कान के दर्द से आराम पाने के उपाय | कान के दर्द से राहत पाने के 15 घरेलू उपाय

Kan ka dard kaise theek karen:- हमें कई बार शरीर के किसी अंग में दर्द की समस्या होती है। कभी हाथ तो कभी पैर तो कभी कोई अन्य अंग लेकिन कई बार हमें संवेदनशील (Kan ka dard ka gharelu upay) अंगों में ही दर्द की समस्या होती है जैसे कि कान। अब किसी अन्य अंग में दर्द हो तो उसे दबाने से वह ठीक हो जाता है लेकिन कान को कैसे दबाया जाए। ऐसे में इसके लिए सही उपाय का पता (Kan ka dard ka gharelu upchar) होना बहुत ही आवश्यक होता है।

यदि आप भी कान में दर्द की समस्या से परेशान है और इसके लिए सही व घरेलू उपचार जानना चाह रहे हैं तो आज हम आपके साथ कान के घरेलू उपाय (Kan ka dard ka ilaaj) ही साँझा करने वाले हैं। आज के इस लेख में आपको कान के दर्द से राहत पाने के लिए कुछ सामान्य से लेकर असरदायक घरेलू उपाय जानने को मिलेंगे जिन्हें यदि (Kaan ka dard kaise thik kare) आप सावधानीपूर्वक कर लेंगे तो आपका कान का दर्द चुटकियों में ही सही हो जाएगा।

कान का दर्द कैसे दूर करे? (Kan ka dard kaise theek karen)

अब यदि आप कान का दर्द दूर करना ही चाहते हैं तो उससे पहले आपको यह जानना चाहिए कि आखिरकार कान का दर्द होता क्या है। कहने का अर्थ यह हुआ कि यदि आपको कान में होने वाले दर्द के बारे में ही सही से जानकारी नही होगी तो फिर आप इसका उपाय ही कैसे (Kan ka dard ka ilaj) कर पाएंगे। इसलिए सबसे पहले तो यह जानिए कि आखिरकार कान में दर्द होने को क्या कहा जाता है या फिर इसे कैसे समझा जाता है।

कान के दर्द से आराम पाने के उपाय कान के दर्द से राहत पाने के 15 घरेलू उपाय

इसके बाद आपको कान में दर्द होने के कारणों के बारे में भी जानना चाहिए। कहने का मतलब मान लीजिए कि आपके कान में दर्द होने लगा है लेकिन आपको यही नही पता कि यह दर्द आखिर किस वजह से हो रहा हैं तो फिर आप इसके लिए उपाय ही कैसे कर पाएंगे (Kaan ka dard home remedy)। इसलिए इन सब बातो के बारे में जानकर ही कान के दर्द को दूर करने के उपाय करेंगे तो बेहतर रहेगा।

कान का दर्द क्या होता है (Kan ka dard kya hota hai)

यदि आप कान में होने वाले दर्द को समझना चाहे तो इसे अपने शरीर में उत्पन्न होने वाले किसी दोष से समझा जा सकता है। यदि आप सोच रहे हैं कि कान के किसी बाहरी हिस्से में चोट लगी हैं तो उससे कान का वह दर्द कान का दर्द ही कहा जाएगा तो आप गलत है। वह केवल कान के बाहरी हिस्से में लगी छोटी होती है जिसे कोई दवाई लगाकर सही किया जा सकता हैं।

जबकि कान में होने वाले दर्द को आप अंदरूनी चोट से समझ सकते हैं या शरीर में उत्पन्न हुए किसी दोष से समझा जा सकता हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि जब हमें कान के अंदरूनी हिस्से में दर्द हो और दर्द का कारण ना पता हो या उसके लिए कोऊ स्पेशल उपाय करना पड़े तो इससे कान का दर्द कहा जाएगा।

कान में दर्द के कारण (Kan ka dard kyon hota hai)

अब जब आप कान में दर्द होना क्या होता है, इसके बारे में जन चुके हैं तो आपका यह भी जानना आवश्यक हैं कि आखिरकार यह दर्द किस किस कारण से हो सकता हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि कान के दर्द के उपाय करने से पहले आपको इसके कारणों के बारे मे भलीभांति पता होना चाहिए। यदि हम बिना कारण जाने कान के दर्द से राहत पाने के ही उपाय करने लगेंगे तो यह ना केवल हमारे लिए सही रहेगा बल्कि कान के लये भी सही नही रहेगा। ऐसे में आइए जाने कान में दर्द होने के विभिन्न कारणों के बारे में।

  • जब हम कान को साफ कर रहे होते हैं तो कई बार हम किसी नुकीली चीज़ से उसे साफ करने लग जाते हैं जिस कारण कान के अंदरूनी हिस्से में चोट लग जाती हैं। इसी कारण कान के अंदरूनी हिस्से में दर्द होने लगता हैं।
  • कई बार हम कान को साफ करते समय उस चीज़ को कान के अंदर ज्यादा तक घुसाड देते हैं जिस कारण भी कान का दर्द होने लगता है। कहने का अर्थ यह हुआ कि यदि हम कान के अंदर किसी चीज़ को ज्यादा अंदर तक डाल देंगे तो इससे भी कान का दर्द होने लगता है।
  • नहाते समय यदि कान के अंदर पानी ज्यादा चला जाए या फिर यह सही से ना निकले तो भी कान के अंदर दर्द होने की समस्या होने लगती हैं। यह भी कान में दर्द होने की एक मुख्य वजह मानी जा सकती हैं।
  • कभी कभार हम किसी ऐसी जगह पर चले जाते हैं जहाँ बहुत संगीत या कोई अन्य आवाज बहुत ही तेज होती हैं। ऐसे में वह आवाज हमारे कान को बहुत नुकसान पहुंचा सकती हैं और उन्हें दर्द देती हैं। एकदम से सुनी गयी तेज आवाज़ भी कान में दर्द होने का कारण बन जाती हैं।
  • सर्दियों के मौसम में हम मुख्यतया जुकन या सर्दी लगने की समस्या से ही जुझते हुए दिखाई देते हैं। यदि सर्दी या कुकाम की समस्या यदि बढ़ जाए तो इस कारण कान में दर्द की समस्या भी हो जाती हैं। एक तरह से सर्दी या जुकाम भी कान में दर्द होने की वजह मानी जा सकती है।
  • कभी कभी हमारे कान में कोई कीड़ा चला जाता है और हमें इसका आभास नही हो पाता है। ऐसा ज्यादातर सोते समय हो सकता है या जब हमारा ज्याद ध्यान ना हो या कोई अन्य वजह हो। ऐसे में वह कीड़ा कान के अंदर जाकर समस्या करता है और कान का दर्द होने लगता है।
  • कान में किसी चीज़ के संक्रमण होने के कारण भी कान में दर्द होने की समस्या हो सकती हैं। यह संक्रमण हमें किसी भी चीज़ से हो सकता हैं जैसे कि धूल, मिट्टी, प्रदूषण या कोई अन्य कारण। यह भी कान में दर्द की एक मुख्य वजह के रूप में सामने आता है।
  • कान को यदि सही समय पर साफ ना किया जाए या उसमे मेल ज्यादा जमा हो जाये तो यह भी कान में दर्द होने की एक वजह हो सकता है। इसलिए आपको समय समय पर कान की सफाई करते रहना चाहिए ताकि इसमें दर्द ना होने पाए।
  • दांतों के दर्द के कारण भी कान का दर्द हो सकता है। दरअसल दांतों का दर्द एक ऐसा दर्द होता है जिस कारण हमें बाकि दर्द भी होने लगते है जैसे कि सिर दर्द का होना या नाक में दर्द हो जाना या फिर कान एम् फ्दर्द का होना इत्यादि। इसलिए दांतों के दर्द भी कान दर्द की एक मुख्य वजह हो सकते हैं।
  • कान के अंदर या उसके आसपास किसी फुंसी के होने के कारण भी कान का दर्द हो सकता हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि कई बार कान के अंदरूनी हिस्से में फुंसी हो जाती है और यह हमें पता नही चलता है और हमें लगता हैं कि हमारे कान में दर्द हो रहा है।

कान के दर्द से आराम पाने के उपाय (Kan ka dard ka gharelu upay)

अब जब आपने कान में दर्द होने के सभी कारणों के बारे में जान लिया हैं तो अवश्य ही आप इससे छुटकारा पाने के उपायों के बारे में भी जानना चाहते होंगे। दरअसल किसी भी बीमारी के उपाय के बारे में जानने से पहले हमें उसके सही कारणों के बारे में जानना बहुत ही आवश्यक होता है। उसके बाद (Kaan ka dard ka ilaj) ही उस बीमारी के उपचार पर ध्यान देना चाहिए अन्यथा लेने के देने पड़ सकते हैं।

ऐसे में यदि आपके कान में दर्द हो गया हैं और वह सही नही हो रहा हैं तो आप नीचे दिए गए घरेलू उपचारों (Kaan ka dard ki dawa) को अपना सकते हैं। इन्हें अपनाकर आपके कान का दर्द चुटकियों में सही हो जाएगा। आइए जाने कान के दर्द से राहत पाने के कुछ सरल व प्रभावी उपायों के बारे में विस्तार से।

#1. सरसों का तेल

यदि आपके कान में दर्द हो रहा हैं तो इसके लिए आप सरसों के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। सरसों का तेल तो हर भारतीय घर में पाया ही जाता है। इस सरसों के तेल का इस्तेमाल हम अपने खाने में और नहाते समय भी करते हैं। इस कारण सरसों के तेल की हमारे जीवन में बहुत ही महत्ता होती हैं। यदि आप भी सरसों का तेल अपने घर में रखते हैं तो अब आप उसका इस्तेमाल कान के दर्द को दूर करने में भी कर सकते हैं।

इसके लिए आपको ज्यादा कुछ नही करना हैं। बस सरसों के तेल को थोड़ा गर्म कीजिए। अब उस गर्म सरसों के तेल में रुई डुबोये और जिस भी कान में दर्द हो रहा हैं उसमे उस रुई की सहायता से तेल की कुछ बूंदे डाले। अब क्कुछ देर तक ऐसे ही लेते रहे और आराम करें। कुछ ही देर में आपके कान का दर्द पूरी तरह से समाप्त हो जाएगा।

#2. लहसुन का रस

कान के दर्द को दूर करने में लहसुन का भी प्रमुखता के साथ इस्तेमाल किया जाता है। दरअसल लहसुन में कुछ ऐसे गुण पाए जाते हैं जिनका कान के दर्द के समय इस्तेमाल किये जाने पर उसमे सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलता हैं। इसलिए आप भी लहसुन को अपने कान में दल्जर उसे कान के दर्द से आराम पा सकते हैं।

इसके लिए सबस एपहले तो लहसुन की कुछ कालिया लेकर उसे अच्छे से रगड़े और अब उसे पीस कर उसमे से रस को निकाल ले। जब यह रस निकल जाए तो इसे भी आप रुई की सहायता से या किसी बोतल में बूँद गिराने की सहायता से अपने कण में डाल सकते हैं। इसके बाद भी आपको कुछ देर तक यूँ ही लेटे रहना और आपके कान का दर्द पूरी तरह से ठीक हो जाएगा।

#3. गर्म पानी से सिकाई

यदि आपके कान में किसी चोट की वजह से दर्द हो रहा हैं तो आप उसकी गर्म पानी से सिकाई कर सकते हैं। यह एक तरह से आपके कान की मांसपेशियों को आराम देने का काम करेगी। इसके लिए सबसे पहले तो आप शुद्ध पानी ले और उसको गर्म कर ले। आप चाहे तो इसे ज्यादा गर्म भी कर सकते हैं क्योंकि आपको कान को सीधे इसके संपकर में नही लाना है।

इसके बाद आप एक कपड़े की सहायता से कान की सिकाई करे। यह कपड़ा यदि सूती है तो ज्यादा सही रहेगा अन्यथा आप किसी ऐसे कपड़े को ले जो रेशमी ना हो बस। अब आप इस कपड़े को गर्म में डुबोये और निचोड़ ले। अब इस कपड़े की सहायता से अपने कान की सिकाई करेंगे तो आपको कुछ ही समय में सकारात्मक परिणाम मिल जाएगा।

#4. प्याज का रस

कान के दर्द से आराम पाने के लिए पाज भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि यदि आप प्याज का इस्तेमाल कान के दर्द को दूर करने में करेंगे तो इससे भी आपको सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। इसके लिए आप सबसे पहले तो प्याज का रस निकाल ले और उसे कुछ देर के लिए धूप में गर्म होने के रख दे।

आप इसे सीधे गैस पर गर्म ना करे क्योंकि इससे प्याज के गुण नष्ट हो जाते है। इसलिए आप इसे धूप में कुछ देर के लिए रखे और फिर किसी रुई या बोतल की सहायता से इसकी कुछ बूंदे अपने कान में डाल ले। यदि आप ज्यादा बूंदे डालेंगे तो इससे आपके कान में जलन हो सकती हैं, इसलिए दो से तीन बूंदे ही डाले और फिर देखिये इसका असर।

#5. लौंग का रस

यदि आपको दांतों के दर्द की वजह से कान का दर्द होने लगा हैं तो आप इसके लिए लौंग का इस्तेमाल कर सकते हैं। कहने का अर्थ यह हुआ कि यदि आप अपने दांतों के दर्द को सही कर लेंगे तो फिर आपके कान का दर्द भी अपने आप ही ठीक हो जाएगा। इसके लिए आपको पहले 3 से 4 लौंग का रस निकलना होगा। अब जब आप उस रस को निकाल ले तो आप उसे दांतों पर लगाए।

आप चाहे तो बाजार से सीधा लौंग के रस की एक शीशी भी ले सकते हैं और उसमे से कुछ बूंदे अपने दांतों पर लगा सकते हैं। जैसे ही आप लौंग के रस को दांतों पर लगाएंगे तो उसके कुछ समय में ही आपका दांत का दर्द पूरी तरह से शांत हो जाएगा। अब यदि आपके दांतों का दर्द शांत हो गया हैं तो कान का दर्द भी अपने आप ही शांत हो जाएगा।

चेहरे से पिंपल कैसे हटाये? पिंपल हटाने के उपाय 

#6. अदरक का रस

अदरक का इस्तेमाल हम अपने खाने का या चाय का स्वाद बढ़ाने के लिए करते हैं। इसके साथ ही इसका इस्तेमाल काढ़ा बनाने में भी प्रमुखता के साथ किया जाता है। ऐसा इसमें पाए जाने वाले गुणों के कारण किया जाता है। इसलिए यदि आप भी अदरक का इस्तेमाल कान के दर्द को दूर करने में करेंगे तो यह आपके लिए बहुत लाभकारी सिद्ध होने वाला है।

इसके लिए पहले आप अदरक के रस को निकाल ले। अब उस रस की कुछ बूंदे अपने कान में डाले। यह आप किसी बोतल की सहायता से कर सकते हैं या फिर रुई की सहायता से भी। जैसे ही आप कान में अदरक का रस डाले तो कुछ देर तक उसी स्थिति में लेटे रहे और उसके बाद देखिये इसका असर।

#7. नमक की सिकाई

अब यदि आपके कान में किसी तरह की चोट लगी हैं या इस पर संगीत का प्रभाव ज्यादा हुआ हैं तो इसके लिए नमक की सिकाई करना बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। कहने का अर्थ यह हुआ कि यदि आप अपने दुखते हुए कान पर नमक की सिकाई करेंगे तो इससे आपके कान का दर्द कुछ ही देर में दूर हो जाएगा और आप पहले से राहत महसूस करेंगे।

इसके लिए आप एक मुट्ठी नमक को गर्म कर ले। इसे आप तवे पर रखकर गर्म कर सकते हैं। अब इस नमक को सूती कपड़े की सहायता से बाँध ले। अब इस नमक से आप अपने कान की सिकाई करे। ऐसा आप कुछ देर तक करेंगे तो आपके कान का दर्द पूरी तरह से शांत हो जाएगा। यदि नमक ठंड अहो जाए तो फिर से इसे गर्म करके कान की सफाई करेंगे तो सही रहेगा।

#8. जैतून का तेल

अब सरसों के तेल की ही भांति जैतून का तेल भी कान के दर्द को दूर करने में बहुत ही प्रभावी तरीका माना गया है। इसके अंदर भी कुछ उसी तरह के गुण पाए जाते हैं जो सरसों के तेल में पाए जाते हैं। इसलिए आप जैतून के तेल का इस्तेमाल भी कान के दर्द को दूर करने में कर सकते हैं।

इसके लिए सबसे पहले तो जैतून के तेल को गर्म करें और फिर उसे किसी शीशी में डाले। वह शीशी बूँद बूँद वाली हो जो आपके कान में 2 से 3 बूँद जैतून के तेल की डाल सके। यदि ऐसी शीशी नही है तो फिर आप किसी रुई की सहायता से अपने कान में जैतून के तेलकी कुछ बूंदे डाले। कुछ ही समय में आपके कान का दर्द पूरी तरह से शांत हो जाएगा।

#9. तुलसी का रस

अब तुलसी तो हर भारतीय घर के आँगन में पाई जाती हैं। शास्त्रों में भी इसका अत्यधिक महत्व है। ऐसा इसके अंदर पाए जाने वाले गुणों के कारण है। तुलसी औषधीय गुणों की खान कही जाती है और इसी कारण यह हर भारतीय घर में प्रमुखता के साथ पाई जाती हैं। इसलिए आप कान के दर्द को ठीक करने में इसी तुलसी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसके लिए सबसे पहले तो आपको तुलसी के रस को निकलना होगा। इस बात का ध्यान रखे कि आप यह रस ज्यादा मात्रा में ना निकाले क्योंकि कान के दर्द को ठीक करने के लिए बस एक चम्मच तुलसी का रस ही बहुत रहेगा। इसे बस आपको 2 से 3 बूँद करके ही 2 से 3 बार ही कान में डालना होगा और आपका कान का दर्द ठीक हो जाएगा। इसलिए इसे अपने कान में डाले और फिर देखिये इसका सकारात्मक असर।

#10. नीम का रस

तुलसी की ही भांति नीम के पेड़ को भी बहुत ही पवित्र और औषधीय गुणों की खान कहा गया है। नीम में कई ऐसे गुण पाए जाते हैं जो जीवाणुओं का नाश कर देते है। यह हमारे शरीर की अंदरूनी सफाई के लिए भी बहुत आवश्यक होते है। अब यदि आपके कान में किसी चीज़ से संक्रमण हो गया हैं या अंदर फुंसी आदि की समस्या हैं तो उसके लिए आप नीम के रस की सहायता ले सकते हैं।

सबसे पहले तो नीम की पत्तियों का रस निकाल ले या फिर इन्हें पानी में गाढ़ा होने तक उबाले। अब उस पानी से अपने कान की सिकाई करे या फिर नीम के रस की कुछ बूंदे अपने कान में डाले। अरसा आप दिन में 3 से 4 बार करे। एक से दो दिन में ही आपको इसका सकारात्मक असर देखने को मिल जाएगा। यह आपके कान को एकदम ठीक कर देगा।

#11. अजवायन का रस

कान के दर्द को दूर करने के लिए अजवायन का रस भी बहुत कामगार रहता है। अब अजवायन तो हर भारतीय घर में पाई ही जाती है। तो बस आप इसी अजवायन के रस को निकाल कर उसे अपने कान में डाले। इससे आपके कान का दर्द चुटकियों में ठीक हो जाएगा। आप चाहे तो अजवायन को पानी में उबाल कर उस पानी से अपने कान की सिकाई भी कर सकते हैं।

कहने का अर्थ यह हुआ कि कान के दर्द को दूर करने के लिए अजवायन का रस या पानी बहुत ही फायदेमंद रहता है। इसकी सिकाई करने से या कान में इसके रस की कुछ बूंदे डालने से कान का दर्द पूरी तरह से ठीक हो जाता है।

#12. पिपरमेंट

पिपरमेंट का इस्तेमाल भी कान के दर्द को दूर करने के लिए किया जा सकता है। इसके लिए आप पिपरमेंट को ले आये और अब उसके रस की कुछ बूंदे अपने कान में डाले। इस समय इस बात का ध्यान रखे कि आप एक बारी में ज्यादा रस की बूंदे अपने काम में ना डाल ले अन्यथा बाद में आपको ही नुकसान झेलना पड़ेगा।

इसलिए आप आवश्यकता अनुसार ही पिपरमेंट के रस की बूंदे अपने कान में डाले। आप चाहे तो इसे दिन में कई बार कर सकते हैं लेकिन एक बारी में 2 से 3 बूंदे ही अपने कान में डाले। पिपरमेंट के रस से आपके कान का दर्द एक से दो दिन में ही दूर हो जाएगा।

#13. काढ़ा पिए

यदि आपको सर्दी या जुकाम की समस्या के कारण कान का दर्द होने लगा हैं तो इसके लिए काढ़ा पीना सबसे ज्यादा सही रहता है। कहने का अर्थ यह हुआ कि बहुत बार हमें सर्दी या जुकाम हो जाने के कारण कान का दर्द परेशान करने लगता है। ऐसे में दवाइयां खाने की बजाए यदि काढ़ा पी लिया जाए तो यह हमारे लिए ज्यादा सही रहता है।

इसके लिए आप अपने घर पर तुलसी, अजवायन, अदरक, लौंग, इलायची, सोंठ, सुंग इत्यादि चीजों का मिश्रण लेकर उन्हें पानी में उबाले। अब इस मिश्रण को पी जाए। इसे आप दिन में दो बार भी पी लेंगे तो आपकी सर्दी जुकाम की समस्या ठीक हो जाएगी। जैसे ही सर्दी जुकाम ठीक होगा तो आपके कान का दर्द भी चला जाएगा।

#14. कान की अच्छे से सफाई करे

अब यदि आपने अपने कान को बहुत समय से साफ नही किया हैं या आप इसकी अच्छे से सफाई नही करते हैं तो यह भी आपके कान में दर्द होने का मुख्य कारण हो सकता हैं। दरअसल कान की लंबे समय तक या सही से सफाई ना करने के कारण उसमे वैक्स जमा हो जाता है जिस कारण कान में दर्द की समस्या होने लगती है।

इसके लिए आपको अपने कान की अच्छे से सफाई करनी चाहिए। यदि आप खुद से सफाई नही कर पाते हैं तो आप अपने किसी जानने वाले से अपने कान की सफाई करेंगे तो बेहतर रहेगा। इससे आपके कान की सफाई भी हो जाएगी और उसमे होने वाला दर्द भी शांत हो जाएगा।

#15. गर्दन को घुमाये

कई बार हमारे शरीर में अकडन और मुख्यतया गर्दन में अकडन के कारण भी कान में दर्द होने लगता है। कहने का अर्थ यह हुआ कि यदि आप बिल्कुल भी व्यायाम नही करते हैं या कही बाहर नही जाते हैं और बस यूँ ही अपने घर पर बिस्तर पर पड़े रहते हैं तो इससे आपकीगर्दन में अकडन आने लगती हैं। अब गर्दन में अकडन आ जाए तो इससे कान का दर्द भी होने लगता है।

इसके लिए आपको अपने गर्दन का व्यायाम करना चाहिए। आप अपनी गर्दन को चारों ओर घुमाये और उसका व्यायाम करे। यदि आप दिन में दो बार गर्दन का व्यायाम कर लेंगे तो फिर आपके कान का दर्द भी ठीक हो जाएगा। इसलिए आगे से आपको कान का दर्द हो तो सबसे पहले अपने गर्दन का व्यायाम अवश्य करें।

तो यह थे कुछ उपाय जिनकी सहायता से आप अपने कान के दर्द को ठीक कर सकते हैं। हालाँकि यदि आपके कान में तेज दर्द हो रहा हैं या फिर इन सभी उपायों को करने के बाद भी वह ठीक नही हो पा रहा हैं तो आप बिना देरी किये डॉक्टर से संपर्क करें। यह किसी बीमारी का या किसी गंभीर चोट का कारण हो सकता हैं जो आगे चलकर समस्या उत्पन्न कर सकता हैं। इसलिए बिना देरी किये अपने डॉक्टर से संपर्क कर लेंगे तो बेहतर रहेगा।

Spread the love:

Leave a Comment