मशरूम की खेती कैसे शुरू करें? | लागत, मुनाफा व देखभाल | Mushroom ki kheti kaise kare

|| मशरूम की खेती कैसे शुरू करें? | Mushroom ki kheti kaise kare | How to start mushroom farming business in Hindi | Mushroom ki kheti in Hindi | मशरूम की खेती करने के फायदे | Mushroom ki kheti ke fayde | मशरूम कितने दिन में उगाया जाता है? ||

Mushroom ki kheti kaise kare: – मशरूम एक बहुत ही स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ है जिसे पूरे भारत सहित पूरे विश्व में ही पसंद किया जाता है। आप किसी भी रेस्टोरेंट या होटल में चले जाएं तो वहां आपको मशरूम की कई डिश मिल जाती है और लोग उन्हें चाव से मंगवा कर खाते भी हैं। पहले के समय में यह केवल अमीर लोगों का ही भोजन हुआ करता था लेकिन आज के समय में हर कोई इसे खा रहा है। हालाँकि अभी भी यह एक महंगे व्यंजन के रूप में ही आता (How to start mushroom farming business in Hindi) है।

अब भारत कृषि प्रधान देश है और यहाँ पर लगभग हर तरह की फसल का उत्पादन किया जाता है लेकिन मशरूम की बढ़ती माँग और इसमें अच्छी कमाई होने के कारण लोगों का और खासतौर पर किसानों का रुझान इसकी और बढ़ा है। ऐसे में वे अपनी खेती को मशरूम की खेती देने का सोचते हैं। हालाँकि उन्हें पता नहीं होता है कि मशरूम की खेती किस तरह से की जा सकती है। ऐसे में ज्यादा जानकारी के अभाव में वे मशरूम की खेती करने से चूक जाते (Mushroom farming business in Hindi) हैं।

यही कारण है कि आज के इस लेख में हम आपके साथ मशरूम की खेती कैसे की जा सकती है, इसके बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। आज के इस लेख को पढ़कर आपको यह जानने में सहायता मिलेगी कि किस तरह से आप अपने खेत में या घर पर ही किसी जगह पर मशरूम की खेती कर सकते हैं। तो आइये जाने मशरूम की खेती करने के बारे में विस्तार (Mushroom ki kheti in Hindi) से।

मशरूम की खेती कैसे शुरू करें? (Mushroom ki kheti kaise kare)

मशरूम की खेती शुरू करने से पहले आपको यह जान लेना चाहिए कि बाजार में एक तरह का मशरूम नहीं मिलता है बल्कि इसमें कई तरह की वैराइटी आती है जो अलग अलग रूप लिए होती है। अब इसमें से आप किस तरह के मशरूम की खेती करने जा रहे हैं और कहाँ करने जा रहे हैं, यह बहुत ही मायने रखती (Mushroom ki kheti kaise ki jaati hai) है। इसके लिए पहले आपको मशरूम के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए और उसके बाद ही आप इसकी खेती करने के बारे में सोच सकते हैं।

मशरूम की खेती कैसे शुरू करें लागत, मुनाफा व देखभाल Mushroom ki kheti kaise kare

इसी के साथ ही मशरूम की खेती करने के लिए उपयुक्त जगह का चुनाव किया जाना भी बहुत महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इसके लिए ज्यादा तापमान नहीं चाहिए होता है। यही कारण है कि ज्यादातर उन जगहों पर मशरूम की खेती की जाती है जहाँ का तापमान ठंडा रहता है या फिर सर्दियों के मौसम में मशरूम की खेती की जाती (Mushroom ki kheti ki puri jankari) है। ऐसे में हम आपके साथ एक एक करके मशरूम की खेती करने के हरेक चरण को रखेंगे। आइये जाने मशरूम की खेती करने के ऊपर पूरी जानकारी स्टेप बाय स्टेप।

मशरूम का चयन करें

जैसा कि हमने आपको ऊपर ही बताया कि मशरूम एक तरह का नहीं आता है और इसमें कई तरह की वैराइटी होती है। ऐसे में आप किस तरह के मशरूम की खेती करने जा रहे हैं यह बहुत ही मायने रखता है। यदि आप बाजार जाकर देखेंगे तो आपको मशरूम में कई तरह की श्रेणियां और वैराइटी देखने को मिल जाएँगी। इसमें से कुछ वैराइटी बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध होती है तो कुछ कम प्रसिद्ध होती (Mushroom ki kheti kaise kare in Hindi) है।

जिन मशरूम की खेती सबसे ज्यादा की जाती है या जिन्हें लोग ज्यादा मात्रा में खरीदते हैं उनमे से कुछ मशरूम के नाम बटन मशरूम, दूधिया मशरूम, शीयता मशरूम, ढिंगरि मशरूम और पुआल मशरूम हैं। इन सभी में से भी बटन मशरूम को सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है और ज्यादातर लोग इसी मशरूम की ही खेती करना पसंद करते हैं। तो आप भी बटन मशरूम की खेती कर सकते हैं।

उपयुक्त जगह का चुनाव

अब जब आपने मशरूम के बारे में जान लिया है तो मशरूम की खेती करने के लिए एक उपयुक्त जगह का चुनाव किया जाना बहुत ही ज्यादा जरुरी होता है। तो यहाँ हम आपको पहले ही बता दें कि मशरूम को खुली जगह में नहीं उगाया जा सकता है क्योंकि इस पर सूरज की रोशनी नहीं पड़नी चाहिए। यदि मशरूम की खेती पर सूर्य की रोशनी पड़ जाती है तो वह ख़राब हो जाते (Mushroom ki kheti kaise shuru kare) हैं।

यही कारण है कि इन्हें मुख्यतया सर्दियों में या फिर ठंडे इलाकों में उगाया जाता है। तो आप अपने घर के किसी कमरे में या बंद जगह को मशरूम की खेती करने के लिए चुन सकते हैं। वहां का तापमान कम होना चहिये या फिर सर्दियों का मौसम होना चाहिए। ऐसी जगह को ही मशरूम की खेती करने के लिए सबसे उपयुक्त जगह माना जाता है। तो अब जगह का चुनाव भी संपन्न हो गया है तो आगे बढ़ने का समय आ गया है।

आवश्यक सामग्री की खरीद

मशरूम की खेती करने के लिए आपको मशरूम के बीज खरीदने से लेकर अन्य सामग्री की खरीदी करनी होगी क्योंकि यही मशरूम की खेती करने का सबसे महत्वपूर्ण चरण होता है। इसके लिए आपको कम्पोस्ट करने और खाद तैयार करने के लिए भी सामग्री की खरीदी करनी होती है क्योंकि उसके माध्यम से ही मशरूम की खेती की जा सकती (Mushroom ki kheti kaise kare in Hindi) है। तो इसके लिए सबसे पहले जो चीज़ चाहिए होती है वह होती है धान या गेहूं का भूसा। इसी के माध्यम से ही मशरूम की खेती के लिए जमीन तैयार होती है।

इसी के साथ ही आपको पर्याप्त जल, सही तापमान, मशरूम के बीज इत्यादि सामग्री की जरुरत होती है। आप सरसों के भूसे का भी इसके लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। इन सभी के अलावा धान की पराली का भी मशरूम की खेती में इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि इन सभी से ही मशरूम उगाने के लिए सही जमीन और कम्पोस्ट तैयार होती है। इसी के साथ ही कैल्शियम, अमोनियम, नाइट्रेट का भी इसमें इस्तेमाल होता है। तो इन सभी को खरीद लें और उसके बाद ही आगे बढ़ें।

कम्पोस्ट तैयार करना

मशरूम की खेती करने के लिए पहले आपको खरीदे गए भूसे को पानी में मिलाकर कम्पोस्ट तैयार करना होता है। इसे आपको किसी पक्के फर्श पर या पक्की जमीन पर फैलाना होता है। ध्यान रखें कि इस प्रक्रिया में 10 से 15 दिन का समय लगता है क्योंकि कम्पोस्ट तैयार होने के लिए इतने दिन चाहिए ही होते हैं। यदि आप इस प्रक्रिया में जल्दबाजी करते हैं तो फिर आपके यहाँ अच्छी मशरूम नहीं उग पायेगी। ऐसे में आपको इस प्रक्रिया को बहुत ही ध्यान से करना होगा।

तो आपको भूसे को जमीन पर फैला देना होगा और हर दिन उसको पानी देना होगा ताकि एक अच्छा कम्पोस्ट तैयार हो जाए। इस भूसे में अच्छे से नमी होगी तभी सही तरीके से मशरूम की खेती हो पायेगी। तो आपको सुबह शाम इसमें जरुरत के अनुसार पानी देना है ताकि यह कम्पोस्ट में बदल जाए।

बीज की बुवाई करना

लगभग 15 दिनों के अंदर कम्पोस्ट अच्छे से तैयार हो जाएगी तो अब उसमें बीज बोने का समय आ गया है। अब यह आप जैसे टीवी में या असल जीवन में देखते हैं जिसमें किसान खेत की मिट्टी को खुरदरा कर उसमे बीज बोते हैं, वैसा नहीं करना है। इसमें आपको बीज को केवल उस तैयार भूसे या कम्पोस्ट पर ऊपर से फैला देना है। इस बात का ध्यान रखें कि आपके द्वारा ख़रीदे गए मशरूम के बीज अच्छी गुणवत्ता के हों और नए हों।

इसी के साथ ही यदि आपने 100 किलो का भूसा ख़रीदा है तो उसके लिए 2 किलो से ज्यादा मशरूम के बीज ना हो। तो आप उसी के अनुसार ही बीज ख़रीदें। अब 15 दिन के बाद तैयार कम्पोस्ट में बीज को बस हल्के हाथ से ऊपर फैला दें और उसके बाद इन्हें वैसा का वैसा छोड़ दें।

एक से दो महीने तक देखभाल करें

बीज को कम्पोस्ट पर फैलाने के बाद इस बात का ध्यान रखें कि कमरे में सूर्य की रोशनी ना पहुंचने पाए और साथ ही कमरे का तापमान कम हो। वह इसलिए क्योंकि मशरूम की खेती केवल ठंडे तापमान में ही संभव हो पाती है। तो आपको भी अगले कम से कम एक से दो महीने तक यही व्यवस्था करके रखनी होगी। इसी के साथ ही आपको समय समय पर उनका ध्यान रखना होगा और उन्हें पानी देना होगा।

यहाँ आप इस बात का ध्यान रखें कि सही तरीके से मशरूम को तैयार होने में लगभग 45 दिनों का समय तो लग ही जाता है। तो यदि आपके सामने मशरूम उग भी आये तो उन्हें कुछ दिनों के लिए यूँ ही पड़े रहने दें क्योंकि अभी वे और अच्छे से उगेंगे। ऐसे में आपको बस उनकी अच्छे से देखभाल करनी है और प्रतीक्षा करनी है।

मशरूम की कटाई करें

लगभग 45 दिनों के बाद जब मशरूम अच्छे से उग आये तो आप उनकी कटाई करना शुरू कर सकते हैं। अब आपके कमरे में अच्छे खासे मशरूम उग कर तैयार हो जाएंगे और समय हो जाएगा अपनी उगाई फसल की कटाई करने का। तो इस तरह से आप अपने घर पर ही अच्छी खासी मशरूम की खेती कर सकते हैं और उसके जरिये बहुत सारा पैसा कमा पाने में सक्षम हो सकते हैं।

इस बात का ध्यान रखें कि बाजार में मशरूम की कीमत बहुत ज्यादा है और आप इन्हें सही बाजार में बेचकर बहुत सारा पैसा कमा सकते हैं। हालाँकि उसके लिए आपको पहले अच्छे से परिश्रम भी करना होगा अन्यथा यह मशरूम की खेती वैसा रंग नहीं लाएगी, जैसा कि आपने सोचा है।

मशरूम की खेती करने के फायदे (Mushroom ki kheti ke fayde) 

अब आपको यह भी जान लेना चाहिए कि यदि आप अपने घर में या किसी कमरे में मशरूम की खेती करने जा रहे हैं तो उससे आपको क्या कुछ लाभ देखने को मिल सकते हैं। हालाँकि कुछ लाभ तो हमने आपको ऊपर भी बता दिए हैं लेकिन फिर भी उन्हें विस्तृत रूप हम यहाँ देने जा रहे (Mushroom ki kheti karne ke fayde) हैं। तो आइये जाने मशरूम की खेती करने के आपको क्या कुछ लाभ देखने को मिल सकते हैं।

  • मशरूम की खेती करने का सबसे बड़ा और मुख्य लाभ तो यही है कि इसके लिए कोई ज्यादा मेहनत नहीं करनी होती है और ना ही इसे उगाने के लिए कहीं अलग से खेती वाली जमीन देखनी होती है क्योंकि इसे बिना खेती वाली जमीन के घर पर ही उगाया जा सकता है।
  • साथ ही मशरूम की खेती करने में ज्यादा खर्चा भी नहीं होता है क्योंकि ना तो इसके लिए कम्पोस्ट तैयार करने के लिए भूसा महंगा आता है और ना ही मशरूम के बीज महंगे होते हैं। बाजार में आपको लगभग 100 रुपये किलोग्राम के हिसाब से मशरूम के बीज मिल जाएंगे।
  • इसी के साथ आप अपने घर में किसी भी कमरे में मशरूम की खेती कर सकते हैं और इसे अपनी आवश्यकता के अनुसार उगा सकते हैं।
  • बस आपको सूरज की रोशनी से इसे बचाना होता है और कमरे का तापमान ठंडा रखना होता है जो आप सर्दियों में कर सकते हैं।
  • अच्छे मशरूम की कीमत बाजार में बहुत ज्यादा है जिस कारण आप लाभ ही लाभ में रहने वाले हैं। यदि आप इन्हें बाजार में बेचने जाएंगे तो आपको आपके परिश्रम का 10 गुणा लाभ देखने को मिलेगा।
  • मशरूम को सीधा बेचने की बजाये आप इससे कई तरह के प्रोडक्ट भी बना सकते हैं और उन्हें बाजार में बेच कर बहुत सारा लाभ कमा सकते हैं।
  • मशरूम की खेती करने के लिए ज्यादा लोगों की या मजदूरों की भी जरुरत नहीं होती है और घर के एक या दो सदस्य मिलकर ही यह काम कर सकते हैं और कमाई करना शुरू कर सकते हैं।

इनके अलावा भी मशरूम की खेती करने के बहुत सारे लाभ देखने को मिलते हैं जो आपको इसकी खेती करने के बाद ही पता चल पाएंगे। तो इस तरह से मशरूम की खेती करने से हर कोई लाभ में रहता है और यही कारण है कि हर दिन के साथ मशरूम की खेती करने का चलन बढ़ता ही जा रहा है।

download app

मशरूम की खेती कैसे शुरू करें – Related FAQs 

प्रश्न: मशरूम उगाने की शुरुआत कैसे करें?

उत्तर: मशरूम की खेती करने के बारे में संपूर्ण जानकारी हमने इस लेख में दी है जो आपको पढ़ना चाहिए।

प्रश्न: मशरूम कितने दिन में उगाया जाता है?

उत्तर: मशरूम उगने में 45 दिन के आसपास का समय लग जाता है।

प्रश्न: घर पर मशरूम कैसे तैयार करें?

उत्तर: घर पर मशरूम तैयार करने की संपूर्ण जानकारी हमने इस लेख में दी है जिसे आपको पढ़ना चाहिए।

प्रश्न: मशरूम की खेती के लिए कौन सा महीना सबसे अच्छा है?

उत्तर: मशरूम की खेती के लिए अक्टूबर से मार्च तक के महीने सबसे अच्छे हैं क्योंकि मशरूम की खेती ठंडे मौसम में की जा सकती है।

तो इस तरह से इस लेख के माध्यम से आपने जाना कि अगर आपको मशरूम की खेती करनी हुई तो वह आप कैसे कर सकते हो। इसके लिए हमने आपको पूरी जानकारी स्टेप बाय स्टेप विस्तार से दी है। साथ ही मशरूम की खेती करने के क्या कुछ फायदे हैं वह भी बताए हैं। आशा है कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख पसंद आया होगा।

लविश बंसल
लविश बंसल
लविश बंसल वर्ष 2010 में लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में प्रवेश लिया और वहां से वर्ष 2014 में बीटेक की डिग्री ली। शुरुआत से ही इन्हें वाद विवाद प्रतियोगिता में भाग लेना या इससे संबंधित क्षेत्रों में भाग लेना अच्छा लगता था। इसलिए ये काफी समय से लेखन कार्य कर रहें हैं। इनके लेख की विशेषता में लेख की योजना बनाना, ग्राफ़िक्स का कंटेंट देखना, विडियो की स्क्रिप्ट लिखना, तरह तरह के विषयों पर लेख लिखना, सोशल मीडिया कंटेंट लिखना इत्यादि शामिल है।
WordPress List - Subscription Form
Never miss an update!
Be the first to receive the latest blog post directly to your inbox. 🙂

Leave a Comment