घर बैठे एसपी से शिकायत कैसे करें? थाने में सुनवाई ना हो तो क्या करें?

|| एसपी से शिकायत कैसे करें? [How to complain to SP?] एसपी के पास शिकायत कैसे करें?, थाने में सुनवाई ना हो तो क्या करें?, अगर पुलिस परेशान करे तो क्या करें?, पुलिस को गुप्त शिकायत कैसे करें? ||

बहुत से लोग अपनी स्थानीय पुलिस की अकर्मण्यता की वजह से परेशान रहते हैं। कई बार पुलिस उनकी सुनती नहीं, या फिर सुनती है तो उस पर विपक्षी के साथ मिलकर पैसे के दबाव में मामले को रफा-दफा करने के आरोप लगते रहते हैं। कई बार मामले में कार्रवाई के लिए पैसे/रिश्वत मांगी जाती है।

कई बार ऐसा भी होता है कि फरियादी पुलिस की कार्रवाई से संतुष्ट नहीं होता। ऐसे में आम आदमी क्या करे? उसके पास एक तरीका होता है कि वह अपनी बात जिले के सबसे बड़े पुलिस अधिकारी पुलिस अधीक्षक यानी एसपी से करे। लेकिन बहुत से लोगों को यह पता नहीं होता कि वे एसपी से शिकायत कैसे कर सकते हैं? आज इस पोस्ट में हम आपको इसी संबंध में जानकारी देंगे। उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको पसंद आएगी-

एसपी कौन होता है? (Who is sp?)

एसपी से शिकायत कैसे करें? यह तो हम आपको बताएंगे ही। हमारे लिए यह जानना अधिक बेहतर रहेगा कि एसपी कौन होता है? एसपी (sp) की फुल फार्म सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस (superintendent of police) होती है। इसे हिंदी में पुलिस अधीक्षक पुकारा जाता है।

आम तौर पर पुलिस व्यवस्था (police system) को बेहतर बनाने के लिए एसपी सिटी (sp City) एवं एसपी रूरल (sp rural) की तैनाती रहती है। जैसा कि आप नाम से ही समझ गए होंगे कि एसपी सिटी के पास शहरी क्षेत्रों की पुलिस व्यवस्था दुरूस्त रहने का जिम्मा रहता है, वहीं एसपी रूरल ग्रामीण क्षेत्र का होल सोल होता है।

घर बैठे एसपी से शिकायत कैसे करें? थाने में सुनवाई ना हो तो क्या करें?

एसपी के पास शिकायत की वजह क्या होती है? (What are the reasons of complaint to sp?)

पुलिस व्यवस्था को चौक चौबंद रखने, अपराधों को कम करने एवं आम जनता की समस्या सुलझाने के लिए पुलिस चौकी, पुलिस थाने आदि की व्यवस्था की गई है। ऐसे में एसपी के पास शिकायत की क्या वजहें हो सकती हैं? यह सवाल आपके मन में भी अवश्य घूम रहा होगा। अब हम आपके सामने इन वजहों पर प्रकाश डालेंगे। ये निम्नवत हैं-

  • * यदि आपकी शिकायत पर कार्रवाई के लिए आपसे कोई रिश्वत मांगी जा रही हो।
  • * यदि कोई पुलिस अधिकारी अथवा कर्मचारी अपनी शक्तियों का गलत इस्तेमाल कर रहा हो।
  • * यदि पुलिस कस्टडी में आपके किसी परिजन की मौत हो गई हो।
  • * यदि स्थानीय पुलिस आपकी शिकायत पर सुनवाई न करे।
  • * यदि आप स्थानीय पुलिस की किसी कार्रवाई से संतुष्ट न हों।

इसके अतिरिक्त भी और कई ऐसी परिस्थितियां हैं, जिनमें आप एसपी के पास शिकायत लेकर जा सकते हैं।

कौन से दस्तावेज हैं, जिनसे आपके मामले की जांच में मदद मिलेगी? (What are the documents, that will help in the investigation of the matter?)

यदि आपके पास आपकी शिकायत से जुड़े कुछ दस्तावेज (documents) भी हैं, तो कहना न होगा कि इनसे आपकी शिकायत की जांच (investigation of the complaint) में मदद मिलेगी। ये दस्तावेज कौन कौन से हैं, अब हम आपको इसके बारे में जानकारी देंगे, जो कि इस प्रकार से हैं-

* मेडिकल रिपोर्ट (medical report)

यदि शिकायतकर्ता को पुलिस द्वारा पीटा गया है अथवा उसे चोट पहुंचाई गई है तो ऐसी स्थिति में उसको मेडिकल रिपोर्ट (medical report) की आवश्यकता होगी।

मेडिकल रिपोर्ट आप अपनी चोटों के आधार पर किसी भी सरकारी अस्पताल (government hospital) से बनवा सकते हैं। इसमें कोई पैसा भी खर्च नहीं होता।

* आडियो/फोटो/वीडियो रिकार्डिंग (audio/photo/video recording)

यदि आपके पास आपके साथ मारपीट होने अथवा आपको चोट पहुंचाए जाने अथवा आपसे रिश्वत मांगे जाने से संबंधित कोई फोटो अथवा वीडियो है तो इससे आपकी स्थिति शिकायतकर्ता के तौर पर बहुत मजबूत होगी।

आप चाहें तो मामले की आडियो रिकार्डिंग भी पेश कर सकते हैं। अथवा आपके द्वारा दिए गए नोटों के सीरीज नंबर (series number) आपके पास हों तो उन्हें भी आप बतौर सुबूत (as a proof) पेश कर सकते हैं।

* एफआईआर (FIR)

यदि आपने किसी के विरूद्ध शिकायत करते हुए पहले से पुलिस स्टेशन (police station) में कोई एफआईआर दर्ज (FIR file) की है तो उस एफआईआर की कॉपी (copy) एसपी के सामने पेश करना कतई न भूलें। यह आपके केस (case) को और मजबूत करेगा।

एसपी से शिकायत कैसे करें? (How to complaint to sp?)

अब हम जो जानकारी आपको देने जा रहे हैं, वह आपके सर्वाधिक काम की है। हम आपको बताएंगे कि आप एसपी से घर बैठे शिकायत कैसे कर सकते हैं। इसकी प्रक्रिया सरल है एवं निम्नवत है-

  • * आप एक सादे कागज पर अपनी शिकायत विस्तार से लिखें।
  • * इसके पश्चात अपने जिले में स्थित एसपी कार्यालय में जाएं। प्रत्येक जनपद में एक एसपी आफिस होता है।
  • * यहां अपनी शिकायत जमा करें एवं रिसीविंग (receiving) लें। यदि आप चाहें तो एसपी से मुलाकात कर अपनी शिकायत व्यक्तिगत रूप से बता सकते हैं।
  • * आपकी बात ध्यान से सुनी जाएगी एवं आपकी शिकायत पर जांच के बाद कार्रवाई भी होगी।

घर बैठे एसपी से शिकायत कैसे करें? (How to complaint sp from home?)

यदि आप एसपी कार्यालय (sp office) तक नहीं जाना चाहते तो घर बैठे ही एसपी से शिकायत कर सकते हैं। आप चाहें तो अपनी शिकायत स्पीड पोस्ट (speed post) से भेज सकते है। इसकी प्रक्रिया (process) इस प्रकार है-

  • * सबसे पहले एक कागज पर अपनी शिकायत को विस्तार से लिखें।
  • * इसमें घटना के बारे में तिथि, आरोपी का नाम, पदनाम, पता आदि लिखते हुए विस्तार से ब्योरा दें।
  • * अपनी शिकायत में घटना का कारण भी बताएं। साथ ही यह भी बताएं कि वर्तमान में क्या दिक्कत है।
  • * शिकायती पत्र में अपना नाम, पता एवं मोबाइल नंबर लिखें।
  • * इसके पश्चात इस पत्र को स्पीड पोस्ट से संबंधित जिले के एसपी कार्यालय को भेज दें।
  • * वहां से आपकी शिकायत पर जांच के लिए निर्देश दिए जाएंगे।
  • * जांच के बाद शिकायत पर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

एसपी से शिकायत का प्रारूप क्या हो? (What should be the format of complaint to sp?)

कहते हैं कि बात उदाहरण अथवा मिसाल देने से ज्यादा अच्छी तरह समझ में आती है। ऐसे में यहां एक उदाहरण (example) के माध्यम से हम आपको समझाने का प्रयास करेंगे कि एसपी से शिकायत का प्रारूप (format of complaint) क्या हो? मान लीजिए कि आपके साथ मारपीट हुई है एवं स्थानीय पुलिस (local police) आपकी शिकायत दर्ज नहीं कर रही है तो आप इसे इस प्रकार से लिखें-

सेवा में,
एसपी महोदय
… यहां कार्यालय का पता लिखें
…. यहां शहर का नाम लिखें

विषय: पुलिस द्वारा मारपीट की शिकायत दर्ज न किए जाने के संबंध में।

महोदय,

निवेदन यह है कि मेरा नाम … (यहां अपना नाम लिखें) है। मैं …(जगह का नाम लिखें) में रहता हूं। मेरे साथ कुछ आपराधिक तत्वों ने मारपीट की (यहां दिन एवं समय का उल्लेख करें)। मुझे जगह जगह पर चोट आई है। लेकिन जब मैं संबंधित थाने/चौकी (नाम लिखें, संबंधित अधिकारी का नाम लिखें, उसका पदनाम लिखें) में शिकायत करने गया तो शिकायत दर्ज नहीं की गई। उल्टे मुझे भगा दिया गया। महोदय मारपीट करने वाले प्रभावी व्यक्ति हैं। मुझे लगता है कि फलां थाने/चौकी की पुलिस दबाव में कार्रवाई नहीं कर रही है। कृपया मेरी शिकायत दर्ज कराने एवं मामले में जांच कराने का कष्ट करें।

धन्यवाद।

– प्रार्थी
(नाम एवं हस्ताक्षर)
पता
मोबाइल नंबर

संलग्न: प्रार्थी की मेडिकल रिपोर्ट।

यदि अपना नाम गुप्त रखकर आनलाइन शिकायत करना चाहते हैं तो ऐसा कैसे करें? (If you want to keep your name secret, how to complaint online?)

आनलाइन शिकायत कैसे करें? इस बात की जानकारी शायद आपको भी हो, लेकिन यदि नहीं है तो हम आपकी सहायता करेंगे। आपको बताएंगे कि आप आनलाइन शिकायत (online complaint) कैसे कर सकते हैं। इन दिनों आनलाइन का जमाना है। प्रत्येक राज्य ने अपने नागरिकों की सुविधा के लिए आनलाइन शिकायत की सुविधा मुहैया कराई है।

वह चाहें तो अपना नाम गुप्त भी रख सकते हैं। इसके लिए पुलिस विभाग (police department) की ओर से एक एप डेवलप (app develop) किया गया है। इसके माध्यम से आप शिकायत कैसे कर सकते हैं, उसकी प्रक्रिया (process) निम्नवत है-

  • * सबसे पहले अपने मोबाइल फोन (mobile phone) में गूगल प्ले स्टोर (Google Play Store) से पुलिस सेवा एप (police sewa app) डाउनलोड (download) कर लें। यदि आप एंड्रायड यूजर (android user) हैं तो आपको यह एप वहां आसानी से मिल जाएगा।
  • * जैसे आप आंध्र प्रदेश में हैं तो एपी पुलिस सेवा एप (AP police sewa app) को डाउनलोड करें। इस एप को 4.2 stars मिले हैं। 25 एमबी के इस एप को अब तक 10 हजार से अधिक लोग डाउनलोड (download) कर चुके हैं।
  • * एक बार इस एप को डाउनलोड करने के पश्चात एप (app) को ओपन (open) करें।
घर बैठे एसपी से शिकायत कैसे करें? थाने में सुनवाई ना हो तो क्या करें?
  • * आपको यहां शेयर इनफार्मेशन (share information) का एक ऑप्शन (option) दिखेगा। आपको इस पर क्लिक (click) करना होगा।
  • * इसके पश्चात आपके सामने एक पेज खुलेगा। यहां आपको सेलेक्ट टाइप ऑफ इंफार्मेशन (select type of information) आप्शन दिखेगा। आपको इसमें जिससे संबंधित शिकायत है, उसे चुनना होगा।
  • * अब आपके सामने डू यू वांट टू शेयर पर्सनल इंफार्मेशन (do you want to share personal information) का ऑप्शन आएगा। यदि आप अपना नाम गुप्त रखना चाहते हैं तो आपको यहां नो (no) को सेलेक्ट करना है।
घर बैठे एसपी से शिकायत कैसे करें? थाने में सुनवाई ना हो तो क्या करें?
  • * इसके पश्चात आपको शिकायत लिखने का विकल्प मिलेगा। अब सारी जानकारी यहां लिख दें।
  • * इतना करने के पश्चात आपको आपकी शिकायत से संबंधित दस्तावेज/प्रूफ अपलोड (documents/proof upload) करने का आप्शन मिलेगा। इस पर क्लिक कर यहां अपनी शिकायत से जुड़े दस्तावेज/प्रूफ अपलोड कर दें।
  • * इसके पश्चात सबमिट (submit) के ऊपर क्लिक कर दें।
  • * इस प्रकार आपकी शिकायत दर्ज हो जाएगी और शिकायत से संबंधित ट्रैकिंग नंबर (tracking number) आपको मिल जाएगा। इसे भविष्य के संदर्भ (future reference) के लिए अपने पास सुरक्षित (save) कर लें। आप इससे अपनी शिकायत का स्टेटस (status of complaint) जान सकेंगे।

एसपी के सामने झूठी अथवा गलत शिकायत किसी भी स्थिति में न करें (don’t do false/wrong complaint of any body to sp?)

एक बात से आपको आगाह कर दें कि एसपी के सामने झूठी और गलत शिकायत (false complaint) करने से यथासंभव बचें। यदि आपने गलत शिकायत कर दी और जांच में यह बात सामने आई तो फिर आपके ही खिलाफ भारतीय दंड संहिता अर्थात इंडियन पीनल कोड (indian penal code) में निर्धारित पुलिस एक्शन (action) लिया जाएगा।

एसपी कौन होता है?

एसपी जिले में सबसे बड़ा पुलिस अधिकारी होता है।

एसपी के पास किस प्रकार की शिकायतें की जा सकती हैं?

इनका ब्योरा हमने आपको ऊपर पोस्ट में दिया है, आप वहां से पढ़ सकते हैं।

शिकायत के साथ क्या आपको किसी प्रकार के दस्तावेज भी अपलोड करने होंगे?

जी हां, शिकायत करने के साथ ही आपको इससे जुड़े दस्तावेज जैसे, कोई फोटो/आडियो-वीडियो, रिकार्डिंग, मेडिकल रिपोर्ट आदि अपलोड करने होंगे।

पुलिस सेवा एप को कहां से डाउनलोड किया जा सकता है?

इस एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है।

क्या एसपी से घर बैठे शिकायत की जा सकती है?

जी हां, आप स्पीड पोस्ट के जरिए अथवा आनलाइन अपनी शिकायत घर बैठे कर सकते हैं।

हमने आपको इस पोस्ट (post) में बताया कि आप घर बैठे एसपी से शिकायत कैसे करें? थाने में सुनवाई ना हो तो क्या करें? यदि आपका कोई मित्र अथवा परिचित इस प्रकार की परिस्थितियों में फंसा है तो आप इस पोस्ट को उससे शेयर कर सकते हैं। साथ ही अन्य लोगों से भी साझा अवश्य करें ताकि वे जान सकें कि उन्हें एसपी से शिकायत करने के लिए किस प्रक्रिया का पालन करना होगा। धन्यवाद।

———————————-

Contents show
Spread the love:

4 thoughts on “घर बैठे एसपी से शिकायत कैसे करें? थाने में सुनवाई ना हो तो क्या करें?”

    • विषय:- पुलिस थाना सिटी कोतवाली भिण्ड द्वारा प्रार्थिया की रिपोर्ट दर्ज न किया जाकर चोर को बिना कार्यवाही के छोड़े जाने बावत्। महोदय कृपया अपने समाचार पत्र में उपरोक्त समाचार प्रकाशित करने का कष्ट करें।

      भिण्ड। प्रार्थिया के स्वामित्व एवं आधिपत्य की एक दुकान महावीर गंज पानी की टंकी के पास स्थित है जो कि उसे न्यायालय द्वितीय अपर जिला न्यायाशीश भिण्ड श्री जे.एम. चतुर्वेदी के व्यवहार वाद प्रकरण क्रमांक 16ए / 1998 में दिनांक 25.02.2004 को पारित निर्णय के उपरांत हुई और प्रार्थिया का उक्त हिस्सा नगर पालिका भिण्ड में इंद्राज भी है। और उपरोक्त दुकान में काबिज भी थी।

      दिनांक 08.022022 को प्रार्थिया के भतीजे राजेश जैन उर्फ रिंकू और मनोज जैन उर्फ डोली ने प्रार्थिया की दुकान पर लड़के को सामान नहीं निकालने दिया और दिनांक 07.02.2022 को प्रार्थिया और उसके पति का धमकी भी दी गई जिसकी प्रार्थिया द्वारा लेखीय शिकायत भी गई। दिनांक 11.02.2022 को आरोपियों ने प्रार्थिया की दुकान में ताले तोड़कर नये डाल लिये प्रार्थिया को जानकारी लगने के पश्चात पुसिस थाना सिटी कोतवाली भिण्ड को शिकायत की गई और दिनांक 12.02.2022 को पुलिस कोतवाली भिण्ड द्वारा उक्त दुकान को ताले खुलवाये गये तो दुकान का सामान आरोपियों ने गायब कर दिया था। दुकान का ताला खुलवाकर चाबी को पुलिस ने अपने पास रख लिया और कहा रिपोर्ट दर्ज करने के बाद तुम्हे दे देंगे। लेकिन पुलिस ने कोई भी कार्यवाही नहीं की और न ही दुकान की चाबी प्रार्थिया को दी। न

      प्रार्थिया द्वारा दिनांक 15.02:2022 को पुलिस अधीक्षक भिण्ड के यहां लेखीय आवेदन प्रस्तुत किया गया लेकिन कोई कार्यवाही नही हुई। जब प्रार्थिया द्वारा दिनांक 03.03.2022 को पुलिस के समक्ष आरोपियों को गिरफ्तार करवा दिया तो पुलिस कोतवाली भिण्ड द्वारा फिर भी प्रार्थिया की रिपोर्ट नहीं लिखी गई और रात में ही आरोपियों से सांठगाठ करते हुये बिना कोई रिपोर्ट लिखे और बिना कोई कार्यवाही के उन्हें ही दुकान की चाबी देकर छोड़ दिया तथा प्रार्थिया को अपमानति करते हुये कहा कि तुम्हारा वहां कुछ नही था और कोई चोरी नहीं हुई। जबकि घटनास्थल के आस-पास के लोगों से पता लगाया जा सकता है। प्रार्थिया द्वारा सी.एम. हेल्पलाईन 181 पर शिकायतें दर्ज कराई गई है।

      अतः पुलिस थाना सिटी कोतवाली भिण्ड की करतूत और आरोपियों को सह देने का समाचार

      प्रकाशित कर मुझे न्याय दिलवाने में सहयोग करे।

      दिनांक 06.03.2022

      संलग्न समस्त दस्तावेजों की छायाप्रतियां

      प्रार्थिया शोमा जैन

      ( श्रीमती शोभा जैन ) पत्नी श्री विजय कुमार जैन निवासी बताशा बाजार भिण्ड (म.प्र.)

      Reply

Leave a Comment

इनकम टैक्स चोरी की शिकायत कैसे करें? जीएसटी सुविधा केंद्र कैसे खोले? उत्तर प्रदेश सोलर पंप योजना मेडिकल स्टोर कैसे खोले? बिहार हर घर बिजली योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन