जननी सुरक्षा योजना आवेदन, उद्देश्य, लाभ, एप्लीकेशन फॉर्म डाउनलोड

Janani Suraksha Yojana Application Form (JSY), जननी सुरक्षा योजना 2021, पीएम जननी सुरक्षा योजना रजिस्ट्रेशन, JSY Appication Form Download, पीएम जननी सुरक्षा योजना पीडीएफ

देश में स्वास्थ्य सुविधाओं का हाल कोई बेहतर नहीं। ग्रामीण इलाकों में तो हालात और बदतर हैं। कई गांवों में स्वास्थ्य केंद्र नाम की चीज तक नहीं। स्वास्थ्य केंद्र हैं तो डाॅक्टर नहीं। कई डाॅक्टरों गांवों में ज्वाइनिंग तो देते हैं, लेकिन काम पर नहीं पहुंचते। स्टाफ की कमी निरंतर बनी रहती है। इसके अलावा चिकित्सा उपकरणों का अभाव भी एक सतत समस्या है। शहरी इलाकों में अस्पताल तो हैं, लेकिन जहां निजी अस्पतालों में लूट चरम पर है, वहीं सरकारी अस्पतालों में मरीजों के हिसाब से सुविधाओं की कमी।

महिलाओं के प्रसव की बात करें तो शहरों में जहां स्थिति सुधरी है, वहीं आज भी कई गांवों में दाई के हाथों ही प्रसव कराया जाता है। पहाड़ की बात करें तो कई गांव इतने दूरस्थ हैं कि वहां चिकित्सा, स्वास्थ्य सुविधाएं न के बराबर हैं। मुख्य मार्ग तक आने या अस्पताल के लिए वाहन लेने तक मरीज की जान चली जाती है। कई परिवार बेहद विपन्न होते हैं, जो गर्भवती महिला को सही से पोषण भी मुहैया नहीं करा पाते। इससे प्रसव के वक्त गर्भवती महिला की जान पर बन आती है तो कई बार प्रसव के बाद बच्चा भी कुपोषण का शिकार हो जाता है।

इन सब बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए केंद्र जननी सुरक्षा योजना चला रही है। आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको इसी की जानकारी देंगे। आइए, शुरू करते हैं-

जननी सुरक्षा योजना क्या है?

दोस्तों, आपको बता दें कि जननी सुरक्षा योजना केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय का सुरक्षित मातृत्व कार्यक्रम है। इसका मकसद गरीब गर्भवती महिलाओं के अस्पताल में सुरक्षित प्रसव को बढ़ावा देना है। बच्चों की मृत्यु दर को कम करना है। सरकार की सोच है कि यदि गर्भवती महिलाओं को आर्थिक मदद मुहैया करायी जाए तो इससे जच्चा बच्चा के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में सहायता मिलेगी।

योजना के तहत गर्भवतियों की सारी जांच और बच्चे की डिलीवरी फ्री में होती है। प्रसव के बाद पांच साल तक बच्चे का टीकाकरण भी होता है। शहरी क्षेत्र की महिलाओं को इस योजना के अंतर्गत एक हजार रूपये दिए जाते हैं। आशा सहयोगी को प्रसव प्रोत्साहन के लिए 200 और प्रसव बाद सेवा के लिए भी 200 रूपये प्रदान किए जाते हैं।

जननी सुरक्षा योजना आवेदन, उद्देश्य, लाभ, एप्लीकेशन फॉर्म डाउनलोड

वहीं, ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को 1400 रूपये दिए जाते हैं। प्रसव प्रोत्साहन के लिए आशा कार्यकर्ता को 200 रूपये और प्रसव उपरांत सेवा के लिए भी 200 रूपये दिए जाते हैं। आर्थिक सहायता की राशि सीधे महिला के खाते में भेजने का प्रावधान किया गया है।

श्रेणी ग्रामीण क्षेत्र   कुल शहरी क्षेत्र   कुल
  माता का पैकेज आशा का पैकेज रूपये माता का पैकेज आशा का पैकेज रूपये
एलपीएस 1400 600 2000 1000 200 1200
एचपीएस 700 600 700 600 200 600

जननी सुरक्षा योजना से कितनी महिलाएं लाभान्वित हो रहीं –

दोस्तों, आपको बता दें कि जननी सुरक्षा योजना से सालाना एक करोड़ से भी अधिक गर्भवती महिलाओं को सहायता दी जाती है। सरकार का इस पर करीब 1600 करोड़ रूपये सालाना खर्च हो रहा है। आपको बता दें कि भारत में हर साल गर्भावस्था के दौरान होने वाली बीमारियों से करीब 56 हजार से अधिक महिलाएं दम तोड़ देती हैं, वहीं 13 लाख से अधिक नवजात शिशुओं की पैदा होने के एक साल के भीतर ही मौत हो जाती है।

सरकार की कोशिश इन महिलाओं तक आर्थिक मदद पहुंचाने की है ताकि उनके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में सहायता मिल सके। आपको यह भी बता दें कि आशा कार्यकर्ता ही इस योजना की सबसे महत्वपूर्ण कड़ी है। देश के सर्वाधिक पिछड़े इलाकों में आशा ही लाभार्थी महिला की पहचान से लेकर उसे अस्पताल में भर्ती कराने और आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराने का काम करती है।

जननी सुरक्षा योजना की खास-खास बातें-

दोस्तों, आइए अब आपको इस जननी सुरक्षा योजना की खास खास बातें बताते हैं। इससे आपको योजना को लेकर एक आइडिया लगेगा। यह इस प्रकार से हैं-

  • जननी सुरक्षा योजना पूरे देश में लागू होगी। इसमें सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेश शामिल किए गए हैं। लेकिन इसका मुख्य फोकस लक्ष्य से पिछड़ने वाले बिहार, उड़ीसा, राजस्थान, झारखंड, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, छत्तीसगढ़ आदि पर है।
  • जननी सुरक्षा योजना के तहत रजिस्टर्ड हर लाभार्थी के पास जननी सुरक्षा योजना कार्ड होना आवश्यक है।
  • इस योजना को सौ फीसदी केंद्र की राशि से चलाया जा रहा है।
  • जो गर्भवती महिलाएं आंगनबाड़ी या आशा की मदद से घर पर बच्चे को जन्म देती हैं, उन्हें भी पांच सौ रूपये की राशि मिलेगी।
  • जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत रजिस्टर्ड सभी महिलाओं की दो प्रसव पूर्व जांच बिल्कुल फ्री की जाएंगी। इसके अलावा आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता डिलीवरी के बाद की अवधि में भी उनकी मदद करेंगी।
  • गर्भवती महिला का बैंक अकाउंट होना जरूरी है और इस अकाउंट को उसके आधार कार्ड से लिंक भी होना भी आवश्यक है।

ये भी पढ़ें –

जननी सुरक्षा योजना का लाभ लेने के लिए आवश्यक पात्रता-

इस योजना का लाभ उठाने के लिए गर्भवती महिला को अपने प्रसव और शिशु के जन्म के लिए किसी सरकारी अस्पताल में रजिस्ट्रेशन कराना होता है। ऐसा करने वाली महिलाओं को प्रसव के समय और बाद में सरकार की ओर से नकद आर्थिक मदद दी जाती है। इस योजना के लिए कुछ पात्रताएं निर्धारित की गई हैं, जो कि इस प्रकार से हैं-

  • देश के शहरी और ग्रामीण इलाकों में रहने वाली सभी गर्भवती महिलाएं इस योजना की पात्र हैं।
  • 19 साल या उससे अधिक आयु की महिलाएं ही इस योजना का लाभ उठा सकती हैं। इससे कम उम्र होने पर लाभ नहीं मिलेगा।
  • केवल सरकारी अस्पतालों में प्रसव कराने वाली महिलाएं ही इस योजना का लाभ उठाने की पात्र हैं।
  • इस योजना के तहत आर्थिक मदद और चिकित्सा सुविधा केवल दो बच्चों के लिए ही मिलेगी।
  • गरीबी रेखा से नीचे आने वाली यानी बीपीएल वर्ग की महिलाओं को इस योजना का लाभ मिलेगा।
  • यदि गर्भवती महिला मृत बच्चे को जन्म देती है या फिर बच्चा अवधि से पूर्व जन्म ले लेता है तो भी योजना का लाभ मिलेगा।

ये भी पढ़ें –

जननी सुरक्षा योजना का लाभ उठाने के लिए आवश्यक दस्तावेज-

मित्रों, जननी सुरक्षा योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदन को अपने आवेदन पत्र के साथ कुछ दस्तावेज भी आवश्यक रूप से लगाने होंगे। यह दस्तावेज इस प्रकार से हैं-

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • आवेदक का बैंक अकाउंट नंबर
  • सरकारी अस्पताल की ओर से जारी डिलीवरी सर्टिफिकेट
  • आवेदक की वोटर आईडी
  • आवेदक का बैंक अकाउंट नंबर
  • जननी सुरक्षा कार्ड
  • आवेदक का मोबाइल नंबर
  • आवेदक की पासपोर्ट साइज फोटो
  • बीपीएल राशन कार्ड
  • एंव आवेदक का निवास प्रमाण पत्र

आपको यह भी साफ कर दें कि इसमें किसी भी दस्तावेज के न होने की स्थिति में आवेदक को योजना का लाभ नहीं मिल सकेगा। ऐसे में यह जरूरी है कि आवेदन पत्र के साथ नत्थी करते वक्त वह एक बार अपने दस्तावेज जरूर जांच लें। जो रह गया हो, उसे पूरा कर लें। साथ ही यह भी जांच लें कि आवेदन फाॅर्म में सभी जानकारी सही सही भरी गई हो। इसके बाद ही अपना आवेदन पत्र जमा कराएं।

जननी सुरक्षा योजना का लाभ लेने के लिए यह आवेदन प्रक्रिया है-

मित्रों, आपको बता दें कि जननी सुरक्षा योजना का लाभ उठाने के लिए एक आवेदन प्रक्रिया निर्धारित की गई है। इसके कुछ स्टेप्स हैं, जिन्हें फाॅलो करके रजिस्ट्र्ेशन कराया जा सकता है। यह इस प्रकार से हैं-

  • आवेदक को सबसे पहले स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की official वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इसके बाद जननी सुरक्षा योजना (JSY) के आवेदन पत्र की पीडीएफ (PDF) डाउनलोड करनी होगी। Janani Suraksha Yojana Application Form
  • फाॅर्म को डाउनलोड (download) करने के बाद इसमें पूछी गई सभी जानकारी मसलन महिला का नाम, गांव का नाम, पता आदि भरना होगा।
  • सारी जानकारी भरने के बाद आपको इस फाॅर्म में सभी दस्तावेजों को नत्थी करना होगा।
  • फाॅर्म को सभी दस्तावेजों के साथ किसी आंगनबाड़ी केंद्र या महिला स्वास्थ्य केंद्र में जमा करना होगा।

ये भी पढ़ें –

आवेदन का आनलाइन स्टेटस इस प्रकार से देख सकते हैं-

साथियों, अब आपको बताएंगे कि कोई भी आवेदक आवेदन के पश्चात उसका आनलाइन स्टेटस कैसे जांच सकता है। इसकी एक बेहद आसान सी प्रक्रिया है। किसी भी जनसेवा केंद्र पर जाकर भी इस प्रक्रिया को पूरा किया जा सकता है। इसके स्टेप्स इस प्रकार से हैं-

  • सबसे पहले आपको जननी सुरक्षा योजना की official वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको आवेदन का स्टेटस देखने के लिए लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको इस पर अपना रेफरेंस नंबर दर्ज करना होगा। इसके पश्चात सर्च के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • कंप्यूटर स्क्रीन पर आपके आवेदन की स्थिति शो करने लगेगी।

ये भी पढ़ें –

जननी सुरक्षा योजना के संबंध में अधिक जानकारी के लिए यहां संपर्क करें-

यदि आप इस जननी सुरक्षा योजना के संबंध में ज्यादा जानकारी चाहते हैं तो उसके लिए योजना की official वेबसाइट पर http://nhm.gov.in पर जा सकते हैं। यदि आप योजना के संबंध में फोन के जरिये कुछ मालूमात करना चाहते हैं तो website पर दिए गए नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं। इसके लिए प्रक्रिया इस प्रकार है-

  • सबसे पहले जननी सुरक्षा योजना की वेबसाइट (website) https://nhm.gov.in/ पर जाएं। अब आपके सामने होम पेज (home page) खुल जाएगा।
  • इस होम पेज पर आपको contact us के link पर click करना होगा। इसके बाद आपको states/ut official के link पर click करना होगा।
  • आपके सामने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की संपर्क सूची आ जाएगी। आपका जो भी राज्य है आप उसके हिसाब से संबंधित फोन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं।
SI.No. Name of State/UT ACS/Principal Secretary/ Secretary Mission Director (NHM)
1 Andhra Pradesh Sri Anil Kumar Singhal (IAS) Sri. Katamneni Bhaskar (IAS)
2 Arunachal Pradesh Shri.P.Parthiban Shri C R Khampa
3 Assam Shri Samir Kumar Sinha Dr. Lakshmanan. S
4 A&N lsland Shri K R Meena Ms. Kriti Garg
5 Bihar Mr. Pratyaya Amrit Shri Manoj Kumar
6 Chhattisgarh Ms Renu G Pillay (IAS) Dr. Priyanka Shukla
7 Chandigarh Shri Arun Kumar Gupta Dr. Amandeep Kaur Kang
8 Dadra & Nagar Haveli and Daman & Diu Dr. A. Muthamma Shri S. Krishna Chaitanya
9 Delhi Shri.Vikram Dev Dutt Shri Sayed Musawwir Ali 
10 Goa Mr. Amit Satija Mr. Amit Satija
11 Gujarat Dr. Jayanti S. Ravi  Shri M.A. Pandya (IAS)
12 Haryana Shri Rajeev Arora Sh. Prabhjot Singh
13 Himachal Pradesh Shri Amitabh Awasthi (IAS) Dr. Nipun Jindal
14 Jammu & Kashmir Shri Atal Dulloo Shri Bhupendra Kumar 
15 Jharkhand Dr.Nitin Madan Kulkarni Shri Ravi Shankar Shukla
16 Karnataka Shri Jawaid Akhtar Dr Arundhathi Chandrashekar,IAS
17 Kerala Dr. Rajan  N. Khobragade Dr. Ratan Khelkar
18 Ladakh Sh.Rigzian Sampheal Dr. Phuntsog Angchuk  
19 Lakshadweep Shri. P. Krishnamurthy (IAS) Dr. K. Shamsudheen
20 Madhya Pradesh Mr. Mohammad Suleman (IAS) Mrs. Chhavi Bhardwaj (IAS)
21 Maharashtra Dr. Pradeep Kumar Vyas Shri. Ramaswami N
22 Manipur Shri V. Vumlunmang Dr. N Shyamjai Singh
23 Meghalaya Shri Sampath Kumar Shri Ram Kumar
24 Mizoram Shri H. Lalengmawia Dr. Eric Zomawia
25 Nagaland Amardeep Singh Bhatia (IAS) Dr. Kevichusa Medikhru
26 Odisha Sri Pradipta Kumar Mohapatra Ms.Shalini Pandit
27 Punjab Shri Hussan Lal (IAS) Shri Kumar Rahul
28 Puducherry Dr. T. Arun Dr. G. Sriramulu
29 Rajasthan Shri. Siddharth Mahajan Shri Naresh Kumar Thakral
30 Sikkim Shri K. Sreenivasaulu Dr Tseten Yamphel
31 Tamil Nadu Dr. J. Radhakrishnan  
32 Tripura Shri Jitendra Kumar Sinha Dr. Siddharth Shiv Jaiswal (IAS)
33 Telangana Shri S.A.M Rizvi (IAS) Smt. Karuna Vakati
34 Uttar Pradesh Shri Amit Mohan Prasad Smt. Aparna U.
35 Uttarakhand Shri Amit Singh Negi Ms. Sonika
36 West Bengal Shri Narayan Swaroop Nigam Dr. Saumitra Mohan

अंतिम शब्द

जननी सुरक्षा योजना का लाभ देश की करोड़ों महिलाओं को मिला है। इस योजना से निश्चित रूप से जच्चा बच्चा के हालत में सुधार आया है। आशा कार्यकर्ता भी पूरे मनोयोग से इस योजना को सफल बनाने में जुटी हैं। लेकिन फिर भी कई राज्यों में हालात सुधारने के लिए और बेहतर प्रयासों की आवश्यकता है।

आपको बता दें कि देश के विकास में वहां की मातृशक्ति का बड़ा योगदान होता है। यही कारण है कि महिला कल्याण और बाल विकास मंत्रालय अलग से बनाने कीजरूरत समझी गई। सरकार महिलाओं के लिए अलग से योजनाओं का शुभारंभ और संचालन करती है। उम्मीद है कि जननी सुरक्षा योजना के सहारे उन राज्यों में भी मातृशक्ति की हालत में सुधार आएगा, जहां अभी तक विकास की किरण उन तक नहीं पहुंची है।

विशेष रूप से जनजातीय बहुल इलाकों वाले राज्यों में अभी भी बहुत कुछ किया जाना बाकी है। सरकार धीरे-धीरे इस ओर कदम बढ़ा रही है। यदि कोई बड़ा उलटफेर नहीं हुआ तो ऐसी उम्मीद की जा सकती है कि वह भविष्य में अपने इस कार्य में सफल होगी।

दोस्तों, यह थी जननी सुरक्षा योजना के संबंध में सारी जरूरी जानकारी। उम्मीद है कि यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। यदि आप या आपका कोई परिचित इस योजना का लाभ उठाना चाहता है तो उसे इसकी प्रक्रिया के संबंध में अवश्य अवगत कराएं। केंद्र सरकार की यह गर्भवती महिलाओं की जीवन सुरक्षा को लेकर चलाई जा रही योजना है। आपके किसी भी सुझाव और प्रतिक्रिया का स्वागत है। ।।धन्यवाद।।

Spread the love

Leave a Comment