[2000 रू] Farishte Dilli Ke Yojana में Apply कैसे करें? दिल्ली फरिश्ते योजना 2019

Farishte Dilli Ke Yojana in Hindi : आज से ठीक 2 साल पहले दिल्‍ली में एक बहुत ही अच्‍छी और महत्‍वाकांक्षी योजना लागू की गयी थी। Farishte Dilli Ke जिसका उद्देश्य सड़क दुर्घटना में घायल व्‍यक्ति को सबसे नजदीकी अस्‍पताल तक पहुंचना है।

दिल्‍ली सरकार की यह योजना बहुत ही अच्‍छी है। इस योजना का लाभ अब तक दिल्‍ली के 3000 से अधिक लोगों को मिल चुका है।

जैसा कि हम सभी जानते हैं, कि दिल्‍ली की सड़कें बहुत खतरनाक हैं। यहां आये दिन Accident होते रहते हैं। जिसके कारण हजारों की संख्‍या में लोगों की बेमौत मौत हो जाती है।

Farishte Dilli Ke Yojana इसी बात को ध्‍यान में रखते हुये दिल्‍ली सरकार सरकार के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राज्‍य में Farishte Dilli Ke नाम की योजना शुरू की थी।

लेकिन दुर्भाग्‍य से इस योजना का प्रचार प्रसार ठीक ढंग से नहीं हो पाया था। जिसके कारण फरिश्‍ते दिल्‍ली के योजना की जानकारी जन जन तक नहीं पहुंच पाई थी।

लेकिन पिछले कुछ समय से दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री ने इस योजना के प्रचार प्रसार का बीड़ा स्‍वयं उठा लिया है। जिसके बाद से बड़ी तादात में लोग इस योजना का लाभ उठा रहे हैं।

Farishte Dilli Ke Yojana Kya Hai? दिल्‍ली फरिश्‍ते योजना हिंदी में जानें

Farishte Dilli Ke Yojana (फरिश्‍ते दिल्‍ली के) के तहत Road Accident में घायल या फिर आग लगने से बुरी तरह जल चुके व्‍यक्ति को अस्‍पताल में भर्ती करा कर उसको समय से इलाज देने के लिये शुरू की गयी है।

दिल्‍ली को दिलवालों का शहर भी कहा जाता है। इसीलिये लोग कहते हैं कि ‘’दिल्‍ली दिलवालों की’’ लेकिन समय के बदलने के साथ ही दिल्‍ली वालों के अंदर बड़ा बदलाव देखने को मिला है।

यह बदलाव दिल्‍ली वालों की मानवीय संवेदनाओं से जुड़ा हुआ है। अब देखने में यह आता है कि यदि दिल्‍ली की सड़कों पर यदि कोई Accident हो जाता है।

तो दुर्घटना में घायल पड़ा व्‍यक्ति दर्द से तड़पता रहता है लेकिन कोई भी उसकी मदत करने के लिये सामने नहीं आता है। ऐसे में दुर्घटना का शिकार हुये व्‍यक्ति की असमय ही मौत हो जाती है।

असल में इस प्रकार की मानसिकता के पीछे जो सबसे बड़ा कारण पुलिस का उत्‍पीडि़नात्‍मक रवैया है। देखा यह जाता है कि जब कोई व्‍यक्ति किसी घायल की मदत करने के मकसद से अस्‍पताल पहुंचाता है।

तो उससे तरह के तरह के सवाल अस्‍पताल तथा पुलिस प्रशासन की ओर से किये जाते हैं। कई बार तो अस्‍पताल पहुंचाने वाले मदतगार के ऊपर ही मुकदमा पंजीकृत करके उसे जेल भेज दिया जाता है।

इसी बात को ध्‍यान में रखते हुये दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने Farishte Dilli Ke Yojana शुरू की है। इस योजना की गाइडलाइन में स्‍पष्‍ट लिखा हुआ है, कि अस्‍पताल पहुंचाने वाले मदतगार से पुलिस किसी प्रकार का कोई भी सवाल नहीं करेगी।

साथ ही जो भी फरिश्‍ता घायल को अस्‍पताल पहुंचा कर उसकी जान बचायेगा उसे सरकार की ओर से 2000 रूपये तथा Certificate देकर सम्‍मानित भी किया जाएगा।

Also Read :

Farishte Dilli Ke Yojana के मुख्‍य उद्देश्य

  • फरिश्‍ते दिल्‍ली के योजना का मुख्‍य उद्देश्य दिल्‍ली के लोगों के अंदर मानवीय संवेदनाओं तथा मानवीय मूल्‍यों की ज्‍योति जागृत करना है।
  • सरकार मंशा के अनुरूप घायलों को अस्‍पताल पहुंचानें वाले व्‍यक्ति को प्रमाण पत्र तथा 2000 रूपये की प्रोत्‍साहन राशि देकर उसका मनोबल बढ़ाना है।
  • लोगों के मन से इस डर को बाहर निकाल फेंकना है कि यदि वह किसी घायल की मदत करेंगें तो उन्‍हें पुलिस स्‍टेशन के चक्‍कर काटने पड़ेंगें।
  • पुलिस का खौफ बाहर निकाल कर लोगों को दूसरों की मदत करने के लिये प्रोत्‍साहित करना है।
  • सड़क दुर्घटना अथवा आग से झुलसे व्‍यक्ति को समय पर इलाज उपलब्‍ध कराना और उस इलाज पर आने वाले संपूर्णं ,खर्च को सरकार के द्धारा वहन करना है।
  • घायलों की मदत करने वाले Delhi Farishte को पुलिसिया कार्रवाही से दूर रखना है।

Benefits of Farishte Dilli Ke Scheme (फरिश्‍ते दिल्‍ली के योजना के लाभ)

  • दिल्‍ली सरकार की Farishte Dilli Ke Scheme के तहत घायल को अस्‍पताल पहुंचानें वाले मदतगार को 2 हजार रूपये की प्रोत्‍साहन राशि प्रदान की जाएगी।
  • घायल व्‍यक्ति को कागजी कार्रवाही से मुक्ति मिल जाएगी।
  • फरिश्‍ते दिल्‍ली के तहत मदत करने वाले व्‍यक्ति को प्रमाण पत्र देकर सम्‍मानित भी किया जाएगा।
  • घायल के इलाज का खर्च कितना भी हो, उसे सरकार की ओर से वहन किया जाएगा। यह राशि हजारों से लेकर लाखों रूपये तक हो सकती है।
  • दिल्‍ली की सड़कों पर होने वाले Road Accident में मरने वाले लोगों तादात में कमी आएगी।
  • घायलों का इलाज सिर्फ सरकारी अस्‍पताल में न होकर निजी अस्‍पताल में भी संभव हो सकेगा।

Delhi Farishte योजना के तहत Documents कब और क्‍यों देने होंगें?

फरिश्‍ते दिल्‍ली के योजना के तहत घायल को अस्‍पताल तक पहुंचानें वाले व्‍यक्ति को अपनी पहचान का दस्‍तावेज देना होगा। यह दस्‍तावेज उससे तुरंत नहीं मांगा जा सकेगा।

घायल को अस्‍पताल में भर्ती कराने के बाद मदतगार व्‍यक्ति कभी भी अपना पहचान पत्र अस्‍पातल के ए‍डमिनिस्‍ट्रेशन डिपार्टमेंट मे जमा करा सकता है।

Delhi Farishte के इसी पहचान पत्र के आधार पर उसे 2000 रूपये की प्रोत्‍साहन राशि प्रदान की जाएगी। इसलिये बिना डरे व बिना किसी झिझक के अपना पहचान पत्र अस्‍पताल में जमा करायें।

इसके अलावा घायल व्‍यक्ति को भी अपना पहचान पत्र देना होगा। लेकिन उससे यह पहचान पत्र तब मांगा जा सकेगा, जब उसका इलाज पूरा हो जाएगा और वह स्‍वस्‍थ हो जाएगा।

Delhi Farishte Reward कब मिलेगा?

Farishte Dilli Ke Scheme के तहत मदतगार व्‍यक्ति को Reward पहचान पत्र जमा करने के कुछ समय बाद प्रदान किया जाएगा। ईनाम की राशि 2 हजार रूपये होगी तथा दिल्‍ली फरिश्‍ते प्रमाण पत्र देकर भी उसका सम्‍मान दिल्‍ली सरकार के द्धारा किया जाएगा।

Farishte Dilli Ke Yojana में Apply कैसे करें?

इस योजना में आवेदन करने के लिये आपको अधिक मेहनत नहीं करनी होगी। आपको सिर्फ इतना करना है, कि जब भी कोई घायल व्‍यक्ति सड़क पर पड़ा दिखाई पड़े।

आप उसे उठा कर सबसे नजदीकी अस्‍पताल मे ले जायें। जिसके बाद Apply करने की पूरी प्रक्रिया अस्‍पताल में ही की जाएगी।

अस्‍पताल घायल को बिना शर्त अस्‍पताल में भर्ती करेगा और आपसे पहचान पत्र मांगेंगा। आप अपना पहचान पत्र कभी भी अपनी सुविधा के अनुसार अस्‍पताल में जमा कर सकते हैं।

जिसके बाद आपका डाटा अस्‍पताल के द्धारा सरकार तक पहुचाया जाएगा और फिर आपको प्रोत्‍साहन राशि जारी की जाएगी।

दोस्‍तों यह थी हमारी Farishte Dilli Ke Yojana जिसके बारे में आपको विस्‍तार से जानकारी दी गयी है। यदि आप Delhi Farishte Certificate आदि के बारे में और अधिक जानकारी चाहते हैं, तो कमेंट बॉक्‍स के जरिये हम से पूछ सकते हैं।

Leave a Comment