सरकारी नर्स कैसे बने? सैलरी, कार्य, फीस | नर्सिंग कोर्स डिटेल्स | Nurse Kaise Bane?

|| Nurse kaise bane, सरकारी नर्स कैसे बने, नर्स के कार्य, सरकारी नर्स की सैलरी, कार्य, फीस, नर्सिंग कोर्स डिटेल्स, नर्स का कोर्स कितने साल का होता है, नर्स कोर्स फीस, 12वीं के बाद नर्सिंग कोर्स का विवरण ||

बहुत से लोगों का सपना होता हैं कि वे आगे जाकर नर्स में अपना करियर बनाए। डॉक्टर बनना अलग बात है लेकिन नर्स बनना अलग (Nurse banne ke liye kya kare)। अस्पताल में कोई भी रोगी भर्ती होता है तो उसकी देखभाल डॉक्टर कम नर्स ज्यादा करते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि डॉक्टर तो उसे दिन में एक से दो बार ही देखने आएगा लेकिन नर्स ही होते हैं जो उसे दिनभर (Nursing kaise kare) देखते हैं और सँभालते हैं।

ऐसे में नर्स का काम बहुत चुनौती भरा होता है और उन्हें संयम की भी आवश्यकता होती है। यदि आप भी नर्स बनना चाहते हैं और नर्स कैसे बने या नर्स बनने के लिए क्या करना चाहिए (Nurse kaise bante hain) इत्यादि के बारे में जानना चाहते हैं तो आज के इस लेख में हम आपको नर्स बनने के ऊपर संपूर्ण जानकारी देंगे। आइए जानते हैं नर्स बनने के लिए क्या किया जाए।

नर्स कैसे बने? (Nurse kaise bane)

सरकारी नर्स कैसे बने? सैलरी, कार्य, फीस | नर्सिंग कोर्स डिटेल्स | Nurse Kaise Bane?

पहली बात तो आपका यह जानना आवश्यक हैं कि नर्स कोई भी बन सकता है फिर चाहे वह पुरुष हो या महिला। कहने का अर्थ यह हुआ कि हम में से (Nurse kaise banenge) ज्यादातर लोग नर्स को केवल महिलाओं से ही जोड़ लेते हैं लेकिन ऐसा नही है। नर्स पुरुष भी बनते हैं और महिलाएं भी। इसलिए यदि आप पुरुष भी हैं तो नर्स बनने को लेकर आवेदन कर सकते हैं।

नर्स बनने के लिए आपको डॉक्टर जैसे पढ़ाई तो नही (Nursing kaise bane) करनी होती हैं लेकिन फिर भी इसके लिए तैयारी स्कूल से ही शुरू हो जाती हैं। इसके लिए आपको दसवीं व बारहवीं में कुछ बातों का ध्यान रखना होता हैं।

यदि आप नर्सिंग में अच्छी डिग्री प्राप्त करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अपनी ग्यारहवीं व बारहवीं कक्षा को मेडिकल फील्ड लेकर अच्छे नंबर से पास करना होता हैं। आइए इनके बारे में जाने।

दसवीं में लाये 45 प्रतिशत से ज्यादा अंक

यदि आप नर्स बनने के इच्छुक हैं तो इसके लिए आपका न्यूनतम दसवीं पास करना आवश्यक हैं। साथ ही दसवीं में आपके न्यूनतम 45 प्रतिशत अंक आने चाहिए अन्यथा आप नर्स बनने के लिए आवेदन नही कर सकते हैं।

साथ ही दसवीं के बाद यदि आप बारहवीं करते हैं तो वो आपको मेडिकल से करनी होगी क्योंकि दसवीं तक आप केवल नर्स के 3 कोर्स में से एक कोर्स ही कर पाएंगे।

नर्स बनने के लिए बारहवीं को पास करना (How to become a nurse in India after 12th)

यदि आप नर्स में एक स्नातक डिग्री लेकर नर्स के अच्छे पद को पाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको दसवीं के बाद 11वीं व 12वीं भी पास करनी होगी। साथ ही 11वीं में आपको मेडिकल फील्ड चुननी होगी जिसमें आपको फिजिक्स (भौतिक विज्ञान), केमिस्ट्री (रसायन विज्ञान) व बायोलॉजी (जीव विज्ञान) पढ़ाई जाएगी।

नर्स की डिग्री प्राप्त करने के लिए आपके पास 11वीं व 12वीं में मेडिकल फील्ड होना या इन तीनों विषयों का होना अनिवार्य होता हैं। इसके साथ ही आपके इनमे न्यूनतम 50 प्रतिशत या 55 प्रतिशत अंक आने चाहिए।

इसके साथ ही आपको अंग्रेजी भी अच्छे अंकों से पास करनी होगी। इसके बाद ही आप नर्स की डिग्री या कोर्स कर सकते हैं।

नर्स बनने के लिए क्या करें? (Nurse banne ke liye kya kare)

अब जानते हैं कि आपको नर्स बनने के लिए क्या करना चाहिए अर्थात आप नर्स बनने के लिए क्या कोर्स या डिग्री कर सकते हैं। दरअसल नर्स बनने के लिए दो कोर्स व एक डिग्री उपलब्ध (Nurse banne ki padhai) हैं।

इन्हें आप अपनी सुविधा के अनुसार चुन सकते हैं। इनमे से एक दसवीं के बाद तो बाकि दोनों बारहवीं के बाद की जा सकती है। आइए एक एक करके इन तीनों के बारे में क्रमानुसार जाने (Nursing ka course kaise hota hai)।

#1. नर्स बनने के लिए एएनएम कोर्स (Auxiliary Nurse Midwifery Nursing Course)

यह नर्स बनने के लिए सबसे शुरूआती या यूँ कहे कि छोटा कोर्स हैं। इसका पूरा नाम ऑग्जिलरी नर्स मिडवाइफरी (Auxiliary Nurse Midwifery) होता है। ANM नर्सिंग का कोर्स कुल 2 वर्ष के लिए होता है।

इसे आप किसी भी मेडिकल कॉलेज या नर्सिंग कॉलेज से कर सकते हैं। इसमें जो बात ध्यान देने वाली है वह यह है कि इसे केवल महिलाएं ही कर सकती हैं तथा पुरुष लोग इसे करने के लिए मान्य नही होते हैं।

कहने का तात्पर्य यह हुआ कि ANM कोर्स को केवल महिलाएं ही करेंगी और इसके तहत नर्स भी वही बनेंगी। इसमें आपको केवल दसवीं पास करनी होती हैं और (ANM nurse kaise bane) वह भी न्यूनतम 45 प्रतिशत अंक लाकर। अर्थात यदि आपके दसवीं में 45 प्रतिशत से कम अंक आये हैं तो आप ANM कोर्स नही कर पाएंगे और आपको फिर से दसवीं की परीक्षा देनी होगी।

इस कोर्स की फीस सरकारी व निजी मेडिकल कॉलेज के लिए अलग होती है। सरकारी कॉलेज में जहाँ ANM कोर्स के लिए 5 से 10 हज़ार रुपए लगते है (ANM nursing course kaise kare) तो वही निजी कॉलेज इसके लिए 10 से 30 हज़ार की फीस ले लेते हैं। इसे करने के बाद आपको किसी भी अस्पताल में नर्स की सहायक के तौर पर नियुक्त किया जाता है।

कहने का तात्पर्य यह हुआ कि अस्पतालों में जो नर्स बड़े पद पर हैं या जिन्होंने सनातक इत्यादि किया हुआ हैं आपको उसके नीचे सहायक बनकर कार्य करना होगा। इन कार्यों में रोगियों की दैनिक देखभाल, उपकारों का रखरखाव व सफाई, नर्स व डॉक्टर के द्वारा दिए गए आदेशों का पालन करना इत्यादि सम्मिलित है।

#2. नर्स बनने के लिए जीएनएम कोर्स (General Nursing and Midwifery Nursing Course)

नर्सिंग में जीएनएम का पूरा नाम जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी (General Nursing and Midwifery) होता है। यह एएनएम कोर्स से बड़ा कोर्स होता है और इसको करने के बाद आपको किसी अस्पताल में उससे बड़ा पद मिलता है। हालाँकि यह सनातक डिग्री नही होती है और इसे करने के बाद भी आप नर्स की सहायक की भूमिका ही निभाएंगे।

GNM कोर्स ANM कोर्स से कुछ मामलों में अलग होता हैं। जैसे कि इसमें लड़के व लड़कियां दोनों आवेदन कर सकते हैं। जहाँ एक ओर, ANM कोर्स के लिए केवल महिलाएं ही आवेदन कर सकती हैं (GNM nurse kaise bane) तो वही GNM कोर्स को करने के लिए महिला व पुरुष दोनों ही आवेदन कर सकते हैं।

GNM कोर्स को बारहवीं के बाद ही किया जा सकता है और इसके लिए बारहवीं में मेडिकल होना तथा न्यूनतम 50 प्रतिशत अंक लाना अनिवार्य होता है। यदि आपने बारहवीं किसी और स्ट्रीम से की हैं या फिर आपके न्यूनतम 50 प्रतिशत अंक नही आये हैं तो आप GNM कोर्स के लिए आवेदन नही कर (GNM nursing kaise kare) पाएंगे।

GNM कोर्स की अवधि 3 वर्षों की होती है। 3 वर्षों तक नर्स की पढ़ाई करने के पश्चात आपको 6 महीने की ट्रेनिंग भी आवश्यक रूप से करनी होगी। उसके पश्चात ही आपको GNM कोर्स का सर्टिफिकेट या प्रमाण पत्र दिया जाएगा जिसके द्वारा आपको किसी अस्पताल चाहे वो निजी हो या सरकारी इत्यादि के लिए आवेदन कर सकते हैं।

जहाँ GNM में लगने वाली फीस की बात है तो इसकी फीस भी ANM कोर्स से ज्यादा होती है। यदि आप GNM का कोर्स किसी सरकारी कॉलेज के माध्यम से कर रहे हैं तो इसमें आपकी सालाना फीस 20 से 30 हज़ार होगी तो वही निजी कॉलेज में यह 30 से 70 हज़ार के बीच होगी।

#3. नर्स बनने के लिए बीएससी नर्सिंग की डिग्री (Bachelor of Science in Nursing)

यह नर्स बनने के लिए कोई कोर्स ना होकर बल्कि एक आधिकारिक डिग्री होती है। इसे आप नर्सिंग की स्नातक की डिग्री भी कह सकते हैं। इसे करने के बाद आपको संपूर्ण रूप से नर्स कहा जाता हैं और किसी भी अस्पताल में एक प्रमुख नर्स की भूमिका मिलती है।

बीएससी का पूरा नाम नर्सिंग में विज्ञान स्नातक या फिर Bachelor of Science in Nursing होगा। इस डिग्री को करने के लिए सबसे पहले आपको बारहवीं कक्षा उत्तरीं करनी होगी और वह भी न्यूनतम 55 प्रतिशत अंकों के साथ। साथ ही 11वीं व 12वीं कक्षा में आपके पास मेडिकल या फिर फिजिक्स, केमिस्ट्री व बायोलॉजी अनिवार्य रूप से होने (Nursing Bsc kya hai) चाहिए।

साथ ही इसमें प्रवेश पाने के लिए आपके बारहवीं में अंग्रेजी विषय में न्यूनतम 40 प्रतिशत अंक भी आने चाहिए। उसके बाद आप इस कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं। इस कोर्स को भी महिला व पुरुष दोनों कर सकते हैं तथा इसके लिए न्यूनतम आयु 17 वर्ष है। ANM या GNM कोर्स की तुलना में यह एक स्नातक की डिग्री होती है जिसे अंडर ग्रेजुएट भी कहा जा सकता है।

इसे करने में 4 वर्ष का समय लगता है और उसके बाद 6 माह की ट्रेनिंग भी करनी होती है। कहने का तात्पर्य यह हुआ कि नर्स में बीएससी की डिग्री प्राप्त करने के लिए आपको पहले किसी कॉलेज से 4 वर्ष की पढ़ाई करनी होगी और उसके बाद किसी नर्स या डॉक्टर के अंतर्गत 6 माह की ट्रेनिंग लेनी होगी। उसके बाद सब कुछ सही से पूरा करने पर आपको बीएससी की डिग्री मिल जाएगी।

बीएससी की डिग्री लेने के बाद आप किसी भी सरकारी, निजी या सेना में नर्स की नौकरी करने के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए आपके पास नर्स में नौकरी करने के सभी विकल्प खुले हैं। इसमें आपको अस्पताल के नर्स स्टाफ के रूप में नियुक्त किया जाएगा तथा ANM व GNM का कोर्स किये ही नर्स आपके सहायक कहलायेंगे।

जहाँ बीएससी नर्सिंग की फीस की बात है तो इसके लिए भी सरकारी कॉलेज की फीस निजी कॉलेज से बहुत कम होती है। यदि आप सरकारी परीक्षा में पास हो जाते हैं और नर्सिंग बीएससी में एक सरकारी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पा लेते हैं तो आपकी सालाना फीस 40 हज़ार से 60 हज़ार होगी। क्जिन्तु यदि किसी कारणवश आपका सरकारी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश नही हो पाता हैं और आप निजी मेडिकल कॉलेज से नर्सिंग में बीएससी करते हैं तो इसकी फीस 70 हज़ार से लेकर 2 लाख तक की हो सकती है।

भारत के बेस्ट नर्सिंग कॉलेज (Top nursing colleges in India)

अब आपके मन में प्रश्न होगा कि कौन कौन से ऐसे कॉलेज हैं जो नर्सिंग का कोर्स या डिग्री प्राप्त करने के लिए सर्वश्रेष्ठ होंगे। तो उनमे से कुछ बेस्ट व टॉप कॉलेज की सूची कुछ इस प्रकार हैं:

  • अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), दिल्ली
  • सशस्त्र बल चिकित्सा महाविद्यालय, पुणे, महाराष्ट्र
  • कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज, मंगलौर, कर्नाटक
  • मद्रास मेडिकल कॉलेज, चेन्नई, तमिलनाडु
  • चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़, हरियाणा व पंजाब

इसके अलावा भी कई ऐसे कॉलेज या यूनिवर्सिटी हैं जो नर्सिंग में बीएससी या अन्य कोर्स करवाती हैं। इसलिए आप अपनी सुविधा व बजट के अनुसार कोई भी एक मेडिकल कॉलेज का चुनाव कर सकते हैं।

नर्स के कार्य क्या होते हैं? (Nurse ko kya kya aana chahiye)

एक अस्पताल में डॉक्टर केवल मरीजों का उपचार करता हैं या उसे दवाइयां लिखकर देता हैं। इसके अलावा अस्पताल का संचालन, मरीजों की देखभाल से लेकर (Nurse ke karya) चिकित्सकीय उपकारों की जाँच पड़ताल व ओपीरातिओं की तैयारी इत्यादि सभी नर्स का ही उत्तरदायित्व होता हैं। उदाहरण के तौर पर:

  • यदि कोई रोगी अस्पताल में भर्ती होता हैं तो दिन-रात उसकी देखभाल करना, उसे खाना खिलाना, उसकी मशीन चेक करना, बीपी शुगर इत्यादि चेक करना नर्स का ही काम है।
  • किसी रोगी को डॉक्टर से मिलने से पहले एक नर्स से ही मिलना होता हैं और उसे अपनी स्थिति के बारे में अवगत करवाना होता है। फिर वह नर्स उसका प्राथमिक उपचार कर व कुछ चीज़े चेक कर एक रिपोर्ट बनाता हैं और फिर उसे डॉक्टर के पास भेजता हैं।
  • अस्पताल का पूरा रिकॉर्ड रखना जैसे कि कौन सा रोगी कहां भर्ती है, उसे क्या बीमारी है, उसका क्या ईलाज चल रहा है, उसे कौन सी दवाई किस समय देनी है, उसकी फीस कितनी है, उसे कब डिस्चार्ज करना है इत्यादि सब नर्स का ही काम है।
  • अस्पताल के मेडिकल उपकरणों की देखभाल, उनमे कोई कीटाणु ना हो या वे ख़राब ना हो गए हो, वे कहां पर हैं और किस समय उनका उपयोग होगा, उनकी कब कहां आवश्यकता हैं इत्यादि देखना।
  • किसी रोगी का ऑपरेशन हैं तो ऑपरेशन की पूरी तैयारी करना, सब उपकरण व अन्य चीज़े तैयार रखना, डॉक्टर की ऑपरेशन में सहायता करना व ऑपरेशन के अन्य काम करना इत्यादि।
  • अस्पताल में डॉक्टर के द्वारा बताये गए सभी दिशा निर्देशों का पालन करना व अस्पताल के नियमों का सभी के द्वारा पालन करवाना भी एक नर्स का ही उत्तरदायित्व है।

तो एक तरह से कहा जाए तो किसी अस्पताल के संचालन, उसकी देखरेख, मरीजों की देखभाल व डॉक्टर के द्वारा बताये गए कामों का निर्वहन करना एक नर्स का ही काम (Nurse ke work) होता है।

नर्स बनने के बाद क्या करें? (Nursing me career kaise banaye)

अब जब आपने नर्स की डिग्री प्राप्त कर ली हैं या उसमे नर्सिंग का कोर्स कर लिया हैं तो आपका अगला प्रश्न होगा कि अब आगे क्या। तो नर्स की डिग्री समाप्त करने के पश्चात आपके पास काम करने के कई ऑफर होते हैं जैसे कि:

  • डिग्री प्राप्त नर्स या नर्सिंग का कोर्स किये हुए नर्स किसी भी सरकारी अस्पताल में काम करने के लिए आवेदन कर सकते हैं लेकिन उसके लिए उन्हें सरकारी मेडिकल परीक्षा को उठतीं करना होगा।
  • इसके अलावा किसी निजी अस्पताल में भी आवेदन किया जा सकता हैं जो कि सरकारी की तुलना में ज्यादा सरल हैं।
  • आप चाहे तो भारत सरकार के द्वारा सेना में नर्स की भर्ती के लिए लाये गए एग्जाम को भी दे सकते हैं। इसमें चुने जाने के बाद आपको सीधे सेना के नर्सिंग स्टाफ में नियुक्त कर दिया जाएगा।
  • किसी व्यक्ति के निजी नर्सिंग स्टाफ के रूप में भी आप अपनी सेवाएं दे सकते हैं।
  • इसके अलावा आप अनाथाश्रम, वृद्धाश्रम, अन्य मेडिकल संस्थान, आरोग्य संस्थान इत्यादि में अपनी सेवाएं दे अकते हैं।
  • किसी डॉक्टर के निजी नर्स स्टाफ के रूप में भी अपनी सेवाएं दी जा सकती हैं।
  • इन सभी के अलावा, आप विदेशों में भी नर्स की नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं।

नर्स का वेतन (Nurse ki salary kitni hoti hai)

अब अंतिम व मुद्दे की बात, जो हम सभी के लिए महत्वपूर्ण होती है। वह यह कि आप नर्स का कोर्स या डिग्री कर तो लेंगे लेकिन इसमें वेतन कितना मिलता हैं। तो आपको बता दे कि यदि आपने ANM का कोर्स किया हुआ हैं तो आपको शुरूआती तौर पर 7 हज़ार से लेकर 15 हज़ार तक का वेतन मिल सकता हैं।

वही यदि आपने GNM का कोर्स पूरा कर लिया हैं तोआपका वेतन 10 हज़ार से लेकर 30 हज़ार तक का हो सकता हैं। यदि आपने नर्सिंग में बीएससी की हुई हैं तो आपका शुरूआती वेतन 20 हज़ार से लेकर 70 हज़ार तक का हो सकता हैं। यह पूर्णतया आपके द्वारा किये गए काम, नौकरी व गुणवत्ता पर निर्भर करता हैं।

नर्स कैसे बने – Related FAQs

प्रश्न: नर्स बनने के लिए कौन सा पढ़ाई करना पड़ता है?

उत्तर: नर्स बनने के लिए आपको ANM, GNM या फिर बीएससी करनी पड़ती हैं।

प्रश्न: नर्सिंग में कितना खर्चा आता है?

उत्तर: नर्सिंग करने में कुल खर्चा 20 हज़ार से लेकर 1 लाख तक का रहता है।

प्रश्न: सरकारी नर्स की सैलरी कितनी होती है?

उत्तर: सरकारी नर्स की सैलरी 15 हज़ार से लेकर 35 हज़ार तक की होती है।

प्रश्न: नर्स बनने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए?

उत्तर: नर्स बनने के लिए आपको बारहवीं में न्यूनतम 55 प्रतिशत अंक आने चाहिए और वो भी मेडिकल स्ट्रीम लेकर।

प्रश्न: 12वीं के बाद नर्सिंग की तैयारी कैसे करें?

उत्तर: 12वीं के बाद नर्सिंग की तैयारी के लये आप नर्सिंग में बीएससी का कोर्स ले सकते हैं।

प्रश्न: नर्सिंग में सबसे अच्छा कोर्स कौन सा है?

उत्तर: नर्सिंग में सबसे बढ़िया कोर्स नर्सिंग में बीएससी करना होता है।

प्रश्न: नर्सिंग के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना पड़ता है?

उत्तर: नर्सिंग के लिए आपके पास 11वीं व बारहवीं कक्षा में फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी व अंग्रेजी अनिवार्य रूप से होनी चाहिए।

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment

इनकम टैक्स चोरी की शिकायत कैसे करें? जीएसटी सुविधा केंद्र कैसे खोले? उत्तर प्रदेश सोलर पंप योजना मेडिकल स्टोर कैसे खोले? बिहार हर घर बिजली योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन