फ्लिपकार्ट सेलर कैसे बनें? How to be a Flipkart seller?

इन दिनों आनलाइन का जमाना है। लोग बाजारों में चक्कर काटने के बजाय मजे से घर पर बैठकर आनलाइन प्रोडक्ट खरीदना अधिक पसंद करते हैं। ऐसे में आनलाइन सामान बेचने वालों के लिए भी कमाई के जबरदस्त मौके बढ़े हैं। कई ई-कामर्स साइट्स उत्पादकों को उनके साथ सेलर के रूप में जुड़कर बिजनेस का शानदार मौका दे रही हैं।

जैसे फ्लिपकार्ट (Flipkart) को ही लें। यदि आप कोई प्रोडक्ट (product) बेचते हैं तो आपके पास भी फ्लिपकार्ट के साथ बतौर सेलर (seller) जुड़कर न केवल अपने प्रोडक्ट को बड़े कस्टमर बेस तक पहुंचाने का मौका है, बल्कि जबरदस्त कमाई का अवसर भी है।

फ्लिपकार्ट सेलर कैसे बनें? (How to be a Flipkart seller?) आज हम आपको इसी विषय पर विस्तार से जानकारी देंगे। आइए, शुरू करते हैं-

फ्लिपकार्ट क्या है? (What is Flipkart?)

दोस्तों, सबसे पहले जान लेते हैं कि फ्लिपकार्ट क्या है? (What is Flipkart?) आपको बता दें दोस्तों कि यह भारत की टाप की ई-कामर्स साइट्स (e-commerce website) में से एक है। इसकी स्थापना आज से करीब 15 वर्ष पूर्व सचिन बंसल एवं विन्नी बंसल (Sachin Bansal and Vinny Bansal) ने की थी।

फ्लिपकार्ट सेलर कैसे बनें? How to be a Flipkart seller?

इसका मुख्यालय (headquarter) बंगलूरू (Bengaluru), कर्नाटक (Karnataka) में है। वर्तमान में इसके सीईओ (CEO) यानी मुख्य कार्यकारी अधिकारी (chief executive officer) कल्याण कृष्णमूर्ति हैं। इस कंपनी में करीब 30 हजार कर्मचारी कार्यरत हैं। मंत्रा (Myntra), फोन पे (phonepay), ईकार्ट (Ecart), मेलर्स (Mellors), हेल्थ+ (Health+) आदि इसकी सब्सिडियरी कंपनियां (subsidiary companies) हैं।

वर्तमान में इस पर 165 से भी अधिक कैटेगरीज (categories) में लाखों प्रोडक्ट्स लिस्टेड (products listed) हैं। इसमें 82 फीसदी से अधिक हिस्सेदारी वालमार्ट (wallmart) की है। बीते साल यानी 2021 में इस कंपनी की वैल्यू (value) 37.6 बिलियन यूएस डालर्स (billion US dollars) आंकी गई थी।

फ्लिपकार्ट सेलर कौन होता है? (Who is a Flipkart seller?)

मित्रों, आपको बता दें कि फ्लिपकार्ट सेलर (Flipkart seller) ऐसा कोई भी व्यक्ति, समूह अथवा कंपनी होती है, जो अपने उत्पादों को इस ई-कामर्स साइट पर आनलाइन बिजनेस (online business) के लिए लिस्ट करती है। इसके लिए उसे फ्लिपकार्ट पर एक सेलर एकाउंट खोलकर रजिस्ट्रेशन (registration) कराना होता है।

इसके बदले में वह कमीशन (commission) के रूप में एक निश्चित राशि फ्लिपकार्ट को चुकाती है। इससे जहां सेलर को कमाई और अपने प्रोडक्ट को एक बड़े कस्टमर बेस तक पहुंचाने का मौका मिलता है, वहीं कमीशन एवं अन्य फीस के जरिए फ्लिपकार्ट भी जबरदस्त आय अर्जित करता है।

फ्लिपकार्ट सेलर कैसे बनें? How to be a Flipkart seller?

फ्लिपकार्ट सेलर के रूप में रजिस्ट्रेशन के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या क्या हैं? (What are the necessary documents to get registered as Flipkart seller?)

मित्रों सबसे पहले हम आपको बताते हैं कि बतौर फ्लिपकार्ट सेलर रजिस्ट्रेशन (Flipkart seller registration) के लिए आपको किन किन दस्तावेजों की आवश्यकता होगी। ये दस्तावेज (documents) इस प्रकार से हैं-

  • आवेदक का आधार कार्ड (aadhar card of applicant)।
  • आवेदक का पैन कार्ड (PAN card of applicant)।
  • बैंक खाते का ब्योरा, बैक एकाउंट नंबर एवं आईएफएससी कोड सहित (bank account details with bank account number and IFSC code)।
  • एक कैंसिल्ड चेक (one cancelled cheque)। दोस्तों,याद रखें कि इस पर आपका नाम मेंशन हो। यदि आपकी कंपनी है तो कंपनी का नाम चेक पर होना चाहिए।
  • जीएसटीआईएन (GSTIN) यानी अपना जीएसटी आइडेंटिफिकेशन नंबर।
  • सैंपल सिग्नेचर (sample signature)।

फ्लिपकार्ट सेलर कैसे बनें? (How to be a Flipkart seller?)

दोस्तों, फ्लिपकार्ट सेलर (Flipkart seller) बनने के लिए सबसे पहले आपको साइट पर रजिस्ट्रेशन (registration) करना होगा। यह एक बेहद आसानी सी प्रोसेस है। आपको इसके लिए यह स्टेप्स फालो (steps follow) करने होंगे-

  • सबसे पहले seller.flipkart.com पर जाएं।
  • साइन अप (signup) करने के लिए अपना मोबाइल नंबर (mobile number) एवं ईमेल आईडी (email id) डालें।
फ्लिपकार्ट सेलर कैसे बनें? How to be a Flipkart seller?
  • अब आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी (OTP) आएगा। इसे दिए गए बाक्स (box) में दर्ज करें।
  • इसके बाद पासवर्ड क्रिएट (password create) करें। पासवर्ड कन्फर्म करें।
फ्लिपकार्ट सेलर कैसे बनें? How to be a Flipkart seller?
  • अब आपसे पूछा जाएगा कि आप किस कैटेगरी (category) के प्रोडक्ट बेचना चाहते हैं। इनमें आल कैटेगरी (all category) एवं ओनली बुक्स (only books) का आप्शन होगा। आपके प्रोडक्ट जिस कैटेगरी के हैं, आपको उसे चूज करना होगा।
  • अब पिन कोड चेक (pin code check) करें।
  • इसके पश्चात आपको मांगे गए दस्तावेज, जिनकी सूची हमने आपको ऊपर बताई है, अपलोड upload करने होंगे। जैसे-कैंसिल चेक, बैंक डिटेल्स, जीएसटीआईएन आदि।
  • इसके पश्चात कंपनी आपके बैंक में एक टोकन अमाउंट (token amount) भेजेगी, आपको इसे वेरिफाई (verify) करना होगा।
  • आपको न्यूनतम एक प्रोडक्ट लिस्ट (minimum one product list) अवश्य करना होगा।
  • इस प्रकार आपकी फ्लिपकार्ट रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया (Flipkart registration process) पूरी हो जाएगी।

फ्लिपकार्ट सेलर के रूप में रजिस्ट्रेशन के बाद सेलिंग कैसे कर सकते हैं? (How to start selling after registration as a Flipkart seller?)

एक बार फ्लिपकार्ट सेलर के रूप में रजिस्ट्रेशन अब कराने के बाद आप आसानी से अपने प्राडक्ट्स की सेलिंग कर सकते हैं। इसका तरीका कुछ इस प्रकार है-

  • अपने उत्पाद को स्पेसिफिक कैटेगरी (specific category) में लिस्ट करें।
  • आर्डर रिसीव (order recieve) करने के बाद प्राडक्ट को पैक (pack) करें।
  • इसके बाद इस पर आरटीडी (RTD) यानी रेडी टू डिस्पैच (ready to dispatch) मार्क करें।
  • अब फ्लिपकार्ट का लाजिस्टिक पार्टनर (logistics partner) इस पैक को पिक करेगा और कस्टमर (customer) को डिलीवर (deliver) कर देगा।
  • आर्डर सफलतापूर्वक डिस्पैच होने के बाद फ्लिपकार्ट आपके एकाउंट (account) में 7 दिन से लेकर 15 व्यवसाय दिवसों (business days) के भीतर भुगतान (payment) कर देगा।

फ्लिपकार्ट सेलर बनने के क्या क्या लाभ हैं? (What are the benefits of becoming a Flipkart seller?)

साथियों, यह तो आप जानते ही हैं कि कोई भी बिजनेस मुनाफे के लिए किया जाता है। कोई व्यक्ति जब फ्लिपकार्ट सेलर (Flipkart seller) बनने का फैसला करता है तो उसके पीछे उसकी मंशा लाभ कमाने की ही होती है। आइए, अब आपको बताते हैं कि फ्लिपकार्ट सेलर बनने के क्या क्या लाभ हैं? (What are the benefits of becoming a Flipkart seller?)-

  • फ्लिपकार्ट सेलर बनने के बाद आपकी फ्लिपकार्ट के करीब 150 मिलियन रजिस्टर्ड यूजर्स (registered users) तक सीधी पहुंच होगी। यानी बना बनाया कस्टमर बेस (readymade customer base) मिलेगा। आपको भटकना नहीं होगा।
  • भारत देश के अन्य शहरों के ग्राहकों तक भी आपकी आनलाइन रीच (online reach) रहेगी। वे आपके प्रोडक्ट को देख एवं खरीद सकेंगे।
  • बिजनेस सेटअप (business setup) में कम लागत (low cost) आएगी। क्क्योंकि न तो आपको आपके उत्पादों के अच्छे डिस्प्ले (display) की आवश्यकता होगी और न ट्रायल रूम (trial room) की। न ही परफेक्ट लाइटिंग (perfect lighting) अथवा अपीलिंग इंटीरियर (appealing interior) पर ध्यान देना होगा। जाहिर है कि इससे आपका मुनाफा बढ़ेगा। इसे आप बिजनेस ग्रो (business grow) करने में लगा सकते हैं।
  • फ्लिपकार्ट लाजिस्टिक नेटवर्क (Flipkart logistics network) के इस्तेमाल से आप ग्राहकों तक अपना सामान सुरक्षित और तेज गति से पहुंचा सकते हैं। आपको बता दें कि फ्लिपकार्ट के पास कस्टमर डिलीवरी (customer delivery) के लिए 200+ पिकअप हब (pick-up hub) हैं और 10 हजार डिलीवरी एजेंट (delivery agents) हैं।
  • सेलर प्रोटेक्शन प्रोग्राम (seller protection program) का हिस्सा बन आप अपने आपको किसी भी तरह के नुकसान से बचा सकते हैं।
  • मार्केटिंग पर कम लागत (low cost on marketing)। सेलर को फ्लिपकार्ट के रिसर्च, सर्वे (research and survey) आदि का लाभ मिलता है। वे मार्केट टेंड्स (market trends) के बारे में जानकार उन्हीं के अनुसार अपने उत्पाद में बदलाव (change in product) कर सकते हैं।

फ्लिपकार्ट सेलर के रूप में अच्छी परफार्मेंस का क्या लाभ मिलता है? (What benefits one can get by performing well as Flipkart seller?)

आपको बता दें दोस्तों कि फ्लिपकार्ट में आपकी एंट्री बतौर ब्रांज सेलर (bronze seller) होती है। यदि आप अच्छी परफार्मेंस करते हैं तो आपके पास फ्लिपकार्ट सिल्वर सेलर (Flipkart silver seller) एवं फ्लिपकार्ट गोल्ड सेलर (Flipkart gold seller) बनने का भी अवसर होता है, जिसके रूप में आपको कंपनी द्वारा अधिक लाभ प्रदान किए जाते हैं।

जैसे गोल्ड एवं सिल्वर सेलर्स को फारवर्ड शिपिंग फीस (forward shipping fee) पर क्रमशः 20 प्रतिशत एवं 10 प्रतिशत डिस्काउंट (discount) मिलता है। इसके अतिरिक्त उन्हें फ्री एकाउंट मैनेजर सर्विस (free account manager service) मिलती है।

आपको जानकारी दे दें मित्रों कि यह रेटिंग (rating) 90 दिन के लिए मान्य होती है। यदि आप क्राइटेरिया (criteria) पर खरे उतरते हैं तो आपको अगले टियर (tier) पर अपग्रेड (upgrade) कर दिया जाता है।

फ्लिपकार्ट सिल्वर एवं गोल्ड सेलर बनने की क्या योग्यता है? (What is the eligibility to become Flipkart silver and Flipkart gold seller?)

साथियों, आपको जानकारी दे दें कि एक सेलर की परफार्मेंस (seller’s performance) का आंकलन (valuation) उसकी ग्रास मार्जिनल वैल्यू (gross marginal value) यानी जीएमवी (gmv), उसके द्वारा बेची गई यूनिट (sold units), सेलर कैंसिलेशन (seller cancellation) एवं आरटीडी ब्रीचेज (RTD breaches) तथा प्रोडक्ट रेटिंग (product rating) के आधार पर होता है। सिल्वर एवं गोल्डन सेलर बनने के लिए योग्यता इस प्रकार से है-

सिल्वर सेलर बनने के लिए to (become a silver seller):

  • * न्यूनतम 30 लाख का रिवेन्यू अथवा 4,000 यूनिट्स की बिक्री।
  • * 0.50 प्रतिशत सेलर कैंसिलेशन।
  • * 1.40 प्रतिशत से कम आरटीडी ब्रीचेज।
  • * वर्टिकल बेंचमार्क के अनुसार पर्याप्त रेटिंग।

गोल्ड सेलर बनने के लिए (to become a gold seller):

  • * न्यूनतम 60 लाख का रिवेन्यू अथवा 9,000 यूनिट्स की बिक्री।
  • * 0.15 प्रतिशत से कम सेलर कैंसिलेशन।
  • * 1 प्रतिशत से कम आरटीडी ब्रीचेज।
  • * वर्टिकल बेंचमार्क के अनुसार पर्याप्त रेटिंग।

सेलर्स अपनी परफार्मेंस कैसे चेक कर सकते हैं? (How sellers can check their performance?)

अब आपके सामने यह सवाल उठ रहा होगा दोस्तों कि आप बतौर सेलर कैसा परफार्म कर रहे हैं, इस बारे में आपको कैसे पता लगेगा? आप अपनी परफार्मेंस कैसे चेक कर सकते हैं? आपका करेंट स्टेटस (current status) क्या है? तो इसका तरीका हम आपको बताते हैं। जो कि इस प्रकार से है-

  • आप अपने सेलर एकाउंट (seller account) के डैशबोर्ड (dashboard) पर जाएं।
  • यहां trending tier टैब दिखेगा। इस पर क्लिक करें।
  • इसके बाद ग्रोथ (growth) के आप्शन पर क्लिक करें।
  • अब परफार्मेंस रिव्यू (performance review) के आप्शन पर क्लिक कर दें।
  • आपकी परफार्मेंस का खाका आपके सामने होगा। इसे देखकर आप अपनी कमियों पर फोकस कर उन्हें दूर कर next tier पर अपग्रेड हो सकते हैं। दोस्तों, यदि आप चाहें तो 90 दिन के लिए यह डाटा डाउनलोड (data download) भी कर सकते हैं।

फ्लिपकार्ट सेलर के पास डिलीवरी के क्या क्या विकल्प होते हैं? (What delivery options a Flipkart seller have?)

एक फ्लिपकार्ट सेलर (Flipkart seller) के पास कस्टमर तक अपने सामान की सुरक्षित डिलीवरी (secured delivery) के लिए भी तीन आप्शन होते हैं, जो कि इस प्रकार से हैं-

* सेलर फुलफिलमेंट (seller fulfillment):

इस तरीके में अपने आर्डर (order) को मैनेज और प्रोसेस (manage and process) करने के साथ ही उसकी इंवेंट्री (inventory) रखने का जिम्मा सेलर का ही होता है। एक बार आर्डर पैक होने एवं रेडी टू डिस्पैच (ready to dispatch) मार्क होने के बाद एक ई-कार्ट एजेंट (e-cart agent) आता है और पैकेज कलेक्ट कर इसे संबंधित ग्राहक को डिलीवर करता है।

* स्मार्ट फुलफिलमेंट (smart fullfillment):

स्मार्ट फुलफिलमेंट एक ऐसा प्रोग्राम है, जिसमें सेलर को वेयरहाउस अरेंज (warehouse arrange) करने, इंवेंट्री मेंटेन (inventory maintain) करने और सामान को कस्टमर को डिलीवर करने में फ्लिपकार्ट की सहायता मिलती है। फ्लिपकार्ट यह अपने लाजिस्टिक्स पार्टनर की मदद से करता है।

इसके लिए सेलर को कुछ निर्देशों का पालन करना होता है। इसके जरिए उसे बिक्री (sales) बढ़ाने, रिसर्च +research) एवं बिजनेस करने की ओवरआल लागत घटाने (overall cost reduction) में सहायता मिलती है।

* फ्लिपकार्ट फुलफिलमेंट (Flipkart fullfillment):

इस तरीके में सेलर को न्यूनतम लागत में अधिकतम रिटर्न (maximum return in minimum cost) मिलता है। इसमें सेलर अपने उत्पादों को फ्लिपकार्ट फुलफिलमेंट सेंटर (Flipkart fullfillment center) में स्टोर करता है।

यहां उनकी इंवेंट्री की पूरी तरह देख रेख होती है। आर्डर को सीधे एवं सुरक्षित कस्टमर तक डिलीवर करने का जिम्मा फ्लिपकार्ट का होता है।

फ्लिपकार्ट सेलर से अपनी सेवाओं के लिए क्या चार्ज करता है? (What Flipkart charge for its services from a seller?)

मित्रों, अब आपको जानकारी देंगे कि फ्लिपकार्ट अपनी सेवाओं के लिए सेलर से क्या क्या चार्ज करता है। वह इस प्रकार फीस वसूलता है-

1. फिक्स्ड फीस (fixed fee):

फ्लिपकार्ट प्रत्येक सेल ट्रांजेक्शन (sale transaction) यानी बिक्री लेनदेन के लिए तय फीस वसूलता है। एक सेल ट्रांजेक्शन से आशय आर्डर की कस्टमर तक सफलतापूर्वक डिलीवरी से होता है। यदि कोई कस्टमर रिटर्न करता है तो भी यह फीस काटी जाती है।

यदि कोई कूरियर रिटर्न होता है तो कोई फीस नहीं लगती। सेलर टियर और कैटेगरी (seller tier and category) से इतर यह फीस आर्डर आइटम वैल्यू (order item value) के आधार पर अलग अलग हो सकती है। ये इस प्रकार वसूली जाती है-

आर्डर आइटम वैल्यूफीस (रुपए में)
0-30013
300-50011
500-100024
1000 से अधिक47

2. शिपिंग फीस (shipping fee):

यह फीस प्रोडक्ट के वजन के अनुसार अलग अलग हो सकती है। शिपिंग फीस बिक्री वाले उत्पाद के वास्तविक वजन अथवा मात्रिक वजन के अनुसार निर्धारित की जाती है।

ऐसा इसलिए क्योंकि कई आइटम कम वजन के होते हैं, लेकिन वे अधिक जगह घेरते हैं। इसके अतिरिक्त यह फीस शहर के भीतर, शहर से बाहर, नेशनल लेवल पर सभी प्रकार से अलग कैलकुलेट (calculate) की जाती है।

यदि शहर से शहर में शिपिंग की बात करें तो इसकी दरें इस प्रकार से हैं-

वेट स्लैब लोकल शहर के भीतर

  • 0.5 किलो तक 44 रुपए
  • 0.5 किलो से एक किलो तक (प्रत्येक आधा किलो के हिसाब से)-4 रुपए
  • एक से डेढ़ किलो तक (प्रत्येक 0.5 किलो के हिसाब से)—13 रुपए

अधिक दरों की जानकारी आप फ्लिपकार्ट के लिंक https://seller.flipkart.com/sell-online/pricing पर जाकर फी स्ट्रक्चर (fee structure) के आप्शन पर क्लिक कर प्राप्त कर सकते हैं।

3. कलेक्शन फीस (collection fee):

आप बतौर सेलर जो भी प्रीपेड अथवा पोस्टपेड आर्डर (prepaid or postpaid order) रिसीव करते हैं, इसके बादले फ्लिपकार्ट आपसे एक छोटी सी पेमेंट कलेक्शन फीस +payment collection fee) वसूलता है। यह कस्टमर के भुगतान के तरीके (प्रीपेड/पोस्टपेड) के आधार पर अलग अलग होती है।

यह फाइनल सेलिंग प्राइस (final selling price) पर कैलकुलेट की जाती है। यहां फाइनल सेलिंग प्राइस से आशय कस्टमर द्वारा प्रोडक्ट के लिए भुगतान की गई राशि+शिपिंग चार्ज से है। यह कैटेगरी एवं टियर से इतर प्रत्येक सेलर के लिए समान रहती है। इसकी दर इस प्रकार से है-

सेलिंग प्राइसप्रीपेडपोस्टपेड
0-7502%15 रुपए
750 से अधिक2 %2 %

फ्लिपकार्ट पर उत्पाद के रेट कौन तय करता है? (Who decided the rate of product on Flipkart?)

दोस्तों, फ्लिपकार्ट पर सेलर ही अपने उत्पाद के रेट तय करता है। यह अवश्य है कि वह इस कार्य में चाहे तो फ्लिपकार्ट एकाउंट मैनेजर (Flipkart account manager) की मदद ले सकता है, लेकिन इसके लिए उसे एक फीस चुकानी होगी।

यद्यपि सिल्वर एवं गोल्ड सेलर (silver and gold seller) के लिए यह सुविधा एकाउंट मैनेजर मुफ्त में मुहैया कराता है। वह बाजार के रिस्पांस एवं रिसर्च (response and research) के मुताबिक सेलर को बताता है कि उसे संबंधित उत्पाद की कीमत कितनी रखनी चाहिए। इससे उसे बिजनेस ग्रो (business grow) करने में सहायता मिलती है।

फ्लिपकार्ट के जरिए कौन कौन से प्राडक्ट बेचे जा सकते हैं? (Which products can be sold through Flipkart?)

साथियों, अब हम आपको उन उत्पादों की जानकारी देंगे, जो कोई भी व्यक्ति आनलाइन सेलर बनकर बेच सकता है। ये इस प्रकार से हैं-

  • किताबें (books)
  • कपडे, जूते (clothes, shoes)
  • ज्वेलरी (jewellery)
  • ब्यूटी प्रोडक्ट्स (beauty products)
  • टीवी (TV)
  • मूवीज (movies)
  • गेम्स/वीडियो गेम्स (games/video games)
  • मोबाइल फोन एवं एक्सेसरीज (mobile phone and accessories)
  • डिजिटल कैमरे (digital cameras)
  • कंप्यूटर (computer)
  • नेटवर्क कंपोनेंट्स network (components)
  • साफ्टवेयर (software)
  • किचन अप्लायंसेज (kitchen appliances) आदि।

आपको एक बार और स्पष्ट कर दें दोस्तों कि फ्लिपकार्ट पर केवल प्रोडक्ट बेचे जाते हैं, सर्विसेज नहीं।

फ्लिपकार्ट पर सेलर बनने संबंधी कोई प्रश्न है तो कहां संपर्क करें? (Where to contact if you have any queries regarding Flipkart seller program?)

मित्रों, यदि आपके दिमाग में फ्लिपकार्ट पर सेलर बनने से संबंधित कोई प्रश्न है अथवा आप इस प्रोग्राम के बारे में अधिक जानकारी चाहते हैं तो फ्लिपकार्ट से [email protected] पर मेल भेजकर संपर्क कर सकते हैं।

फ्लिपकार्ट की स्थापना कब हुई?

फ्लिपकार्ट की स्थापना आज से करीब 15 वर्ष पूर्व 2007 में हुई।

फ्लिपकार्ट के संस्थापक कौन थे?

फ्लिपकार्ट के संस्थापक सचिन एवं विनी बंसल थे।

वर्तमान में फ्लिपकार्ट के सीईओ कौन हैं?

वर्तमान में फ्लिपकार्ट के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति हैं।

फ्लिपकार्ट का मुख्यालय कहां है?

फ्लिपकार्ट का मुख्यालय बंगलूरू में है।

फ्लिपकार्ट सेलर कैसे बन सकते हैं?

इसकी प्रक्रिया हमने आपको ऊपर पोस्ट में बताई है। आप वहां से देख सकते हैं।

फ्लिपकार्ट सेलर बनने के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या हैं?

इसके लिए आवेदक के बैंक खाते की डिटेल्स, एक कैंसिल चेक एवं जीएसटीआईएन नंबर होना सबसे आवश्यक है।

फ्लिपकार्ट पर सेलर के अपग्रेड होने के भी चांस हैं?

फ्लिपकार्ट पर सेलर ब्रोंज सेलर के रूप में एंट्री लेता है। वह कुछ निर्धारित शर्तों का पालन कर सिल्वर एवं गोल्ड सेलर भी बन सकता है। इसके उसे फ्लिपकार्ट की ओर से कई अतिरिक्त लाभ मिलते हैं।

दोस्तों, हमने आपको इस पोस्ट (post) में बताया कि आप फ्लिपकार्ट सेलर कैसे बन सकते हैं? उम्मीद है कि यह सारी प्रक्रिया आपको स्पष्ट हो गई होगी। यदि आप इसी प्रकार की जानकारीप्रद पोस्ट हमसे चाहते हैं तो उसके लिए हमें नीचे दिए गए कमेंट बाक्स (comment box) में कमेंट (comment) करके बता सकते हैं। ।।धन्यवाद।।

———————

Contents show
Spread the love:

Leave a Comment

शेयर मार्किट से पैसे कैसे कमाए? जमीन का सरकारी रेट कैसे पता करें? ओटीटी प्लेटफॉर्म क्या है? OTT कैसे काम करता है? सरकारी बैंकों से लोन कैसे लें? इनकम टैक्स चोरी की शिकायत कैसे करें?