Forest Guard Kaise Bane? फारेस्ट गार्ड भर्ती, वेतन, योग्यता, तैयारी कैसे करे

ढेरों ऐसे छात्र होते हैं जिनकी जंगलों में और जीवो में बहुत रुचि होती है। वह कुछ ऐसा काम करना चाहते हैं जिससे कि उनका सीधे सीधे पौधों, जीव जंतुओं से जुड़ाव रहे। क्या आप भी ऐसे ही लोगों में ही शामिल हैं? तो दोस्तों, देर किस बात की? आप भी फारेस्ट गार्ड (Forest guard) यानी वन संरक्षक बनकर थोड़ी सी मेहनत से अपना सपना साकार कर सकते हैं। और सबसे बड़ी बात यह है कि इसके लिए आपको बहुत ज्यादा पढ़ाई करने की भी जरूरत नहीं है। केवल 12वीं पास करनी होगी। है न अच्छी बात। काम भी रुचि का और पढ़ना भी ज्यादा नहीं।

तो दोस्तों, आज इस post के जरिए हम आपको बताएंगे कि फॉरेस्ट गार्ड कैसे बनें? और इसकी तैयारी कैसे करें? किन बिंदुओं पर ध्यान केंद्रित करें? इनके अलावा अन्य कई ऐसे सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे, जो परीक्षा की तैयारी के दौरान आपके दिमाग में खड़े हो सकते हैं। दोस्तों, आपको बस ये सारी post ध्यान से पढ़नी होगी। आइए, शुरू करते हैं-

Forest guard क्या करता है?

इससे पहले कि हम आपको यह बताएं कि फॉरेस्ट गार्ड कैसे बनें, आपके लिए सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि फॉरेस्ट गार्ड क्या होता है? वह क्या करता है? तो साथियों, आपको बता दें कि फॉरेस्ट गार्ड किसी देश या राज्य के जंगल में पेड़-पौधों और जीव-जंतुओं की सुरक्षा का काम करते हैं। दोस्तों, यह काम बहुत अहम है और इसे तमाम खतरे के बीच बेहद जिम्मेदारी के साथ अंजाम देना होता है। अब आप पूछेंगे खतरा कैसा?

तो दोस्तों, जैसा कि आप जानते हैं कि जंगल में कीमती लकड़ी और जीवों की खाल और दांत के कई सौदागर सक्रिय रहते हैं। ऐसे में अक्सर फारेस्ट गार्ड की जान पर खतरा भी होता है। उम्मीद है अब आप इनके काम की अहमियत समझ गए होंगे।

Forest Guard बनने के लिए जरूरी योग्यता क्या है?

अब हम आपको यह बताएंगे कि Forest Guard बनने के लिए जरूरी योग्यताएं क्या क्या हैं। सबसे पहले बात करते हैं शैक्षिक योग्यता की। हम इस बारे में जैसे कि आपको पहले ही बता चुके हैं, वनरक्षक यानी फॉरेस्ट गार्ड बनने के लिए आपको 12 वीं पास होना जरूरी है। साथियों, यदि हम उम्र की बात करें तो Forest Guard बनने के लिए आवेदन करने की उम्र अलग-अलग राज्यों में अलग है।

Forest Guard Kaise Bane? फारेस्ट गार्ड भर्ती, वेतन, योग्यता, तैयारी कैसे करे

कहीं यह आयु न्यूनतम 18 साल से लेकर अधिकतम 28 साल के बीच है तो कुछ राज्यों में इस पद के लिए आवेदन की उम्र 18 साल से लेकर 23 साल रखी गई है। वहीं, किसी राज्य में फारेस्ट गार्ड के रूप में भर्ती की उम्र 18 साल से 27 साल के बीच भी है।

Forest Guard की आवेदन और परीक्षा दोनों आनलाइन –

प्रिय साथियों, आपको यह जानना बेहद जरूरी है कि इस वक्त यह परीक्षा ऑनलाइन माध्यम से आयोजित की जाती है। यानी अब सीबीटी यानी कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट हो रहा है। इसके लिए आवेदन भी आनलाइन ही करना होता है।

Forest Guard आवेदन शुल्क में आरक्षित वर्ग को नियमानुसार छूट –

फारेस्ट गार्ड की सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को भर्ती के लिए आवेदन करने के लिए 100 रुपए बतौर आवेदन शुल्क चुकाना होगा। जबकि महिलाओं को और अनुसूचित जाति के साथ ही अनुसूचित जनजाति वर्ग के परीक्षार्थियों को आवेदन शुल्क नहीं देना होगा। आपको बता दें कि दिल्ली के वन एवं वन्य जीव विभाग में फारेस्ट गार्ड की भर्ती के लिए हाल ही में परीक्षा आयोजित की गई है, जबकि जल्दी ही राजस्थान में भी ढेरों पदों के लिए भर्ती की बात कही जा रही है।

आयु सीमा (Age Limit)

Forest Guard बनने के लिए अभ्यर्थी की आयु 18 वर्ष से 28 वर्ष के बीच में होनी चाहिए। आरक्षित श्रेणी के अभ्यर्थी को नियमानुसार छूट प्रदान की जाती है।

Forest Guard बनने के लिए होती है लिखित परीक्षा

फॉरेस्ट गार्ड बनने के लिए अभ्यर्थियों को एक लिखित परीक्षा देनी होती है। वन विभाग फारेस्ट गार्ड के रिक्त पदों को राज्य कर्मचारी चयन आयोग को भेजता है और आयोग यह परीक्षा आयोजित कराता है। अभ्यर्थी को यह लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करने पर फिजिकल टेस्ट के लिए बुलाया जाता है। उसे विशेषज्ञ की देखरेख में यह टेस्ट देना होता है।

इस टेस्ट के जरिए मूल रूप से अभ्यर्थी का एंड्यूरेंस टेस्ट होता है। इसमें चार घंटे में पुरुष अभ्यर्थी को 25 किलोमीटर, जबकि महिला अभ्यर्थी को 14 किलोमीटर की दौड़ पूरी करनी होती है। फिजिकल टेस्ट में खरा उतरने के बाद एक मेडिकल टेस्ट किया जाता है। इसके बाद इंटरव्यू किया जाता है और चुने गए अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र भेज दिया जाता है।

Forest Guard परीक्षा पैटर्न क्या है?

अब हम आपको फारेस्ट गार्ड भर्ती परीक्षा पैटर्न के बारे में जानकारी देंगे। दोस्तों, लिखित परीक्षा साल में एक बार आयोजित की जाती है। इसमें एक 2 घंटे का पेपर होता है। पेपर में 100 बहुविकल्पीय प्रश्न आते हैं। पेपर के चार भाग होते हैं। पहले भाग में 30 प्रश्न आते हैं, जो सामान्य ज्ञान पर आधारित होते हैं। पेपर के दूसरे भाग में परीक्षार्थियों को 25 प्रश्नों का जवाब देना होता है, जो कि गणित से संबंधित होते हैं।

पेपर का तीसरा भाग भी 25 अंकों का होता है। और दोस्तों इस भाग में पर्यावरण, जंगल और विज्ञान, पारिस्थितिकी जैव विविधता से जुड़े प्रश्न आते हैं। पेपर के चौथे भाग में 20 प्रश्न आते हैं, जो कि हिंदी से जुड़े होते हैं। इसमें परीक्षार्थी के हिंदी ज्ञान का परीक्षण होता है।

Forest Guard परीक्षा में होती है माइनस मार्किंग

दोस्तों, आपको यह भी बता दें कि इस परीक्षा में माइनस मार्किंग होती है। जैसा कि आप जानते हैं कि इसका अर्थ यह है कि अगर आप कोई गलत जवाब देते हैं तो बदले में आपका सही जवाब का अंक काट लिया जाएगा। इसलिए परीक्षा देते हुए यह सावधानी जरूर बरतें कि जिस सवाल का जवाब आपको न मालूम हो तो उसे छोड़ दें। बजाय इसके कि गलत जवाब लिखें और अपने अंक कटा लें। दोस्तों, ढेरों परीक्षार्थी परीक्षा में तुक्का मारते हैं, आपको ऐसा करने की जरूरत कतई नहीं है।

Forest Guard परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

मित्रों, अब हम आपको बताएंगे कि Forest Guard बनने के लिए परीक्षा की तैयारी कैसे करें। आपको बता दें कि इस परीक्षा को पास करना कोई बहुत मुश्किल काम नहीं है। अगर आप थोड़ी सी योजना बनाकर पढ़ाई करते हैं और लगातार प्रैक्टिस करते हैं तो फॉरेस्ट गार्ड बनने में सफल हो सकते हैं। इस परीक्षा की तैयारी के लिए कुछ बेहद जरूरी टिप्स इस प्रकार से हैं-

  • दोस्तों, सबसे बड़ा जो सूत्र है, वह यह है कि पाठ्यक्रम के अनुसार पढ़ाई करें। जैसा कि हम आपको ऊपर बता चुके हैं कि परीक्षा आनलाइन होती है, सबसे पहले पाठ्यक्रम डाउनलोड कर लें।
  • अब आप अपनी तैयारी क्षमता के लिहाज से इसे अलग अलग हिस्सों में तोड़ लें। इससे पढ़ना आसान हो जाएगा।
  • इसके बाद अपना टाइम टेबल तैयार करें। जिस विषय में ज्यादा तैयारी की जरूरत हो, उसके लिए अधिक समय रखें। इससे आपको मदद होगी। जैसे कई लोगों की गणित अच्छी नहीं होती, उन्हें इसके लिए ज्यादा तैयारी की जरूरत होती है, ऐसे में तो वह गणित को अधिक समय दे सकते हैं।
  • दोस्तों, आप पुराने प्रश्न पत्र हासिल कर उन्हें ज्यादा से ज्यादा हल करें। जितनी आपको इन पेपर को हल करने की प्रैक्टिस होगी, उतना ज्यादा सही रहेगा। आपको परीक्षा के दौरान दो घंटे में पेपर हल करने में ज्यादा दिक्कत नहीं होगी।
  • मित्रों, आपको यह भी बता दें कि इसमें जो गणित की परीक्षा होती है, वह दसवीं के स्तर का आता है। आप आसानी से थोड़े दिन ध्यान देकर सारे सवाल आसानी हल कर सकते हैं।
  • इसके अलावा सामान्य ज्ञान को मजबूत करने के लिए आप रेगुलर टीवी देख सकते हैं या इंटरनेट का फायदा भी उठा सकते हैं। हर रोज समाचारों पर आप नजर रखें। यह आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा।
  • इस परीक्षा को पास करने के लिए रेगुलर स्टडी बहुत जरूरी है।
  • एक सावधानी भी बरतें और वो ये कि किसी भी तरह के भुलावे में ना पड़ें। अगर कोई भी आपको यह भरोसा दिलाए कि वह आपको परीक्षा पास करा सकता है तो उसके धोखे में न आएं। यह अवैध है। ऐसे में आपका भविष्य भी खराब हो सकता है।

विभागीय परीक्षाओं के आधार पर प्रोन्नति

दोस्तों, अगर कोई युवा वन विभाग में वनरक्षक यानी फॉरेस्ट गार्ड बनने के बाद आगे बढ़ना चाहते हैं तो उसके भी भरपूर मौके हैं। वह यदि ग्रेजुएशन कर लेता है तो इसके बाद वह डिपार्टमेंटल एग्जाम्स में बैठकर आगे के पदों तक जा सकते हैं। जहां तनख्वाह की बेहतरी के साथ साथ काम करने के भी भरपूर मौके मिल सकते हैं।

दोस्तों, ऐसे कई प्रतियोगी हैं, जो फारेस्ट गार्ड के रूप में भर्ती होकर वन और वन्य जीव विभाग में उच्च पदों तक पहुंचे हैं। ढेरों ऐसे भी हैं, जो 12वीं कक्षा में पहुंचने के साथ ही सामान्य ज्ञान की तैयारी के साथ ही फिजिकल टेस्ट के लिए भी भाग दौड़ शुरू कर देते हैं।

वेतन (Salary)

एक फारेस्ट गार्ड का मासिक वेतन 21600 रुपये से 40050 रुपये के बीच में होता है |

जितना महत्वपूर्ण, उतना ही खतरे से भरा कार्य

साथियों, फॉरेस्ट गार्ड का काम जितना महत्वपूर्ण है, उतना ही खतरे से भरा भी है। हर साल ढेरों लकड़ी तस्कर, वन तस्कर, हाथी दांत के तस्कर जंगलों और जीव-जंतुओं को नुकसान पहुंचाने की मंशा से वारदातों को अंजाम देते हैं। उस वक्त फॉरेस्ट गार्ड ही फॉरेस्ट की रक्षा करते हैं और कई बार तो वह लड़ते-लड़ते चोटिल होते हैं या फिर अपनी जान भी गंवा देते हैं। कई जगह ऐसा भी है कि फॉरेस्ट गार्ड को अपनी रक्षा के लिए राइफल तक नहीं मिलती। वह डंडे के सहारे अपनी ड्यूटी को पूरा करते हैं। इसके बावजूद वह अलर्ट रहते हैं।

दोस्तों कई बार काम करते वक्त जंगली, जानवरों का भी खतरा रहता है जैसे हाल ही में उत्तराखंड में गुलदार ने वनरक्षक को अपना शिकार बना लिया था इसके बावजूद फॉरेस्ट गार्ड बनने वालों की संख्या में कोई कमी नहीं है। क्योंकि यह काम जज्बे से भी जुड़ा है। आप यह भी जान लीजिए कि खासतौर पर उन राज्यों में जहां पर वन प्रतिशत बहुत ज्यादा है। वनरक्षक यानी फॉरेस्ट गार्ड का काम और अहम हो जाता है। जैसे कि उत्तराखंड, जहां 63% जंगल ही जंगल है। यहां पर जंगलों की सुरक्षा एक बड़ा काम है। इसीलिए वन विभाग अपनी जरूरत के मुताबिक फॉरेस्ट गार्ड की भर्ती को अंजाम देता है।

विवाद में रहा फारेस्ट गार्ड भर्ती परीक्षा में नकल का मामला

दोस्तों, फॉरेस्ट गार्ड भर्ती परीक्षा में कई तरह के घोटाले भी सामने आए हैं। जैसे हाल ही में उत्तराखंड का फारेस्ट भर्ती परीक्षा के दौरान नकल का मामला बेहद चर्चाओं में रहा। यहां पर सामने आया था कि कुछ कोचिंग सेंटर के संचालक परीक्षा के दौरान गड़बड़ियां करा रहे थे। उन्होंने चार चार लाख रुपए लेकर परीक्षा पास करने का भरोसा दिलाया था। एक पूरा गैंग सक्रिय था, जो ब्लू टूथ के जरिए नकल करा रहा था। इस मामले में कई आरोपी धरे गए। अभी इस मामले की जांच की जा रही है।

तो मित्रों, यह थी फॉरेस्ट गार्ड के बारे में वह सारी जानकारी, जो कि कोई भी परीक्षार्थी जानने का इच्छुक हो सकता है। अगर आप किसी अन्य बिंदु पर हमसे कोई जानकारी चाहते हैं तो उसके लिए नीचे दिए गए comment box में comment करके अपने सवाल हम तक पहुंचा सकते हैं। हम उनका जवाब देने की पूरी पूरी कोशिश करेंगे।

इसके अलावा अगर किसी और विषय पर आप को जानने के इच्छुक हैं तो उसके लिए भी नीचे दिए गए comment box में comment करके हम तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं। आपको संबंधित विषय में जानकारी देने का हमारा पूरा पूरा प्रयास रहेगा। आपकी प्रतिक्रियाओं का हमें शिद्दत से इंतजार है। ।।धन्यवाद।।

Spread the love

Leave a Comment