित किया था। इसके साथ ही इन घरों को भी ऐतिहासिक एवं पुरातात्विक महत्व (historical and archeological importance) के अन्य 25 घरों के साथ खरीदने का फैसला लिया था।

इसके लिए उसने 61 करोड़ रुपए भी आवंटित किए थे। आपको जानकारी दे दें दोस्तों कि राज कपूर का पैतृक मकान कपूर हवेली (Kapoor haveli) नाम से मशहूर है। इसका निर्माण उनके दादा दीवान बशेश्वरनाथ कपूर (diwan basheshwar nath Kapoor) ने 1918 से लेकर 1922 के बीच कराया। इसी में राज कपूर पैदा हुए थे।

पाकिस्तान में हिंदुओं की जनसंख्या कितनी है?

पाकिस्तान में हिंदुओं की जनसंख्या 44 लाख से अधिक है

पाकिस्तान में हिंदुओं की आबादी कुल आबादी का कितना प्रतिशत है?

पाकिस्तान में हिंदुओं की आबादी कुल जनसंख्या का 2.14 प्रतिशत है।

विभाजन के समय पाकिस्तान की आबादी कितनी थी?

विभाजन के समय पाकिस्तान की कुल आबादी करीब 4 करोड़ थी।

पाकिस्तान में सबसे ज्यादा हिंदू आबादी किस प्रांत में है?

पाकिस्तान में सबसे अधिक हिंदू आबादी सिंध प्रांत में है।

पाकिस्तान में हिंदुओं के लिए कौन सी धार्मिक यात्रा का आयोजन किया जाता है?

पाकिस्तान में हिंदुओं के लिए हिंगलाज यात्रा का आयोजन किया जाता है।

पाकिस्तान में सर्वाधिक कौन सी भाषा बोली जाती है?

पाकिस्तान में सर्वाधिक पंजाबी भाषा बोली जाती है।

पाकिस्तान में हिंदुओं की सर्वाधिक आबादी वाला जिला कौन सा है?

पाकिस्तान में हिंदुओं की सर्वाधिक आबादी वाला जिला उमरकोट है।

पाकिस्तान में कौन सी हिंदू पार्टी बनाई गई थी?

पाकिस्तान में पाकिस्तान हिंदू पार्टी बनाई गई थी।

पाकिस्तान हिंदू पार्टी का गठन किसने कया था?

पाकिस्तान हिंदू पार्टी का गठन अमरकोट (अब उमरकोट) रियासत के राजा राणा चंद्र सिंह ने किया था।

पाकिस्तान के पहले हिंदू मंत्री कौन थे?

योगेंद्र नाथ मंडल पाकिस्तान के पहले हिंदू मंत्री थे। उन्हें विधि मंत्री बनाया गया था।

पाकिस्तान में किन भारतीय अभिनेताओं के घरों को राष्ट्रीय विरासत घोषित किया गया है?

पाकिस्तान में स्थित फिल्म अभिनेता राजकपूर एवं दिलीप कुमार के घर को राष्ट्रीय धरोहर घोषित किया गया है।

वे कौन से जिले हैं, जिनमें पाकिस्तान की आधी से अधिक हिंदू आबादी निवास करती है?

ये जिले हैं-उमरकोट, थारपरकर मीरपुरखास, संगहार

दोस्तों, हमने इस पोस्ट (post) में आपको पाकिस्तान में हिंदू जनसंख्या कितनी है 2022 में | पाकिस्तान में कितने हिंदू हैं? के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी। उम्मीद है कि यह जानकारी आपके लिए बेहद उपयोगी होगी। यदि इस पोस्ट के संबंध में आपका कोई सवाल है तो उसे बेहिचक हमसे नीचे दिए गए कमेंट बाक्स (comment box) में कमेंट (comment) करके पूछ सकते हैं। आपकी प्रतिक्रियाओं एवं सुझावों की हमें प्रतीक्षा है। ।।धन्यवाद।।

———————–

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment

इनकम टैक्स चोरी की शिकायत कैसे करें? जीएसटी सुविधा केंद्र कैसे खोले? उत्तर प्रदेश सोलर पंप योजना मेडिकल स्टोर कैसे खोले? बिहार हर घर बिजली योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन