हेयर ट्रांसप्लांट क्या है? खर्च, लाभ, नुकसान, कैसे किया जाता है?

हेयर ट्रांसप्लांट हिंदी – बाल किसी की भी ज़िंदगी का एक बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। यह किसी की भी पर्सनैलिटी में सबसे अहम भूमिका निभाते हैं। अगर किसी के सिर पर घने, लहलहाते बाल हैं तो उसके आत्मविश्वास में कई गुना बढ़ोतरी होती है बनिस्बत उस इंसान के, जिसके सिर पर बाल कम हैं या वह गंजेपन का शिकार है। यह समस्या लोगों में कई वजह से होती है। कई बार अच्छे खानपान की कमी की वजह से तो कई बार tension की वजह से। या कई बार इसका कारण कुछ और होता है। लेकिन यह तो तय है कि एक बार व्यक्ति के बाल झड़ने शुरू हो जाते हैं तो वह खुद में और तनाव महसूस करने लगता है।

अगर ऐसे व्यक्ति की उम्र कम है और अभी तक उसकी शादी नहीं हुई है तब तो झड़ते बालों को देख उसके तनाव की कोई सीमा ही नहीं रहती। वह अपनी शादी को लेकर बेहद परेशान रहता है। उसे लगता है कि उसे कोई लड़की पसंद नहीं करेगी। क्योंकि लड़कियां कम बालों वाले या गंजे हो रहे आदमी को क्यों पसंद करेंगी। समस्या किस कदर है, उसे हाल ही में आई फिल्मों में भी प्रमुखता से उठाया गया है। अगर आप फिल्मों का शौक रखते हैं तो आपने देखा होगा कि आयुष्मान खुराना की ‘बाला’ और ऐन पहले ‘उजड़ा चमन’ मूवी आई थी।

इन दोनों फिल्मों ने इस समस्या को बखूबी उभारा। इन दोनों ही फिल्मों में गंजेपन और गिरते बालों को केंद्र में रखा गया है। इनमें हेयर ट्रांसप्लांट और पीआरपी तकनीक का जिक्र है। जाहिर सी बात है कि यह फिल्में एक बड़े वर्ग के लोगों की समस्याओं का जिक्र करती हैं। हालांकि, यह संदेश देती हैं कि हम जैसे हैं हमें खुद को वैसा ही स्वीकार कर खुश रहना चाहिए। बहरहाल, ऐसा हमेशा नहीं होता।

अगर आपका कोई आसपास का व्यक्ति भी इस समस्या से जूझ रहा है तो हम आपको बताएंगे कि हेयर ट्रांसप्लांट क्या है? इसकी तकनीक क्या है? इसे कैसे करा सकते हैं? इस पर कितना खर्च आता है? इसके फायदे और नुकसान क्या हैं? आदि इन तमाम बिंदु पर इस पोस्ट के जरिए हम आपको जानकारी देंगे। आपको बस करना इतना है कि इस पोस्ट को ध्यान से पूरा पढ़ना है –

Hair Transplant क्या है?

सबसे पहले जानते हैं कि Hair Transplant क्या है। दरअसल, हेयर ट्रांसप्लांट एक surgical technique है, जिसके जरिये सिर के ही या शरीर के एक हिस्से से बाल लेकर सिर के बिना बाल वाले भाग पर transplant यानी प्रत्यारोपित किया जाता है। सामान्य तौर पर एक सर्जन सिर के पीछे से बाल लेकर उनको सामने या सिर के बीच वाले गंजे भाग में लगा देते हैं।

हेयर ट्रांसप्लांट की तकनीक क्या है?

हेयर ट्रांसप्लांट क्या है? खर्च, लाभ, नुकसान, कैसे किया जाता है?

दोस्तों, अब हम आपको हेयर ट्रांसप्लांट की तकनीक की जानकारी देंगे। इनमें एक तकनीक है FUT और एक तकनीक है FUE। दोनों ही तकनीक में कुछ अंतर है। आइए जानते हैं क्या हैं ये तकनीक।

FUT तकनीक क्या है?

Hair Transplant की इस technique FUT की full form है- follicular unit transplant । इस तकनीक के तहत सिर के बाल वाले भाग से त्वचा यानी skin strip लेकर उस स्थान पर टांके लगा दिए जाते हैं। और इस strip को बिना बालों वाली जगह plant कर दिया जाता है। दोस्तों, FUT से जो बाल लगाए जाते हैं उनमें किसी तरह के बदलाव की जरूरत नहीं पड़ती। इस तकनीक में सिर पर हमेशा के लिए एक निशान रह जाता है। हालांकि वह जगह बालों से ढक जाती है और वह दिखाई नहीं पड़ता।

FUE तकनीक क्या है?

हेयर ट्रांसप्लांट क्या है? खर्च, लाभ, नुकसान, कैसे किया जाता है?

साथियों, आपको बता दें कि FUE यानी follicular unit extraction के तहत एक एक hair फालिकल को मोटोराइज्ड पंच तकनीक से अलग अलग निकाला जाता है। और फिर इनको सिर में बिना बालों वाली जगह रोप दिया जाता है। आपको FUT या FUE में से किस तकनीक का use करना चाहिए या आपको कौन सी तकनीक सूट करेगी यह सलाह आपको कोई specialist डाक्टर ही दे सकता है।

हेयर ट्रांसप्लांट की प्रक्रिया क्या है?

Hair Transplant करने के लिए सबसे पहले सिर की skin यानी त्वचा को अच्छी तरह से साफ किया जाता है। इसके बाद सिर के उस भाग को लोकल एनेस्थीसिया देकर सुन्न कर दिया जाता है ताकि दर्द न महसूस हो। अब FUT या FUE दोनों में किसी एक तकनीक के जरिये बालों वाली जगह से एक हिस्सा निकाला जाता है और वहां टांके लगा दिए जाते हैं। इसके बाद सर्जन अलग निकाले हुए भाग को magnifying glass की मदद से surgical knife से छोटे छोटे हिस्से करता है। जब implant पूरा कर दिया जाता है तो ये हिस्से नए बालों को प्राकृतिक रूप प्रदान करते हैं।

Hair Transplant कितना खर्च आता है?

अब बात हेयर ट्रांसप्लांट पर आने वाले खर्च की। इस काम पर 30 हजार से एक लाख रुपये तक का खर्च आ सकता है। लेकिन यह cost कई बातों पर निर्भर करती है। मसलन, FUT में प्रति ग्राफ्ट करीब 20 से 40 रुपये का खर्च आता है। वहीं FUE तकनीक का खर्च थोड़ा ज्यादा है। इसमें 35 से लेकर 70 रुपये प्रति ग्राफ्ट तक का खर्च आ सकता है। इनमें से कौन सी तकनीक आपके लिए ठीक रहेगी, इसका फैसला जैसा कि हम आपको ऊपर बता चुके हैं, surgeon specialist ही करता है।

सिर में ग्राफ्ट की संख्या जितनी अधिक होगी खर्च भी उतना ही ज्यादा होगा। सिर के कितने हिस्से में ट्रांसप्लांट करना है, यह पैसा उस हिसाब से भी ज्यादा लगेगा या जैसे सिर के अलावा छाती पर हेयर ट्रांसप्लांट करवाना है तो ज्यादा खर्चा होगा। बालों में आप कितनी सघनता चाहते हैं इससे भी कीमत बढ़ेगी। अगर आप हर session के अनुसार fee दे रहे हैं तो जितने ज्यादा सत्र लेंगे उतनी ही ज्यादा फीस पड़ेगी अगर आपको इलाज में शामिल चीजों के अलावा भी service चाहिए तो उसका ज्यादा खर्च हो सकता है। हालांकि कुछ clinic treatment के बाद भी एक-दो Free session देते हैं।

Hair Transplant कितने प्रकार का होता है?

हेयर ट्रांसप्लांट के दो प्रकार हैं। इनमें एक है स्लिट ग्राफ्ट। इसमें प्रति ग्राफ्ट 4 से 10 बाल होते हैं। एक होता है माइक्रो ग्राफ्ट। इसमें हर ग्राफ्ट में मात्र एक या दो बाल ही होते हैं। अब आपके मन में सवाल उठ रहा होगा कि ग्राफ्ट क्या है? साथियों, ग्राफ्ट बालों की जड़ के जीवित ऊतक होते हैं। इनका ट्रांसप्लांट किया जाता है ताकि सिर के गंजे हिस्से में भी बाल उग सकें। इनमें से ट्रांसप्लांट का कौन सा तरीका आजमाया जाएगा यह आपके बालों की जरूरत पर निर्भर करेगा। मसलन आपको कितने घने बाल चाहिए।

क्या Hair Transplant की कोई दर्द रहित तकनीक भी है?

जी हां, इस सवाल का जवाब हां है। DHI सबसे आधुनिक तकनीक है। इसमें micro surgical tools का use किया जाता है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि इस surgery में दर्द नहीं होता। लेकिन draw back यह है कि यह तकनीक महंगी है। इस तकनीक से उपचार कराने की cost करीब दो से तीन लाख रुपये तक आती है। अगर सिर के बड़े हिस्से में transplant की जरूरत होती है तो इसका खर्च और भी ज्यादा आता है।

हेयर ट्रांसप्लांट का क्या प्रभाव पड़ता है?

Hair Transplant कराने का प्रभाव दो हफ्ते के बाद नजर आने लगता है, जब छोटे छोटे बाल आने लगते हैं। बड़े बाल आने में सात से लेकर 10 महीने तक का समय लग सकता है। एक treatment session में हजार बाल transplant किया जा सकते हैं। आपको पूरे बाल के लिए तीन session की जरूरत पड़ सकती है। हर session में कुछ महीनों का अंतर होता है।

हेयर ट्रांसप्लांट के क्या फायदे हैं?

Hair Transplant के बहुत फायदे हैं। मसलन,बाल natural आते हैं। उन्हें मनपसंद रंग दिया जा सकता है। मनपसंद style में कटवाया जा सकता है। इनकी growth भी natural बालों जैसी ही होती है। और सबसे बड़ी और जाहिर सी बात है कि उसके आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होती है। उसे हर वक्त cap ढूंढने की जरूरत नहीं पड़ती।

Kya Hair Transplant Safe Hai? हेयर ट्रांसप्लांट करने से नुकसान क्या है?

Hair Transplant के जहां फायदे हैं, वहीं इसके कुछ नुकसान भी हैं, जिन्हें नज़र अंदाज़ नहीं किया जा सकता। यह नुकसान हैं –

  • Transplant के दौरान रक्त स्राव हो सकता है
  • संक्रमण हो सकता है
  • सिर की skin में सूजन आ सकती है
  • आंखों के चारों तरफ कालापन आ सकता है
  • सिर के ​ जिस भाग से बाल हटा दिए गए हैं, वहां परत सी बन सकती है
  • सिर की त्वचा यानी skin में जिस भाग का इलाज हुआ है वह सुन्न हो सकता है
  • खुजली हो सकती है
  • बालों के फालिकल्स में सूजन आ सकती है
  • फालिकल्स में संक्रमण हो सकता है
  • Shock loss हो सकता है यानी अस्थायी रूप से बाल झड़ सकते हैं
  • बालों के अजीब से गुच्छे दिखना

हेयर ट्रांसप्लांट के लिए कौन उपयुक्त है? कौन करवा सकता है?

अब हम आपको बताएंगे कि हेयर ट्रांसप्लांट कौन करवा सकता है? कौन इसके उपयुक्त है? किन लोगों को इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है? सबसे पहली बात तो यह कि अगर किसी पुरुष के सिर में गंजेपन की समस्या है या किसी महिला को बाल झड़ने की समस्या है, तो वह transplant करा सकता है। या फिर अगर किसी के बाल जल गए हैं या सिर में चोट लगने की वजह से बाल नहीं रहे हैं तो transplant करा सकते हैं। लेकिन उन लोगों को ट्रांसफर नहीं कराना चाहिए, जिनके पास transplant कराने को पर्याप्त बाल ना हों या फिर ऐसे लोग जिनके सर पर चोट के निशान बने हुए हों या कीमोथेरेपी के कारण जिन लोगों के बाल झड़ गए हों।

इसके अलावा बाल झड़ने के कारण जैसे कि हम आपको ऊपर बता चुके हैं कि ज्यादातर मामलों में यह अनुवांशिक होता है। यानी कि एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में जाता है। इसके अलावा आप किस तरह का खाना खाते हैं इस पर भी यह निर्भर करता है। या आप ज्यादा तनाव में रहते हैं तो भी आप के बाल झड़ सकते हैं। या फिर किसी बीमारी की वजह से ऐसा हो सकता है या किसी दवाओं के साइड इफेक्ट की वजह से भी आपके बाल झड़ सकते हैं।

हेयर ट्रांसप्लांट की प्रक्रिया क्या है?

हेयर ट्रांसप्लांट की एक निर्धारित प्रक्रिया है। जैसा कि हम आपको बता चुके हैं कि हेयर ट्रांसप्लांट की प्रकिया के तहत सिर के पिछले हिस्से से बाल लेकर सिर के बिना बालों वाले हिस्से में लगाते हैं। अगर जरूरत पड़े तो साइड के बाल, दाढ़ी के बाल या छाती के बाल भी इसके लिए प्रयुक्त किए जाते हैं। पलकों, भौंहों आदि का भी treatment संभव है।

क्या करें, क्या न करें –

दोस्तों, बेशक हेयर ट्रांसप्लांट का खर्च एक महत्वपूर्ण मुद्दा है तो भी सस्ता ढूंढने की गलती ना करें। क्योंकि हो सकता है कि वह आपका नुकसान कर दे। अपना treatment किसी अच्छे plastic surgeon की देख रेख में ही कराएं। वह ऐसा surgeon हो, जिसे तीन साल surgery और तीन साल की plastic surgery का अनुभव हो। दूसरे, जिस center में treatment लेना है उसमें OT यानी operation theatre setup हो, क्योंकि इस दौरान आपको anaesthesia की जरूरत पड़ती है।

सरकारी अस्पतालों में भी हेयर ट्रांसप्लांट को waiting –

आपको बता दें कि हेयर ट्रांसप्लांट की न केवल निजी रूप से ही treatment की बहुत सुविधा है कई सरकारी अस्पतालों में भी हेयर ट्रांसप्लांट की सुविधा दी जा रही है। लेकिन सप्ताह में नियत एक या दो दिन इस सुविधा के होने की वजह से waiting list भी लंबी होती है। साथियों, आपको यह भी बता दें कि इनमें हेयर ट्रांसप्लांट कराना चाहने वाली महिलाओं की संख्या भी बहुत है।

तो साथियों, यह है हेयर ट्रांसप्लांट से जुड़ी बारीक से बारीक जानकारी। उम्मीद है कि बाल कम हो रहे, झड़ रहे या गंजेपन की समस्या से जूझ रहे लोगों की दिक्कत पर आधारित यह post सभी के लिए लाभकारी होगी। और आपको पसंद आई होगी। अगर इस post को पढ़कर आपके दिमाग में भी आ रहा है कोई भी सवाल तो आप यहां comment box में comment करके पूछ सकते हैं। इसके अलावा अगर आपके पास है हमारे लिए कोई सुझाव या सलाह तो उसका भी स्वागत है। पूरी पूरी कोशिश की जाएगी कि उसे इस्तेमाल में लाया जाए, उस पर अमल किया जाए। आपकी किसी भी प्रतिक्रिया का स्वागत है। उम्मीद है आप जाहिर करेंगे।। धन्यवाद।।

Spread the love

Leave a Comment