भारत की अगली पीढ़ी का बिजनेस टाइकून (Next Generation Business Tycoon in India in Hindi)

Next Generation Business Tycoon in India in Hindi:- आज के इस लेख में हम आपसे एक ऐसे विषय पर चर्चा करेंगे जो भारत के व्यापारिक माहौल को नया आयाम दे रहा है या बिज़नेस को ऐसी ऊंचाइयों पर ले जाने में तत्पर है। तो है भारत के अगली पीढ़ी के बिज़नेस मैन। इनको दूसरी भाषा में बिज़नेस टाइकून भी कहा जाता है। ये अपने बिज़नेस या व्यापर (India next business tycoon list in Hindi) को इस तरह आगे बढ़ा रहे हैं जिससे सिर्फ इनका ही नहीं बल्कि पूरे देश की आर्थिक स्थिति पर एक अच्छे प्रभाव की अनुभूति हो रही है। भारत को एक समृद्ध राष्ट्र बनाने में उनका प्रमुख योगदान भुलाया नहीं जा सकता है। 

यहाँ आपको बता दें कि पहले व्यावसायिक प्रगति के लिए आपका परिवेश समृद्ध होना आवश्यक हो जाता था लेकिन आज के समय में हम देखते हैं (Next generation business tycoon in Hindi) कि तमाम सुविधाओं और योजनाओ से जुड़ने के बाद एक आदमी भी अपने व्यवसाय को काफी ऊपर ले जाने में सफल हो पा रहा है। आज यहां हम उन कई लोगों के बारे में खुल के बात करने वाले हैं। हम जानेंगे कि उन्होंने कैसे अपना व्यवसाय प्रारम्भ किया तथा कैसे वे इसको आगे बढ़ा रहे हैं जिससे हमारा देश विश्व में अलग पहचान बना रहा है और प्रगति कर रहा है। 

बिज़नेस टाइकून क्या होता है? (Business tycoon meaning in Hindi)

यह शब्द व्यापार के क्षेत्र में इस्तेमाल किया जाता है। इससे तात्पर्य यह है कि एक ऐसा व्यापारी जिसने अपने बिज़नेस को देश तथा विदेश में शीर्ष पर पहुंचाया है। आज यहाँ हम उन सभी बिज़नेस की महान हस्तियों को आपसे इस लेख के माध्यम से परिचित करवाऊंगा। आप उनको धैर्य से पढ़े और अधिक जानकार बनें। 

भारत की अगली पीढ़ी का बिजनेस टाइकून Next Generation Business Tycoon in India in Hindi

भारत की अगली पीढ़ी के बिज़नेस टाइकून (Next Generation Business Tycoon in India in Hindi)

यहाँ अब हम आपको उन सभी बिज़नेस टाइकून से सम्बंधित जानकारी आपके समक्ष रखने जा रहे हैं जो आज बाजार में अच्छा नाम बना चुके हैं। हम आपके लिए उनका परिचय बिन्दुबार बताने जा रहे हैं।

#1. अनन्या बिरला 

अनन्या बिरला प्रसिद्ध बिज़नेस मैन कुमार मंगलम बिरला की बेटी है। अनन्या ने अपने बिज़नेस की शुरुआत मात्र 17 वर्ष की आयु से ही शुरू कर दी थी। उन्होंने माइक्रोफाइनेंस फर्म ‘स्वतंत्र प्राइवेट लिमिटेड’ कंपनी बनाई जो दो राज्यों में फैली हुई है। बता दें कि यह फर्म ग्रामीण महिलाओं के लिए काम करती है। इसके अलावा वह लग्जरी प्रोडक्ट की ई-कॉमर्स कंपनी क्यूरोकार्ट की फाउंडर और सीईओ भी हैं। सिंगिंग और फैशन सेंस उनका गजब का है। इसके अलावा वह बेहतरीन सिंगर भी हैं। अनन्या बिड़ला का पहला गाना लिविन द लाइफ 2016 में आया था। इस गाने के बाद उन्हें यूनिवर्सल म्यूजिक इंडिया ने बतौर सिंगर साइन किया था।

अपने पिता का सहारा लिए बिना वे बिजनेस वर्ल्ड में अपना मुकाम बनाना चाहती थीं और वह उसी राह पर आगे चल रही हैं। एक इंटरव्यू में कुमार मंगलम बिड़ला ने कहा कि अच्छा लगता है जब बच्चे अपनी राह खुद चुनते हैं। मेरे बच्चों ने कड़ी मेहनत कर अपनी राह खुद बेहतर की। बतौर पिता मेरे लिए गर्व की बात है। फोर्ब्स की 2018 में अरबपतियों की लिस्ट के मुताबिक, अनन्या बिरला देश की छठीं सबसे अमीर बिजनेसमैन थीं। उनकी कुल नेटवर्थ 11.8 अरब डॉलर थी।

#2. करण अडानी व जीत अडानी

फोर्ब्स इंडिया मैगजीन की साल 2019 के अमीरों की लिस्ट में दूसरे स्थान पर इंफ्रास्ट्रक्चर टाइकून गौतम अडानी हैं। 18 साल की उम्र में कॉलेज की पढ़ाई छोड़कर उन्होंने मुंबई में आकर खुद का बिजनेस शुरू किया। अपनी मेहनत के बलबूते जहां पिछले साल फोर्ब्स लिस्ट में वे 10वें नंबर पर थे वहीं अब वह दूसरे नंबर पर हैं। गौतम अडानी के दो बेटे हैं। बड़े बेटे करण अडानी और छोटे बेटे जीत अडानी हैं।

करण अडानी ने अमेरिका के Purdue University से इकोनोमिक्स में ग्रेजुएशन करने के बाद अपने पिता के बिजनेस में ही शामिल हो गए थे। करण को 1 जनवरी, 2016 से अडानी पोर्ट्स और SEZ (APSEZ) के सीईओ के रूप में नियुक्त किया गया था। करण 2009 से पूरे भारत में अडानी पोर्ट के विकास की देखरेख कर रहे थे। करण अपने पिता के नक्शे कदमों पर चल रहे हैं। पूरी तरह से वह अडानी ग्रुप की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। अडानी ग्रुप का पूरा कार्यभार गौतम अडानी देखते हैं। बता दें कि फोर्ब्स लिस्ट में गौतम अडानी का कुल नेटवर्थ 1270 करोड़ डॉलर है। 

#3. निसाबा 

गोदरेज समूह के प्रमुख आदि गोदरेज ने अपनी 42 वर्षीय छोटी बेटी निसाबा को अपने साम्राज्य की कमान सौंपी है। कहा जाता है कि निसाबा ने करीब 17 साल तक गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर का पद संभाला और उनके नेतृत्व में कंपनी ने काफी उन्नति की और ग्लोबल विस्तार किया। निसाबा कंपनी में बदलाव के लिए जानी जाती हैं। खासकर वह बिजनेस जो हेयर डाई और साबुन के सेगमेंट में है। इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ले जाने का रिकॉर्ड निसाबा के नाम है।

निसाबा ने जब कंपनी ज्वाइन की थी, उस समय मार्केट कैप 70 करोड़ डॉलर था। अभी यह 9 अरब डॉलर के पार है। रेवेन्यू इसी अवधि में पांच गुना बढ़कर 1.4 अरब डॉलर के पार हो गया है। 2007 में यह 27 करोड़ डॉलर था। निसाबा की इसी खूबी से प्रेरित होकर आदि गोदरेज ने अपने समूह की सबसे अहम कंपनी की कमान निसाबा को सौंपा। वे एक जुलाई से एमडी बन जाएंगी। मुंबई के Cathedral & John Connon School से स्कूलिंग की हैं। आगे की पढ़ाई के लिए वह अमेरिका चली गई थीं। University of Pennsylvania के व्हार्टन स्कूल से उन्होंने बैचलर ऑफ साइंस की पढ़ाई की। बाद में उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से MBA किया।

#4. ईशा, अनंत और आकाश अंबानी

मुकेश अंबानी के नेतृत्व में रिलायंस ग्रुप ने बड़ी तेजी से विकास किया और आज यह देश की सबसे बड़ी कंपनी है। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन मुकेश अंबानी की नेटवर्थ 64.5 अरब डॉलर है। इस समय वह दुनिया के टॉप 10 सबसे अमीर लोगों के एक्सक्लूसिव क्लब में एकमात्र एशियाई बिजनेसमैन बन गए हैं।

ईशा और आकाश, मुकेश अंबानी के जुड़वा बच्चे हैं। ये दोनों ही अभी सिर्फ 27 साल के हैं। ईशा पहली बार 16 साल की उम्र में तब चर्चा में आईं जब फोर्ब्स ने उन्हें विश्व के सबसे युवा अरबपति उत्तराधिकारियों की सूची में दूसरे स्थान पर रखा था। 2014 में आकाश और ईशा अंबानी को रिलायंस के टेलीकॉम और रिटेल बिजनेस में डायरेक्टर नियुक्त किया गया था।

वहीं, अंबानी ने 25 साल की उम्र में अपने सबसे छोटे बेटे अनंत अंबानी को जियो प्लेटफॉर्म में एडिशनल डायरेक्टर के तौर पर जिम्मेदारी सौंपी। बता दें कि इसी उम्र में मुकेश अंबानी ने भी कारोबारी जिम्मेदारी का संचालन शुरू किया था। वर्तमान में अंबानी की तीनों संतान औपचारिक तौर पर रिलायंस में कामकाज को आगे बढ़ा रहे हैं।

#5. रोशनी नाडर

रोशनी नाडर भारतीय अरबपति शिव नाडर की बेटी हैं। HCL टेक्नोलॉजी लिमिटेड के फाउंडर शिव नाडर हैं। अगस्त 1976 में एक गैरेज में शिव नाडर ने एचसीएल इंटरप्राइजेज की स्थापना की। 1982 में जब आईबीएम ने एचसीएल को कंप्यूटर मुहैया कराना बंद कर दिया, तब नाडर और उनके साथियों ने पहला कंप्यूटर भी बना लिया। 1991 में वे एचसीएल टेक्नोलॉजी के साथ बाजार में अपनी धाक जमाए। 

फिलहाल, हालत यह है कि एचसीएल की 80 फीसदी आमदनी कंप्यूटर और ऑफिस इक्विपमेंट्स से ही होती है। एचसीएल को दिग्गज टेक कंपनी की पहचान दिलाने में शिव नाडर का हाथ है। शिव नाडर की कुल नेटवर्थ 1,470 करोड़ डॉलर के आस-पास है। वर्तमान में रोशनी अपने पिता के कारोबार को संभाल रही हैं। रौशनी एचसीएल एंटरप्राइज की एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर और सीईओ हैं।

रोशनी अभी 38 साल की हैं। इस समय वह केवल कंपनी ही नहीं चलातीं बल्कि शिव नाडर फाउंडेशन के एजुकेशन इनिशिएटिव में भी योगदान देती हैं। यह फाउंडेशन एजुकेशन पर काम करता है। एचसीएल की सीईओ रोशनी नाडर 36,800 करोड़ रुपए के नेटवर्थ के साथ देश की अमीर टॉप 10 महिलाओं के क्लब में हैं। 

#6. अदार पूनावाला

साइरस पूनावाला के बेटे अदार अपने पिता की कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया के सीईओ हैं। इनकी उम्र 35 वर्ष है। ये भारत के सातवें सबसे अमीर व्यक्ति हैं। अदर पूनावाला ने वेस्टमिंस्टर विश्वविद्यालय यूके से बिजनेस मैनेजमेंट में ग्रेजुएशन किया है। जिसके बाद उन्होंने अपने पिता साइरस पूनावाला की बनाई हुई सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया लिमिटेड की जिम्मेदारी संभाली।

इस समय इस कंपनी का कारोबार 140 देशों में फैला हुआ है और यह दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता कंपनी है। हाल ही में कोविड कालखंड में इस इंस्टीट्यूट ने अहम रोल निभाया है। 

#7. ऋषद प्रेमजी 

ऋषद प्रेमजी प्रतिष्ठित भारतीय उद्यमी और भारतीय आईटी कंपनी विप्रो के वर्तमान अध्यक्ष अजीम प्रेमजी के पुत्र हैं। 30 जुलाई 2019 को अजीम प्रेमजी के सेवानिवृत्त होने के बाद ऋषद प्रेमजी विप्रो के कार्यकारी अध्यक्ष बन गए हैं। ऋषद, जिनके पास हार्वर्ड से एमबीए की डिग्री है, वे पहले लंदन में बैन एंड कंपनी और संयुक्त राज्य अमेरिका में GE कैपिटल के लिए काम कर चुके हैं।

2007 में विप्रो में शामिल होने के बाद से, उन्होंने कंपनी के लिए बंधक व्यवसाय चलाया और 2008 में गैलाघर फाइनेंशियल सिस्टम (जिसे विप्रो गैलेघेर सॉल्यूशंस कहा जाता है) और सिटी टेक्नोलॉजी सर्विसेज के अधिग्रहण में मदद की। उनके मजबूत नेतृत्व और उल्लेखनीय व्यावसायिक उपलब्धियों के लिए धन्यवाद, उन्हें पहचाना गया। 2014 में विश्व आर्थिक मंच द्वारा एक युवा वैश्विक नेता के रूप में।

#8. केविन भारती मित्तल

केविन मित्तल एयरटेल के फाउंडर सुनील मित्तल के बेटे हैं, जो कि लुधियाना के रहने वाले हैं। कंपनी की सालाना रिपोर्ट्स के मुताबिक मित्तल ने मार्च 2016 तक 18.28 करोड़ रूपए सैलरी मिली थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हाइक के 90 फीसदी यूजर्स अंडर 30 हैं। केविन के भाई श्रविन मित्तल ने अपनी स्कूल फ्रेंड साक्षी छाबड़ा से शादी की थी और उसके बाद नीदरलैंड्स में कंपनी संभाल रहे हैं। लग्जीरियस लाइफ के शौकीन केविन अब तक देश के मोस्ट एलिजिबल बैचलर बिजनेसमैन क्लब में शामिल हैं।

आज हाइक के 100 मिलियन से अधिक यूजर्स हैं। इसकी कीमत 1.4 अरब डॉलर है और उसने लगभग 175 मिलियन डॉलर (1164 करोड़) जुटाए हैं। केविन के पिता की कंपनी भारती एयरटेल को देश की सबसे बड़ी प्राइवेट टेलीकॉम कंपनी माना जाता है। जानकारी के मुताबिक खाली समय में केविन को कार रेसिंग व एरोप्लेन उड़ाना पसंद है।

केविन ने लंदन के इंपीरियल कॉलेज से इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन किया है और इसके बाद यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयॉर्क भी पढ़ाई के लिए गए।इसके बाद उन्होंने भारती इंटरप्राइजेज को ज्वाइन करने से पहले जून 2008 से अगस्त 2008 तक केविन ने गोल्डमैन सचस में और जुलाई 2007 से सितंबर 2007 तक गूगल में इंटर्नशिप की थी।

#9. अशनि बियानी तथा अवनि बियानी 

रिटेल सेक्टर में बिग बाजार और ईजीडे मार्केट जैसे ब्रांड्स के चलते पहचान बनाने वाले किशोर बिय़ानी के पास इस सेक्टर का लंबा अनुभव है। यही नहीं उन्होंने अपनी बेटियों अशनि और अवनि को भी बिजनेस में शामिल किया है और उन्हें इसकी बारीकियां सिखाई हैं। किशोर बियानी कहते हैं कि उन्हें रिटेल सेक्टर की बारीकियां और ट्रेंड में चल रही चीजों की जानकारी अपनी बेटियों से ही मिलती रही है।

बियानी ने कहा था कि मैं जो कुछ भी करता हूं, इसमें मेरी बड़ी बेटी सलाहकार के तौर पर शामिल रहती है। मैं उससे सभी तरह के फूड ट्रेंड्स के बारे में जानता हूं और यह समझता हूं कि फिलहाल युवा पीढ़ी में किस चीज का ट्रेंड चल रहा है। इसलिए मैं मानता हूं कि मेरी बेटियां हर दिन मुझे कुछ न कुछ बताती है, जो मैं देखता हूं। बियानी की बड़ी बेटी अशनि फ्यूचर कंपनी की फ्यूचर कंज्यूमर की मैनेजिंग डायरेक्टर हैं।

फूडहॉल उसका ही कांसेप्ट है और वह स्वतंत्र रूप से इस पर काम कर रही हैं। उन्हें जब कोई समस्या होती है तो वह मुझसे पूछती हैं। इसलिए मैं उनकी समस्याओं को हल करने वाला व्यक्ति हूं। वह जब भी कुछ नया करना चाहती है तो फिर मेरे साथ आइडिया शेयर करती है। न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी से समाजशास्त्र और राजनीति में ग्रेजुएशन करने वाली अवनी की इंगेजमेंट न्यूयॉर्क स्थित बैंकर राहुल जैन से हुई है।

भारत के अगले बिज़नेस टाइकून – Related FAQs

प्रश्न: बिज़नेस टाइकून किसे कहते हैं?

उत्तर: एक ऐसा व्यापारी जिसने अपने बिज़नेस को देश तथा विदेश में शीर्ष पर पहुंचाया है, उसे बिज़नेस टाइकून कहते हैं। 

प्रश्न: भारत के बिज़नेस टाइकून आकाश अम्बानी के पिताजी का नाम क्या है?

उत्तर: भारत के बिज़नेस टाइकून आकाश अम्बानी के पिताजी का नाम मुकेश अम्बानी है। 

प्रश्न: सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ कौन है?

उत्तर: सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला हैं। 

प्रश्न: HCL टेक्नोलॉजी लिमिटेड के फाउंडर कौन हैं।

उत्तर: HCL टेक्नोलॉजी लिमिटेड के फाउंडर शिव नाडर हैं।

Spread the love:

Leave a Comment