एलएलबी कैसे करे? | योग्यता, कोर्स, परीक्षा व सैलरी | LLB kaise kare

LLB kaise kare:- क्या आप एलएलबी करने जा रहे हैं और इसके बारे में जानकारी पाना चाहते हैं? तो आज हम आपको बता दे कि एलएलबी का संबंध देश की कानून व्यवस्था से हैं। अब कानून का नाम सामने आते ही आपके दिमाग में क्या (LLB full form in Hindi) आता होगा? अवश्य ही आपके दिमाग में पुलिस आई होगी लेकिन आप कानून का कानून की नगरी में पालन करवाने वाले वकीलों को कैसे भूल सकते हैं।

जिस प्रकार पुलिस का उत्तरदायित्व कानून का पालन करवाना होता हैं ठीक उसी प्रकार कानून के अनुसार दोषी को दंड मिले (BA LLB kaise kare) और निर्दोष को न्याय, इसका उत्तरदायित्व वकील का ही होता हैं। तो यदि आप वकील बनना चाहते हैं तो आज हम आपको उसी के बारे में बताए जा रहे हैं। वकील बनने के (LLB ki padhai kaise karen) लिए आपको एलएलबी करनी पड़ेगी।

तो आज के इस लेख में आपको एलएलबी करने के ऊपर संपूर्ण जानकारी मिलने जा रही हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि इस लेख के माध्यम से आप जान पाएंगे कि आखिरकार एलएलबी (LLB ki taiyari kaise kare) करने के लिए क्या करना होता हैं और क्या नही, साथ ही आप एलएलबी करने के बाद क्या क्या कर सकते हैं या एलएलबी करने के लिए क्या क्या कर सकते हैं। आइए जाने यदि आपको एलएलबी करनी होगी तो आपको क्या कुछ करना पड़ेगा।

Contents show

एलएलबी क्या है (LLB kya hai in Hindi)

अब आपको यह जान लेना चाहिए कि आखिरकार यह एलएलबी होती क्या हैं और कैसे आप इसकी सहायता से वकील बन सकते हैं। तो आज हम आपको बता (LLB full details in Hindi) दे कि आपको कुछ भी बनने के लिए उस कह्त्र में डिग्री लेने की आवश्यकता होती हैं फिर चाहे वह इंजीनियरिंग की डिग्री हो या फिर सीए की या किसी अन्य चीज़ में। तो उसी तरह यदि आप वकील बनना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एलएलबी की डिग्री लेनी ही पड़ेगी।

एलएलबी कैसे करे योग्यता कोर्स परीक्षा व सैलरी LLB kaise kare

तो ऐसे में देश में जो व्यक्ति भी वकील हैं या बनने जा रहे हैं उनके पास एलएलबी की डिग्री होना अति आवश्यक हो जाता हैं। यदि किसी व्यक्ति के पास एलएलबी की डिग्री नही होती हैं तो वह किसी भी न्यायालय में वकील के तौर पर काम नही कर सकता हैं। तो यदि आप वकील बनना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एलएलबी की डिग्री लेनी ही पड़ेगी।

एलएलबी की फुल फॉर्म (LLB full form in Hindi)

बहुत से लोग एलएलबी की फुल फॉर्म को लेकर अनभिज्ञ होते हैं या यह जानना चाहते हैं कि आखिरकार एलएलबी की फुल फॉर्म क्या होती हैं या फिर एलएलबी का पूरा नाम क्या हैं। तो यदि आप एलएलबी का पूरा नाम जानना चाहते हैं तो आज हम आपको बता दे कि इसका कोई एक नाम नही हैं। दरअसल यह मूल रूप से लैटिन भाषा का नाम हैं जो भारत सहित पूरे विश्व में इस्तेमाल किया जाता हैं।

इसके साथ ही इसके कई अन्य नाम भी हैं। तो आपका एलएलबी का सभी तरह के नाम जानना आवश्यक हैं ताकि कोई भी जानकारी अधूरी ना रह जाए। तो आज हम आपको एक एक करके एलएलबी की सभी फुल फॉर्म बताएँगे।

  • सबसे पहले तो एलएलबी के सर्वप्रसिद्ध और विख्यात नाम को जान लिया जाए जो कि पूरे विश्व में इस्तेमाल किया जाता हैं। यह नाम है Legum Baccalaureus जो कि लैटिन भाषा का ही एक शब्द हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि यह नाम अवश्य ही आपको अजीब सा लगा होगा क्योंकि यह आपको ज्यादा समझ में नही आया होगा। इसका कारण हैं कि यह ना हिंदी का नाम हैं और ना ही अंग्रेजी भाषा का नाम। यह लैटिन भाषा हैं जो कि लैटिन अमेरिका में बोली जाती हैं।
  • अब यदि आप सोच रहे हैं कि एलएलबी का पूरा नाम Legum Baccalaureus हैं तो फिर इसकी शोर्ट फॉर्म एलएलबी क्यों हैं, LB क्यों नही। तो अब हम आपका यह भ्रम भी दूर कर देते हैं। दरअसल इसे लैटिन अमेरिका में तो Legum Baccalaureus के नाम से जाना जाता हैं लेकिन चूँकि संपूर्ण विश्व के लिए यह लैटिन भाषा का शब्द हैं, इसलिए हम सभी इसे Latin Legum Baccalaureus के नाम से बुलाते हैं। तो हो गया ना यह एलएलबी का फुल फॉर्म।
  • अब यदि एलएलबी के अंग्रेजी नाम की बात की जाए तो उसे हम बैचलर इन लेजिस्लेटिव लॉ (Bachelor of Legislative Law) के नाम से जान सकते हैं। अब शायद आपको यह नाम कुछ सुना सुना सा लग रहा होगा क्योंकि अंग्रेजी भाषा तो हम समझ ही सकते हैं। आखिरकार अंग्रेज हमारे ऊपर इतने वर्ष तक शासन करके जो गए हैं।
  • अब अंग्रेजी में इसे एक नाम से और जाना जाता हैं जो ऊपर दिए गए नाम का ही शोर्ट फॉर्म हैं। तो यदि हम एलएलबी के अन्य नाम की बाते करें तो उसे अंग्रेजी में बैचलर ऑफ़ लॉ (Bachelor of Law) के नाम से भी जाना जाएगा।
  • अब हमने एलएलबी के लैटिन नाम और अंग्रेजी भाषा के नाम की चर्चा तो कर ली लेकिन अपनी मातृभाषा हिंदी में इसकी फुल फॉर्म की बात ना की जाए तो यह अन्याय होगा। तो आज हम आपको एलएलबी के हिंदी नाम को भी बता देते हैं। हिंदी में एलएलबी की फुल फॉर्म होगी कानून में स्नातक।

एलएलबी करने के लिए योग्यता (LLB karne ki yogyata)

अब हम जानेंगे कि एलएलबी कने के लिए आपके अंदर किन किन योग्यताओं का होना आवश्यक हैं। ऐसे में यदि आप एलएलबी करने जा रहे हैं तो आपके अंदर पहले से ही कुछ गुण होने बहुत ही जरुरी हो जाते हैं। बिना इनके आप एलएलबी नही कर पाएंगे। तो आइए जाने एलएलबी करने के लिए आवश्यक योग्यताएं या गुण।

  • कानून की समझ

सबसे पहली चीज़ जो आपको एलएलबी करने के लिए आवश्यक हैं वह यह हैं कि आपको कानून की अच्छी समझ होनी चाहिए। कोई भी नागरिक जिसे कानून में रुचि नही हो या उसे यह ठीक से समझ में ना आता हो वह एलएलबी शायद ही कर पाएगा। तो यदि आप एलएलबी करना चाहते हैं तो आपको पहले इतना योग्य होना पड़ेगा कि आप कानून की अच्छी समझ रखते हो।

हमारे देश का कानून कई देशों से लिया गया हैं और उसमे कई तरह की धाराएँ हैं। ऐसे में यदि आप इसमें उलझ कर रह जाएंगे तो फिर केस को कैसे ही सुलझा पाएंगे। इसलिए यदि आप कानून को समझने की ताकत रखते हैं तभी आप एलएलबी करने पर विचार करें।

  • भाषाओँ का ज्ञान

अब यदि आप एलएलबी करने जा रहे हैं तो आपको देश में बोली जाने वाली दो मुख्य भाषाओँ का ज्ञान रखे जो हैं हिंदी व अंग्रेजी। इसी के साथ आप देश के जिस भी राज्य में एलएलबी कर रहे हैं या जिस भी न्यायालय में वकील बनना चाहते हैं तो आपको अपने राज्य की राजकीय भाषा का ज्ञान होना भी आवश्यक हैं।

इसी के साथ आपकी अंग्रेजी भाषा में अच्छी पकड़ होनी चाहिए। वह इसलिए क्योंकि विधि प्रक्रिया आज भी अंग्रेजी में ही बहुतायत में की जाती हैं। ऐसे में यदि आप न्यायालय के निर्णय ही नही समझ पाएंगे या पढ़ नही पाएंगे तो फिर अपने लोगों के लिए दलील या पैरवी कैसे कर पाएंगे। तो इसके लिए सबसे आवश्यक हैं कि आपको अंग्रेजी भाषा का अच्छे से ज्ञान हो।

  • मानवीयता

एलएलबी करके आप देश में एक वकील की उपाधि प्राप्त कर लेंगे। आपके पास प्रतिदिन के लिए ऐसे केस आएंगे जिसके लिए आपको मानवीयता का परिचय देना पड़ेगा। लोग डॉक्टर, पुलिस या वकील के पास तभी जाते हैं जब वे किसी दुविधा में या संकट में होते हैं। ऐसे में यदि उनके साथ डील करने वाला ही रूखा व्यवहार करेगा तो वे किसी और के पास चले जाएंगे।

इसलिए आपको केस की गंभीरता को समझते हुए अपने स्वभाव में मानवीयता लानी होगी। आपको अपने क्लाइंट के साथ अच्छे से पेश आना होगा और उनकी भावनाओं को समझना होगा। उनके साथ कुछ भी बीता हुआ हो सकता हैं। तो यह आवश्यक हैं कि आप उनके साथ अच्छा व्यवहार करें।

  • धैर्य

अब आपने पुरानी मूवी में सनी देओल का वह चिर परिचित डायलॉग तो सुना ही होगा कि तारीख पर तारीख, तारीख पर तारीख। तो इसका मतलब भी आप भलीभांति जानते होंगे कि किसी भी केस को निपटने में कुछ महीनो से लेकर कई वर्षों तक का समय लग सकता हैं।

तो यदि आप सोचते हैं कि आपके द्वारा किसी केस को लेने पर उसका निपटारा एकदम से हो जाएगा तो आप गलत हैं। कई बार बहुत सीधे केस को भी ख़त्म होने में और निर्णय तक पहुंचने में कई वर्ष लग जाते हैं। ऐसे में जो केस आपके लिए सीधा सा हो, वह जल्दी निपट जाए, यह आवश्यक नही। ऐसे में आपको धैर्य बनाए रखना होगा।

  • समाज सेवा

अब यदि आप एलएलबी कर रहे हैं तो आगे चलकर आप वकील के रूप में ही अपनी भूमिका निभाएंगे। ऐसे में यह आपका कर्तव्य हैं कि आप केवल वही केस ना ले जो धन के अनुसार आपके लिए सही हो। एक वकील का यह कर्तव्य होता हैं कि वह समाज सेवा का काम करे और निर्दोष लोगों को न्याय दिलवाए और दोषियों को दंड।

तो यदि आप यह खूबी रखते हैं और समाज सेवा में विश्वास करते हैं तो अवश्य ही आप एलएलबी का कोर्स करे और यह डिग्री ले। एलएलबी करने के बाद समाज सेवा आपका महत्वपूर्ण काम होगा जिसे आपको करना होगा।

  • वाद विवाद करने की क्षमता

यदि आप अपने स्कूल में वाद विवाद प्रतियोगिता में भाग लेते हैं और उसमे अच्छा प्रदर्शन करते हैं तो आप अवश्य ही आगे चलकर एलएलबी की डिग्री लेने का विचार कर सकते हैं। कहने का तात्पर्य यह हुआ कि एक वकील के रूप में आपको प्रतिदिन ही वाद विवाद करना होगा और अपना पक्ष मजबूती के साथ न्यायाधीश के सामने रखना होगा।

ऐसे में आप चाहे कितने ही सही क्यों ना हो या आपका पक्ष कितना ही मजबूत क्यों ना हो लेकिन यदि आप अपनी दलील ही मजबूती से नही रखेंगे तो इसकी संभावना बहुत कम होगी कि निर्णय आपक पक्ष में आये। इसलिए आपको वाद विवाद करना और अपना पक्ष मजबूती से रखना आना चाहिए।

  • जांच करने की क्षमता

अब यदि आप अपने क्लाइंट का केस मजबूती के साथ रखना चाहते हैं और कोर्ट में जीतना चाहते हैं तो आपको अपनी ओर से भी जांच करनी होगी। आपको केवल पुलिस की कार्यवाही पर ही आँख बंद करके भरोसा नही करना होगा क्योंकि इसमें कई तरह की खामियां भी हो सकती हैं।

ऐसे में आप अपनी ओर से क्या जांच करते हैं और केस को कैसे सुलझाते हैं यह भी बहुत मायने रखता हैं। तो ऐसे में यदि आपकी जांच करने की क्षमता अद्भुत हैं तभी आप आगे बढ़ें।

एलएलबी कैसे करे (LLB kaise kare)

अब जब आप एलएलबी की फुल फॉर्म समेत बाकि चीजों के बारे में जान चुके हैं तो अब हम बात करेंगे की आखिर किस तरह से आप एलएलबी कर सकते हैं। जैसा कि हमने आपको ऊपर ही बताया के यह एक कोर्स होता हैं जिसे आप अपनी बारहवीं कक्षा के बाद कर सकते हैं। तो इसे करने के कई विकल्प आपके पास हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि आप चाहे तो बारहवीं के बाद सीधे एलएलबी में प्रवेश ले सकते हैं या फिर कोई डिग्री करके एलएलबी कर सकते हैं।

एलएलबी से पहले जो डिग्री मुख्य रूप से की जाती हैं वह होती हैं बीए की डिग्री। तो यदि आप बीए की डिग्री करके एलएलबी करना चाहते हैं तो यह आपकी इच्छा हैं (LLB karne ka process) क्योंकि इसके बाद आपके पास एलएलबी करने समेत कई अन्य विकल्प उपलब्ध होंगे। किंतु यदि आप बारहवीं के बाद ही एलएलबी करना चाहते हैं तो यह भी आप पर ही निर्भर करता हैं।

बारहवीं के बाद एलएलबी करना (LLB after 12th)

अब यदि आप बारहवीं के बाद सीधे एलएलबी करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको CLAT की परीक्षा देनी होगी। CLAT की फुल होती हैं कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (Common Law Admission Test) जिसे हर एलएलबी करने वाला छात्र देता हैं। यह परीक्षा भारत सरकार द्वारा देश के लॉ कॉलेज में प्रवेश करवाने के लिए आयोजित करवाई जाती हैं।

इसे क्लियर करने के बाद आपको एलएलबी के लिए सरकारी कॉलेज में प्रवेश मिल जाएगा। अब वहां आपको 5 वर्ष के लिए पढ़ाई करनी होगी और उसके बाद आपको एलएलबी की डिग्री मिल जाएगी। कहने का अर्थ यह हुआ कि पहले तो आपको CLAT की प्रवेश परीक्षा में बैठना होगा और फिर उसके बाद उसमे चयन होने पर आपको सरकारी लॉ कॉलेज में प्रवेश मिलेगा जहाँ आपको 5 वर्ष के लिए एलएलबी के विषय पढ़ने होंगे।

फिर जब आप पांच वर्ष वहां रहकर एलएलबी की पढ़ाई पूरी कर लेंगे तो वहां से आपको एलएलबी की डिग्री दे दी जाएगी। इसके बाद आप देश के किसी भी न्यायालय में अपनी प्रैक्टिस शुरू कर सकते हैं। इसके लिए आपको कोई नौकरी नही लगना होता हैं बल्कि आपको अपना काम खुद शुरू करना होता हैं या फिर आपको किसी वकील के नीचे रहकर काम करना होता हैं।

बीए के बाद एलएलबी करना (BA LLB kaise kare)

अब यदि आप बीए कर रहे हैं तो आप उसके बाद भी एलएलबी कर सकते हैं। इसमें आपको कुल छह वर्ष का समय लगेगा। कहने का अर्थ यह हुआ कि आप अपनी बारहवीं कक्षा के बाद बीए में प्रवेश लेंगे। अब बीए की डिग्री 3 वर्ष की होती हैं। तो बीए करने में ही आपको 3 वर्ष का समय लग जाएगा। उसके बाद ही आप एलएलबी में प्रवेश ले पाएंगे।

तो जैसे ही आपकी बीए की डिग्री (BA LLB kaise kare in Hindi) पूरी हो जाए तो आप देश के किसी भी कॉलेज में एलएलबी में प्रवेश ले और वहां से 3 वर्ष के लिए एलएलबी की पढ़ाई करे। 3 वर्ष की पढ़ाई करने के पश्चात आपको एलएलबी की डिग्री मिल जाएगी जिसे लेकर आप देश के किसी भी न्यायालय में प्रैक्टिस करना शुरू कर सकते हैं।

बीकॉम के बाद एलएलबी करना (LLB after Bcom)

आप चाहे तो बीकॉम की डिग्री लेने के बाद भी एलएलबी कर सकते हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि यह आवश्यक नही कि आप बीए करने के बाद ही एलएलबी करे। बीकॉम करने वाले छात्रों के बाद भी एलएलबी करने का विकल्प होता हैं। इसके लिए पहले आप अपनी 3 वर्ष की बीकॉम ख़त्म करें। जी हां, सही सुना आपने। बीए की ही तरह बीकॉम भी 3 वर्ष का कोर्स होता हैं।

अब जैसे ही आप अपनी बीकॉम खत्म कर लेंगे तो आपके पास एलएलबी करने का विकल्प होगा जिसे आप चुन सकते हैं। इसे करने में भी आपको 6 वर्ष का ही समय लगेगा अर्थात 3 वर्ष के लिए बीकॉम और फिर 3 वर्ष के लिए एलएलबी की डिग्री लेना। अब इसके बाद जैसे ही आप एलएलबी की डिग्री पूरी कर लेंगे तो आप देश के किसी भी न्यायालय में बतौर अधिवक्ता का काम शुरू कर सकते हैं।

एलएलबी के लिए प्रवेश परीक्षा (LLB admission process in Hindi)

अब ऊपर हमने आपको बताया कि यदि आप सीधे एलएलबी करने जा रहे हैं तो इसके लिए आपको बारहवीं के बाद CLAT की परीक्षा देनी होगी जिससे आपको देश के सर्वोच्च सरकारी लॉ कॉलेज में प्रवेश मिलेगा। लेकिन किसी कारणवश आपका CLAT में प्रवेश नही होता हैं तो आप निराश मत होए क्योंकि कई और भी प्रवेश परीक्षा हैं जो आप दे सकते हैं और एलएलबी कर सकते हैं। उन परीक्षाओं के नाम हैं:

  • AILET
  • LSAT
  • ILI CAT
  • ILSAT
  • LSAT
  • AIBE

एलएलबी के कोर्स (LLB courses)

अब आप सोच रहे होंगे कि यदि आप एलएलबी करने जा रहे हैं तो आपको बस न्यायालय में ही बतौर वकील काम करना होगा लेकिन ऐसा नही हैं। दरअसल यह आप पर निर्भर करता हैं कि आप एलएलबी में किस तरह का कोर्स करने जा रहे हैं क्योंकि उसी के अनुसार निर्धारित होगा कि आप किस क्षेत्र में वकील बन सकते हैं।

इसलिए यह आवश्यक नही कि आप हमेशा न्यायालय में ही वाद विवाद करें, आप बतौर अधिवक्ता अन्य क्षेत्र में भी काम कर सकते हैं जो कानून से जुड़े हुए होते हैं। ऐसे में आप एलएलबी के तहत इन कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं।

  • क्रिमिनल लॉ
  • साइबर लॉ
  • कंपनी लॉ
  • लेबर लॉ
  • एक्साइज लॉ
  • कॉर्पोरेट लॉ
  • ट्रेड लॉ
  • बैंकिंग लॉ
  • फैमिली लॉ
  • बिज़नेस लॉ
  • इंटरनेशनल लॉ
  • पेटेंट लॉ
  • प्रॉपर्टी लॉ
  • इनकम टैक्स लॉ इत्यादि।

तो इस तरह से आप एलएलबी में कई तरह के कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं और उसमे अपनी डिग्री ले सकते हैं। इसमें जो क्रिमिनल व फैमिली लॉ होता हैं उसे में आपको कोर्स में के केस लेने होंगे और वाद विवाद प्रतियोगिता में भाग लेना होगा। अन्य मामलो में आप अपने क्लाइंट के साथ अलग से डील करेंगे।

एलएलबी के टॉप कॉलेज (LLB top colleges in India)

अब आपको यह भी जानना आवश्यक है कि आपके लिए देश में कौन से एलएलबी के कॉलेज बेस्ट रहेंगे या फिर भारत देश में कौन से लॉ कॉलेज एलएलबी के टॉप कॉलेज माने जाते हैं। तो आइए जाने एलएलबी कराने वाले टॉप और बेस्ट लॉ कॉलेज के नाम।

  • नेशनल लॉ स्कूल ऑफ़ इंडिया यूनिवर्सिटी, बैंगलोर
  • पश्चिम बंगाल राष्ट्रीय न्यायिक विज्ञान विश्वविद्यालय
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, दिल्ली
  • राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, जोधपुर
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, जलंधर
  • नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, हैदराबाद
  • जिंदल लॉ ग्लोबल स्कूल, सोनीपत
  • गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी

एलएलबी की फीस (LLB ke fees)

तो अब यदि आप सोच रहे हैं कि यदि आप एलएलबी करेंगे आपका कितना खर्चा हो जाएगा। तो आज हम आपको बता दे कि यह पूर्ण रूप से आपको मिले कॉलेज पर ही निर्भर करेगा कि आपको कितना खर्चा करना पड़ेगा या फिर आपकी फीस कितनी होगी। यदि आप सरकारी कॉलेज में प्रवेश लेते हैं तो आपको कम फीस देनी होगी तो वही निजी कॉलेज में आपकी फीस ज्यादा होगी।

तो यदि आप एलएलबी कर रहे हैं तो आपको एक वर्ष के 10 हज़ार से लेकर एक लाख रुपए तक देने पड़ सकते हैं। इस तरह से 5 वर्ष के लिए आपको 50 हज़ार से लेकर 5 लाख तक रुपए लग सकते हैं। तो वही यदि आप 3 वर्ष की एलएलबी कर रहे हैं तो इसमें आपको 30 हज़ार से लेकर 3 लाख रुपए तक लग सकते हैं।

एलएलबी के बाद नौकरी (LLB karne ke baad kya kare)

अब जब आप एलएलबी कर चुके हैं तो आपको जानना होगा कि इसके बाद आप क्या क्या कर सकते हैं। तो आपके दिमाग में सबसे पहले यही विचार आया होगा कि अब सीधे आपको न्यायालय जाना होगा और वहां जाकर केस लड़ने होंगे। तो यह काम इतना आसान नही होता हैं। आप सीधे जाकर न्यायालय में नौकरी नही कर सकते हैं और इसके लिए पहले आपको किसी प्रतिष्ठित वकील के नीचे रहकर काम करना होता हैं।

जिस प्रकार आप अन्य क्षेत्र में पहले अपने से सीनियर व्याक्ति के नीचे रहकर काम करते हैं और उससे सीखते हैं। ठीक उसी प्रकार आपको एलएलबी में भी यही करना होगा। इसके लिए आपको किसी सीनियर वकील के नीचे रहकर उसके असिस्टेंट के तौर पर काम करना होगा। उनसे आप सीखेंगे कि कोर्ट में कैसे काम होता हैं, केस कैसे लिए जाते हैं, उनका किस तरह से निपटारा किया जाता हैं इत्यादि इत्यादि।

इसके बाद कुछ वर्ष तक आप उनके नीचे रहकर सब काम सीखें और मन लगाकर प्रैक्टिस करें। फिर जब आपको लगता हैं कि अब आप स्वतंत्र रहकर काम कर सकते हैं तो आप अपना अलग से काम करना शुरू कर दे। इसके लिए आप अपने क्लाइंट बना ले क्योंकि वही आपके पास अपना की केस लेकर आएंगे और आपके विवाद का निपटारा करेंगे।

इसी के साथ आप वकील के तौर पर कई अन्य जगह भी काम कर सकते हैं जैसे कि नोटरी के रूप में काम करना या फिर किसी ब्रांड या लोगो को कानूनी मान्यता दिलवाना या ऐसा ही कुछ। एक तरह से एलएलबी की डिग्री करने के बाद आपका काम आपके द्वारा किये गए कोर्स पर ही निर्भर करेगा। इसलिए आप एलएलबी का कोर्स करते समय उसका चुनाव सही से करे और वही चुने जिसमे आपकी रुचि हो।

एलएलबी के बाद सैलरी (LLB karne ke baad salary)

अब सबसे अंतिम और जरुरी बात जो हैं कि एलएलबी करने के बाद एक वकील कितना कमा लेता होगा। तो इसका कोई एक उत्तर नही हो सकता हैं। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि यह पूर्ण रूप से आपे द्वारा करवाए गए काम, आपको मिले क्लाइंट, केस की गंभीरता, उनका निपटारा, आपका अनुभव इत्यादि कई कारको पर निर्भर करता हैं।

अब इस देश में कुछ वकील ऐसे भी हैं जो केवल एक हियरिंग के के ही एक करोड़ रुपए ले लेते हैं तो कुछ वकील ऐसे हैं जो पूरे वर्ष में ही एक लाख रुपए कमा पाते होंगे। तो यह पूर्ण रूप से आप पर ही निर्भर करेगा कि आप अपना काम कैसे करते हैं और कितनी अच्छी तरह से करते हैं।

तो आज के इस लेख में आपने जाना कि किस तरह से आप एलएलबी कर सकते हैं, एलएलबी की फुल फॉर्म क्या होती हैं, एलएलबी करने के लिए आपको क्या क्या करना पड़ेगा या फिर क्या पढ़ना पड़ेगा, एलएलबी करने के बाद आपके पास क्या करियर विकल्प हैं या फिर एलएलबी में आप किस किस तरह के कोर्स कर सकते हैं इत्यादि।

एलएलबी कैसे करे – Related FAQs

प्रश्न: एलएलबी में एडमिशन कैसे होता है?

उत्तर: एलएलबी में एडमिशन करवाने के लिए CLAT की परीक्षा में बैठना होता है।

प्रश्न: एलएलबी के लिए कौन सा विषय सबसे अच्छा है?

उत्तर: एलएलबी के लिए अर्थशास्त्र विषय सबसे अच्छा है।

प्रश्न: वकील बनने के लिए कौन सा विषय लेना पड़ता है?

उत्तर: वकील बनने के लिए एलएलबी विषय लेना पड़ता है।

प्रश्न: ग्रेजुएशन के बाद एलएलबी कितने साल का होता है?

उत्तर: ग्रेजुएशन के बाद एलएलबी 3 साल का होता है।

2 thoughts on “एलएलबी कैसे करे? | योग्यता, कोर्स, परीक्षा व सैलरी | LLB kaise kare”

Leave a Comment