मोबाइल फोन इंश्योरेंस कैसे करें? मोबाइल इंश्योरेंस का क्या फायदा है?

||मोबाइल फोन इंश्योरेंस कैसे करें, मोबाइल इंश्योरेंस का क्या फायदा है, Bajaj mobile Insurance, Acko mobile insurance, Mobile insurance ||

इन दिनों लोग यदि किसी चीज पर खर्च करने में पीछे नहीं हटते तो उसमें मोबाइल फोन का नाम सबसे ऊपर है। मोबाइल इन दिनों आपके स्टेटस को भी बयां करता है। किंतु यदि आपका मोबाइल फोन चोरी हो जाए अथवा डैमेज हो जाए तो आपकी सांस रूक जाती है।

लेकिन रुकिए, आपको डरने की आवश्यकता नहीं। हम आपको मोबाइल फोन को इस तरह के नुकसान से सुरक्षित रहने का उपाय बताएंगे। यह उपाय है मोबाइल फोन इंश्योरेंस। आपने जीवन बीमा यानी लाइफ इंश्योरेंस, हेल्थ इंश्योरेंस आदि के बारे में सुना होगा।

किंतु क्या आपने कभी मोबाइल फोन इंश्योरेंस के बारे में सुना है? यदि आपका जवाब न में है तो आप बिल्कुल सही जगह आए हैं। आज हम आपको मोबाइल फोन इंश्योरेंस के संबंध में जानकारी देंगे।

मोबाइल फोन इंश्योरेंस क्या होता है? [What is mobile insurance?]

यह तो आप जानते ही हैं कि बीमा आग्रह की विषय वस्तु है। इसमें एक मामूली प्रीमियम के बदले आप अपने मोबाइल फोन को होने वाले संभावित नुकसान से सुरक्षित कर सकते हैं। उदाहरण के रूप में हेल्थ इंश्योरेंस को देखा जा सकता है। इसमें एक मामूली प्रीमियम के बदले में आपको स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान की जाती है।

बिल्कुल इसी प्रकार से मोबाइल फोन इंश्योरेंस भी है। इसमें इंश्योरेंस करने वाली कंपनी आपसे एक तय प्रीमियम राशि लेती है, एवं बदले में आपके मोबाइल फोन को विभिन्न प्रकार के नुकसानों के खिलाफ सुरक्षा का वचन देती है। उदाहरण के तौर पर आपका मोबाइल फोन चोरी हो जाए, गुम हो जाए अथवा डेमेज हो जाए तो इंश्योरेंस करने वाली कंपनी आपके क्लेम करने पर पेमेंट करेगी।

मोबाइल फोन इंश्योरेंस कैसे करें? मोबाइल इंश्योरेंस का क्या फायदा है?

मोबाइल फोन इंश्योरेंस का क्या फायदा है? (What are the benefits of mobile phone insurance)

मोबाइल फोन इंश्योरेंस कराने का बहुत लाभ है। मोबाइल फोन के खराब होने, खोने, चोरी होने की स्थिति में कवर मिलता है। इंश्योरेंस से मिलने वाले लाभों के बारे में हम आपको विस्तार से बताएंगे। ये निम्न प्रकार हैं। जैसे-

  1. मोबाइल फोन इंश्योरेंस के जरिए चोरी, स्नैचिंग, डकैती आदि को कवर किया जाता है।
  2. मोबाइल फोन की टूटी-बिखरी स्क्रीन को कवर किया जाता है।
  3. मोबाइल के मदरबोर्ड की खराबी को कवर किया जाता है।
  4. मोबाइल फोन के कैमरा, सेंसर, स्पीकर के नुकसान को कवर किया जाता है।
  5. चाय, काॅफी, पानी आदि में गिरने से मोबाइल फोन को हुए नुकसान को कवर किया जाता है।
  6. मोबाइल की टचस्क्रीन, चार्जिंग प्वाइंट, ईयरफोन जैक एवं डिवाइस के बाहर-भीतर किसी भी तरह के नुकसान से सुरक्षा।
  7. कैशलेस रिपेयरिंग सर्विस का लाभ।
  8. कंपनी की होम डिलीवरी सर्विस का लाभ।
  9. फ्री रिप्लेसमेंट गारंटी।
  10. इंश्योरेंस प्लान के साथ मुफ्त एक्सटेंडेड वारंटी।
  11. एक वर्ष से अधिक अवधि के प्लान में दावा अर्थात क्लेम न करने की स्थिति में 50 एवं 25 फीसदी रिफंड।

मोबाइल फोन इंश्योरेंस कैसे करें?

मोबाइल फोन इंश्योरेंस लेना बेहद आसान है। आपको जानकारी देते हैं कि आप मोबाइल फोन इंश्योरेंस कैसे कर सकते हैं।

  1. पहली बात तो यह कि जिस वक्त आप मोबाइल फोन खरीदते हैं तभी आपको बीमा के बारे में पूछा जाता है। आप तभी शुरूआती प्रीमियम भरकर इंश्योरेंस करा सकते हैं।
  2. जब आप कोई फोन आनलाइन लेते हैं तो आपको फोन के साथ ही इंश्योरेंस कवर की सुविधा दी जाती है। इस वक्त आपकी इंश्योरेंस प्रीमियम की राशि आपको एक ही बार फोन की कीमत के साथ ही भरनी पड़ती है।
  3. यदि आपने मोबाइल फोन के साथ इंश्योरेंस कवर नहीं लिया है तो आपको इंश्योरेंस कंपनी की वेबसाइट पर जाकर आनलाइन आवेदन फाॅर्म भरना होगा। इसके पश्चात आप संबंधी प्रीमियम भरकर मोबाइल इंश्योरेंस ले सकते हैं।
  4. जिस समय आप मोबाइल फोन इंश्योरेंस खरीदते हैं। उसी समय आपको बीमा अवधि के संबंध में बताया जाता है। यदि बीमा की अवधि समाप्त हो जाती है तो आप यदि चाहें उसे रिन्यू भी करा सकते हैं।

मोबाइल फोन इंश्योरेंस उसकी खरीद के पांच दिन के अंदर ही ले सकते हैं?

आम तौर पर मोबाइल फोन इंश्योरेंस को उसकी खरीद के पांच दिन के अंदर ही खरीदा जा सकता है। इससे अधिक देरी पर आप मोबाइल फोन इंश्योरेंस नहीं ले सकेंगे। अधिकांश बीमा कंपनियां मोबाइल फोन का केवल एक ही साल का बीमा करती हैं।

यदि आप उससे अधिक का बीमा करवाना चाहते हैं तो वह एक्सटेनडेंट वारंटी होता है। ऐसी कई कंपनियां हैं, जो मोबाइल फोन इंश्योरेंस प्रदान करती हैं। यदि आप बेस्ट मोबाइल फोन इंश्योरेंस खरीदना चाहते हैं तो आपको विभिन्न कंपनियों के इंश्योरेंस की तुलना कर अपने लिए बेहतर बीमा कंपनी चुन सकते हैं।

मोबाइल फोन इंश्योरेंस कराने के लिए कितना प्रीमियम भरना होगा

यदि आपने अपने मोबाइल फोन का इंश्योरेंस कराने के संबंध निश्चय कर लिया है तो यह सवाल आपके दिमाग में जरूर उठ रहा होगा कि मोबाइल फोन इंश्योरेंस करवाने के लिए आपको कितना प्रीमियम भरना होगा। यह दरअसल, आपके फोन की कीमत पर निर्भर करता है। मोबाइल फोन जितना महंगा होगा, बीमा प्रीमियम उतना ही ज्यादा होगा।

उदाहरण के लिए-यदि आपका फोन छह हजार से लेकर दस हजार रूपये के बीच है तो बीमा प्रीमियम 600 रूपये से 700 रूपये के बीच संभव होगा। इसी प्रकार यदि आपका मोबाइल फोन 50 हजार रूपये से अधिक का है तो आपका प्रीमियम 3000 रूपये तक का हो सकता है।

बेहतर तो यही है कि आप सभी कंपनियों के इंश्योरेंस की तुलना करें एवं अपने फोन के हिसाब से एक बेहतर इंश्योरेंस प्लान ले लें।

मोबाइल फोन इंश्योरेंस का क्लेम कैसे लें?

मोबाइल फोन इंश्योरेंस का क्लेम लेने के लिए आपको एक निर्धारित प्रक्रिया का पालन करना होगा। यह प्रक्रिया निम्नवत है-

  1. आपको सर्वप्रथम अपना फोन गुम होने अथवा डैमेज होने के पश्चात कंपनी द्वारा निर्धारित अवधि से पहले कंपनी को इस संबंध में जानकारी देनी होगी। इसके लिए आप कंपनी के टोल फ्री नंबर पर संपर्क कर सकते हैं अथवा कंपनी की वेबसाइट पर जाकर भी इस संबंध में जानकारी दे सकते हैं।
  2. इसके पश्चात आपको इंश्योरेंस कंपनी की वेबसाइट पर जाकर क्लेम फाॅर्म भरना होगा। यह फाॅर्म आप अपने नजदीकी कार्यालय में जाकर भी भर सकते हैं।
  3. यदि आपका मोबाइल फोन खो गया है अथवा चोरी हो गया है तो आपको सबसे पहले अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज करनी होगी। साथ ही इसकी एक काॅपी इंश्योरेंस कंपनी में सबमिट करनी होगी।
  4. यदि आपके फोन में आग लग जाए तो फोन के डैमेज क्लेम के लिए आपको फायर रिपोर्ट की एक काॅपी भी इंश्योरेंस कंपनी को सबमिट करनी होगी।
  5. डैमेज मोबाइल फोन के कुछ फोटो भी आपको इंश्योरेंस कंपनी को सबमिट करने होंगे।
  6. इसके बाद आपके क्लेम फाॅर्म एवं मोबाइल फोन की जांच की जाएगी।
  7. सब कुछ सही पाए जाने पर आपके बीमा पाॅलिसी कवर के मुताबिक आपको 15 दिन से लेकर 30 दिन के भीतर क्लेम दे दिया जाएगा अथवा आपका फोन रिपेयर कराकर दिया जाएगा।
  8. यदि क्लेम प्रक्रिया के दौरान आपको किसी किस्म की सहायता चाहिए तो आप इंश्योरेंस कंपनी की कस्टमर केयर सर्विस से सहायता ले सकते हैं।

इंश्योरेंस क्लेम के लिए आपको किन दस्तावेजों की आवश्यकता होगी

मोबाइल फोन इंश्योरेंस क्लेम के लिए आपको इससे संबंधित कुछ आवश्यक दस्तावेजों को 48 घंटे के भीतर इंश्योरेंस कंपनी में भेजना होगा। इसके पश्चात क्लेम की कार्रवाई शुरू होगी। इंश्योरेंस कंपनी में जमा किए जाने वाले दस्तावेजों की सूची निम्नवत है-

  • मोबाइल फोन के बिल की आरिजिनल काॅपी। [Original copy of mobile phone bill.]
  • डैमेज मोबाइल फोन के फोटोग्राफ। [Photograph of damaged mobile phone.]
  • चोरी हुए फोन की एक एफआईआर काॅपी। [An FIR copy of the stolen phone.]
  • क्लेम फाॅर्म। [Claim Form.]
  • बीमित व्यक्ति की बैंक पासबुक। [Bank passbook of the insured.]

आपको किन स्थितियों में मोबाइल क्लेम नहीं मिलेगा

मोबाइल फोन इंश्योरेंस लेने के बावजूद ऐसी कई स्थितियां हैं, जिनमें आपको मोबाइल फोन क्लेम नहीं मिलेगा। यह स्थितियां निम्नवत हैं-

  • यदि आप अपने मोबाइल फोन को स्वयं जानबूझकर नुकसान पहुंचाते हैं।
  • यदि आपके फोन में साफ्टवेयर सिस्टम में कोई गड़बड़ी आती है तो क्लेम नहीं मिलेगा।
  • यदि आपके मोबाइल फोन में पहले से ही कोई समस्या है तो आपको इसका क्लेम नहीं मिलेगा।
  • यदि आपके शहर में मौसम के बदलाव की वजह से आपका मोबाइल फोन डैमेज हुआ तो है तो भी आप क्लेम के हकदार नहीं होंगे।

भारत में मोबाइल फोन इंश्योरेंस कौन ले सकता है?

  • मोबाइल इंश्योरेंस कराने के लिए आवेदक की आयु 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।
  • मोबाइल फोन इंश्योरेंस केवल उपयोगकर्ता के नाम पर किया जाएगा।
  • मोबाइल कर्ता के पास मोबाइल फोन की खरीद का आरिजिनल बिल होना चाहिए।

मोबाइल फोन इंश्योरेंस कौन कौन सी कंपनियां देती हैं

हमारे देश में ऐसी बहुत सी कंपनियां संचालित हो रही हैं, जो मोबाइल फोन इंश्योरेंस उपलब्ध कराती हैं। यदि प्रमुख कंपनियों के नामों का उल्लेख करें तो इनमें नेशनल इंश्योरेंस कंपनी, ओरिएंटल इंश्योरेंस कंपनी, बजाज एलियांज, न्यू इंडिया एश्योरेंस कंपनी आदि हैं। बहुत सी कंपनियां थर्ड पार्टी बीमा भी प्रदान करती हैं।

महंगे मोबाइल के लिए इंश्योरेंस बेहद आवश्यक

हमारे देश में महंगे फोन यूज करने वाले यूजर्स की कमी नहीं है। एपल समेत तमाम कंपनियां महंगे फोन लांच कर रही हैं। जैसे एपल का आईफोन 12 प्रो मैक्स, जिसकी कीमत करीब पौने दो लाख रुपये है। इसके अतिरिक्त एपल का ही एक अन्य वैरिएंट करीब डेढ़ लाख से अधिक है।

वहीं, एपल आईफोन 13 मिनी लगभग 80 हजार रूपये का है। यदि यह फोन चोरी हो जाए अथवा गुम हो जाए तो आपको लाखों की चपत लगनी तय है।

इस नुकसान से बचने के लिए यह आवश्यक है कि इस तरह के महंगे मोबाइल फोन का इंश्योरेंस अवश्य लिया जाए, ताकि बाद में बीमा कंपनी से क्लेम लिया जा सके। नुकसान होने पर रोना न पड़े।

बेहतर मोबाइल फोन इंश्योरेंस कंपनी का चुनाव कैसे करें?

मोबाइल फोन इंश्योरेंस कराने के इच्छुकों के सामने एक बड़ी समस्या यह रहती है कि वे एक बेहतर मोबाइल फोन इंश्योरेंस का चुनाव कैसे करें। यह एक बड़ी दिक्कत है, जिससे बड़े बड़े टेक्नोक्रेट्रस जूझते हैं। एक बेहतर मोबाइल फोन इंश्योरेंस कंपनी कैसे चुनें, इसके लिए हमारे कुछ सुझाव हैं। आप यह कर सकते हैं-

  1. सर्वप्रथम मोबाइल इंश्योरेंस कंपनी के आनलाइन रिव्यू पढ़ें एवं कंपनी के बारे में जानकारी प्राप्त करें। जैसे कि क्या दूसरे उपभोक्ताओं को संबंधित कंपनी से बीमा क्लेम हासिल करने में किसी तरह की कोई दिक्कत आई है या नहीं। यदि यूजर्स के रिव्यू अच्छे नहीं हैं तो वहां से मोबाइल फोन इंश्योरेंस पाॅलिसी न खरीदें।
  2. अब, दूसरी एवं महत्वपूर्ण बात। केवल एक ही वेबसाइट पर आ रहे रिव्यू को पढ़कर कोई अंतिम फेसला न लें। क्योंकि इन दिनों कई वेबसाइट्स पर पेड रिव्यूज का चलन बढ़ रहा है। यहां पैसा लेकर रिव्यू लिखे जाते हैं। आप तीन-चार वेबसाइट का रिव्यू पढ़कर ही किसी इंश्योरेंस कंपनी से मोबाइल फोन इंश्योरेंस खरीदने पर अंतिम निर्णय लें।
  3. आप इंश्योरेंस से पहले यह जानकारी प्राप्त कर लें कि क्या कंपनी किस तरह का सर्विस चार्ज लेती है? क्या मोबाइल इंश्योरेंस कंपनी कैशलेस सुविधा भी प्रदान करती है अथवा नहीं।
  4. आपको मोबाइल फोन इंश्योरेंस कंपनी से यह जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए कि पाॅलिसी की अवधि के दौरान कितने क्लेम किए जा सकते हैं। कई कंपनियां सम इंश्योर्ड पूरा होने तक क्लेम का असर देती हैं एवं कुछ केवल एक दो क्लेम। ऐसे में जो कंपनी सम इंश्योर्ड पूरा होने तक क्लेम का मौका देती है, उसमें आपका लाभ होगा।
  5. आपको जानना होगा कि क्लेम लेने की प्रक्रिया क्या है। क्या कंपनी आपको डोर स्टेप यानी घर बैठे सुविधा प्रदान करती है?
  6. यह भी जानें कि पाॅलिसी में क्या कवर किया जा रहा है एवं क्या नहीं। डिडक्शन भी पता करें।

बीमा आग्रह की विषय वस्तु है, इस बात का ध्यान रखें

एक सरकारी बीमा कंपनी की टैग लाइन है-बीमा आग्रह की विषय वस्तु है। मोबाइल फोन इंश्योरेंस के मामले में भी यह बात बिल्कुल सटीक बैठती है। आपकी जान पहचान में भी ऐसे बहुत से लोग होंगे, जो महंगा मोबाइल फोन रखना पसंद करते होंगे। आप ऐसे लोगों को मोबाइल फोन इंश्योरेंस लेने के लिए भी अधिक से अधिक जागरूक करें।

इसके लिए आप हमारी पोस्ट को उनके साथ शेयर करना न भूलें। यकीन मानिए, यदि उनका मोबाइल फोन गुम होता है, चोरी होता है, अथवा डैमेज होता है तो वह इस आग्रह के लिए आपका हमेशा अहसानमंद रहेंगे।

लेकिन दूसरों को प्रेरित करने के चक्कर में अपने मोबाइल फोन का इंश्योरेंस लेना भी न भूलें। जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं, यह मोबाइल फोन इंश्योरेंस आपके मोबाइल फोन एवं आपकी जेब को कई तरह के नुकसानों से सुरक्षित करेगा।

हमने आपको मोबाइल फोन इंश्योरेंस के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इस जानकारी के आधार पर आप अपने मोबाइल फोन का इंश्योरेंस करा सकते हैं एवं क्लेम हासिल कर सकते हैं। आपको यह पोस्ट कैसे लगी, इस संबंध में हमें बताना न भूलिएगा। धन्यवाद।

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment