आईएएस कैसे बनें? योग्यता, सैलरी, कार्य, फुल फॉर्म | IAS तैयारी के लिए टिप्स

|| आईएएस कैसे बनें? IAS kaise bane? How to become an IAS? 12वीं के बाद आईएएस कैसे बने, आईएएस सैलरी, IAS के कार्य, भारत में कितने आईएएस है, आईएएस क्या होता है, आईएएस बनने के नुकसान ||

भारत में आईएएस सेवा में जाने के लिए युवाओं में जबरदस्त क्रेज रहता है। दरअसल, युवाओं में पावर और अफसर बनकर मातहतों पर हुक्म चलाने की इच्छा इसी के माध्यम से पूरी होती है। इसके लिए वे गांव घर छोड़कर तैयारी के लिए दिल्ली जैसे शहरों में बरसों कोचिंग करते रहते हैं, ताकि इस सेवा के लिए उनका चयन हो सके।

बहुत से युवा इसमें कामयाब भी होते हैं और सपनों को जीते हैं। क्या आप भी आईएएस बनना चाहते हैं? यदि हां तो आज हम आपको जानकारी देंगे कि आप आईएएस कैसे बनें? (How to become an IAS?) आइए, शुरू करते हैं-

आईएएस की फुल फार्म क्या है? (What is the full form of IAS?)

आईएएस (IAS) की फुल फार्म (full form) होती है- इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (indian administrative service)। इसे हिंदी में भारतीय प्रशासनिक सेवा भी कहा जाता है। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, इस सेवा में निकलने वाले युवा प्रशासनिक पदों पर काम करते हैं। भारत में यह सबसे प्रतिष्ठित सेवा मानी जाती है। इसे पास करना भी बहुत कठिन एवं टेढ़ी खीर माना जाता है।

बहुत से युवाओं का सालों की तैयारी के बाद भी इसमें चयन नहीं होता। इसमें चयन के लिए सिस्टमैटिक तैयारी (systematic preparation), लगन, धैर्य, समर्पण और कड़ी मेहनत की बेहद आवश्यकता होती है।

आईएएस कैसे बनें? योग्यता, सैलरी, कार्य, फुल फॉर्म | IAS तैयारी के लिए टिप्स

आईएएस का क्या कार्य होता है? (What are the functions of an IAS?)

अब आपके मन में यह जिज्ञासा उठ रही होगी कि एक आईएएस का कार्य क्या होता है। आइए, अब आपको विस्तार से बताते हैं कि एक आईएएस क्या क्या करता है-

  • केंद्र एवं राज्य सरकार (Central and State government) की नीतियों (policies), कार्यक्रमों को प्रभावी ढंग से लागू कराना। औचक निरीक्षण करना।
  • राजस्व (revenue) संबंधी कार्य जैसे राजस्व संग्रहण आदि।
  • संबंधित क्षेत्र के विकास के लिए प्रस्ताव तैयार करना।
  • कार्यकारी मजिस्ट्रेट के रूप में जिम्मेदारी निभाना।
  • सीडीओ (CDO) या डीडीसी (DDC) के रूप में कार्य करना।
  • डीएम (DM) के बतौर जिले की पुलिस एवं कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी।
  • जिले में निषेधाज्ञा लागू करना, धारा 144 लागू करने से संबंधित फेसले लेना। भीड़ पर कार्रवाई, फायरिंग (firing) जैसे आर्डर (order) देना।
  • वित्तीय मामलों (financial matters) की मानदंडों के अनुसार जांच (investigation) करना कि वे पैसा सार्वजनिक निधि में व्यय किया गया है अथवा नहीं।
  • संयुक्त सचिव, उप सचिव के रूप में सरकारी नीतियां तैयार करने में सलाह (advise) देना एवं नीतियों को अंतिम आकार देना।

आईएएस कैसे बनें? (How to become an IAS?)

मित्रों, अब हम आपको बेहद महत्वपूर्ण जानकारी देने जा रहे हैं। आईएएस कैसे बनें? इसके लिए आपको यह करना होगा-

  • सबसे पहले 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करें।
  • इसके पश्चात किसी भी स्ट्रीम में ग्रेजुएशन (graduation) करें। इसमें वह विषय लें, जिसमें आपकी रूचि सबसे ज्यादा हो।
  • अब आपको यूपीएससी (UPSC) यानी संघ लोक सेवा आयोग (union public service commission) की ओर से आयोजित होने वाली सिविल सेवा परीक्षा (civil service exam) में बैठना होगा।
  • परीक्षा के तीनों चरणों-प्रारंभिक परीक्षा (preliminary exam), मुख्य परीक्षा (main exam) एवं इंटरव्यू (interview) को क्लियर करना होगा।
  • इंटरव्यू में बनाई गई मेरिट (merit) के आधार पर चयन सूची (selection list) जारी कर दी जाएगी। यदि आपका नाम मेरिट में हुआ तो आप आईएएस बन जाएंगे।
  • चयन (selection) के पश्चात प्रशिक्षु अधिकारी (trainee officer) के रूप में आपको मसूरी (mussoorie) स्थित लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी (Lal Bahadur Shastri national administrative academy) में प्रशिक्षण दिया जाएगा।
  • इसके पूरे होने के पश्चात बतौर आईएएस अधिकारी (IAS officer) आपकी पहली तैनाती हो जाएगी।

यूपीएससी की परीक्षा में बैठने के लिए क्या अर्हता आवश्यक है? (What is the pre requisite to take UPSC exams?)

दोस्तों, जैसा कि हमने बताया कि आपको आईएएस (IAS) बनने के लिए यूपीएससी (UPSC) की परीक्षा में बैठना होगा। अब आपको बताते हैं कि इस परीक्षा में बैठने के लिए आपको क्या अर्हता रखनी आवश्यक होगी-

  • आवेदक भारत का नागरिक (citizen of India) हो।
  • आवेदक ने किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय अथवा संस्थान से ग्रेजुएशन (graduation) की परीक्षा उत्तीर्ण की हो।
  • आवेदन के लिए आवेदक की उम्र न्यूनतम 21 वर्ष निर्धारित की गई है।
  • आवेदक की अधिकतम उम्र 32 वर्ष हो।
  • आरक्षित श्रेणी (reserved category) के लिए ऊपरी आयु सीमा में छूट का प्रावधान किया गया है। जैसे- ओबीसी नान क्रीमी लेयर (OBC non creamy layer) के उम्मीदवारों के लिए आवेदन की अधिकतम आयु 35 वर्ष निर्धारित की गई है, जबकि एससी/एसटी उम्मीदवार (SC/ST candidate) की अधिकतम 37 वर्ष की उम्र तक आवेदन कर सकते हैं।

सिविल सेवा परीक्षा के लिए आनलाइन आवेदन कैसे करें? (How to apply online for CSE?)

साथियों, यह तो आप जान ही गए हैं कि आईएएस बनने के लिए आपको यूपीएससी द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा में बैठना होगा। अब हम आपको बताएंगे कि इस परीक्षा के लिए आनलाइन आवेदन कैसे करें। इसकी प्रक्रिया इस प्रकार से है-

  • सबसे पहले यूपीएससी की वेबसाइट upsc.gov in पर जाएं।
  • यहां होम पेज (home page) पर आपको अप्लाई आनलाइन (apply online) का विकल्प दिखेगा। आपको इस विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने आनलाइन एप्लिकेशन फार वैरियस एग्जामिनेशन (online application for various examination) का आप्शन आएगा।
  • इस पर क्लिक करने के बाद आपके सामने सभी 24 परीक्षाओं के आप्शन आ जाएंगे। यहां आपको सिविल सर्विसेज प्रीलिमिनरी एग्जामिनेशन (civil service preliminary exam) के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने स्टार्ट आईएएस रजिस्ट्रेशन विद पार्ट-1 (start IAS registration with part-1) का आप्शन आ जाएगा। इस पर क्लिक कर दें।
  • अब आपके सामने एक फार्म (form) खुल जाएगा। आपको इसमें सारी जानकारी भरनी होगी।
  • इसके पश्चात डेक्लेरेशन फार्म (declaration form) को एक्सेप्ट (accept) करना होगा।
  • अब आपको फार्म फीस (form fee) के 100 रूपए का भुगतान आनलाइन (payment online) करना होगा।
  • इतना करने के बाद आपको रिसीट (reciept) मिल जाएगी। इसे प्रिंट करके अपने पास भविष्य के संदर्भ (future reference) के लिए सुरक्षित कर लें।
  • इस प्रकार यूपीएससी (UPSC) के लिए आपका आवेदन (application) पूरा हो जाएगा।

सीएसई का पैटर्न क्या है? (What is the pattern of CSE?)

बहुत से लोग सीएसई (CSE) के लिए आवेदन करना चाहते हैं, लेकिन वे इसका पैटर्न नहीं जानते। यह तो आप जानते ही हैं कि परीक्षा में सफल होने के लिए सबसे पहले परीक्षा का पैटर्न पता होना चाहिए, ताकि उसके अनुसार तैयारी की जा सके। आपको बता दें दोस्तों सीएसई के तीन चरण होते हैं-प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा एवं इंटरव्यू। अब हम इन तीनों के बारे में विस्तार से बात करेंगे-

1. प्रारंभिक परीक्षा (preliminary exam):

यह सीएसई का पहला चरण है। यह परीक्षा कुल 400 अंकों की होती है। इस परीक्षा में सामान्य अध्ययन यानी जनरल स्टडीज (general studies) के 200-200 अंकों के दो पेपर होते हैं। दोनों ही पेपर आब्जेक्टिव टाइप (objective type) होते हैं। यानी इनमें बहु विकल्पीय प्रश्न (multiple choice questions) पूछे जाते हैं।

परीक्षा में निगेटिव मार्किंग (negative marking) होती है। यानी प्रत्येक गलत जवाब के लिए एक तिहाई अंक काट लिया जाता है। इस परीक्षा में उत्तीर्ण होने पर ही उम्मीदवार को मुख्य परीक्षा (main exam) के लिए बुलावा भेजा जाता है।

2. मुख्य परीक्षा (main exam):

अब आते हैं मुख्य परीक्षा (main exam) पर। कुल परीक्षा (total exam) 2025 अंकों की होती है। इसमें 275 इंटरव्यू के अंक भी जोड़ दिए जाते हैं। इस प्रकार यह परीक्षा कुल 1750 अंकों की होती है। इसमें कुल नौ पेपर होंगे, जिनका ब्योरा (details) इस प्रकार से है-

पेपर विषय अवधि अंक
——————————–

  • पेपर ए–कंपल्सरी इंडियन लैंग्वेज–3 घंटे–300
  • पेपर बी-इंगलिश–3 घंटे—300
  • पेपर 1-एसे—3 घंटे—-250
  • पेपर 2-जनरल स्टडीज-1–3 घंटे—250
  • पेपर 3-जनरल स्टडीज-2–3 घंटे—250
  • पेपर 4-जनरल स्टडीज-3—3 घंटे–250
  • पेपर 5-जनरल स्टडीज-4–3 घंटे—250
  • पेपर 6-आप्शनल-1—3 घंटे—25
  • पेपर 7-आप्शनल-2—3 घंटे—250

आपको बता दें दोस्तों कि इनमें पेपर ए एवं पेपर बी क्वालिफाइंग नेचर (qualifying nature) के हैं। वेटेज के लिए उम्मीदवारों को इनमें कम से कम 25 प्रतिशत अंक प्राप्त करने अनिवार्य हैं। साथ ही पेपर ए इन राज्यों के उम्मीदवारों के लिए अनिवार्य नहीं है-

  • अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh)
  • मेघालय (Meghalaya)
  • मणिपुर (Manipur)
  • मिजोरम (Mizoram)
  • नागालैंड (Nagaland)
  • सिक्किम (Sikkim)

जनरल स्टडीज (general studies) में कवर किए जाने वाले विषयों की सूची इस प्रकार है-

  • जनरल स्टडीज 1- इंडियन हैरिटेज एंड कलचर, हिस्ट्री एंड ज्योग्राफी आफ द वर्ल्ड, सोसायटी।
  • जनरल स्टडीज 2- गवर्नेंस, कांस्टीट्यूशन, पालिटी, सोशल जस्टिस, इंटरनेशनल रिलेशंस।
  • जनरल स्टडीज 3- टेक्नोलाजी, इकोनामिक डेवलपमेंट, बायो डायवर्सिटी, इनवायरनमेंट, सिक्योरिटी एंड डिजास्टर मैनेजमेंट।
  • जनरल स्टडीज 4- एथिक्स, इंटीग्रिटी, एप्टीट्यूड।

पेपर 4 एवं 5 में इन विषयों में से चुनाव करना होगा-

मित्रों, अब हम आपको जानकारी देंगे कि आपको पेपर 4 एवं 5 में किन विषयों में से अपने विषय का चुनाव करना होगा? ये इस प्रकार से हैं-

  • हिस्ट्री (history)
  • एग्रीकल्चर (agriculture)
  • सिविल इंजीनियरिंग (civil engineering)
  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग (mechanical engineering)
  • इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग (electrical engineering)
  • साइकोलाजी (psychological)
  • जियोलाजी (geology)
  • एनिमल हजबेंड्री एंड वेटरनरी साइंस (animal husbandry and veterinary science)
  • कामर्स एंड एकाउंटेंसी (commerce and accountancy)
  • मेडिकल साइंस (medical science)
  • पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन (public administration)
  • इकोनामिक्स (economics)
  • मैनेजमेंट (management)
  • ला (law)
  • एंथ्रोपोलाजी (anthropology)
  • फिलासफी (philosophy)
  • केमिस्ट्री (chemistry)
  • मैथ्स (maths)
  • सोशियोलाजी (sociology)
  • बाटनी (botany)
  • फिजिक्स (physics)
  • जूलाजी (zoology)
  • स्टेटिस्टिक्स (statistics)
  • पालिटिकल साइंस एंड इंटरनेशनल रिलेशंस (political science and international relations)

आपको स्पष्ट कर दें मित्रों कि लैंग्वेज (language) पेपर ए और बी के अलावा अन्य पेपर इंगलिश (English) अथवा अपनी मातृभाषा में दिए जा सकते हैं। ये वे भाषाएं होनी चाहिए, जो भारतीय संविधान (indian constitution) की 8वीं अनुसूची (shedule) में शामिल हैं।

3. इंटरव्यू (Interview):

मुख्य परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले अभ्यर्थियों को इंटरव्यू/पर्सनैलिटी टेस्ट (interview/personality test) के लिए न्योता भेजा जाएगा। इंटरव्यू 275 अंकों का होगा। इंटरव्यू के माध्यम से उम्मीदवार की लीडरशिप स्किल (leadership skills), इंटेलेक्चुअल इंटीग्रिटी (intellectual integrity), इंटरेस्ट (interest), लाजिकल थिंकिंग (logical thinking), जजमेंट बैलेंस (judgement balance) आदि आंका जाता है। आंकलन इंटरव्यू बोर्ड (interview board) के सदस्य उम्मीदवार से विभिन्न प्रश्नों के जवाबों के आधार पर करते हैं। इंटरव्यू के पश्चात मेरिट लिस्ट (merit list) तैयारी की जाती है।

आईएएस बनने के लिए कितनी रैंक आवश्यक है? (Which rank is necessary to be an IAS?)

यह सवाल बहुत से आईएएस की परीक्षा देने के इच्छुक परीक्षार्थियों के मस्तिष्क में आता है। वे इसी को ध्यान में रखकर पढ़ाई पर फोकस (focus) करते हैं। यदि आप भी इस संबंध में जानना चाहते हैं तो आपको बता दें दोस्तों कि एक आईएएस (IAS) बनने के लिए 90 रैंक (rank) के भीतर आना ही चाहिए। यह रैकिंग (ranking) सामान्य वर्ग (general category) के अभ्यर्थियों के लिए है।

आईएएस चुने जाने के बाद कहां ट्रेनिंग होती है? (Where training is given to an IAS after selection?)

यूपीएससी (UPSC) क्लियर करने के बाद जब कोई व्यक्ति आईएएस चुना जाता है तो उसे लाल बहादुर शास़्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी, मसूरी में ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है। यहां उन्हें दो साल की ट्रेनिंग दी जाती है। इसमें तीन माह का फाउंडेशन कोर्स (foundation course) भी शामिल है।

इसे करने के साथ साथ प्रशासनिक (administrative) कार्यों, पुलिसिंग (policing) एवं गवर्नेंस (governance) हर सेक्टर की जानकारी दी जाती है। इसके साथ ही मेंटल एवं फिजिकल स्ट्रेंथ (mental and physical strength) बढ़ाने से जुड़ी एक्टिविटीज (activities) भी कराई जाती हैं।

आईएएस की पहली तैनाती किस पद पर होती है? (What is the first posting of an IAS?)

दोस्तों, आपको जानकारी दे दें कि ट्रेनिंग (training) पूरी होने के पश्चात एक आईएएस की पहली तैनाती एसडीएम (SDM) यानी सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट (sub divisional magistrate) के पद पर होती है। इसके बाद उसे जिला मजिस्ट्रेट यानी डीएम/डीसी (DM/DC) के पद पर काम करने का मौका मिलता है।

आपको बता दें कि केंद्र एवं राज्य सचिवालय के पदों पर भी आईएएस की आवश्यकता होती हे। यहां ये पीएसयू प्रमुख (PSU head) के तौर पर काम करते हैं। एक आईएएस जिला लेवल पर कार्य करने के अलावा एक कैबिनेट सचिव के साथ साथ संयुक्त सचिव, उप सचिव एवं अवर सचिव के रूप में भी काम कर सकता है।

एक आईएएस की सैलरी कितनी होती है? (What is the salary of an IAS?)

आईएएस बनने के बाद अच्छी खासी सैलरी के साथ ही भत्ते भी मिलते हैं। आपको बता दें दोस्तों कि सातवें वेतन आयोग (7th pay commission) के अनुसार एक आईएएस अधिकारी का वेतन 56,100 रुपए से लेकर ढाई लाख रुपए तक होता है। मूल वेतन एवं ग्रेड पे (basic salary+grade pay) के अतिरिक्त इन्हें कई प्रकार के भत्ते (allowances) मिलते हैं, जो कि इस प्रकार से हैं-

  • डीयरनेस अलाउंस (DA)
  • हाउस रेंट एलाउंस (HRA)
  • मेडिकल अलाउंस (medical allowance)
  • कन्वेयंस अलाउंस (conveyance allowance)

इसके अतिरिक्त कुक, बंगला, गार्डनर, सिक्योरिटी गार्ड, सब्सिडी पर बिजली एवं फोन सेवा आदि।

अन्य प्रोफेशनल्स में आईएएस बनने का क्रेज क्यों बढ़ रहा है? (Why the craze of IAS is increasing in other professionals too?)

साथियों, आपने देखा होगा कि आईएएस के रूप में पास होने वाले परीक्षार्थियों में डाक्टरों, इंजीनियरों आदि की भी बड़ी तादाद है। आखिर इन प्रोफेशनल्स (professionals) में आईएएस बनने का क्रेज क्यों बढ़ रहा है?

विशेषज्ञों की मानें तो आईएएस के पद से जुड़ी पावर, प्रतिष्ठा आदि ऐसे कारण हैं, जो अन्य प्रोफेशन के लोगों को भी आईएएस अधिकारी बनने के लिए प्रेरित कर रही है। इसके लिए हजारों की संख्या में हर साल डाक्टर, इंजीनियर एवं अन्य प्रोफेशनल यूपीएससी की परीक्षा में बैठ रहे हैं।

एक आईएएस बनने के लिए क्या क्या गुण होने चाहिए? (What are traits required to be an IAS?)

एक आईएएस का काम प्रशासनिक दायित्व संभालना होता है। विभिन्न कार्यक्रमों में अफसरों की टीम का नेतृत्व करना होता है। ऐसे में एक छात्र, जो आईएएस बनने की इच्छा रखता है, उनमें यह गुण अवश्य होने चाहिए-

लीडरशिप (leadership skill): यह एक आईएएस का सबसे बड़ा गुण है। जैसा कि हम बता चुके हैं कि एक आईएएस को अफसरों का टीम का नेतृत्व करना होता है। ऐसे में इस गुण के बगैर बात नहीं बनेगी।

त्वरित निर्णय लेने की क्षमता (quick decision making ability): एक आईएएस में किसी भी मामले में त्वरित निर्णय लेने की क्षमता होनी चाहिए। उसकी तैनाती के दौरान इस प्रकार के कई मसले उसके सामने आ सकते हैं, जिसमें उसे इस गुण की आवश्यकता पड़ेगी।

कम्युनिकेशन स्किल (communication skill): एक आईएएस को अपने मातहत अफसरों की टीम से काम लेना होता है। ऐसे में एक बेहतर कम्युनिकेशन स्किल वाला आईएएस ही सफल साबित होता है।

ईमानदारी एवं नैतिकता (honesty and morality): एक आईएएस को मूल रूप से ईमानदार एवं नैतिकता पर चलने वाला होना चाहिए। एक आईएएस को भ्रष्ट होने के बहुत मौके मिलते हैं, लेकिन एक ईमानदार अफसर की हमेशा पूछ एवं सराहना होती है। दूसरे वह अपने क्षेत्र में बहुत से लोगों का रोल माडल (role model) होना चाहिए। ऐसे में उसमें यह गुण बेहद जरूरी है।

प्रतिबद्धता (dedication): एक आईएएस अफसर में प्रतिबद्धता होनी बेहद आवश्यक है। उसे जो भी कार्य सौंपा जाए, वह प्रतिबद्धता के साथ उसे करे, उससे यही अपेक्षा की जाती है।

आईएएस की तैयारी कैसे करें? (How to get prepared for IAS?)

अब हम आपको जानकारी देंगे कि आईएएस की तैयारी कैसे करें। इसके लिए आपको ग्रेजुएशन में प्रवेश लेने के साथ ही तैयारी शुरू कर देनी होगी। वही विषय चुनें, जिसमें आपको सबसे ज्यादा रूचि हो। इससे आपके लिए संबंधित विषय की तैयारी आसान हो जाएगी। साथ ही आपका दिल भी लगेगा। इसके अलावा यह टिप्स आपके काम आएंगे-

  • अपने सिलेबस (syllabus) को सामने रखकर पढ़ाई करें।
  • करेंट अफेयर्स/जनरल स्टडीज (current affairs/general studies) के लिए रोज एक हिंदी एवं एक अंग्रेजी अखबार अवश्य पढ़ें।
  • योजना, फ्रंटलाइन, मनोरमा ईयरबुक जैसी मैगजीन पढ़ना आपके लिए बेहद लाभदायक हो सकता है।
  • साइंस, हिस्ट्री जैसे विषयों पर कई अच्छे यूट्यूब (YouTube) चैनल भी हैं, आप इनको सब्सक्राइब (subscribe) कर सकते हैं।
  • यदि आप किसी समूह से जुड़कर तैयारी कर सकें तो और बेहतर रहेगा।
  • यदि आपकी आर्थिक स्थिति इजाजत दे तो आप कोई कोचिंग संस्थान भी ज्वाइन कर सकते हैं।
  • मॉक टेस्ट (mock test) भी देते रहें, इससे आपको परीक्षा के पैटर्न के अनुसार तैयारी में मदद मिलेगी।
  • तैयारी के लिए एनसीईआरटी (NCERT) की किताबों को प्राथमिकता दें।
  • जिस सवाल का जवाब न आता हो, उस पर तुक्का न मारें, प्रारंभिक परीक्षा में निगेटिव मार्किंग (negative marking) का प्रावधान होता हैं।

तैयारी के लिए कौन कौन सी किताबें लाभप्रद हो सकती हैं? (Which books can be beneficial for preparation?)

दोस्तों, बहुत से लोग यह जानना चाहते हैं कि तैयारी के लिए कौन कौन सी किताबें लाभप्रद हो सकती हैं। यदि आप भी इस संबंध में जानकारी चाहते हैं तो आपको बता दें कि आपके लिए एनसीईआरटी (NCERT) की किताबों से पढ़ाई करना बेहद लाभदायक हो सकता है। यदि अन्य किताबों की बात करें तो वे इस प्रकर से है-

इतिहास (history):
——-

  • आधुनिक भारत का संक्षिप्त इतिहास-सुजाता मेनन
  • विश्व इतिहास-नार्मन लोवे
  • प्राचीन भारत–आरएस शर्मा (ओल्ड एनसीईआरटी)
  • मध्यकालीन भारत का इतिहास-सतीश चंद्र (ओल्ड एनसीईआरटी)
  • भारत का स्वतंत्रता संघर्ष-विपन चंद्र
  • स्वतंत्रता के बाद का भारत-विपन चंद्र

भारतीय संस्कृति (indian culture):
————–

  • भारतीय संस्कृति के पहलू-स्पेक्ट्रम
  • कला और संस्कृति-नितिन सिंहानिया

भूगोल (geography):
——–

  • भारत: भौतिक पर्यावरण एनसीईआरटी
  • मानव भूगोल के मूल सिद्धांत-एनसीईआरटी

अर्थव्यवस्था (economy):
———–

  • भारत के लोग और अर्थव्यवस्था -एनसीईआरटी
  • भारतीय अर्थव्यवस्था-रमेश सिंह
  • भारतीय अर्थव्यवस्था- नितिन सिंघानिया
  • भारत की आंतरिक सुरक्षा के लिए चुनौतियां-अशोक कुमार
  • हालिया आर्थिक सर्वेक्षण

राजनीति (politics):
———-

  • भारतीय राजनीति- लक्ष्मीकांत
  • भारत के संविधान का परिचय-डीडी बसु
  • भारत का संविधान-पीएम बख्शी
  • भारतीय राजनीति (ओल्ड एनसीईआरटी)

इसके अतिरिक्त दोस्तों आप अंतरिक्ष विज्ञान की तैयारी के लिए इसरो (ISRO) की वेबसाइट (website), दूरदर्शन के विभिन्न सेटेलाइट (satellite) चैनलों द्वारा किए जा रहे प्रसारणों, पर्यावरण पर हो रहे शोध आदि के आधार पर भी अपनी तैयारी कर सकते हैं।

आईएएस के इंटरव्यू के दौरान किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? (What things should be kept in mind while interview?)

मित्रों, मान लीजिए कि आपने अपनी कड़ी तैयारी के बल पर यूपीएससी (UPSC) की प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षा (preliminary and main exam) में सफलता प्राप्त कर ली है, लेकिन इंटरव्यू बोर्ड (interview board) भी आपकी कड़ी परीक्षा लेगा।

वह आपसे ऐसे प्रश्न करेगा, जिससे आपका दिमाग चकरा जाए। आपको यूपीएससी में सिलेक्ट हुए अभ्यर्थियों से बात कर इसका अंदाजा हो जाएगा। लेकिन इंटरव्यू के दौरान ध्यान में रखने वाली बातों के बारे में हम आपको जरूर बताना चाहेंगे, जो कि इस प्रकार से है-

  • इंटरव्यू के दौरान अपने अपीयरेंस (appearance) पर खास ध्यान दें। कक्ष में घुसते ही इंटरव्यू बोर्ड (interview board) का अभिवादन करें।
  • सोबर कपड़े पहनकर इंटरव्यू बोर्ड के समक्ष जाएं। बहुत चटकीले-भड़कीले वस्त्र न पहनें।
  • इंटरव्यू बोर्ड के सामने पांव पर पांव रखकर न बैठें या लगातार पांव न हिलाते रहें।
  • जिस सवाल का जवाब न आता हो, उसे विनम्रता से मना करें, घुमाने की कोशिश न करें।
  • रूचियों के बारे में पूछे जाने पर सही जवाब दें। कई बार लोगों की साहित्य में दिलचस्पी नहीं होती, लेकिन अपनी रूचि बता देते हैं। बाद में इंटरव्यू बोर्ड के उस पर प्रश्न करने पर घिर जाते हैं।
  • इंटरव्यू समाप्त होने पर शिष्टता के साथ उठकर अभिवादन करके बाहर जाएं।
  • यदि आप चाहें तो इंटरव्यू का अभ्यास पहले से कर सकते हैं।
  • माक इंटरव्यू (mock interview) कर सकते हैं।
  • इंटरव्यू के बारे में चयनित अभ्यर्थियों (selected candidates) के टिप्स (tips) आपके काम आ सकते हैं।

बेहद चर्चा में रहने वाले आईएएस कौन कौन से हैं? (Name the IAS who have been center of the talks?)

भारत में कई आईएएस अधिकारी (IAS officer) ऐसे रहे हैं, जो अपनी सेवा भावना अथवा किसी अन्य कारण की वजह से बेहद चर्चा में रहे हैं। ऐसे ही कुछ चर्चित आईएएस के बारे में आज हम आपको बताएंगे। आर्मस्ट्रांग पेम नागा ऐसे ही एक चर्चित आईएएस रहे हैं। नागा जेमे जनजाति (shedule tribes) से बने पहले आईएएस थे। वे 2009 बैच के आईएएस हैं। उन्हें मणिपुर (Manipur) में मिरैकल मैन यानी चमत्कारी व्यक्ति के नाम से जाना जाता है।

उन्होंने किसी सरकारी मदद के बगैर 2012 में राज्य में 100 किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण कराया। अगस्त, 2012 में उन्होंने अपनी इस पहल के लिए फेसबुक पेज (Facebook page) के जरिए 40 लाख रूपये जुटाए थे। उनके इस प्रयास के लिए उन्हें अमेरिका (America) के कैलिफोर्निया (California) स्थित फेसबुक मुख्यालय (headquarter) ने भी न्योता था।

ऐसे ही आईएएस रहे हैं अशोक खेमका (Ashok Khemka), जो बहुत चर्चा में रहे। हरियाणा (haryana) में आईएएस अशोक खेमका की ईमानदारी के किस्से कहे जाते हैं। इसी प्रकार नक्सल प्रभावित इलाकों में काम करने वाले छत्तीसगढ़ कैडर (chattisgarh cadre) के 2009 बैच के आईएएस अफसर सौरभ कुमार बेहद चर्चित रहे।

उन्होंने स्थानीय युवाओं को हिंसा से दूर रखने के लिए लंच विद द कलेक्टर (lunch with the collector) नाम का काउंसिलिंग सेशन (counseling session) चलाया। उन्हें लोक प्रशासन में उत्कृष्टता के लिए प्रधानमंत्री पुरस्कार भी दिया गया। 2003 बैच की आईएएस ऋतु माहेश्वरी (Ritu maheshwari) को कानपुर (kanpur) केस्को (kesko) में प्रमुख अधिकारी के पद पर कार्य के दौरान बिजली चोरी रोकने के लिए उठाए गए कदमों के लिए जाना जाता है।

आईएएस की फुल फार्म क्या है?

आईएएस की फुल फार्म इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस है।

आईएएस को हिंदी में क्या पुकारा जाता है?

इसे हिंदी में भारतीय प्रशासनिक सेवा पुकारा जाता है।

एक आईएएस क्या क्या कार्य करता है?

इसकी जानकारी हमने आपको ऊपर पोस्ट में दी है। आप वहां से पढ़ सकते हैं।

आईएएस बनने के लिए कौन सी परीक्षा उत्तीर्ण करनी होती है?

आईएएस बनने के लिए यूपीएससी यानी संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा यानी सीएसई उत्तीर्ण करनी होती है।

आईएएस बनने के लिए सीएसई के कितने चरण होते हैं?

आईएएस बनने के लिए सीएसई के तीन चरण प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा एवं इंटरव्यू होते हैं।

आईएएस बनने के लिए इंटरव्यू कितने अंक का होता है?

आईएएस बनने के लिए 275 अंक का इंटरव्यू होता है।

आईएएस की ट्रेनिंग कहां होती है?

आईएएस की ट्रेनिंग लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक एकेडमी, मसूरी में होती है।

एक आईएएस की सैलरी कितनी होती है?

एक आईएएस की सैलरी 56,100 से लेकर ढाई लाख रुपए तक होती है। इसके अतिरिक्त उसे विभिन्न प्रकार के भत्ते भी प्राप्त होते हैं।

आईएएस की पहली तैनाती किस पद पर होती है?

आईएएस की पहली तैनाती एसडीएम के पद पर होती है।

दोस्तों, इस पोस्ट (post) में हमने आपको बताया कि आईएएस कैसे बनें? उम्मीद करते हैं कि आपके समक्ष यह प्रक्रिया पूरी तरह स्पष्ट हो गई होगी। यदि चयन प्रक्रिया के संबंध में आपका कोई सवाल है तो उसे नीचे दिए गए कमेंट बाक्स (comment box) में कमेंट (comment) करके हम तक पहुंचा सकते हैं। आपकी प्रतिक्रियाओं एवं सुझावों का स्वागत है। ।।धन्यवाद।।

————-

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment

एक देश एक राशन कार्ड योजना नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना यूपी जनसंख्या कानून क्या है? मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना झारखण्ड कम्युनिकेशन स्किल इम्प्रूव करने के 8 तरीके