यूपी नवीन रोजगार छतरी योजना आवेदन फॉर्म, उद्देश्य, पात्रता | Naveen Rojgar Chatri Yojana

यूपी नवीन रोजगार छतरी योजना 2020, Naveen Rojgar Chatri Yojana Apply Form, Naveen Rojgar Chatri UP Apply, नवीन रोजगार छतरी योजना ऑनलाइन आवेदन, उत्तर प्रदेश नवीन रोजगार छतरी योजना एप्लीकेशन फॉर्म, Naveen Rojgar Chatri In Hindi

देश में कोरोना संक्रमण के हालात लगातार बिगड़ रहे हैं। पहले केंद्र और फिर राज्य सरकारों की ओर से लगाए गए लॉकडाउन ने लाखों लोगों का रोजगार, उद्योग धंधा प्रभावित किया है। अनुसूचित जाति के मजदूर, श्रमिक भी इसकी भारी मात्रा में चपेट में आए हैं। उनका भी रोज का काम काज बंद हो गया। कोरोना संक्रमण काल की चपेट में आए ऐसे श्रमिकों के लिए सरकार ने खास तौर पर केंद्र सरकार ने कई कदम उठाए हैं।

अब उत्तर प्रदेश सरकार यूपी नवीन छतरी योजना के साथ हाजिर हुई है। आज इस पोस्ट में हम आपको इस यूपी नवीन छतरी योजना के बारे में अधिक से अधिक जानकारी देने की कोशिश करेंगे जैसे कि यह योजना क्या है? इस योजना को लाए जाने का मकसद क्या है? इस योजना का लाभ पाने के लिए पात्रता क्या रहेगी? आवेदन किस प्रकार से होंगे? आदि। आइए, शुरू करते हैं।

यूपी नवीन छतरी योजना क्या है? What Is UP Naveen Rojgar Chatri Yojana

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने अपने सरकारी आवास पर 18 जुलाई, 2020 के दिन अनुसूचित जाति के गरीबों के सर्वांगीण विकास के लिए यूपी नवीन रोजगार छतरी योजना का शुभारंभ किया है। इस योजना का उद्देश्य दलित श्रमिकों की मदद कर रोजगार प्रदान करना है। योजना का शुभारंभ करते हुए स्वयं योगी जी ने आर्थिक समानता को ही सामाजिक समानता का आधार बताया। इस तरह इस योजना का फोकस अनुसूचित जाति के लाभार्थियों को रोजगार जमाने में वित्तीय मदद देने के साथ ही उनके जीवन स्तर को ऊपर उठाना भी है। इसे एक पंथ दो काज भी कहा जाए तो अतिश्योक्ति नहीं होगी।

जैसा कि हम आपको बता चुके हैं कि यह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की एक महत्वाकांक्षी योजना है, ऐसे में इसे इसके अंत में पहुंचाना और सही लाभार्थी तक लाभ पहुंचाना यह दोनों बातें अधिकारियों के लिए बड़ी चुनौती साबित होगा। वह मुख्यमंत्री योगी जी की गुड बुक में शामिल होने के लिए यूपी नवीन रोजगार छतरी योजना को सफल बनाने में जी जान लगा देंगे, ऐसा निश्चित रूप से समझा जा सकता है।

यूपी नवीन रोजगार छतरी योजना विवरण – UP Naveen Rojgar Chatri scheme details

योजना का नाम यूपी नवीन रोजगार छतरी योजना
किसके द्वारा लॉन्च की गयी मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ जी के द्वारा 
लॉन्च करने की डेट  18 जुलाई 2020
लाभार्थी विस्‍थापित व बेरोजगार श्रमिक
उद्देश्य दलित श्रमिकों की मदद कर रोजगार प्रदान करना
ऑफिसियल वेबसाइट अभी शुरू नहीं की गयी

नवीन रोजगार छतरी योजना का लक्ष्य – Target of UP Naveen Rojgar Chatri Yojana

दोस्तों, आपको बता दें कि इस यूपी नवीन छतरी योजना के तहत कोरोना संक्रमण की वजह से विस्थापित, लाकडाउन के प्रभावितों या बेरोजगार हुए अनुसूचित जाति के साढ़े सात लाख परिवारों को लाभ देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। और साथियों हम आपको यह भी स्पष्ट कर दें कि इस योजना का नाम यूपी नवीन छतरी योजना रखा ही है इसीलिए गया है, क्योंकि इसमें एक ही छतरी के नीचे गोपालन, सैलून आदि जैसे विभिन्न व्यवसायों के लिए लोन और अनुदान की व्यवस्था की गई है। एक ही छत के नीचे हर प्रकार के व्यवसाय के लिए अवसर लोगों के पास मौजूद है।

नवीन रोजगार छतरी योजना के तहत किस प्रकार रोजगार मिलेगा?

आपको बता दें कि योजना के तहत मिलने वाली धन राशि का उपयोग ज्यादातर लोग परचून की दुकान, जनरेटर सेट, लांड्री और ड्राई क्लीनिंग, साइबर कैफे, टेलरिंग, बैंकिंग कारेस्पांडेंट, टंट हाउस, गोपालन आदि के लिए करेंगे। यह सभी काम ऐसे हैं, जिनके लिए उन्हें किसी विशेष स्किल की आवश्यकता नहीं। वह बेहद संक्षिप्त ट्रेनिंग के बाद भी इन कार्य को शुरू कर अपने और अपने परिवार का ठीक प्रकार से भरण पोषण करने में कामयाब हो सकते हैं।

कई अनुसूचित जाति के नुमाइंदों ने खुद यूपी नवीन छतरी योजना के शुभारंभ के समय मुख्यमंत्री के समक्ष इस बात की जानकारी दी, जिस पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने उनकी हौसला अफजाई भी की। उन्होंने इस पर भी खुशी जताई कि लोग स्व व्यवसाय के लिए रुचि प्रदर्शित कर रहे हैं। आगे आकर कार्य करने संबंधी अपनी इच्छा जता रहे हैं।

स्वरोजगार योजना के तहत 3,484 लाभार्थियों की मदद –

आपको जानकर अच्छा लगेगा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना के तहत वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में 3,484 लाभार्थियों को 17 करोड़, 42 लाख रुपए रुपये से अधिक की वित्तीय सहायता दी गई। इससे पूर्व सरकार उत्तर प्रदेश के श्रमिकों, कामगारों, ठेला, खोमचा, रेहड़ी वालों या देनिक श्रमिकों को एक हजार रुपये भरण पोषण भत्ता दे चुकी है।

अब तक करीब सवा करोड़ श्रमिकों और कामगारों को रोजगार और स्वरोजगार से जोड़ा जा चुका है। इसके अलावा तीन करोड़, 56 लाख प्रधानमंत्री जनधन खातों में पांच सौ पांच सौ रुपये की धनराशि भेजी जा चुकी है। हालांकि केवल पांच सौ रुपए की राशि से इन लोगों को हल्की फुलकी मदद मिली है। यह एकदम ऊंट के मुंह में जीरे के समान है।

नवीन रोजगार छतरी योजना पात्रता मापदंड – UP Naveen Rojgar Chatri Yojana Eligibility Criteria

दोस्तों, आइए अब हम आपको बताते हैं कि यूपी नवीन रोजगार छतरी योजना का लाभ उठाने के लिए क्या-क्या पात्रता निर्धारित की गई हैं। यानी कि लाभार्थी के रूप आपके पास क्या-क्या होना आवश्यक है, जिसके आधार पर आप इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। यह इस प्रकार से हैं-

  • आवेदक को उत्तर प्रदेश का निवासी होना चाहिए
  • आवेदक को पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्वरोजगार योजना के तहत रजिस्टर्ड होना चाहिए
  • एंव आवेदक का आधार कार्ड
  • आवेदक का मोबाइल नंबर
  • आवेदक का परिचय पत्र
  • एंव आवेदक का बैंक खाते का ब्योरा

बैंक शाखाओं को लक्ष्य दिया गया

उत्तर प्रदेश में 18 हजार बैंक शाखाएं हैं। हर बैंक शाखा को यह लक्ष्य दिया गया है कि वह प्रधानमंत्री के निर्देशानुसार कम से कम दो अनुसूचित जाति जनजाति और महिला लाभार्थियों को अनिवार्य रूप से लोन उपलब्ध कराए। इस तरह से 36 हजार लोगों को इस योजना से लाभान्वित किया जा सकता है।

आपको यह भी बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से अनुसूचित जाति के लाभार्थियों को प्रदान की गई स्वरोजगार की राशि में लोन के साथ-साथ अनुदान की राशि भी शामिल है। और आपको यह भी बता दें कि यह राशि राज्य सरकार द्वारा वहन की जा रही है।

नवीन रोजगार छतरी योजना में आवेदन कैसे करें? How to apply for UP Naveen Rojgar Chatri scheme?

आपको बता दें कि इस योजना को लेकर अभी कोई आधिकारिक वेबसाइट उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से जारी नहीं की गई है। जैसे ही इस योजना के संबंध में ऑनलाइन आवेदन या ऑफलाइन आवेदन शुरू होंगे हम उसके बारे में आपको सारी जानकारी प्रदान करेंगे। आपको बस हमारी वेबसाइट पर लगातार नजर रखनी होगी। उम्मीद जताई जा रही है कि आवेदन जल्द ही शुरू कराए जाएंगे। जैसा कि सरकार खुद कह चुकी है कि यूपी नवीन रोजगार छतरी योजना से अनुसूचित जाति के करीब साढ़े सात लाख से अधिक परिवारों को लाभ मिलेगा तो ऐसे में यह माना जा सकता है कि इससे उत्तर प्रदेश में अनुसूचित जाति के एक बड़े तबके को लाभ पहुंचेगा।

इनकी संख्या करीब 50 लाख से भी अधिक संभव है। दोस्तों, और जैसा कि आपको पहले ही साफ कर चुके हैं कि इस योजना का लाभ पाने के लिए आवेदन करने को आपको एक निर्धारित आवेदन प्रक्रिया का पालन करना पड़ेगा। इसके साथ ही पात्रता के लिए जो दस्तावेज आवश्यक होंगे, आपको आवेदन करते वक्त इन सभी दस्तावेजों को

आवेदन पत्र में नत्थी भी करना पड़ेगा। यदि आप ऐसा नहीं करते या फिर आपके पास संबंधित दस्तावेज या कागज पत्र इत्यादि आपके पास नही होंगे तो इनके बगैर आपका आवेदन निरस्त समझा जाएगा। आप योजना का लाभ नहीं उठा सकेंगे।

अनुसूचित जाति के लाभार्थियों को तवज्जो

यूपी नवीन छतरी योजना नाम की यह योजना इसलिए भी खास है, क्योंकि इसके तहत अनुसूचित जाति से जुड़े श्रमिकों को प्राथमिकता दी गई है। यानी यह योजना अनुसूचित जाति के वर्ग के लोगों को रोजगार दिलाने तक सीमित रहेगी। या यूं कह लीजिए कि केवल उन्हीं के रोजगार के लिए यह कदम उठाया गया है। अन्य वर्ग के श्रमिकों के रोजगार के लिए मुख्यमंत्री स्वरोजगार समेत अन्य कई योजनाएं इस समय कई राज्यों में चलाई जा रही हैं।

उत्तराखंड का ही उदाहरण लें। यहां प्रवासी मजदूर लोगों और श्रमिकों के लिए मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कई कदम उठाए हैं। उनकी स्किल मैपिंग कर उन्हें रोजगार देने की कोशिश की है। जैसे कि यदि कोई युवा मोटर फिटिंग के कार्य में दक्ष है तो उसे वही काम दिलाया जाए और होटल में कार्य करने वाले और खेती में रुझान करने वाले लोगों को सब्जी उत्पादन जैसे कार्य में लगाया। विशेष रूप से क्लस्टर प्रधान खेती को बढ़ावा देने की कोशिश की गई है। ताकि विशेषज्ञता पूर्ण ढंग से कार्य किया जा सके।

रोजगार के लिए गांव, घर छोड़ने की जरूरत नहीं पड़ेगी

ढेरों लोग थे, जो कोरोना संक्रमण की आशंका को देखते हुए अपने जमे जमाए काम धंधे छोड़कर अपने गांव को लौट गए थे। अब सरकार जो यूपी नवीन छतरी योजना लेकर आई है, इससे एक फायदा यह भी होगा कि वह जिस जगह होंगे सरकार उसी जगह उन्हें जमने के लिए वित्तीय सहायता देगी।

इस तरह से उन्हें अपने गांव, घर को छोड़कर कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इससे वक्त जरूरत वह अपनों के साथ के लिए मौजूद रहेंगे। साथ ही साथ उनके खर्चे में भी कटौती होगी। वह भविष्य के लिए कुछ बचत कर पाने में भी संभव होंगे।

रोजगार से बदलेगी मजदूरों, श्रमिकों की ज़िंदगी

यूपी नवीन छतरी योजना के तहत अनुसूचित जाति के श्रमिकों के लिए छोटे-मोटे काम धंधों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करने से उनकी जिंदगी बदलने की उम्मीद की जा सकती है। ऐसा इसलिए, क्योंकि कोरोना संक्रमण की वजह से लाकडाउन के चलते लाखों की संख्या में मजदूरों को अपने क्षेत्र से विस्थापित होना पड़ा है और यूपी में ऐसे मजदूरों की संख्या हजारों में है। यह लोग अपना काम धंधा बंद करके घर बैठे हैं। उनके दैनिक जीवन यापन की समस्या उनके सामने मुंह बाए खड़ी है।

कुछ हद तक उनके राशन का प्रबंध करके और उनके बैंक के खातों में कुछ राशि भेजकर उनकी मदद की कोशिश सरकार ने की है, लेकिन रोजगार जमाने में यह योजना उनके लिए वास्तव में जीवन बदलने वाली साबित होगी। दरअसल, इसके बाद वह अपने परिवार का भरण पोषण कर पाने में सक्षम होंगे।

और कुल मिलाकर सरकार की जो कोशिश है, वह यह है कि हालात पूर्व के जैसे हो सकें और लोगों का जीवन किसी तरह से पटरी पर लौट सके। जैसा कि हम पहले भी बता चुके हैं, इसी उद्देश्य को लेकर यह योजना शुरू की भी गई है।

दोस्तों, यह थी यूपी नवीन छतरी योजना के बारे में जानकारी। उम्मीद है कि यह पोस्ट आपके लिए मददगार साबित हुई होगी। साथियों, यदि आप इसी तरह की किसी योजना के संबंध में हम से जानकारी चाहते हैं तो उसके लिए आप हमें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं। हमारा पूरा प्रयास रहेगा कि हम आपको संबंधित योजना के संबंध में जानकारी प्रदान करें। आपकी सभी तरह के सुझावों और प्रतिक्रियाओं का स्वागत है। ।।धन्यवाद।।

Spread the love

2 thoughts on “यूपी नवीन रोजगार छतरी योजना आवेदन फॉर्म, उद्देश्य, पात्रता | Naveen Rojgar Chatri Yojana”

  1. naveen rojgar chatre yojna ke antergat loan lena chata hu esme aavedan kaha kara hai on line off line please or website ka pata batana

    Reply

Leave a Comment