टूरिस्ट गाइड कैसे बनें? | योग्यता, फीस, भविष्य व सैलरी

सैर कर दुनिया की ग़ाफ़िल जिंदगानी फिर कहां, जिंदगानी कुछ कर रही तो नौजवानी फिर कहां…। भारत राहुल सांकृत्यायन जैसे महान घुमक्कड़ों का देश है। उन्होंने संसाधन विहीन युग में पैदल ही हजारों किलोमीटर की दूरी नापी थी। घुमक्कड़ी शौक ही ऐसा है। बहुत से लोगों को तो घूमने का इतना शौक होता है कि कई बार वे अपनी नौकरी छोड़कर सिर्फ यही करते हैं।

वहीं, बहुत सारे लोग टूरिस्ट गाइड बनकर अपने इस सपने को पूरा करते हैं। खुद भी घूमते हैं और दूसरों को भी घूमने में मदद करते हैं। यदि आप भी टूरिस्ट गाइड बनकर पैसे कमाने के साथ ही अपने घूमने के सपने को पूरा करना चाहते हैं तो आज की यह पोस्ट आपके लिए ही है। इसमें हम आपको बताएंगे कि आप टूरिस्ट गाइड कैसे बन सकते हैं-

Contents show

टूरिस्ट गाइड कौन होता है? (Who is a tourist guide?)

दोस्तों, जैसे कि आपको नाम से ही स्पष्ट हो रहा होगा एक टूरिस्ट गाइड (tourist guide) टूरिस्ट यानी पर्यटकों को गाइड करता है। उनका मार्गदर्शन करता है। टूरिस्ट गाइड पर्यटकों को संबंधित शहरों, ऐतिहासिक इमारतों, धार्मिक स्थलों, उद्यानों, संग्रहालयों, दर्शनीय स्थलों, स्मारकों आदि के इतिहास (history), संस्कृति (culture), वास्तुकला (architecture) आदि की जानकारी देता है, जिससे पर्यटकों की जानकारी अनुभव में इजाफा होता है। इसके बदले टूरिस्ट गाइड एक पूर्व निर्धारित फीस वसूलता है।

टूरिस्ट गाइड कैसे बनें योग्यता फीस भविष्य व सैलरी

टूरिस्ट गाइड बनने के लिए न्यूनतम योग्यता क्या होती है? (What is the minimum qualification to become a tourist guide?)

दोस्तों, टूरिस्ट गाइड बनने के लिए सबसे अच्छी बात यह है कि आपको बहुत अधिक पढ़ाई लिखाई की आवश्यकता नहीं है। आप 12वीं के बाद भी टूरिज्म (tourism) में डिप्लोमा (diploma) करके इस क्षेत्र में करियर बना सकते हैं।

यदि आप चाहें तो ग्रेजुएशन के बाद इस विषय में मास्टर्स डिग्री (Master’s degree) प्राप्त कर सकते हैं। दोस्तों , आपको बता दें कि हमारे देश में बहुत से विश्वविद्यालय (universities) एवं प्राइवेट संस्थान (private institutions) है, जो टूरिज्म मैनेजमेंट (tourism management) में पढ़ाई कराते हैं।

टूरिस्ट गाइड बनने के लिए एक युवा में क्या खूबियां होनी चाहिए? (What qualities are needed to be a tourist guide?)

दोस्तों, टूरिस्ट गाइड बनने के इच्छुक युवाओं के भीतर कुछ खूबियां अवश्य रूप से होनी चाहिए, जो कि इस प्रकार से हैं-

  • 12वीं या ग्रेजुएशन के बाद टूरिज्म में सर्टिफिकेट, डिप्लोमा या डिग्री।
  • अच्छी कम्युनिकेशन स्किल (good communication skills)।
  • अंग्रेजी भाषा का अच्छा ज्ञान (good knowledge of English language)।
  • किसी स्थानीय भाषा का अतिरिक्त ज्ञान (extra knowledge of local language)।
  • किसी विदेशी भाषा की जानकारी।
  • विभिन्न पर्यटन स्थलों की सांस्कृतिक, ऐतिहासिक धार्मिक पृष्ठभूमि की अच्छी जानकारी (good knowledge of different tourist places cultural, historical and religious background)।
  • मिलनसार एवं दिलचस्प व्यक्तित्व।

टूरिस्ट गाइड बनने के इच्छुक युवा कौन से कोर्स कर सकते हैं? (Which course can be done by youth wants to be a tourist guide?)

दोस्तों, यदि आप दुनिया भर के लोगों से मिलकर उन्हें पर्यटन स्थलों की रोमांचक सैर करना चाहते हैं और टूरिस्ट गाइड बनना चाहते हैं तो आप 12वीं के बाद सर्टिफिकेट डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं। ट्रैवल एंड टूरिज्म में बैचलर्स डिग्री ले सकते हैं। यदि आपने ग्रेजुएशन तक पढ़ा है तो आप ट्रैवल एंड टूरिज्म (travel and tourism) में मास्टर्स डिग्री भी ले सकते हैं।

  • सर्टिफिकेट इन ट्रेवल मैनेजमेंट (certificate in travel management)।
  • सर्टिफिकेट कोर्स इन टूरिस्ट गाइड (certificate course in tourist guide)।
  • डिप्लोमा इन ट्रैवल एंड एयरपोर्ट मैनेजमेंट (diploma in travel and airport management)।
  • बैचलर ऑफ टूरिज्म एडमिनिस्ट्रेशन (bachelor of tourism administration)।
  • बैचलर ऑफ टूरिज्म स्टडीज (bachelor’s of tourism studies)।
  • बैचलर्स डिग्री इन ट्रैवल एंड टूरिज्म (बीए/ बीएससी आदि)।
  • मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन इन टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट।
  • एमए इन टूरिज्म मैनेजमेंट।
  • एमबीए इन ट्रैवल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट।

टूरिज्म में कोर्स कराने वाले प्रमुख संस्थान कौन-कौन से हैं? (Which are the prominent instructions offering courses in tourism?)

दोस्तों, आइए अब एक नजर उन प्रमुख संस्थानों पर डाल लेते हैं, जो टूरिज्म से जुड़े कोर्स कराते हैं। ये इस प्रकार से हैं-

  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टूरिज्म एंड ट्रेवल मैनेजमेंट, नई दिल्ली।
  • क्राइस्ट यूनिवर्सिटी बंगलुरु।
  • इंस्टीटयूट ऑफ टूरिज्म एंड फ्यूचर मैनेजमेंट ट्रेंड्स चंडीगढ़।
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी (उत्तर प्रदेश)।
  • इंस्टीट्यूट ऑफ लॉजिस्टिक्स एंड एविएशन मैनेजमेंट, मुंबई (महाराष्ट्र)।
  • कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, (हरियाणा)।
  • इंडियन इंस्टीटयूट ऑफ टूरिज्म एंड ट्रैवल मैनेजमेंट, ग्वालियर (मध्य प्रदेश)।

टूरिस्ट गाइड कितने प्रकार के होते हैं? (There are how many types of tourist guide?)

दोस्तों, आपको बता दे कि कार्य की विशेषज्ञता के आधार पर टूरिस्ट गाइड तीन प्रकार के होते हैं-

जनरल टूरिस्ट गाइड (general tourist guide) : यह टूरिस्ट गाइड लोकल टूरिस्ट गाइड (local tourist guide) की तरह काम करता है। 12वीं की कक्षा पास करने के बाद यदि कोई युवा 18 साल की उम्र पूरी कर चुका है, जिसे क्षेत्र एवं इससे जुड़े हुए शहरों की अच्छी जानकारी है तो वह लोकल टूरिस्ट गाइड तरह काम कर सकता है।

एक्सपर्ट टूरिस्ट गाइड (expert tourist guide) : टूरिस्ट गाइड के तौर पर 2 साल का अनुभव अर्जित करने वाला और 23 वर्ष की आयु पूरी कर चुका टूरिस्ट गाइड एक्सपर्ट टूरिस्ट गाइड कहलाता है। अधिकांश टूर ऑपरेटर एवं टूरिस्ट ग्रुप एक्सपर्ट टूरिस्ट गाइड की मदद लेते हैं।

लिंग्विस्ट टूरिस्ट गाइड (linguist tourist guide) : टूरिस्ट गाइड के रूप में 2 साल का अनुभव अर्जित करने और 23 वर्ष की आयु पूरी करने वाला टूरिस्ट गाइड, जिसकी विदेशी भाषा पर विशेषज्ञता हो, लिंग्विस्ट टूरिस्ट गाइड कहलाता है। विदेशी पर्यटकों में अक्सर इस टूरिस्ट गाइड की बहुत मांग रहती है।

क्या टूरिस्ट गाइड बनने के लिए लाइसेंस होता है? (Is there any licence to be a tourist guide?)

दोस्तों, आपको बता दें कि क्षेत्रीय स्तर पर टूरिस्ट गाइड का काम करने के लिए पर्यटन विभाग में रजिस्ट्रेशन (registration) कराने की आवश्यकता होती है। यह संबंधित टूरिस्ट गाइड की विशेषज्ञ के आधार पर होता है। इसके बाद पर्यटन विभाग (tourism department) संबंधित व्यक्ति को एक लाइसेंस (licence) जारी करता है। इसकी अवधि आम तौर पर तीन वर्ष होती है।

निश्चित समय अवधि के बाद इस लाइसेंस का नवीनीकरण (renewal) किया जाता है। लाइसेंस के लिए रजिस्ट्रेशन एवं इसके रिन्यूअल (registration and renewal) की प्रक्रिया (process) प्रत्येक राज्य में अलग-अलग होती है। यदि तमिलनाडु की बात करें तो यहां जनरल टूरिस्ट गाइड के लिए लाइसेंस फीस 2,000 रुपए, एवं एक्सपर्ट टूरिस्ट गाइड तथा लिंग्विस्ट टूरिस्ट गाइड के लिए तीन-तीन हजार रुपए है।

यदि लाइसेंस नवीनीकरण फीस की बात करें तो यह जनरल टूरिस्ट गाइड के लिए 1,500 रुपए, एवं एक्सपर्ट टूरिस्ट गाइड तथा लिंग्विस्ट टूरिस्ट गाइड के लिए दो -दो हजार रुपए है। दोस्तों , लगे हाथों आपको यह भी बता दें कि तमिलनाडु सरकार द्वारा टूरिस्ट गाइड रजिस्ट्रेशन योजना (tourist guide registration scheme) भी चलाई जा रही है, जिसके तहत टूरिस्ट गाइडों के लिए ट्रेनिंग प्रोग्राम (training program), रिफ्रेशर कोर्स (refresher course) आदि का आयोजन किया जाता है।

इस योजना का मकसद पर्यटकों को क्वालिटी टूरिस्ट गाइड सर्विस (quality tourist guide service) मुहैया कराना एवं टूरिस्ट गाइडों का स्किल डेवलपमेंट (skill development) है। दोस्तों, आपको बता दें कि टूरिस्ट गाइड को पर्यटन विभाग द्वारा जारी नियमावली एवं दिशा-निर्देशों का आवश्यक रूप से पालन करना होता है। यदि वे इनका उल्लंघन करते हैं तो उनका लाइसेंस कैंसिल (licence cancel) भी किया जा सकता है।

एक टूरिस्ट गाइड कितनी फीस वसूलता है? (How much fee a tourist guide generally charge?)

दोस्तों, आमतौर पर एक टूरिस्ट गाइड टूर ऑपरेटर एसोसिएशन एवं टूरिस्ट गाइड एसोसिएशन द्वारा निर्धारित फीस वसूलता है। यह पर्यटकों की संख्या एवं शहर के आधार पर ₹600 से लेकर कई हजारों में हो सकती है। यदि कोई टूर आपरेटर टूरिस्ट गाइड को लेकर दूसरे शहर में जाता है तो वह गाइड को कई प्रकार के भत्ते भी मुहैया कराता है। वहीं, किसी छोटे शहर में एक लोकल गाइड के रूप में काम शुरू करने वाले युवक 500/- रुपए भी बतौर फीस चार्ज कर सकते हैं।

पर्यटक किस टूरिस्ट गाइड को प्राथमिकता देते हैं? (Tourists prefer which tourist guide?)

दोस्तों, आपको बता दें कि ज्यादातर पर्यटक सरकार द्वारा अधिकृत टूरिस्ट गाइड को प्राथमिकता देते हैं। उनकी सूची पर्यटन विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध रहती है। टूरिस्ट गाइड के नाम व फोटो (name and photograph) के साथ ही इनका मोबाइल नंबर (mobile number), ईमेल आईडी (Emil id), पता (address) एवं लाइसेंस नंबर (licence number) वेबसाइट (website) पर उपलब्ध रहता है। आवश्यकता पड़ने पर इनसे संपर्क किया जा सकता है।

एक टूरिस्ट गाइड के रूप में कैसा भविष्य है? (How is the future as a tourist guide?)

दोस्तों, यदि कोई युवक अपना करियर टूरिस्ट गाइड के रूप में शुरू करता है तो वह अपनी मेहनत और अनुभव से कुछ ही साल बाद आराम से सीनियर टूरिस्ट गाइड सुपरवाइजर (senior tourist guide supervisor) एवं टूरिस्ट मैनेजर (tourist manager) तक आराम से बन सकता है। इस क्षेत्र में शुरुआती आय की बात करें तो एक न्यू कमर को 15 हजार से लेकर ₹20 हजार तक कमाई हो सकती है।

वहीं, कुछ वर्ष का अनुभव हो जाने के पश्चात वेतन/कमाई एक लाख रुपए या इससे अधिक जैसा आंकड़ा भी छू सकती है। इस करियर में पैसा संबंधित कंपनी के आकार एवं प्रतिष्ठा पर भी निर्भर करेगा। यदि कोई युवा चाहता है तो वह टूरिज्म में कोर्स करके अपनी कोई टूर एंड ट्रैवल कंपनी (tour and travel company) भी खोल सकता है। इसमें उसके लिए कमाई की कोई सीमा नहीं रहेगी।

वह कस्टमाइज्ड टूर ऑर्गेनाइज कर सकता है। बड़ी संख्या में युवा इस फील्ड में पैसे कमा रहे हैं। सोशल मीडिया ने उन्हें पर्यटकों से कनेक्ट होने का एक नया प्लेटफॉर्म भी मुहैया करा दिया है। खास तौर पर ऐतिहासिक एवं धार्मिक महत्व के शहरों में रह रहे युवा इस कार्य को तेजी से अपना रहे हैं। बहुत से युवा पार्ट टाइम टूरिस्ट गाइड के तौर पर काम कर रहे हैं। इससे उन्हें अधिकता तो होती ही है, वे अपना पसंदीदा काम घूमना भी कर पाते हैं।

भारत में कितने मान्यता प्राप्त टूरिस्ट गाइड हैं? (How many recognised tourist guides are there in India?)

दोस्तों, एक अनुमान के अनुसार भारत में करीब 4,00,000 फुल टाइम, मान्यता प्राप्त टूरिस्ट गाइड (recognised tourist guide) हैं। भारत में सालाना करीब 50 लाख विदेशी पर्यटक आते हैं। इसके साथ ही 60 करोड़ के आस-पास घरेलू पर्यटक पर्यटन स्थलों पर पहुंचते हैं। ऐसे में टूरिस्ट गाइड बनना किसी भी युवा के लिए फायदे का सौदा साबित हो सकता है। वह घूमने का शौक पूरा करने के साथ ही अपनी रोजी-रोटी इससे आराम से निकल सकता है।

टूरिस्ट गाइड क्या करता है?

एक टूरिस्ट गाइड पर्यटकों का मार्गदर्शन करता है। उन्हें संबंधित शहरों, ऐतिहासिक महत्व की इमारतों, स्मारकों आदि पर्यटन स्थलों के इतिहास, संस्कृति, वास्तुकला आदि की जानकारी देता है।

टूरिस्ट गाइड बनने के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता क्या है?

टूरिस्ट गाइड बनने के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 12वीं है।

टूरिस्ट गाइड बनने के लिए कौन-कौन से कोर्स किए जा सकते हैं?

टूरिस्ट गाइड बनने के लिए टूरिज्म में सर्टिफिकेट, डिप्लोमा अथवा डिग्री (बैचलर्स एवं मास्टर्स) कोर्स किया जा सकता है।

भारत में टूरिज्म में डिप्लोमा एवं डिग्री कोर्स करने वाले प्रमुख संस्थान कौन-कौन से हैं?

इनकी जानकारी हमने आपको ऊपर पोस्ट में दी है। आप वहां से देख सकते हैं।

download app

शुरुआती तौर पर एक टूरिस्ट गाइड कितना कमा सकता है?

एक टूरिस्ट गाइड शुरुआती तौर पर 15-20 हजार रुपए तक कमा सकता है।

टूरिस्ट गाइड कितने प्रकार के होते हैं?

टूरिस्ट गाइड तीन प्रकार के होते हैं- जनरल, एक्सपर्ट एवं लिंग्विस्ट टूरिस्ट गाइड।

क्या टूरिस्ट गाइड को अपना काम करने के लिए रजिस्ट्रेशन कराने की जरूरत होती है?

जी हां। टूरिस्ट गाइड के बतौर काम करने के लिए संबंधित राज्य/जिले के पर्यटन विभाग में रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता होती है।

टूरिस्ट गाइड को कितने समय के लिए लाइसेंस जारी होता है?

एक टूरिस्ट गाइड को आमतौर पर 3 वर्ष के लिए लाइसेंस जारी होता है। लाइसेंस के लिए एक निर्धारित फीस चुकानी होती है। निर्धारित तिथि के पश्चात लाइसेंस का नवीनीकरण कराना होता है।

किसी टूरिस्ट गाइड का लाइसेंस किस स्थिति में कैंसिल हो सकता है?

यदि संबंधित टूरिस्ट गाइड पर्यटन विभाग द्वारा गाइड्स के लिए जारी दिशा निर्देशों का पालन नहीं करता, उनका उल्लंघन करता है तो उसका लाइसेंस कैंसिल हो सकता है।

दोस्तों, इस पोस्ट (post) में हमने आपको बताया कि टूरिस्ट गाइड कैसे बनें? यदि आप इस क्षेत्र में करियर बनाना चाहते हैं तो यह पोस्ट आपके लिए बेहद उपयोगी साबित होगी। इस पोस्ट को लेकर अपना कोई भी सवाल आप हमसे नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स (comment box) में कमेंट (comment) करके पूछ सकते हैं। ।।धन्यवाद।।

प्रवेश
प्रवेश
मास मीडिया क्षेत्र में अपनी 15+ लंबी यात्रा में प्रवेश कुमारी कई प्रकाशनों से जुड़ी हैं। उनके पास जनसंचार और पत्रकारिता में मास्टर डिग्री है। वह गढ़वाल विश्वविद्यालय, श्रीनगर से वाणिज्य में मास्टर भी हैं। उन्होंने गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय से व्यक्तिगत प्रबंधन और औद्योगिक संबंधों में डिप्लोमा भी किया है। उन्हें यात्रा और ट्रेकिंग में बहुत रुचि है। वह वाणिज्य, व्यापार, कर, वित्त और शैक्षिक मुद्दों और अपडेट पर लिखना पसंद करती हैं। अब तक उनके नाम से 6 हजार से अधिक लेख प्रकाशित हो चुके हैं।
WordPress List - Subscription Form
Never miss an update!
Be the first to receive the latest blog post directly to your inbox. 🙂

Leave a Comment