किरायेदार से मकान / दुकान कैसे खाली करवाये? मकान मालिक और किरायेदार के अधिकार

हर मकान मालिक का यह सपना होता है। कि एक दिन वह अपना मकान / दुकान या प्रॉपर्टी किराये पर उठाएगा। और मुनाफा कमायेगा। पर कई बार उसे कई प्रकार की तकलीफ झेलनी पड़ जाती है। यदि आपका किरायेदार बेईमान और धूर्त प्रवृत्ति का निकल गया तो यह बहुत समस्या पैदा कर सकता है।

कई किरायेदार तो किराया भी नहीं देते हैं। और जबरन प्रॉपर्टी पर कब्जा करके बैठ जाते हैं। ऐसे में मकान मालिक का सुख चैन और रातों की नींद उड़ जाती है। वह लगातार परेशान रहने लग जाता है। और यह सोचता है। कि वह कैसे जल्द से जल्द अपनी प्रॉपर्टी किरायेदार से खाली करवा सकता है।

इस लेख में हम आपको कुछ जबरदस्त टिप्स देंगे। जिसे अपनाकर आप भी अपनी प्रॉपर्टी किरायेदार से तुरंत खाली करा सकते हैं। इस आर्टिकल में आपको दुकान खाली करने के तरीके, मकान खाली कराने के उपाय, दुकान खाली करने के नियम, किरायेदार के पक्ष में सुप्रीम कोर्ट के फैसले, पुराने किराए के कानूनी नियम, दुकान किराया समझौते नियम आदि की जानकारी मिलेगी।

किराये पर घर या मकान देते समय निम्न सावधानी बरतनी चाहिए –

किसी भी व्यक्ति को अपना घर / या दुकान किराये पर देने से पहले आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। यदि आप इन बैटन का ध्यान रखते हैं। तो आप कभी भी किसी परेशानी में नहीं पड़ेगें। यह बातें कुछ इस प्रकार हैं –

1. 11 महीने का रेंट एग्रीमेंट जरूर बनवाएं –

11 महीने के रेंट एग्रीमेंट को कच्चा एग्रीमेंट समझा जाता है। यदि किरायेदार घर या दुकान खाली करने से मना कर देता है। तो कोर्ट में 11 महीने का रेंट एग्रीमेंट दिखाकर यह बताया जाता है। कि मैंने छोटे समय के लिए यह प्रॉपर्टी किराये पर दी थी। सरकार को इसमें कोई टैक्स में लाभ नहीं मिलता है। 11 महीने का रेंट एग्रीमेंट कोर्ट में दिखाने पर किरायेदार को स्टे नहीं मिलता है। मकान मालिक केस जीत जाता है। हर साल आपको रेंट एग्रीमेंट को रिन्यू करवाना चाहिए।

2. किरायेदार का पुलिस सत्यापन जरुर करवाये –

जब भी आप अपनी प्रॉपर्टी किसी किरायेदार को दे तो उससे पहले पुलिस के पास व्यक्तिगत रूप से जाकर सत्यापन अवश्य करवाएं। सभी मकान मालिकों के लिए यह बेहद जरूरी होता है। इससे आपको जानकारी मिल जाएगी कि किरायेदार का कोई आपराधिक रिकॉर्ड तो नहीं है।

किरायेदार से मकान / दुकान कैसे खाली करवाये? मकान मालिक और किरायेदार के अधिकार

3. पिछले मकान मालिक से पूछताछ करें –

जब भी आप अपना मकान या दुकान किसी किरायेदार को दे तो उसके पिछले मालिक से उसका रिकॉर्ड जरूर चेक करें। वह समय पर किराया देता है। या नहीं। आपराधिक प्रवृत्ति का है। या नहीं ये सब जानकारी आपको होनी चाहिये।

4. किरायेदार का बिजली और पानी का कनेक्शन न काटे –

जब भी किरायेदार किराया देने से या घर खाली करने से मना कर दे और सम्पत्ति पर कब्जा कर ले तो उसका बिजली और पानी का कनेक्शन नहीं काटना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने पर वह व्यक्तिगत रूप से बिजली और पानी का कनेक्शन ले सकता है।

5. प्रॉपर्टी के कागज आपके नाम से होना चाहिए –

यह बहुत जरूरी है। कि जब भी आप किसी किरायेदार को अपनी दुकान या घर किराए पर दे तो वह प्रॉपर्टी के कागज आपके नाम से होना चाहिए। यदि प्रॉपर्टी आपके पिताजी, दादाजी या किसी और के नाम से है। तो ऐसी स्थिति में किरायेदार आपको परेशान कर सकता है। बेहतर यह होगा। कि आप प्रॉपर्टी के कागज अपने नाम से बनवा लें। उसके बाद किसी किरायेदार को दें।

किरायेदार से मकान / दुकान किस आधार पर खाली करवा सकते है?

बिना किसी कारण के किरायेदार से मकान / दुकान खाली नहीं कराया जा सकता है। इसके लिए आपको कारण बताना होगा। कारन कुछ इस प्रकार हो सकतें हैं –

  1. यदि किरायेदार ने किराया देना बंद कर दिया है।
  2. यदि किरायेदार ने आपकी प्रॉपर्टी में कुछ नया निर्माण (new construction) कर लिया है।
  3. एंव यदि किरायेदार ने आपको बिना बताए और भी दूसरे लोगों के साथ आपकी प्रॉपर्टी में रह रहा है।
  4. यदि किरायेदार आपकी प्रॉपर्टी पर गैरकानूनी काम कर रहा है।
  5. यदि किरायेदार ने आपकी प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाया है।
  6. और यदि आप अपनी प्रॉपर्टी का इस्तेमाल खुद के लिए करना चाहते हैं।

किरायेदार से मकान / दुकान कैसे खाली करवाये? How to evict a tenant from your property in hindi

किरायेदार से आप अपने मकान या दुकान को कैसे खली करा सकतें हैं। इसके बारें में आप इसे जानकारी प्राप्त कर सकतें हैं –

1. प्रॉपर्टी खाली करने के लिए दबाव बनाएं –

आप किरायेदार पर दबाव बनाइये कि वह आपकी प्रॉपर्टी खाली कर दें। इसके लिए आप पुलिस की सहायता भी ले सकते हैं। साथ-साथ आसपास और पड़ोस के प्रभावशाली लोगों की सहायता भी ली जा सकती है। बेहतर होगा। कि किरायेदार को समझा-बुझाकर प्रॉपर्टी खाली करा ली जाए।

2. किरायेदार को नोटिस भेजे –

ऊपर बताए हुए आधारों में से यदि आपके पास भी कोई आधार है। तो सबसे पहले आप किरायेदार को घर या दुकान खाली करने का नोटिस भेजे।

3. सिविल कोर्ट में याचिका डालें –

यदि नोटिस देने के बाद भी किरायेदार आपका मकान या प्रॉपर्टी खाली नहीं करता है। तो आप सिविल कोर्ट में याचिका डालें। आजकल इस पर बहुत तेज सुनवाई होती है। आपको कोर्ट से आदेश मिल जाएगा। और किरायेदार आप की प्रॉपर्टी खाली कर देगा।

4. बलपूर्वक प्रॉपर्टी खाली कराये –

भारतीय संविधान की धारा 103 आईपीसी के अनुसार यदि किरायेदार आप की प्रॉपर्टी पर जबरन कब्जा कर लेता है। तो उसे बल का प्रयोग करके प्रॉपर्टी का खाली कराई जा सकती है। इस दौरान यदि झगड़ा या कोई विवाद हो जाता है। तो उसमें आप उतना ही बल प्रयोग कर सकते हैं। जितना सामने वाला कर रहा है। यदि सामने वाला आप पर लाठियों से हमला कर रहा है। तो आप भी लाठी डंडों का सहारा ले सकते हैं। यदि वह आप पर बंदूक निकाल कर फायरिंग करने का प्रयास करता है। तो भी आत्मरक्षा में आप गोली चला सकते हैं।

भारत में किरायेदारों के खिलाफ नवीनतम सुप्रीम कोर्ट के निर्णय –

Supreme court judgment – Poona Ram Vs Moti Ram (29 January 2019)

के फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा है। कि यदि किराए पर दी गई प्रॉपर्टी आपके नाम पर रजिस्टर्ड है। और किरायेदार प्रॉपर्टी खाली करने से मना कर रहा है। और उस पर कब्जा जमा कर बैठा हुआ है, तो बल/ शक्ति का प्रयोग करके उसे हटाया जा सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने यहां पर शक्ति का स्पष्टीकरण नहीं किया है। उसका कहना है। कि प्रॉपर्टी खाली कराते समय आप उतनी ही शक्ति का इस्तेमाल करें जितना आवश्यक है। इसके लिए कोर्ट जाने की जरूरत नहीं है।

मकान मालिक के अधिकार Rights of Property Owners in India –

किसी भी व्यक्ति को अपना मकान या दुकान किराये पर देने के लिए प्रॉपर्टी मालिक के कुछ अधिकार होतें हैं। जो की इस प्रकार हैं –

  1. मकान मालिक को किरायेदार से नियमित रूप से किराया प्राप्त करने का अधिकार है।
  2. किरायेदार मकान को साफ सुथरा रखें, उसे नुकसान ना पहुंचाएं।
  3. किरायेदार मकान मालिक से बिना पूछे किसी तरह का नया निर्माण, मकान की मरम्मत, फेर-बदल नही कर सकता है।
  4. साथ ही किरायेदार मकान मालिक को बिना बताये किसी और व्यक्ति को घर में लाकर नहीं रख सकता है।
  5. किरायेदार मकान / दुकान या प्रॉपर्टी में किसी प्रकार का गैर कानूनी काम नहीं कर सकता है।
  6. किरायेदार प्रॉपर्टी को किसी दूसरे को बेच नहीं सकता है।
  7. मकान मालिक को यह अधिकार है। कि किरायेदार जब भी घर खाली करता है। उसे 1 महीने पहले नोटिस देना होगा।
  8. यदि किरायेदार 6 महीने तक किराया नहीं देता है। तो मकान मालिक इस आधार पर प्रॉपर्टी खाली करा सकता है।

किरायेदार के अधिकार Rights of Tenants in India –

मकान मालिक की तरह ही किरायेदार के भी कुछ अधिकार होतें हैं। जिनके लिए वह मकान मालिक से उपेक्षा कर सकता है। यह अधिकार इस प्रकार हैं –

  • किरायेदार को हर महीने किराया देने पर रसीद प्राप्त करने का अधिकार है। यदि मकान मालिक समय से पहले किरायेदार को निकालता है। तो कोर्ट में रसीद को सबूत के तौर पर दिखाया जा सकता है। और यह बता सकते है। कि किरायेदार नियमित तौर से किराया दे रहा था।
  • किरायेदार को किराए का भुगतान चेक से या ऑनलाइन बैंकिंग द्वारा सीधे बैंक अकाउंट में करना चाहिए। किसी विवाद होने पर किरायेदार यह सबूत के तौर पर दिखा सकता है। कि वह किराए का नियमित भुगतान कर रहा है।

Makan Khali Karne Ke Upay –

  • किरायेदार को हर हालत में बिजली और पानी पाने का अधिकार है। कानून के मुताबिक बिजली और पानी किसी भी व्यक्ति के लिए मूलभूत आवश्यकता होती है।
  • किरायेदार को इस बात का अधिकार है। कि जब भी मकानमालिक प्रॉपर्टी खाली कराता है। तो उससे इसका उचित कारण बताना होगा।
  • यदि मकान मालिक रेंट एग्रीमेंट में तय की गई शर्तों के अलावा कोई और शर्त थोपता है। या अचानक से किराया बढ़ा देता है। तो किरायेदार कोर्ट में याचिका दे सकता है।
  • किरायेदार को यह बात समझनी चाहिए कि वह कितने भी वर्षों तक उस प्रॉपर्टी (मकान / दुकान) में रह ले पर वह किरायेदार ही रहेगा। उसे खुद को मकान मालिक कभी नहीं समझना चाहिए।
  • किरायेदार की अनुपस्थिति में मकान मालिक घर का ताला नही तोड़ सकता है। न ही किरायेदार के सामान को बाहर फेंक सकता है। यदि मकान मालिक ऐसा करता है। तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकते है। इस स्थिति में किरायेदार को 30 दिन के अंदर कोर्ट में याचिका देनी होगी। उसे फिर से मकान या प्रॉपर्टी पर कब्जा मिल जाएगा।

किराएदार से मकान कैसे खाली करें?

किराएदार से मकान खाली करने के लिए सबसे पहला काम आपका या है कि आप एक लीगल नोटिस किराएदार को भेजें । नोटिस अच्छी तरह लिखी हुई होनी चाहिए एवं उसने सभी नियम शर्ते हैं एवं टाइम पीरियड का भी जिक्र होना चाहिए। जो नोटिस आप किराएदार को भेज रहे हैं उसकी एक प्रति अपने पास सुरक्षित जरूर रखें ।

रजिस्टर्ड किरायानामा क्या होता है?

कोर्ट के आदेश के अनुसार कोई भी व्यक्ति किसी भी व्यक्ति को कोई भी प्रॉपर्टी बिना रजिस्टर्ड किए किराए पर नहीं दे सकता है । किराएदार एवं मकान मालिक के बीच में अनुबंध तैयार किया जाता है उसे ही किरायानामा कहा जाता है ।

मकान किराया भत्ता क्या है?

ज्यादातर मल्टीनेशनल कंपनी में कार्य करने वाले व्यक्तियों को मिलने वाली सैलरी में एचआरए अर्थात हाउस रेंट अलाउंस भी शामिल होता है। जिन व्यक्तियों के सैलरी में हाउस रेंट अलाउंस शामिल होता है, तो वह आइटीआर फाइल करते समय छूट का लाभ प्राप्त कर सकते हैं ।

दुकान का एग्रीमेंट कितने साल का होता है?

किसी भी प्रॉपर्टी का एग्रीमेंट 11 महीने का ही होता है जिसे हर साल रिनुअल कराना होता है ।

किराया कानून क्या है?

किराएदार एवं मालिकों के हितों की सुरक्षा करने के लिए सरकार द्वारा किराया कानून का निर्माण किया गया है । ताकि किराएदार एवं मालिक को किसी प्रकार के कोई समस्या का सामना ना करना पड़े । और कोई एक दूसरे के हित को अनदेखा ना कर सके ।

तो दोस्तों यह थी किरायेदार से मकान / दुकान कैसे खाली करवाये? के बारे में आवश्यक जानकारी। यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें। साथ ही यदि आपका किसी भी प्रकार का कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें।। धन्यवाद।।

Spread the love

अनुक्रम

36 thoughts on “किरायेदार से मकान / दुकान कैसे खाली करवाये? मकान मालिक और किरायेदार के अधिकार”

  1. i have a shop on rent since 2004 and continuing paying rent alongwith house tax to landlord and every year increasing 5% in rent amount. The rent agreement was made between me and him only one time at the beginning. T. Now, he want to sign new agreement, please suggest

    1. I will sign new agreement perhaps this is 11 months period
    2. After 11 months if he not renew and asking me to vacate the shop in that case what is my right.

    Please suggest

    Reply
  2. Please reply Sir
    गांव में मेरा एक मकान है जो की माता जी को मायके में उनके पिताजी की पैतृक संपत्ति के तौर पर प्राप्त हुआ था जिसमे वर्तमान में मेरी सगी भाभी 11 साल से जबरन कब्जा किए हुए हैं। हम लोगों को रहने भी नहीं देती है माताजी ने मृत्यु से पहले कोर्ट में रजिस्टार के समक्ष रजिस्टर्ड वसीयत मेरे नाम की थी क्या हम मकान को लीगल एक्शन लेकर खाली करवा सकते हैं ।

    Reply
  3. Sir namaste
    Main 32 sal purana dukan ka kiraydar hu. Hamare dukan Malik ka nidhan AJ se 8sal pehle ho Gaya hai ab unke bete ki bahu mujhse jabarn dukan Khali karana chahati hai or mujhe dukan ki rashid bhi nahi deti hai . Sir mujhe dukan Khali na karana ka koi upay batayen .

    Reply
  4. Sir hamari 70 years se Shop ke kiraydar hain purane Shop ke malik ko hum kiraya detthe the woo hame raseed deta tha lekin naye makan malik ne jabardasti Shop khali kare ne ki kosiss ki tu hamne Court Cash kiya hain
    Tu kya woo hamse Shop khali karva sakta hain

    Reply
  5. Sir, hum kiraydaar hai 35 saal se ek shop par agreement bhi hai 35 saal purana. Hum kiraya bhi dete hai electricity bill ka makaan malli ka. Agreement jinke beech hua tha woh sab nahi rahe ab. Makkan malik ka beta ab new agreement karne ka bolta hai jo mai nahi chahta. Makaan malik kya kar sakta hai. Mai shop nahi chodna chahta. Kya aap bataenge…..

    Reply
  6. sir,
    hmne ek shop ko kiraye per uthayi thi 15 saal phle but koi agreemet nhi kiya and aaj 4 saal se kirayedar hme kiraya nhi de rha or hmne tbse usko koi kirayie ki receipt bhi nhi di hme btaye shop khali krane ke lieye kya kra jaye.

    Reply
  7. Hum 1947 se kiraye par saloon chalate hai kai naya kanoon hum ko notice dekar nikal va sakta hai hum rent barabar dete hai magar malik receipt nahi deta mutual understanding me chal raha hai.hamare pas purana agreement hai par usko donone renew nahi kiya

    Reply
  8. जब मैंने मेरी प्रॉपर्टी पर खरीदी तो वहा एक पुराना किराएदार था हमने उससे खाली नहीं कराया और ना ही कोई किराया वसूला उसपर रसीद भी नहीं हे अगर रसीद हैं तो पुराने मकान मालिक की हे जबसे हमने मकान खरीदा तबसे उसके पास कोई legal कागजात नहीं हे जिससे proof हो कि वो हमारा किराएदार हे अब हमे हमारे मकान की जरूरत है लेकिन वो क़ब्ज़ा धारी घर से नहीं निकल रहा हे कृपया मार्ग दर्शन करे…

    Reply
  9. Sir, Namaste
    sir mai ek baat puchna chata hu mujhe ki . abhi mai delhi mai jaha par reh raha hu. waha mujhe 60-65 saal ho gaye hai. aur jab hum waha par aayte to 7.00 rupess kiyaya tha. jo aaj 100/- rupess hai. aur na koi agreement hai. pehle wo ghar mitti ka kacha ghar bana huaa tha. lekin. lekin baad mai makan malik ne hamse baat kari ki. mai apko ground de dunga aur mujhe upar banane do. taki aapko bhi pareshani na ho. aur apka pakka makan rehne ko mil jayega. to phir sahab ji usne kya kiya upar usne apna makan bana diya or niche hamne apne aap sara paisa lagaya hai. to kya woh hamse makan khali karwa saka hai. hamare pass koi rent aggreement bhi nhi hai. or nahi koi rent ki rasheed deta hai. hamare pass makan ka sara bijli bill addhar card voter id card or mere papa, dada ji bhi ise address se retired huai hai.

    Reply
  10. Sir mene 2 saal ka shop egriment kiya he or shop liye hue 6 mahine hue he.. But mera business vaha pe chal nahi raha.. Is liye me soap khali karna chahta hu par shop malik bolta he 1 saal ka rent dena padega to sir me soap khali kese karu jisse muje loss na aye

    Reply
  11. Hi sir mera ghar road chori karan me tut gya hi or mera dusra makan kiraye pr diya gya tha jiska agreement pura ho chuka hame kiradar se dukan ko or makan ko khali karne k liye kaha gya or wo nhi kar raha hi or notice bhi bheja kya lekin wah wapas kar diya or wah makan or dukan nhi khali karna chahta hi .or hame or hamare parivar walo ko kafi dikat or rahi hi rahne or kamane k liye .sir pls bataye kya kare

    Reply
  12. Sir ji mere 6 Room ka makan hai
    Hamne usmese 2 Room mama ko rhne ke liye diye the mama ke merne ke bat mami apne mayke rahne chali gayi Usne apna saman room me hi chhod diya ub use room khali karne ko kaha to mana kar rahi hamne wakil ke jariye notice bhi bheja to usne return notice bheja ki jake cort me case karo aap bataye ub kya kare

    Reply
  13. sir maine ek ghar 4 mahine pahle kharida h jisme do dukane kiraye par gayi hui hai purane makan malik ke time se . makan pahle se hi damage tha ab ek din uski chhat tut gayi h. nagar palika ka bhi notice aa gaya h todne ke liye . magar kirayedar dukan khali karne ko taiyar nahi h or mere or nagar palika ke uper case bhi dal diya h. kya karu

    Reply
  14. sir, namste. mene ak dukan karaye per 11 mah ko di thi.per samay poora hone ke bad bhi kirayedar dukan khali nahi kar raha 12 mah jyada ho chuke hai.agreement ke anusar samay per dukan khali na karne per kiraye ke alawa 1 lakh rs per month extra dennge.kiraya bhi samay per nahi deta hai 3-4 mah ka baki hai. uchit salah de

    Reply
  15. 11 mahine ka ageriment tha woh kahtam ho gaya us ko nomine 3 h sister h but inkaka 1 nahi h woh khali nahi ker raha plz help me out of this

    Reply
  16. हमारा फलैट हमने किराये पर दिया था । लेकिन मकान देने के एक महीने के बाद ही उसे रेप के केस मे पूरे परिवार को पुलिस उठा कर ले गयीः।अब उनकी जमानत भी नही हो रही । न हमे किराया मिल रहा नमकान खाली करने के लिए कोई है। हमने rent aggrement और police verification दोनो करवा रखी हैं।हमे बताए मकान खाली करवाने के लिए हम कया करें।

    Reply
  17. Jan se Ek kiraydaar rakha hai jisne na to advance pura diya na hi har month rent pura de raha hai or na ki rent agreement hai or ab uska accident ho gya kit a time recovery m lagega pata nahi please suggest kya karna chahiye

    Reply
  18. Namaste 🙏 mein Mumbai se Ghatkopar West 400084, Sir jabse lock down hua tabse mein ne Rent nahi diya, or nahi lite ka bill bhara hai , kiu ki hamara kaam bandh hai iske phele kirya or lite bill barobar jata thaa, or mein ne unse kha ki or please aap or March se lock down hua hai to aap 4 mahine ruke ho please aap or saptember tak ruko mein aapko saptember tak 1 rent deti hu par ho insan nahi rukra hai ,or usne mere se 4 cheq liya hai March se lekar June tak ka, iske ilava usne. Court se notry karke meri sighn bhi liye hai mein inko pura Rent dungi, sir abhi August ke end ko room khali karke bhi dena , mein uske liye bhi raji hogai ,sir abhi mere paas dusri jagha jane ke liye bhi deposit nahi hai ,sir usme lite bill bhi mujhe 20000 aaya or pareshani hogai ho bhi ho clear karke mangra hai or mere paas kuch bhi nahi hai please aap kuch upaye bata de or humare sath koi nahi hai mein or mere 2bache 1ladki hai 10saal ki , or 1ladka 3 saal kaa pati, hum dono 1 hai isme kam karte hai 🙏sir aap kuch upay bata de ,(Thank you so much

    Reply
  19. Hamara kirayedaar pichhle 5 mahine se naa kiraya de raha hai aur naa bijli ka bill de raha hai aur naa hi ghar khaali kar raha hai
    Khaali karne ke liye bolte hai to abhadra bhasha ka use karta hai
    Police complaint ki hai to bhi kuchh nahi hua
    Kya karna chahiye

    Reply
  20. Sir jee namaskar mere ghar pe ek vakil auorat jiska aadmi usko bhaga diya hai kyuki uska chaal chalan achcha nahi tha aur uska ek 10 saal ka ladka hai aur woh log Punjab ke rahne wale hai punjabi hai ess samay toh uss kirayedar ki bahan bhi aa gyi hai uske paas usko bhi uske pati ne bhaga diya hai aur dono hamare ghar pe hi bahar side ke room mein rahti hai jo ki peshe se vakil hai par vakil kam randi jyada hai unko koi case milta hi nahi hai din bhar daaru murga khati hai rahan sahan bhi achcha nahi hai jisko ab ham kai baar bol chuke hai ki hamara makaan khali kar do par woh khalli nahi kar rahi hai aur hamne bhi koi agreement nahi karwaya toh ab kya kare plz sir aap hi bataye

    Reply
  21. Hamara kirayedar 3 months se na to rent de raha hai na ghar aa raha hai. Hamara number bhi block kar rakha hai. Hum usse contact bhi nai kar pa rahe hai. Ghar me samaan bhi pada hai. Uski ghar ki chabi bhi hamare pas hi hai.. Kya kara jaye????

    Reply
  22. सर मेरी दोस्त कि दुकान है जिसका १० साल का रजिस्टर एग्रीमेंट कोट से था वोह २००६ मे पुरा हो गया बाद मे मकान मालिक के उसे रिन्यूअल कर दिया एग्रीमेंट में 5 साल १०% बढाने कि बात लिखा है और लिखा है कि आगे केरादारी हमेशा चलती रहेगी लेकिन हर ५ साल के बाद उस समय के किराये के दर मे १०% का इजाफा हो जायेगा ।जो कि हर ५ साल पर बढा कर देते आया है और केराया भी बराबर देता आया है पर ३ महीने से मकान मालिक केराया लेना बंद कर दिये है बोल रहे है कि मकान टैक्स बढ गया है इस लिये केराया ३ गुना कर रहे है और कह रहे है कि एग्रीमेंट में 5 साल १०% बढाने कि बात जो लिखा है उसके जगह हर ५साल पर २०% बढा कर ३ गुऩा बढे हुऐ केराये पर देना होगा ३ महीने से कराया नही लिया है ।उसके पिता जी कोर्ट नही जाना चाहते कोई और उपाये है ।

    Reply
  23. Sir ek proparty ke hum panch Bhai h or ek Bhai ne bagear Koi likhi padat ke wo property rent pr dedi 9saal ho gaye lekin wo Khali nhi kr raha Kya kare

    Reply
  24. Sir main 15 year se shop rent par le h bina agreement ke rent time par deta hu shop owner jabardasti shop Khali kra rha h Maine stay liya h shop owner ne jutha case kar diya Maine six years se rent nahi diya kya kru sir please help me

    Reply
    • Aapna paksha majboot krne ke liye aapko saboot aur gavaho ki jarurat padegi. Tabhi aap sabit kr payege ki aapne time se rent diya hai. Aap kisi achhe vakeel ki help lijiye. Sab suljha jayega.

      Reply
  25. sir maine mere friend ko room dilya tha jis makan main rheta hu mere dost ne time pr rent diya lakin hum garmi ki vase se uper chat pr so gay the main bhi mere dost ko room dilane se phele sotha tha lakin mere kuch bhi nhi kha tha or humko kisi type ka makan malik ne rule ke bare main batya ki yha ka rule esa hai ki aap uper chat prr nhi ja sakte main daily chat pr jatta tha or makan malik ko uncle untji lo bhi pta tha ki ye log khana khake chat pr ghumane jate hai ek din acchanak chat pr jane wala gate laga diya khola bhi nhi humne bola ki bhai ye gate kyu laga diya kha ki meri margi laga diya to laga diya humne room subida ke according liya tha lakin humko kisi type ki subhi da nhi di ab suddenly room khali karne ke liye bol rhe hjai or hamari examaugust ya sept me start hone wali hai ab sir humko room mil nhi rha mil bhi rha hai to wo bhi bhut mhenaga sir tin logo ko 7000rupe main ab btao sir hum itna mhena room kase le sakte hai koi govet. servent to hai nhi hum humne kise type ki galti bhi nhi ki kisi type debate ya fight nhi ki balki humne esa bola tha room lene se phele ki room khali karana hai to two monthely phele bol dena laki sie vo man hi nhi rhe kya kare sie aap btao sir is problem ka solution hamari help kro sir

    Reply

Leave a Comment