Mastodon Kya Hai? Mastodon Social Par Account Kaise Banaye?

What is Mastodon in Hindi : Social Media की दुनिया में एक नई सोशल मीडिया साइट का जन्‍म हो चुका है। दुनिया की इस बेहतरीन सोशल मीडिया वेबसाइट का नाम Mastodon Social है।

चूंकि Mastodon Social एक नया Social Media Platform है। इसलिये भारत में इस वेबसाइट के बारे मे जानकारी नहीं है। या बहुत ही कम जानकारी है।

What is Mastodon in Hindi Mastodon Kya Hai? इस बारे में इंटरनेट पर हिंदी भाषा में लेख भी मौजूद नहीं हैं। इसलिये आज हम आपको मास्‍टोडोन क्‍या है? के बारे में विस्‍तार से हिंदी में बताने जा रहे हैं।

हम सभी के लिये इस वेबसाइट के बारे में जानना बेहद जरूरी है। क्‍योंकि माना जा रहा है, कि मास्‍टोडोन दुनिया की सबसे तेजी से पॉपुलर होने वाली सोशल मीडिया वेबसाइट बन कर उभर रही है।

Mastodon Kya Hai? मास्‍टोडोन क्‍या है?

Mastodon एक Social मीडिया वेबसाइट है। जिस पर लोग Facebook और Twitter की तरह ही अपने विचार, फोटो और लिंक आदि शेयर कर सकते हैं।

मास्‍टोडोन देखने में एक दम टिवटर जैसा ही दिखता है। लेकिन है बिल्‍कुल अलग। कई मायनों में यह यूजर्स के सामने कुछ नई विशेषतायें लेकर आया है। यह विशेषतायें ऐसी हैं, जिसकी वजह से Mastodon Social दूसरी सोशल मीडिया साइटस से अलग दिखाई पड़ता है।

जब से गूगल प्‍लस जैसी सोशल मीडिया वेबसाइट को Google ने अपरिहार्य कारणों से बंद किया है। तभी से एक नई सोशल मीडिया वेबसाइट की कमी पूरे देश में महसूस की जा रही थी।

अब इसी कमी को पूरा करने के मकसद से मास्‍टोडोन हम सबके सामने आया है। यह बहुत तेजी से Popular हो रहा है। जिसकी वजह से आने वाले समय में फेसबुक और टिवटर को कड़ी प्रतिस्‍पर्धा का सामना करना पड़ सकता है।

भारत में Mastodon Social कब चर्चा में आया?

वैसे तो Mastodon पिछले 3 साल से इंटरनेट पर मौजूद हैं। इस दौरान यूरोप, आस्‍ट्रेलिया, अमेरिका और अफ्रीकी देशों में इसकी खूब लोकप्रियता भी बढ़ी है।

लेकिन भारत में इस Social Media Platform के बारे में तब पता चला, जब पिछले 1-2 सप्‍ताह पहले यह अचानक चर्चा में आ गया।

2 सप्‍ताह पहले सुप्रीम कोर्ट के वकील संजय हेगड़े ने अपने Twitter हैंडल पर नाजियों के बारे में कोई टिप्‍पणी की थी। जिसकी वजह से टिवटर ने उनके Account पर 2 बार कार्रवाही की और उसे बंद कर दिया।

प्राप्‍त जानकारी के अनुसार संजय हेगड़े ने नाजी जर्मनी का वर्ष 1936 का 1 फोटो Retweet किया था। इस फोटोग्राफ में जर्मन नागरिक August Landmesser ने नाजी सेल्‍यूट देने से इन्‍कार किया था।

यह फोटो बहुत ही ऐतिहासिक है। जर्मन नागरिक August Landmesser के इस कदम को हिटलर के नाजी हुक्‍म का उल्‍लघंन माना गया था।

इस फोटो पर टिवटर ने आपत्ति जताई और सुप्रीम कोर्ट के वकील संजय हेगड़े पर कार्रवाही करते हुये उनका अकाउंट बंद कर दिया।

लेकिन टिवटर के इस कदम पर सोशल मीडिया कम्‍यूनिटी में भारी विरोध हुआ और टिवटर को अपने कदम वापस खींचने पड़े लेकिन टिवटर ने उनका अकाउंट चालू कर दिया।

लेकिन उनकी फोटो और टिप्‍पणी को हटा दिया। जिसके बाद एक बार फिर टिवटर को विरोध का सामना करना पड़ा।

जब टिवटर ने दूसरी बार संजय हेगड़े का अकाउंट प्रतिबंधित किया तो उन्‍होंनें पलटवार करते हुये टिवटर छोड़ने का ऐलान कर दिया और घोषणा की, कि वह टिवटर का प्‍लेटफार्म छोड़ कर Mastodon Join करने जा रहे हैं।

यही वह कदम था। जब अचानक से Mastodon Social भारत में चर्चा में आ गया। अब टिवटर और फेसबुक से पीडि़त लोग यह जानने का प्रयास करने में लगे हुये हैं कि मास्‍टोडोन क्‍या है और इस पर Account कैसे बनायें?

Also Read :

क्‍या Mastodon Social हिंदी को सपोर्ट करता है?

जी हां दोस्‍तों, आप हिंदी भाषा में भी मास्‍टोडोन नेटवर्क का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। मास्‍टोडोन सोशल का निर्मांण दुनिया की तमाम भाषाओं और वहां निवास करने वाले यूजर्स की सुविधा को ध्‍यान में रखते हुये किया गया है।

मास्‍टोडोन सोशल टिवटर से कितना अलग है?

मास्‍टोडोन सोशल देखने में टिवटर जैसा ही है। लेकिन इस प्‍लेटफार्म पर आपको 500 कैरेक्‍टर का टिवीट करने की सुविधा मिलती है।

जबकि टिवटर पर आप केवल 280 कैरेक्‍टर का ही टिवीट कर सकते हैं। एक और बात टिवटर का प्रतीक चिन्‍ह एक चिडि़या है जबकि मास्‍टोडोन का प्रतीक चिन्‍ह हाथी है। जिसके हाथ में मोबाइल फोन है।

Mastodon कब launch हुआ था? मास्‍टोडोन की स्‍थापना कब और किसने की थी?

Who Created Mastodon : मास्‍टोडोन सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म की स्‍थापना 16 मार्च सन 2016 में हुई थी। इसके संस्‍थापक Eugen Rochko (यूजेन रोज्‍को) ने की थी।

यूजेन रोज्‍को ने मास्‍टोडोन सोशल का निर्मांण के लिये टिवटर मॉडल का प्रयोग किया था। यही कारण है कि इसका रंग रूप और प्रकृति बहुत हद तक टिवटर से मिलती जुलती है।

लेकिन एक ओर जहां टिवटर हमारे संदेशों तथा अन्‍य Data का इस्‍तेमाल अपनी आमदनी बढ़ाने पर करता है, वहीं मास्‍टोडोन हमारे डेटा के साथ न तो छेड़छाड़ करता है और न ही उसका व्‍यवसायिक इस्‍तेमाल करता है।

मास्‍टोडोन की कुछ विशेषतायें जो आपको जरूर जाननी चाहिए

  • मास्‍टोडोन सोशल पर भेजे जाने वाले संदेश को Toot (टूट) कहा जाता है।
  • मास्‍टोडोन का प्रतीक चिन्‍ह हाथी है, जिसके हाथ में मोबाइल फोन है।
  • इसके जरिये आप 500 कैरेक्‍टर का Toot तस्‍वीर के साथ शेयर कर सकते हैं।
  • यह हिंदी भाषा को सपोर्ट करता है।
  • यह अपने यूजर्स के डाटा का गलत प्रयोग नहीं करता है।
  • मास्‍टोडोन आपको खुद का एक सोशल नेटवर्क बनाने की सुविधा प्रदान करता है। जिसका Data आप इसके Network पर अलग अलग सर्वर नोड पर Save कर सकते हैं।
  • आप अपने Data को नियंत्रित भी कर सकते हैं। जबकि टिवटर और फेसबुक जैसी साइटें आपके डाटा का गलत तरीके से व्‍यवसायिक इस्‍तेमाल करती हैं।
  • इस प्‍लेटफार्म पर आपके Comments सबको पढ़ने के लिये उपलब्‍ध होते हैं। लेकिन भेजे गये प्राइवेट मैसेज तथा डायरेक्‍ट संदेशों को आप अपनी सुविधा के अनुसार नियंत्रित कर सकते हैं।

Mastodon Social कितना Safe है?

दोस्‍तों, Mastodon Social पूरी तरह सु‍रक्षित सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म बन कर उभर रहा है। यह फेसबुक और टिवटर की तरह असुरक्षित नहीं है। इसलिये आप इस प्‍लेटफार्म का इस्‍तेमाल बेखौफ होकर कर सकते हैं।

मास्‍टोडोन का भारत में भविष्‍य कैसा होगा?

जिस प्रकार भारत में लोग फेसबुक और टिवटर के तानाशाही रवैये के चलते नाखुश हो रहे हैं, उसे देख कर लगता है, कि आने वाले दिनों में भारी संख्‍या में लोग अपने पुराने सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म को छोड कर मास्‍टोडोन पर ट्रांसफर हो जाएंगें। जिसकी वजह से इसका भारत में भविष्‍य उज्‍जवल दिखाई पड़ रहा है।

वर्तमान में अधिकांश भारतीयों का मानना है कि फेसबुक और टिवटर देश के अल्‍पसंख्‍यकों, दलितों तथा महिलाओं के साथ पक्षपात कर रहा है। ऐसे में इन दोनों सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म पर गंभीर आरोप भी लगे हैं।

भारत में हर पढ़े लिखे बुद्धिजीवी अब मास्‍टोडोन की ओर रूख करने लगे हैं। जिनमें प्रमुख नाम संजय हेगड़े (सुप्रीम कोर्ट के वकील), कविता कृष्‍णन (सामाजिक कार्यकर्ता) विशाल डडलानी (प्रसिद्ध संगीतकार) जमशेद आजमी (बाल साहित्‍यकार) आदि मास्‍टोडोन पर शिफ्ट हो गये हैं।

मास्‍टोडोन ने अपने यूजर्स से क्‍या वादा किया है?

Mastodon Social ने वादा किया है कि वह भारत के सामाजिक ताने बाने के अनुरूप अपनी नीतियों को संशोधित करेगा और धार्मिक, जातीय तथा लैंगिंक पक्षपात नहीं करेगा।

इसके अलावा मास्‍टोडोन सोशल इंडिया में Abuse, Hate Speech करने वाले लोगों को हमेशा के लिये प्रतिबंधित कर देगा। साथ ही थर्ड पार्टी विज्ञापन करने की अनुमति प्रदान नहीं करेगा।

यह घोषणा इसके टर्म एंड कंडीशन में मौजूद है। इसलिये जो लोग भारत में हेट स्‍पीच तथा अभद्र भाषा का प्रयोग कर रहे हैं। वह इस प्‍लेटफार्म पर अधिक दिन तक टिक नहीं पायेंगें। कुल मिला कर मास्‍टोडोन भद्र लोगों का सोशल मीडिया प्‍लेटफार्म बनने जा रहा है।

Mastodon Social Par Account Kaise Banaye?

यदि आप Mastodon Social Par Account बनाना चाहते हैं। तो आप नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करके अपना अकाउंट बना सकते हैं।

Account Process Step One

  • आप जैसे ही ऊपर दिये गये लिंक पर क्लिक करेंगें तो आप सीधे Log in तथा Signup पेज पर पहुंच जाएंगें।
  • आप सबसे पहले यहां अपना रजिस्‍ट्रेशन करें।
  • आप सबसे पहले दिखाई पड़ रहे बॉक्‍स में अपनी यूजर आई चुनें।
  • फिर अपनी ईमेल आई डी डालें।
  • इसके बाद पासवर्ड सेट करें।
  • अब पासवर्ड कन्‍फर्म करें।
  • सर्वर रूल्‍स और टर्म एंड कंडीशन पर सहमति जताने के लिये टिक का निशान लगायें।
  • अंत में Sign Up पर क्लिक करें।
  • साइन अप पर क्लिक करते ही आपको अगले पेज पर एक मैसेज दिखाई पड़ेगा। जिसमें आपको अपना ईमेल वेरीफिकेशन प्रोसेस पूरा करना है।

Step Two

  • इसलिये आप अपना ईमेल लाग इन करें और यहां मौजूद मास्‍टोडोन ईमेल के जरिये अपना वैरीफिकेशन पूरा करें।
  • इसके बाद आपका अकाउंट वेरीफाई हो जाएगा और आपका Mastodon Account बन जाएगा। अब आपको Get Started पर क्लिक करना है और फिर Next पर क्लिक करते जाना है।

Step Three Create Your First Toot

  • अगले चरण में आपको अपना Home Page नजर आने लगेगा। अब आप यहां अपनी प्रोफाइल सेट कर सकते हैं। अपना फोटोग्राफ सेट करें और Header Image सेट करें।
  • यहां आप जितनी जरूरी हो उतनी जानकारी अपने लिये सेट कर सकते हैं।
  • इसके बाद आप अपना पहला TOOT संदेश भेजने में सक्षम हो जाएंगें।

तो Friends यह थी मेरी आज की पोस्‍ट Mastodon Kya Hai? Mastodon Social Par Account Kaise Banaye? यदि आप Mastodon Social Account के बारे में कोई अन्‍य प्रश्‍न पूछना चाहते हैं, तो आप कमेंट बॉक्‍स के जरिये पूछ सकते हैं।

Spread the love

Leave a Comment