एनएससी- राष्ट्रीय बचत पत्र 2020 | ब्याज दर एंव नियम | National Saving Certificate In Hindi

अनुक्रम

डाकघर द्वारा चलाई जाने वाली बचत योजनाओं में National Saving Certificate 2020 एक प्रमुख योजना है। इस योजना का संचालन का मुख्य उद्देश्य भारत सरकार द्वारा देश के नागरिकों को बचत करने के लिए प्रोत्साहित करना है। इस योजना में आप निश्चिंत होकर पैसे इन्वेस्ट कर सकते हैं। और किसी भी बैंक द्वारा प्रदान की जाने वाली फिक्स डिपॉजिट स्कीम से भी ज्यादा यह स्कीम सुरक्षित है। इसके साथ ही राष्ट्रीय बचत पत्र 2020 में इन्वेस्ट करने से आप टैक्स में भी छूट भी प्राप्त कर सकते हैं। भारत सरकार द्वारा यह प्रावधान किया गया है। नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में आपको 5 साल के लिए निवेश करना होता है। 5 साल के पश्चात आपका एनएससी (National Saving Certificate ) परिपक्व हो जाता है।

एनएससी- राष्ट्रीय बचत पत्र 2020 | ब्याज दर एंव नियम | National Saving Certificate In Hindi

एनएससी – नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट क्या होता है? NSC में आप इन्वेस्ट कैसे कर सकतें हैं? राष्ट्रीय बचत पत्र के लाभ, राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र, एनएससी प्रमाण पत्र कैलकुलेटर, राष्ट्रीय बचत पत्र योजना, और नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में निवेश करने से पहले आपको कौन-कौन सी बातों का ध्यान रखना चाहिए। इन सभी सवालों की जानकारी प्राप्त करने के लिए आपको यह आर्टिकल लास्ट तक पढ़ना होगा। हम आपको इस आर्टिकल में पूरी जानकारी प्रदान करेंगे।

राष्ट्रीय बचत पत्र – नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट क्या है? NSC Full Form In Hindi –

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट 2020 में इन्वेस्ट करने के बारे में जानकारी प्राप्त करने से पहले हमें यह जानना बेहद आवश्यक है कि एनएससी क्या होता है? नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट का फुल फॉर्म क्या है। बात करें एनएससी की तो NSC का फुल फॉर्म National Saving Certificate होता है। जिसे आप राष्ट्रीय बचत पत्र भी कह सकते हैं।

Rashtriya Bachat Patra अर्थात नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में कोई भी भारतीय नागरिक निवेश कर सकता है। फिर चाहे वह नागरिक एक किसान हो, बिजनेस मैन हो, अथवा सैलरी प्राप्त करने वाला कर्मचारी हो। कोई भी नागरिक नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में निवेश करके टैक्स छूट का भी लाभ प्राप्त कर सकता है। आयकर विभाग द्वारा नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में अधिकतम डेढ़ लाख रुपए तक के निवेश को टैक्स छूट में शामिल किया गया है। जिसका लाभ आप प्राप्त कर सकते हैं।

NSC Yojana In Hindi। राष्ट्रीय बचत पत्र 2020 (NSC) के प्रकार –

डॉक विभाग द्वारा चलाई जाने वाली मुख्य सेविंग स्कीम राष्ट्रीय बचत पत्र दो प्रकार के होते हैं। जिनका विवरण इस प्रकार है।

  1. NSC Issue IX
  2. NSC Issue VIII

Rashtriya Bachat Patra – NSC Issue IX –

डाक विभाग द्वारा जारी किया जाने वाला NSC Issue IX को सरकार ने 2015 में जारी करना बंद कर दिया है। इस NSC Issue IX की परिपक्वता अवधि 10 साल की होती थी। लेकिन अब सरकार द्वारा इसे बंद कर दिया गया है। इसलिए हमें इसके बारे में ज्यादा विस्तृत बात नहीं करेंगे। हम आगे NSC Issue VIII के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करें

NSC Issue VIII क्या है?

भारत सरकार के डाक विभाग द्वारा जारी की जाने वाली NSC Issue VIII की परिपक्वता अवधि 5 साल निर्धारित की गई है। कोई भी नागरिक निवेश करता है, तो वह 5 साल के बाद पैसे निकाल सकता है। डाक विभाग द्वारा आपको ₹100 से लेकर ₹10000 तक के सर्टिफिकेट प्रदान किए जाते हैं। कोई भी नागरिक अपनी सुविधानुसार ₹ 100 से लेकर ₹10000 तक के सर्टिफिकेट खरीद सकता है। लेकिन यहां पर आपके निवेश की कोई सीमा निर्धारित नहीं की गई है। इसलिए आप जितना भी निवेश करना चाहते हैं। आप निवेश कर सकते हैं। लेकिन आयकर विभाग द्वारा आप को अधिकतम डेढ़ लाख रुपए तक की ही छूट प्रदान की जाएगी।

एनएफसी को आप 3 तरीके से खरीद सकते हैं –

किसान विकास पत्र की तरह ही राष्ट्रीय बचत पत्र भी आप 3 तरीकों से खरीद सकते हैं –

1. Single holder Type NSC : इसमें आप एक व्यक्ति के नाम पर Rashtriya Bachat Patra (NSC) खरीद सकते हैं। साथ ही आप अपने नाबालिक बच्चे के लिए भी राष्ट्रीय बचत पत्र खरीद सकते हैं।

2. Joint A type NSC : इस प्रकार के एनएससी खरीदने के लिए दो व्यक्तियों की जरूरत होती है। कोई भी 2 व्यक्ति संयुक्त रूप से मिलकर Rashtriya Bachat Patra खरीद सकते हैं। दो व्यक्तियों में पति पत्नी, पिता-पुत्र, मां बेटी, दो मित्र अथवा कोई भी दो साझेदार हो सकते हैं।परिपक्वता अवधि पूरी होने पर दोनों व्यक्तियों को बराबर राशि प्रदान की जाती है।

3. Joint B type NSC: इस प्रकार के राष्ट्रीय बचत पत्र में भी दो व्यक्तियों द्वारा संयुक्त रूप से ही Rashtriya Bachat Patra खरीदा जाता है। इस में अंतर सिर्फ इतना होता है। कि परिपक्वता अवधि पूर्ण होने पर मिलने वाली धनराशि किसी एक व्यक्ति को ही मिलती है। यह धनराशि किसे मिलनी चाहिए। इसका निर्धारण एनएससी – नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट खरीदते समय ही कर दिया जाता है।

Rashtriya Bachat Patra In Hindi आवश्यक योग्यता –

एनएससी में निवेश करने के लिए सरकार द्वारा कुछ योग्यताओं का भी निर्धारण किया गया है। जिनका पूरा करने वाला व्यक्ति ही Rashtriya Bachat Patra में निवेश कर सकता है। यह योग्यताएं कुछ इस प्रकार है।

  • नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में कोई भी भारतीय नागरिक निवेश कर सकता है। फिर चाहे वह नागरिक एक किसान हो, एक ग्रहणी हो, एक व्यापारी हो, एक विद्यार्थी हो अथवा कोई सैलरी प्राप्त करने वाला कर्मचारी हो।
  • इसके साथ ही एनएससी किसी नाबालिक बच्चे के लिए उसके अभिभावक द्वारा भी खरीदी जा सकती है।
  • नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में कोई 2 लोग मिलकर भी संयुक्त रूप से निवेश कर सकते हैं।
  • NSC में कोई एन आर आई अर्थात अनिवासी भारतीय और एचयूएफ अर्थात हिन्दू अनडिवाइडेड फैमिली निवेश नहीं कर सकती है।

राष्ट्रीयबचत पत्र – नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में निवेश करने के लिए आवश्यक दस्तावेज –

यदि आप नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में निवेश करने के बारे में सोच रहे हैं। तो आपको निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी –

  1. पहचान पत्र – पहचान पत्र के लिए आपके पास आधार कार्ड, वोटर आईडी, कार्ड पैन, कार्ड राशन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस आदि में से कोई एक दस्तावेज का होना आवश्यक है।
  2. पते का प्रमाण पत्र – पते प्रमाण पत्र में आपके पास आधार कार्ड वोटर, आईडी कार्ड, राशन कार्ड, पानी / बिजली आदि का बिल में से किसी एक दस्तावेज का होना आवश्यक है।
  3. इसके साथ ही आपके पास पासपोर्ट साइज के 2 फोटो भी हो ना आवश्यक है।

एनएससी कैसे खरीदें? How To Purchase NSC –

यदि आप राष्ट्रीय बचत पत्र खरीदना चाहतें हैं, तो आप आसानी से एनएससी खरीद सकतें हैं। इसके लिए आपको अपने आवश्यक दस्तावेजों के साथ निकटम पोस्ट ऑफिस जाना होगा। और वहां से आपको एक फॉर्म लेना होगा। आप चाहें तो विभाग की ऑफिसियल साईट से भी फॉर्म डाउनलोड कर सकतें हैं। फॉर्म डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें।

फॉर्म लेकर उसमे पूछीं गई सारी जानकारी सही सही भरें। और आवश्यक दस्तावेजों की भी कॉपी लगायें। भुगतान करने के लिए आप नगद राशी, चेक, डिमांड ड्राफ्ट आदि से कर सकतें हैं।

वैसे सरकार द्वारा बैंकों को भी राष्ट्रीय बचत पत्र जारी करने के निर्देश दिए गए हैं। लेकिन अभी बैंकों द्वारा इसकी कोई सुविधा प्रदान नहीं की जा रही है।

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट में टैक्स की कितनी छूट मिलती है?

भारतीय आयकर विभाग द्वारा राष्ट्रीय बचत पत्र में निवेश करने वाले नागरिकों को टैक्स में छूट प्रदान करने की भी व्यवस्था की गई है। आयकर के अधिनियम 80C के अंतर्गत कोई भी नागरिक को Rashtriya Bachat Patra में निवेश करके अधिकतम ₹150000 तक की छूट का लाभ प्राप्त कर सकता है।

राष्ट्रीय बचत पत्र 2020 में आप कितना निवेश कर सकते हैं?

भारत सरकार द्वारा एनएससी में निवेश करने की कोई भी सीमा निर्धारित नहीं की गई है। आप अपनी सुविधा अनुसार कितना भी निवेश कर सकते हैं। निवेश करने के लिए डाक विभाग द्वारा आपको 100 से लेकर 10000 तक के राष्ट्रीय बचत पत्र प्रदान किए जाते हैं। अर्थात आप 100, 500, 5000, ₹10000 मूल्य वर्ग के राष्ट्रीय बचत पत्र, कितनी भी धनराशि के खरीद सकते हैं।

विस्तृत रूप से समझने के लिए आपको यह उदाहरण देखना होगा –

मान लीजिए आप राष्ट्रीय बचत पत्र में ₹35000 का निवेश करना चाहते हैं। तो आप डाकघर से 5000 मूल्य वर्ग के 7 एनएससी ले सकते हैं। इसके साथ ही आप ₹10000 मूल्य वर्ग के तीन और 5 हजार मूल्य वर्ग का एक Rashtriya Bachat Patra खरीद सकते हैं। इसके साथ ही आप चाहें तो 500 के और 100 के गुणांक के भी राष्ट्रीय बचत पत्र ₹35000 के खरीद सकते हैं। आप जितनी भी धन राशि का एनएससी खरीदना चाहते होंगे। उतनी धनराशी के सर्टिफिकेट आपको डाक विभाग द्वारा प्रदान किया जाएगा।

राष्ट्रीय बचत पत्र 2020 में निवेश करने पर ब्याज दर कितनी है? NSC Interest Rate –

राष्ट्रीय बचत पत्र में निवेश करने से पहले हमें यह जानना बेहद आवश्यक है। की एनएससी में निवेश करने पर आपको ब्याज दर कितनी प्रदान की जाएगी। चुंकी यह भारत सरकार द्वारा बचत के लिए प्रोत्साहित करने के लिए चलाई जाने वाली एक बचत योजना है। इसलिए इसे सरकार द्वारा सहायता प्राप्त है। और इस बचत योजना में सभी नागरिक को 7.6 % का ब्याज प्रदान किया जाता है।

इस ब्याज की गणना हर 6 महीने में की जाती है। और ब्याज की धनराशि और मूल धनराशि को जोड़ दिया जाता है। और इसके पश्चात अगले 6 महीने बाद जब आपके ब्याज की गणना की जाएगी। तो आपके मूलधन राशि और पहले मिले ब्याज की राशि को जोड़कर उस पर ब्याज की गणना की जाती है। अर्थात आपको इस बचत योजना में चक्रवर्ती ब्याज प्राप्त होता है।

क्या आप 5 साल से पहले पैसे निकाल सकते हैं?

राष्ट्रीय बचत पत्र में निवेश करने के पश्चात आपको 5 साल पश्चात ही पैसे निकालने चाहिए। क्योंकि तभी आपको आपकी निवेश की गई धनराशि पर अच्छा लाभ प्राप्त होगा। लेकिन यदि आप को पैसे की जरूरत है। और आप 5 साल से पहले पैसे निकालना चाहते हैं। तो डाक विभाग द्वारा निर्धारित की गई शर्तों का पालन करके आप 1 साल के पश्चात पैसे अपने खाते से निकाल सकते हैं।

क्या एनएससी – नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट को ट्रांसफर किया जा सकता है?

यह एक महत्वपूर्ण सवाल है। आप एनएससी को ट्रांसफर कर सकते हैं। या नहीं आप चाहे तो राष्ट्रीय बचत पत्र को एक डाकघर से दूसरे किसी भी डाकघर में ट्रांसफर कर सकते हैं। लेकिन परिपक्वता अवधि पूरी होने पर पैसे प्राप्त करते समय आपको सर्टिफिकेट दिखाना होगा। इसलिए सर्टिफिकेट को आपको बड़ी सावधानीपूर्वक संभाल कर रखना होगा। तभी आपको इसका लाभ प्राप्त होगा।

क्या आप एनएससी पर लोन ले सकते हैं?

बचत योजना में निवेश करने से पहले हर व्यक्ति यह जरूर देखता की क्या जरूरत पड़ने पर हमें लोन मिल सकता है, अथवा नहीं। राष्ट्रीय बचत पत्र में निवेश करने पर आप लोन भी ले सकते हैं। आप किसी भी बैंक अथवा प्राइवेट संस्था में अपना एनएससी रख कर लोन प्राप्त कर सकते हैं।

परिपक्वता अवधि पूर्ण होने पर आप राष्ट्रीय बचत पत्र 2020 को कैसे भुना सकते हैं?

परिपक्वता अवधि पूर्ण होने के पश्चात आप राष्ट्रीय बचत पत्र 2020 को कैसे बना सकते हैं। इसके बारे में भी जानना बेहद आवश्यक है। आप निम्नलिखित तरीके से परिपक्वता अवधि पूर्ण होने के पश्चात राष्ट्रीय बचत पत्र भुनाकर पैसे प्राप्त कर सकते हैं।

  • सबसे पहले एनएससी को भूनाने के लिए आपको एक फार्म की जरूरत पड़ेगी। यह फार्म आपको डाक विभाग के कार्यालय से मिल जाएगा।
  • और आप चाहे तो विभाग की ऑफिशल वेबसाइट पर www.indiapost.gov.in जाकर भी यह फार्म डाउनलोड कर सकते हैं।
  • फार्म प्राप्त करने के पश्चात आपको फार्म में पूछे गए सभी आवश्यक जानकारी को सही-सही सावधानीपूर्वक भरना होगा।
  • पूर्ण रूप से भरे हुए फॉर्म के साथ एनएससी को लेकर आपको डाकघर में के कार्यालय में जाना होगा। जहां आपने Rashtriya Bachat Patra खरीदा था।
  • यदि आपने किसी दूसरे डाकघर में राष्ट्रीय बचत पत्र को ट्रांसफर करवाया है। तो आपको उस कार्यालय में जाना है। जहां आपने ट्रांसफर करवाया है।
  • इसके साथ ही अपने पहचान के दस्तावेज भी आप को साथ में ले जाना आवश्यक है।
  • यदि एनएससी – नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट किसी नाबालिग के नाम पर खरीदी गई थी। तो आप एनएससी भूनाने के लिए वह व्यक्ति जिसके नाम नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट है। और उसके अभिभावक दोनों के हस्ताक्षरों की जरूरत होगी। साथ ही दोनों के पहचान पत्र को भी प्रस्तुत करना होगा।
  • यदि किसी दुर्घटना वस एनएससी धारक की मृत्यु हो जाती है। इस स्थिति में नॉमिनी को एनएफसी की धनराशि प्रदान की जाती है।

राष्ट्रीय बचत पत्र के आवश्यक नियम। NSC Rules In Hindi –

भारत सरकार द्वारा देश के नागरिकों को बचत के लिए प्रोत्साहित करने के लिए चलाई जा रही डाक विभाग द्वारा राष्ट्रीय बचत पत्र 2020 में निवेश करने के कुछ नियम निर्धारित किए गए हैं। इन नियमों का पालन करके ही आप राष्ट्रीय बचत पत्र का सही तरीके से लाभ प्राप्त कर सकते हैं। सरकार द्वारा निर्धारित किए गए नियम कुछ इस प्रकार है –

  1. राष्ट्रीय बचत पत्र में केवल भारतीय नागरिक निवेश कर सकते हैं।
  2. इस बचत योजना में एनआरआई अर्थात अनिवासी भारतीय और एचयूएफ हिंदू अनडिवाइडेड फैमिली निवेश नहीं कर सकते हैं।
  3. इसके साथ ही यदि एनएससी धारक की मृत्यु हो जाती है। तो परिपक्वता अवधि पूर्ण होने पर एनएससी की धनराशि उसके नामनी को प्रदान की जाती है।
  4. आप चाहे तो एनएससी को भारत के किसी भी दूसरे डाकघर में ट्रांसफर कर सकते हैं।
  5. ट्रांसफर करने के लिए आपके पास एनएससी सर्टिफिकेट और कुछ आवश्यक दस्तावेज दस्तावेजों की आवश्यकता होगी।
  6. यदि किसी कारण आपका राष्ट्रीय सर्टिफिकेट खो जाता है या नष्ट हो जाता है। तो आप डुप्लीकेट सर्टिफिकेट भी प्राप्त कर सकते हैं।
  7. आप नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट पर लोन भी प्राप्त कर सकते हैं। यदि किसी कारणवश आपको पैसों की जरूरत आन पड़ी है। तो आप अपने राष्ट्रीय बचत पत्र पर किसी भी बैंक द्वारा लोन ले सकते हैं।
  8. राष्ट्रीय बचत पत्र के 5 साल पूरे होने के पश्चात यदि धनराशि नहीं निकालते हैं। तो यह धनराशि रिन्यू नहीं होती है। बल्कि आपको सामान्य बचत खाते की तरह ब्याज प्राप्त होगा।
  9. Rashtriya Bachat Patra में आपको चक्रवर्ती ब्याज प्रदान किया जाता है। ब्याज की गणना हर 6 महीने के पश्चात की जाती है।
  10. राष्ट्रीय बचत पत्र में निवेश करने के लिए सरकार द्वारा कोई भी सीमा निर्धारित नहीं की गई है। आप अपनी सुविधानुसार कितना भी इसमें निवेश कर सकते हैं।
  11. Rashtriya Bachat Patra में निवेश करना काफी सुरक्षित है। और सरकार द्वारा से सहायता प्राप्त है।

राष्ट्रीय बचत पत्र में निवेश करने के लाभ –

Rashtriya Bachat Patra में निवेश करते हैं। तो आपको निम्नलिखित से लाभ प्राप्त होते हैं –

  1. राष्ट्रीय बचत पत्र में निवेश करने पर आपको चक्रवर्ती ब्याज प्राप्त होता है।
  2. आप को एनएससी में सबसे अधिक 7.6% का ब्याज प्राप्त होता है।
  3. यह योजना भारत सरकार द्वारा संचालित की जा रही है। इसलिए राष्ट्रीय बचत पत्र में निवेश करने पर किसी भी प्रकार का कोई भी रिस्क नहीं है।
  4. जरूरत पड़ने पर आपको राष्ट्रीय बचत पत्र को सिक्योरिटी के रूप में किसी बैंक के पास रखकर आप लोन भी प्राप्त कर सकते हैं।
  5. भारतीय आयकर विभाग द्वारा आयकर अधिनियम 1961 के सेक्शन 80C के अंतर्गत छूट भी प्रदान की गई है।
  6. आप अधिकतम ₹150000 तक की छूट नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं।
  7. यदि किसी कारणवश आपका सर्टिफिकेट कहीं गायब हो जाता है, नष्ट हो जाता है, अथवा जल जाता है। तो आप विभाग द्वारा डुप्लीकेट सर्टिफिकेट प्राप्त कर सकते हैं।
  8. यदि आप समय से पहले एनएससी में निवेश की गई धनराशि को निकालना चाहते हैं। तो सरकार द्वारा निर्धारित की गई कुछ शर्तों को पूरा करके आप समय से पहले भी पैसे निकाल सकते है।

राष्ट्रीय बचत पत्र 2020 और किसान विकास पत्र में क्या अंतर है?

जब भी आप निवेश के बारे में सोचते होंगे तो आपको राष्ट्रीय बचत पत्र और किसान विकास पत्र दोनों समान ही लगते होंगे। आपको इन दोनों में कोई भी अंतर नहीं दिखाई देता होगा। लेकिन एनएससी और किसान विकास पत्र दोनों में काफी अंतर है। जिसे आप इस तरह समझ सकते हैं।

  • राष्ट्रीय बचत पत्र और किसान विकास पत्र दोनों को ही आप डाकघरों से खरीद सकते हैं। और दोनों में निवेश करने पर आपको कोई भी रिस्क नहीं होता है। लेकिन राष्ट्रीय बचत पत्र की ब्याज दर 7.6 परसेंट है। जबकि किसान विकास पत्र की प्यास तक 7.5% है।
  • इसके साथ ही एनएससी की अवधि 5 साल है। जबकि किसान विकास पत्र की परिपक्वता अवधि 115 महीने है।
  • इसके साथ ही राष्ट्रीय बचत पत्र में आपको आयकर के अधिनियम 80C के अंतर्गत ₹150000 तक की छूट प्रदान की जाती है। किसान विकास पत्र में आपको कोई भी छुट्टी नहीं मिलती है।
  • साथ ही परिपक्वता अवधि पूर्ण होने पर राष्ट्रीय बचत पत्र में आपको मूलधन के साथ चक्रवृद्धि ब्याज का भुगतान किया जाता है। जबकि किसान विकास पत्र में परिपक्वता अवधि पूरी होने पर आपको दोगुनी धनराशि प्रदान की जाती है।
  • राष्ट्रीय बचत पत्र और किसान विकास पत्र में मुख्यतः यही अंतर है। बाकी दोनों एक ही तरह की सरकार द्वारा प्रोत्साहित बचत योजनाएं हैं।

तो दोस्तों यह थी भारत सरकार द्वारा देश के नागरिकों को बचत के लिए प्रोत्साहित करने के लिए चलाई जा रही National Saving Certificate 2020 – राष्ट्रीय बचत पत्र योजना के बारे में आवश्यक जानकारी यदि आपको के लिए एनएससी ब्याज कैलकुलेटर, एनएससी ब्याज दर चार्ट, एनएससी ब्याज दर 2020 जानकारी अच्छी लगी हो, तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले। साथ ही यदि आपका किसी भी प्रकार का सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें। हम जल्दी आपके सवालों का जवाब देंगे।। धन्यवाद।।

Spread the love

3 thoughts on “एनएससी- राष्ट्रीय बचत पत्र 2020 | ब्याज दर एंव नियम | National Saving Certificate In Hindi”

  1. NSC एक जगह से दुसरा जगहों पर बदली ( ट्रान्सफर) हो सकता है कि नहीं

    Reply
  2. Mujhe NSC KA printed cf nhi diya gaya hai. Postmaster ek saving passbook me apne hatho se likhker mohar marker diya hai. Main 2017 se 2019 ke bich 15 lakh ka investment nsc me kiya hai. Sabhi c/f ka chak karna chahta hoon. Kanhi post master agent milker koi ghotala to nhi kiya hai? Mobail se chak ho sakta hai kya?

    Reply

Leave a Comment