ग्राम प्रधान की शिकायत कैसे करें? हेल्पलाइन नम्बर | पंचायत कार्य विवरण कैसे देखें?

|| ग्राम प्रधान की शिकायत कैसे करें? ग्राम प्रधान (सरपंच) की शिकायत कैसे करे, ग्राम प्रधान शिकायत नंबर, ग्राम प्रधान की जांच कैसे करवाएं, ग्राम प्रधान के खिलाफ शिकायत पत्र, ग्राम प्रधान के कार्य लिस्ट 2023 ||

ग्राम प्रधान से ग्रामीणों की बहुत अपेक्षा होती है। उसका कार्य होता है गांव का विकास करना। सरकारी योजनाओं को गांव में लागू कराना, लेकिन बहुत से ग्राम प्रधान ऐसा नहीं करते। बहुत से ग्राम प्रधान विकास का पैसा खा लेते हैं तो बहुत से भ्रष्टाचार के अन्य कार्यों में लिप्त हो जाते हैं।

ऐसे में गांव वाले बहुत चाहते हैं कि वे ग्राम प्रधान की शिकायत करें, लेकिन उन्हें यह नहीं पता होता कि उसकी शिकायत वे कहां और किससे कर सकते हैं।

आज हम उनकी यह दिक्कत दूर करने जा रहे हैं। आज इस पोस्ट में हम बताएंगे कि वे ग्राम प्रधान की शिकायत कैसे कर सकते हैं। उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको पसंद आएगी।

Contents show

ग्राम प्रधान कौन होता है?

ग्राम प्रधान की शिकायत कैसे करें? यह जानने से पूर्व यह जानना अति आवश्यक है कि ग्राम प्रधान कौन होता है। भारत के संविधान में अनुच्छेद 243 के तहत पंचायती राज की व्यवस्था दी गई है।

इसी के तहत ग्राम सभा एवं ग्राम पंचायत गठित की जाती हैं। प्रत्येक ग्राम का एक मुखिया होता है, जो ग्राम प्रधान अथवा सरपंच कहलाता है। सामान्य रूप से संपूर्ण गांव के विकास की जिम्मेदारी इसी ग्राम प्रधान के कंधों पर होती है।

ग्राम प्रधान की शिकायत कैसे करें? हेल्पलाइन नम्बर | पंचायत कार्य विवरण कैसे देखें?

अपने ग्राम प्रधान की शिकायत कैसे करें? [How to complain about village head?]

यदि आप उत्तर प्रदेश के निवासी हैं और आपको शिकायत है कि आपका ग्राम प्रधान भी वित्तीय गबन में शामिल है, विकास कार्यों में धांधली कर रहा है अथवा उसका आचरण भ्रष्टाचारपूर्ण है तो आप उसकी शिकायत घर बैठे एक टोल फ्री नंबर (toll free number) के जरिए डायरेक्ट कर सकते हैं।

यह नंबर है- 1076 । आपसे आपका ब्योरा लेकर आपकी शिकायत को दर्ज कर लिया जाएगा। यहां से शिकायत संबंधित विभाग (department) को भेजी जाती है।

यदि यहां से समाधान नहीं होता तो मामला उच्चाधिकारी को भेजा जाता है। यदि इसके बावजूद एक सप्ताह के भीतर समस्या का समाधान नहीं होता तो संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

नागरिक शिकायत हेल्पलाइन का शुभारंभ कब हुआ था?

आपको जानकारी दे दें कि जुलाई, 2019 में इस हेल्पलाइन (helpline) की शुरूआत उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM yogi Adityanath) ने की थी। विशेष बात यह है कि यह हेल्पलाइन 24×7 अर्थात 24 घंटे, सातों दिन काम करती है। इसके लिए 24 घंटे स्टाफ की तैनाती की गई है।

हेल्पलाइन में 80 हजार इनबाउंड काॅल्स (inbound calls) की व्यवस्था है। हालांकि यदि कोई हेल्पलाइन में झूठी काॅल करता है तो उस पर भी कार्रवाई सुनिश्चित करने को सीएम योगी आदित्यनाथ की ओर से निर्देश दिए गए हैं। आप चाहें तो प्लान प्लस (planplus) की वेबसाइट www.planningonline.gov.in पर जाकर भी अपने ग्राम प्रधान की शिकायत कर सकते हैं।

आप शिकायत चाहे जैसे करें सरकार की ओर से शासन को इस प्रकार की शिकायतों को गंभीरता से लेने को कहा गया है, ताकि जनता बेखौफ अपनी शिकायतें हेल्पलाइन सेंटर (helpline center) के जरिए सही जगह तक पहुंचा सके और उसका समाधान हासिल कर सके।

डीएम से मिलकर ग्राम प्रधान की शिकायत कैसे करें?

ग्राम प्रधान की शिकायत करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप डीएम (DM) से मिलें। इसकी भी एक प्रक्रिया है। जो कि निम्नवत है-

  • सबसे पहले एक शिकायती पत्र लिखें। इसमें अपनी शिकायत को विस्तार से लिखें। जैसे कि इसमें ग्राम प्रधान द्वारा किए गए कार्यों एवं उसमें धांधली का विवरण दें।
  • इस शिकायती पत्र के साथ शिकायत संबंधी प्रमाण जैसे-आरटीआई (RTI) में प्राप्त ब्योरा आदि संलग्न करें।
  • आप उसी गांव के निवासी हैं, इसके सत्यापन (verification) के लिए आपको अपना आधार कार्ड साथ लेकर जाना होगा। आप चाहें तो अकेले अथवा गांव के अन्य लोगों के साथ जाकर शिकायत कर सकते हैं।
  • इसके बाद डीएम से मिलें। उन्हें साक्ष्य के साथ अपनी बात विस्तार से बताएं।
  • यदि डीएम आपकी बात से सहमत हो जाते हैं तो उनकी ओर से मामले की जांच कराने को एक कमेटी का गठन किया जाएगा।
  • इस टीम में जिला पंचायती राज अधिकारी (DPRO), जिला पंचायत अधिकारी (DPO), बीडीओ (BDO) एवं एडीओ (ADO) को रखा जाता है।
  • टीम गांव में जाकर शिकायत के आधार पर विकास कार्यों का निरीक्षण (inspection) करेगी। गांव वालों से बात करेगी और अपनी रिपोर्ट (report) तैयार करेगी।
  • इसके बाद यह समिति (committee) अपनी रिपोर्ट डीएम को सौंपेगी।
  • यदि रिपोर्ट में धांधली की बात साबित हो जाती है तो प्रधान के खिलाफ डीएम कार्रवाई सुनिश्चित करते हैं। वित्तीय धांधली (financial fraud) के आरोप साबित होने पर कानूनी कार्रवाई की जाती है।

शिकायत से पूर्व किस प्रकार के प्रमाण जुटाने होंगे?

ऐसा बहुत बार होता है कि व्यक्ति के पास शिकायत संबंधी प्रमाण (proof related to complaint) नहीं होते और वह शिकायती पत्र तैयार कर लेता है। आप ऐसा कतई न करें। यूं ही हवा में शिकायत न करें। पहले इस बात के पुख्ता प्रमाण जुटा लें कि आप जो शिकायत कर रहे हैं वह सही हो।

अन्यथा वह इमेज खराब करने की एक कोशिश मानी जाएगी। आपको इसके प्रत्युत्तर में कार्रवाई भी झेलनी पड़ सकती है। इस मामले में किसी के हाथ का मोहरा बनने से भी बचें।

अक्सर राजनीतिक दुश्मनी के चलते भी लोग आरोप लगाते हुए ग्राम प्रधान की शिकायत करने के इच्छुक रहते हैं। आपको जो भी कदम उठाना हो, वह पूरी तैयारी के बाद ही उठाएं।

ग्राम पंचायतों में हुए कार्यों का ब्योरा कैसे चेक करें? [How to check the details of works done in Gram Panchayats?]

आप यह जरूर सोच रहे होंगे कि शिकायत करने के लिए आपको पर्याप्त साक्ष्य की आवश्यकता होगी, वह कहां से जुटा सकते हैं। आपको जानकारी दे दें कि ग्राम पंचायत को भेजे गए पैसे एवं इस्तेमाल हुए पैसे का पूरा ब्योरा इन दिनों आनलाइन भी उपलब्ध है।http://egramswaraj.gov.inपर जाकर पूरी जानकारी हासिल कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त यदि आप चाहें तो आरटीआई के अंतर्गत भी गांव में होने वाले विकास कार्यों (development works) एवं इन पर खर्च की गई राशि की पूरी जानकारी ग्राम प्रधान से लिखित में हासिल कर सकते हैं। यह आपकी शिकायत के लिए पुख्ता आधार होगा। इसकी जानकारी निम्न प्रकार हासिल की जा सकती है-

  • सबसे पहले ई ग्राम स्वराज (egram swaraj) की आधिकारिक वेबसाइट http://egramswaraj.gov.in पर जाएं।
ग्राम पंचायतों में हुए कार्यों का ब्योरा कैसे चेक करें? [How to check the details of works done in Gram Panchayats?]
  • यहां होम पेज (home page) पर आपसे जिस योजना की जानकारी आप चाहते हैं उसका वर्ष पूछा जाएगा। आपको ड्राप डाउन मेन्यू (drop down menu) से वर्ष चुनना होगा।
  • इसके पश्चात नीचे दिए बाक्स (box) में कैप्चा कोड (captcha code) दर्ज करना होगा।
  • इतना होने के बाद गेट रिपोर्ट (get report) के आप्शन पर क्लिक कर दें।
  • अब आपके सामने सभी राज्यों की लिस्ट खुल जाएगी।
ग्राम पंचायतों में हुए कार्यों का ब्योरा कैसे चेक करें? [How to check the details of works done in Gram Panchayats?]
  • इसमें आप अपने राज्य का नाम चुनें।
  • अब आपके सामने राज्य के जिलों की लिस्ट खुल जाएगी।
ग्राम पंचायतों में हुए कार्यों का ब्योरा कैसे चेक करें? [How to check the details of works done in Gram Panchayats?]
  • अब इसमें से अपने ब्लाक को चुनें। और फिर अपने गांव को।
ग्राम पंचायतों में हुए कार्यों का ब्योरा कैसे चेक करें? [How to check the details of works done in Gram Panchayats?]
  • अब गांव की लिस्ट खुलते ही सारे कार्यों का ब्योरा आपके सामने आ जाएगा।
  • आप संबंधित कार्य के आगे व्यू (view) या एक्सपोर्ट पीडीऍफ़ [export pdf] के आप्शन पर क्लिक कर पूरी जानकारी हासिल कर सकते हैं।
ग्राम पंचायतों में हुए कार्यों का ब्योरा कैसे चेक करें? [How to check the details of works done in Gram Panchayats?]
  • इस वेबसाइट (website) पर आपको पंचायतों में हुए विकास कार्यों का ब्योरा जैसे कार्य का नाम, उसकी अनुमानित लागत (estimated cost), उस पर आई वास्तविक लागत (real cost) आदि की पूरी जानकारी मिलेगी। इसके साथ ही तमाम तरह की आडिटेड रिपोर्ट (audited report), सरकार द्वारा पंचायतों को लेकर जारी किए गए दिशा निर्देश आदि आपको सब कुछ इस वेबसाइट पर उपलब्ध होगा।

पंचायतों में किस प्रकार का भ्रष्टाचार देखने को मिलता है?

पंचायतों में सर्वाधिक पैसे के गबन के मामले देखने को मिलते हैं। जैसे मान लीजिए कि किसी गांव में खड़ंजा निर्माण होना है। पता चलता है कि खड़ंजा तो बिछवा दिया गया, लेकिन उसमें मैटीरियल (material) घटिया लगाया गया, जिस वजह से ब्लाक टूटने लगे।

इसी प्रकार कई तरह के निर्माण केवल फाइलों में दिखाई देते हैं, जो धरातल पर उतरते ही नहीं। पंचायतों में विकास कार्यों के लिए सरकार की ओर से भारी राशि आवंटित की जाती है, जिस वजह से पंचायत चुनावों में भी बड़े पैमाने पर धांधलियों की शिकायत देखने को मिलती है।

हाल तो यह है कि पंचायतों समेत जिला पंचायत अध्यक्ष की सीट कई जगह महिलाओं के लिए रिजर्व है। लेकिन अक्सर होता यह है कि चुनाव महिला लड़ती है, लेकिन इसका दारोमदार पति उठाते हैं और जीतने के बाद पंचायतों के कार्यों में पति की ही चलती है।

प्रधानों के कार्य-व्यवहार पर कई वेब सीरीज भी बन चुकीं

ग्राम प्रधानों का कार्य व्यवहार इस प्रकार का है कि बालीवुड (bollywood) समेत ओटीटी प्लेटफार्म (OTT platform) को भी इसमें मसाला दिखाई देता है। लालटेन को ही देख लीजिए, इस वेब सीरीज (Web series) की कहानी भी पंचायत के इर्द-गिर्द घूमती है।

इसी प्रकार कई फिल्में बड़े पर्दे पर भी आई हैं, जो ग्राम प्रधान के भ्रष्टाचार की सीधे सीधे पोल खोलतीं नजर आती हैं। वास्तविक स्थितियां दर्शाने की वजह से इन्हें पसंद भी खूब किया गया। जैसे-आप टाॅयलेट एक प्रेमकथा फिल्म का ही उदाहरण लें। इसमें शौचालय बनाने में हुए भ्रष्टाचार को भी उजागर किया गया है।

जहां शौचालयों में ही बाद में दर्जी की दुकान खोल दी गई। पैसा इन्वाल्व (involve) होने की वजह से प्रधानी के चुनाव में धनबल का खूब बोल बाला रहता है। अक्सर गांवों के बाहुबली चुनावों में उतरते हैं। चुनाव जीतने के बाद उनका पूरा जोर चुनाव में हुए खर्च को वसूलने पर होता है।

ग्राम प्रधान क्या करता है?

गांव में विकास कार्य कराने की जिम्मेदारी ग्राम प्रधान की ही होती है।

ग्राम प्रधान की शिकायत कैसे की जा सकती है?

यदि आप उत्तर प्रदेश के निवासी हैं तो टोल फ्री नंबर 1076 पर काल करके ग्राम प्रधान की शिकायत कर सकते हैैं।

ग्राम प्रधान की शिकायत आफलाइन कैसे की जा सकती है?

इसके लिए संबंधित जिले के डीएम से मिलकर उसे शिकायती पत्र एवं साक्ष्य सौंपे जाते हैं। यदि वह इसे पर्याप्त समझते हैं तो ग्राम प्रधान की जांच के बाद उस पर कार्रवाई की जाती है।

ई ग्राम स्वराज की आधिकारिक वेबसाइट का एड्रेस क्या है?

ई ग्राम स्वराज (egram swaraj) की आधिकारिक वेबसाइट का एड्रेस http://egramswaraj.gov.in है।

हमने आपको इस पोस्ट में बताया कि आप ग्राम प्रधान की शिकायत कैसे कर सकते हैं। यदि आप भी अपने ग्राम प्रधान के आचरण से परेशान हैं तो उसके खिलाफ ऊपर बताए गए तरीके अपनाकर उसकी शिकायत कर सकते हैं। उसके खिलाफ कार्रवाई करा सकते हैं। उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी। इस पोस्ट को जागरूकता के नजरिए से अधिक से अधिक शेयर करना न भूलें। धन्यवाद।

——–&—————-

11 thoughts on “ग्राम प्रधान की शिकायत कैसे करें? हेल्पलाइन नम्बर | पंचायत कार्य विवरण कैसे देखें?”

  1. में सुनील मिनमा जिला अलीराजपुर तहसील चन्द्र शेखर आजाद नगर भाबरा ग्राम रोलिगाव के माल फलिया में 1 सरकारी। हेड प्पमप में वह हेड पंप को खोल कर। उन्हों ने 1 मोटर। डाल दी हे जो हमे एव आस पास के लोगों को पानी भरने में तकलीब हो रही है और वह उस सरकारी बोरिंग में मोटर डाल कर अपनी खेती बाड़ी के रहा है तो मेरा आपसे निवेदन हे की कोई कार्रवाई करे।

    प्रतिक्रिया
  2. श्रीमान जिला दंडाधिकारी महोदय ग्राम पंचायत राजपुर विकास खंड लैलूंगा जिला रायगढ़ छ.गढ़ में 15 वे वित्त की राशि का उपयोग बिना कार्य किए कार्य दरसा के लाखो रुपए सरपंच उप सरपंच और सचिव के द्वारा आहरण किया गया है जितना भी राशि आहरण हुआ है सभी फर्जी है शिकायत के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं हो रही है अतः महोदय जी से निवेदन है की ग्राम पंचायत के विकास कार्य पूरी तरह से रुक गया है पूरा फर्जी चल रहा है उचित जांच कराए धन्यवाद

    प्रतिक्रिया
  3. Gram pradhan Asha Singh urf Sunil Singh Sar Mere Ghar per Elo Aakar ke Mal jhagada kar rahe hain aur koi bhi Aawas aata hai to yah Ham Logon Ko Nahin batate Hain aur mere ghar per Aakar ke Jameen Vivad Ke Le Karke Hamesha Mari Mara kar rahe hain Sar main aapko Suchit kar raha hun ki Sarkari Sanstha se jo bhi Kuchh Aata Hai yah log mere ko ya Mere Parivar Walon Ko bahut satate hain aur Kuchh batate Nahin Hai Sar aap inke Upar kaarvayi Karen Nahin to unko gram pradhan se Mukti dilaya Jaaye ham log bahut Pareshan ho gaye hain ham log bahut Pareshan ho gaye hain sath sath mein Mere Jameen Vivad Mein Mere Ghar per Mere Parivar mein Ham Logon Ne Kya Kiya Inka ki log Aisa kar rahe hain gram pradhan ka naam hai Asha Singh urf Khan jaati Sunil Kumar District Varanasi pin code number 2212 02 hai mera naam Anand Kumar Singh Arun Singh hai jo ki main Sarkari Sanstha Mein Shikayat kar raha hun bahut Buri hal hai log Mera banaa Diye Hain Ham Garib aadami Hain Hamara Koi Sahara Nahin de raha hai log to kis chij ke liye Pradhan Bane Hain sirf Dushmani karane ke liye Dushman banne ke liye kripya Karke inke Upar kaarvayi jald se jald kiya jaaye ki Humse Dushmani na len Hamare ghar wale Ghar banaa hai aur dusri Jameen per kabja kar rahe hain ki mera Jameen Mera Jameen Kisi Ka Nahin Hai ham log jo hai ki Apne Baap Dada ke Jamane Se Hain Kareeb 150 sal pahle Se Vahi per base Hue Hain To Koi Nahin aaya aur yah log a Karke Vijay Singh Pita Kishan Singh Ke Putra bhi hai

    प्रतिक्रिया
  4. सेवा में ‌ श्रीमान जिला अधिकारी से निवेदन है महोदय निवेदन इस प्रकार है की ग्राम पंचायत भदवास
    जिला एटा मैं ग्राम प्रधान,,, नल पाइप ग्राम वासियों को पैसे से कराना रहा है और सर जो

    कोई अपने पुष्पेंद्र कुमार की काफी बार मैंने सुनी है अपने मां के सामने यह बोलते हैं मैंने बहुत पैसे से खरीदा है सरकारी लेकिन सरकारी बिक चुकी हैं उनमें कहां जाएंगी सरकारी हेड पंप के पाइप.प्रधान ने रखा है सर से निवेदन है कि इसकी जांच के लिए कार्रवाई धन्यवाद और सर फोन कर लीजिए सब बता दूंगा फोन पर

    प्रतिक्रिया

    प्रतिक्रिया
  5. सर मैं शीलू गदनपुर भदवास एटा से नियर बाई निधौली कला सर मेरा ग्राम पंचायत भदवास है मेरी ग्राम पंचायत भदवास के कोई प्रधान काम कर आना नहीं चाह रहे पुष्पेंद्र प्रधान बादाम पुर से हैं ना कोई नल में पाए पड़वा रहे ना कोई रिवर करा रहे ना कोई खरंजा करा रहे सर ऐसा ही पूरा पढ़ा है काफी दिन से हो गया कहते कहते हैं सर कोई सुनवाई नहीं हंस के दिखा देते हैं यह बोलते हैं मैंने बूट खरीदा है पैसे से खरीदा है ग्राम पंचायत भदवास

    प्रतिक्रिया
  6. सेवा में ‌ श्रीमान जिला अधिकारी से निवेदन है महोदय निवेदन इस प्रकार है की ग्राम आजमपुर तहसील धनोरा जिला अमरोहा मैं ग्राम प्रधान,,, सरकारी जमीन पर ग्राम वासियों को पैसे लेकर कब्जा करा रहा है और सर जो गाए हैं उन गायों को कोई अपने खेत में नहीं बैठने देता सर सरकारी जमीन पर तो जा सकती हैं लेकिन सरकारी जमीन बिक चुकी हैं उनमें घर बन चुके हैं तो सर वह गाय कहां जाएंगी सरकारी जमीन पर प्रधान ने अवैध कब्जा करा रखा है सर से निवेदन है कि इसकी जांच के लिए कार्रवाई धन्यवाद और सर फोन कर लीजिए सब बता दूंगा फोन पर

    प्रतिक्रिया

Leave a Comment

कंपार्टमेंट के लिए आवेदन कैसे करें? प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना 2023 एमटीपी एक्ट 2021 क्या है? डेट फंड का क्या मतलब होता है? रिकरिंग डिपॉजिट क्या होता है?