आर्किटेक्ट कैसे बनें? आर्किटेक्चर के कार्य, सैलरी, कोर्स, तैयारी

|| आर्किटेक्चर क्या होता है? आर्किटेक्ट कैसे बनें? आर्किटेक्चर कोर्स, आर्किटेक्ट का क्या काम होता है, आर्किटेक्चर डिजाइन, एप्रिसिएटिंग आर्किटेक्चर क्या है ||

कई बार यह होता है कि हम किसी इमारत के आगे से गुजर रहे होते हैं और उसके खूबसूरत डिजाइन पर हमारा दिल आ जाता है। हम सोचते हैं कि पता नहीं वह कौन शख्स है, जिसने इस इमारत का डिजाइन तैयार किया है। तो आपको बता दें कि वह शख्स और कोई नहीं बल्कि आर्किटेक्ट होता है।

विभिन्न कंपनियां तो अपने आर्किटेक्चर वर्क के लिए आर्किटेक्ट रखती ही हैं, इन दिनों लोगों में घर को वास्तु के अनुसार तैयार कराने का चलन भी काफी बढ़ा है तो आर्किटेक्ट की डिमांड भी जोरों पर है। क्या आप भी आर्किटेक्टचर (architecture) में रूचि रखते हैं एवं बतौर आर्किटेक्ट (architect) करियर बनाना चाहते हैं?

तो दोस्तों आप बिल्कुल सही जगह पर हैं। आज इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि आर्किटेक्चर क्या होता है? आर्किटेक्ट कैसे बनें? (What is architecture? How to become an architect?) आर्किटेक्चर के कौन कौन से कोर्स हैं? आदि। आइए, शुरू करते हैं-

आर्किटेक्चर क्या होता है? (What is Architecture?)

दोस्तों, सबसे पहले बात आर्किटेक्चर (architecture) की करते है। आर्किटेक्चर को हिंदी में वास्तुकला भी पुकारा जाता है। नाम से ही स्पष्ट है कि यह कला भवन निर्माण (building construction) से संबंधित है।

यदि परिभाषा की बात करें तो किसी भी भवन की योजना (planning), डिजाइन (design), स्ट्रक्चर (structure) एवं निर्माण को आर्किटेक्चर कहते हैं।

आर्किटेक्ट कैसे बनें? आर्किटेक्चर के कार्य, सैलरी, कोर्स, तैयारी

आर्किटेक्ट कौन होता है? (Who is an architect?)

मित्रों, आपको जानकारी दे दें कि एक आर्किटेक्ट के ऊपर ही किसी भी इमारत के आर्किटेक्चर यानी उसके प्लान, डिजाइन, स्ट्रक्चर एवं निर्माण का जिम्मा होता है।

आपने यह भी पाया होगा कि इन दिनों अधिकांश लोग अपने घरों, इमारतों को वास्तु के लिहाज से बनाना पसंद करते हैं। इस कार्य में आर्किटेक्ट उनकी सहायता करता है। ग्राहक की आवश्यकता में अपनी कल्पनाशीलता के रंग भरकर निर्माण को ग्राहक के लिए अधिक आरामदायक बनाता है।

आर्किटेक्ट कैसे बनें? (How to become an architect?)

एक आर्किटेक्ट कैसे बना जा सकता है? (How to be an architect?) अब हम आपको इसके बारे में जानकारी देंगे। यह महत्वपूर्ण जानकारी है। इसे गौर से पढ़िए-

  • सबसे पहले किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड/संस्थान (recognised board/institution) से 10+2 की परीक्षा 50 प्रतिशत अंकों से उत्तीर्ण करें।
  • 10+2 में आपके पास फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स (physics, chemistry, maths) विषय अनिवार्य रूप से होने चाहिए।
  • यदि आप 10+2+3 डिप्लोमाधारी (diploma holder) हैं तो आपके पास मैथ्स (maths) एक अनिवार्य विषय के रूप में होना चाहिए।
  • पांच वर्षीय बीआर्क डिग्री कोर्स (BArch degree course) में दाखिले के लिए आपको नाटा (NATA) उत्तीर्ण करना होगा। यह एक क्वालीफाइंग एग्जाम (qualifying exam) है।
  • इसके बाद किसी अच्छे कालेज/संस्थान में प्रवेश लेकर बीआर्क (BArch) उत्तीर्ण करें।
  • बीआर्क की डिग्री के पश्चात आप किसी भी कंपनी के साथ जाब शुरू कर सकते हैं।
  • आप चाहें तो कौंसिल आफ आर्किटेक्चर (council of architecture) से लाइसेंस लेकर अपना काम भी शुरू कर सकते हैं। कंसल्टेंसी कर सकते हैं।
  • यदि आप डिग्री नहीं लेना चाहते तो आप डिप्लोमा इन आर्किटेक्चर (Diploma in architecture) कर सकते हैं।
  • इसमें प्रवेश के लिए आपको 10वीं की परीक्षा 60 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण करनी होगी।
  • आर्किटेक्चर डिप्लोमा लेने के बाद आप आसानी से कहीं भी बतौर आर्किटेक्ट काम शुरू कर सकते हैं।

आर्किटेक्ट कितने प्रकार के होते हैं? (There are how many types of architects?)

अब आते हैं आर्किटेक्ट के प्रकार पर। मित्रों, आपको बता दें कि कार्य की विशेषज्ञता के लिहाज से आर्किटेक्ट अलग अलग प्रकार के होते हैं। इनका विवरण इस प्रकार से है-

रेजीडेंशियल आर्किटेक्ट (residential architect): यह आर्किटेक्ट अपने ग्राहक के आवास यानी उसकी रिहायश के वास्तु का निर्धारण करता है। उसके लिए प्लान, डिजाइन तैयार करता है।

कॉमर्शियल आर्किटेक्ट (commercial architect): जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है विभिन्न व्यवसायी अपने कार्य के लिए कामर्शियल आर्किटेक्ट हायर करते हैं।

इंटीरियर डिजाइनर (interior designer): भवन के भीतर वास्तुकला संबंधी कार्यों को इंटीरियर डिजाइन अंजाम देता है।

ग्रीन डिजाइन आर्किटेक्ट (green design ct): इको फ्रेंडली भवनों के प्लान, डिजाइन आदि का कार्य ग्रीन डिजाइन आर्किटेक्ट करता है।

लैंडस्केप आर्किटेक्ट (landscape architect): यह भूदृश्यों से संबंधित आर्किटेक्चर पर सलाह प्रदान करता है।

अरबन डिजाइनर (urban designer): शहरों के प्लान, डिजाइन आदि का कार्य अरबन डिजाइन करता है।

इंडस्ट्रियल आर्किटेक्ट (industrial architect): यह आर्किटेक्ट विभिन्न औद्योगिक इकाइयों के लिए प्लानिंग, डिजाइनिंग, निर्माण आदि का कार्य करता है।

आर्किटेक्चर के कौन कौन से कोर्स हैं? (Which courses of architecture is there?)

आर्किटेक्चर का सबसे प्रमुख कोर्स बीआर्क (BArch) है। इसके अलावा बीटेक इन आर्किटेक्चर (Btech in architecture) भी एक अच्छा कोर्स है। इसके अतिरिक्त आर्किटेक्चर से जुड़े अन्य कोर्स इस प्रकार से हैं-

  • डिप्लोमा इन आर्किटेक्चर (diploma in architecture)।
  • पीजी डिप्लोमा इन आर्किटेक्चर (pg diploma in architecture)।
  • बैचलर्स इन आर्किटेक्चर, टेक्नोलाजी एंड कंस्ट्रक्शन (bachelor in architecture, technology and consideration)।
  • मास्टर्स इन आर्किटेक्चर (masters in architecture)।
  • पीएचडी इन आर्किटेक्चर (PhD in architecture)।
  • सस्टेनेबल कोर्स इन आर्किटेक्चर (sustainable course in architecture)।
  • एडवांस सर्टिफिकेट कोर्स इन आर्किटेक्चर (advance certificate course in architecture)।

आर्किटेक्चर के कोर्स में दाखिले की क्या योग्यता है? (What is the eligibility for admission in architecture course?)

हमने आपको ऊपर आर्किटेक्चर से जुड़े कई कोर्सों के नाम गिनाए। दोस्तों, आइए अब जान लेते हैं कि आर्किटेक्चर के प्रमुख कोर्सेज में दाखिले की योग्यता क्या है-

डिप्लोमा इन आर्किटेक्चर (diploma in architecture)- यह एक 3 वर्ष का कोर्स है। इस कोर्स में प्रवेश के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त संस्थान/बोर्ड से 10वीं की परीक्षा 60 अंकों में उत्तीर्ण होना चाहिए।

बीआर्क (BArch)- यह एक 5 वर्ष का डिग्री कोर्स है। इस कोर्स में प्रवेश के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त संस्थान/बोर्ड से 10+2 की परीक्षा मैथ्स, फिजिक्स, केमिस्ट्री विषय के साथ 50 प्रतिशत अंकों से उत्तीर्ण होना चाहिए। यदि आपने 10+2+3 डिप्लोमा कोर्स किया है तो भी आप इस स्नातक पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने के लिए अर्ह हो जाते हैं।

मास्टर्स इन आर्किटेक्चर (MArch)- मित्रों, यह एक 5 वर्ष का कोर्स है। इस कोर्स में प्रवेश के लिए आपको बीआर्क उत्तीर्ण होना चाहिए, वह भी कम से कम 50 प्रतिशत अंकों के साथ।

पीएचडी इन आर्किटेक्चर (PhD in architecture): साथियों, यह एक 4 वर्षीय डाक्टरेट (doctorate) कोर्स है। इसमें प्रवेश के लिए अभ्यर्थी को एमआर्क उत्तीर्ण होना आवश्यक है। इस कोर्स को करने के बाद युवा किसी भी संस्थान में आर्किटेक्चर शिक्षण के कार्य को भी कर सकते हैं।

आर्किटेक्चर के कोर्स में दाखिला कौन सी परीक्षा के माध्यम से होता है? (Admission in architecture course is done through which exam?)

आर्किटेक्चर के कोर्स में दाखिले के लिए सबसे प्रमुख परीक्षा नाटा (NATA) यानी नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट इन आर्किटेक्चर (national aptitude test in architecture) है।

इसका आयोजन कौंसिल आफ आर्किटेक्चर (council of architecture) यानी सीओए (COA) करता है। इसमें प्राप्त किए स्कोर (score) के आधार पर ही देश के अच्छे आर्किटेक्चर कालेजों में बीआर्क कोर्स में दाखिला मिलता है।

नाटा के अतिरिक्त अन्य किन प्रवेश परीक्षाओं के जरिए आर्किटेक्चर कोर्स में प्रवेश मिलता है? (Except NATA through which exams students get admitted in architecture courses?)

मित्रों, आपको जानकारी दे दें कि नाटा के अतिरिक्त देश में कई ऐसी प्रवेश परीक्षाएं होती हैं, जिनके आधार पर अच्छे कालेजों में बीटेक इन आर्किटेक्चर में एडमिशन मिल जाता है। ये इस प्रकार से हैं-

  • एआईईईई (AIEEE)।
  • एएमयू एंट्रेंस एग्जाम (AMU entrance exam)।
  • आईआईटी-जेईई (IIT-JEE)।
  • बीईईई (BEEE)।
  • यूपीटीयू एसईई (UPTU SEE)।
  • केईएएम (KEAM)।

क्या बगैर प्रवेश परीक्षा भी बीआर्क में दाखिला मिल सकता है? (Can one get admission in BArch without entrance exam?)

जी हां दोस्तों, हमारे देश में बहुत से निजी कालेज भी हैं, जो बगैर प्रवेश परीक्षा के एडमिशन दे देते हैं। यहां प्रवेश का आधार पर अभ्यर्थी द्वारा eligibility एग्जाम में हासिल किए गए मार्क्स होते हैं।

इसके अतिरिक्त बहुत सारे कालेज अपने यहां सीटों पर डोनेशन के आधार पर दाखिला देते हैं। ये सेल्फ फाइनेंस/स्पांसर्ड (self financed/sponsored) यानी पेड सीटें (paid seats) कहीं जाती हैं।

आर्किटेक्चर का कोर्स करने के लिए अच्छे कालेज/संस्थान कौन कौन से हैं? (Which college/institutions are supposed to be good to do architecture course?)

एक छात्र का सपना अच्छे से अच्छे कालेज में एडमिशन लेकर कोर्स करना होता है, ताकि उसे कोर्स समाप्त होने के तुरंत बाद अच्छी से अच्छी नौकरी मिल सके। ये संस्थान/कालेज इस प्रकार से हैं-

  • आईआईटी, खड्गपुर (IIT Kharagpur)।
  • आईआईटी, रुड़की (IIT Roorkee)।
  • स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर (school of planning and architecture) ।
  • एनआईटी, त्रिची (NIT Trichy)।
  • एनआईटी, कालीकट NIT (kalicut)।
  • बिट्स, पिलानी (BITS Pilani)।
  • लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी (lovely professional University)।
  • पंजाब यूनिवर्सिटी (punjab University)।
  • बिट्स मेसरा BITS (mesara)।
  • एमएएनआईटी, भोपाल (MANIT bhopal)

आर्किटेक्चर का कोर्स करने के बाद किन पदों पर नियुक्ति मिलती हैं? (After architecture course candidate can be posted on which posts?)

  • आर्किटेक्ट (architect)
  • टाउन प्लानर (Town planner)
  • बिल्डिंग सर्वेयर (building surveyor)
  • स्ट्रक्चरल इंजीनियर (structural engineer)
  • प्रोडक्शन डिजाइनर (production designer)
  • लैंडस्केप आर्किटेक्ट (landscape architect)
  • कामर्शियल/रेजीडेंशियल सर्वेयर (commercial/residential surveyor)

एक आर्किटेक्ट की सैलरी कितनी होती है? (How much salary an architect gets?)

एक युवा जब आर्किटेक्चर का कोर्स कर लेता है तो उसका शुरूआती वेतन 20 हजार रूपए से लेकर 30 हजार रूपए तक हो सकता है। कुछ साल के अनुभव के पश्चात वह आराम से एक लाख रूपए अथवा इससे अधिक का भी वेतन पा सकता है।

यदि आर्किटेक्चर का कोर्स करने के बाद युवा सरकारी नौकरी में आ जाता है तो उसे वेतन के साथ अन्य सुविधाएं भी मिलती हैं। यह विभिन्न राज्यों के हिसाब से अलग अलग हो सकती है।

एक आर्किटेक्ट एवं इंजीनियर में क्या अंतर है? (What is the difference between an architect and engineer?)

बहुत से लोग इंजीनियर एवं आर्किटेक्ट को एक ही समझते हैं। वे उसमें कोई अंतर नहीं कर पाते। जबकि हकीकत में दोनों में बेसिक अंतर होता है। अंतर यह कि एक आर्किटेक्ट उसे दी गई जगह का सबसे बेहतर इस्तेमाल कर उसमें अपनी कल्पनाशीलता के रंग भरता है।

अपने मैथमेटिकल स्किल (mathmatical skills) से उसे व्यक्ति के लिए अधिक सुविधाजनक बताता है। वहीं, इजीनियर का कार्य आर्किटेक्ट द्वारा दिए गए डिजाइन को एसेस करके यह सलाह देना होता है कि उस जगह पर उस डिजाइन के अनुसार निर्माण कितना मजबूत होगा।

आर्किटेक्चर क्या होता है?

यह भवन के प्लान, डिजाइन एवं निर्माण संबंधी कला है। इसे वास्तुकला कहकर भी पुकारा जाता है।

आर्किटेक्ट कौन होता है?

किसी भवन के प्लान, डिजाइन, स्ट्रक्चर एवं निर्माण का जिम्मा आर्किटेक्ट के पास ही होता है।

आर्किटेक्ट के बतौर कैसा करियर है?

आर्किटेक्ट के बतौर इन दिनों भविष्य उज्जवल है। न केवल बड़ी कंपनियां आर्किटेक्ट हायर करती हैं, बल्कि प्राइवेट प्रैक्टिस कर भी आर्किटेक्ट अच्छी कमाई कर सकते हैं। लोगों में इन दिनों वास्तु के अनुसार भवन निर्माण का क्रेज है।

आर्किटेक्ट कैसे बन सकते हैं?

इसकी प्रक्रिया के बारे में हमने आपको ऊपर पोस्ट में जानकारी दी है। आप वहां से पढ़ सकते हैं।

एक आर्किटेक्ट की सैलरी कितनी होती है?

शुरूआत में एक युवा 20-30 हजार रुपए की मासिक आय प्राप्त करता है। कुछ अनुभव के पश्चात वह एक लाख रूपए अथवा इससे अधिक की भी कमाई कर सकता है।

पांच वर्षीय बीआर्क डिग्री कोर्स में दाखिले के लिए कौन सी अर्ह परीक्षा उत्तीर्ण करनी होती है?

पांच वर्षीय बीआर्क डिग्री कोर्स में दाखिले के लिए नाटा यानी नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट इन आर्किटेक्चर उत्तीर्ण करना होता है।

आर्किटेक्चर कोर्स में प्रवेश की न्यूनतम शैक्षिक योग्यता क्या है?

इसके लिए अभ्यर्थी को 10+2 की परीक्षा किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड अथवा संस्थान से 50 प्रतिशत अंकों संग उत्तीर्ण करनी आवश्यक है।

दोस्तों, हमने आपको इस पोस्ट (post) में बताया कि आर्किटेक्चर क्या होता है? आर्किटेक्ट कैेसे बनें?। उम्मीद है कि आपके सामने इसकी पूरी प्रक्रिया स्पष्ट हो गई होगी। यदि इस पोस्ट को लेकर आपका कोई सवाल है तो उसे आप नीचे दिए गए कमेंट बाक्स (comment box) में कमेंट (comment) करके हम तक पहुंचा सकते हैं। आपकी प्रतिक्रियाओं का स्वागत है। ।।धन्यवाद।।

——————–

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment

एक देश एक राशन कार्ड योजना नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना यूपी जनसंख्या कानून क्या है? मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना झारखण्ड कम्युनिकेशन स्किल इम्प्रूव करने के 8 तरीके