Dimag tej kaise kare? दिमाग तेज करने के 15 तरीके

दिमाग से आप क्या समझते हैं? क्या कोई सही नंबर ले आया या काम जल्दी कर (Dimag tej kaise kare) दिया तो इसे हम क्या कहेंगे और वही कोई व्यक्ति चीज़ों को समझने में देर लगाता हैं तो उसे हम क्या कहेंगे। इस मामले में सभी पहले वाले व्यक्ति को (Dimag tej karne ke liye kya khayen) तेज दिमाग वाला तो वही दूसरे वाले को कम दिमाग वाला कहेंगे। ऐसे में दिमाग तेज करने के लिए हमे क्या करना चाहिए?

यदि आपको भी चीज़ों को समझने में और फिर उसे करने में समय लगता हैं तो ऐसे में आपको अपने दिमाग को तेज करना चाहिए। दिमाग को तेज करने के लिए (Dimag tej karne ke liye kya karen) बहुत सारे तरीके हैं जिन्हें आपका फॉलो करना चाहिए और बहुत सी ऐसी चीज़े हैं जिन्हें आपको अभी से करना छोड़ देना चाहिए। आइए आज हम बात करेंगे कि किन तरीकों से दिमाग को तेज किया जा सकता हैं।

दिमाग तेज कैसे करें (Dimag tej kaise kare)

दिमाग तेज करने के लिए सबसे पहले आपको अपने खानपान में बदलाव लाने की आवश्यकता हैं। यदि आप सही भोजन करेंगे तो अवश्य ही आपका दिमाग तेज दौड़ेगा और वही यदि आप गलत खानपान करेंगे तो अवश्य ही इससे आपका दिमाग पहले की तुलना में कम काम करेगा। तो चलिए जानते हैं दिमाग को तेज करने के लिए क्या खाना चाहिए और क्या नही।

Dimag tej kaise kare
Dimag tej kaise kare

दिमाग तेज करने के लिए क्या खाएं (Dimag tej karne ke liye kya khayen)

#1. बादाम

हम अक्सर ही अपनी दादी या नानी से सुबह के समय बादाम खाने को कहते हुए सुनते हैं। हमारी माँ की भी यही आदत होती हैं कि वे रात को एक बर्तन में कुछ बादाम भिगोने के लिए छोड़ देती हैं और सुबह उन्हें छीलकर आपको खाने को देती हैं।

अब आप बचपन में तो अपनी माँ के दिए बादाम चाहे मुहं फुलाकर या मजे में खा लेते होंगे लेकिन बड़े होने पर आपको इस चीज़ का ध्यान स्वयं ही रखना पड़ेगा। दरअसल दिमाग को तेज करने में बादाम का बहुत बड़ा योगदान होता हैं। इसलिए आगे से सुबह उठकर सबसे पहले भीगे हुए बादाम का सेवन करने का नियम बनाएं।

#2. गाय का घी

आजकल लोग सोचते हैं कि ज्यादा घी खाने से उनके शरीर में मोटापा आ जाएगा जो कि सही नही हैं। यदि आपके मन में भी ऐसे ही विचार हैं तो उसे आज से ही निकाल दे। दरअसल गाय का शुद्ध देसी घी ना केवल आपके दिमाग को तेज करेगा बल्कि आपकी हड्डियों को भी मजबूत बनाएगा।

ऐसे में यदि आप चाहते हैं कि आगे चलकर बुढ़ापे में आपके घुटने दर्द ना करें या चलने फिरने में दिक्कत ना आये तो घी खाने से परहेज ना करें। यही घी आपकी याददाश्त को बढ़ाने का भी काम करेगा।

#3. हरी सब्जियां

जब हम स्कूल में थे तब अक्सर पुस्तकों में हरी सब्जियां खाने के कई गुण बनाते जाते थे और हमारे अध्यापक भी हमे रोजाना हरी सब्जियां खाने की सलाह देते थे। उस समय शायद हमने इस बात पर ध्यान ना दिया हो लेकिन अब इस पर ध्यान दीजिए।

यही हरी सब्जियां हमारे शरीर में कई तरह के विटामिन व प्रोटीन की मात्रा को पूरी करती हैं और उससे हमारे दिमाग को भी सभी तरह के पोषक तत्व मिलते हैं जिस कारण वह तेज गति से दौड़ता हैं। इसलिए हरी सब्जियों को सलाद, सब्जी इत्यादि किसी भी तरीके से खाने का नियम बना ले।

#4. फल

जो लोग अपने घर से दूर रहते हैं या जिनके माता-पिता उनके साथ नही रहते वे अक्सर फलों से दूरी बना लेते हैं। उनकी दिनचर्या में या तो रोजाना की रोटी-सब्जी, चावल, पोहे इत्यादि सामान्य भोजन होगा या फिर बाहर का फ़ास्ट फूड। ऐसे में फल खाए हुए तो कई दिन निकल जाते हैं।

यदि आपके साथ भी ऐसा ही हैं तो आज से ही अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देना शुरू कर दीजिए। जो पोषक तत्व फलों से मिलते हैं वे अन्य चीज़ों से नही प्राप्त किये जा सकते हैं। हर फल का अपना अलग महत्व होता हैं और उसमे पाए जाने वाले गुण भी अलग होते हैं। ऐसे में इन फलों को अपना साथी बनाए और प्रतिदिन अलग-अलग तरह के फलों को अपने भोजन में सम्मिलित करें।

#5. नारियल

हिंदी धर्म में नारियल को एक प्रमुख स्थान प्राप्त हैं और हर पूजा या धार्मिक कार्य में इसका प्रमुख रूप से उपयोग किया जाता हैं लेकिन ऐसा क्यों? ऐसा इसलिए क्योंकि यह नारियल हमे कई तरह से लाभ पहुंचता हैं जिनमे से एक दिमाग को सही व स्वस्थ रखना होता हैं।

इसलिए आप चाहे तो कच्चा नारियल खा सकते हैं या फिर पका हुआ भी। यदि यह आपको इतना नही पसंद हैं या आप इससे रोजाना नही खा सकते हैं तो आप नारियल पानी भी सकते हैं। यह सामान्य पानी की तुलना में आपकी प्यास को जल्दी बुझाएगा और आपको स्वस्थ भी रखेगा।

दिमाग तेज करने के लिए क्या ना खाएं (Dimag ko tej karne ke liye kya na khaye)

अब तक हमने बात की कि दिमाग तेज करने के लिए आपको क्या-क्या खाना चाहिए लेकिन अब हम बात करेंगे कि इसके लिए आपको किन चीज़ों को नही खाना चाहिए क्योंकि यह भी उतना ही आवश्यक हैं।

#1. फ़ास्ट फूड को कहे ना

आज की बदलती जीवनशैली ने लोगों के जीवन को पूरी तरह से ही बदल कर रख दिया हैं। पहले हमारे आसपास फ़ास्ट फूड की एक-दो दुकाने ही हुआ करती थी लेकिन आज देखें तो हर गली मोहल्ले में फ़ास्ट फूड की कई दुकाने देखने को मिल जाएगी। वो इसलिए क्योंकि लोग इनका भरपूर मात्रा में सेवन करने लगे हैं जो उनके दिमाग के साथ-साथ उनके स्वास्थ्य को बहुत ज्यादा क्षति पहुंचा रहा हैं।

इसलिए यदि आपको भी हर एक दो दिन में फ़ास्ट फूड खाने की आदत हैं तो इसे आज से ही बंद कर दे। आप इसे एकदम से कम ना करें क्योंकि यह आपके लिए भी असंभव होगा। आप इसे धीरे-धीरे बंद करें और फिर इसे इतना कम कर दें कि आप महीने में एक बार ही इसका सेवन करे।

#2. तैलीय भोजन को कहें ना

हम भारतीयों को खासकर तेल में तली हुई चीज़े खाने की आदत हैं फिर चाहे हम कही भी हो। आप जो खाना बाहर खाते हैं जैसे कि छोले-भटूरे, पूड़ी-सब्जी, मोमोस इत्यादि जो तेल में भर-भरके तले हुए होते हैं, वे हमे इतना नुकसान पहुंचाते हैं कि कई गंभीर बिमारियों का कारण यही होते हैं।

साथ ही उन चीज़ों को ना जाने कितने पिराने तेल में बार-बार तला जाता हैं। यह खाने में अवश्य ही स्वादिष्ट लगे लेकिन जितना स्वादिष्ट उतना ही यह हमारे स्वास्थ्य ले लिए हानिकारक। इसलिए कभी आपका छोले भटूरे या पूड़ियाँ इत्यादि कहें का मन भी करें तो इन्हें घर पर ही बनाए, बजाए कि इसे बाहर से खाया जाए।

#3. पैकेट बंद फूड

आजकल लोगों से मेहनत तो की जाती नही और इसी का परिणाम हैं कि हर चीज़ पैकेट में बंद होकर आने लगी हैं फिर चाहे वह चिप्स हो, खिचिये हो या कुछ और। आप किसी भी किराने की दुकान पर चले जाइये, वहां आपको हजारों तरह की चीज़ों के पैकेट बंद लिफाफे मिल जाएंगे जिनमें ना जाने कितना ही अनाप शनाप भरा हुआ होता हैं।

दरअसल इन चीज़ों को लंबे समय तक सुरक्षित रखने और ख़राब होने से बचाए रखने के लिए इनमे हानिकारक चीज़े मिलाई जाती हैं और साथ ही इनमे नमक की मात्रा भी आवश्यकता से बहुत अधिक होती हैं। हालाँकि कभी-कभार इनका सेवन इतना हानिकारक नही होता हैं लेकिन यदि आप इनका सेवन प्रतिदिन करेंगे तो अवश्य ही यह आपके दिमाग को कमजोर कर देंगे।

#4. मसालेदार भोजन

दूसरी गलती जो हम भारतीय करते हैं वह हैं अधिक जायकेदार या मसाले से भरा हुआ भोजन करना। दरअसल हम भारतीयों की पहचान ही हैं मसाले और उनसे बना भोजन लेकिन इसका अटलब यह नही कि सारा मसाला हम ही खा जाए, थोड़ा बहुत हमे बाकि दुनिया के लिए भी बचाकर रख लेना चाहिए।

इसलिए ज्यादा मसाले अपने भोजन में ना डाले क्योंकि इससे ना केवल आपका दिमाग कमजोर होगा बल्कि गैस, जलन, अपच इत्यादि की समस्या भी देखने को मिलेगी।

#5. बांसी खाना

जब से हमारे जीवन में फ्रिज आया हैं तब से हमे बांसी खाना कहे की मानों आदत सी पड़ गयी हैं। फिर चाहे वह पिछले दिन का बचा हुआ भोजन हो या कुछ और। ऐसे में यह बांसी भोजन चाहे जैसा भी हो लेकिन यह अप्रत्यक्ष रूप से हमारे शरीर को नुकसान पहुंचता हैं और यदि शरीर को नुकसान तो अवश्य ही दिमाग को भी नुकसान।

इसलिए आप एक बार में उतना ही खाना बनाएं जितना उस समय खाया जा सके। बचे हुए भोजन को किसी को दे दे या फिर पशु को खिला दे। इसे बाद में खाने का नियम ना बनाएं।

दिमाग तेज करने के लिए घरेलू उपाय (Dimag tej karne ke upay)

अब तक हमने बात की कि दिमाग तेज करने के लिए आपको किन चीज़ों का आवश्यक रूप से सेवन करना चाहिए और किन चीज़ों को अभी से छोड़ देना चाहिए। अब हम बात करेंगे उन घरेलू उपायों की जो आपके दिमाग को पहले की अपेक्षा बहुत तेज बना देंगे।

#1. दही व केले का मिश्रण

यदि आप अपने दिमाग को तेज करने को लेकर सच में सीरियस हैं तो आप दही व केले के मिश्रण का घरेलू उपाय अपना सकते हैं। इसके लिए एक कटोरी दही ले और उसमे एक केला अच्छे से मैश कर ले। इन दोनों को अच्छे से फेंटकर एक मिश्रण तैयार कर ले। इस मिश्रण को सुबह के समय नाश्ते के समय पी जाएँ। ऐसा आप सप्ताह में दो से तीन बार करे। फिर देखिये कमाल। कुछ ही दिनों में आप पाएंगे कि आपका दिमाग पहले की तुलना में तेजी से काम करने लगा हैं।

#2. नींद पूरी करें

एक व्यस्क मनुष्य को एक दिन में 7 से 8 घंटे नींद लेने की आवश्यकता होती हैं लेकिन आजकल की भागती दौड़ती जिंदगी ने हम सभी को बहुत व्यस्त कर दिया हैं। अब हमे 7 से 8 घंटे की नींद लेना भी नागवार गुजरता हैं और हम 5 से 6 घंटे ही सो पाते हैं। साथ ही रासी सही कसर सोशल मीडिया पूरी कर देता हैं। जिस समय हम बेड पर सोने जाते हैं उस समय हम अपने मोबाइल सोशल मीडिया चलाकर बैठ जाते हैं और फिर उसी में कब आधा या एक घंटा निकल जाता हैं पता ही नही चलता।

ऐसे में यदि आप भी देर से सोकर जल्दी उठ जाते हैं और ऐसे में आपकी नींद पूरी नही हो पाती हैं तो यह आपके दिमाग को धीरे-धीरे निष्क्रिय बनाने लगती हैं और दिमाग जल्दी बूढा हो जाता हैं वो अलग। इसलिए अज से ही यह नियम बना ले कि चाहे कुछ भी हो जाए लेकिन आपको अपनी नींद पूरी करनी हैं और वह भी कम इ कम 7 घंटे और ज्यादा से ज्यादा 8 घंटे।

#3. योग करें

एक समय था जब योग की महत्ता को बहुत कम लोग ही पहचानते हैं लेकिन अब इसकी महत्ता के आगे सभी तत्मस्तक हैं। योग भारतीय संस्कृति के द्वारा दुनिया को एक ऐसा उपहार हैं जिसे चाहकर भी कोई नही झुठला सकता। योग से ना केवल आप अपने दिमाग को तेज बना सकते हैं अपितु आप शारीरिक, मानसिक व भावनातमक रूप से स्वयं को एक दम फिर बना सकते हैं।

योग में ऐसी शक्ति हैं जो आपको सबसे अलग व अद्भुत बना देगी। इसलिए सुबह के समय जल्दी उठें और कम से कम 1 घंटा योग करने का नियम बना के। कुछ ही दिनों में आपको यह पता चल जाएगा कि आपके अंदर क्या बदलाव आने लगे हैं। फिर ना केवल आप चीज़ों को जल्दी से समझ पाएंगे और कर पाएंगे बल्कि आपके दिमाग में अन्य सकारात्मक व रचनात्मक विचार भी आने लगेंगे।

#4. संगीत सुने

दिमाग को तेज करने के लिए उसका स्वस्थ व शांत रहना भी अति-आवश्यक हैं। रोजाना हमारे दिमाग में कई तरह की चीज़े भरी रहती हैं, कुछ ना कुछ उसमे चलता ही रहता हैं, कुछ ना कुछ वह सोचता ही रहता हैं या कुछ ना कुछ काम वह करता ही रहता हैं, ऐसे में उसे आराम कब मिलेगा?

इसलिए यह जरुरी हैं कि आप ओने दिमाग को कुछ समय के लिए आराम दे। यह आराम नींद के रूप में ही हो यह जरुरी नही। आखिर उसका भी आनंद लेने का मन करता हैं। अब जरा आप ही सोचिये कि आपको आराम करने के नाम पर केवल सोने को बोल दिया जाए और आपकी जिंदगी से मूवीज, खेल, सोशल मीडिया, टीवी इत्यादि सब गायब कर दिया जाए तो आपको कैसा लगेगा? बस वही चीज़ दिमाग के साथ भी हैं। इसलिए उसे हल्का माध्यम आवाज का संगीत सुनने को कहे। इससे वह भी तेज गति से काम करेगा।

#5. किताबें पढ़ें

आजकल जब सबकुछ ऑनलाइन हो गया हैं तो हम ऑफलाइन बहुत ही कम पढ़ते हैं। अब हमे हर चीज़ ऑनलाइन ही पढ़ने की आदत हैं जो कि सही भी हैं और गलत भी। सही इसलिए क्योंकि दुनिया की सब चीज़े बस एक क्लिक में उपलब्ध हैं तो गलत इसलिए कि हमारी किताबेब पढ़ने की आदत कम हो गयी हैं।

इसलिए आज ही अपने मनपसंद लेखक की एक किताब लेकर आइए जिसमें अच्छी कहानियां, पजल, खेल इत्यादि जैसी चीज़े हो। इसे रोजाना आधे या एक घंटे निकाल कर पढ़िए। जब आप इन कहानियों को पढेंगे तो आपका दिमाग उन्हें इमेजिन करेगा जो उसके लिए बहुत अच्छा हैं। इससे उसके सोचने-समझने की शक्ति बढ़ेगी और वह पहले से तेज गति से काम करेगा।

#6. ध्यान लगाए

सनातन धर्म में ध्यान लगाने को ईश्वर से संबंधित माना गया हैं। वो कहते हैं ना कि जब हम ईश्वर से प्रार्थना कर रहे होते हैं तो हम उनसे बात कर रहे होते हैं लेकिन जब हम ध्यान लगाते हैं तो ईश्वर हमसे बात कर रहे होते हैं। दरअसल हिंदू धर्म में ध्यान लगाने को आत्मा का परमात्मा से मिलन बताया गया हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि ध्यान लगाते समय हमारा संपूर्ण ध्यान अपने मन अर्थात आत्मा पर होता हैं और आत्मा पर ध्यान अर्थात परमात्मा से संपर्क।

इसलिए आप सोने से पहले या किसी भी समय 15 से 20 मिनट ध्यान लगाने का नियम बना ले। यदि आप सोने से पहले ध्यान लगाएंगे तो अवश्य ही आपको गहरी और अच्छी नींद आएगी। फिर आप सुबह उठकर तरोताजा महसूस करेंगे वो अलग।

#7. नयी चीज़े सीखें

इस दुनिया में सीखने को बहुत कुछ हैं और हम प्रतिदिन भी कुछ नया सीखें तो भी एक जीवन कम पड़ जाएँ। इसलिए जितना हो सके उतना अपने दिमाग को खुला रखें। नए लोगों से मिले, उन्हें जाने, उनके विचारों का सम्मान करें, उनकी संस्कृति देखें, नयी कला सीखें, नया काम सीखें, किसी नयी चीज़ में हाथ आजमायें फिर चाहे आप उसमे सफल हो या असफल।

हर नयी चीज़, व्यक्ति, अनुभव आपको कुछ ना कुछ सीखकर जाएगा। इससे आपको सबसे बड़ा लाभ यह मिलेगा कि आपका दिमाग नयी चीज़ों को देखकर या उन्हें करने से घबराएगा नही और उस स्थिति में उसे क्या करना चाहिए, इक निर्णय वह तेज गति से करेगा। इसलिए प्रतिदिन अपनी दिनचर्या में से कुछ समय निकाल कर नयी चीज़ों को सीखने में लगाएं।

दिमाग तेज करने के टिप्स (Dimag tej karne ki tips)

आखिर में हम आपको कुछ अन्य महत्वपूर्ण टिप्स देंगे जिनका पालन आपको दिमाग को तेज करने के लिए करना चाहिए ताकि आप एक भी चीज़ से अछूते ना रह जाएँ।

  • यदि आपको स्मोकिंग की आदत हैं तो आज से ही इसे छोड़ दे। ऐसा इसलिए क्योंकि सिगरेट में जो निकोटिन पाया जाता हैं वह आपके रक्त में मिलकर दिमाग की कोशिकाओं तक पहुँचता हैं जो दिमाग की नसों को ब्लॉक करने का काम करता हैं। ऐसे में इसे धीरे-धीरे कम करने का नियम बनाएं।
  • अल्कोहल भी हमारे स्वास्थ्य के साथ-साथ दिमाग को नुकसान पहुंचता हैं। तभी दारू पीने के बाद व्यक्ति का दिमाग धीरे-धीरे काम करने लगता हैं और उसकी सोचने-समझने की शक्ति कम हो जाती हैं। ऐसे में यदि आप आवश्यकता से अधिक अल्कोहल का सेवन करेंगे तो इससे हर दिन आपका दिमाग पहले की अपेक्षा कमजोर होता जाएगा।
  • प्रतिदिन सूर्य नमस्कार करने का नियम बनाएं। सुबह के समय जो सूर्य की रोशनी होती हैं वह हमारे शरीर को आश्चर्यचकित रूप से बहुत अधिक लाभ पहुंचाती हैं। इससे ना केवल हमारे दिमाग का अपितु संपूर्ण शरीर का विकास होता हैं। इसलिए सूर्य उदय होने के 1 से 2 घंटे के अंदर सूर्य नमस्कार करने का नियम बनाएं।
  • प्रकृति के साथ कुछ समय बिताएं। आजकल हमारी बड़ी-बड़ी बिल्डिंग, कारखानों इत्यादि में रहने की आदत सी हो गयी हैं जो कि सरासर गलत हैं। इसलिए कुछ समय निकाल कर प्रकृति के साथ समय बिताएंगे तो यह आपके दिमाग को शांत करेगा और उसे आनंदित भी करेगा। तो आज से ही अपने घर के पास किसी उद्यान में घूमने का नियम बना ले।
  • बच्चों के साथ भी समय बिताएं। वो कहते हैं ना कि बच्चें भगवान का रूप होते हैं। ऐसे में यदि हम बच्चों के साथ कुछ समय बिताएंगे तो इससे हमारे दिमाग को अंदरूनी शांति मिलेगी और वह पहले की अपेक्षा अत्यधिक बलशाली व स्वास्थ्यवर्धक बनेगा। इसलिए यदि आपके बच्चें हैं तो बहुत सही अन्यथा अपने जानने वाले बच्चों के साथ कुछ समय बिताएं।

तो यह थे कुछ उपाय जिनकी सहायता से आप अपने दिमाग को ना केवल तेज कर सकते हैं बल्कि उसे लंबे समय तक युवा बनाए रख सकते (Dimag ko tej kaise karen) हैं। यदि आप हमारे दिए गए नियमों का पालन करेंगे तो अवश्य ही आपको कुछ दिनों में ही इसका सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेगा।

Spread the love:

Leave a Comment

शेयर मार्किट से पैसे कैसे कमाए? जमीन का सरकारी रेट कैसे पता करें? ओटीटी प्लेटफॉर्म क्या है? OTT कैसे काम करता है? सरकारी बैंकों से लोन कैसे लें? इनकम टैक्स चोरी की शिकायत कैसे करें?