किसान सूर्योदय योजना ऑनलाइन आवेदन, उद्देश्य, लाभ, पात्रता | Kisan Suryoday Yojana

Kisan Suryoday Yojana, किसान सूर्योदय योजना ऑनलाइन आवेदन, Gujarat Kisan Suryoday Yojana Application Form, गुजरात किसान सूर्योदय योजना लाभ व पात्रता

देश में ऐसे लाखों किसान हैं, जिन्हें जरूरत के वक्त बिजली नहीं मिलती। मिलती है तो शिफ्टों में। यानी सुबह कुछ घंटे आएगी तो रात को नहीं और यदि रात को आएगी तो सुबह उसका मुंह देखने को नहीं मिलेगी। जिन जगहों में रात को बिजली आती है, वहां किसानों को रात भर जागकर खेतों को पानी देना पड़ता है। अधिकांश गांवों में जंगली जानवरों की समस्या भी है, ऐसे में उनकी खेती भी सुरक्षित नहीं रहती।

उत्तराखंड जैसे कई प्रदेश में तो कई दूरस्थ गांव ऐसे भी हैं, जहां बिजली के खंभे तक नहीं गड़े। ऐसे में गुजरात के किसानों के लिए वहां की विजय रूपाणी सरकार ने एक योजना शुरू की है, जिसका नाम है किसान सूर्योदय योजना। इस योजना के जरिये सरकार का किसानों को 16 घंटे बिजली आपूर्ति मुहैया कराने का दावा है।

आज इस पोस्ट के जरिये हम आपको इसी योजना के संबंध में जानकारी देंगे। मसलन यह योजना क्या है? इस योजना का उद्देश्य क्या है? इस योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदन कैसे किया जा सकता है? आदि। आइए, शुरू करते हैं-

किसान सूर्योदय योजना क्या है? Kisan Suryoday Yojana In Hindi –

दोस्तों, किसान सूर्योदय योजना बिजली आपूर्ति से संबंधित है। यह योजना गुजरात सरकार की है। इसका मकसद राज्य में प्रतिदिन किसानों को 16 घंटे पावर सप्लाई मुहैया कराना है। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से गुजरात में तीन नए प्रोजेक्ट लांच किए हैं। किसान सूर्योदय योजना इन्हीं में से एक बेहद अहम प्रोजेक्ट है।

24 अक्तूबर को इस योजना का शुभारंभ करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया-किसानों के लिए किसान सूर्योदय योजना आशा और ऊर्जा की एक किरण है। उन्होंने इस योजना का शुभारंभ करते हुए इसकी विशेषताओं पर भी प्रकाश डाला। इसके साथ ही केंद्र सरकार की किसानों के लिए शुरू की गई योजनाओं को भी गिनाया। आपको बता दें कि इस किसान सूर्योदय योजना के तहत किसानों को सुबह पांच बजे से रात के नौ बजे तक बिजली मुहैया कराई जाएगी।

किसान सूर्योदय योजना डिटेल्स –

योजना का नामकिसान सूर्योदय योजना
किसके द्वारा शुरू की गयीपीएम मोदी और गुजरात सरकार द्वारा
लाभार्थीराज्य के किसान नागरिक
उद्देश्यराज्य में सिचाई के लिए बिजली की आपूर्ति करना
किसान सूर्योदय योजना ऑनलाइन आवेदन, उद्देश्य, लाभ, पात्रता | Kisan Suryoday Yojana

किसान सूर्योदय योजना का उद्देश्य/लाभ क्या है?

किसान योजना का सबसे पहला उद्देश्य किसानों की सिंचाई संबंधी परेशानी को हल करना है। खास तौर पर उन किसानों को बिजली की सुविधा देना है, जो रात के वक्त बिजली न आने की वजह से रात भर जागकर अपनी खेती को पानी देने के लिए मजबूर होते हैं। सही वक्त पर सिंचाई से फसलें भी बेहतर होंगी

इससे किसानों की आय पर भी असर होगा। आपको बता दें कि केंद्र सरकार पहले ही 2022 तक देश के किसानों की आय दुगुनी करने का लक्ष्य लेकर चल रही है। यह योजना उसे अपने लक्ष्य को पूरा करने में भी मदद करेगी।

किसान सूर्योदय योजना के लिए कितना बजट निर्धारित किया गया है?

साथियों, आपको बता दें कि गुजरात के किसानों को दिन में पावर सप्लाई मुहैया कराने के लिए कुछ समय पूर्व गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की ओर से किसान सूर्योदय योजना की घोषणा की गई थी। राज्य सरकार की ओर से इसके लिए कुल साढ़े तीन हजार करोड़ रूपये का बजट निर्धारित किया गया है।

इस योजना के अंतर्गत 2023 तक ट्रांसमिशन ढांचा स्थापित किया जाएगा। 220 किलोवाट सब स्टेशनों के साथ ही 66 किलोवाट की 3490 सर्किट किलोमीटर लंबी 234 ट्रांसमिशन (transmission) लाइनें बिछाई जाएंगी। इन लाइनों को दो से तीन साल के भीतर बिछा दिया जाायेगा

किसान सूर्योदय योजना से गुजरात भर में लाखों लोगों को लाभ होगा-

मित्रों, किसान सूर्योदय योजना का शुभारंभ करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ज्यादातर किसान सिंचाई के लिए बिजली केवल रात में पाते हैं। उन्हें इसके लिए रात भर जागना पड़ता है। गिरनार और जूनागढ़ के किसानों का खास तौर पर जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि वे जंगली जानवरों की समस्या का भी सामना करने को मजबूर हैं। कहा कि नई योजना के तहत किसान सुबह पांच बजे से रात नौ बजे तक तीन फेज (phase) में बिजली पा सकेंगे।

आने वाले दिनों में एक हजार सेज्यादा गांवों को इस योजना का लाभ मिलने लगेगा। इनमें से ज्यादातर गांव जनजातीय (tribal) बहुल इलाकों में हैं।जब इस योजना को गुजरात भर में लागू कर दिया जाएगा तो योजना से लाखों किसानों को लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि किसान सूर्योदय योजना से राज्य में लघु सिंचाई को विस्तार देने में भी मदद मिलेगी।

किसान सूर्योदय योजना में 2021 के लिए किन किन जिलों को शामिल किया गया

दोस्तों, जैसा कि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि किसान सर्वोदय योजना के तहत चरणबद्व तरीके से काम किया जाएगा। ऐसे में वर्ष 2021 के लिए दाहोद, पाटन, महिसागर, पंचमहल, छोटा उदेपुर, खेड़ा, तापी, वलसाड़, आनंद और गिर-सोमनाथ को इस योजना में शामिल किया गया है।

सरकार की तैयारी शेष जिलों को चरणबद्व तरीके से 2022-23 तक इस योजना में शामिल कर लिए जाने की है। योजना को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए इसे चरणबद्व तरीके से लागू किया जा रहा है।

किसान सूर्योदय के साथ ही दो और योजनाओं का शुभारंभ-

दोस्तों, आपको बता दें कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसान सूर्योदय योजना के साथ ही दो अन्य प्रोजेक्ट्स का भी शुभारंभ किया है। इनमें से एक योजना है यूएन मेहता इंस्टीट्यूट आफ कार्डियोलाॅजी एंड रिसर्च के साथ ही पीडियाट्र्कि हार्ट अस्पताल। और दूसरी गिरनार रोपवे। हार्ट अस्पताल अहमदाबाद में स्थति है, जबकि गिरनार रोपवे जूनागढ़ जिले में स्थिति है।

जहां मरीजों की सुविधा की दृष्टि से यूएन मेहता इंस्टीट्यूट आफ कार्डियोलाॅजी एंड रिसर्च के साथ ही पीडियाट्रिक्स हार्ट अस्पताल को एक बेहतर कदम माना जा रहा है, वहीं गिरनार रोपवे के जरिये जूनागढ़ में पर्यटक सुविधा विकसित होने और पर्यटन को बढ़ावा मिलने की संभावना जताई जा रही है। आपको बता दें कि इन योजनाओं पर 130 करोड़ रूपये की लागत आई है।

किसान सूर्योदय योजना के लिए ऐसे आवेदन करें?

साथियों, आप जानते ही हैं कि जब भी सरकार कोई योजना शुरू करती है तो उसके लाभार्थियों को आफलाइन (offline) या आनलाइन (online) आवेदन करना होता है ताकि वह योजना का लाभ प्राप्त कर सकें। लेकिन आपको बता दें कि अभी तक किसान सूर्योदय योजना के तहत आनलाइन आवेदन शुरू नहीं किए गए हैं।

जैसे ही इस योजना के अंतर्गत आनलाइन आवेदन शुरू कर दिए जाएंगे तो हम आपको अपडेट (update) करेंगे। आपको बस इतना करना होगा कि हमारी वेबसाइट (website) को लगातार चेक करते रहें। हम आवेदन प्रक्रिया शुरू होते ही आपको सूचित करेंगे।

प्रधानमंत्री ने किया गुजरात के किसानों से संवाद-

मित्रों, आपको पता ही है कि पंजाब, हरियाणा और अन्य राज्यों से किसान कृषि कानूनों के विरोध में सिंघु और दूसरे बार्डर पर धरने पर बैठे हैं। वह कृषि कानूनों को किसानों के खिलाफ बताते हुए इन्हें वापस लिए जाने की बात कर रहे हैं। केंद्र सरकार से कई दौर की वार्ता के बाद भी अभी तक इसका हल नहीं निकल सका है। इसी बीच प्रधानमंत्री बार बार सरकार के किसानों की हितैषी होने की बात दोहरा रहे हैं। उनके प्रतिनिधियों की ओर से कृषि बिलों की खामियों को दूर करने की भी बात कही जा रही है।

इस बीच स्वयं को किसानों का हमदर्द साबित करने की कोशिश के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के किसानों से भी बात की है। उनसे संवाद किया है। उनसे बातचीत के आधार पर उन्होंने एक बार फिर यह जताने की कोशिश की है कि नए कृषि कानूनों से किसानों का कोई नुकसान नहीं होने जा रहा है। यह बात अलग है कि किसान इससे इत्तेफाक नहीं रखते और नए बिल वापस लिए जाने तक अपनी जगह से टस से मस न होने की बात कह चुके हैं।

किसानों का धरना केंद्र सरकार के लिए चुनौती बना हुआ है। आपको बता दें कि किसान दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह दोनों ने किसानों केमसीहा चरण सिंह को याद किया। इसे लेकर सोशल मीडिया पर भीबहस मुबाहिसे का दौर गरम रहा। किसान संगठनों से जुड़े लोगों और किसानों के हिमायतियों ने सरकार पर आरोप जड़ा कि किसान दिवस पर भी सरकार को किसानों की सुध नहीं आई। वह सड़क पर हैं।

Kisan Suryodaya Yojana 

साथियों, किसानों के लिए केंद्र सरकार ने कई कल्याणकारी कदम उठाए हैं, इससे इंकार नहीं किया जा सकता। मसलन पीएम किसान सम्मान निधि योजना, किसान क्रेडिट कार्ड योजना, प्रधानमंत्री किसान फसल बीमा योजना, पशुधन बीमा योजना, राष्ट्रीय बागवानी मिशन, मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना, राष्ट्रीय कृषि विकास योजना, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन, राष्ट्रीय तिलहन एवं पाम आयल मिशन आदि। इनतमाम योजनाओं का लाभ देश में लाखों किसानों को मिलता है।

सरकार इनके जरिये खेती को बढ़ावा देने, किसानों को आर्थिक सहायता मुहैया कराने, किसानों को कृषि लोन कम ब्याज पर उपलब्ध कराने, कृषि यंत्रों और उपकरणों की खरीद पर सब्सिडी मुहैया कराने, फसल खराब हो जाने पर नुकसान से बचने के लिए फसल का बीमा जैसी मदद देती है। इन योजनाओं का लाभ प्रत्येक राज्य के किसान को मिलता है। इसके अलावा राज्य भी अपने स्तर पर किसानों की बेहतरी के लिए कई योजनाएं चलाते हैं।

यह योजनाएं अधिकांश राज्य की भौगोलिक स्थिति और फसलों की प्रकृति के आधार पर बनती है। लेकिन सिंचाई की बात करें तो पानी की दिक्कतें और बिजली की समस्याएं तकरीबन सभी राज्यों में एक जैसी हैं। हर सरकार इनसे निपटने के लिए यत्न कर रही है। मसलन उत्तराखंड सरकार ने लघु सिंचाई परियोजना चलाई हैं, इसी प्रकार गुजरात ने किसान सूर्योदय योजना का आगाज किया है। कुल मिलाकर लक्ष्य एक ही किसानों की बेहतरी।

हालांकि योजनाओं की प्रगति को लेकर कई बार केंद्र विपक्ष के निशाने पर भी रहता है। हालिया आंदोलन को लेकर भी केंद्र सरकार पर विपक्ष के नेता लगातार निशाने साध रहे हैं, लेकिन केंद्र के पास इन निशानों का जवाब है। हाल ही में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी तमाम योजनाओं के आंकड़े दर्शकों और श्रोताओं के पटल पर रखे थे। उन्होंने मिसाल के साथ केंद्र के कदमों का ब्योरा पेश किया।

किसान सूर्योदय योजना से संबंधित प्रश्न उत्तर

किसान सूर्योदय योजना क्या हैं?

किसान सूर्योदय योजना गुजरात प्रदेश सरकार के द्वारा किसानों के लिए शुरू की गई एक महत्वाकांक्षी योजना है। इस योजना के अंतर्गत किसानों को उनकी खेती सिंचाई के लिए थ्री फेस बिजली उपलब्ध कराई जायेगी।

किसान सूर्योदय योजना का लाभ क्या है?

प्रदेश के किसानों की खेती सिंचाई के लिए किसान सूर्य उदय योजना के अंतर्गत प्रदेश सरकार सुबह 5:00 बजे से रात 9:00 बजे तक 3 फेस की बिजली उपलब्ध कराएंगी। ताकि किसान अपनी खेती सिंचाई समय पर कर सकें।

किम किसानों को गुजरात किसान सूर्योदय योजना का लाभ मिलेगा?

Kisan Suryoday Yojana का लाभ किसी विशेष किसानों के लिए नहीं बल्कि राज्य के सभी उन किसानों के लिए दिया जाएगा जिनके खेत तक खेती सिंचाई की व्यवस्था बेहतर नहीं है

Kisan Suryoday Yojana Bijli Connectiom कैसे मिलेगा?

किसान सूर्य उदय योजना को चरणबद्ध तरीके से शुरू किया गया है। ताकि सभी किसानों को इसका लाभ मिल सके। प्रदेश सरकार किसानों के खेत तक बिजली पहुंचाने के लिए चरणबद्ध तरीके से कार्य कर रही है जैसे ही यह प्रक्रिया पूरी हो जाती है वैसे ही यहां बिजली विभाग में जाकर इस योजना के अंतर्गत कनेक्शन प्राप्त कर सकते हैं।

क्या Kisan Suryoday Yojana के अंतर्गत खेत में बिजली कनेक्शन लेने के लिए कोई भुगतान राशि देनी होगी?

जी हां राज के जो किसान इस योजना के अंतर्गत अपने खेत में बिजली कनेक्शन लेते हैं उन्हें मात्र ₹10 की कीमत देंनी होगीं जो कि काफी कम है।

अंतिम शब्द-

यह अलग बात है कि वह आंकड़े भी विपक्ष की कसौटी पर खरे नहीं हैं। फिलहाल अहम यह है कि किसानों के लिए लगातार काम किया जाए। गुजरात में दो महीने पहले शुरू की गई किसान सूर्योदय योजना अपने अंजाम तक पहुंचेगी और उसके जरिये किसानों को लाभ पहुंचेगा, ऐसा मानने में कोई दो राय नहीं है।

दोस्तों, हमने आपको किसान सूर्योदय योजना की जानकारी दी। यदि आप किसी अन्य सरकारी योजना के विषय में हमसे जानकारी पाने के इच्छुक हैं तो उसके लिए हमें नीचे दिए कमेंट बाक्स में कमेंट करके बता सकते हैं। यदि आपकी कोई प्रतिक्रिया, सुझाव अथवा सवाल है तो भी आप उसे इसी तरह हम तक पहुंचा सकते हैं। उम्मीद है कि यह पोस्ट आपके लिए कारगर साबित होगी ।।धन्यवाद।।

Spread the love

अनुक्रम

Leave a Comment