निधि फाइनेंस कंपनी क्या है? | फायदे, नुकसान, नियम व रजिस्ट्रेशन कैसे करवाएं? | Nidhi Company in Hindi

|| निधि फाइनेंस कंपनी की सभी जानकारी – नियम, रजिस्ट्रेशन | Nidhi Company in Hindi | Nidhi company ke bare mein jankari | Nidhi company kya hai | निधि कंपनी के द्वारा कौन कौन से लोन दिए जाते हैं? | Nidhi company documents required in Hindi ||

Nidhi company in Hindi :- क्या आप पैसे पर पैसा कमाना जानते हैं? क्या आप जानते हैं कि आप अपने कमाए हुए पैसे को फाइनेंस पर चढ़ा सकते हैं जिससे आप अपने पैसे को डबल कर सकते हैं? अगर आप यह सब जानना चाहते हैं परन्तु आज तक आपको इसकी सही जानकारी नहीं मिली है तो आप आज बिल्कुल सही जगह पर आये हैं। आज हम आपको एक ऐसा फॉर्मूला बताने वाले हैं जिससे आपके पैसे डबल हो सकते हैं। अगर आप अपना पैसा लोगो को फाइनेंस पर देते हैं तो आपने निधि फाइनेंस का नाम ज़रूर सुना (Nidhi company ke bare mein jankari) होगा।

आप में और हम में से बहुत सारे ऐसे लोग होंगे जो खूब पैसा कमाते हैं परन्तु वो सारा कमाया हुआ पैसा कहीं ना कहीं खर्च कर देते हैं और उनकी कोई बचत नहीं हो पाती है जिससे उनको कभी कभार मुश्किल का सामना भी करना पड़ जाता है। हम में से कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनकी आमदनी ठीक ठाक होती है परन्तु वे अपनी आमदनी का एक अच्छा खासा हिस्सा बचा लेते हैं जो कि उनको आगे चलकर बहुत मदद करता (Nidhi company kya hoti hai) है।

आज हम आपको बचत करने का एक ऐसा तरीका बताने वाले हैं जिससे आपके पैसे भी बन जायेंगे और आपको पता भी नहीं चलेगा। आज इस आर्टिकल में हम आपको निधि फाइनेंस कंपनी के बारे में बताएंगे। इसके साथ हम आपको यह भी बताएंगे कि यह कंपनी कैसे काम करती है और इसके नियम और रजिस्ट्रेशन का प्रोसेस भी आपके साथ साँझा (What are nidhi companies in India in Hindi) करेंगे।

Contents show

निधि फाइनेंस कंपनी क्या है? (Nidhi company in Hindi)

निधि फाइनेंस कंपनी एक बैंक की तरह है। इस कंपनी को कई सारे मेंबर्स ने मिलकर बनाया है जो इसके माध्यम से वित्तीय लेनदेन में हिस्सा ले सकते हैं। इसमें आप चाहे तो अपने पैसे भी जमा करा सकते हैं और यह कंपनी आपको उसके बदले में ब्याज देगी जो बाकि सभी बैंको से अधिक होगा। जो लोग इस कंपनी में अपना पैसा जमा करवाते हैं या फिर इससे लोन लेते हैं वो इस कंपनी के मेंबर या फिर इसके सदस्य माने जाते (Nidhi company kya hai) हैं।

निधि फाइनेंस कंपनी क्या है फायदे, नुकसान, नियम व रजिस्ट्रेशन कैसे करवाएं

यह कंपनी बिल्कुल बैंक की तरह काम करती है। जिस तरह हम बैंक में अपने रूपए जमा करवाते हैं और बदले में बैंक हमे ब्याज देता है ठीक उसी प्रकार निधि फाइनेंस कंपनी भी हमारे जमा करवाए हुए पैसे पर हमे ब्याज देती है। आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि इसकी ब्याज दर आमतौर पर बाकि सभी बैंको के मुकाबले काफी ज़्यादा है। इस कंपनी में जो लोग अपना पैसा जमा करवाते हैं उन्हें यह कंपनी 3 भागों में बाँट देती है जो कि इस प्रकार (Nidhi company meaning in Hindi) है: 

1). पहले भाग को सेविंग डिपॉजिट कहा जाता है जिसमे आप जब चाहे तब अपने हिसाब से इसमें पैसा जमा करवा सकते हैं और बदले में यह कंपनी आपको उन पैसो पर ब्याज देती है। इसमें मेंबर के ऊपर जमा करने वाली राशि और समय पर कोई पाबंधी नहीं होती है।

2). दूसरे नंबर पर आता है करंट डिपॉजिट, इसमें भी आप जितना चाहे उतना पैसा जमा करवा सकते हैं। इसमें एक फायदा यह होता है कि आप इसमें से अपने अकाउंट में जितना पैसा पड़ा हो उससे भी ज़्यादा निकाल सकते हैं। परन्तु वह पैसा आपको इस कंपनी को वापिस भी देना होता है। इसकी ब्याज दर सेविंग डिपॉजिट के मुकाबले थोड़ी कम होती है।

3). तीसरे नंबर पर आता है फिक्स्ड डिपॉजिट, इसमें आप एक राशि फिक्स कर लेते हैं और फिर अपने अकाउंट में जमा करवा देते हैं। यह कंपनी आपको उस राशि के ऊपर अच्छा ख़ासा ब्याज देती है। इसकी ब्याज दर सेविंग डिपॉजिट की ब्याज दर से थोड़ी ज़्यादा होती है।

निधि कंपनी के नियम (Nidhi company rules in Hindi)

अब तक हमने आपको बताया कि निधि कंपनी का काम क्या है और इसमें किस तरह के अकाउंट होते हैं। अब हम आपको इसके नियम बता देते हैं। निधि कंपनी के नियम जानने के लिए आप हमारे नीचे दिए गए पॉइंट्स को ध्यान से पढ़ें।

अगर आप निधि फाइनेंस कंपनी खोलना चाहते हैं तो इसके लिए आपको रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। आइये अब हम इसके नियमों का बारे में जान लेते हैं।

  • अगर आप निधि कंपनी खोलना चाहते हैं तो आपका चुना हुआ नाम कोई नया होना चाहिए और किसी और कंपनी के नाम से मिलता झूलता नहीं होना चाहिए। 
  • खुद की निधि कंपनी शुरुर करने के लिए कम से कम 7 सदस्य ज़रूर होने चाहिए। इसके अलावा 3 डायरेक्टर भी ज़रूर होने चाहिए।
  • जो भी कंपनी के डायरेक्टर होंगे उनके डिजिटल सिग्नेचर होने अत्यंत आवश्यक है।
  • अगर आप निधि कंपनी की फ्रैंचाइज़ी खोलना चाहते हैं तो आपकी उम्र कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए।
  • इसका दूसरा नियम यह है कि इसमें केवल वही लोग निवेश कर सकते हैं जो इसमें सदस्य है। बाहर के लोग इसमें निवेश नहीं कर सकते।
  • निधि कंपनी में शामिल होने वाले लोगो की संख्या कम से कम 200 होनी चाहिए। 
  • निधि फाइनेंस कंपनी में मेंबर्स को केवल पैसे जमा करवाने और उधार पर लेने की ही अनुमति है।
  • निधि फाइनेंस कंपनी वैसे तो प्राइवेट कंपनी है परन्तु यह एक पब्लिक कंपनी की तरह काम करती है।
  • अगर आप निधि फाइनेंस कंपनी के माध्यम से निवेश करते हैं तो आपको कम से कम 5 लाख रूपए इसमें जमा करवाने होंगे।
  • निधि फाइनेंस कंपनी का अगला नियम यह है कि आपको इसके नाम के पीछे निधि फाइनेंस लगाना पड़ेगा। 
  • आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि निधि कम्पनीज एक्ट के अंदर आती है इसलिए अगर आप इसकी सदस्यता लेते हैं तो आपको कम्पनीज एक्ट के भी सारे नियम और कानून मानने पड़ेंगे।
  • यह एक पब्लिक कंपनी है इसको प्राइवेट कंपनी का दर्जा नहीं दिया जा सकता है।

निधि कंपनी के द्वारा कौन कौन से लोन दिए जाते हैं? (Nidhi company loan rules in Hindi)

क्या आप अपनी मनपसंद की कार, या फिर बाइक लेना चाहते हैं परन्तु पैसों की कमी की वजह से नहीं ले पा रहे हैं तो आप निधि फाइनेंस कंपनी से लोन ले सकते हैं वो भी कम से कम ब्याज दर पर। इससे आपको यह फायदा भी होगा कि आपको सारी पेमेंट एक साथ नहीं करनी पड़ेगी। आइये अब हम जान लेते हैं कि निधि कंपनी किस तरह के लोन प्रदान करती है।

निधि फाइनेंस कंपनी क्या है फायदे नुकसान नियम व रजिस्ट्रेशन कैसे करवाएं 1

निधि कंपनी डिपॉजिट स्कीम लोन 

निधि कंपनी द्वारा प्रदान किए जाने वाले लोन की सूची में सबसे पहला नंबर आता है निधि कंपनी डिपॉजिट स्कीम का। अगर किसी एक निधि कम्पनी की कैपिटल 10 लाख रूपए तक है तो वह कंपनी उसके 20 गुना तक का डिपॉजिट बाहर से ले सकती है। उदाहरण के तौर पर अगर निधि कंपनी के पास 10 लाख की कैपिटल है तो 2 करोड़ तक का डिपॉजिट ले सकती है। अगर वह कंपनी इससे ज़्यादा का डिपॉजिट लेना चाहती है तो उसको मिनिस्ट्री ऑफ़ कॉर्पोरेट अफेयर्स से पहले अनुमति लेनी होगी तभी वह ज़्यादा डिपॉजिट ले सकती है।

निधि कंपनी लोन स्कीम 

निधि कंपनी की दूसरी स्कीम का नाम है निधि कंपनी लोन स्कीम। इसमें यह कंपनी अपने सदस्यों को लोन प्रदान करती है। अगर किसी निधि कंपनी के पास 2 करोड़ तक की कैपिटल है तो वह अपने सदस्यों को 2 लाख तक का लोन दे सकती है। अगर उसकी कैपिटल 2 करोड़ से 20 करोड़ तक आ जाती है तो वह अपने सदस्यों को 7.5 लाख तक का लोन प्रदान कर सकती है। इसके लिए निधि कंपनी को 20 करोड़ तक का डिपॉजिट अपने पास रखना होगा।

निधि कंपनी में रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए ज़रूरी दस्तावेज़ (Nidhi company documents required in Hindi)

  • निधि कंपनी में रजिस्टर करने के लिए आपके पास सबसे पहले सभी सदस्यों के आधार कार्ड होने चाहिए। इस बात का अवश्य ध्यान रखें कि आधार कार्ड पर सभी सदस्यों के नाम की स्पेलिंग बिल्कुल सही हो और फोटो भी बिल्कुल साफ हो और ज़्यादा पुरानी ना हो।
  • सभी सदस्यों को अपने आधार कार्ड के साथ साथ अपना पैन कार्ड भी निधि फाइनेंस कंपनी में रजिस्टर करने के लिए जमा करवाना होगा। इस बात पर ध्यान दें कि आधार कार्ड और पैन कार्ड पर नाम सेम हो क्योंकि अगर इसमें दिक्कत हुई तो कंपनी का रजिस्ट्रेशन कैंसिल भी हो सकता है।
  • इसके साथ साथ सभी सदस्यों को अपना एड्रेस आईडी प्रूफ भी देना होगा जिसमे उनका एड्रेस साफ़ साफ़ लिखा हो। इसके लिए आप अपने घर का बिजली का बिल या फिर पानी का बिल जमा करवा सकते हैं। 
  • जब आप अपनी खुद की निधि कंपनी शुरू करते हैं तो आपको इसमें कुछ पैसा भी डालना होता है इसके लिए आपको सभी सदस्यों के बैंक अकाउंट की डिटेल्स भी देनी होगी। इसके लिए आप चाहें तो बैंक पासबुक के पहले पेज की कॉपी जमा करवा सकते हैं जिसमे अकाउंट नंबर और अकाउंट होल्डर का नाम लिखा हो।
  • निधि फाइनेंस कंपनी में रजिस्टर करने के लिए आपको सभी डायरेक्टर के डिजिटल सिग्नेचर की भी ज़रूरत पड़ेगी। इसलिए आप सभी डायरेक्टर के डिजिटल सिग्नेचर बिल्कुल तैयार रखें। 
  • यह सभी दस्तावेज़ देने के साथ साथ आपको अपना GST नंबर भी जमा करवाना होगा।

निधि फाइनेंस कंपनी में रजिस्ट्रेशन कैसे करवाएं? (Nidhi company registration process in Hindi)

अगर आप निधि फाइनेंस कम्पनी में रजिस्ट्रेशन करवाना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले मिनिस्ट्री ऑफ़ कॉर्पोरेट अफेयर्स की वेबसाइट पर जाना होगा। वहां पर जाने के बाद आपको डायरेक्टर आइडेंटिफिकेशन नंबर के लिए आवेदन करना होगा जिससे सभी डायरेक्टर के डिजिटल सिग्नेचर किए जायेंगे। अपनी कंपनी का रजिस्टर करवाना होगा। इसके लिए आपको INC फॉर्म भरना होगा। इस बात का अवश्य ध्यान रखें कि आपकी कंपनी का नाम किसी और कंपनी से मिलता झूलता ना (Nidhi company registration in Hindi) हो।

अगर आप अपनी कंपनी का नाम किसी कंपनी से मिलता हुआ रखते हैं तो इससे आपका रजिस्ट्रेशन कैंसिल भी हो सकता है। इसके बाद आपको अपनी कंपनी का मेमोरेंडम ऑफ़ एसोसिएशन और आर्टिकल ऑफ़ एसोसिएशन भी जमा करवाना होगा। इसमें आपको अपनी कंपनी की सारी जानकारी देनी होगी जैसे कि सदस्यों की कुल संख्या, सभी डायरेक्टर के नाम, उनका पता आदि। यह सब हो जाने के बाद आपकी कंपनी को लाइसेंस मिल जायेगा जिसके बाद आप अपनी कंपनी में ऑपरेशन शुरू कर सकते हैं।

निधि फाइनेंस कंपनी के फायदे (Nidhi company ke fayde)

ऊपर हमने आपको निधि फाइनेंस कंपनी के बारे में बताया जिसमे हमने जाना कि निधि कंपनी क्या है और यह कैसे काम करती है। साथ ही हमने यह भी जाना कि इसमें कैसे रजिस्टर कर सकते हैं और उसके नियम क्या (Benefits of nidhi company in Hindi) है। अब हम इसके फायदों के बारे में भी जान लेते हैं।

  • अगर आप निधि फाइनेंस कंपनी की सदस्यता लेते हैं तो यह बिल्कुल ही सरल और आसान है। इसमें रजिस्टर करने से लेकर अंत तक का पूरा प्रोसेस ही बिल्कुल आसान है जिससे आपको यह कंपनी खोलने में बिल्कुल भी दिक्कत नहीं होगी।
  • निधि फाइनेंस कंपनी का दूसरा बड़ा फायदा आपको यह होगा कि इसमें आप जो भी धन राशि जमा करवाते हैं उस पर जो भी ब्याज आपको मिलेगा वो किसी भी बैंक की ब्याज दर के मुकाबले ज़्यादा होता है।
  • इसका तीसरा बड़ा फायदा यह होगा कि इसमें आप जितना चाहे उतना पैसा जमा करवा सकते हैं। उसमे कोई भी रोक टोक नहीं है। बस आपकी जमा करवाई हुई राशि 5 लाख या फिर उससे ऊपर होनी चाहिए। 
  • अगर आज आप किसी भी बैंक से लोन लेने जाते हैं तो आपको बहुत सारी फॉर्मेलिटीज करनी पड़ती है। परन्तु निधि कंपनी के साथ ऐसा नहीं है क्योंकि अगर आप इस कंपनी से लोन लेते हैं तो आपको कम समय में और बहुत जल्दी लोन मिल सकता है।
  • निधि फाइनेंस कंपनी खोलने का आखिरी बड़ा फायदा यह है कि इसमें रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया भी आपको पूरा सपोर्ट करता है।

निधि फाइनेंस कंपनी के नुकसान (Nidhi company ke nuksan in Hindi)

अभी हमने ऊपर जाना कि निधि फाइनेंस कंपनी के क्या फायदे हैं परन्तु हमे इसके नुकसान भी जान लेने चाहिए ताकि हमे पता चल सके कि यह हमारे लिए सही भी है या फिर नहीं। आइये अब हम इसके नुकसान के बारे में विस्तार से जान लेते हैं।

  • निधि फाइनेंस कंपनी का पहला सबसे बड़ा नुकसान यह है कि यह कंपनी केवल सिक्योरिटी के ऊपर ही अपने सदस्यों को लोन दे सकती है। इसका मतलब यह हुआ कि बिना सिक्योरिटी के यह कंपनी किसी को भी लोन नहीं दे सकती।
  • इसका दूसरा बड़ा नुकसान यह है कि यह कंपनी केवल अपने सदस्यों को ही लोन प्रदान कर सकती है। कोई भी बाहर का व्यक्ति इस कंपनी में लोन के लिए अप्लाई नहीं कर सकता है।
  • निधि फाइनेंस कंपनी लोन की राशि अपनी मर्ज़ी से नहीं दे सकती बल्कि यह बात उसके डिपॉजिट पर निर्भर करती है। अगर डिपॉजिट अच्छा हुआ तो ज़्यादा का लोन दे सकती है नहीं तो कम का ही लोन अपने सदस्यों को दे सकती है।
  • निधि फाइनेंस कंपनी का चौथा बड़ा नुकसान यह है कि यह कंपनी चिट फंड, हाॅयर परचेस फाइनेंस, लीजिंग फाइनेंस, इंश्योरेंस या सिक्योरिटी बिजनेस आदि किसी भी गतिविधियों में हिस्सा नहीं ले सकती है। अगर वह ऐसा करती है तो इसका लाइसेंस कैंसिल भी हो सकता है।
  • यह कंपनी करंट अकाउंट नहीं खोल सकती है।

निधि फाइनेंस कंपनी की सभी जानकारी – नियम, रजिस्ट्रेशन Nidhi Company in Hindi – Related FAQs 

download app

प्रश्न; निधि फाइनेंस कंपनी क्या काम करती है?

उत्तर: निधि फाइनेंस कंपनी एक बैंक की तरह है। इस कंपनी को कई सारे मेंबर्स ने मिलकर बनाया है जो इसके माध्यम से वित्तीय लेनदेन में हिस्सा ले सकते है।

प्रश्न: निधि फाइनेंस कंपनी से लोन कौन ले सकता है?

उत्तर: निधि फाइनेंस कंपनी केवल अपने सदस्यों को ही लोन प्रदान कर सकती है। कोई भी बाहर का व्यक्ति इस कंपनी में लोन के लिए अप्लाई नहीं कर सकता है।

प्रश्न: निधि फाइनेंस कंपनी कौन खोल सकता है?

उत्तर: निधि फाइनेंस कंपनी कोई भी खोल सकता है बस इसके लिए आपकी उम्र कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए तभी आप यह कंपनी खोल सकते हैं।

प्रश्न: क्या निधि कंपनी प्राइवेट हो सकती है?

उत्तर: वैसे तो निधि कंपनी पब्लिक कंपनी है परन्तु अगर इसमें आप अपना शेयर 50% से ज़्यादा रखते हैं तो यह प्राइवेट भी बन सकती है।

प्रश्न: निधि फाइनेंस कंपनी के क्या फायदे है?

उत्तर: निधि फाइनेंस कंपनी के अनेक फायदे हैं। इनके बारे में विस्तार से जानने के लिए आप हमारे ऊपर दिए गए आर्टकिल को पढ़ सकते है।

तो इस लेख को पढ़ कर आपने निधि फाइनेंस कंपनी के बारे जानकारी प्राप्त कर ली है और यह भी अच्छे से जान लिया है कि इसको खोलने के क्या नियम और कानून है साथ ही यह भी जाना कि इसका रजिस्ट्रेशन प्रोसेस क्या है। हम आशा करते हैं कि आपको यह लेख पसंद आया होगा और यह जानकारी भी आपके बहुत काम आएगी।

लविश बंसल
लविश बंसल
लविश बंसल वर्ष 2010 में लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में प्रवेश लिया और वहां से वर्ष 2014 में बीटेक की डिग्री ली। शुरुआत से ही इन्हें वाद विवाद प्रतियोगिता में भाग लेना या इससे संबंधित क्षेत्रों में भाग लेना अच्छा लगता था। इसलिए ये काफी समय से लेखन कार्य कर रहें हैं। इनके लेख की विशेषता में लेख की योजना बनाना, ग्राफ़िक्स का कंटेंट देखना, विडियो की स्क्रिप्ट लिखना, तरह तरह के विषयों पर लेख लिखना, सोशल मीडिया कंटेंट लिखना इत्यादि शामिल है।
WordPress List - Subscription Form
Never miss an update!
Be the first to receive the latest blog post directly to your inbox. 🙂

Leave a Comment