एकतरफा तलाक कैसे लिया जाता है? तलाक लेने का प्रोसेस क्या है? तलाक के नये नियम 2022

तलाक के नये नियम 2022, तलाक के फायदे, तलाक के लिए आवेदन, हिंदी में पुरुषों के लिए भारत में तलाक कानून, तलाक के बाद जीवन, मुस्लिम तलाक अधिनियम, एकतरफा तलाक कैसे लिया जाता है?, कोर्ट मैरिज के बाद तलाक प्रक्रिया

शादीशुदा जोड़ों में एक दूसरे के लिए समय की कमी, दोनों के अहम का टकराव, विवाहेतर संबंध जैसे कई कारण हैं, जिसकी वजह से इन दिनों भारत में भी तलाक तेजी से हो रहे हैं। हालांकि दुनिया को देखते हुए अभी भी इनकी दर बहुत कम है। दो लोगों को अलग करने वाले इस विधिक रास्ते तलाक के आधार क्या हैं? एकतरफा तलाक क्या होता है? तलाक कैसे लिया जा सकता है? जैसे विभिन्न बिंदुओं पर आज हम आपको इस पोस्ट में जानकारी देंगे। आइए, शुरू करते हैं-

तलाक क्या है? [What is Divorce?]

शादी के बाद जब पति-पत्नी एक दूसरे के साथ नहीं रहना चाहते, वे संबंध विच्छेद करना चाहते हैं तथा रजामंदी अथवा कोर्ट के जरिए अलग हो जाते हैं तो सामान्य भाषा में इसे तलाक कहा जाता है।

तलाक कितने प्रकार का होता है? [What are the types of divorce?]

साथियों, आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तलाक दो तरह से होता है। एक आपसी रजामंदी यानी सहमति से व दूसरा एकतरफा तलाक। आपको इस पोस्ट में हम दोनों तरह के तलाक के बारे में जानकारी देंगे।

यदि पति-पत्नी दोनों आपसी रज़ामंदी से तलाक चाहते हैं तो यह बेहद आसान है। इसके लिए एक साल अलग रहने की शर्त पूरी करने के साथ ही वे कोर्ट में याचिका दाखिल कर सकते हैं। यहां कोर्ट में दोनों के बयान रिकॉर्ड किए जाते हैं व हस्ताक्षर लिए जाते हैं। इसके पश्चात तलाक पर फिर विचार करने के लिए दोनों को छह महीने का कूलिंग पीरियड दिया जाता है।

यदि इसके बाद भी वे तलाक़ चाहते हैं तो कोर्ट में उनके तलाक़ को मंज़ूरी दे दी जाती है। हालांकि आपको बता दें कि ये कूलिंग पीरियड कोई आवश्यक बाध्यता नहीं है। यदि दोनों पक्ष आपसी सहमति से एक दूसरे से अलग होना चाहते हैं तो उन्हें 6 महीने का इंतजार नहीं करना पड़ता। बच्चे की कस्टडी के बारे में भी वे आपस में फैसला कर लेते हैं।

मित्रों, सहमति से तलाक के लिए कुछ शर्त आवश्यक हैं, जो कि तलाक चाहने वाले जोड़े को पूरी करनी होंगी। ये शर्तें इस प्रकार से है-

  • पति पत्नी के विवाह को एक साल हो गया हो।
  • पति-पत्नी दोनों तलाक के लिए सहमत हों।
  • वे दोनों एक वर्ष तक अलग रह चुके हों।
  • उनके बीच सुलह की कोई गुंजाइश न हो‌।
  • वे और अधिक साथ रहने में असमर्थ हों।

एकतरफा तलाक क्या होता है? [What is Unilateral Divorce?]

जब तलाक के लिए पति अथवा पत्नी, दोनों में से किसी एक की सहमति अथवा रजामंदी नहीं होती तो उसे एकतरफा तलाक कहा जाता है। इसे यूं भी समझ सकते हैं कि ‌‌यदि पति या पत्नी में से किसी एक का इरादा दूसरे को तलाक देने का नहीं है, जबकि दूसरा तलाक चाहता है, तो यह एकतरफा तलाक कहलाता है।

एकतरफा तलाक कैसे लिया जाता है? तलाक लेने का प्रोसेस क्या है? तलाक के नये नियम 2021

एकतरफा तलाक किस आधार पर लिया जा सकता है? [On what grounds can unilateral divorce be taken?]

दोस्तों, जैसे कि अभी हमने बताया कि रजामंदी से तलाक आसान होता है, लेकिन एकतरफा तलाक कई बार मुश्किल होता है। कुछ ऐसे मजबूत कारण हैं, जिनके आधार पर पति व पत्नी दोनों कोर्ट के जरिए एक दूसरे से तलाक मांग सकते हैं। ये कारण इस प्रकार से हैं-

1. व्यभिचार [adultery, fornication, debauchery, licentiousness]

यदि पति अथवा पत्नी में से कोई भी अपने पार्टनर को धोखा देकर किसी, तीसरे व्यक्ति के साथ शारीरिक संबंध बना रहा है तो दूसरा पक्ष व्यभिचार को आधार बना तलाक ले सकता है। लेकिन उसे इसे कोर्ट में साबित करना होगा।

2. हिंसा – Violence :

यदि पति अथवा पत्नी में से कोई एक शारीरिक अथवा मानसिक हिंसा का दोषी है, तो यह तलाक का आधार होगा। उसे इस संबंध में प्रमाण कोर्ट में पेश करना होगा।

3. दो साल से अधिक लंबे अंतराल तक अलग रहना [Living apart for longer than two years] –

शादी होने के बाद यदि पति- पत्नी 2 साल के लंबे अंतराल तक दूसरे के साथ नहीं रह रहे हैं तो यह भी एकतरफा तलाक का आधार हो सकता है। मसलन यदि शादी होने के कुछ दिन बाद पत्नी मायके चली गई व पति के कई बार बुलाने के बाद भी दो साल तक नहीं लौटती तो उसे इस आधार पर एकतरफा तलाक मिल सकता है।

4. धर्म परिवर्तन [Religion change] –

यदि पति-पत्नी अलग-अलग धर्मों से ताल्लुक रखते हैं व शादी के वक्त भी दोनों ने अपने धर्म में रहना ही स्वीकार किया है तो ऐसी स्थिति में शादी के बाद दोनों में से कोई भी दूसरे को धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर नहीं कर सकता। यदि कोई ऐसा करता है तो साथी उससे एकतरफा तलाक ले सकता है।

5. संन्यास [renunciation, abandonment, resignation, asceticism, relinquishment] :

यदि पति-पत्नी में से कोई भी एक पक्ष अपनी शादीशुदा जिंदगी को छोड़कर संन्यास लेने का फैसला करता है तो ऐसे में दूसरा पक्ष एकतरफा तलाक लेने का हकदार है।

6. गुमशुदा [Missing] : –

यदि कोई व्यक्ति गुमशुदगी के 7 साल बाद भी नहीं लौटता वह उसके मरने-जीने के संबंध में कोई सूचना नहीं आती तो ऐसी स्थिति में उसका पार्टनर एकतरफा तलाक ले सकता है।

7. गंभीर शारीरिक या मानसिक रोग [Serious physical or mental illness] :

यदि किसी के पार्टनर को कोई गंभीर शारीरिक रोग जैसे एड्स, कुष्ठ, सिजोफ्रेनिया जैसी कोई बीमारी है तो फिर इसके आधार पर एकतरफा तलाक कोर्ट द्वारा दे दिया जाता है।

8. नपुंसकता [impotence, impotency] :

शादी के बाद पार्टनर में नपुंसकता के आधार पर भी कोर्ट के द्वारा एकतरफा तलाक दिया जा सकता है

तलाक प्रार्थना पत्र के लिए आवश्यक दस्तावेज [Documents Required for Divorce Application] –

केवल शादी के रजिस्ट्रेशन के लिए ही नहीं, बल्कि तलाक के लिए भी आवेदन के साथ कुछ दस्तावेज लगाए जाने आवश्यक है, जो कि इस प्रकार से है-

  • शादी का प्रमाण पत्र [Marriage certificate] ।
  • आवास का प्रमाण [Proof of residence] ।
  • विवाह के वक्त की चार तस्वीरें [Four wedding photos] ।
  • तीन साल का इनकम टैक्स स्टेटमेंट [Income tax statement for three years] ।
  • पेशे व आय का विवरण [Profession and income details] (वेतन स्लिप, नियुक्ति पत्र)।
  • संपत्ति व स्वामित्व का ब्यौरा [Property and ownership details]।
  • दोनों पक्षों के परिवार के बारे में जानकारी [Information about the family of both sides]।
  • एक वर्ष अलग रहने का प्रमाण [Proof of living apart for one year]।
  • सुलह के प्रयासों के साक्ष्य [Evidence of reconciliation efforts] ।

एकतरफा तलाक कैसे लिया जा सकता है और प्रक्रिया क्या है? [How unilateral divorce can be taken and what is the procedure?]

जिस प्रकार शादी के रजिस्ट्रेशन की एक प्रक्रिया है, उसी प्रकार तलाक के लिए भी आवेदक को एक निर्धारित प्रक्रिया का पालन करना होगा। इसके steps इस प्रकार से हैं-

Total Time: 180 days

तलाक के दस्तावेज तैयार कराएँ –

सबसे पहले वकील से तलाक का मसौदा तैयार कराकर सभी दस्तावेजों व निर्धारित फीस के साथ फैमिली कोर्ट में पेश करना होगा।

दूसरे पार्टनर को एक नोटिस भेजें –

इसके बाद कोर्ट की ओर से दूसरे पार्टनर को एक नोटिस अथवा सम्मन जारी किया जाएगा। यह आम तौर पर स्पीड पोस्ट द्वारा भेजा जाता है। इसका उद्देश्य दूसरे पक्ष को तलाक की प्रक्रिया शुरू करने के संबंध में सूचित करना है।

दोनों पक्ष कोर्ट में हाजिर हों –

नोटिस अथवा सम्मन प्राप्त करने के पश्चात दूसरे पक्ष को दी गई तिथि को कोर्ट में हाजिर होना होगा।

कोर्ट मामला बातचीत में सुलझाने का प्रयास करेगा –

नोटिस के बाद यदि पार्टनर कोर्ट नहीं पहुंचता है तो मामला एकपक्षीय रह जाता है एवं तलाक लेने वाले पार्टनर को कागजों के हिसाब से फैसला सुना दिया जाता है। यदि नोटिस के बाद दूसरा पक्ष कोर्ट पहुंचता है तो ये प्रयास किया जाता है कि मामला बातचीत से सुलझ जाए।

कोर्ट में याचिका दाखिल करें-

यदि बातचीत से मामला नहीं सुलझता है तो केस करने वाला पार्टनर दूसरे पार्टनर के खिलाफ कोर्ट में याचिका दाखिल करता है।

लिखित बयान दर्ज कराएं –

इसके पश्चात दोनों पक्षों के लिखित बयान 30 से 90 दिन यानी एक से तीन माह के अंदर रिकार्ड किए जाते हैं।

कोर्ट अपना फैसला सुनाएगा –

इसके बाद दोनों पक्षों की सुनवाई होती है और सबूतों व दस्तावेजों के आधार पर कोर्ट अपना अंतिम फैसला सुना देती है। आपको बता दें कि ये प्रक्रिया कई बार लंबे समय तक खींच जाती है।

तलाक से पहले इन बिंदुओं का निपटान होता है? [Are these points settled before divorce?]

यदि तलाक के इच्छुक दंपति का कोई बच्चा होता है तो वे एक रास्ता यह है कि वे आपसी सहमति से बच्चे की कस्टडी तय करें। यदि इसे लेकर विवाद होता है तो कोर्ट उसके कस्टोडियन अधिकार पर निर्णय करती है। इसमें वह बच्चे के हित को सर्वोपरि रखती है।

इसके साथ ही यह भी देखा जाता है कि पार्टनर बच्चे की परवरिश उठाने की वित्तीय हैसियत में है या नहीं। कोर्ट ऐसे में मेंटेनेंस यानी रखरखाव की राशि तय करती है। इसके साथ ही प्रापर्टी यानी संपत्ति एवं स्वामित्व के मामले पर भी विधि अनुसार दोनों पक्षों पर निर्णय देती है।

तलाक के नये नियम 2022 – तलाक की प्रक्रिया किन अधिनियमों के अधीन होती है?

मित्रों, शादीशुदा लोगों में तलाक की प्रक्रिया कई अधिनियम के अधीन होती है। विभिन्न धर्मों में इसके लिए भिन्न व्यवस्था है। ये अधिनियम हैं-

  1. हिंदू मैरिज एक्ट 1955
  2. स्पेशल मैरिज एक्ट 1954
  3. पारसी मैरिज एक्ट 1936
  4. मुस्लिम पर्सनल लॉ
  5. इंडियन डिवोर्स एक्ट

दोस्तों, केंद्र सरकार की ओर से कुछ समय पहले तीन तलाक पर रोक लगा चुकी है। आपको बता दें कि मुस्लिम विवाह कानून- 1939 के प्रावधानों के अनुसार पुरुषों को अपने पूरे जीवन काल में कितनी बार भी शादी करने की इजाजत है, लेकिन ऐसे पुरुष चार पत्नियों से अधिक नहीं रख सकते। अलबत्ता, यदि कोई शादीशुदा महिला दूसरा विवाह करना चाहे या दूसरे पति के साथ रहना चाहे तो उसे पहले वाले पति से तलाक लेना होगा।

दुनिया में सबसे अधिक तलाक रूस में होते हैं? [Russia has the highest number of divorces in the world?]

मित्रों, भारत में सबसे कम तलाक होते हैं। यहां तलाक की दर केवल एक फीसदी के करीब है। राज्यों की बात करें तो तलाक के सर्वाधिक मामले केरल में सामने आते हैं। लेकिन तलाक के मामले में दुनिया भर पर नजर डालें तो रूस टाप है। सबसे अधिक तलाक वाले देश इस प्रकार से हैं-

  • 1. रूस- यहां प्रति हजार में 5 लोगों में तलाक हो जाता है।
  • 2. बेलारूस- यहां प्रति हजार पर 3.80 लोगों के तलाक होते हैं।
  • 3. यूक्रेन- यहां तलाक की दर प्रति हजार 3.60 है।
  • 4.माल्डोवा- यहां प्रति एक हजार पर 3.50 लोग अलग हो जाते हैं।
  • 5. केमन आइसलैंड- प्रति एक हजार पर लगभग 3.40 लोग शादी नहीं निभा पाते।
  • 6. अमेरिका- अमेरिका में प्रति एक हजार पर लगभग 3.40 तलाक होते हैं।
  • 7. बरमूडा- बरमूडा में हर एक हजार लोगों पर 3.30 लोग तलाक ले लेते हैं।
  • 8. क्यूबा- प्रति एक हजार लोगों पर औसतन 3.20 लोगों की शादी टूट जाती है।
  • 9. लिथुआनिया- हर एक हजार में से करीब 3.10 लोग तलाक ले लेते हैं।

तलाक किसे कहते हैं?

शादी के बाद जब पति-पत्नी एक दूसरे के साथ नहीं रहना चाहते, संबंध विच्छेद करना चाहते हैं तो इसे तलाक कहा जाता है।

शादी के कितने समय बाद तलाक ले सकते है?

शादी के कम से कम 1 साल बाद ही तलाक के लिए आवेदन किया जा सकता है। क्योंकि कोर्ट कम से कम 1 साल अलग-अलग रहने पर ही तलाक के आवेदन पर विचार करता है। इसलिए तलाक के लिए शादी के बाद कम से कम एक साल बाद ही आवेदन किया जा सकता है।

तलाक कितनी तरह से होता है?

तलाक आपसी रजामंदी से हो सकता है। किसी भी एक पक्ष की सहमति न होने की स्थिति में एकतरफा तलाक का भी प्रावधान है।

क्या तलाक के लिए भी दस्तावेज लगाने पड़ते हैं?

जी हां, इसके लिए शादी का प्रमाण पत्र, शादी के समय के फोटोग्राफ, अलग होने की वजह का प्रमाण आदि की आवश्यकता पड़ती है।

ईसाई धर्म में तलाक किस कानून के तहत होता है?

ईसाई धर्म में तलाक इंडियन डिवोर्स एक्ट के तहत होता है।

भारत में तलाक की दर क्या है?

भारत में तलाक की दर करीब एक फीसदी है, जो दुनिया में सबसे कम है।

दोस्तों, यह थी तलाक की प्रक्रिया, उसके आधार, एकतरफा तलाक और एकतरफा तलाक कैसे लें, इस बारे में पूरी जानकारी। यदि आप इसी तरह के किसी रोचक विषय पर हम से जानकारी चाहते हैं तो उसके लिए नीचे दिए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हम तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं। उम्मीद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी साबित होगी। ।।धन्यवाद।।

Contents show
Spread the love:

31 thoughts on “एकतरफा तलाक कैसे लिया जाता है? तलाक लेने का प्रोसेस क्या है? तलाक के नये नियम 2022”

  1. आप सभी से येह अनुरोध। करोगा की किसी और की बातों में ना आकर अपनी पार्सनलि लाइफ बर्बाद ना करे अपने ओर अपने पति की लाइफ बर्बाद ना करे । और मिस गाईड और सविधान के द्वारा बनाए काननॉन मिस यूज्ड ना करे ।। थैंक्स👏👏

    Reply
  2. sir meri shaddi ko sarre das saal ho gae hai. Meri patni ab acanak ghar chor kar ek hi shahar me girls hostel me rah rahi hai. mari patni ab mujh se divorce chahti hai. mera ek aath saal ka beta hai jo mere sath hi rahta hai. Is beech meri patni ka kisi aur purush ke sath awaaidh sambandh ka pata chala. meri patni ne kaha ki wo galat sambandh kewal ek hi baar huaa hai. is galat harkat ke karan meri patni bahut guilty feel kar rahi hai aur mujhse divorce chahati hai. jabki mai usse behad payar karta hu aur uske bina nahi rah sakta. muje kisi bi kimat par talak nahi chahie. mujhe ab aage kya karna chahie? kripaya margdarshan karen.

    Reply
  3. Meri shaadi ko 16 sal Ho Gaya.
    Vah kabhi bhi mere ghar per sal bhar nahin rheti thik se.. jab tab mummy phone Karti rahti hai … FIR mujhe bolati Hai ki mujhe Ghar Jana Hai mummy ke pass.. 8 sal se apni mayke mein Hai jab main bulata Hun to aati nahin Hai. Karo mummy Jo bolegi main vahi karunga. .. court dwara ek chitthi mein tha ki aap a jao.. to usne mahila thana mein FIR kar diya 498 lagva Diya..29/4/2022 ko bel karvaya.
    Ab mujhe kya karna hoga please help me…

    Reply
  4. Agar patni pati ke sath nhi rahna chahti kyouki uske patine uski mansik or sharirik chal Kiya ho or unko yek baccha he or bachha ma ke pas he or un dono ko alag hoke 8sal ho chuke he to divorce mil sakta he kya or pati court me directly divorce nhi deta me ja aise bolega to पत्नीने क्या करना चाहिए?

    Reply
  5. Sir mai muslim hu.. Air 2016 me mere pati ne mujhe teen talaak de diya tha.. Aur uska fatwa b de diya gaya tha ki mera divorce ho gaya hai.. Aor mere pati ne court me b talaak ke bare me stamp paper par likha hai..
    To sir plz bataiye ki mera muslim religion k anusaar mera talaak ho gaya hai naa..

    Reply
    • is trh se aapka takal ho chuka hai. jo stamp paper hai unhe samhal kar rakhe kuch years tak

      Reply
  6. Sir meri sadi ko 11 year ho gye or ek beti bhi h 9 year old mere husband 2yr phle koi ladies ko leke chle gye or thode din bhar rhne k bad vapis aagye vo ladies to apne ghr h pr mere sasural vale or Mera husband nahi to kch samjhte or nhi koi bat mante meri beti ki life kharab kr rkhi h vo ghr se bhar bhi nhi nikl skti or kai bar unko smjhane ki kosis ki pr vo nhi samjhte uski maa use bhadkati rhti h or ab presan ho chuki un logo se m divorce k liye bolti hu to khta h ki nhi deuga or nhi meri beti ko khrcha deta to sir m kya kru please tell me

    Reply
  7. Sir mere chacha ji ne ab se 40years phle divorce ka case kiya tha vo dismiss hogya phir unhone section 9 ka case kiya phir ussme unke wife ne aane se mana krdiya or phir court ne uss case me ex party kr diya phir chacha ji ne second marriage krle or sb kuch sahi chal rha tha but ab uss phle vale ne 40saal baad case kr diya chacha ji pe…..toh mujhe koi meri help kro plz hame kya krna cahiye

    Reply
  8. हेलो सर
    मेरी शादी को 8 साल हो चुके हैं मेरा एक 6 साल का बेटा है मेरी शादी 16 साल की उम्र में मेरे मां-बाप जबरदस्ती करा दिए थे और फिर 3 साल के बाद लगभग मेरे को मेरे पति का किसी दूसरी लड़की के साथ रिलेशन के बारे में पता चला तब घर पर ही बात करके sab solve kiye aur bole mere Pati ki ab se Aisa nahin karunga aur din beette Raha FIR 2 sal lgbhag ke bad fir se kisi or ladki ke sath relation ke bare me pta lga tab main ye bat अपने मायके में बताइए तब मेरे मायके वाले समझाएं और अच्छे से रहने को बोले और मैं मना कर दी रहने से तो जबरदस्ती भेज दिए मेरे को रहने बोले और बोले अगर इस बार कुछ करता है तो देखेंगे करके और फिर कुछ दिनों के बाद फिर से वही सब हुआ और इस बार तो हद ही हो गई थी एक लड़की के पास दो लड़के गए थे यह सब की कॉल रिकॉर्डिंग भी है मेरे पास और अपने घर वालों को फिर से सुना है बट वो लोग कुछ नहीं किए बस समझा कर फिर से रहने बोले और मैं नहीं रहना चाहती थी फिर भी से जबरदस्ती रहने बोले और मेरे पास कोई रास्ता ना रहने के कारण रहना ही पड़ा मेरा पति नशा भी करता है जैसे दारू गांजा सिगरेट गुटका और घर पर भी झगड़ा होते रहता है उसके घर वाले भी कुछ कुछ बात को लेकर बस इल्जाम लगाते रहते हैं और मेरे पति किसी को कुछ नहीं बोलते उल्टा मेरे को ही बोलते हैं मैं अब नहीं रहना चाहती हूं ऐसे इंसान के साथ जिसे मेरी थोड़ी सी भी इज्जत नहीं है अपने घर वालों को कितनी बार बोल चुकी हूं बस घर वाले साथ नहीं देते हैं बेटा यही किस्मत में था का के रहने ही बोलते हैं मरना जीना उसी घर में है अब तेरे को ऐसे बोलते हैं और मेरे को कुछ समझ में नहीं आ रहा है मैं क्या करूं मैं नहीं रहना चाहती इसके साथ मैं अलग होना चाहती हूं इसे अपने बच्चे को लेकर मैं दूर जाना चाहती हूं प्लीज मेरे को कोई सलूशन बताइए मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा है प्लीज सर हेल्प मि

    Reply
  9. I’m advocate in rajasthan high court jodhpur….& femily court jodhpur
    ….
    ….
    किसी भी पारिवारिक न्यायालय से संबंधित मामलों के लिए सम्पर्क करे!
    Advocate sunil Dhundhwal

    Reply
    • Hello sir mai talak chahti hu aapne husband se kese lu sir oo armi me h sir oo mujhe dimagi tour par preshan kar raha h sir meri sadi ko 18 sal ho gay sir mujhe ek beta aur ek beti h sir mujhe ushse kuchh nhi chahiy only talak chahiy sir aagar bache mujhe dega tab mai kharcha lungi aagar bacha nhi dega to mujhe ushse kuchh nhi chahiye sir beta w7 sal ka h beti 15 ki h sir roj daru pita h sir meri sadi 18 sal me ho gayi thi sir plz help me

      Reply
  10. Meri wife 4month se apne father ke ghar par rha rhi hai or wo yaha se ladke gai hai aur apni marzi se gayi hai. Aur ab jute bol rhi hai apni sari baato ko nakar rahi hai aur meri family pe hee dosh laga rhi hai. Kya mujhe usse divorce mil sakta hai. Mai uske sath nh raha sakta ab..please koi upaye batye.

    Reply
  11. 1 year 6 month se Court me case chal rha h ak 5 year ka ladka h or vo n to divorce de rha or n hi bharn posn de rha kya koi solution h kya

    Reply
  12. Mere sasural Wale mujhe sadi k 3 days bad se hi dahej k liye preshan krne lage marpit v krte the talak ki dhamki dete the phle 4-5 months chup chap sahan krti rhi fir m aur mere parents darna chhod diye ab court m divorce file kiya h but m nhi chahti hmmm so kya kru

    Reply
  13. मुझे मेरे पत्नी से तलाक चाहिए लेकिन ओ देती नही क्या कराना चाहिए मेरे दो बच्चे है

    Reply
  14. Mere husband se main5 year alag reh rahi hu and mera baby 4 year ka ho gaya mere husband divorce nahi dena chahte main ek tarfa divorce lu tho kitna time lag jayega please batayi hai

    Reply
  15. सर मेरी पत्नी रोजाना मेरी माँ के साथ झगडा करती है, और मेरे मना करने पर मेरे साथ भी झगडा करती हैं, और FIR दर्ज करने की धमकी देती हैं| क्या आप इस समश्या का कोई समाधान कर सकते हो ?

    Reply

Leave a Comment