एनपीएस एकाउंट कैसे खोलें? NPS Account Opening Online In Hindi

|| एनपीएस एकाउंट कैसे खोलें? (how to open NPS account?), एनपीएस लॉगिन, एनपीएस अकाउंट कैसे चेक करें, एनपीएस कैलकुलेटर, एनपीएस ऑनलाइन, एनपीएस के नुकसान, एनपीएस के लाभ ||

यूं तो प्राइवेट जाॅब करने वाले अधिकांश कर्मचारियों को ईपीएफ एकाउंट के जरिए उनके पेंशन फंड का भी लाभ मिलता है, लेकिन बहुत से ऐसे कर्मचारी भी हैं, जो इसमें रजिस्टर्ड नहीं होते, लिहाजा उन्हें पेंशन भी नहीं मिलती।

ऐसी स्थिति में बहुत से लोग चाहते हैं कि उन्हें बुढ़ापे में पेंशन मिले, ताकि उनका वह कठिन समय आसानी से कट सके और उन्हें अपनी मूल जरूरतों के लिए किसी का मुंह न देखना पड़े। इसके लिए वे एनपीएस में भी निवेश करते हैं।

क्या आप एनपीएस का अर्थ एवं इसमें एकाउंट खोलने की प्रक्रिया जानते हैं? यदि नहीं तो आज हम आपको इसी महत्वपूर्ण विषय पर विस्तार से जानकारी प्रदान करेंगे। आशा करते हैं कि यह पोस्ट आपके बहुत काम आएगी-

एनपीएस क्या होता है? (What is NPS?)

एनपीएस एकाउंट (NPS account) खोलने की प्रक्रिया के बारे में बताने से पहले आपको एनपीएस एकाउंट का अर्थ समझाते हैं। एनपीएस (NPS) की फुल फाॅर्म है नेशनल पेंशन सिस्टम (national pension system) अर्थात पेंशन प्रणाली। यह सरकार के अधीन एक ट्रस्ट है।

एनपीएस उसकी एक रिटायरमेंट स्कीम (retire scheme) है, जिसे पहले अर्थात सन् 2004 में सरकारी नौकरी वालों के लिए प्रारंभ किया गया था। 1 मई, 2009 से एनपीएस (NPS) की सुविधा सभी नागरिकों के लिए खोल दी गई।

एनपीएस एकाउंट कैसे खोलें? NPS Account Opening Online In Hindi

एनपीएस का उद्देश्य क्या है? (What is the objective of NPS?)

एनपीएस (NPS) का उद्देश्य देश के सभी नागरिकों को उनकी सेवानिवृत्ति के पश्चात वित्तीय अथवा आर्थिक सुरक्षा (economic security) प्रदान करना है। यदि आप अपने भविश्य के लिए प्लानिंग करना चाहते हैं तो आसानी से आनलाइन अथवा आफलाइन एकाउंट (online/offline account) खोल सकते हैं।

एनपीएस के लिए क्या पात्रता निर्धारित की गई है? (What is the eligibility described for NPS?)

एनपीएस नागरिकों के लिए एक बेहद काम की योजना है। इसमें प्रतिभाग करने के लिए निम्न पात्रता निर्धारित की गई है-

  • आवेदक भारत का नागरिक हो।
  • एनआरआई भी यह एकाउंट खोल सकते हैं।
  • आवेदक की आयु न्यूनतम 18 वर्ष होनी चाहिए।
  • आवेदक की अधिकतम आयु 65 वर्ष से अधिक न हो।
  • आवेदक के पास आधार कार्ड हो।
  • आवेदक के पास वैध मोबाइल नंबर/ईमेल आईडी हो।
  • आवेदक का एक्टिव बैंक एकाउंट नेटबैंकिंग सुविधा सहित हो।

एनपीएस एकाउंट खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या क्या हैं? (What are the necessary documents to open NPS account?)

जिस प्रकार आपको बैंक खाता खुलवाने के लिए आईडी प्रूफ एवं एड्रेस प्रूफ जैसे दस्तावेजों की आवश्यकता होती है, ठीक उसी प्रकार आपको एनपीएस एकाउंट (NPS account) खोलने के लिए कुछ आवश्यक दस्तावेजों (necessary documents) की आवश्यकता पड़ती है। ये निम्नवत हैं-

  • आवेदक का आधार कार्ड अथवा पैन कार्ड।
  • आवेदक का आईडी प्रूफ।
  • आवेदक का एड्रेस प्रूफ।
  • आवेदक का वैध मोबाइल नंबर।
  • आवेदक की पासपोर्ट साइज फोटो।
  • आवेदक के बैंक खाते का ब्योरा।

एनपीएस आनलाइन एकाउंट खोलने की क्या प्रक्रिया है? (What is the process to open NPS account online?)

यदि आप भी एनपीएस (NPS) अर्थात नेशनल पेंशन सिस्टम के तहत खाता खोलना चाहे हैं तो अब हम आपको इसकी आनलाइन प्रक्रिया (online process) के बारे में बताएंगे, जो कि निम्नवत है-

  • इसके लिए सर्वप्रथम आपको एनपीएस ट्रस्ट की वेबसाइट https://www.npstrust.org.in/ पर जाएं।
  • यहां होम पेज (home page) पर आपको इंडिविजुअल कैटेगरी (individual category) के आप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात अपना आधार कार्ड नंबर (aadhar card number) अथवा पैन कार्ड नंबर (Pan card number) डालें।
  • अब आपके मोबाइल फोन पर एक ओटीपी (OTP) आएगा, जो आपको वैरिफाई (verify) करना होगा।
  • अब आप अपनी पर्सनल डिटेल्स (personal details) भरें।
  • पेंशन फंड मैनेजर (pension fund manager) का चुनाव करें।
  • इसके पश्चात निवेश (investment) का माध्यम चुनें।
  • अब आपको नाॅमिनी (nominee) चुनना होगा।
  • इसके पश्चात अपनी फोटो एवं साइन अपलोड (photo and signature) करें।
  • अब आपका एकाउंट जनरेट (account generate) हो जाएगा।
  • अब टियर-1 (tier-1) एकाउंट में न्यूनतम 500 रूपये से, जबकि टियर-2 (tier-2) एकाउंट में न्यूनतम 1000 रूपये से आप शुरूआती निवेश कर सकते हैं।

एनपीएस आफलाइन एकाउंट कैसे खोल सकते हैं? (How to open NPS account offline?)

आप चाहें तो एनपीएस एकाउंट आफलाइन भी खोल सकते हैं। इसके लिए आपको निम्न कदम उठाने होंगे-

  • सबसे पहले प्वाइंट्स आफ प्रेजेंस (points of presence) यानी पीओपी (pop) पर जाना होगा। ये प्वाइंट्स अधिकांशतः बैंक, बीमा कंपनियां एवं वित्तीय संस्थान होते हैं।
  • आप चाहें तो एनपीएस की वेबसाइट से भी इन सारे प्वाइंट आफ प्रेजेंस की जानकारी ले सकते हैं।
  • यहां आपको एनपीएस एकाउंट खुलवाने के लिए रजिस्ट्रेशन फाॅर्म (registration form) भरना होगा।
  • यहां फाॅर्म के साथ आपको आपके आवश्यक दस्तावेज (necessary documents) जैसे आधार कार्ड, एड्रेस प्रूफ, पासपोर्ट साइज फोटो लगाना होगा।
  • रजिस्ट्रेशन के पश्चात आप 500 रूपये का शुरूआती निवेश कैश अथवा चेक (cash/cheque) के माध्यम से कर सकते हैं।
  • इस प्रकार आपका एकाउंट चालू हो जाएगा।

एनपीएस पर आयकर अधिनियम के अनुसार टैक्स छूट का प्रावधान (NPS account has provision of income tax rebate)

हमारे यहां निवेश पर टैक्स छूट का लाभ लेने को एक बड़ा लाभ माना जाता है। यहां आपको जानकारी दे दें कि एनपीएस पर इन्कम टैक्स के सेक्शन 80सीसीडी (1), 80सीसीडी (1बी) एवं 80सीसीडी (2) के अंतर्गत टैक्स छूट का प्रावधान किया गया है।

एनपीएस पर सेक्शन 80सी अर्थात डेढ़ लाख रूपये से अलग 50 हजार की और छूट ली जा सकती है। इससे स्पष्ट है कि एनपीएस में इन्वेस्टमेंट से आप दो लाख रूपये तक की टैक्स छूट का लाभ ले सकते हैं।

यदि आपका एनपीएस खाता फ्रीज हो गया है तो क्या करें? (what to do if your NPS account is freezed?)

यदि आपका एनपीएस खाता (NPS account) अस्थाई रूप से फ्रीज हो गया है तो भी आपको किसी चिंता की आवश्यकता नहीं। आनलाइन (online) अथवा बैंक/पोस्ट आफिस (bank/post office) जाकर इसे पुनः खुलवाया जा सकता है। इसके लिए आपको बैंक अथवा पोस्ट आफिस जाकर फाॅर्म यूओएस-एस10ए लेना होगा।

यदि आप चाहे तो npscpra.nsdl.co.in पर जाकर इस फाॅर्म को डाउनलोड (download) भी कर सकते हैं। फाॅर्म भरने के बाद इसे बैंक (bank) अथवा पोस्ट आफिस (post office) में जाकर जमा करा दें। इस प्रकार आपका फ्रीज अर्थात बंद खाता पुनः चालू हो जाएगा।

आपको यह जानकारी दे दें कि एनपीएस (NPS) में एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम एक हजार रूपये जमा करना आवश्यक है। यद्यपि खाता खोलते समय आप महज 500 रूपये से आप प्रारंभ कर सकते हैं। लेकिन उसके पश्चात जल्द ही आपको 500 रूपये और जमा करने होते हैं।

भारत में अब रिटायरमेंट प्लानिंग के बारे में लोग गंभीर हैं (people are now serious in india for retirement planning)

पहले का जमाना था कि व्यक्ति अपनी कमाई से अपने रिटायरमेंट (retirement) तक घर बनाने या बच्चों के शादी-ब्याह कर अपनी जिम्मेदारियों से निवृत्त होने की सोचता था। लेकिन नई पीढ़ी की सोच थोड़ी अलग है। वह अभी से अपनी रिटायरमेंट के बाद की जिंदगी के बारे में सोचने लगी है। उसके लिए प्लानिंग करने लगी है।

यही वजह है कि एनपीएस (NPS) में निवेश करने वाले कर्मचारी भी दिनों दिन बढ़ रहे हैं। सरकार की ओर से भी अपने स्तर पर एनपीएस के लिए प्रचार प्रसार किया जा रहा है। यकीनन नौकरी के बाद पैसे की आवश्यकता को देखते हुए लोग पेंशन ट्रस्ट (pension trust) की ओर उन्मुख हो रहे हैं।

यद्यपि विभिन्न राज्य सरकारों की ओर से भी वरिष्ठ नागरिकों (senior citizens) को पेंशन का प्रावधान किया गया है, किंतु जमाने की महंगाई को देखते हुए उसे पर्याप्त नहीं माना जा सकता। एनपीएस एकाउंट टैक्स सेविंग एवं रिटर्न के मामले में आगे होने के साथ ही सेवानिवृत्ति की बाद की जिंदगी के लिए एक बेहतरीन विकल्प है।

पीएफआरडीए ने एनपीएस को लेकर कौन सा नया कदम उठाया है? (What new step has been taken by pfrda related to NPS?)

पीएफआरडीए (pfrda) यानी द पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथाॅरिटी (the pension fund regulatory and development authority) है। इसने एनपीएस को लेकर एक नया कदम उठाया है। इसने एनपीएस निवेशकों के लिए लाॅकइन पीरियड (lock-in period) को 10 वर्ष से घटाकर पांच वर्ष कर दिया है, लेकिन यह सुविधा कुछ ही निवेशकों को हासिल होगी।

इनमें स्वरोजगाररत व्यक्ति एवं वे लोग शामिल होंगे, जिनके बीच कर्मचारी-नियोक्ता (employee-employer) का नाता नहीं है। जैसे कि नियत अवधि के लिए कांट्रेक्ट (contract) पर रखे गए वर्कर आदि।

28 दिसंबर, 2021 से लागू हुए इस नियम के अनुसार एनपीएस का लाभ हासिल करने वाले लोग, जिनके बीच कर्मचारी-नियोक्ता का रिश्ता नहीं है, ऐच्छिक रूप से एनपीएस से 10 साल के बजाय पांच साल में बाहर हो सकते हैं।

एनपीएस की फुल फाॅर्म क्या है?

एनपीएस की फुल फाॅर्म नेशनल पेंशन सिस्टम है।

क्या एनपीएस एक सरकारी योजना है?

जी यहां, यह एक सरकारी योजना है।

इसे आम नागरिकों के लिए कब शुरू किया गया?

शुरू में इसे केवल सरकारी कर्मचारियों के लिए शुरू किया गया था। 2009 में सुविधा दी गई कि कोई भी सामान्य नागरिक इसका लाभ उठा सकता है।

एनपीएस को शुरू करने का उद्देश्य क्या था?

एनपीएस को शुरू करने का उद्देश्य नागरिकों को सेवानिवृत्ति के पश्चात आर्थिक सुरक्षा प्रदान करना था।

एनपीएस का लाभ कैसे किया जा सकता है?

इसके तहत एकाउंट खुलवाकर निवेश से कोई भी व्यक्ति इसका लाभ उठा सकता है।

एनपीएस का खाता आफलाइन खुलवाया जा सकता है अथवा आनलाइन?

यह खाता आनलाइन एवं आफलाइन दोनों तरीके से खुलवाया जा सकता है।

क्या एनपीएस का एकाउंट खुलवाने के लिए कोई योग्यता निर्धारित की गई है?

जी हां, इसके लिए आवेदक का भारत का नागरिक होना आवश्यक है। साथ ही उसकी आयु न्यूनतम 18 वर्ष एवं अधिकतम 65 वर्ष निर्धारित की गई है।

एनपीएस एकाउंट खुलवाने के लिए क्या दस्तावेज आवश्यक हैं?

एनपीएस एकाउंट खुलवाने के लिए आवेदक की आईडी, पैन कार्ड, बैंक डिटेल्स, एड्रेस प्रूफ, वैध मोबाइल नंबर एवं पासपोर्ट साइज फोटो होने आवश्यक हैं।

क्या खाता फ्रीज होने पर उसे चालू कराया जा सकता है?

जी हां, खाता फ्रीज होने के पश्चात उसे पुनः चालू कराया जा सकता है।

खाता फ्रीज हो जाने के बाद उसे चालू कराने की क्या प्रक्रिया है?

खाता फ्रीज हो जाने के बाद उसे चालू कराने के लिए आपको बैंक अथवा पोस्ट आफिस जाकर फार्म यूओएस-एस10ए भरकर यहां जमा करना होगा। इसके पश्चात आपका फ्रीज खाता पुनः चालू हो जाएगा।

हमने आपको एनपीएस के बारे में विस्तार से जानकारी दी। यदि आप भी सेवानिवृत्ति के पश्चात अपने लिए पेंशन फंड के जरिए अच्छी राशि जुटाना चाहते हैं तो यह आपके लिए अच्छा निवेश हो सकता है। इस सुविधा के बारे में सामान्य नागरिकों को जागरूक करने के मकसद से आप इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करें। धन्यवाद।

——————————

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment

इनकम टैक्स चोरी की शिकायत कैसे करें? जीएसटी सुविधा केंद्र कैसे खोले? उत्तर प्रदेश सोलर पंप योजना मेडिकल स्टोर कैसे खोले? बिहार हर घर बिजली योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन