One Nation One Card क्या है ? वन नेशन वन कार्ड – नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड

One Nation One Card एक महत्वाकांक्षी योजना है | जिसके तहत आप एक ही कार्ड से बस, मेट्रो, रिटेल शॉपिंग, आदि जगहों पर भुगतान कर सकते हैं | और कैश को संभालने या अलग-अलग कार्ड लेकर घूमने की झंझट से बच सकते हैं |

One Nation One Card क्या है ? वन नेशन वन कार्ड – नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड

One Nation One Card (NCMC) क्या है –

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने शासन के दौरान यह सौगात को देशवासियों को दिया है | यह NCMC (National Common Mobility Card) पूरे देश में इस्तेमाल किया जा सकेगा | इससे आप टोल टैक्स, पार्किंग शुल्क आदि भी भर सकेंगे | इसके अनगिनत फायदे हैं | सिंगापुर, अमेरिका आदि देशों के तर्ज पर यह कार्ड – One Nation One Card लांच किया गया है | यह मोदी सरकार की महत्वकांक्षी योजना “कैश-लेस इंडिया” की तरफ भी एक कदम है |

One Nation One Card का निर्माण क्यों हुआ –

मेट्रो, टोल बूथ, शॉपिंग कंप्लेक्सेस आदि में कैश का इस्तेमाल सुविधाजनक नहीं होता है | इसलिए स्वतः किराया ले लेने वाली एक प्रणाली का इस्तेमाल ऐसी जगहों पर होता है | पहले भारत इस प्रणाली को विदेश से खरीदता था |
चूंकि अलग अलग शहरों में बनाई गई प्रणालियां अलग अलग कम्पनियों से आई हैं | तो एक कार्ड आप हर जगह इस्तेमाल नहीं कर सकते थे | दिल्ली मेट्रो का कार्ड आप मुम्बई मेट्रो में इस्तेमाल नही कर सकते | इन समस्याओं को दूर करने के लिए इस पर विचार शुरू हुआ था |

इसके लिए विभिन्न सरकारी विभाग एक साथ आये और उन्होंने इस स्वदेशी निर्मित प्रणाली की योजना का निर्माण किया | इस कार्ड को लांच करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि “वन नेशन, वन कार्ड” का हमारा सपना पूर्ण हुआ है | हमने एक तरह से रुपे कार्ड को इस कार्ड के साथ जोड़ दिया है | अब हमें विदेशी तकनीक पर आश्रित रहने की आवश्यकता नहीं है | हमने यह स्वदेशी कार्ड विकसित किया है |, कुछ देशों के पास ही One Nation One Card की यह तकनीक है |” जिस के अंतर्गत अब भारत का नाम भी इस सूची में लिया जायेगा|

One Nation One Card काम कैसे करेगा –

एक सरकारी प्रेस रिलीज में कहा गया कि यह कार्ड किसी भी क्रेडिट/डेबिट आदि कार्ड के प्लैटफॉर्म पर काम करेगा | यह ऑफ़लाइन कार्ड में मौजूद राशि को सहेज कर रखेगा | कुल मिलाकर यह आपके मेट्रो कार्ड की तरह ही कार्य करेगा बस अंतर यह है | कि इसका इस्तेमाल से आप मेट्रो से लेकर टोल बूथ, पार्किंग, शॉपिंग, बस तथा कैश निकालने में भी कर सकते हैं |

NCMC से जुड़े बैंक यह कार्ड क्रेडिट, डेबिट या प्रीपेड रूप में जारी करेंगे | मेट्रो कार्ड की तरह ये भी कांटेक्ट-लेस कार्ड होगा | अर्थात स्वाइप करने की जगह आप को बस इसे सेंसर के पास ले जाना है |

One Nation One Card आप अपने बैंक से सम्पर्क कर के ले सकते हैं | एस. बी. आई व पी. एन. बी के अलावा 23 और बैंक इस योजना से जुड़े हैं | और आपको यह कार्ड मुहै |या करवा सकते हैं | पेटिम पेमेंट्स बैंक से भी आप यह कार्ड ले सकते हैं |

One Nation One Card का निर्माण किसने किया –

NCMC सिस्टम का निर्माण सरकारी कम्पनी भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड ने किया है | इसके लिए ऑटोमेटेड फेयर कलेक्शन (AFC) “स्वीकार” व स्वचालित गेट “स्वागत” का निर्माण किया गया है | इसके परीक्षण के लिए दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन से सम्पर्क किया गया है | दिल्ली मेट्रो ने कुछ स्टेशनों पर ये AFC मशीनें लगाई हैं | बैंकों ने भी अपने उपभोक्ताओं को NCMC कार्ड दिए हैं | जिसका उपयोग वो इन मशीनों पर कर सकें |

One Nation One Card के फायदे क्या हैं –

NCMC कार्ड के बहुत फायदे हैं इन्हें आप इस तरह से समझ सकतें हैं –

समय की बचत –

एक कार्ड हर जगह स्वीकार होने के कारण आपको हर कदम पर टिकट अथवा कैश देने से छुटकारा मिलता है | साथ ही आपको लाइन में लगने के झंझट से भी छुटकारा मिलता है | इस से कर्मचारियों के समय की भी बचत होती है | जिससे आगे चलकर यातयात के साधनो के सस्ते होने की संभावना है |

जिम्मेदारी –

इसके तहत सुविधा देने वाले बैंक और प्रणाली की जवाबदेही कस्टमर के प्रति बढ़ती है | ग्राहक द्वारा किये गए हर भुगतान का पूरा हिसाब इस प्रणाली के तहत सुरक्षित रहेगी | ऑफ़लाइन पेमेंट सुविधा भी One Nation One Card में उपलब्ध है | और इसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी बैंक की होगी | कार्ड के खोने या चोरी होने पर आप बैंक में फोन कर के कार्ड ब्लॉक करवा सकते हैं |

सस्ता यातायात –

इस फैसले के बाद यातायात की कीमतें कुछ घटने के आसार हैं | ए. एफ. सी गेट्स स्वदेशी होने के कारण उनपर आने वाला खर्च कम आयेगा, साथ ही टिकटिंग प्रणाली ऑटोमेटेड होने के कारण कर्मचारियों पे आने वाला खर्च भी बचेगा | खासकर मेट्रो और बसों में इसका असर देखने को मिलेगा |

स्वदेशी निर्मित –

यह पूरी प्रणाली स्वदेशी निर्मित है | इसके लिए NIC (National Informatics Commission), C-DAC (Centre for Development of Advance Computing), BIS (Bureau of Indian Standards), NPCI (National Payments corporation of India) और भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड के ने एक साथ यह प्रणाली विकसित की है |
इससे पहले तो हमारे पास यह तकनीक आ गयी, दूसरे हम इसे अन्य देशों को बेच कर धन भी अर्जित कर सकते हैं |

बैंकों को फायदा –

इस प्रणाली से बैंकों को बड़ा फायदा होगा | चूंकि यह कार्ड सीधा बैंक से जुड़ा है | तो लेन-देन के इस क्षेत्र को सुव्यवस्थित करने में मदद मिलेगी | अब तक कैश से चलने वाले क्षेत्र पर बैंक सीधे अपनी पकड़ बना सकेंगे | इससे ग्राहकों को भी रिवार्ड पॉइंट, कैश बैक आदि की सुविधाएं मिलेंगी |

डिजिटल इंडिया को बढ़ावा –

इस कार्ड से सबसे बड़ा फायदा सरकार की महत्वाकांक्षी योजना “डिजिटल इंडिया” को मिलेगा | इससे कैशलेस इकॉनमी की तरफ बढ़ने में सहायता मिलेगी |

यह प्रोजेक्ट 31 जनवरी 2019 को एक पायलट प्रोजेक्ट तौर पर लांच किया गया था | सरकार ने कहा कि अभी यह योजना सिर्फ शहरी क्षेत्रों में लागू की जाएगी | पर उसके बाद ग्रामीण इलाकों में भी One Nation One Card को पहुंचाने की कोशिश की जाएगी |

इस तरह की स्वदेशी प्रणालियों का निर्माण आगे आने वाले समय में देश के लिए बेहद महत्वपूर्ण साबित होगा | हाल में ही नरेंद्र मोदी ने भारतीय ऑनलाइन बैंक पेमेंट सिस्टम “रुपे” लांच किया था | इस तरह की प्रणालियां भारत को आत्म-निर्भर बनाने का काम करेंगी |

दोस्तों इस लेख के माध्यम से आपको वन कार्ड वन नेशन / One Nation One Card से संबंधित संपूर्ण जानकारी दी गई है | जिसका लाभ उठाकर आप भी अपनी दिनचर्या को आसान बना सकते हैं | साथ ही अगर आपको इस विषय से संबंधित कोई अन्य जानकारी और सुझाव हमसे साँझा करना चाहते हैं | तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं | हम जल्द से जल्द आप के कॉमेंट पर प्रतिक्रिया देने की कोशीश करेंगे वह अगर आपको यह जानकारी पसंद आती है | तो आप इसे अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं ||धन्यवाद ||

Spread the love

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।