आईआरएस क्या होता है? आईआरएस अफसर कैसे बनें?

|| आईआरएस क्या होता है? आईआरएस अफसर कैसे बनें? What is IRS? How to be an IRS officer?, IRS qualification in hindi, irs officer salary, how to become irs अधिकारी, life of an irs officer ||

आप 10वीं-12वीं किसी भी परीक्षा के टाॅपर से बात करके देख लीजिए, अधिकांश का सपना यही होता है कि वे यूपीएससी क्रैक कर आईएएस/आईपीएस अधिकारी बनें। टाॅपर्स ही नहीं, यहां तक कि अन्य छात्र/छा़त्राओं के अभिभावक भी अपने बच्चों को आईएएस/पीसीएस अफसर के रूप में ही देखना चाहते हैं।

प्रशासनिक सेवाओं का हमारे देश में ऐसा क्रेज है कि इसके लिए मां-बाप अपनी गाढ़ी मेहनत की कमाई बच्चों की पढ़ाई और उनकी कोचिंग पर फूंकते बिल्कुल नहीं हिचकिचाते। हालांकि अधिकांश अभिभावक एवं छात्र/छात्राएं यह नहीं जानते कि वे यूपीएससी क्रैक कर अन्य विभागों में भी अफसर बन सकते हैं।

आईआरएस अफसर का पद एक ऐसा ही पद है। आज इस पोस्ट में हम आपको यही बताएंगे कि आप आईआरएस अफसर कैसे बन सकते हैं? इनकी नियुक्ति कैसे होती है? कौन सी परीक्षा उत्तीर्ण करनी पड़ती है? आदि। आइए, शुरू करते हैं-

आईआरएस की फुल फाॅर्म क्या है? (What is the full form of IRS?)

आईआरएस (IRS) की फुल फाॅर्म इंडियन रिवेन्यू सर्विसेज (Indian revenue service) है। इसे हिंदी में भारतीय राजस्व सेवा भी पुकारा जाता है। यह सेवा भारतीय वित्त मंत्रालय (Indian finance ministry) के अधीन आती है।

ठीक आईएएस, पीसीएस की भांति भारत में आईआरएस (IRS) का यह पद भी सिविल सेवा (civil service) का एक बेहद सम्मानित पद है।

आईआरएस क्या होता है? आईआरएस अफसर कैसे बनें?

आईआरएस अफसर क्या कार्य करता है? (What are the functions of an IRS officer?)

मुख्य तौर पर एक आईआरएस (IRS) का कार्य डायरेक्ट एवं इन डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन एवं मैनेजमेंट (direct/indirect tax collection & management) से संबंधित होता है। जहां तक इस सर्विस की बात है उसकी दो शाखाएं होती हैं-

  • 1 आईआरएस इन्कम टैक्स (IT)
  • 2 आईआरएस कस्टम्स एंड सेंट्रल एक्साइज (C&CE)

साफ है कि आईआरएस अफसर मुख्य रूप से इन्कम टैक्स एवं कस्टम विभाग (income tax and custom department) से संबंधित होते हैं। वे टैक्स पालिसी (tax policy) तैयार करने की एडवाइज (advise) देते हैं। टैक्स से जुड़े नियम एवं नीति (rule & policy) निर्धारण में अहम भूमिका निभाते हैं।

कई आईआरएस अफसरों को उनके कार्य के मद्देनजर देश की खुफिया एजेंसी में भी नियुक्ति मिलती है। आईआरएस कैडर (IRS cadre) के कई अधिकारियों को सीबीईसी (CBEC) एवं सीबीडीटी (CBDT) में अध्यक्ष अथवा कार्यकारी सदस्य के पद पर नियुक्ति मिलती है। उनके कार्य में बेहद कम अथवा बिल्कुल राजनीतिक हस्तक्षेप नहीं होता। साथ ही विदेश में नियुक्ति के भी चांस होते हैं।

आईआरएस बनने के लिए आवेदक में क्या क्या योग्यताएं होनी चाहिए? (What are the qualifications needed to be an IRS?)

अब हम आपको आईआरएस बनने की सामान्य योग्यताओं के विषय में जानकारी देंगे। इस परीक्षा के लिए आवेदक को जो आवश्यक योग्यताएं (essential qualification) पूरी करनी हैं, वे इस प्रकार से हैं-

  • आवेदक के लिए भारत का नागरिक (citizen of India) होना आवश्यक है।
  • आवेदक की न्यूनतम आयु 21 वर्ष एवं अधिकतम आयु 32 वर्ष हो। ओबीसी (OBC) के लिए अधिकतम 35, जबकि एससी/एसटी (sc/st) के लिए अधिकतम आयु 37 वर्ष निर्धारित की गई है।
  • आवेदक ने किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक यानी ग्रेजुएशन (graduation) की डिग्री हासिल की हो। ग्रेजुएशन अंतिम वर्ष के छा़त्र/छात्राएं अथवा डिस्टेंस एजुकेशन (distance education) से ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर चुके अभ्यर्थी भी इस परीक्षा का फाॅर्म भर सकते हैं।

आईआरएस का चयन किस परीक्षा के माध्यम से होता है? (IRS is selected through which exam?)

आईआरएस का चयन यूपीएससी (UPSC) यानी संघ लोक सेवा आयोग (union public service commission) की सिविल सेवा परीक्षा (civil service exam) के माध्यम से होता है। यूपीएससी इसके लिए नोटिफिकेशन (notification) जारी करता है। इसमें परीक्षा में शामिल होने की तिथियों, नियमों आदि का उल्लेख रहता है।

सामान्य प्रक्रिया यह है कि परीक्षा में शामिल होने के इच्छुक अभ्यर्थियों को निर्धारित तिथि से पूर्व फाॅर्म भरना होता है। निर्धारित प्रमाण पत्र संलग्न करने होते हैं। इसके बाद वे परीक्षा से पूर्व प्रवेश पत्र डाउनलोड कर परीक्षा में शामिल हो सकते हैं।

आईआरएस के लिए परीक्षा का सिलेबस एवं पैटर्न क्या है? (What is the syllabus and pattern of exam for IRS?)

दोस्तों, आपको बता दें कि इस परीक्षा के लिए कुल 2025 अंक निर्धारित हैं। प्रारंभिक (preliminary) एवं मुख्य परीक्षा (main exam) के अंक मिलाकर 1750 अंक रखे गए हैं, जबकि पर्सनैलिटी टेस्ट (personality test) यानी इंटरव्यू (interview) के लिए 275 अंक निर्धारित हैं। उसे इस परीक्षा के तीनों चरण पार करने होते हैं, जो इस प्रकार से हैं-

1. प्रारंभिक परीक्षा (preliminary exam)-

प्रारंभिक परीक्षा को क्वालीफाइंग परीक्षा (qualifying exam) भी मान सकते हैं। यह परीक्षा 400 अंकों की होती है। इसके लिए दो घंटे निर्धारित हैं। इसमें दो पेपर होते हैं। एक जनरल स्टडीज (general studies) एवं दूसरा एप्टीट्यूड टेस्ट (aptitude test)।

आपको बता दें कि दोनों के लिए 200-200 अंक निर्धारित हैं। इन दोनों ही पेपरों में मल्टीपल च्वाइस (multiple choice) यानी आब्जेक्टिव टाइप प्रश्न (objective type questions) आते हैं।
इस परीक्षा का सिलेबस (syllabus) इस प्रकार से है-

पेपर-1

  • a. नेशनल मूवमेंट एंड इंडियन हिस्ट्री।
  • b. इंडियन पाॅलिटी एंड गवर्नेंस-पाॅलिटिकल सिस्टम, कांस्टीट्यूशन, पब्लिक पाॅलिसी, राइट्स इश्यू, पंचायती राज आदि।
  • c. इंडियन एंड वर्ल्ड जियोग्राफी-इंडियन इकोनाॅमिक जियोग्राफी, वर्ल्ड एंड सोशल।
  • d. जनरल इश्यूज आन क्लाइमेट चेंज, इकोनामिक एंड सोशल डेवलपमेंट-सोशल सेक्टर इनिशिएटिव्स, सस्टेनेबल डेवलपमेंट, पावर्टी, इन्क्लूजन, डेमोग्राफिक्स आदि।
  • e. बायो-डायवर्सिटी।
  • f. जनरल साइंस।
  • g. इनवायरनमेंटल इकोलाॅजी।
  • h. करेंट अफेयर्स आफ इंटरनेशनल एंड नेशनल इंटरेस्ट।

पेपर-2

  • a. कांप्रेहेंशन।
  • b. लाॅजिकल रीजनिंग, एनालिटिकल एबिलिटी।
  • c. कम्युनिकेशन स्किल सहित इंटरपर्सनल स्किल्स।
  • d. जनरल मेंटल एबिलिटी।
  • e. साॅल्विंग प्राब्लम्स एंड डिसीजन मेकिंग।
  • f. बेसिक न्यूमेरल्स (आर्डर्स आफ मैग्नीट्यूड, नंबर्स एंड देयर रिलेशंस). डाटा इंटरप्रीटेशन (चार्ट, ग्राफिक्स, टेबल्स, डाटा सफिशिएंसी आदि)। आपको बता दें कि यह कक्षा 10 के लेवल का आएगा।

2. मुख्य परीक्षा (main exam)-

आपको अब इस परीक्षा में नौ पेपर आते हैं। इनका विस्तृत ब्योरा इस प्रकार से है-

पेपर ए- भारतीय भाषा
(संविधान के 8वें शेड्यूल में निर्धारित भारतीय भाषाओं में से एक भाषा को चुनना होता है) – 300 अंक

पेपर बी- इंगलिश 300 अंक

पेपर 1- एसे 250 अंक

पेपर 2- जनरल स्टडीज-1 (इंडियन कल्चर, हिस्ट्री, एंड जियोग्राफी आफ द सोसायटी एंड वर्ल्ड) 250 अंक

पेपर 3- जनरल स्टडीज-2 (कांस्टीट्यूशन, गवर्नेंस, पाॅलिटी, सोशल जस्टिस, इंटरनेशनल रिलेशंस) 250 अंक

पेपर 4- जनरल स्टडीज-3 (इकोनामिक डेवलपमेंट, टेक्नोलाजी, इनवायरनमेंट, बायो डायवर्सिटी, डिजास्टर मैनेजमेंट, सिक्योरिटी) 250 अंक

पेपर 5- जनरल स्टडीज-4 (इंटिग्रिटी, एथिक्स, एप्टीट्यूड) 250 अंक

पेपर 6- आप्शनल सब्जेक्ट

पेपर 7- आप्शनल सब्जेक्ट

दोस्तों, अब आपके मन में यह सवाल जरूर उठ रहा होगा कि ये आप्शनल सब्जेक्ट्स (optional subject) कौन कौन से हैं? आपको बता दें कि आप्शनल सब्जेक्ट में अभ्यर्थी इन विषयों में से किसी एक को चुन सकता है-

एग्रीकल्चर (agriculture), इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग (electrical engineering), बाटनी (botany), पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन (public administration), एनिमल हजबेंड्री एंड वेटरनरी साइंस (animal husbandry and veterinary science), सिविल इंजीनियरिंग (civil engineering), फिलाॅसफी (philosophy), एंथ्रोपोलाॅजी (anthropology), ला (law), हिस्ट्री (history), जियोग्राफी (geography), कामर्स एंड एकाउंटेंसी (commerce and accountancy), केमिस्ट्री (chemistry), इकोनामिक्स (economics), मैथमेटिक्स (mathematics), मैकेनिकल इंजीनियरिंग (mechanical engineering), मैनेजमेंट (management), जियोलाजी (geology), फिजिक्स (physics), मेडिकल साइंस (medical science), लिटरेचर (literature), सोशियोलाजी (sociology), पालिटिकल साइंस एंड इंटरनेशनल रिलेशंस (political science and international relations), स्टेटिस्टिक्स (statistics), साइकोलाजी (psychology), जूलाजी (zoology)।

3. साक्षात्कार (interview)-

आपको बता दें दोस्तों कि प्रारंभिक परीक्षा (preliminary exam) उत्तीर्ण करने पर ही मुख्य परीक्षा के लिए बुलावा आता है। जो व्यक्ति मुख्य परीक्षा (main exam) उत्तीर्ण कर लेता है उसे ही इंटरव्यू (interview) के लिए आमंत्रित किया जाता है। इसके पश्चात मेरिट (merit) तैयार की जाती है एवं अभ्यर्थी की बतौर आईआरएस (IRS) चुने जाने की सूचना प्रसारित कर दी जाती है।

आईआरएस अफसर की ट्रेनिंग कहां होती है? (Where an IRS officer gets training?)

दोस्तों, आईआरएस अफसर बनने के बाद उसे सीधे नियुक्ति नहीं मिलती बल्कि पहले उसको पद से जुड़ी ट्रेनिंग (training) दी जाती है। आपको बता दें कि सभी चयनित अभ्यर्थियों की ट्रेनिंग उत्तराखंड के मसूरी में स्थित लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक एकेडमी (lal bahadur shastri national administrative academy) यानी एबीएसएनएए (LBSNAA) में कराई जाती है।

ट्रेनिंग के दौरान ही उन्हें जेएनयू (JNU) द्वारा पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन (public administration) से संबंधित दो वर्ष की पीजी डिग्री भी उपलब्ध कराई जाती है। ट्रेनिंग पूरी हो जाने के बाद उन्हें किसी सीनियर अफसर के अधीन फील्ड पर नियुक्त किया जाता है। इसके पश्चात भारतीय प्रशासनिक सेवा (Indian administrative academy) के अधीन उन्हें स्थाई पद पर नियुक्ति दी जाती है।

आईआरएस अफसर का वेतन कितना होता है? (What is the salary of an IRS officer?)

अब हम आपको एक आईआरएस अफसर (IRS officer) के वेतन के बारे में बताते हैं। आपको बता दें कि एक आईआरएस अफसर को आईएएस कैडर के सचिव एवं आईपीएस कैडर के महानिदेशक के बराबर वेतन मिलता है।

इसके अतिरिक्त इन्हें अनेक प्रकार के भत्ते (allowances) भी देय होते हैं। खुफिया एजेंसी में फील्ड में कार्यरत आईआरएस को रिक्स एलाउसं भी दिया जाता है। मूलतः इनका पे बैंड (pay band) ग्रेड पे (grade pay) इस प्रकार होती है-

  • सहायक आयकर आयुक्त- (पे बैंड 15,600-39,100+ग्रेड पे 5,400)
  • उप आयकर आयुक्त (पे बैंड 15,600-39,100+ग्रेड पे 6,600)
  • संयुक्त आयकर आयुक्त (पे बैंड 15,600-39,100+ग्रेड पे 7,600)
  • अतिरिक्त आयकर आयुक्त (पे बैंड 37,400-67,000+ग्रेड पे 8,700)
  • आयकर आयुक्त (पे बैंड 37,400-67,000+ग्रेड पे 10,000)
  • प्रधान आयकर आयुक्त (75,500-80,000)
  • मुख्य आयकर आयुक्त (75,500-80,000)
  • प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त (80,000 fixed)

एक आईआरएस को मिलने वालीं अन्य सुविधाएं इस प्रकार से हैं-

  • मेडिकल, एचआरए, ट्रेवल अलाउंस।
  • बिजली एवं पानी का बिल।
  • सिक्योरिटी गार्ड एवं घरेलू सहायक।
  • 2 अथवा 3 बीएचके अपार्टमेंट की सुविधा।
  • मुफ्त फोन काॅल्स।
  • विदेश में अध्ययन के अवसर।
  • पेंशन एवं सेवानिवृत्ति लाभ।

यदि आप भी आईआरएस अधिकारी बनना चाहते हैं तो क्या करें?

यदि आप भी आईआरएस अधिकारी बनकर नाम बनाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको बहुत मेहनत करनी होगी। कुछ बिंदु हम आपको बताते हैं, जिनको आजमाने से आपको इस परीक्षा के लिए लाभ हो सकता है। ये इस प्रकार से हैं-

  • ग्रेजुएशन में प्रवेश लेते ही मेहनत शुरू कर दें।
  • आप्शनल सब्जेक्ट (optional subject) में वह विषय रखें, जिसमें आपको रूचि हो एवं जिसमें आपका अच्छा अध्ययन हो।
  • एग्जाम पैटर्न (exam pattern) के अनुसार अभ्यास करें।
  • यदि अफोर्ड कर सकते हों तो कोई अच्छी कोचिंग (coaching) ज्वाइन करें।
  • जनरल स्टडीज (general studies) के लिए हिंदू, फ्रंटलाइन आदि का अध्ययन करें।
  • यूं तो आप इंटरनेट से भी जीके के कई सबक याद कर सकते हैं, लेकिन एक हिंदी एवं अंग्रेजी अखबार नियमित तौर पर पढ़ें।
  • यदि आप अपने कई साथियों के साथ मिलकर तैयारी कर रहे हैं तो किसी न किसी सब्जेक्ट पर ग्रुप डिस्कशन (group discussion) करते रहें।
  • साथियों के साथ मिलकर माॅक इंटरव्यू (mock interview) का अभ्यास करें।
  • इस परीक्षा में सफल हो चुके अभ्यर्थियों से बातचीत करें। उनसे कामयाबी के टिप्स लें।
  • यूपीएससी में कामयाब अभ्यर्थियों के इंटरव्यू देखना भी आपके लिए मददगार हो सकता है।
  • यदि एक बार असफल हो गए हों तो उससे निराश न हों। पुनः प्रयास कर परीक्षा में बैठें एवं जी-तोड़ मेहनत करें।
  • विषय के हिसाब से घंटे निर्धारित कर नियमित अभ्यास करें। ऐसा नहीं कि एक दिन आपने आठ घंटे पढ़ लिया और दूसरे दिन डिब्बा गोल। यह नहीं होना चाहिए।
  • पढ़ाई के दौरान नियमित अंतराल पर ब्रेक भी लें। यह आपको ताजा दम बनाए रखने के साथ ही आपकी मानसिक सेहत के लिए आवश्यक है।

आईआरएस की फुल फाॅर्म क्या होती है?

आईआरएस की फुल फाॅर्म इंडियन रिवेन्यू सर्विसेज होती है। इसे हिंदी में भारतीय राजस्व सेवा पुकारा जाता है।

एक आईआरएस अफसर का चयन किस परीक्षा के माध्यम से होता है?

एक आईआरएस अफसर का चयन यूपीएससी यानी संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा के जरिए होता है।

एक आईआरएस के क्या क्या कार्य होते हैं?

आईआरएस का काम डायरेक्ट, इनडायरेक्ट टैक्स कलेक्शन एवं मैनेजमेंट से होता है। वह सरकार को टैक्स पालिसी बनाने में सलाह भी देता है। उसकी नियुक्ति खुफिया एजेंसी तक में होती है।

यूपीएससी परीक्षा के कितने चरण होते हैं?

इस परीक्षा के तीन चरण होते हैं-प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार।

आईआरएस बनने के लिए कितनी आयु निर्धारित है?

यदि सामान्य वर्ग की बात करें तो आईआरएस बनने के इच्छुक अभ्यर्थी की उम्र न्यूनतम 21 एवं अधिकतम 32 वर्ष होनी चाहिए। ओबीसी के लिए अधिकतम 35 वर्ष, जबकि एससी/एसटी के लिए यह अधिकतम 37 वर्ष निर्धारित की गई है।

आईआरएस बनने के लिए न्यूतनम शैक्षिक योग्यता कितनी आवश्यक है?

आईआरएस बनने के लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन की डिग्री रखी गई है।

क्या आईआरएस बनने के लिए भारत का नागरिक होना आवश्यक है?

जी हां, आईआरएस बनने के लिए भारत का नागरिक होना अनिवार्य है।

क्या एक आईआरएस को चयन के साथ ही नियुक्ति मिल जाती है?

जी नहीं, स्थाई नियुक्ति से पूर्व एक आईआरएस को ट्रेनिंग के दौर से गुजरना पड़ता है।

दोस्तों, हमने आपको इस पोस्ट में आईआरएस के अर्थ के साथ ही आईआरएस अफसर बनने संबंधी आवश्यक जानकारी प्रदान की। उम्मीद है कि यह पोस्ट आपके लिए उपयोगी साबित होगी। यदि इस पोस्ट को लेकर आपका कोई सवाल है तो बेहिचक नीचे दिए गए कमेंट बाक्स में कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं। आपकी प्रतिक्रियाओं का हमें इंतजार है। ।।धन्यवाद।।

—————————-

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment

एक देश एक राशन कार्ड योजना नानाजी देशमुख कृषि संजीवनी योजना यूपी जनसंख्या कानून क्या है? मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना झारखण्ड कम्युनिकेशन स्किल इम्प्रूव करने के 8 तरीके